संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम 1882 के तहत सत्यापन के कानून का विश्लेषण

0
476
Transfer of property act

यह लेख लॉसिखो से एडवांस्ड सिविल लिटिगेशन: प्रैक्टिस, प्रोसीजर और ड्राफ्टिंग में सर्टिफिकेट कोर्स करने वाले छात्र Amay द्वारा लिखा गया है। इस लेख में संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम के तहत दी गई सत्यापन (अटेस्टेशन) की धारणा पर चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Shreya Prakash के द्वारा किया गया है।

परिचय

सत्यापन की परिभाषा संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम 1882 की धारा 3 में दी गई है। इस प्रावधान को शामिल करने के पीछे का इरादा यह सुनिश्चित करना था कि हस्तांतरण निष्पादक (एग्जिक्यूटर) की स्वतंत्र इच्छा से किया गया था। भारत में कोई भी कानून गवाह को प्रमाणित किए जा रहे पूरे दस्तावेज़ को पढ़ने की आवश्यकता प्रदान नहीं करता है, इस प्रकार गवाहों को दस्तावेज़ को पढ़ने और हस्तांतरण के प्रत्येक विशिष्ट तथ्य को पूछने की ज़रूरत नहीं है। गवाहों को अदालत में यह साबित करने के लिए बुलाया जा सकता है कि हस्तांतरण एक वैध हस्तांतरण था, लेकिन यहां दो गवाहों या सभी गवाहों को बुलाने की कोई आवश्यकता नहीं है, और हस्तांतरण की पवित्रता दिखाने के लिए गवाह के रूप में कम से कम एक व्यक्ति को अदालत में बुलाया जा सकता है।

सत्यापन के लिए यह प्रावधान मूल रूप से आज की तरह तैयार नहीं किया गया था। प्रारंभ में 1865 के अधिनियम के तहत सत्यापन के इस प्रावधान में अंतर था। व्यक्तिगत अभिस्वीकृति (पर्सनल एक्नोलेजमेंट) से संबंधित भाग मौजूद नहीं था और इस भाग को एक संशोधन के माध्यम से जोड़ा गया था। इस प्रकार गवाहों की उपस्थिति का निपटारा किया गया। सत्यापन के दो भाग हैं। पहला वह भाग है जहां प्रमाणित करने वाले गवाह शारीरिक रूप से उपस्थित हो सकते हैं, फिर कम से कम दो गवाह ऐसे होते हैं जिन्हें निष्पादक को हस्तांतरण के दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करते हुए देखना चाहिए। दूसरा भाग उस स्थिति के संबंध में है जब दस्तावेज़ के निष्पादन के समय गवाह शारीरिक रूप से उपस्थित नहीं थे। ऐसी स्थिति में, सत्यापन अभी भी वैध हो सकता है, यदि निष्पादक स्वयं गवाहों को हस्ताक्षर की व्यक्तिगत पावती देता है। इस लेख में, लेखक सत्यापन के मुद्दे पर अदालत की समझ और किसी व्यक्ति के अशिक्षित या विकलांग होने के कारण गवाह बनने या किसी दस्तावेज़ को वैध तरीके से प्रमाणित करने की क्षमता के मुद्दे पर विचार करेंगे।

शुरुआत और संशोधन

सत्यापन की यह अवधारणा अंग्रेजी कानून से उत्पन्न हुई है। लेकिन इस अवधारणा से जो अर्थ और दायरा जोड़ा गया है वह भारत में मूल रूप से अंग्रेजी कानून के तहत जो था उससे भिन्न है। अंग्रेजी कानून के अनुसार सत्यापन का अर्थ यह है कि निष्पादक द्वारा दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर के समय प्रमाणित करने वाले गवाह को शारीरिक रूप से उपस्थित होना पड़ता है। संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम की धारा 3 में जो परिभाषा इस्तेमाल की गई है वह दो आधारों पर अंग्रेजी कानून में मौजूद परिभाषा से भिन्न है। सबसे पहले, निष्पादक द्वारा दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर के समय सत्यापनकर्ता (अटेस्टर) को भौतिक रूप से उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है।

