नेचर ऑफ़ इंडियन कंस्टीट्यूशन: फेडरल और यूनिटरी (भारतीय संविधान की प्रकृति: संघीय या एकात्मक)

0
5407
Nature of Indian Constitution
Image Source- https://rb.gy/uavwlk

 यह लेख सिम्बायोसिस लॉ स्कूल, नोएडा की छात्र Heba Ali द्वारा लिखा गया है। इस लेख में, लेखक चर्चा करता है कि भारतीय संविधान प्रकृति में  संघीय है या एकात्मक है। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta द्वारा किया गया है।

Table of Contents

संघवाद (फेडरलिज्म)

संघवाद किसी देश के शासन (गवर्नेंस) के लिए एक जटिल सरकारी उपकरण (कॉम्प्लेक्स गवर्नमेंटल टूल) या मशीनरी है। जिसका उद्देश्य (ऐम) कार्य करने वाली विभिन्न शक्तियों के बीच संतुलन (बैलेंस) बनाना है जो केंद्र में शक्ति की एकाग्रता (कंसंट्रेशन) के पक्ष में काम करती हैं और वह जो इसे कई भागों में फैलाने (डिस्पर्सल)  का आग्रह (अर्जिंग) कर रही है। एक संघीय (फेडरल) संविधान केंद्र और राज्य के बीच सरकारी कार्यों और उसकी शक्तियों के एक सीमांकन (डिमार्केशन) की परिकल्पना (एनवाइसेज) करता है जैसा कि संविधान द्वारा स्वीकृत (सैंक्शनड) है जो एक लिखित दस्तावेज है। निम्नलिखित दो आवश्यक परिणाम हैं:

  1. सरकार के एक स्तर (लेवल) द्वारा सरकार के दूसरे स्तर को सौंपे गए क्षेत्र पर आक्रमण (इनवेशन) संविधान का उल्लंघन (ब्रीच) है।
  2. यह भी कहा जाता है कि संविधान का कोई भी उल्लंघन एक न्यायोचित मुद्दा (जस्टिफिएबल इश्यू) है जिसे न्यायालयों द्वारा निर्धारित (डिटरमाइन्ड) किया जाता है क्योंकि अदालत द्वारा सौंपे गए क्षेत्र के भीतर सरकार के प्रत्येक स्तर पर कार्य करता है।

भारतीय संविधान की संघीय विशेषताएं (फेडरल फीचर्स ऑफ इंडियन कंस्टीट्यूशन)

भारतीय संविधान एक संघीय संविधान है और यह राजनीति (पॉलिटी) की प्रकृति से स्पष्ट रूप से दिखाई देता है जैसे नागरिकता (सिटिजनशिप), सार्वजनिक सेवाओं (पब्लिक सर्विसेज), न्यायिक प्रणाली (सिस्टम), आपातकालीन प्रावधानों (इमरजेंसी प्रोविजन) की जांच करके और जब सामान्य समय में संघ की शक्ति  प्रबल  होती है।

1. नागरिकता (सिटिजनशिप)

कनाडा की तरह भारत ने भी एकल (सिंगल) नागरिकता की शुरुआत की है लेकिन राज्यों के लिए अलग नागरिकता नहीं है। जो भी भारत के नागरिक हैं, उन्हें समान अधिकार प्राप्त हैं और वे देश के किसी भी हिस्से या उनके जन्म स्थान (प्लेस ऑफ बर्थ) या निवास स्थान (प्रेजिडेंस) की परवाह किए बिना इसका प्रयोग कर सकते हैं। संयुक्त राज्य (यूनाइटेड स्टेट) अमेरिका, स्विट्जरलैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे अन्य संघीय राज्य अपने नागरिकों को दोहरी (डुअल) नागरिकता की अनुमति (एलाउज) देते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके पास राष्ट्रीय और राज्यों की नागरिकता हो सकती है।

2. सार्वजनिक सेवा (पब्लिक सर्विसेस)

