वरीयता शेयर और इक्विटी शेयर का विश्लेषण

0
1020
Companies Act 2013

यह लेख Shaialja Mishra द्वारा लिखा गया है और Oishika Banerji (टीम लॉसिखो) द्वारा एडिट किया गया है। इस लेख में वरीयता (प्रिफरेंस) और इक्विटी शेयर के अर्थ, इनके प्रकार और इनके बीच के अंतर के बारे में चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta के द्वारा किया गया है।

परिचय

जैसे प्रत्येक मनुष्य को जीवित रहने के लिए भोजन और पानी की आवश्यकता होती है, उसी प्रकार प्रत्येक कंपनी को अपने विकास और दिन-प्रतिदिन की आवश्यकताओं के लिए कुछ कोष (फंड) की आवश्यकता होती है। ये कोष मूल रूप से दीर्घकालिक (लॉन्ग टर्म) और अल्पकालिक (शॉर्ट टर्म) के उधार से आते हैं और इसलिए दीर्घकालिक के वित्तीय स्रोत एक उचित पूंजी (कैपिटल) संरचना द्वारा तय किए जाते हैं। वर्तमान परिदृश्य में मध्यम वर्ग के निवेशकों ने शेयरों और शेयर बाजार में भारी दिलचस्पी दिखाई है, जो पहले अमीर और शक्तिशाली निवेशकों तक ही सीमित थी। शेयरों में निवेश की अवधारणा ने निवेशकों को यह एहसास कराया है कि निवेश के माध्यम से अधिक धन कैसे प्राप्त किया जाए। शेयर और स्टॉक इसके प्रवेश द्वार हैं। शेयरों में निवेश करने का तरीका बनाने के लिए अर्थव्यवस्था और प्रौद्योगिकी (टेक्नोलॉजी) भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि शेयर बाजार में निवेश आपको उच्च लाभ की ओर ले जा सकता है, यह आर्थिक रूप से जोखिम भरा भी हो सकता है। जैसा कि ठीक ही कहा गया है “बिना कष्ट किये फल नहीं मिलता” क्योंकि निवेश कुछ मात्रा में जोखिम उठाए बिना नहीं होता है लेकिन ये जोखिम सभी प्रकार के निवेश में अलग-अलग होते हैं। इस लेख का उद्देश्य इक्विटी शेयरों की तुलना में वरीयता शेयरों की अवधारणा पर चर्चा करना है।

पूंजी संरचना पर मूल अवधारणा

किसी कंपनी की पूंजी संरचना मूल रूप से ऋण और वित्तीय साधन है जिसमें कंपनी की संपत्ति का वित्तपोषण (फाइनेंसिंग) शामिल है। यह वित्तपोषण का एक स्थायी स्रोत है जिसमें दीर्घकालिक ऋण, पसंदीदा (प्रिफर्ड) स्टॉक और शुद्ध कीमत (नेट वर्थ) शामिल हैं। इस प्रकार यह अल्पकालिक उधारों का उन्मूलन (एलिमिनेशन) है। हालांकि कुछ कारक हैं जो कंपनी की पूंजी संरचना को प्रभावित करते हैं: जैसे नकदी प्रवाह की स्थिति, ब्याज का उच्च दर, ब्याज का कम दर, इक्विटी की लागत, फ्लोटेशन लागत, जोखिम प्रतिफल (कंसीडरेशन) और शेयर बाजार की स्थिति।

शेयर: शेयर पूंजी की सबसे छोटी इकाई

जैसा कि कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 2(84) में उल्लेख किया गया है, कंपनी की शेयर पूंजी को छोटे टुकड़ों में बांटा गया है, जिसे शेयर के रूप में जाना जाता है। प्रत्येक शेयर कंपनी के स्वामित्व की एक इकाई बनाता है और शेयरधारक उस लाभ के हकदार होते हैं जो कंपनी भविष्य में लाभांश (डिविडेंड) के रूप में अर्जित कर सकती है। शेयरधारक कंपनी के नुकसान के वाहक के साथ-साथ लाभ के अधिकतम हिस्से दोनों लेने वाले हैं। सरल शब्दों में शेयरधारक उसके द्वारा अर्जित शेयर के बराबर कंपनी में कुछ प्रतिशत स्वामित्व के हकदार होते है।

