टॉर्ट में एक बचाव के रूप में आवश्यकता और इसके अधिकार

0
1162
Law of Torts

यह लेख Diganth Raj Sehgal, द्वारा लिखा गया है, जो स्कूल ऑफ लॉ, क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बैंगलोर के छात्र है। इस लेख में लेखक ने टॉर्ट्स के खिलाफ आवश्यकता (नेसेसिटी) के सामान्य बचाव पर चर्चा की है जो प्रतिवादी के पास उपलब्ध है। लेखक विभिन्न निर्णयों के माध्यम से आवश्यकता के सिद्धांत के विकास और निजी और सार्वजनिक आवश्यकता के बीच अंतर का भी विश्लेषण करता है। इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja के द्वारा किया गया है।

परिचय

टॉर्ट्स में सामान्य बचाव, बचाव या ‘बहाने’ का एक सेट है, जिसका उपयोग एक व्यक्ति अपने दायित्व से बचने के लिए कर सकता है। वह अदालत को यह निष्कर्ष निकालने के लिए राजी कर सकता है कि वह किसी भी मामले में दोषी नहीं है, यदि उसके कार्य विशिष्ट शर्तों के योग्य हैं। जब वादी प्रतिवादी के खिलाफ एक विशिष्ट टॉर्ट के लिए कार्रवाई करता है, तो उस टॉर्ट के सभी आवश्यक तत्वों के अस्तित्व को साबित करता है, तो प्रतिवादी उसी के लिए उत्तरदायी होगा। प्रतिवादी, हालांकि, ऐसे मामले में, अपने द्वारा किए गए टॉर्ट के खिलाफ उपलब्ध किसी भी बचाव का उपयोग करके अपने दायित्व से बच सकता है। कुछ बचाव, कुछ विशेष टॉर्ट्स के खिलाफ उपलब्ध हैं, जबकि उनमें से कुछ सभी प्रकार के टॉर्ट्स के खिलाफ उपलब्ध हैं।

सामान्य बचाव के प्रकार

कुछ सामान्य बचाव है जिनका एक प्रतिवादी अपने कपटपूर्ण दायित्व को दूर करने के लिए उपयोग कर सकता है। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं:

  1. वोलेंटी नॉन फिट इंजुरिया
  2. भगवान द्वारा किया गया कार्य
  3. अपरिहार्य (इनएविटेबल) दुर्घटना
  4. आत्मरक्षा
  5. सांविधिक (स्टेच्यूटरी) अधिकारी
  6. वादी- दुराचारी (रॉन्गडूअर), और
  7. आवश्यकता

बचाव के रूप में आवश्यकता

दृष्टांत (इलस्ट्रेशन):

मिस्टर पांडा, मिसेज पांडा और उनके बच्चे बबल्स हिमालय की पर्वतारोहण (माउंटेन क्लाइंबिंग) यात्रा पर गए थे। वे एक ऐसी स्थिति में पहुँच जाते हैं जहाँ बबल्स, मिस्टर पांडा और मिसेज पांडा एक रस्सी से लटके हुए थे। रस्सी टूटने लगी। यह देखकर मिस्टर पांडा ने महसूस किया कि रस्सी केवल दो लोगों का वजन ले सकती है और उन्होंने फैसला किया कि बबल्स को बचाने का एकमात्र तरीका उनके नीचे की रस्सी को काटकर वजन कम करना है। उसने मिसेज पांडा को यह सुझाव दिया और वे दोनों सहमत हो गए कि यदि उन्होंने रस्सी नहीं काटी तो तीनों मर जाएंगे। मिस्टर पांडा ने फिर रस्सी काट दी और मिसेज पांडा घाटी में गिर गईं और उनकी मृत्यु हो गई। क्या मिस्टर पांडा ने हत्या का अपराध किया था?