दूसरा अंतर यह है कि भारतीय कानून में सत्यापनकर्ता को वास्तव में दस्तावेज़ के निष्पादन को देखने की आवश्यकता नहीं है। अंग्रेजी कानून के अनुसार निष्पादन के समय गवाहों को उपस्थित रहना होता है और हस्ताक्षर करते हुए स्वयं देखना होता है। भारतीय कानून ने इस आवश्यकता को ख़त्म कर दिया है। इसे शामू पैटर के मामले में उजागर किया गया था जहां सवाल वास्तव में यह था कि क्या सत्यापनकर्ताओं को शारीरिक रूप से उपस्थित होना होगा और वास्तव में दस्तावेज़ का निष्पादन देखना होगा। अदालत ने गिरींद्र नाथ मुखर्जी बनाम बिजॉय गोपाल मुखर्जी और रामजी बनाम बाई पार्वती के मामलों का उल्लेख किया और निष्कर्ष निकाला कि सत्यापनकर्ता को एक वैध प्रमाणित गवाह होने के लिए शारीरिक रूप से उपस्थित होना होगा और निष्पादन को देखना होगा। अदालत इस तर्क पर पहुंची क्योंकि अदालत ने इस तर्क को मानने से इनकार कर दिया कि सत्यापन शब्द का वही अर्थ दिया जाना चाहिए जो भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम में दिया गया है।

यह केवल नेपरा बनाम सजेर प्रमाणिक और अन्य के मामले में था कि अदालत ने 1926 के संशोधन अधिनियम 27 को लागू करके शामू मामले को खारिज कर दिया, जिसमें वाक्यांश “उस व्यक्ति द्वारा सत्यापन जिसे निष्पादकों द्वारा निष्पादन की पावती प्राप्त हुई है” जोड़ा गया था और संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम की धारा 3 के तहत उल्लिखित सत्यापन शब्द के अर्थ के रूप में शामिल किया जाना था। शुरू में यह समझा गया था कि सत्यापन का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि कोई व्यक्ति गवाही दे सके कि विलेख (डीड) पर स्वेच्छा से हस्ताक्षर किए गए थे, लेकिन बाद में गोमती बनाम कृष्णा के मामले में यह स्पष्ट किया गया कि वास्तविक उद्देश्य यह था कि कोई धोखाधड़ी नहीं हुई थी और निष्पादन तब किया गया जब व्यक्ति वैध सहमति दे सकता था।

इसके अलावा, भारतीय न्यायशास्त्र कुछ हद तक उन योग्यताओं को पढ़ने के लिए विकसित हुआ है जिन्हें किसी व्यक्ति को वैध सत्यापनकर्ता बनने में सक्षम होने के लिए पूरा करना पड़ता है। पहले सामान्य नियम यह था कि किसी दस्तावेज़ का कोई पक्ष स्वयं सत्यापनकर्ता नहीं हो सकता था।” यह नियम तब विकसित किया गया था जब अदालत ने एक इच्छुक व्यक्ति और एक दस्तावेज़ के पक्ष के बीच अंतर किया और निष्कर्ष निकाला कि एक इच्छुक पक्ष या इच्छुक व्यक्ति दस्तावेज़ को प्रमाणित कर सकता है। यह नियम समय के साथ और विकसित हुआ और नया मानक यह है कि सत्यापनकर्ता एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जो अनुबंध में प्रवेश कर सके।

भारतीय न्यायशास्त्र में जो स्थापित किया गया है उसके अलावा, प्रमाणन के लिए प्रौद्योगिकी (टेक्नोलॉजी) के उपयोग के संबंध में अंतर्राष्ट्रीय सर्किट में बहस बढ़ गई है। इसका अनिवार्य रूप से मतलब वैध सत्यापन देने के लिए वीडियो कैमरों और आभासी हस्ताक्षरों का उपयोग है। भारतीय अदालतों में यह माना गया है कि सत्यापनकर्ता के लिए दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर या निशान लगाना आवश्यक है, इसलिए केवल वीडियो के माध्यम से निष्पादन देखना पर्याप्त नहीं होगा। परंतु यदि दस्तावेज़ को चिह्न लगाकर या आभासी हस्ताक्षर द्वारा सत्यापित किया गया है, तो आवश्यकता पूरी हो जाएगी; यह अभी भी कुछ ऐसा नहीं है जिस पर अदालत ने चर्चा की है, इसलिए इसके संबंध में कोई निर्णायक (कंक्लूसिव) बयान नहीं दिया जा सकता है।

