विबंधन द्वारा भागीदारी

0
161
Indian Contract Act

यह लेख Samiksha Madan द्वारा लिखा गया है, जो सिम्बायोसिस लॉ स्कूल, हैदराबाद की कानून की छात्रा हैं। यह लेख विबंधन (एस्टॉपल) की अवधारणा की जांच करता है और विबंधन द्वारा बने भागीदार के दायित्व से संबंधित विभिन्न प्रावधानों की पुष्टि करता है। इस लेख का अनुवाद Shubhya Paliwal द्वारा किया गया है। 

Table of Contents

परिचय

सर एडवर्ड कोक के अनुसार, विबंधन वह है, “जहां एक व्यक्ति का अपना कार्य या स्वीकृति उसे सच्चाई का आरोप लगाने या उसकी वकालत करने के लिए रोक देती है।” पिकार्ड बनाम सियर्स (1837) ने विबंधन के सिद्धांत की स्थापना की, जो अच्छे विवेक (कॉनसाइंस) और इक्विटी के मूल्यों पर आधारित है। इसके अलावा, यह ईमानदारी और सदभाव को प्रोत्साहित करके धोखाधड़ी को रोकने और न्याय को बनाए रखने का प्रयास करता है। इस मामले में निर्धारित किया गया कि जब एक व्यक्ति ने, शब्दों से, या अपने आचरण से, जानबूझकर किसी दूसरे व्यक्ति को कुछ तथ्यों के अस्तित्व (एक्सिस्टेंस) पर विश्वास करने के लिए प्रेरित किया, और उसे उस विश्वास के अनुसार कार्य करने के लिए प्रेरित किया ताकि वह अपनी पिछली स्थिति को बदल सके, तो ऐसे व्यक्ति को मौजूदा चीजों के विपरीत चीजों की एक अलग स्थिति देने से प्रतिबंधित किया जाता है। विबंधन द्वारा भागीदार का अर्थ ऐसे भागीदार से है जिसने एक व्यक्त (एक्सप्रेस) या निहित (इंप्लाइड) रूप से एक व्यवसायिक संघ (फर्म) के भागीदार होने के रूप में खुद को गलत तरीके से प्रस्तुत किया है और बाद में उसे अन्यथा कहने से रोक दिया गया है। इसलिए, एक समय में पूर्व द्वारा किए गए प्रतिनिधत्व (रिप्रेजेंटेशंस) के आधार पर किसी तीसरे व्यक्ति द्वारा किए गए किसी भी कार्य के लिए विबंधन द्वारा एक भागीदार को उत्तरदायी ठहराने के पीछे तर्क यह है कि उसे अपनी पिछली स्थिति का खंडन करने से रोकना है जो कि सच माना जाता था।

यह लेख मुख्य रूप से यह समझाने का प्रयास करता है कि विबंधन द्वारा भागीदार कौन होता है और इसे विनियमित (रेगुलेट) करने के लिए कानून द्वारा क्या क्या विभिन्न प्रावधान और दायित्व प्रदान किए गए हैं।

भागीदार के सामान्य प्रकार

सक्रिय / प्रबंध भागीदार

एक सक्रिय भागीदार मुख्य रूप से प्रतिदिन के कारोबार में भाग लेता है और व्यवसायिक संघ के संचालन और प्रबंधन में सक्रिय भागीदारी भी करता है। वह अन्य भागीदारों की ओर से दैनिक व्यावसायिक गतिविधियों को करता है। वह संघ के मामलों के प्रबंधक, सलाहकार, आयोजक और नियंत्रक जैसी विभिन्न क्षमताओं में कार्य कर सकता है।

यदि वह अपनी सेवानिवृत्ति की घोषणा करते हुए सार्वजनिक नोटिस जारी नहीं करता है, तो उसे सेवानिवृत्ति के बाद अन्य भागीदारों द्वारा किए गए कार्यों के लिए उत्तरदायी ठहराया जाएगा।

निष्क्रिय भागीदार

सोते हुए मतलब कि “निष्क्रिय भागीदार”, यह भागीदार व्यवसायिक संघ के दिन-प्रतिदिन के कामकाज में भाग नहीं लेता है। एक व्यक्ति जिसके पास पर्याप्त धन या संघ में रुचि है, लेकिन वह अपना समय व्यवसाय के लिए समर्पित नहीं कर सकता है, वह निष्क्रिय भागीदार बन सकता है। हालांकि, वह अन्य भागीदारों के सभी कार्यों के लिए उत्तरदायी माना जाता है।