सामान्य नियम यह है कि एक व्यक्ति दूसरे के अधिकारों या संपत्ति में अनुचित रूप से हस्तक्षेप नहीं करेगा, लेकिन इसका अपवाद यह है कि यदि कोई व्यक्ति ऐसी स्थिति में है जिसमें उसे खुद को या उसकी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने से रोकने के लिए दूसरे के अधिकार में हस्तक्षेप करने के लिए मजबूर किया जाता है, इस तरह के हस्तक्षेप की अनुमति है। आवश्यकता का बचाव यह मानता है कि ऐसी अत्यधिक तात्कालिकता की स्थितियाँ हो सकती हैं कि किसी व्यक्ति को कानून तोड़कर जवाब देने की अनुमति दी जानी चाहिए।

यह अवधारणा ‘सेलस पॉपुली सुप्रीम लेक्स एस्टो’ की लैटिन मैक्सिम पर आधारित है, जिसका अर्थ है कि लोगों का कल्याण सर्वोच्च कानून होना चाहिए और यदि कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति के अधिकारों या संपत्ति को अधिक नुकसान को रोकने के लिए नुकसान पहुंचा रहा है, तो यह क्षमा योग्य है।

ब्लैक लॉ डिक्शनरी ‘आवश्यकता’ शब्द को ‘नियंत्रण बल’; अप्रतिरोध्य (इररेसिस्टिबल) मजबूरी; एक शक्ति या आवेग (इंपल्स) जो इतना ज्यादा है कि वह आचरण का कोई विकल्प नहीं स्वीकार करता है, के रूप में परिभाषित करती है।’

आवश्यकता आपराधिक कानून और सिविल कानून दोनों के लिए एक बचाव है, अर्थात, यदि अधिक नुकसान को रोकने के लिए कोई कार्रवाई ‘आवश्यक’ थी, जिसका उपयोग आपराधिक और सिविल दोनों दायित्वों से बचने के लिए किया जा सकता है।

उपरोक्त उदाहरण, अपराध के मामले में आवश्यकता के बचाब को दर्शाता है क्योंकि हत्या का अपराध शामिल है। यहां,  मिसेज पांडा को जीवन का अधिकार था जिसमें मिस्टर पांडा ने हस्तक्षेप किया था। लेकिन, मिस्टर पांडा के लिए अपने बच्चे की जान बचाने के लिए ऐसा कदम उठाना जरूरी था। यहाँ, तर्क ‘अधिक से अधिक अच्छा’ अवधारणा भी हो सकती है। यदि मिसेज पांडा को रस्सी से नहीं हटाया जाता, तो तीनों की मृत्यु हो जाती। और इसलिए, जब मिस्टर पांडा को अदालत के सामने लाया जाता है, तो वे आवश्यकता का बचाव कर सकते हैं।

भारतीय दंड संहिता की धारा 81 के तहत आवश्यकता को परिभाषित किया गया है, “कोई भी ऐसा कार्य जिससे नुकसान होने की संभावना हो, लेकिन वह आपराधिक इरादे के बिना है, और अन्य नुकसान को रोकने के लिए किया गया हो। कोई भी कार्य अपराध नहीं है, केवल इस ज्ञान के साथ किए जाने के कारण कि इससे नुकसान होने की संभावना है, अगर यह व्यक्ति या संपत्ति को अन्य नुकसान को रोकने या उससे बचने के उद्देश्य से नुकसान पहुंचाने, और सद्भाव (गुड फेथ) में बिना किसी आपराधिक इरादे के किया जाता है।”

टॉर्ट्स के तहत आवश्यकता का सिद्धांत

टॉर्ट्स के तहत आवश्यकता के सिद्धांत की वही परिभाषा और दायरा है जो अपराध के तहत है। इन दोनो के बीच का एकमात्र अंतर उनको लागू करने के तरीके में मौजूद है, यानी टॉर्ट्स के तहत, सिद्धांत मुख्य रूप से प्रतिवादी द्वारा जानबूझकर टॉर्ट्स जैसे कि रूपांतरण (कन्वर्जन), संपत्ति और भूमि के खिलाफ किए गए अतिचार (ट्रेस्पास) से  बचाव के मामलों में लागू किया जाता है।

सामान्य कानून में, आवश्यकता का बचाव राज्य या किसी व्यक्ति को किसी अन्य की संपत्ति लेने या उपयोग करने का विशेषाधिकार (प्रिविलेज) देती है अर्थात एक व्यक्ति के पास अपने आप को, अपनी भूमि को, अपनी संपत्ति को, या किसी अन्य व्यक्ति, भूमि या संपत्ति को गंभीर नुकसान से बचाने के लिए जानबूझकर दूसरे की भूमि पर अतिक्रमण करने का योग्य विशेषाधिकार है।

