सीपीसी का आदेश 1 नियम 10

0
174
Civil Procedure Code

यह लेख Ankit Vaid द्वारा लिखा गया है। इस लेख में सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 के तहत सिविल मामलों में किसी व्यक्ति या संगठन को आवश्यक पक्ष बनाने के बारे में चर्चा की गई हैं। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

वकीलों के दैनिक कार्य के लिए यह अध्याय प्रासंगिक क्यों है?

जब अदालत में वाद (सूट) दायर किया जाता है, तो वकील या यहां तक ​​कि जिस पक्ष के आग्रह पर वाद दायर किया जाता है, वह भी वाद में शामिल सभी पक्षों को नहीं जानता होगा। इस प्रकार, अन्य प्रभावित पक्षों को वादी या प्रतिवादी (जैसा भी मामला हो) के रूप में शामिल किए बिना राहत का दावा नहीं किया जा सकता है। सिविल प्रक्रिया संहिता (सीपीसी) के आदेश 1 के नियम 10 के तहत इस प्रावधान का उद्देश्य ईमानदार वादियों को बचाना है, जो अपने दावों को बनाए रखने की योग्यता में वास्तविक विश्वास करते हैं।

यह सिविल प्रक्रिया संहिता का आदेश 1 है, जो वाद के पक्षों से संबंधित है। सिविल प्रक्रिया संहिता का आदेश 1 नियम 10 अदालत को निम्नलिखित व्यक्ति को जोड़ने या बदलने के लिए सक्षम बनाता है:-

  1. कार्यवाही के किसी भी स्तर पर एक पक्ष के रूप में कोई भी व्यक्ति।
  2. वह व्यक्ति जिसकी न्यायालय के समक्ष उपस्थिति आवश्यक है ताकि न्यायालय को प्रभावी रूप से सक्षम बनाया जा सके और वाद में शामिल सभी प्रश्नों पर पूरी तरह से निर्णय लिया जा सके और उसे निपटाया जा सके।

यह अदालत को कार्यवाही की बहुलता से बचने में भी सक्षम बनाता है।

यह एक सुस्थापित सिद्धांत है कि यह वादी के लिए है कि वह उन पक्षों को लाए जिनके खिलाफ उसका कोई विवाद है और उन्हें आवश्यक राहत के लिए दायर वाद में प्रतिवादी के रूप में पक्ष बनाए। उसे उन व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा करने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता है जिनके खिलाफ उसका कोई विवाद नहीं है।

हालाँकि, यदि किसी तीसरे पक्ष को वाद के परिणाम के कारण कोई अन्याय होने की संभावना है, तो वह खुद को पक्ष बनाने का हकदार है। यह प्रश्न कि क्या कोई व्यक्ति एक उचित या आवश्यक पक्ष है, यह वाद में दावा की गई राहत की प्रकृति और व्यक्ति जो खुद को पक्ष बनाने का प्रस्ताव रखते हैं, द्वारा अनुमानित अधिकार या हित पर निर्भर करेगा।

“डोमिनस लिटस” वह व्यक्ति है जिसके पास एक वाद है। इसका अर्थ एक वाद का स्वामी भी है। यह वह पक्ष है जिसकी किसी मामले के निर्णय में वास्तविक रुचि होती है। यह वह व्यक्ति है जो किसी मामले में निर्णय से प्रभावित होगा। यह व्यक्ति लाभ प्राप्त करता है यदि निर्णय उसके पक्ष में है, या प्रतिकूल निर्णय के परिणाम भुगतता है। “डोमिनस लिटस” का सिद्धांत उस पर लागू होता है, जो हालांकि मूल रूप से एक पक्ष नहीं है, लेकिन उसने हस्तक्षेप या अन्यथा द्वारा खुद को ऐसा बना लिया है, और एक पक्ष के लिए संपूर्ण नियंत्रण और जिम्मेदारी ग्रहण कर ली है और इसे अदालत द्वारा लागतों के लिए उत्तरदायी माना जाता है और वह एक ऐसा व्यक्ति है जो एक पक्ष के रूप में वाद में वास्तव में और प्रत्यक्ष रूप से रुचि रखता है।