नाममात्र के भागीदार 

नाममात्र के भागीदार की भागीदारी व्यवसायिक संघ में कोई वास्तविक या महत्वपूर्ण रुचि नहीं है। सरल शब्दों में, वह केवल संघ को अपना नाम उधार दे रहा है और व्यवसायिक संघ के प्रबंधन में उसका कोई दायित्व नहीं होता। ऐसे भागीदार के नाम के बल पर, संघ बाजार में अपनी बिक्री को बढ़ावा दे सकता है या बाजार से अधिक ऋण प्राप्त कर सकता है।

उदाहरण के लिए: सेलिब्रिटी या एक बिजनेस टाइकून के बीच एक भागीदारी को संघ के अतिरिक्त मूल्य के लिए और व्यक्ति की प्रसिद्धि और सद्भावना का उपयोग करके ब्रांडिंग को बढ़ावा देने के लिए भी निष्पादित (एक्जीक्यूट) किया जाता है।

यह भागीदार संघ में किसी भी लाभ और हानि को साझा नहीं करता है क्योंकि वह व्यवसायिक संघ में किसी भी पूंजी का योगदान नहीं करता है। हालांकि, यह ध्यान रखना उचित है कि एक मामूली भागीदार बाहरी लोगों के लिए और तीसरे पक्ष के अन्य सहयोगियों द्वारा किए गए कार्यों के लिए उत्तरदायी होता है।

विबंधन द्वारा भागीदार

विबंधन द्वारा एक भागीदार एक ऐसा भागीदार होता है जो अपने शब्दों, कार्यों या आचरण से प्रदर्शित करता है कि वह व्यवसायिक संघ का भागीदार है। सरल शब्दों में, भले ही वह व्यवसायिक संघ में भागीदार नहीं है, लेकिन उसने खुद को इस तरह से प्रस्तुत किया है, जिसमें दर्शाया गया है कि वह विबंधन द्वारा भागीदार बन गया है। यह ध्यान रखना उचित है कि, हालांकि वह पूंजी या संघ के प्रबंधन में योगदान देता है, लेकिन व्यवसायिक संघ में अपने प्रतिनिधित्व के आधार पर वह संघ द्वारा प्राप्त ऋण के लिए उत्तरदायी होता है।

केवल मुनाफे में भागीदार

व्यवसायिक संघ का यह भागीदार केवल व्यवसायिक संघ के मुनाफे में भाग लेगा और व्यवसायिक संघ के किसी भी नुकसान के लिए उत्तरदायी नहीं होगा। इसके अलावा, यदि कोई भागीदार जो “केवल मुनाफे में भागीदार है” किसी तीसरे पक्ष या बाहरी व्यक्ति के साथ व्यवहार करता है तो वह केवल लाभ के कार्यों के लिए उत्तरदायी होगा और किसी भी दायित्व के लिए नहीं। उसे व्यवसायिक संघ के प्रबंधन में भाग लेने की अनुमति नहीं है। इस तरह के भागीदार अपनी सद्भावना और पैसे के लिए व्यवसायिक संघ से जुड़े हुए होते हैं।

नाबालिग (माइनर) भागीदार 

यह ध्यान रखना उचित है कि, भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 की धारा 11 में एक नाबालिग को एक समझौते में प्रवेश करने से प्रतिबंधित किया जाता है, क्योंकि एक नाबालिग द्वारा दर्ज किया गया समझौता शून्य होता है। हालांकि, भागीदारी अधिनियम, 1932 एक नाबालिग को भागीदारी के लाभों का आनंद लेने की अनुमति देता है जब नियमों और प्रक्रियाओं का कानून के अनुसार अनुपालन किया जाता है। एक नाबालिग व्यवसायिक संघ के मुनाफे में भी भाग लेता है, हालांकि, घाटे के लिए उसका दायित्व केवल व्यवसायिक संघ के अपने हिस्से तक सीमित है।

बहुमत की आयु (यानी 18 वर्ष की आयु) प्राप्त करने के बाद एक नाबालिग व्यक्ति को 6 महीने के भीतर यह तय करना होगा कि क्या वह व्यवसायिक संघ के लिए भागीदार बनने के लिए तैयार है। यदि सभी नाबालिग भागीदार, एक भागीदार के रूप में जारी रखने का फैसला करते हैं या सेवानिवृत्त होने की इच्छा रखते हैं, तो दोनों ही मामलों में उन्हें सार्वजनिक नोटिस के द्वारा इस तरह की घोषणा करने की आवश्यकता होती है।