अमेरिका में, संघीय सरकार के साथ-साथ राज्य सरकार की अपनी सार्वजनिक सेवाएं हैं और केंद्र और राज्य के बीच शक्तियों का ऐसा कोई विभाजन (डिवीजन) नहीं है जैसा भारत में है। अमेरिका में अधिकांश लोक सेवक (पब्लिक सर्वेंट) राज्य द्वारा नियोजित (एम्प्लॉयड) होते हैं, लेकिन वे संघ (यूनियन) के साथ-साथ राज्य के कानूनों का पालन और प्रशासन (एडमिनिस्टर) करते हैं जो उनके संबंधित राज्यों (रिस्पेक्टिव स्टेट) पर लागू होते हैं। लेकिन, हमारा भारतीय संविधान आईएएस, आईपीएस और आईएफएस जैसी सभी भारतीय सेवाओं के निर्माण का प्रावधान करता है जो संघ और राज्यों दोनों के लिए समान हैं। इन सेवाओं के सदस्यों को संघ द्वारा नियुक्त (अपॉइंट) और प्रशिक्षित (ट्रेन्ड) किया जाता है और उनकी सेवाएं संघ और राज्य सरकार दोनों के लिए अभिप्रेत (इंटेंडेड) हैं। हालाँकि, वे सभी केंद्र सरकार की देखरेख (सुपरविजन) और नियंत्रण (कंट्रोल) में हैं जो राज्य की संघीय प्रकृति का उल्लंघन करती है।

3. न्यायिक प्रणाली (ज्यूडिशियल सिस्टम)

भारतीय संविधान ने एक एकीकृत (इंटीग्रेटेड) न्यायिक प्रणाली की स्थापना की है जिसमें सुप्रीम कोर्ट सभी के प्रमुख के रूप में, एपेक्स कोर्ट और राज्यों के हाई कोर्ट जो श्रेणी में निम्न हैं। अदालत की यह एकल प्रणाली केंद्र और राज्य दोनों कानूनों को लागू करती है।  लेकिन, इसके विपरीत (काॅनट्ररी) संयुक्त राज्य अमेरिका में, संघीय और राज्य सरकार के बीच न्यायपालिका का विभाजन है।

4. चुनाव तंत्र (इलेक्शन मशीनरी)

चुनाव आयोग (इलेक्शन कमीशन) राष्ट्रपति (प्रेसिडेंट), उपराष्ट्रपति (वाइस प्रेसिडेंट) के कार्यालय और सभी केंद्रीय और राज्य विधानसभाओं (स्टेट लेजिस्लेचर) के लिए चुनाव कराने के लिए जिम्मेदार है। चुनाव आयोग का गठन (कांस्टीट्यूटेड) राष्ट्रपति द्वारा किया जाता है और राज्यों का इस मामले में कोई अधिकार नहीं है। लेकिन, यह संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे अन्य देशों में समान नहीं है जहां राज्य और संघीय सरकार दोनों के लिए चुनाव संचालन (कंडक्टिंग) तंत्र अलग है।

5. द्विसदनीय विधायिका (बाइकैमरल लेजिस्लेचर)

मुख्य विशेषता जो परिभाषा में ही है कि देश में शासन के कम से कम दो स्तर हैं लेकिन संभावना है कि शासन के दो से अधिक स्तर हो सकते हैं और पूरी शक्ति एक सरकार के हाथ में नहीं है।

6. राजस्व का आवंटन (एलोकेशन ऑफ रेवेन्यू)

संघीय ढांचे (सेट अप) के मामले में, केंद्र और राज्यों के बीच राजस्व  के बटवारे (शेयरिंग) और आवंटन की एक प्रणाली होती है, ठीक उसी तरह जैसे केंद्र और राज्य सरकार के बीच शक्तियों के बंटवारे की व्यवस्था होती है।

भारतीय संविधान की एकात्मक विशेषताएं (युनिटरी फीचर्स ऑफ इंडियन कंस्टीट्यूशन)

एक राज्य को एकात्मक (युनिटरी) कहा जाता है जब वह शासन की एक इकाई (सिंगल यूनिट) द्वारा शासित और नियंत्रित होता है और एक संवैधानिक (कंस्टीट्यूशनली) रूप से निर्मित (क्रिएटेड) विधायिका के साथ और सत्ता (पावर) एक पदानुक्रम (हाइरार्की) में ऊपर से निचले स्तर तक बहती है। संघीय व्यवस्था (फेडरल सिस्टम) में, शक्ति विभिन्न इकाइयों के बीच विभाजित होती है जैसे भारत में प्रणाली है। एकात्मक राज्य एक एकल राज्य के रूप में शासित एक संप्रभु राज्य (सोवरेन स्टेट) है जिसमें केंद्र सरकार सर्वोच्च शक्ति रखती है और प्रशासनिक विभाजन (एडमिनिस्ट्रेटिव डिवीजन) से संबंधित शक्तियों के किसी भी विभाजन का प्रयोग केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है जो अधिकारियों की नियुक्ति करता है और कर्तव्यों और शक्तियों को सौंपता (डेलीगेट) है।