सीपीसी के आदेश 1, नियम 10 के तहत अदालत की शक्ति को नियंत्रित करने वाले सिद्धांत यह हैं कि एक नियम के रूप में, अदालत को एक व्यक्ति को एक वाद में प्रतिवादी के रूप में नहीं जोड़ना चाहिए, जब वादी इस तरह के जोड़ का विरोध करता है। कारण यह है कि वादी “डोमिनस लिटस” है। उसे किसी ऐसे व्यक्ति के खिलाफ लड़ने के लिए मजबूर नहीं किया जा सकता है जिसके खिलाफ वह लड़ना नहीं चाहता है और जिसके खिलाफ वह किसी राहत का दावा नहीं करता है।

किसी व्यक्ति को पक्ष बनाने के मामले में डोमिनस लिटस के सिद्धांत को अधिक नहीं खींचा जाना चाहिए, क्योंकि यह सुनिश्चित करना न्यायालय का कर्तव्य है कि यदि विवाद में वास्तविक मामले को तय करने के लिए कोई व्यक्ति एक आवश्यक पक्ष है, तो अदालत ऐसे व्यक्ति को पक्ष बनाने का आदेश दे सकती है। केवल इसलिए कि वादी किसी व्यक्ति को पक्ष बनाने का चुनाव नहीं करता है, पक्ष बनाए जाने के आवेदन को अस्वीकार करने के लिए पर्याप्त नहीं है।

सीपीसी के आदेश 1 नियम 10(2) के प्रावधान बहुत व्यापक हैं और न्यायालय की शक्तियां समान रूप से व्यापक हैं। पक्ष के रूप में पक्ष बनाए जाने के आवेदन के बिना भी, अदालत कार्यवाही के किसी भी स्तर पर यह आदेश दे सकती है कि किसी भी पक्ष का नाम, जिसे शामिल होना चाहिए था, चाहे वह वादी या प्रतिवादी के रूप में हो या जिसकी अदालत के समक्ष उपस्थिति आवश्यक हो, न्यायालय को प्रभावी ढंग से सक्षम करने के लिए और वाद में शामिल सभी सवालों पर पूरी तरह से फैसला करने और उन्हें निपटाने के लिए जोड़ा जाए।

कार्यवाही के किस चरण में एक व्यक्ति को पक्ष बनाया जा सकता है

कानून की कोई आवश्यकता नहीं है कि पक्ष बनाने के लिए आवेदन, वाद के किसी विशेष चरण में किया जाना चाहिए, हालांकि देरी, अदालत के लिए यह तय करने के लिए विचार का कारण है कि किसी व्यक्ति को एक आवश्यक पक्ष के रूप में पक्ष बनाना है या नहीं। आदेश 1 के नियम 10 का उपनियम (2) प्रावधान करता है कि न्यायालय कार्यवाही के किसी भी स्तर पर किसी व्यक्ति या संस्था को एक आवश्यक पक्ष के रूप में जोड़ सकता है। बदली परिस्थितियों में वाद की कार्यवाही में दूसरा आवेदन भी स्वीकार किया जा सकता है।

वाद के लिए आवश्यक और उचित पक्ष कौन हैं?

दो प्रकार के व्यक्ति हैं जिन्हें वाद में पक्ष के रूप में जोड़ा जा सकता है।

आवश्यक पक्ष

एक व्यक्ति एक आवश्यक पक्ष है जब उसकी अनुपस्थिति में वाद में दावा की गई राहत प्रदान नहीं की जा सकती है। एक आवश्यक पक्ष वह है जिसके विरुद्ध राहत मांगी गई है और जिसके बिना कोई प्रभावी आदेश पारित नहीं किया जा सकता है।

कस्तूरी बनाम उय्यमपेरूमल और अन्य (2005) 6 एससीसी 733, में माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने दो परीक्षण प्रदान किए जो इस प्रश्न का निर्धारण करने के लिए संतुष्ट होने चाहिए कि कौन एक आवश्यक पक्ष है:

  1. कार्यवाही में शामिल विवादों के संबंध में ऐसे पक्ष के खिलाफ कुछ राहत का अधिकार होना चाहिए,
  2. ऐसे पक्ष की अनुपस्थिति में कोई प्रभावी डिक्री पारित नहीं की जा सकती है।

पक्ष को जोड़ना केवल मुकदमों की बहुलता से बचने के लिए नहीं बनाया जाना चाहिए यदि वास्तविक प्रश्न का निर्धारण करने के लिए उनकी उपस्थिति आवश्यक नहीं है।

यदि आवश्यक पक्ष नहीं जोड़ा जाता है, तो क्या होगा?

जब किसी व्यक्ति को वाद में आवश्यक पक्ष के रूप में पक्ष नहीं बनाया जाता है तो कोई डिक्री या आदेश पारित नहीं किया जा सकता है। क्योंकि एक प्रभावी अधिनिर्णय (एडजुडिकेशन) के लिए, जिस पक्ष के खिलाफ राहत मांगी गई है, वह ज्ञात नहीं है, इसलिए वाद में कोई प्रभावी डिक्री या आदेश जारी नहीं किया जा सकता है। यदि कोई प्रभावी डिक्री या आदेश पारित नहीं किया जा सकता है, तो वाद कभी भी अपने तार्किक अंत तक समाप्त नहीं होगा।

नोट:- किसी व्यक्ति को एक आवश्यक पक्ष बनाने वाली बात केवल यह नहीं है कि उसके पास शामिल कुछ प्रश्नों पर देने के लिए प्रासंगिक साक्ष्य हैं; यह केवल उसे एक आवश्यक गवाह बना देगा।

उचित पक्ष

उचित पक्ष वे हैं जिनकी उपस्थिति वाद में शामिल मामलों पर पूरी तरह से निर्णय लेने की दृष्टि से आवश्यक हो सकती है।

उक्त शक्ति का प्रयोग दो आधारों में से किसी एक में किया जा सकता है:

  1. ऐसे व्यक्ति को या तो वादी या प्रतिवादी के रूप में शामिल होना चाहिए था, लेकिन वह शामिल नहीं है; या;
  2. उसकी उपस्थिति के बिना, वाद में शामिल प्रश्न को अंतिम और प्रभावी ढंग से तय नहीं किया जा सकता है।

एक व्यक्ति को उचित पक्ष के रूप में क्यों जोड़ा जाता है?

एक व्यक्ति को एक उचित पक्ष के रूप में इसलिए जोड़ा जाता है ताकि वाद को अंतिम रूप से और प्रभावी ढंग से तय किया जा सके और भविष्य के मुकदमों से बचा जा सके। यदि किसी पक्ष को एक उचित पक्ष के रूप में पक्ष नहीं बनाया जाता है, तो संभावना है कि परीक्षण के समापन के बाद उक्त व्यक्ति इस शिकायत के साथ नए सिरे से अदालत में जा सकता है कि उसे पिछले वाद में पक्ष के रूप में शामिल नहीं किया गया था। इसलिए तुच्छ और कई मुकदमों से बचने के लिए, अदालत आमतौर पर एक उचित पक्ष के रूप में वाद से संबंधित सभी व्यक्तियों को पक्ष बनाने के लिए एक विस्तृत तरीका प्रदान करती है।

किसी व्यक्ति को वाद का पक्ष बनाने का एकमात्र कारण यह है कि उसे दिए गए वाद में कार्रवाई के परिणाम से बाध्य किया जा सके। इसलिए, निपटाए जाने वाले प्रश्न को कार्रवाई में एक प्रश्न होना चाहिए, जिसे तब तक प्रभावी ढंग से और पूरी तरह से नही सुलझाया जा सकता जब तक कि व्यक्ति एक पक्ष न हो।

विभिन्न मामलों में सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 की प्रयोज्यता (एप्लीकेबिलिटी) क्या है?

