यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला एआईआर (2002)  

0
65

यह लेख  Clara D’costa द्वारा लिखा गया है। यह लेख यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला एआईआर (2012) के मामले पर विस्तार से चर्चा करता है, जिसमें उठाए गए मुद्दे, पक्षों के तर्क, निर्णय और फैसले के पीछे के तर्क शामिल हैं। लेख प्रथागत (कस्टमरी) तलाक देने के कानूनी प्रावधानों और अदालतें इसकी व्याख्या कैसे करती हैं, इसके बारे में भी बताता है। यह लेख प्रथागत तलाक की वैध आवश्यकताओं और हिंदू कानून के तहत प्रथागत तलाक प्राप्त करने की कानूनी प्रक्रियाओं के बारे में बात करता है। इसका अनुवाद Pradyumn Singh ने किया है। 

Table of Contents

परिचय

हिंदू कानून विवाह को उच्च सम्मान देता है और इसे एक पवित्र संस्कार मानता है।  हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 के अनुसार, तलाक विवाह का अंत है। यह कहा गया है कि समाज के हित के लिए, विवाह के संस्कार को कुछ प्रावधानों द्वारा संरक्षित किया जाएगा ताकि वैवाहिक संबंध की गंभीरता को बनाए रखा जा सके। तलाक की अनुमति केवल गंभीर मामलों में ही है जहां कोई अन्य विकल्प नहीं है। हिंदू कानून के तहत तलाक से संबंधित प्रावधान सबसे पहले हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 में स्थापित किए गए थे। 

इस बारे में हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 में कुछ नियम शामिल हैं, कि पति-पत्नी कब तलाक ले सकते हैं या अदालत में विवाह विच्छेद (डीसोल्यूशन) के लिए अपील कर सकते हैं। यामनाजी एच.जाधव बनाम निर्मला एआईआर (2012) मामले में अपनी पत्नी से तलाक चाहने वाले पति पर अपनी पत्नी को शारीरिक रूप से प्रताड़ित करने और तलाक के दस्तावेज पर धोखे से उसके हस्ताक्षर लेने का आरोप है।

हालांकि, यह मामला सत्र न्यायालय से लेकर उच्च न्यायालय और अंततः सर्वोच्च न्यायालय तक पहुँचा, जहाँ इसे वापस सत्र न्यायालय में भेज दिया गया। इस मामले का मुख्य कानूनी पहलू “प्रथागत तलाक” है जिसे सत्र न्यायालय ने इसकी वैधता की जांच किए बिना दे दिया था, इस प्रकार, सर्वोच्च न्यायालय ने मामले को नए सिरे से शुरू करने का आह्वान किया। आइए एक नजर डालते हैं कि इस मामले में क्या हुआ।

मामले का विवरण

  • मामला  का नाम: यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला एआईआर (2012)
  • पीठ: न्यायमूर्ति एन संतोष हेगड़े और न्यायमूर्ति दोरईस्वामी राजू 
  • मामले का प्रकार: सिविल अपील 
  • अपील संख्या: भारत के सर्वोच्च न्यायालय में 1998 का ​​4969।
  • फैसले की तारीख: 1 फरवरी, 2002
  • समतुल्य उद्धरण: एआईआर 2002 एससी 971, 2002 (2) एससीसी 637, 2002 एआईआर एससीडब्ल्यू 674  

  • पक्षों का नाम:
  1. याचिकाकर्ता: यामनाजी एच. जाधव 
  2. प्रत्यर्थी : निर्मला 

यमनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला की पृष्ठभूमि 

  • यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला एआईआर (2012) का कानूनी मामला जैसा कि एआईआर 2002 एससी 971 में प्रलेखित (डाक्यूमेन्टेड) है, इसमें पति और पत्नी के बीच एक विवाद शामिल है जिसे वर्ष 1998 में सर्वोच्च न्यायालय  के समक्ष लाया गया था। अपीलकर्ता यामनाजी एच.जाधव, और प्रत्यर्थी (रेस्पोंडेंट) निर्मला, इस कानूनी विवाद में शामिल प्रमुख व्यक्ति थे । 
  • सीमा शुल्क भारतीय कानून का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है, जिससे संबंधित समुदाय के प्रथागत तलाक के तहत तलाक की वैधता निर्धारित करने में इस निर्णय में सहायता मिलती है। अपीलकर्ता यमनाजी एच. जाधव ने न्याय और मामले के निष्पक्ष समाधान की मांग करते हुए इस मामले को सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष लाया। 
  • सत्र न्यायालय ने पति के पक्ष में फैसला सुनाया, लेकिन अपील पर, उच्च न्यायालय ने सत्र न्यायालय  के फैसले को उलट दिया, वादी यानी पत्नी के पक्ष में सहानुभूति और फैसला सुनाया।

यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला के तथ्य

  • सत्र  न्यायालय में प्रत्यर्थी-वादी ने कहा कि उनकी शादी 26 मई 1978 को हुई थी, जिसके बाद से वे पति-पत्नी के रूप में एक साथ रह रहे थे। प्रत्यर्थी-वादी ने कहा कि उसके पति द्वारा उसके साथ लगातार दुर्व्यवहार किया गया, जिससे उसके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ा।
  • इसके परिणामस्वरूप उन्हें शारीरिक और मानसिक आघात के इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। प्रत्यर्थी-वादी द्वारा यह कहा गया था कि, एक समय पर, प्रत्यर्थी  की ओर से दिए जा रहे कष्टों को सहन करने में असमर्थ हो गई थी जिससे अपीलकर्ता ने आत्महत्या का प्रयास किया था लेकिन उसके पड़ोसियों ने उसे बचा लिया था।
  • अपीलकर्ता-प्रतिवादी , यमानाजी एच. जाधव ने वर्ष 1979 में तलाक के लिए एक वैवाहिक मुकदमा दायर किया था, जिसके बाद समझौता हो गया। हालांकि, उनका रिश्ता खराब हो गया क्योंकि यामनाजी एच. जाधव लगातार अपनी पत्नी निर्मला से तलाक की मांग कर रहे थे। अंततः उसे उसके मायके भेज दिया गया, जिसके कारण उसे भरण-पोषण के लिए याचिका दायर करने के लिए मजबूर होना पड़ा। उसके पिता ने तब  दंड प्रक्रिया संहिता, 1973  की धारा 97  के तहत एक आवेदन दिया और उन्होंने दावा किया कि प्रत्यर्थी  ने उसे जबरन कैद कर लिया था।
  • इसके बाद उप-रजिस्ट्रार के कार्यालय में प्रत्यर्थी  को धमकी दी गई और उसे तलाक के दस्तावेज के बारे में उसकी जानकारी के बिना एक दस्तावेज पर हस्ताक्षर करने के लिए मजबूर किया गया। इसके अलावा, जब उसे पता चला कि दस्तावेज़ वास्तव में एक तलाकनामा है, तो अपीलकर्ता ने इसे रद्द करने के लिए प्रधान मुंसिफ, बीजापुर में मुकदमा दायर किया।

पूर्व कार्यवाही

  • इस अपील में अपीलकर्ता वर्ष 1982 के मूल वादपत्र  (प्लेन्ट) संख्या 156 में प्रधान मुंसिफ बीजापुर के समक्ष प्रत्यर्थी  था, जिसने 26 जून 1982 को निष्पादित तलाक विलेख को रद्द करने और घोषणा करने की मांग की थी कि यह जबरदस्ती और धमकी द्वारा प्राप्त किया गया था। इस अपील में प्रत्यर्थी , निर्मला ने तलाक के दस्तावेज को रद्द करने के लिए सत्र  न्यायालय  में मुकदमा दायर किया था और कहा था कि इसे यमनाजी एच. जाधव द्वारा धोखाधड़ी, धमकी और जबरदस्ती के तहत प्राप्त किया गया था।
  • प्रत्यर्थी-वादी, निर्मला ने तर्क दिया था कि अपीलकर्ता-प्रत्यर्थी  ने उनकी शादी के दौरान उनके साथ दुर्व्यवहार किया था और उन्हें अत्यधिक मानसिक और शारीरिक तनाव दिया था।
  • हालांकि, प्रत्यर्थी-वादी द्वारा दिए गए बयानों के विपरीत, अपीलकर्ता ने अपने लिखित बयान में कहा कि प्रत्यर्थी-वादी द्वारा लगाए गए आरोप झूठे थे। उन्होंने 26 मई, 1978 को प्रत्यर्थी-वादी से शादी करने की बात स्वीकार की, लेकिन वादी के साथ दुर्व्यवहार करने या उसे तलाक देने के लिए मजबूर करने से इनकार किया।
  • अपीलकर्ता-प्रत्यर्थी , यमानाजी एच. जाधव ने आगे कहा कि यह वादी ही थी जिसने वास्तव में उसे छोड़ दिया और उसे तलाक दे दिया और इसलिए, विचाराधीन तलाक विलेख को उसने अपनी स्वतंत्र इच्छा से निष्पादित किया था।
  • सत्र  न्यायालय ने निष्कर्ष निकाला कि वादी अपने आरोपों को स्थापित करने में विफल रही कि तलाक के दस्तावेज पर उसके हस्ताक्षर अनुचित प्रभाव और जबरदस्ती से प्राप्त किए गए थे और इस प्रकार, वादी-प्रत्यर्थी निर्मला द्वारा दायर मुकदमा खारिज कर दिया गया।
  • सत्र  न्यायालय  के निष्कर्षों की प्रथम अपीलीय अदालत ने भी पुष्टि की। इसके चलते उन्होंने सत्र न्यायालय  और प्रथम अपीलीय अदालत द्वारा मामले को खारिज करने को चुनौती देते हुए बॉम्बे उच्च न्यायालय में अपील दायर की। 
  • उच्च न्यायालय ने सत्र  न्यायालय  और प्रथम अपीलीय अदालत के फैसले को पलट दिया और एक अतिरिक्त निर्देश दिया कि जिला न्यायालय के न्यायाधीश अपीलकर्ता यामनाजी एच. जाधव के खिलाफ उपरोक्त निर्णय प्राप्त करने के तीन महीने के भीतर अपनी पत्नी के खिलाफ किए गए अपराध के लिए शिकायत दर्ज करेंगे। 
  • इसके बाद, यामनाजी एच. जाधव ने उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय में अपील दायर की।

यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला मामले में उठाए गए मुद्दे

दायर वादपत्र  के आधार पर, सत्र  न्यायालय  ने निम्नलिखित मुद्दे तय किए:

  1. क्या तलाक दिनांक 26 जून 1982 प्रतिवादी , यामनाजी एच. जाधव द्वारा अपीलकर्ता, निर्मला पर अनुचित प्रभाव और जबरदस्ती का परिणाम था?
  2. यदि विलेख अमान्य है, तो क्या यह रद्दीकरण के योग्य है?
  3. क्या निर्मला द्वारा अपनी अपील में भुगतान किया गया न्यायालय शुल्क उचित था?
  4. क्या सत्र  न्यायालय  के पास मामले की सुनवाई और मामले को न्यायिक रूप से चलाने का अधिकार क्षेत्र था?

मामले में पक्षों की दलीलें

अपीलकर्ता  

  • अपीलकर्ता के वकील, पी.आर.रामाशेष ने तर्क दिया कि उच्च न्यायालय इस संबंध में कानूनी तर्क किए बिना आए तथ्यों के निष्कर्षों में हस्तक्षेप करने में विफल रहा है। 
  • वकील  पी.आर.रामाशेष ने आगे कहा गया कि वास्तव में, यह प्रत्यर्थी ही थी, जिसने अपीलकर्ता को छोड़ दिया और अपनी इच्छा से उप-रजिस्ट्रार के कार्यालय में तलाकनामा निष्पादित किया।
  • उपर्युक्त आधारों के आधार पर, उच्च न्यायालय के फैसले को खारिज कर दिया जाना चाहिए क्योंकि इसका दृष्टिकोण ऐसे कारणों से पक्षपातपूर्ण है, जो न्यायिक जांच से परे हैं।

प्रत्यर्थी 

  • प्रत्यर्थी  के वकील  के.सारदा देवी ने तर्क दिया कि वादी जब तक प्रत्यर्थी के साथ रही, तब तक उसके साथ दुर्व्यवहार किया गया। 
  • वकील ने आगे तर्क दिया कि तलाक के दस्तावेज पर प्रतिवादी के हस्ताक्षर उप-रजिस्ट्रार के कार्यालय में जबरदस्ती और धोखाधड़ी के माध्यम से प्राप्त किए गए थे।
  • इस प्रकार, वकील  ने उच्च न्यायालय के निर्णय का समर्थन किया।

यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला मामले में शामिल कानून

हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 29(2) के तहत प्रथागत तलाक

प्रथाएं वे रीति-रिवाज हैं जिनका पालन किसी समुदाय, समूह या परिवार में लंबे समय तक लगातार और समान रूप से किया जाता है। किसी प्रथा के वैध होने के लिए, उसे राज्य के कानूनों के अनुरूप होना चाहिए और किसी भी सार्वजनिक नीति के विरुद्ध नहीं होना चाहिए। किसी विशिष्ट प्रथा के तहत प्राप्त तलाक को “प्रथागत तलाक”  कहा जाता है।

हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 29(2) में यह कहा गया है कि इस अधिनियम में कोई भी चीज किसी भी अधिकार को प्रभावित करने के लिए नहीं समझी जाएगी जो किसी प्रथा द्वारा मान्यता प्राप्त है या किसी अन्य विशेष कानून द्वारा हिंदू विवाह के विघटन को प्राप्त करने के लिए दी गई है, चाहे विवाह इस अधिनियम के लागू होने से पहले या बाद में हुआ हो। इस धारा के व्यावहारिक अनुप्रयोग के लिए कुछ आवश्यकताएं हैं, वे निम्नलिखित हैं:

  1. विवाह को उन संस्कारों और अनुष्ठानों के अनुसार संपन्न किया जाना चाहिए जो इसमें शामिल पक्षों के समुदायों में प्रचलित हैं।
  2. विवाह पक्षों के समुदायों के पारंपरिक और सांस्कृतिक मानदंडों के अनुसार होना चाहिए, जिससे उनके महत्व पर बल दिया जा सके। उदाहरण के लिए, विवाह उन दो व्यक्तियों के बीच नहीं होना चाहिए जो “सपिंडा” संबंध के अंतर्गत आते हैं, अर्थात उनके अपने वंश में।

वर्तमान मामले में, सर्वोच्च न्यायालय  ने कहा कि सत्र  न्यायालय  विवाह करने वाले पक्षों से संबंधित समुदायों के प्रथागत रीति-रिवाजों के अनुसार विलेख की वैधता की जांच नहीं की। इसलिए, उन्होंने नीचे दिए गए फैसले में उल्लिखित सत्र न्यायालय  के आदेशों को रद्द कर दिया और उन्हें नए सिरे से मुकदमा शुरू करने का निर्देश दिया।

दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 97

  • इस धारा के अनुसार, जब किसी जिला मजिस्ट्रेट, उप-विभाग या प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट के पास यह विश्वास करने का कारण हो कि किसी व्यक्ति को ऐसी परिस्थितियों में कैद किया गया था जो आक्रामक प्रकृति की होगी, तो एक तलाशी वारंट जारी किया जाएगा।
  • जिन व्यक्तियों के खिलाफ वारंट जारी किया गया है या निर्देशित किया गया है, वे उन लोगों की तलाश कर सकते हैं जिन्हें कैद में रखा गया है। यदि व्यक्ति दोषी पाया जाता है, तो उसे तुरंत मजिस्ट्रेट के समक्ष ले जाया जाएगा, और न्यायालय उनके द्वारा देखी गई मामले की परिस्थितियों के अनुसार आदेश देगा। 

इस मामले में, प्रत्यर्थी-वादी के पिता ने दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 97 के तहत सत्र  न्यायालय  में एक आवेदन दायर किया था, जिसमें दावा किया गया था कि प्रत्यर्थी ने उसे जबरन बंधक बना लिया था। जिसमे  न्यायालय  से न्याय  की मांग की जा रही है।

मामले का फैसला

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों ने अपील स्वीकार कर ली और प्रधान मुंसिफ बीजापुर तथा उच्च न्यायालय के निर्णय को रद्द कर दिया। सर्वोच्च न्यायालय ने अपीलकर्ता, यामनाजी एच. जाधव और प्रत्यर्थी, निर्मला के समुदाय में प्रथागत तलाक के प्रावधानों की मौजूदगी के बारे में उपयुक्त मुद्दे तय करने और विचार करने के लिए मामले को सत्र न्यायालय को भेज दिया।

सत्र  न्यायालय  को कहा गया  कि उच्च न्यायालय के निष्कर्षों सहित किसी भी पिछले निष्कर्ष से प्रभावित हुए बिना सर्वोच्च न्यायालय  द्वारा तय किए गए नए मुद्दे पर निर्णय लेने के बाद पक्षों के मामले की सुनवाई नए सिरे से शुरू की जाए। इस प्रकार, सर्वोच्च न्यायालय  ने अपील की अनुमति दे दी और मामला कानून के अनुसार और अपील में की गई टिप्पणियों के आलोक में नए सिरे से सुनवाई के लिए सत्र न्यायालय को भेज दिया गया है।