यह ‘नेसेसिटास इनड्यूसिट प्रिवीलेजियम क्वॉड ज्युरा प्राइवेटा’ के लैटिन कॉमन लॉ मैक्सिम पर आधारित है। इसका अर्थ है ‘आवश्यकता एक निजी अधिकार के कारण विशेषाधिकार उत्पन्न करती है।’ एक अदालत एक अतिचारी (ट्रेस्पासर) को यह विशेषाधिकार तब देगी जब किसी व्यक्ति या समाज को नुकसान का जोखिम संपत्ति के नुकसान से स्पष्ट रूप से और यथोचित (रीजनेबल) रूप से अधिक हो।

यह बचाव ‘आत्मरक्षा’ के विशेषाधिकार से इस अर्थ में अलग है कि आत्मरक्षा चाहने वाले लोगों के विपरीत, जिन्हें आवश्यकता विशेषाधिकार का आह्वान करने वाले व्यक्तियों द्वारा नुकसान पहुंचाया जाता है, वे आमतौर पर किसी भी गलत काम से मुक्त होते हैं।

कोप बनाम शार्प (नंबर 2) [1912] 1 केबी 496 के मामले में, प्रतिवादी ने वादी की भूमि में प्रवेश किया ताकि आस-पास की भूमि में आग को फैलने से रोका जा सके और होने वाले नुकसान को रोका जा सके। इस मामले में, वादी ने, प्रतिवादी पर अतिचार के लिए मुकदमा दायर किया, लेकिन चूंकि प्रतिवादी के कार्य को संपत्ति और वास्तविक और आसन्न (इमीनेंट) खतरे से बचाने के लिए उचित रूप से आवश्यक माना गया था, तो अदालत ने माना कि प्रतिवादी अतिचार के लिए उत्तरदायी नहीं था क्योंकि उसने आवश्यकता का कार्य किया था।

आवश्यकता के बचाव का आह्वान करने वाले व्यक्ति पर दायित्व

दृष्टांत:

समोसा, कचौरी की भूमि में घुस गया, यह देखकर कचौरी के बेटे पकौड़ा ने एक खुले तार को छुआ था और उसे करंट लग रहा था। जमीन पर घुसने के लिए समोसे को लकड़ी की बाड़ तोड़नी पड़ती है। समोसे ने पकौड़े को बचा लिया लेकिन कचौरी ने समोसे के खिलाफ अतिचार का मामला दर्ज कराया।

यहां, समोसा अतिचार के लिए उत्तरदायी नहीं होगा क्योंकि वह आवश्यकता के लिए बचाव का आह्वान कर सकता है और वह किसी भी प्रकार के दंडात्मक या मामूली नुकसान का भुगतान करने के लिए बाध्य नहीं है।

आवश्यकता के बचाव का आह्वान और उसका साक्ष्य 

आवश्यकता का बचाव आपातकालीन स्थितियों पर लागू होता है जहां किसी व्यक्ति को गलत तरीके से कार्य करने की अनुमति दी जाती है ताकि व्यक्ति या किसी अन्य व्यक्ति, उसकी या किसी अन्य व्यक्ति की व्यक्तिगत संपत्ति, या बड़े पैमाने पर समुदाय को अधिक नुकसान से बचाया जा सके। आवश्यकता के बचाव को सिद्ध करने के लिए निम्नलिखित की उपस्थिति दिखाना आवश्यक है:

  1. इससे होने वाला नुकसान उस नुकसान से कम था जो अन्यथा होता।
  2. उस व्यक्ति का यथोचित विश्वास था कि आसन्न नुकसान को रोकने के लिए उसके कार्य आवश्यक थे।
  3. नुकसान से बचने के लिए कोई व्यावहारिक विकल्प उपलब्ध नहीं था।
  4. व्यक्ति ने पहली बार में नुकसान का खतरा पैदा नहीं किया।