सीपीसी के प्रासंगिक प्रावधान के तहत सक्षम न्यायालय के समक्ष शुरू की गई किसी भी कानूनी कार्यवाही में पक्ष बनाया जा सकता है। संदर्भ उद्देश्यों के लिए नीचे कुछ विशिष्ट मामलों का उल्लेख किया गया है:-

सार्वजनिक दान/ट्रस्ट से संबंधित मामलों में पक्ष बनाना 

सीपीसी की धारा 92 के तहत किसी अन्य वाद की तरह एक वाद में प्रतिवादी के रूप में एक पक्ष को जोड़ना अदालत के लिए खुला है। वाद दायर करने का अधिकार सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 द्वारा विनियमित (रेगुलेट) है।

विभाजन वाद में पक्ष बनाना 

विभाजन के लिए एक वाद में, डोमिनस लिटस का सिद्धांत सख्ती से लागू नहीं होता है क्योंकि वादी और प्रतिवादी हिस्सेदार होंगे और प्रत्येक पक्ष वादी की स्थिति में होगा।

विशिष्ट प्रदर्शन वाद में पक्ष बनाना 

विशिष्ट प्रदर्शन वाद में कोई निश्चित मानदंड (क्राइटेरिया) नहीं है, अर्थात किसी व्यक्ति को एक आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में कहां शामिल किया जाए। यह सब मामले की परिस्थितियों और अदालत के उचित विवेक पर निर्भर करता है।

उदाहरण के लिए, जहां बिक्री के लिए एक अनुबंध के विशिष्ट प्रदर्शन के लिए वाद की संपत्ति पहले से ही उसके मालिक द्वारा धार्मिक और धर्मार्थ (चेरिटेबल) उद्देश्य के लिए वक्फ के पंजीकृत विलेख (रजिस्टर्ड डीड) द्वारा उपहार में दी गई थी और मुथवल्ली (वक्फ के ट्रस्टी) को भी उक्त विलेख द्वारा नियुक्त किया गया है और वक्फ बोर्ड द्वारा पहले ही कब्जे में ले लिया गया था, यह माना गया था कि मुथवल्ली और बोर्ड दोनों ही वाद में आवश्यक पक्ष हैं।

निष्पादन (एग्जिक्यूशन) याचिका में किसे पक्ष बनाया जाए

सीपीसी का आदेश 1 नियम 10, केवल वादों पर लागू होता है। सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 में पक्ष बनाने के प्रावधान निष्पादन की कार्यवाही पर लागू नहीं होते हैं। पीड़ित व्यक्तियों, यदि कोई है, को सीपीसी के आदेश 21 (डिक्री का निष्पादन), विशेष रूप से नियम 58 (दावों का निर्णय) और नियम 101 (आदेशों के निष्पादन में अदालत द्वारा निर्धारित किए जाने वाले प्रश्न) के तहत आगे बढ़ना होगा।

विशेष अधिनियमों में पक्ष बनाना 

किसी व्यक्ति को पक्ष बनाना सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 के प्रावधानों द्वारा शासित होता है, जो एक सामान्य प्रक्रिया है। तथापि, यह सामान्य प्रक्रिया तब लागू नहीं होगी जब किसी विशेष अधिनियमन में निर्धारित प्रक्रिया हो। उदाहरण: भूमि अधिग्रहण (एक्विजिशन) अधिनियम, चुनाव से संबंधित कानून, आदि।

यदि किसी पक्ष की मृत्यु हो गई है तो किसे पक्ष बनाया जाएगा 

सीपीसी का आदेश 1 नियम 10 मृत पक्ष के कानूनी प्रतिनिधियों के प्रतिस्थापन (सब्सटीट्यूशन) से संबंधित नहीं है। यह केवल न्यायालय को (वाद के किसी भी स्तर पर) किसी व्यक्ति को आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष बनाने की शक्ति प्रदान करता है।