गुप्त भागीदार 

एक भागीदारी में, गुप्त भागीदार की स्थिति सक्रिय (एक्टिव) और सोते (स्लीपिंग) हुए भागीदार के बीच स्थित होती है। एक गुप्त भागीदार की फर्म की सदस्यता बाहरी लोगों और तीसरे पक्ष से गुप्त रखी जाती है। उसका दायित्व असीमित होता है क्योंकि वह लाभ में हिस्सेदारी रखता है और व्यापार में नुकसान के लिए दायित्वों को साझा करता है। वह व्यापार के लिए काम करने में भी भाग ले सकता है।

निवर्तमान भागीदार

एक निवर्तमान भागीदार एक ऐसा भागीदार होता है, जो स्वेच्छा से व्यवसायिक संघ को भंग किए बिना सेवानिवृत्त हो जाता है। वह मौजूदा संघ को छोड़ देता है, इसलिए उसे निवर्तमान भागीदार कहा जाता है। ऐसा भागीदार अपने सेवानिवृत्ति से पहले किए गए अपने सभी ऋणों और दायित्वों के लिए उत्तरदायी होता है। हालाँकि, अगर वह भागीदारी से अपनी सेवानिवृत्ति के बारे में सार्वजनिक नोटिस देने में विफल रहता है, तो उसे अपने भविष्य के दायित्वों के लिए उत्तरदायी ठहराया जा सकता है।

सीमित भागीदार 

एक सीमित भागीदार एक भागीदार है जिसका दायित्व केवल भागीदारी संघ की पूंजी के लिए उसके योगदान की सीमा तक है।

उप-भागीदार 

एक उप-भागीदार एक भागीदार है जो व्यवसायिक संघ के अपने हिस्से में किसी और को जोड़ता है। वह व्यक्ति को अपने हिस्से का एक हिस्सा देता है। एक उप-भागीदार आमतौर पर मुनाफे को साझा करने के लिए सहमत होता है जो तीसरे पक्ष से प्राप्त होते हैं। ऐसा भागीदार व्यवसायिक संघ में एक भागीदार के रूप में खुद का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता है। इसके अलावा, वह संघ में भी कोई अधिकार नहीं रखता है और न ही वह संघ के भागीदारों द्वारा किए गए कार्यों के लिए उत्तरदायी है। वह केवल उस भागीदार से मुनाफे पर अपनी सहमत हिस्सेदारी का दावा कर सकता है जिसने उसे उप-भागीदार बनने के लिए अनुबंधित किया है।

विबंधन क्या है

विबंधन एक ऐसा नियम है जो किसी व्यक्ति को ऐसे किसी दावे, अधिकार या तथ्य पर जोर देने से रोकता है जो उस व्यक्ति द्वारा पहले अपनाए गए रुख के विपरीत है, या तो स्पष्ट रूप से या निहित रूप से, खासकर जब एक प्रतिनिधित्व पर भरोसा किया गया हो और बाद में दूसरों द्वारा कार्य किया गया हो। यह कानूनी सिद्धांत कई सामान्य कानून प्रणालियों (उदाहरण के लिए, यूएसए, यूके, कनाडा और अन्य) में पाया जाता है, लेकिन इसे नियंत्रित करने वाले सिद्धांत के रूप एक देश से दूसरे देश में भिन्न होते हैं। विबंधन का नियम भारतीय प्रावधानों के एक बड़े हिस्से के लिए आवश्यक माना सकता है। वचन विबंधन (प्रॉमिसरी एस्टॉपल) का पुराना सिद्धांत भारतीय संविदा अधिनियम, 1872 का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो वादाकर्ता (प्रोमिसर) को उनके वादे का खंडन करने से रोकता है, बशर्ते वादाग्रहीता (प्रॉमिसी) ने इस तरह के वादे पर भरोसा किया हो और इसके गैर-निष्पादन (नॉन परफॉर्मेंस) के परिणामस्वरूप उसे नुकसान उठाना पड़ा हो।

उदाहरण – A, वादाकर्ता ने B वादाग्रहीता को 26 नवंबर को रु. 500 के प्रतिफल (कंसीडरेशन) में 5 किलो चावल देने का वादा किया। इस तरह के वादे पर भरोसा करते हुए B अग्रिम (एडवांस) राशि का आधा भुगतान करता है। हालांकि, A, वितरण (डिलीवरी) की तारीख पर, बिना किसी उचित स्पष्टीकरण के अपने किए हुए वादे से चूक जाता है। इसलिए, इस उदाहरण में, B को किए गए वादे के परिणामस्वरूप आर्थिक नुकसान हुआ है, यह कहा जाएगा कि  इस मामले में एक वचन विबंधन की आवश्यकताओं को पूरा किया गया है।