इस फैसले के पीछे तर्क

इस मामले को तय करते समय, सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि सत्र न्यायालय गलत तरीके से इस आधार पर आगे बढ़ा कि पक्षों द्वारा जिस तलाक विलेख पर भरोसा किया गया था, वह कानून द्वारा मान्य थी। सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों ने कहा कि विवाह करने वाले पक्षों के समुदाय के तलाक के प्रथागत कानूनों के अनुसार विलेख को सत्य और वैध माना जाता था, लेकिन सत्र न्यायालय द्वारा इसकी जांच नहीं की गई थी।

इसके अलावा, सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों ने कहा कि तलाक को कभी भी हिंदू कानून के तहत विवाह को समाप्त करने के साधन के रूप में मान्यता नहीं दी गई थी, जिसे भारतीय अदालतों द्वारा प्रशासित किया गया था। विवाह को हमेशा एक धार्मिक संस्कार माना जाता है जो धर्म की भावनाओं के लिए महत्वपूर्ण है, यह एक अपवाद  है कि इसे किसी प्रथा द्वारा मान्यता दी जाती है। सार्वजनिक नीतियों, महान नैतिकता और समाज के हितों को यह माना जाता था कि किसी भी तरह से, तलाक केवल तभी दिया जाना चाहिए जब वह प्रावधानों में उल्लिखित प्रक्रियाओं और आधारों के अनुसार हो।     

अदालत ने आगे कहा कि, यदि किसी ऐसी प्रथा के तहत तलाक प्राप्त किया जाता है जो तलाक के सामान्य कानून का अपवाद है, तो उसे विशेष रूप से पक्षों द्वारा दलील दी जानी चाहिए और स्थापित किया जाना चाहिए। यदि यह अप्रमाणित रहता है, तो इसे सार्वजनिक नीति के तहत एक प्रथा के रूप में माना जा सकता है। इसलिए,सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि सत्र न्यायालय यह निर्धारित करने और एक मुद्दा बनाने के लिए बाध्य था कि क्या कोई दलीलें थीं जिनमें विशेष रूप से साक्ष्य शामिल थे, जो उस समुदाय में प्रथागत तलाक के अस्तित्व का दावा करते थे, जिससे पक्षकार संबंधित थे। वे यह निर्धारण करने के लिए भी जिम्मेदार थे कि क्या ऐसा प्रथागत तलाक और उससे जुड़े तरीके या औपचारिकताओं का अनुपालन वास्तव में मामले में अदालत की संतुष्टि के लिए स्थापित किया गया था 

वादी की दलीलों की समीक्षा करने पर, सर्वोच्च न्यायालय इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि तलाक की वैधता का दावा करने के लिए किसी भी पक्ष द्वारा कोई सबूत पेश नहीं किया गया था। यह दावा करने के लिए कोई दस्तावेज नहीं थे कि तलाक का विलेख उनके समुदाय में इस तरह के प्रथागत तलाक के प्रचलन पर आधारित था, जैसा कि कानून द्वारा आवश्यक है। इसके अलावा, प्रत्यर्थी  के इस दावे का समर्थन करने के लिए कोई सबूत पेश नहीं किया गया था कि उसकी सहमति अनुचित प्रभाव या दबाव के माध्यम से प्राप्त की गई थी। सर्वोच्च न्यायालय ने  पाया  कि पक्षों के वकीलों ने स्वयं सत्र न्यायालय में मौखिक रूप से सहमति व्यक्त की थी कि तलाक का विलेख वास्तव में पक्षों के समुदायों में प्रचलित प्रथागत तलाक के अनुसार था। 

इसलिए, सर्वोच्च न्यायालय की राय थी कि, जब तक अदालत में यह स्थापित नहीं हो जाता कि तलाक का दावा उन समुदायों के विशिष्ट प्रथा के तहत किया गया था, जिससे पक्ष संबंधित थे, तब तक वादपत्र या लिखित बयान में कितनी भी दलीलें तलाक के दस्तावेज को स्वीकार्य नहीं बनाएंगी। उन्होंने यह भी कहा कि पक्षों के वकील की ओर से सर्वसम्मति अदालत में काम की अनुमति देने का आधार नहीं है जब तक कि यह अदालत में दोनों पक्षों के समुदायों की प्रथा के तहत स्थापित नहीं हो जाता।