यदि अदालत इस मामले पर विदेशी न्यायक्षेत्रों के फैसले का सख्ती से पालन करती है, तो भारतीय अदालतें काफी हद तक आर बनाम एचएमआरसी के हालिया फैसले पर भरोसा करेंगी जहां न्यायमूर्ति अंडरहिल ने बताया कि सत्यापन के लिए मूल दस्तावेज़ का हिस्सा होने के लिए सत्यापन चिह्न या हस्ताक्षर की आवश्यकता होगी। और इस प्रकार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और आभासी हस्ताक्षर पर्याप्त नहीं होंगे। 

ऑस्ट्रेलिया में, प्रौद्योगिकी का कानून पर भी संयुक्त प्रभाव पड़ता है। यहां, अदालत ने सत्यापन मामलों में इसके उपयोग की अनुमति देकर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के महत्व को मान्यता दी है, जहां इसका उपयोग स्वदेशी समुदायों द्वारा भौतिक और भौगोलिक बाधाओं को दूर करने के लिए किया जाता है। हालांकि अदालत ने इस दृष्टिकोण की अनुमति दी है, एडीएलएस इस दृष्टिकोण के बारे में आलोचनात्मक है और उसने चेतावनी दी है कि भौगोलिक बाधाओं से बचने के साधन के रूप में वीडियो कॉन्फ्रेंस जैसी तकनीक के उपयोग में कमियां हो सकती हैं। 

चरणजीत कौर नागी बनाम एनसीटी दिल्ली सरकार मामले में अदालत ने अपने फैसले में सत्यापन के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के उपयोग पर टिप्पणी करते हुए कहा कि यह वीडियो कॉन्फ्रेंस शुरू करके प्रौद्योगिकी के सहयोग से हस्ताक्षर या चिह्न की सकारात्मक पहचान और सत्यापन का एक उपयुक्त तंत्र बनाने के लिए खुला है। अदालत ने इस मामले में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सत्यापन को मंजूरी नहीं दी और कहा कि जो पति अमेरिका में था उसे किसी परामर्शदाता (कंसल्ट) की उपस्थिति में दस्तावेज़ को सत्यापित करना होगा। इस प्रकार उन्होंने भविष्य में इसे शामिल करने का काम विधायिकाओं पर छोड़ दिया, लेकिन दक्षता सुनिश्चित करने के लिए प्रौद्योगिकी को एकीकृत करने की आवश्यकता पर ध्यान आकर्षित किया।

चिंता की बात यह भी है कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हमेशा पूरा परिदृश्य नहीं दिखाती। ऐसा भी हो सकता है कि केवल एक हिस्सा ही दिखाई दे रहा हो, पूरा नहीं, जैसे कि सत्यापनकर्ता का चेहरा दिखाई दे रहा है, लेकिन क्या कोई गवाह को धमकी दे रहा है या निष्पादक के साथ भी ऐसा ही है। दूसरी ओर यह तर्क दिया जा सकता है कि व्यक्तिगत पावती खंड सत्यापन की आवश्यकता के रूप में भौतिक उपस्थिति के रूप में प्रौद्योगिकी के उपयोग और निष्पादक को दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता की अनुमति देता है। चरणजीत मामले में यह भी तर्क दिया गया था कि अदालत ने समझा कि अधिनियम के समय, तकनीक इतनी हद तक उन्नत नहीं थी, इसलिए मसौदा तैयार करने वालों का इरादा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग को शामिल करने का नहीं हो सकता था। इस प्रकार दोनों पक्षों से तर्क दिए जा सकते हैं, और यह अदालतों पर निर्भर है कि वे आवश्यकताओं को संतुलित करें और किसी निष्कर्ष पर पहुँचें।

