उपनिधान का अनुबंध क्या है

0
135
Indian Contract Act

यह लेख एमिटी लॉ स्कूल दिल्ली के कानून के छात्र Rishabh Soni द्वारा लिखा गया है। इस लेख में उन्होंने उपनिधान (बेलमेंट) और गिरवी (प्लेज) के अनुबंध पर चर्चा की है। इस लेख का अनुवाद Shubhya Paliwal द्वारा किया गया है।

Table of Contents

उपनिधान क्या है?

भारतीय संविदा अधिनियम 1872 की धारा 148 में परिभाषित उपनिधान के अनुसार इस अनुबंध पर कि विशिष्ट उद्देश्य पूरा होने पर इन सामानों को वापस कर दिया जाएगा, कुछ विशिष्ट उद्देश्य के लिए एक व्यक्ति द्वारा दूसरे को माल की सुपुर्दगी (डिलीवरी) करना है। उदाहरण के लिए, A द्वारा सर्विस सेंटर पर सर्विस के लिए अपनी कार की सुपुर्दगी देना उपनिधान का एक उदाहरण है। माल की सुपुर्दगी करने वाले व्यक्ति को उपनिहिती (बेली)  के रूप में जाना जाता है और जिस व्यक्ति को माल की सुपुर्दगी की जाती है उसे उपनिधाता (बेलर) के रूप में जाना जाता है। हालांकि, अगर मालिक माल पर नियंत्रण बनाए रखना जारी रखता है, तो फिर वह कोई उपनिधान नहीं है।

चित्रण (इलस्ट्रेशन) यदि A अपनी कार अपने पड़ोसी B को 10 दिनों के लिए देता है, लेकिन उसी समय वह एक चाबी अपने पास रखता है और 10 दिनों की इस अवधि के दौरान वह कार ले जाता है। अब यह उपनिधान का मामला नहीं होगा क्योंकि उपनिधान की गई संपत्ति पर A नियंत्रण रखता था।

उपनिधान के अनुबंध की अनिवार्यता 

  1. एक वैध अनुबंध का अस्तित्व: – एक वैध अनुबंध का अस्तित्व उपनिधान में एक प्रमुख शर्त है जिसका अर्थ है कि उद्देश्य पूरा होने पर माल वापस किया जाना चाहिए। खोए हुए सामान को खोजने वाले को भी उपनिहिती के रूप में जाना जाता है, हालांकि उसके और वास्तविक मालिक के बीच कोई मौजूदा अनुबंध नहीं होता है।
  2. माल की अस्थायी (टेंपरेरी) सुपुर्दगी: – उपनिधान की पूरी अवधारणा इस तथ्य के इर्द-गिर्द घूमती है कि माल की सुपुर्दगी अस्थायी अवधि के लिए ही की जाती है और इसमें उपनिहिती का स्थायी कब्जा नहीं हो सकता। माल की सुपुर्दगी वास्तविक सुपुर्दगी के माध्यम से या रचनात्मक (कंस्ट्रक्टिव) सुपुर्दगी के माध्यम से की जा सकती है जिसका अर्थ है कि ऐसा कुछ करना जिससे माल को उपनिहिती या उसके द्वारा अधिकृत (ऑथराइज्ड) किसी अन्य व्यक्ति के कब्जे में रखने का प्रभाव पड़ता है। 
  3. विशिष्ट माल की वापसी: – जिस उद्देश्य के लिए इसे लिया गया था उस उद्देश्य के पूरा होने पर, उपनिहिती माल को वापस करने के लिए बाध्य है। अगर व्यक्ति सामान वापस नहीं करता है तो यह उपनिधान नहीं होगा।

उपनिधान के प्रकार 

  1. निक्षेप (डिपॉजिट):- यह किसी विशेष उपयोग के लिए एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को माल का उपनिधान है।

उदाहरण के लिए, A अपना कंप्यूटर B को 7 दिनों के लिए देता है, यह निक्षेप का मामला होगा।

2. किराया (हायर): – इसमें किराए के लिए उपनिहिती को दिया गया सामान शामिल है।

उदाहरण के लिए, A अपनी कार B को 7 दिनों के लिए 700 रूपये प्रति दिन के किराए पर देता है। यह किराये का मामला होगा।