अदालत ने आगे कहा कि भले ही वादी ने सत्र न्यायालय में प्रथागत तलाक की वैधता पर सवाल नहीं उठाया, लेकिन यह उस अदालत की जिम्मेदारी है कि वह इस तलाक के प्रथागत तलाक न होने के परिणामों का विश्लेषण और और मान्यता जाचे । यह इसलिए है क्योंकि सहमति से तलाक को भी अदालत द्वारा मान्यता नहीं दी जाती है, जब तक कि कानून द्वारा विशेष रूप से इसकी अनुमति न हो।

यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला का विश्लेषण

जो इस मामले के कानून को अलग करता है वह उसकी अनोखी परिस्थितियाँ और निहितार्थ हैं। जहाँ दोनों पक्षों ने सम्मोहक तर्क प्रस्तुत किए, वहीं न्यायाधीशों ने सत्र न्यायालय द्वारा प्राप्त और दिए गए तलाक की वैधता पर एक जांच शुरू की। सर्वोच्च न्यायालय ने पैरवी की जाँच करते समय देखा कि सत्र न्यायालय  ने तलाक की पृष्ठभूमि और हिंदू कानूनों के अनुपालन की जांच नहीं की थी।

विवाह को हमेशा धर्म की भावनाओं के लिए महत्वपूर्ण एक धार्मिक संस्कार के रूप में माना जाता था, सिवाय इसके कि जब इसे किसी प्रथा द्वारा मान्यता प्राप्त हो। अन्य व्यक्तिगत कानूनों के विपरीत जो तलाक प्राप्त करने के लिए एक प्रक्रिया की गारंटी देते हैं, हिंदू कानून हिंदू विवाह अधिनियम के प्रावधानों में उल्लिखित आधारों के साथ-साथ प्रत्येक पक्ष के समुदायों में हुए प्रथागत तलाक पर निर्भर करता है। पक्षों और उनके कानूनी सलाहकारों के ध्यान में यह लाया गया कि हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 के तहत तलाक देते समय, जनता के हितों, समाज में आदर्शों और मूल्यों पर विचार किया जाना चाहिए।

जब तक अधिनियम में विशेष रूप से अनुमति न हो, तब तक तलाक नहीं दिया जा सकता। सर्वोच्च न्यायालय  ने कहा कि सत्र न्यायालय  यह निर्धारित करने के लिए जिम्मेदार था कि क्या उस समुदाय में प्रथागत तलाक के अस्तित्व का दावा करने वाले पक्ष ने उचित दलीलें दीं और क्या ऐसा प्रथागत तलाक और उससे जुड़े तरीके या औपचारिकताओं का अनुपालन वास्तव में मामले में अदालत की संतुष्टि के लिए स्थापित किया गया था। न्यायाधीशों ने यह भी कहा कि चूंकि प्रथागत तलाक, तलाक से संबंधित सामान्य कानूनों के खिलाफ अपवाद है, इसलिए प्रथा को विशेष रूप से पक्ष की दलीलों में उल्लेखित किया जाना चाहिए था। यदि जिस प्रथा पर पक्ष भरोसा कर रहे हैं, वह साबित नहीं होती है, तो उसे जनहित के खिलाफ जाने वाला कार्य माना जाएगा।

अदालत ने फैसला सुनाया कि क्योंकि प्रथा एक अपवाद है, इसलिए तलाक के सामान्य नियम को स्पष्ट रूप से दलील दी जानी चाहिए और प्रथागत तलाक विलेख की मांग करने वाले व्यक्ति द्वारा मजबूत सबूतों के साथ स्थापित किया जाना चाहिए। यद्यपि, इस निर्णय को तय करते समय पीठ ने किसी पूर्व कानूनी मामले का सहारा नहीं लिया, लेकिन यामनाजी एच.जाधव बनाम निर्मला (2002) का मामला कई मामलों के लिए एक मिसाल के रूप में काम आया।

ऐसे मामले जिनमें हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 29(2) लागू की गई थी

संजना कुमारी बनाम विजय कुमार (2023)

इस मामले में, अपीलकर्ता और उसके पति, प्रत्यर्थी, की शादी 2011 में हुई थी। प्रत्यर्थी ने अपनी दलीलों में दावा किया कि वर्ष 2014 में, पक्षों, अपीलकर्ता के माता-पिता, प्रत्यर्थी के पिता और ग्राम पंचायत के सदस्यों द्वारा एक प्रथागत तलाक विलेख पर हस्ताक्षर किए गए थे। बाद में वर्ष 2018 में, प्रत्यर्थी ने दूसरा विवाह कर लिया और अपीलकर्ता ने घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005 के तहत प्रत्यर्थी के खिलाफ कार्यवाही के लिए दायर किया। प्रत्यर्थी ने तलाक विलेख के समर्थन से आवेदन द्वारा इसका विरोध किया। हालांकि, न्यायिक मजिस्ट्रेट ने आवेदन को खारिज कर दिया और अपीलकर्ता को अंतरिम गुजारा भत्ता प्रदान किया।