इसके अलावा, भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 की धारा 115 में विबंधन का अर्थ शामिल है, जिसमें कहा गया है, “जब एक व्यक्ति ने अपनी घोषणा, कार्य या चूक से, किसी अन्य व्यक्ति को जानबूझकर किसी चीज़ को सच मानने और कार्य करने की अनुमति दी हो इस तरह के विश्वास पर, न तो उसे और न ही उसके प्रतिनिधि को, उसके और ऐसे व्यक्ति या उसके प्रतिनिधि के बीच किसी भी मुकदमे या कार्यवाही में, उस बात की सच्चाई से इनकार करने की अनुमति दी जाएगी।” उपरोक्त (अफोरमेंशन्ड) प्रावधान यह समझाने के लिए विस्तारित होता है कि वास्तव में विबंधन क्या है यह एक उदाहरण की पुष्टि करके बताता है जिसमे कि ‘A’ जानबूझकर और गलत तरीके से ‘B’ को विश्वास दिलाता है कि भूमि A की है, और इस तरह B को खरीदने और भुगतान करने के लिए प्रेरित करता है। भूमि बाद में A की संपत्ति बन जाती है, और A इस आधार पर बिक्री को रद्द करना चाहता है कि बिक्री के समय उसके पास कोई शीर्षक नहीं था। उसे शीर्षक की अपनी इच्छा को सिद्ध करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

विबंधन द्वारा भागीदार कौन होता है

भागीदारी संघ (पार्टनरशिप फर्म) में विभिन्न प्रकार के भागीदार होते हैं, सक्रिय (एक्टिव) या गुप्त (सीक्रेट) भागीदारों से लेकर नाममात्र (नॉमिनल) या नाबालिग (माइनर) भागीदारों तक। नाममात्र के भागीदार के बारे में बात करते समय, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि उन्हें दृश्यमान (ओस्टेंसिबल) या अर्ध-भागीदारों के रूप में भी संदर्भित किया जा सकता है। इस प्रकार के भागीदार की एक प्रमुख विशेषता यह है कि वह पैसा निवेश नहीं करते है या पूंजी का योगदान नहीं करte है, व्यवसाय या प्रबंधन के निर्णयों में भाग नहीं लेते है, या कंपनी के लाभ या हानियों में हिस्सा नहीं लेते है। वह केवल कंपनी को अपनी साख (क्रेडिट) देते है, जिसमें उसका नाम और प्रतिष्ठा शामिल है। एक व्यक्ति ने या तो खुद का प्रतिनिधित्व किया होगा (विबंधन द्वारा भागीदार) या जानबूझकर किसी अन्य व्यक्ति (होल्डिंग आउट द्वारा भागीदार) को पार्टनर के रूप में प्रतिनिधित्व करने की अनुमति दी होगी। ऐसा करके वह व्यवसायिक संघ के ऋणों के लिए स्वयं को सबके प्रति उत्तरदायी बनाता है।

जब कोई व्यक्ति, अपने कार्यों या व्यवहार के माध्यम से, तीसरे पक्ष पर यह प्रभाव छोड़ता है कि वह एक व्यवसायिक संघ का भागीदार है, तो बाद वाला उसी पर भरोसा करके कोई कार्य करता है, तो उसे ‘विवंधन भागीदार’ के रूप में माना जाएगा। इसका मूल रूप से मतलब यह है कि भले ही संबंधित व्यक्ति भागीदार नहीं है, उसने खुद को एक भागीदार के रूप में प्रस्तुत किया है, और परिणामस्वरूप, अब विबंधन द्वारा भागीदार है।

विबंधन द्वारा भागीदार और होल्ड आउट द्वारा भागीदार के बीच अंतर का सारणीबद्ध प्रतिनिधित्व (टैबयूलर रिप्रेजेंटेशन)