3. गिरवी :- जब उधार ली गई धनराशि के लिए प्रतिभूति (सिक्योरिटी) के रूप में किसी अन्य व्यक्ति को माल की सुपुर्दगी की जाती है।

उदाहरण के लिए, A बैंक से ऋण लेता है और अपने घर के कागजात बैंक के पास उपनिधान के रूप में रखता है, यह गिरवी का मामला होगा।

एक उपनिधाता के कर्तव्य और दायित्व

  1. उपनिहिती को उपनिधानी माल में दोष,  प्रकट करने के लिए उपनिधाता बाध्य है। जिस दोष को वह जानता है और यदि वह उसका खुलासा नहीं करता है, तो वह सीधे तौर पर ऐसे दोषों से होने वाली क्षति के लिए जिम्मेदार होता है।

चित्रण :-  A यह जानते हुए कि कार के ब्रेक खराब हैं, B को कार देता है। अब अगर कोई दुर्घटना होती है तो उसके लिए A जिम्मेदार होगा।

2. किसी भी नुकसान के लिए उपनिधाता भी उपनिहिती के प्रति जिम्मेदार होता है जो इस तथ्य के कारण हो सकता है कि उपनिधाता निम्न व्याख्या करने का हकदार नहीं था।

  • उपनिधान कराने के लिए, 
  • माल प्राप्त करने के लिए, 
  • उनके संबंध में धारा 164 के निर्देश देने के लिए।
  1. उपनिहिती की क्षतिपूर्ति (इनडेमनीफाय) करने का कर्तव्य :- जहाँ उसे उपनिधान की अवधि समाप्त होने से पहले माल वापस करने के लिए विवश किया गया था उस मामले में उपनिधाता, उपनिहिती द्वारा सहन की गई हानि की भरपाई करने के लिए बाध्य है।
  2. माल वापस लेने का कर्तव्य :- उपनिधाता समझौते की शर्तों के अनुसार उपनिहिती द्वारा लौटाए जाने पर माल को स्वीकार करने के लिए बाध्य है। यदि वह बिना किसी आधार के उचित समय पर इसे स्वीकार करने से इंकार करता है तो वह माल को होने वाली किसी भी हानि के लिए उत्तरदायी होगा।

उपनिहिती के अधिकार

ग्रहणाधिकार (लीन)

  • विशेष ग्रहणाधिकार 

भारतीय संविदा अधिनियम 1872 की धारा 170 में ग्रहणाधिकार मूल रूप से एक व्यक्ति द्वारा संपत्ति को तब तक बनाए रखने का अधिकार है जब तक कि कुछ मांगें पूरी नहीं हो जातीं। इसमें वे चीजें शामिल हैं, जो उसके कब्जे में है और किसी दूसरे से संबंधित है, और जहां उपनिहिती ने उपनिधान के उद्देश्य के अनुसार, उपनिधानी माल के संबंध में श्रम या कौशल (स्किल) के प्रयोग से संबंधित कोई सेवा प्रदान की है।

चित्रण : यदि A एक दर्जी को सूट सिलने के लिए कपड़े का एक टुकड़ा देता है। टेलर सूट को तब तक अपने पास रखने का हकदार है जब तक कि A उसे सिलाई की लागत के लिए भुगतान नहीं करता है।

इस विशेष ग्रहणाधिकार का प्रयोग करने के लिए निम्नलिखित कारकों पर विचार किया जाना चाहिए:

  1. उपनिहिती को श्रम या कौशल से संबंधित कुछ सेवा प्रदान करनी चाहिए।
  2. सेवा उपनिधान के उद्देश्य के अनुसार होनी चाहिए।
  3. यह सेवा उपनिधानी वस्तु के संबंध में होनी चाहिए।
  4. इसके विपरीत कोई अनुबंध नहीं होना चाहिए।
  • सामान्य ग्रहणाधिकार