प्रत्यर्थी ने आगे उच्च न्यायालय में अपील की, जिसने प्रत्यर्थी के पक्ष में फैसला सुनाया और न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश को रद्द कर दिया, जिससे प्रथागत तलाक को मान्य कर दिया गया। इससे अपीलकर्ता को सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष आगे अपील करने के लिए प्रेरित किया। सर्वोच्च न्यायालय ने अपील को आंशिक रूप से अनुमति दी और प्रथागत तलाक विलेख की वैधता की जांच के लिए मामले को वापस उच्च न्यायालय में भेज दिया। 

साथ ही, न्यायालय ने न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा दिए गए गुजारा भत्ता आदेश को बहाल कर दिया। न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता ने माना कि हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 29(2) द्वारा प्रदत्त शक्ति के तहत सिविल न्यायालय द्वारा प्रथागत तलाक दिया जा सकता है।

सुब्रमणि बनाम एम.चंद्रलेखा (2005)

इस  मामले , मे यह देखा गया कि दोनों पक्षों का विवाह कुछ वर्षों के लिए हुआ था जब तक कि सुब्रमणि ने पक्षों के समुदायों में अपनाई जाने वाली प्रथागत प्रथा के आधार पर तलाक की मांग नहीं की। हालांकि, न्यायालय ने पाया कि प्रथा की निश्चितता को मान्य करने और निर्धारित करने के लिए सुब्रमणि द्वारा कोई सबूत प्रस्तुत नहीं किया गया था।

पक्ष द्वारा उनकी दलीलों में कोई सबूत स्थापित नहीं किया गया था और इस प्रकार उन्हें असंगत पाया। इसलिए न्यायालय इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि प्रथा के तहत प्राप्त तलाक अमान्य था।

इस मामले में न्यायाधीशों ने प्रथागत तलाक की वैधता स्थापित करने के लिए स्पष्ट साक्ष्य की आवश्यकता पर जोर दिया और माना कि ऐसी प्रथा की व्यापकता पर जोर देने वाले पक्षों की जिम्मेदारी है कि वे अपनी दलीलों में विशेष रूप से इसकी वकालत करें और इसे स्थापित करें।

निष्कर्ष 

यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला एआईआर 2002 एससी 971 के मामले ने इस बात को रेखांकित किया कि जिन धाराओं के तहत पक्षों के दावों को रखा गया है, उनके अनुसार उनके तथ्यों की वैधता की जांच करना महत्वपूर्ण है। इसने उस समुदाय के प्रथागत रीति-रिवाजों को स्थापित करने के महत्व पर बल दिया जिससे पक्ष संबंधित है। वर्तमान मामले में, पक्ष ने अपने किसी भी दावे में, चाहे वह वादपत्र या लिखित बयान में हो, उस प्रथागत रीति-रिवाज को निर्दिष्ट नहीं किया, जिसका पालन उनके समुदायों में इस तरह के तलाक की अनुमति देता है।

सर्वोच्च न्यायालय  ने सबसे पहले इस बात पर प्रकाश डाला कि हिंदू कानून परंपरागत रूप से तलाक को मान्यता नहीं देता है और विवाह को एक ऐसा संस्कार मानता है जो अटूट है। जबकि अपीलकर्ता ने प्रथागत प्रथा के तहत तलाक की गुहार लगाई, लेकिन वह सत्र  न्यायालय में पर्याप्त सबूतों के साथ अपने दावे का समर्थन करने में विफल रहा। 

इसलिए, सर्वोच्च न्यायालय ने सत्र न्यायालय के साथ-साथ उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए फैसलों को रद्द कर दिया और सत्र  न्यायालय को मामले को नए सिरे से शुरू करने का निर्देश दिया। सत्र  न्यायालय  को नए मुद्दे तैयार करने का निर्देश दिया गया था जो कथित प्रथागत तलाक की वैधता के आसपास केंद्रित थे और पक्षों को अपने दावों के लिए अतिरिक्त सबूत प्रस्तुत करने की अनुमति दी गई थी।