यह सीपीसी का आदेश 21 नियम 4 है जो मृत व्यक्ति पक्ष के उत्तराधिकारियों और कानूनी प्रतिनिधियों को रिकॉर्ड पर लाने के लिए पक्षों को अधिकार प्रदान करता है। यदि वाद करने का अधिकार नहीं रहता है, तो वाद समाप्त हो जाएगा।

सीपीसी के आदेश 1 नियम 10(2) और आदेश 6 नियम 17 में क्या अंतर है

सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 में दो प्रकार के मामले शामिल हैं:-

  1. एक पक्ष जिसे शामिल होना चाहिए था लेकिन शामिल नहीं हुआ और एक आवश्यक पक्ष है, और 
  2. एक पक्ष की उपस्थिति के बिना मामले में शामिल प्रश्न पूरी तरह से तय नहीं हो सकता है।

सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 का उद्देश्य एक ही समय में सभी व्यक्तियों को अदालत के सामने लाना है जो विषय वस्तु से संबंधित विवाद में शामिल हैं ताकि सभी विवादों को एक ही समय में बिना किसी देरी, असुविधा और अलग-अलग कार्रवाइयों और परीक्षणों पर खर्च के निर्धारित किए जाए।

दूसरी ओर संहिता के आदेश 6 के नियम 17 (अभिवचन (प्लीडिंग) का संशोधन) एक पक्ष द्वारा अपने स्वयं के अभिवचनों द्वारा न्यायालय की अनुमति के साथ संशोधन से संबंधित है कि विवाद में वास्तविक प्रश्न के निर्धारण के लिए ऐसा संशोधन आवश्यक है।

क्या पक्षों के स्थानांतरण (ट्रांसपोजिशन) की अनुमति है

जब सीपीसी के आदेश 23 के नियम 1 के तहत वादी द्वारा (किसी भी कारण से, अदालत की अनुमति से) वाद छोड़ दिया जाता है, तो एक प्रतिवादी संहिता के आदेश 1 नियम 10 के तहत खुद को वादी के रूप में स्थानांतरित करने के लिए अदालत से संपर्क कर सकता है। अदालत इस तरह के आवेदन पर विचार करेगी, इस सवाल को ध्यान में रखते हुए कि क्या आवेदक (मूल रूप से प्रतिवादी) के पास किसी अन्य प्रतिवादी के खिलाफ फैसला करने के लिए पर्याप्त योग्यता है या नहीं।

दूसरे शब्दों में, जब एक वादी किसी भी वाद में अपने अधिकारों को समाप्त कर देता है और प्रतिवादी यहां खुद को वादी की जगह में रखने के लिए अदालत में एक आवेदन करता है, तो अदालत मुकदमे में अन्य प्रतिवादियों के अधिकारों के खिलाफ आवेदन में आवेदक (प्रतिवादी) द्वारा मांगी गई योग्यताओं पर फैसला करेगी।

ऐसा केवल कार्यवाहियों की बहुलता से बचने के लिए किया जाता है।

सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 से संबंधित मामले में अपील

सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 के तहत पक्ष बनाने की प्रक्रिया को नियंत्रित करने वाले प्रावधान अपील के अधीन हैं। कोई भी पक्ष जो सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 के तहत आवेदन पेश करने के बाद व्यथित है यानी वह व्यक्ति जो वाद में पक्ष बन गया है और ऐसे पक्ष से व्यथित है या व्यक्ति जिसने पक्ष बनाने के लिए आवेदन किया है लेकिन वांछित पक्ष को पक्ष बनाने में सफल नहीं हुआ है, तो वह अपील कर सकता है और ऐसी राहत के लिए अपील उच्च न्यायालय में होगी।

पक्ष बनाए जाने से पहले सुनवाई का अवसर और सुनवाई का अवसर न मिलने पर पक्ष बनाना

एक आवेदक द्वारा एक आवश्यक/उचित पक्ष बनाने के लिए आवेदन दाखिल करने के बाद, अदालत आम तौर पर विपरीत पक्ष को आपत्तियों के लिए नोटिस जारी करती है यदि आवेदक को एक आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में लागू करने के लिए कोई हो। हालाँकि, अदालत आवेदक को पहली बार में ही एक आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष बना सकती है यदि मामले के तथ्य और परिस्थितियाँ ऐसी होती हैं।