भारतीय संविदा अधिनियम 1872 की धारा 171 सामान्य ग्रहणाधिकार से संबंधित है। एक सामान्य ग्रहणाधिकार खातों के सामान्य संतुलन के लिए दूसरे की संपत्ति को बनाए रखने का अधिकार है। यह माल रखने वाले व्यक्ति को उन्हें तब तक अपने पास रखने का अधिकार देता है जब तक कि माल के मालिक के खिलाफ कब्जे वाले व्यक्ति के सभी दावे या खाते संतुष्ट नहीं हो जाते।

सामान्य ग्रहणाधिकार का एक उदाहरण बैंकर हो सकता है जो माल को तब तक अपने पास रखने का हकदार है जब तक कि व्यक्ति बैंक के साथ अपने ऋण को पूरा नहीं कर देता है।

माल के गलत वंचन (डेप्रिवेशन) या क्षति के विरुद्ध अधिकार 

धारा 180-181 के अनुसार यदि उपनिधाता से प्राप्त माल के संबंध में हानि होती है तो उपनिहिती के पास एक निश्चित अधिकार होता है। इसके अलावा, यदि कोई तीसरा व्यक्ति गलत तरीके से उपनिहिती को उपनिधानी माल के उपयोग या कब्जे से वंचित करता है तो वह ऐसे उपायों का हकदार है जो ऐसी स्थिति में मालिक के पास होते हैं।

उपनिहिती के दायित्व

उपनिहिती द्वारा बरती जाने वाली सावधानी 

धारा 151 और 152 के अनुसार उपनिहिती अपने पास रखे गए सामान की उतनी ही देखभाल करने के लिए बाध्य है जितनी सामान्य विवेक का व्यक्ति समान परिस्थितियों में करेगा और इसलिए यदि उसने अच्छे से ध्यान रखा है तो वह उपनिधानी वस्तु के किसी भी नुकसान, विनाश या गिरावट के लिए उत्तरदायी नहीं होगा। कलकत्ता क्रेडिट कॉर्पोरेशन लिमिटेड बनाम ग्रीस के प्रिंस पीटर के मामले में, कलकत्ता उच्च न्यायालय द्वारा यह आयोजित किया गया था कि प्रतिवादी ने वादी की कार को जलने से रोकने के लिए उचित देखभाल नहीं की थी।

उपनिधानी माल को वापस करने के लिए उपनिहिती का कर्तव्य

धारा 160 और 161 के अनुसार उपनिहिती का यह कर्तव्य है कि जिस समय के लिए माल उपनिधान में किया गया था, उसकी अवधि समाप्त होते ही वह उपनिधाता के निर्देशानुसार माल लौटा दे या सुपुर्द कर दे।

उपनिधानी माल से बढ़े हुए लाभ को उपनिधाता को देने का उपनिहिती का कर्तव्य

किसी समझौते के अभाव में, उपनिहिती उपनिधाता को लाभ में किसी भी वृद्धि या उपनिधानी माल से अर्जित किसी भी लाभ को देने के लिए बाध्य है (धारा 161)। स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक बनाम कस्टोडियन, के मामले में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा यह आयोजित किया गया था कि यदि शेयर और डिबेंचर गिरवी रखे जाते हैं, तो बोनस शेयर और लाभांश (डिविडेंड) को भी इसका हिस्सा माना जाता है।

गिरवी धारा 172-179

ऋण के भुगतान या किसी वादे के प्रदर्शन (परफॉर्मेंस) के लिए सुरक्षा के रूप में माल के उपनिधान को गिरवी कहा जाता है। गिरवी के मामले में उपनिधाता को पणयमकर (पॉनर) और उपनिहिती को पणयमदार (पॉनी) के रूप में जाना जाता है।

उपनिधान के रूप में गिरवी बहुत सामान्य है, लेकिन गिरवी की विशेषता यह है कि ऋण या वादे के लिए सुरक्षा के रूप में माल की सुपुर्दगी होती है।

उदाहरण के लिए, यदि A दिए गए ऋण के लिए उपनिधान के रूप में Y बैंक को अपनी कार के कागजात सौंपता है, तो यह गिरवी का मामला है। गिरवी का सबसे महत्वपूर्ण तत्व गिरवी रखे गए सामानों की वास्तविक या रचनात्मक सुपुर्दगी है।