प्रमाणन के संबंध में कानून पर विकलांगता का प्रभाव 

भारतीय अदालतें लंबे समय से न केवल लिंग के संबंध में, बल्कि विशेष रूप से विकलांग या अशिक्षित लोगों के संबंध में भी अधिक समावेशी होने का रास्ता खोजने की कोशिश कर रही हैं। भारत एक ऐसा देश है जहां अधिकांश आबादी उच्च रूप से शिक्षित नहीं है और काफी हद तक निरक्षरता से पीड़ित है, ऐसे में, संविधान की परिकल्पना (हाइपोथेसिस) के अनुसार कानून सभी व्यक्तियों पर समान रूप से लागू हो, और कानून की व्याख्या करना और क्रमशः कानून बनाना, इस तरह से कि पूरी आबादी उसे लागू कर सके और उसका पालन कर सके, इसका विशेषाधिकार न्यायालय और विधायकों पर है। इस निष्कर्ष के कारण, अदालत ने संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम की धारा 3 की अलग-अलग व्याख्याएं दी हैं ताकि इसे अधिक समावेशी और व्यापक रूप से लागू किया जा सके। विभिन्न मामलों में, सामान्य नियम यह बन गया है कि किसी दस्तावेज़ को प्रमाणित करने के लिए विशेष रूप से चुनौतीपूर्ण व्यक्ति के लिए कोई अयोग्यता नहीं है। इस समझ का मतलब है कि कोई भी व्यक्ति साक्ष्य देने वाला गवाह हो सकता है, लेकिन मामलों और अदालत की व्याख्या द्वारा विकसित न्यायशास्त्र अन्यथा सुझाव देता है। व्याख्या और मामलों ने एक निश्चित मानक रखा है जिसे किसी व्यक्ति को किसी दस्तावेज़ को वैध तरीके से सत्यापित करने से पहले पूरा करना होता है।

सुंदर लाल बनाम डी डी सी सीतापुर मामले में, दस्तावेज़ का सत्यापन करने वाला व्यक्ति नेत्रहीन था। इस मामले में अदालत ने कहा कि नेत्रहीन व्यक्ति दस्तावेज़ को तब तक सत्यापित नहीं कर सकता जब तक कि उस व्यक्ति को निष्पादक द्वारा व्यक्तिगत स्वीकृति नहीं दी जाती। इससे पता चलता है कि संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम का वर्तमान हस्तांतरण इस तरह से बनाया गया है कि विकलांगताएं किसी व्यक्ति को दस्तावेज़ के वैध सत्यापन से नहीं रोकती हैं।

यहां तक ​​कि पर्दानशीन महिलाएं भी किसी दस्तावेज़ का सत्यापन कर सकती हैं। लेकिन शुरू से ही यह स्थिति नहीं थी। ऐसे अलग-अलग मामले थे जिन्होंने पर्दानशीन महिलाओं द्वारा सत्यापन पर रुख स्पष्ट किया। पदारथ हलवाई के मामले में, एक पर्दानशीन महिला को दस्तावेज़ को वैध सत्यापन देने की अनुमति दी गई थी। मामले के तथ्य यह थे कि निष्पादक को पर्दे के माध्यम से देखा जा सकता था और निष्पादक की आवाज़ जो एक पर्दानशीन महिला थी, को पहचाना जा सकता था। इस प्रकार जब सत्यापन दिया गया, तो संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम की धारा 3 के अनुसार सत्यापन को वैध सत्यापन माना गया। 

लाला कुन्दन लाल मामले में तथ्य इस प्रकार थे कि वसीयतकर्ता एक पर्दानशीन महिला थी जिसे उसके पति ने पर्दे के माध्यम से देखा और प्रमाणित किया। उसने अपना हाथ परदे से बाहर निकाला और अपने अंगूठे का निशान लगाया। यह वैध निष्पादन था और इस आधार पर सत्यापन वैध था। 

राव गंगा सिंह मामले में महिला ने पर्दे के पीछे दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर किए और दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करने के बाद महिला का बेटा दस्तावेज़ को गवाह के पास लाया ताकि सत्यापन किया जा सके। इस मामले में अदालत ने माना कि सत्यापन वैध नहीं था क्योंकि पावती स्वयं निष्पादक द्वारा नहीं दी गई थी।