ऐसा करने के लिए अदालत को अपने कारणों को लिखित रूप में दर्ज करना होगा और विपरीत पक्ष को एक नोटिस जारी करना होगा कि आवेदक को एक आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष बनाकर आवेदक को एकपक्षीय राहत प्रदान की गई है और दूसरा पक्ष लिखित रूप में और मौखिक तर्क के दौरान अपनी आपत्तियां प्रस्तुत कर सकता है।

एक व्यक्ति को आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष बनाने के लिए एक आवेदन का मसौदा तैयार करने में संकेतक (पॉइंटर)

  • एक आवश्यक/उचित पक्ष को पक्ष बनाने के लिए एक आवेदन हमेशा उस अदालत के समक्ष प्रस्तुत किया जाता है जिसमें मूल कार्यवाही (जिसमें आवेदक पक्ष बनना चाहता है) नियमित आधार पर चल रही हो।
  • पक्ष बनाने के लिए एक आवेदन में सभी प्रासंगिक तथ्य और परिस्थितियां होती हैं जो दर्शाती हैं/साबित करती हैं कि पक्ष बनने के लिए ऐसा आवेदन करने वाला व्यक्ति एक पक्ष बनने के लिए आवश्यक/उचित पक्ष है। आवेदक के इस दावे का समर्थन करने वाले सभी प्रासंगिक दस्तावेज कि वह एक आवश्यक पक्ष है, पक्ष बनाने के आवेदन के साथ संलग्न (एनेक्स) होंगे।

उदाहरण के लिए, अचल संपत्ति के कब्जे के वाद में, एक किरायेदार प्रतिवादी की हैसियत से एक आवश्यक पक्ष के रूप में पक्ष बनना चाहता है, हालांकि यह वाद दो अन्य व्यक्तियों के बीच है जो विवादित अचल संपत्ति पर अपने संबंधित अधिकार का दावा कर रहे हैं।

  • आवेदक को सभी कारण प्रदान करने होंगे जो उसके खिलाफ जा सकते हैं यदि वह कार्यवाही में एक आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में शामिल नहीं होता है और न्याय की विफलता जो अंततः पूरी कार्यवाही में कारण बन सकती है।

पक्ष बनने के लिए आवेदन: क्रमानुसार (सीरियल ऑर्डर) प्रस्तुत किए जाने वाले विवरण

  • एक सूचकांक (इंडेक्स) जिसमें निहित आवेदन के समर्थन में सभी भौतिक (मैटेरियल) दस्तावेजों की सूची है।
  • पक्ष का मेमो जिसमें वादी और प्रतिवादी के नाम और विवरण हों।
  • कालानुक्रमिक (क्रोनोलॉजिकल) क्रम में घटनाओं और तिथियों की सूची।
  • हलफनामे (एफिडेविट) के साथ उचित पक्ष के रूप में आवेदक के लिए आवेदन।
  • मेटाडेटा, अदालत द्वारा निर्धारित एक दस्तावेज है जिसे हर वादी/आवेदक द्वारा भरा जाना है जिसमें आवेदन के बारे में हर विवरण होता है। उदाहरण के लिए आवेदन का प्रकार, वादी और प्रतिवादी का नाम और विवरण, दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं के नाम आदि।
  • आवेदक के अधिवक्ता द्वारा वकालतनामा।

संदर्भ उद्देश्यों के लिए पक्ष बनने के लिए आवेदन का एक नमूना यहां दिया गया है।

न्यायालय में (जिस न्यायालय में वाद लंबित है)

पर……… [स्थान जोड़ें]

1.संख्या_____/201 में

सिविल वाद संख्या :- /201

मामले में:- वादी बनाम प्रतिवादी

के मामले में: – 

सूचकांक

क्र.सं विवरण                                                                                    पृष्ठ सं