गिरवी की अनिवार्यता

  • माल/शीर्षक की सुपुर्दगी

गिरवी, उपनिधान की तरह है और इसमें पणयमकर से पणयमदार को माल की सुपुर्दगी भी शामिल है। माल की सुपुर्दगी से कब्जे की सुपुर्दगी भी होती है। उदाहरण के लिए, सुपुर्दगी में ऋण लेने के लिए बैंक को दस्तावेज़ स्थानांतरित (ट्रांसफर) करना शामिल है तो इस लेन-देन में माल की सुपुर्दगी भी शामिल होगी। मोरवी मर्केंटाइल बैंक बनाम भारत संघ

  • गिरवी में रखने का उद्देश्य हमेशा ऋण के भुगतान के लिए सुरक्षा होता है

जिस उद्देश्य के लिए वस्तुओं को उपनिधान में दिया जाता है वह यह है कि उपनिधानी वस्तुओं को ऋण के भुगतान या मूल्य के प्रदर्शन के लिए सुरक्षा के रूप में काम करना चाहिए। जब माल गिरवी रखा जाता है, तो पणयमदार एक सुरक्षित लेनदार बन जाता है।

गिरवी करने के हकदार व्यक्ति

सामान्य मामलों में माल को मालिक या उसके द्वारा अधिकृत व्यक्ति द्वारा गिरवी रखा जा सकता है, लेकिन कुछ असाधारण मामलों में, एक व्यक्ति जो न तो मालिक है और न ही गिरवी रखे गए सामान के मालिक के द्वारा अधिकृत होता है, लेकिन मालिक की सहमति से कब्जा होने पर वह सामान गिरवी रख सकता है। इसमें निम्नलिखित अपवाद हैं

  1. व्यापारिक एजेंट द्वारा गिरवी धारा 178
  2. एक व्यक्ति द्वारा कब्जे के तहत एक शून्यकरणीय (वॉयडेबल) अनुबंध द्वारा गिरवी धारा 178 A,
  3. बिक्री के बाद कब्जे में विक्रेता द्वारा गिरवी माल विक्रय अधिनियम की धारा 30(1),
  4. बिक्री के बाद कब्जे में खरीदार द्वारा गिरवी, माल विक्रय अधिनियम की धारा 30(2)

पणयमदार  के अधिकार

  1. गिरवी रखे गए सामान रखने का अधिकार धारा 173 और 174
  2. पणयमदार द्वारा किए गए असाधारण खर्चों की वसूली का अधिकार धारा 175
  3. ऋण प्राप्त करने और गिरवी रखे गए माल की बिक्री के लिए वाद (सूट) का अधिकार धारा 176

एक और महत्वपूर्ण परिदृश्य उत्पन्न हो सकता है यदि गिरवी रखा सामान खो जाता है या गिरवी रखने वाले की गलती के कारण क्षतिग्रस्त हो जाता है, उदाहरण के लिए, वह सामान की उचित देखभाल करने में विफल रहता है, तो वह उस हद तक गिरवी रखने वाले के खिलाफ अपना दावा खो देगा। उदाहरण के लिए, यदि A, B से 5,00,000 रुपये का ऋण लेता है और B को 5 वर्ष की अवधि के लिए अपनी 2,00,000 रुपये की कार देता है। अब इस समय अवधि के दौरान यदि कार को कोई नुकसान होता है तो B उसके लिए उत्तरदायी होगा और वह इस शर्त के आधार पर अपने पैसे वापस पाने का हकदार होगा।

निष्कर्ष

अब उपनिधान और गिरवी के प्रावधानों का विस्तार से विश्लेषण करने के बाद हमने देखा कि उपनिधान की अवधारणा में एक विशिष्ट उद्देश्य के लिए माल को दूसरे को सौंपना शामिल है जबकि गिरवी में भी माल स्थानांतरित किया जाता है, लेकिन किसी विशिष्ट उद्देश्य को पूरा करने के लिए नहीं बल्कि उन्हें ऋण की वापसी के लिए सुरक्षा के रूप में रखने के लिए है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here