जब कोई व्यक्ति एक आवश्यक बचाव का दावा करता है, तो यह तय करना अदालत के विवेक पर निर्भर करता है कि इसे दी गई स्थिति में लागू किया जा सकता है या नहीं और क्या व्यक्ति को सभी दायित्व से मुक्त किया जा सकता है या नहीं। इस बचाव को लागू करना बहुत मुश्किल है क्योंकि यह साबित करना बहुत मुश्किल हो जाता है कि इसकी आवश्यकता थी या नहीं। अक्सर ऐसी आपात स्थितियाँ उत्पन्न होती हैं जब अन्य व्यक्ति मौजूद नहीं होते हैं और इसलिए एक निश्चित तात्कालिकता के लिए कानून को तोड़ने की आवश्यकता को साबित करना कठिन होता है।

इस कारण से, आवश्यकता के बचाव को केवल असाधारण मामलों में ही लागू किया जा सकता है, जहां इसकी आवश्यकता साबित होती है।

आवश्यकता के प्रकार

1. निजी आवश्यकता

निजी आवश्यकता में आमतौर पर किसी व्यक्ति द्वारा अपने या अपनी संपत्ति के बचाव के लिए की गई किसी अन्य की संपत्ति में अतिचार या हस्तक्षेप करना शामिल होता है। आम तौर पर जब तक आपात स्थिति जारी रहती है, तब तक व्यक्ति की संपत्ति का अतिचार या उपयोग जारी रखने का अधिकार है। निजी बचाव एक आंशिक (पार्शियल) बचाव है जो प्रतिवादी के लिए उपलब्ध है जिसका अर्थ है कि प्रतिवादी जो अतिचार करता है और निजी आवश्यकता के बचाव का दावा करता है, उसे अभी भी वादी की संपत्ति को उसके अतिचार से होने वाले किसी भी नुकसान के लिए भुगतान करना होगा।

हालांकि, प्रतिवादी नाममात्र या दंडात्मक हर्जाने के लिए उत्तरदायी नहीं होता है। निजी आवश्यकता का सिद्धांत तब लागू होता है जब:

  • व्यक्ति, या उसकी भूमि या संपत्ति को गंभीर नुकसान को रोकने के लिए यह उचित रूप से आवश्यक प्रतीत होता है
  • प्रवेश व्यक्ति के लाभ के लिए है।

उदाहरण- डिंपल एक सार्वजनिक राजमार्ग के किनारे चल रही थी, उसने लवली के खेत का इस्तेमाल किया जो राजमार्ग से सटा हुआ था, क्योंकि राजमार्ग बर्फ के कारण सुलभ नहीं था, जिससे खेत को कोई अनावश्यक नुकसान नहीं हुआ। लवली ने डिंपल पर अतिचार के लिए मुकदमा दायर किया लेकिन डिंपल तर्क दे सकती है कि उसे आवश्यकता के आधार पर रास्ते का अधिकार है, क्योंकि राजमार्ग अगम्य (इंपैसेबल) था।

विन्सेंट बनाम लेक एरी ट्रांसपोर्टेशन कंपनी के मामले में, प्रतिवादी, अपने स्वामित्व वाले स्टीमशिप से कार्गो उतारने के लिए वादी के बंदरगाह (डॉक) में था। एक हिंसक तूफान के कारण, प्रतिवादी सुरक्षित रूप से बंदरगाह को छोड़ने में असमर्थ था, इसलिए, उसने जहाज को बंदरगाह से बांध दिया। अचानक हवा ने जहाज को बंदरगाह के खिलाफ फेंक दिया जिससे बंदरगाह को काफी नुकसान पहुंचा। यह माना गया कि एक निजी आवश्यकता के लिए किसी की संपत्ति को लेने या नुकसान पहुंचाने की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन मुआवजा की आवश्यकता होता है। प्रतिवादी ने जानबूझकर जहाज को बंदरगाह से बांधा था, और अगर ऐसा नहीं होता, तो जहाज कहीं अधिक क्षति पैदा करते हुए खो सकता था।