  1. पक्षों का मेमो
  2. घटनाओं और तिथियों की सूची
  3. शपथ पत्र के साथ आवेदक को आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में जोड़ने के लिए अंतर्वर्ती (इंटरलोक्यूटरी) आवेदन
  4. अनुलग्‍नक (एनेक्सजर):- अनुक्रमिक और कालानुक्रमिक क्रम में अनुलग्‍नक के रूप में सभी सहायक दस्‍तावेज उपलब्‍ध कराएं।
  5. मेटाडेटा
  6. वकालतनामा

दिनांक:-

द्वारा दायर किया गया: –

जगह:

वकील

न्यायालय में (जिस न्यायालय में वाद लंबित है)

पर……… [स्थान जोड़ें]

संख्या_____/201

में

सिविल वाद संख्या:- /201

मामले में:- वादी बनाम प्रतिवादी                                                                           

मामले में: – 

पक्षों के मेमो

वादी

सह-वादी (यों) {यदि कोई हो} के साथ सभी वादी(यों) के नाम और विवरण प्रदान करें

{विवरण में शामिल हैं: – नाम, (यदि नाबालिग है तो उसका प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति या कानूनी अभिभावक के नाम के साथ नाबालिग का नाम है), आयु, माता-पिता का नाम, पूरा पता जहां नोटिस/सम्मन जारी किया जा सकता है, मोबाइल नंबर।}

बनाम

प्रतिवादी

सह-प्रतिवादी(यों) {यदि कोई हो} के साथ सभी प्रतिवादी(यों) के नाम और विवरण प्रदान करें

{विवरण में शामिल हैं: – नाम, (यदि नाबालिग है तो उसका प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति या कानूनी अभिभावक के नाम के साथ नाबालिग का नाम है), आयु, माता-पिता का नाम, पूरा पता जहां नोटिस/सम्मन जारी किया जा सकता है, मोबाइल नंबर।}

आवेदक

जगह:-

दिनांक:-

वकील

न्यायालय में (जिस न्यायालय में वाद लंबित है)

पर……… [स्थान जोड़ें]

संख्या_____/201

में

सिविल वाद संख्या:- /201                                                           

मामले में:- वादी(ओ) बनाम प्रतिवादी(ओ)                                                                                     मामले में: – तारीखों और घटनाओं की सूची

दिनांक

घटना 

……../201

कालानुक्रमिक क्रम में उन सभी घटनाओं की सूची प्रदान करें, जिन पर अदालत में वाद चलाया जाता है

……../201

……../201

आवेदक

जगह:-

दिनांक:-

वकील

न्यायालय में (न्यायालय जिसमें वाद लंबित है)

पर ……… [स्थान जोड़ें]

संख्या_____/201

में

सिविल वाद संख्या:- /201

के मामले में:- वादी (ओं) बनाम प्रतिवादी (ओं) 

मामले में:- सिविल वाद संख्या……., शीर्षक वादी बनाम प्रतिवादी में एक आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में निम्नलिखित आवेदक (आवेदकों) को शामिल करने की मांग करने वाला आवेदन सीपीसी के आदेश 1 नियम 10 के तहत विद्वान न्यायालय के समक्ष निपटान लंबित है।

सबसे सम्मानपूर्वक दिखाते हैं:-

आवेदक सबसे सम्मानपूर्वक निम्नानुसार प्रस्तुत करता है:

  1. कि उपर्युक्त सिविल वाद संख्या………., जिसका शीर्षक वादी बनाम प्रतिवादी है इस विद्वान न्यायालय के समक्ष निपटान के लिए लंबित है।
  2. कि आवेदक एक……………….. है (बताएं कि आवेदक कौन है और उसे वाद में शामिल क्यों नहीं किया गया है)
  3. आवेदक के कब्जे में सभी सहायक दस्तावेज अनुलग्नक के रूप में प्रदान करें, कि उसे वर्तमान वाद में क्यों शामिल किया गया है।
  4. अनुलग्नक के रूप में संलग्न प्रत्येक सहायक दस्तावेज़ के लिए एक अलग पैराग्राफ प्रदान करें।
  5. जहाँ तक संभव हो प्रत्येक सहायक दस्तावेज़ को कालानुक्रमिक क्रम में पैराग्राफ में व्यवस्थित किया जाना चाहिए।
  6. अप्रासंगिक दस्तावेज़ और सामग्री से बचना चाहिए।
  7. पैराग्राफों को एक अनुक्रमिक और तार्किक निष्कर्ष में निष्कर्ष निकालना चाहिए कि आवेदक को वाद के लिए आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष नहीं बनाया गया था, उसे वाद में आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में शामिल नहीं करने का कारण क्या था और अन्याय जिसके कारण यदि उसे वाद में आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष नहीं बनाया जाता है, होगा।
  8. कि आवेदक के अधिकार को खतरे में डाल दिया जाएगा यदि आवेदक को वाद के लिए एक आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष नहीं बनाया गया है। इस प्रकार, आवेदक अपने अधिकारों और हितों की रक्षा के लिए इस विद्वान न्यायालय से संपर्क कर रहा है और अपने अधिकारों और हितों की सुरक्षा के लिए मामले को लड़ने के लिए आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष बनने की प्रार्थना कर रहा है।
  9. कि वादी बनाम प्रतिवादी शीर्षक वाले सिविल वाद संख्या: ……… का लंबित रहना आवेदक के अधिकारों को प्रभावित कर रहा है, इस प्रकार, आवेदक वादबाजी में एक उचित / आवश्यक पक्ष है। आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में इसे लागू करने के लिए प्रार्थना करने वाले आवेदक का विवरण निम्नानुसार है:-
  10. पीक्यूआर [आवेदक का नाम], आयु …… वर्ष

पिता का नाम  ……… ..

पता……………

मोबाइल न:…………

आवेदन के समर्थन में एक हलफनामा इसके साथ संलग्न है

परिसर में:

इसलिए, सबसे विनम्रतापूर्वक प्रार्थना की जाती है कि यहां ऊपर की गई प्रस्तुति को ध्यान में रखते हुए, और जिन्हें सुनवाई के समय आग्रह किया जाना चाहिए, न्याय के हित में मामले के न्यायोचित निपटान के लिए अपनी दलीलें रखने के लिए आवेदक को उपरोक्त शीर्षक वाले सिविल वाद में आवश्यक/उचित पक्ष के रूप में पक्ष बनाया जा सकता है।

आवेदक 

  1. पीक्यूआर, आयु …… वर्ष

पिता का नाम……… ..

पता………….

मोबाइल न:

दिनांक:

जगह:

वकील के माध्यम से

(वकील)

न्यायालय में (जिस न्यायालय में वाद लंबित है)

पर ……… [स्थान जोड़ें]

संख्या_____/201

में

सिविल वाद संख्या:- /201

मामले में:- वादी बनाम प्रतिवादी

निम्नलिखित के मामले में: साथ देने वाले आई.ए. के समर्थन में शपथ पत्र

मैं, पीक्यूआर; आयु… वर्ष, पुत्र ……. , पता…….., इसके द्वारा सत्यनिष्ठा से पुष्टि और घोषणा करता हूं कि संलग्न अन्तर्ववर्ती आवदेन को पढ़ा गया है और मुझे समझाया गया है और आईए के पैरा संख्या _____ से _____ की सामग्री मेरे व्यक्तिगत ज्ञान के अनुसार सत्य और सही है और शेष पैरा ____ से ____ पैरा कानूनी सलाह पर आधारित है।

मैं सत्यनिष्ठा से शपथ/पुष्टि करता हूं कि यह शपथपत्र सत्य है, इसका कोई भाग असत्य नहीं है और कुछ भी छिपाया नहीं गया है।

जगह: –

दिनांक: –

अभिसाक्षी (डिपोनेंट)

 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here