इन तीन मामलों से हम पर्दानशीन महिला के निष्पादक होने और किसी दस्तावेज़ के निष्पादन के लिए उनके सत्यापनकर्ता होने के संबंध में एक स्पष्ट तस्वीर खींच सकते हैं। स्थिति यह कही जा सकती है कि, यदि दस्तावेज़ को निष्पादित करने वाला व्यक्ति एक पर्दानशीन महिला है, तो यह आवश्यक है कि सत्यापनकर्ता महिला को दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करते हुए देखे, यह स्वीकार्य है कि सत्यापनकर्ता किसी चीज़ के माध्यम से महिला को देख सके या आवाज या उसे पहचान सके, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए पहचान होनी चाहिए ताकि धोखाधड़ी न हो। यदि सत्यापनकर्ता एक पर्दानशीन महिला है, तो निष्पादक को महिला को पहचानना होगा और फिर उसके प्रत्यय चिह्न को देखना होगा, भले ही इसमें बाधा के माध्यम से देखना शामिल हो, लेकिन बाधा ऐसी होनी चाहिए कि यह देखा जा सके कि व्यक्ति कौन है। यहां तक ​​कि एक अंधा व्यक्ति भी प्रमाणित कर सकता है जब उसे निष्पादक से व्यक्तिगत स्वीकृति मिल जाती है कि निष्पादन उसकी स्वतंत्र इच्छा से दी गई थी। आवश्यकता केवल इस बात की है कि अंधा व्यक्ति यह पहचान सके कि पावती देने वाला व्यक्ति ही निष्पादक है।

निष्कर्ष

सत्यापन से संबंधित संपत्ति के हस्तांतरण का भारतीय प्रावधान ब्रिटिश कानून से अपनाया गया है, लेकिन भारत में पारित संशोधनों के कारण, इस प्रावधान का भारत में व्यापक अनुप्रयोग है। संशोधन ने दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करते समय निष्पादक के मौजूद रहने की आवश्यकता को ख़त्म कर दिया है। इस प्रकार इसका व्यापक अनुप्रयोग है। 

सत्यापन का तात्पर्य दस्तावेज़ को सत्यापित करने के लिए केवल उस पर हस्ताक्षर करना नहीं है, बल्कि एक वैध सत्यापन के लिए प्रमाणित करने के इरादे की आवश्यकता होती है। इसे एनिमो अटेस्टैंडी भी कहा जाता है। ऐसे कई मामले हैं जिन्होंने इस शब्द की प्रयोज्यता को समझाया है, और समझ यह है कि एक व्यक्ति एक वैध सत्यापन दे सकता है यदि वह चिह्न लगाने के समय दस्तावेज़ के निष्पादन के तथ्य का गवाह बनना चाहता था और था यह जानते हुए कि दस्तावेज़ को निष्पादक पर किसी अनुचित प्रभाव या दबाव के बिना निष्पादित किया गया था। यदि गवाह के पास इन्हें पुष्ट करने की मानसिक क्षमता या इरादा है, तब तक यह नहीं कहा जा सकता कि व्यक्ति ने वैध सत्यापन दिया है।

व्यापक अनुप्रयोग के अलावा संशोधन ने विकलांग लोगों को उचित सत्यापन देने की भी अनुमति दी है। यहां तक ​​कि दृष्टिबाधित व्यक्ति भी दस्तावेज़ को निष्पादित करने वाले निष्पादक को देखने की पूर्व आवश्यकता को पूरा किए बिना प्रमाणित कर सकता है क्योंकि अब निष्पादक द्वारा गवाह को निष्पादन की व्यक्तिगत स्वीकृति भी दस्तावेज़ के वैध सत्यापन के लिए स्वीकार की जाती है, जहां केवल आवश्यकता यह है कि गवाह को यह पहचानना चाहिए कि पावती निष्पादक द्वारा ही दी गई है।

इसके अलावा अब सत्यापन के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और अन्य तकनीकी प्रगति को भी शामिल करने की चर्चा है। ब्रिटेन में अदालतों ने ऐसी प्रौद्योगिकियों को शामिल करने से इनकार कर दिया है, लेकिन अंग्रेजों की समझ हमसे अलग है और यह हमारे कानून में संशोधन के कारण स्पष्ट है। इसके अलावा, ऑस्ट्रेलिया द्वारा अनुकूल दृष्टिकोण अपनाया गया है और उन मामलों में आवेदन की सराहना की है जहां स्थान भौगोलिक रूप से दूरस्थ स्थान पर है। इस प्रकार जब भारत में बहस परिवर्तनों को शामिल करने का निर्णय लेगी तो उसे ऐसे दृष्टिकोण के उपयोग और दुरुपयोग को देखने का अवसर मिलेगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here