2. सार्वजनिक आवश्यकता

सार्वजनिक आवश्यकता का अर्थ है सार्वजनिक प्राधिकरणों (अथॉरिटी) /अधिकारियों या निजी व्यक्तियों द्वारा सार्वजनिक आपदा को रोकने के लिए किया गया कोई भी कार्य जिसमें बड़े पैमाने पर जनता को नुकसान पहुंचाने की प्रवृत्ति (टेंडेंसी) थी। यह तब लागू होता है जब किसी व्यक्ति द्वारा किसी बड़े समुदाय के बचाव के लिए कोई अतिचार किया जाता है।

सार्वजनिक आवश्यकता एक पूर्ण बचाव है जिसका अर्थ है कि जिन व्यक्तियों ने अतिचार किया है, उन्हें संपत्ति के मालिक को कोई मुआवजा देने की आवश्यकता नहीं होती है। आम तौर पर सरकारी कर्मचारी जैसे अग्निशामक (फायरेटफाइटर), पुलिस, सेना के जवान सार्वजनिक आवश्यकता का दावा करते हैं।

उदाहरण- रूस की सेना मैसर्स इंटेल इंटरप्राइजेज के स्वामित्व वाली इमारत में प्रवेश करती है ताकि दंगा करने वालो को बाहर निकाला जा सके जो नागरिकों को चोट पहुंचा रहे थे और कई अन्य समस्याएं पैदा कर रहे थे। सेना ने उन दंगा करने वालो को बाहर निकालते हुए हुए इमारत को कुछ नुकसान पहुंचाया। मैसर्स इंटेल एंटरप्राइजेज के मालिक ने इमारत को हुए नुकसान के लिए रूसी सरकार पर मुकदमा दायर किया और मुआवजे का दावा किया लेकिन रूसी सरकार ने बड़े पैमाने पर जनता के बचाव के लिए ऐसा किया है, इसलिए, वह कुछ भी भुगतान करने के लिए उत्तरदायी नहीं है।

सुरोको बनाम गीरी के मामले में, सैन फ्रांसिस्को भीषण आग की चपेट में आ गया। जब पास में ही आग लगी हुई थी तो वादी अपने घर से सामान निकालने का प्रयास कर रहा था। प्रतिवादी (महापौर (मेयर)) ने अधिकृत (ऑथराइज) किया कि वादी के घर को आग को रोकने और आस-पास की इमारतों में फैलने से रोकने के लिए ध्वस्त कर दिया जाना चाहिए। वादी ने प्रतिवादी पर यह दावा करते हुए मुकदमा दायर किया कि यदि उसके घर को ध्वस्त नही किया गया होता तो वह अपनी सम्पत्ति से अपना सामान निकाल सकता था। अदालत ने माना कि आवश्यकता का अधिकार प्राकृतिक कानून के अंतर्गत आता है और समाज और सरकार से स्वतंत्र है। व्यक्तिगत अधिकारों को आसन्न आवश्यकता के उच्च कानून का रास्ता देना चाहिए। इधर, आग को रोकने के लिए वादी के घर को ध्वस्त करना जरूरी था। घर को ध्वस्त करने में और उसे अपनी संपत्ति से ज्यादा से ज्यादा समान निकालने की अनुमति देने में किसी भी तरह की देरी से घर को बहुत देर से ध्वस्त किया जाता।

आवश्यकता के सिद्धांत को लागू करने वाले ऐतिहासिक निर्णय

आर बनाम डडले और स्टीफंस 14 क्यूबीडी 273 (1884)

इस मामले में, एक नौका के चालक दल को तट से दूर ऊंचे समुद्रों पर एक तूफान में फेंक दिया गया था और उन्हें एक जीवनरक्षक नौका में डालने के लिए मजबूर किया गया था।

उनके पास भोजन समाप्त हो गया था और बीसवें दिन, उन्होंने कम से कम आठ दिनों तक कुछ भी नहीं खाया था।

चार में से दो लोगों ने चालक दल के सदस्य, पार्कर को मारने का फैसला किया, जो तब नाव के तल पर पड़ा था, अकाल से बेहद कमजोर था और समुद्री जल पी रहा था और विरोध करने में असमर्थ था।

शेष तीन लोगों ने चार दिनों तक उसके शरीर का भोजन किया और चौथे दिन उन्हें एक गुजरते जहाज से बचाया गया।