शेयरों की मुख्य विशेषताएं

  1. एक शेयर मूल रूप से एक अधिकार है जो कंपनी की शेयर पूंजी की राशि को निर्दिष्ट करता है, जिसमें अधिकार और दायित्व होते हैं।
  2. जैसा कि कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 44 में उल्लेख किया गया है, शेयर चल और हस्तांतरणीय (ट्रांसफरेबल) संपत्ति होगी जैसा कि आर्टिकल ऑफ़ एसोसिएशन में प्रदान किया गया है।
  3. शेयर कंपनी के लाभ में भाग लेने का अधिकार है।
  4. माल की बिक्री अधिनियम, 1930 के अनुसार भारत में शेयर को माल के रूप में जाना जाता है, जो किसी भी चल संपत्ति को संदर्भित करता है।
  5. जैसा कि कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 45 में उल्लेख किया गया है, कंपनी में प्रत्येक शेयर की एक शेयर पूंजी होती है जिसे अलग-अलग संख्याओं द्वारा अलग किया जाता है लेकिन यह प्रावधान शेयरधारकों पर लागू नहीं होता है।

शेयरों के प्रकार

इक्विटी शेयर

इक्विटी शेयर कंपनी के वे छोटे हिस्से होते हैं जो निवेशकों द्वारा भविष्य के मुनाफे की प्रत्याशा (एंटीसिपेशन) में खरीदे जाते हैं। जब कोई स्टॉक का मालिक होता है तो इक्विटी शेयरों को स्टॉक के रूप में भी जाना जाता है, वे अंततः कंपनी के शेयरधारक बन जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप उन्हें कंपनी के सभी लाभ और हानियों के लिए उत्तरदायी बना दिया जाता है।

शेयरधारकों को लाभ जो वे मूल्य में वृद्धि से प्राप्त करते हैं के अलावा कंपनी के सभी प्रमुख और महत्वपूर्ण निर्णयों में वोट देने का अधिकार भी होता है। इक्विटी शेयरधारक कंपनी से बोनस के रूप में लाभांश भी प्राप्त कर सकते हैं। आमतौर पर ये बोनस उस कंपनी द्वारा दिए जाते हैं जो आर्थिक रूप से मजबूत होती है और जो लेखा (अकाउंटिंग) वर्ष में नियमित लाभ कमाती है।

इक्विटी शेयरों का वर्गीकरण

परिभाषा के आधार पर

  1. बोनस इक्विटी शेयर – यह मौजूदा शेयरधारकों को बोनस के रूप में जारी किए गए अतिरिक्त स्टॉक को संदर्भित करते है।
  2. राइट्स इक्विटी शेयर – यह मौजूदा शेयरधारकों को शेयर बाजार में व्यापार करने से पहले एक विशेष मूल्य और समय पर प्रदान किया गया एक नया शेयर है।
  3. स्वेट इक्विटी शेयर – यह कर्मचारियों को कंपनी के प्रति उनकी असाधारण सेवा के लिए दिए गए इनाम को संदर्भित करता है।