इस मामले का फैसला, भविष्य के विवादों के लिए एक मिसाल के रूप में कार्य करता है, जिसमें पर्याप्त सबूतों द्वारा समर्थित पारंपरिक प्रथाओं को साबित करने के महत्व पर जोर दिया गया है और इसका अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए सत्र न्यायालय में न्यायपालिका की भूमिका को भी निर्देशित किया गया है। इसने इस सिद्धांत को भी सुदृढ़ (रिजिड) किया कि तलाक जहां सहमति मायने रखती है, वहां सिद्धांतों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए।

इस प्रकार, इस मामले ने वास्तव में व्यक्तियों की रक्षा की और न्यायपालिका की ओर से निष्पक्ष न्याय सुनिश्चित किया।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

प्रथागत तलाक क्या है?

“प्रथागत तलाक” शब्द का कानून में व्यापक रूप से उपयोग नहीं किया जाता है, और तलाक कानून एक क्षेत्राधिकार से दूसरे क्षेत्राधिकार में काफी भिन्न हो सकते हैं। ये उन प्रक्रियाओं और प्रथाओं से अलग हैं जो किसी विशेष सामाजिक या सख्त समायोजन  के भीतर मानक या प्रथागत रीति रिवाजों के अनुसार हैं। 

कुछ संस्कृतियों या धार्मिक समुदायों में तलाक को राज्य के नागरिक कानूनों के बजाय पारंपरिक या प्रथागत कानूनों द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। इन मानक पृथक्करण प्रथाओं में स्पष्ट रीति-रिवाज, कार्यप्रणाली या पूर्वापेक्षाएँ शामिल हो सकती हैं जो हिंदू कानून के तहत प्रावधानों के विपरीत हैं।

यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला (2002) मामले में न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति दीपांकर द्वारा यह देखा गया कि एक सिविल न्यायालय हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 29(2) द्वारा दिए गए प्रावधान के तहत प्रथागत तलाक दे सकता है।

क्या कोई हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 के तहत तलाक मांग सकता है?

तलाक अनिवार्य रूप से हिंदू कानून का हिस्सा नहीं था क्योंकि यह माना जाता था कि वैवाहिक संबंध अविभाज्य है। हालांकि, बदलते समाज और परिस्थितियों के कारण, तलाक के लिए कुछ आधार बताए गए हैं। हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 13 तलाक दोष सिद्धांत की अवधारणा पर आधारित है, जहां पीड़ित पति-पत्नी में से कोई एक उक्त अधिनियम की धारा 13 के तहत अदालत का दरवाजा खटखटा सकता है। इसकी अनुमति केवल समाज के हित में किसी गंभीर कारण से ही दी जाती है।

यामनाजी एच. जाधव बनाम निर्मला (2002), मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि सत्र  न्यायालय  हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 के तहत तलाक की वैधता की जांच करने में विफल रहा और मुकदमा आगे बढ़ाया। इस प्रकार, न्यायालय ने तलाक विलेख और उसकी वैधता की जांच के लिए मामले को सत्र न्यायालय  में वापस भेजने का निर्देश दिया। 

हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 के अनुसार तलाक के लिए आधार क्या है?

हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 13(1) के अनुसार तलाक के आधार निम्नलिखित हैं: 

  1. व्यभिचार (एडल्टरी)
  2. क्रूरता
  3. परित्याग
  4. परिवर्तन
  5. मन की अस्वस्थता
  6. कुष्ठ रोग (लेप्रोसी) 
  7. गुप्त रोग (वेनेरियल डिसीज)
  8. त्याग
  9. मृत्यु का अनुमान

इनके अलावा, हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 13(2) में तलाक के लिए केवल पत्नी के लिए निम्नलिखित आधार उपलब्ध हैं: 

  1. पति द्वारा द्विविवाह;
  2. पति द्वारा किया गया बलात्कार, अप्राकृतिक यौनाचार या पाशविकता (बेस्टीलिटी) का कार्य;
  3. भरण-पोषण की डिक्री पारित होने के बाद एक वर्ष से अधिक की अवधि तक पति-पत्नी के बीच कोई सहवास (कोहैबिटेशन) नहीं;
  4. पत्नी के 15 वर्ष की आयु प्राप्त करने से पहले विवाह संपन्न हो गया था, फिर वह विवाह से इनकार कर सकती है।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here