संघीय व्यवस्था और एकात्मक राज्य के बीच का अंतर यह है कि एक संघीय प्रणाली में केंद्र और राज्य सरकार दोनों से शक्तियाँ प्राप्त होती हैं, जबकि एकात्मक प्रणाली में राज्य अपनी शक्तियाँ केंद्र सरकार से प्राप्त करता है, क्योंकि यह केंद्र सरकार शक्तियाँ और अधिकार को सौंपती है। भारतीय संविधान की एकात्मक विशेषताएं नए राज्यों के निर्माण और मौजूदा सीमाओं (बाउंड्रीज) की सीमाओं में परिवर्तन करने के लिए राज्यों का संघ हैं, विधायिका में असमान प्रतिनिधित्व (अनइक्वल रिप्रजेंटेशन), एकल नागरिकता, एक संविधान, संघ की शक्ति का अर्थ है विषयों संघ सूची (यूनियन लिस्ट), राज्य सूची (स्टेट लिस्ट) से संबंधित कानून बनाने की शक्ति, आपातकालीन प्रावधान (इमरजेंसी प्रोविजन), राज्यपाल (गवर्नर) की नियुक्ति, राज्यों को प्रशासनिक निर्देश।

1. राज्यों का संघ  (यूनियन ऑफ़ स्टेट्स)

संविधान के अनुच्छेद 1 में कहा गया है कि भारत राज्यों का एक संघ है जिसका तात्पर्य (इंप्लाइज) दो चीजों से है पहला यह है कि राज्यों के बीच एक समझौते (एग्रीमेंट) का परिणाम नहीं है और दूसरा यह है कि राज्यों के पास खुद को संघ से अलग करने की कोई शक्ति नहीं है।

2. नए राज्य बनाने की शक्ति (पावर टू फॉर्म न्यू स्टेट)

भारत में सरकार के पास सीमाओं को अलग करने या बदलने की शक्ति है और भारतीय संविधान के अनुच्छेद 3 में निर्धारित (लेड डाउन) है, यहां केंद्र मौजूदा सीमाओं को बदल सकता है और नए राज्य बना सकता है। जब अंग्रेजों ने भारत पर शासन (रुल्ड) किया तो कोई स्वतंत्र राज्य नहीं थे और केवल प्रांत (प्रोविंसेज) थे जो कि प्रशासनिक सुविधा (एडमिनिस्ट्रेटिव कन्विनियंस) के आधार पर अंग्रेजों द्वारा बनाए गए थे। उस समय राज्यों का निर्माण किया गया था लेकिन वे कृत्रिम (आर्टिफिशियली) रूप से बनाए गए थे और सीमाओं को बदलने और नए राज्यों के निर्माण का प्रावधान आवश्यकताओं के अनुसार किया गया था। भारत में राज्यों को क्षेत्रीय अखंडता (टेरिटोरियल इंटीग्रिटी) का अधिकार नहीं है, जैसा कि संयुक्त राज्य अमेरिका में देखा जाता है।

3. एक संविधान (वन कांस्टीट्यूशन)

संघ और राज्यों दोनों के लिए एक ही संविधान है।  जम्मू-कश्मीर को छोड़कर भारत में राज्यों के लिए अलग संविधान का कोई प्रावधान नहीं है। जबकि अन्य देशों में संयुक्त राज्य अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया की तरह हर राज्य के लिए एक अलग संविधान है और उनके पास वही शक्तियां हैं जो संघीय संविधान को दी गई हैं।  लेकिन, यहाँ भारत में राज्यों के पास ऐसी शक्तियाँ नहीं हैं और वे संशोधन (अमेंडमेंट) का प्रस्ताव (प्रपोज) नहीं दे सकते।

4. एकल नागरिकता (सिंगल सिटिजनशिप)

भारत एक ऐसा देश है जहां यह संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के विपरीत (अनलाइक) एकल नागरिकता का पालन करता है, जहां दोहरी नागरिकता की अनुमति है, जिसका अर्थ है कि लोग संघीय राज्य और अपने स्वयं के राज्य के नागरिक हैं, जिसका अपना संविधान है।

5. विषय की सूची में संघ को अधिक शक्ति (मोर पावर टू द यूनियन इन द लिस्ट ऑफ सब्जेक्ट)