शेयर पूंजी के आधार पर

  1. अधिकृत (ऑथराइज्ड) शेयर पूंजी – प्रत्येक कंपनी को पूंजी की अधिकतम राशि निर्धारित करने की आवश्यकता होती है जिसे उसके मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन में इक्विटी शेयर जारी करके उठाया जा सकता है। इसे समय-समय पर बदला जा सकता है।
  2. जारी शेयर पूंजी – यह कंपनी के शेयर पूंजी के विशिष्ट हिस्से को संदर्भित करता है जो निवेशकों को इक्विटी शेयर जारी करने के माध्यम से पेश किया जाता है। उदाहरण के लिए, मान लें कि एक शेयर का मूल्य 100 है और कंपनी 10000 इक्विटी शेयर जारी करती है, तो जारी की गई शेयर पूंजी होगी 1 लाख।
  3. सब्सक्राइब्ड शेयर पूंजी – यह जारी की गई पूंजी का एक हिस्सा है जिस पर निवेशक आवेदन करते हैं और स्वीकार करने के लिए सहमत होते हैं।
  4. प्रदत्त पूंजी (पेड अप कैपिटल) – यह सब्स्क्राइब्ड शेयर पूंजी के उस हिस्से को संदर्भित करती है जिसका निवेशकों ने भुगतान किया है। इनका भुगतान अलग-अलग कॉलों में किया जा सकता है, जैसे कि आवेदन आवंटन, पहली कॉल, दूसरी कॉल, अंतिम कॉल।

वरीयता शेयर

वरीयता शेयरों को पसंदीदा स्टॉक के रूप में भी जाना जाता है। ये शेयर इस प्रकार हैं जो इक्विटी शेयरधारकों पर लाभांश प्राप्त करने का वरीयता अधिकार देते हैं। निवेशकों को भुगतान करने का निर्णय लेते समय वरीयता हमेशा पहले शेयरधारकों को दी जाती है। ये शेयर कंपनी के लिए पूंजी प्राप्त करने के लिए जारी किए जाते हैं जिसे वरीयता शेयर पूंजी कहा जाता है। नुकसान के कारण किसी कंपनी के समापन के समय, वरीयता शेयरधारकों को इक्विटी शेयरधारकों से पहले भुगतान प्राप्त होता है।

वरीयता शेयरों के प्रकार

  1. संचयी (कम्यूलेटिव) वरीयता शेयर – इन शेयरों को इक्विटी शेयरधारकों को किए गए भुगतान से पहले लाभांश का बकाया प्राप्त करने का अधिकार है।
  2. गैर-संचयी (नॉन कम्यूलेटिव) वरीयता शेयर – इन शेयरों को लाभांश से बकाया राशि प्राप्त करने का अधिकार नहीं है।
  3. भाग लेने वाले (पार्टिसिपेटिंग) वरीयता शेयर – इक्विटी शेयरधारकों को लाभांश से किए गए भुगतान के बाद आर्टिकल ऑफ़ एसोसिएशन में उल्लिखित अनुसार, वरीयता शेयरधारक शेष लाभ में भाग ले सकते हैं।
  4. गैर भाग लेने वाले (नॉन पार्टिसिपेटिंग) वरीयता शेयर – ये वे वरीयता शेयर होते हैं जो शेष लाभ में भाग नहीं लेते हैं।
  5. परिवर्तनीय वरीयता शेयर – इन वरीयता शेयरों को इक्विटी शेयरों में परिवर्तित किया जा सकता है।
  6. गैर-परिवर्तनीय वरीयता शेयर – इन वरीयता शेयरों को इक्विटी शेयरों में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है।
  7. प्रतिदेय (रिडीमेबल) वरीयता शेयर – इन वरीयता शेयरों को कंपनी द्वारा एक विशेष समय पर प्रतिदेय किया जा सकता है जो पुनर्भुगतान जारी करने की तारीख से 20 वर्ष से अधिक नहीं हो सकता है।
  8. गैर प्रतिदेय (नॉन रिडीमेबल) वरीयता शेयर – कंपनी के समापन के समय संबंधित धारकों द्वारा प्राप्त राशि को गैर प्रतिदेय वरीयता शेयर के रूप में जाना जाता है।

वरीयता शेयरों और इक्विटी शेयरों के बीच अंतर

कंपनी अधिनियम, 2013 के अनुसार भारत में कंपनियों के पास गैर प्रतिदेय वरीयता शेयर जारी करने का कोई अधिकार नहीं है। उपर्युक्त प्रकार के शेयरों के आधार पर हम निम्नलिखित अंतरों पर पहुँचते हैं:

  1. इक्विटी शेयरधारक सह-मालिक होते हैं जिसके कारण वे कंपनी के प्रबंधन में भागीदारी के अधिकार का आनंद लेते हैं जबकि वरीयता शेयरधारकों को ऐसा कोई अधिकार नहीं दिया जाता है। दूसरे शब्दों में इक्विटी शेयरधारक स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करते हैं जबकि वरीयता शेयर लाभांश के भुगतान का प्रतिनिधित्व करते हैं।
  2. वरीयता शेयरधारकों को भुगतान किए जाने के बाद इक्विटी शेयरधारकों को लाभांश भुगतान प्राप्त होता है। वरीयता शेयरधारकों के पास लाभांश की निश्चित दर होती है जबकि इक्विटी शेयरधारकों के मामले में यह लाभ के आधार पर कम ज्यादा होता है।
  3. परिसमापन (लिक्विडेशन) के समय इक्विटी शेयरधारक पूंजी पुनर्भुगतान प्राप्त करने वाले अंतिम होते हैं जबकि वरीयता शेयरधारक इसे इक्विटी शेयरधारकों से पहले प्राप्त करते हैं।
  4. इक्विटी शेयरों को वरीयता शेयरों में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है जबकि वरीयता शेयरों को इक्विटी शेयरों में परिवर्तित किया जा सकता है।
  5. इक्विटी शेयरधारकों को वोट देने का अधिकार है और कंपनी की निर्णय लेने की प्रक्रिया का हिस्सा है जबकि वरीयता शेयरधारकों के पास ऐसा अधिकार नहीं है क्योंकि वे कंपनी के बाहरी व्यक्ति हैं और कंपनी की संपत्ति पर उनका कोई दावा नहीं होता है।
  6. इक्विटी लाभांश का भुगतान वैकल्पिक है जबकि वरीयता लाभांश का भुगतान अनिवार्य है।
  7. दीर्घकालिक निवेश वित्तपोषण के लिए इक्विटी शेयरों को सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है जबकि वरीयता शेयर वित्तपोषण अल्प और मध्यम अवधि के लिए निवेश का सबसे अच्छा तरीका है।
  8. बड़े जोखिम की इच्छा रखने वाले निवेशकों को इक्विटी शेयरों में निवेश करना चाहिए जबकि कम जोखिम की इच्छा रखने वाले निवेशक वरीयता शेयरों में निवेश कर सकते हैं।
  9. कंपनियों के लिए इक्विटी शेयर जारी करना जरूरी है जबकि वरीयता शेयरों के मामले में सभी कंपनियों के लिए वरीयता शेयर जारी करना अनिवार्य नहीं है।
  10. इक्विटी शेयरधारकों को बोनस स्टॉक मिलते हैं जबकि वरीयता वाले शेयरधारकों को बोनस स्टॉक नहीं मिलते हैं।
  11. इक्विटी स्टॉक गैर प्रतिदेय हैं जबकि वरीयता शेयरों को एक निश्चित समय पर या जब कंपनी अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेती है, तब प्रतिदेय किया जा सकता है।
  12. इक्विटी शेयरों के मामले में अधिक पूंजीकरण की संभावना अधिक होती है जबकि वरीयता शेयरों के मामले में अधिक पूंजीकरण की संभावना कम होती है।
  13. इक्विटी शेयर की लागत कम होने के कारण कोई भी छोटा निवेशक आसानी से उन तक पहुँच सकता है जबकि वरीयता शेयर की कीमतें अधिक होती हैं जिसके कारण केवल मध्यम से बड़े निवेशक ही इसकी पहुँच प्राप्त कर सकते हैं।

शेयरों में निवेश करते समय ध्यान रखने योग्य मुख्य बातें:

  • यदि उद्देश्य स्वामित्व प्राप्त करना है तो हमेशा एक इक्विटी शेयरधारक होना चाहिए क्योंकि उन्हें कंपनी के प्रमुख निर्णय में वोट देने का अधिकार है। वरीयता शेयरधारकों को उनके  वरीयता अधिकारों के कारण इक्विटी शेयरधारकों पर लाभांश की निश्चित राशि प्राप्त होती है। यह इक्विटी शेयरों की तुलना में अधिक सुरक्षित भी है।
  • ये दोनों बाजार में केवल एक बिंदु के अंतर के साथ सामान्य निवेश हैं यानी, इन दोनों शेयरों के अपने विशिष्ट वित्तीय लक्ष्य हैं जो उन्हें अलग-अलग निवेशकों द्वारा अनुशंसित बनाते हैं। शेयरों में निवेश करने से पहले समय क्षितिज (होरीजन) तय करने की जरूरत है क्योंकि यह तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है कि कौन से शेयरों को खरीदना है।
  • विभिन्न अनुपात हमें शेयरों में निवेश के मूल सिद्धांतों को समझने में मदद करते हैं, जैसे कि आय अनुपात, ऋण से इक्विटी अनुपात आदि। एक नए निवेशक को यह भी देखना चाहिए कि अन्य कंपनियों के शेयरों की तुलना में शेयरों ने कैसा प्रदर्शन किया है। लाभांश इतिहास भी यह तय करने का एक महत्वपूर्ण कारक है कि कौन से शेयरों को चुनना है। जो निवेशक उच्च स्तर की आय उत्पन्न करना चाहते हैं, उन्हें कंपनी के लाभांश घोषणा को देखना चाहिए जो कि प्रतिशत के रूप में व्यक्त किया गया है। उच्च स्तर की अस्थिरता वाले शेयर तेजी से बढ़ेंगे जब शेयर बाजार तेजी पर होगा जबकि वे रेत के महल की तरह (जल्दी) गिरेंगे जब बाजार इतना अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहा होगा, इसलिए बाजार की स्थिति के साथ-साथ स्टॉक की अस्थिरता को देखते हुए निवेश किया जाना चाहिए।

निष्कर्ष

किसी भी शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने से पहले उसकी पूरी जानकारी हासिल कर लेनी चाहिए। हालांकि वरीयता शेयरों और इक्विटी शेयरों के बीच अंतर के उल्लेखनीय बिंदु हैं। इस तथ्य की परवाह किए बिना कि ये शेयर आम जनता या निवेशकों के माध्यम से धन जुटाने के इच्छुक किसी भी कंपनी के लिए महत्वपूर्ण हैं। ऐसे निवेश बहुत अधिक जोखिम वाले होते हैं लेकिन साथ ही उनकी लाभप्रदता दर भी अधिक होती है, विशेष रूप से जब इक्विटी शेयरों में निवेश किया जाता है तो भत्ते और बोनस भी अधिक होते हैं। स्टॉक या शेयर खरीदने से पहले हमेशा याद रखने वाले सबसे महत्वपूर्ण बिंदुओं में से एक यह है कि उन्हें तब खरीदा जाना चाहिए जब बाजार मूल्य नीचे हो और शेयरों की कीमतें बढ़ने पर बेच दिया जाए। किसी भी निवेशक को हमेशा दीर्घकालिक निवेश के लिए किया जाना चाहिए क्योंकि शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव होता रहता है। इसलिए दीर्घकालिक निवेश में बेहतर लाभ हासिल किया जा सकता है। शेयर बाजार में निवेश करने के लिए अर्थव्यवस्था एक महत्वपूर्ण बैरोमीटर है क्योंकि शेयर अस्थिर होते हैं, कीमतों में आपूर्ति और मांग की आवश्यकता के अनुसार उतार-चढ़ाव होता है। इसके अलावा, कीमतों पर हावी होने वाला महत्वपूर्ण कारक कंपनी का नेटवर्थ है।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here