उनके अनुसार, लड़के के शरीर को खाने के बजाय उनके पास राहत की कोई उचित संभावना नहीं थी। वे शायद नहीं बच पाते और लड़के की बहुत कमजोर स्थिति में होने के कारण, उसके पहले ही मर जाने की संभावना थी।

डडले और स्टीफन दोनों ने दावा किया कि उन्होंने पार्कर को मार डाला और खा लिया। विषम परिस्थितियों में उनके पास आवश्यकता के कारण किसी की हत्या करने के अलावा कोई चारा नहीं था।

जब उन्हें बचाया गया, तो उन्हें अदालत के सामने लाया गया और हत्या का आरोप लगाया गया। उन्होंने बचाव का दावा करने की कोशिश की कि उनके जीवित रहने के लिए इस तरह से कार्य करना आवश्यक था। उन्हें दोषी ठहराया गया और मौत की सजा सुनाई गई लेकिन बाद में इस सजा को क्राउन ने छह महीने के कारावास में बदल दिया।

आर. बनाम बॉर्न (1939) 1 केबी 687

इस मामले में एक युवती के साथ बलात्कार किया गया था जिससे वह गर्भवती हो गई थी। प्रतिवादी एक स्त्री रोग विशेषज्ञ था और उसने उसके माता-पिता की सहमति से उसका गर्भपात कराया क्योंकि उसका मानना ​​था कि अगर बलात्कार की पीड़िता को जन्म देने की अनुमति दी जाती है तो उसकी मृत्यु हो सकती है।

सवाल यह उठता है कि क्या प्रतिवादी अवैध तरीके से गर्भपात कराने का दोषी था। अदालत ने माना कि प्रतिवादी ने अच्छे विश्वास में काम किया था और अपने नैदानिक (क्लिनिकल) ​​निर्णय का प्रयोग किया था। गर्भावस्था के जारी रहने का संभावित परिणाम लड़की के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता।

अदालत ने स्थापित किया कि डॉक्टरों को तब तक का इंतजार नहीं करना चाहिए जब तक कि मरीज की तत्काल मृत्यु का खतरा न हो, बल्कि डॉक्टरों का यह कर्तव्य है कि यदि उचित आधार पर और परिणामों के बारे में पर्याप्त जानकारी हो तो वह ऑपरेशन करें।

इस प्रकार, डॉक्टर ने लड़की के जीवन को बचाने के लिए एक अवैध कार्य नहीं किया था और अदालत ने फैसला किया कि वह दोषी नहीं था और उसने ऐसी स्थिति में कार्य किया था जहां गर्भवती लड़की के जीवन या स्वास्थ्य को उचित रूप से खतरे में माना गया था।

निष्कर्ष

आवश्यकता के सिद्धांत में कहा गया है कि यदि कोई कार्य किया जाता है और इससे नुकसान होता है, लेकिन यह नुकसान को रोकने के लिए सद्भाव में किया जाता है, तो ऐसा कार्य करने वाला व्यक्ति उत्तरदायी नहीं होता है। यह इसलिए प्रदान किया जाता है कि आवश्यकता में किए गए कार्य के कारण होने वाली क्षति प्रकृति में जानबूझकर नहीं होती है। साथ ही, यह केवल उन मामलों में किया जाना चाहिए जहां उद्देश्य अधिक नुकसान को रोकने के लिए है जो कि प्रतिवादी द्वारा मामूली नुकसान नहीं होने पर हो सकता है।

इसे समझाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि अगर कोई जहाज चल रहा है, तो नाविक एक नाव में 10 लोगों को देखता है और दूसरी नाव में 2 लोग होते हैं। क्या उसे जहाज में लोगों को बचाने के लिए और बड़ी नाव में उन 10 लोगों को बचाने के लिए जहाज को मोड़ना चाहिए? यह एक नैतिक दुविधा पैदा करता है, लेकिन कानून जो कहता है वह बहुत आसान है। यदि नाविक को जहाज को मोड़ना पड़ता है और 2 लोगों को मारना पड़ता है, तो उसे उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है। दूसरे शब्दों में, नाविक आवश्यकता के बचाव का दावा करने में सक्षम होगा।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here