भारत में शक्तियों का वितरण (डिस्ट्रीब्यूशन) इस प्रकार किया गया है कि केंद्र सरकार के पास अधिकांश शक्तियां (मेजोरिटी ऑफ पावर) हैं और इसे सातवीं अनुसूची में परिभाषित किया गया है जिसमें शक्तियों का वितरण शामिल है और तीन सूची में विभाजित है संघ सूची जिसमें 100 विषय हैं, राज्य सूची जिसमें केवल 61 विषय हैं और फिर समवर्ती सूची (कंक्योरेंट लिस्ट) आती है जिसमें 52 विषय हैं और उनके बीच ओवरलैप या संघर्ष (कॉन्फ्लिक्ट) के मामले में संघ शक्ति प्रबल होती है। यह समवर्ती सूची और राज्य सूची पर संघ सूची की प्रधानता (प्रिडोमिनेंस) के कारण है।  यहाँ तक कि अवशिष्ट शक्तियाँ (रेसिडियरी पावर) जो सूची में उल्लिखित (मेंशनड) मामले पर कानून बनाने की शक्ति हैं, संघ सरकार को दी जाती हैं जो अन्यथा संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में संघीय इकाइयों को दी जाती हैं।

6. विधायिका में असमान प्रतिनिधित्व (अनइक्वल रिप्रजेंटेशन इन द लेजिस्लेचर)

एक संघ में इकाइयों की समानता तब सबसे अच्छी होती है जब संघीय विधायिका के उच्च सदन (अप्पर हाउस) यानी संसद (पार्लियामेंट) दोनों में उनके समान प्रतिनिधित्व की गारंटी दी जाती है। हालाँकि, यह भारतीय राज्यों के मामले में लागू नहीं है, उनका राज्यसभा में असमान प्रतिनिधित्व है। संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे एक सच्चे संघ में, प्रत्येक राज्य, चाहे क्षेत्रफल (एरिया) या जनसंख्या के मामले में उनका आकार कुछ भी हो, उच्च सदन यानी सीनेट में दो प्रतिनिधि भेजता है।

भारतीय संविधान की अर्ध-संघीय प्रकृति (क्वासी फेडरल नेचर ऑफ़ इंडियन कंस्टीट्यूशन)

यह हमेशा बहस (डिबेट) का विषय रहा है कि क्या भारतीय संविधान प्रकृति में संघीय है या प्रकृति में एकात्मक है।  भारतीय संविधान प्रकृति में संघीय और एकात्मक दोनों है, क्योंकि यह संघीय और एकात्मक विशेषताओं का एक संयोजन (कॉम्बिनेशन) है। भारतीय संविधान की प्रकृति की स्पष्ट तस्वीर प्राप्त करने के लिए, संविधान की मूल (बेसिक) विशेषताओं का अध्ययन करने की आवश्यकता है।

एक संघीय ढांचे में, दो स्तरीय (टू टायर) सरकार होती है जिसके पास सभी भागों की सुनियोजित (वेल असाइन्ड) शक्तियां और कार्य होते हैं। एक संघीय ढांचे में, केंद्र और राज्य सरकार दोनों समन्वय (कोऑर्डिनेशन) में काम करते हैं और साथ ही, वे स्वतंत्र रूप से काम करते हैं। संघीय राजनीति विविधता में एकता (यूनिटी इन डायवर्सिटी) लाने के लिए और सबसे बढ़कर राष्ट्रीय लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए एक संवैधानिक उपकरण (डिवाइस) प्रदान करती है। रोकथाम (प्रिवेंशन) के साथ-साथ केंद्र और राज्यों के हितों के टकराव (कॉन्फ्लिक्ट) की बेहतरी (बेटरमेंट) के लिए संघवाद का एक अभिन्न अंग (इंटीग्रल पार्ट ऑफ फेडरलिज्म) है और यही कारण है कि भारतीय संघवाद को एक मजबूत केंद्र दिया गया। भारत के संविधान ने संघीय विशेषताओं को अपनाया है, हालांकि यह दावा नहीं करता है कि यह एक संघ की स्थापना करता है। भारतीय संविधान को संघीय संविधान कहा जा सकता है या नहीं, इस प्रश्न का उत्तर संघवाद की आवश्यक विशेषताओं का अध्ययन किए बिना नहीं दिया जा सकता है।

भारतीय संविधान की प्रकृति की न्यायिक व्याख्या (ज्यूडिशियल इंटरप्रेटेशन ऑफ द नेचर ऑफ़ इंडियन कंस्टीट्यूशन)

पहला मामला बंगाल राज्य बनाम भारत संघ का था जहां इस बात पर चर्चा की गई थी कि भारत में संघीय संविधान है या संघीय सरकार है। इस मामले का मुद्दा भारतीय राज्यों द्वारा संप्रभु शक्तियों का प्रयोग था।  राज्य और राज्यों के संप्रभु अधिकारियों के स्वामित्व वाली संपत्तियों को अलग-अलग संस्थाओं के रूप में लेने के लिए एक कानून बनाने के लिए संसद की विधायी क्षमता (लेजिस्लेटिव कंपीटेंसी) को भी ध्यान में रखा गया था। अदालत ने माना कि भारतीय संविधान ने पूर्ण संघवाद के सिद्धांत को प्रतिपादित नहीं किया है।  भले ही अधिकारियों का विकेंद्रीकरण (डिसेंट्रालाइज) किया जाता है ताकि इतने बड़े क्षेत्र में कार्य कुशलता (एफिशिएंट्ली) से किया जा सके।

भारतीय संविधान एक संघीय संविधान नहीं है क्योंकि प्रत्येक राज्य के लिए कोई अलग संविधान नहीं है जैसा कि ऑस्ट्रेलिया और संयुक्त राज्य अमेरिका में है। संविधान को केवल संसद द्वारा बदला जा सकता है और राज्यों को इसे बदलने की कोई शक्ति नहीं है और राज्यों और राष्ट्रीय नीतियों (पॉलिसी) द्वारा स्थानीय शासन की सुविधा के लिए शक्तियों का वितरण जो केंद्र में सत्ता में सरकार द्वारा तय किया जाएगा। इसके बाद अंतिम संघीय संविधान आता है जिसका कर्तव्य आंतरिक मामलों (इंटरनल मैटर्स) की जांच करना और उन सभी के बीच संतुलन बनाए रखना है। भारत में, संविधान ने अदालतों को संविधान का उल्लंघन करने वाली किसी भी कार्रवाई को रद्द करने की अपार शक्ति दी है। सुप्रीम कोर्ट ने इसे मंजूरी दे दी है कि विधायी और साथ ही कार्यकारी शक्तियां (एक्जीक्यूटिव पावर) संघ की संबंधित सर्वोच्च शक्तियों की जांच के अधीन हैं। राष्ट्र की संप्रभुता भारत के लोगों के हाथों में दी जाती है। फिर से राज्यों का वर्चस्व है जो इस तथ्य से दिखाई देता है कि भारत में दोहरी नागरिकता की अनुमति नहीं है। इस प्रकार, न्यायाधीशों ने यह कहकर इसे मंजूरी दे दी कि केंद्र की तुलना में राज्यों को द्वितीय स्थान प्राप्त होता है और यह भी कि भारतीय संविधान की संरचना अधिक केंद्रीकृत (सेंट्रलाइज्ड) है। वर्षों से न्यायाधीशों ने यह राय दी है कि सरकार के संघीय या संघीय रूप का कोई अलग अर्थ नहीं है। जब इस मामले की बात आती है तो संविधान अलग है, एक संघ केंद्र के पक्ष में पक्षपाती (बायस्ड) है, लेकिन इससे राज्यों का मूल्य कम नहीं होता है।

निष्कर्ष (कंक्लूज़न)

इसलिए, हम देख सकते हैं कि भारतीय न्यायपालिका ने संविधान की व्याख्या करके भ्रम (कन्फ्यूजन) को दूर किया है और इसे एकात्मक घोषित किया है। पिछले कुछ वर्षों में अदालतों के इस दृष्टिकोण में भारी बदलाव आया है। अदालतों ने इस तथ्य को स्वीकार किया है कि संविधान निर्माताओं का इरादा शक्ति के साथ एक मजबूत केंद्र देने का था ताकि राष्ट्र को विघटन (डिसिंटीग्रेशन) से बचाया जा सके। पिछली घटनाओं से, यह देखा गया है कि कई बार शक्ति का दुरुपयोग किया गया है, इसलिए कुछ संशोधन करने की आवश्यकता है जो हमारे संविधान की संघीय प्रकृति को और मजबूत करेगा। यह तभी हो सकता है जब राज्यों को अधिक शक्ति और वित्तीय संसाधन (फाइनेंशियल रिसोर्सेज) हस्तांतरित (डेवलप्ड) किए जाएं ताकि वे स्वतंत्र हों और उन्हें केंद्र से वित्तीय सहायता न लेनी पड़े। साथ ही, राज्यों के पास अधिक स्वायत्तता (ऑटोनोमी) होनी चाहिए ताकि वे अधिक विकासात्मक (डेवलपमेंटल) कार्यक्रम चला सकें।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here