विबंधन द्वारा भागीदार होल्डिंग आउट द्वारा भागीदार
विबंधन द्वारा एक भागीदार तब होता है जब कोई व्यक्ति स्वयं को या तो लिखित या बोले गए शब्दों या आचरण द्वारा एक भागीदार के रूप में प्रस्तुत करता है, उसे उन सभी के प्रति उत्तरदायी कहा जाता है, जो इस तरह के प्रतिनिधित्व पर भरोसा करते हुए, व्यवसायिक संघ को पैसा देते हैं। होल्ड आउट द्वारा भागीदार तब होता है जब किसी व्यक्ति का प्रतिनिधित्व किया जाता है और उसे भागीदार के रूप में घोषित किया जाता है, और इस बारे में जागरूक होने के बाद भी ऐसे व्यक्ति द्वारा इसे नकारा नहीं जाता है। उसे ऐसे प्रतिनिधित्व  और घोषणाओं पर भरोसा करते हुए, व्यवसायिक संघ को साख पर पैसा उधार देने वाले तीसरे पक्ष के लिए उत्तरदायी कहा जाता है।
उदाहरण के लिए, रघु, जो कि एक अमीर आदमी है, गणेश को बताता है कि वह एलीट एंटरप्राइजेज नाम के एक व्यवसायिक संघ का भागीदार है, हालांकि, वास्तव में, वह नहीं है। गणेश, रघु द्वारा दिए गए ऐसे बयान पर भरोसा करते हुए, नामित संघ को 50,000/- रुपये का सामान बेचता है। यहां, यदि व्यवसायिक संघ उक्त राशि का भुगतान करने में असमर्थ होता है, तो गणेश इसे रघु से वसूल कर सकता है, क्योंकि वह विवंधन द्वारा उसका भागीदार है। उदाहरण के लिए, हरि, रघु की उपस्थिति में गणेश को बताता है कि रघु एलीट एंटरप्राइजेज के व्यवसायिक संघ में भागीदार है। रघु घोषणा से इनकार नहीं करता है, और एक धारणा बनती है कि वह भागीदार है। गणेश, इस तरह के बयानों पर भरोसा करते हुए, संघ को 50,000/- रुपये का ऋण देता है। यहां, यदि संघ गणेश को ऋण चुकाने में विफल रहता है, तो रघु को गणेश के 50,000/- रुपये का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी ठहराया जा सकता है। इसलिए रघु होल्ड आउट द्वारा भागीदार है।

 

भारतीय भागीदारी अधिनियम, 1932 के तहत विबंधन द्वारा भागीदारी के लिए प्रावधान

‘होल्डिंग आउट’ की अवधारणा और कुछ नहीं बल्कि विबंधन के सिद्धांत का एक अनुप्रयोग है, जो सरल शब्दों में एक ‘साक्ष्य का नियम’ है जिसमें एक व्यक्ति को उसके द्वारा दिए गए बयान या ऐसे तथ्यों के अस्तित्व से इनकार करने से रोक दिया जाता है जो दूसरे को भी ऐसा ही विश्वास दिला सकता है। इस संबंध में एक महत्वपूर्ण मामला मोलवो, मार्च एंड कंपनी बनाम कोर्ट ऑफ वार्ड्स (1872), का है जिसमें इस बात पर जोर दिया गया था कि “होल्डिंग आउट का सिद्धांत” ‘विबंधन’ का एक अनुप्रयोग है। इस मामले में, लॉर्ड एशर एमआर ने स्पष्ट किया कि “यदि कोई व्यक्ति स्वयं को भागीदार मानता है और उस धारणा पर कार्य करता है, तो वह बाद में यह नहीं कह सकता कि वह भागीदार नहीं है।”

1932 के भागीदारी अधिनियम से पहले, 1872 के भारतीय संविदा अधिनियम में अध्याय XI (धारा 239-266) में भागीदारी को नियंत्रित करने वाला कानून शामिल था। 1932 के भारतीय भागीदारी अधिनियम की धारा 28 और 2008 के सीमित देयता (लिमिटेड लायबिलिटी) भागीदारी अधिनियम की धारा 29 दोनों में होल्डिंग आउट की अवधारणा का उल्लेख है। होल्डिंग आउट से, एक व्यक्ति को एक भागीदार के रूप में उत्तरदायी कहा जाता है यदि धाराओं के अनुसार पूर्वापेक्षाएँ (प्रीरिक्विजाइट्स) पूरी होती हैं।

भारतीय भागीदारी अधिनियम, 1932 की धारा 28 और सीमित देयता भागीदारी अधिनियम, 2008 की धारा 29 को संक्षिप्त रूप से पढ़कर निम्नलिखित आवश्यक तत्वों का पता लगाया जा सकता है।

प्रतिनिधित्व

विबंधन या होल्डिंग आउट का सिद्धांत उन स्थितियों में लागू होगा जहां एक व्यक्ति ने स्वेच्छा से खुद को एक व्यवसायिक संघ का भागीदार होने का प्रतिनिधित्व किया है या जहां एक व्यक्ति ने प्रासंगिक समय पर एक भागीदार होने का खंडन नहीं किया है। यह आवश्यक नहीं है कि प्रतिनिधित्व अभिव्यक्त (एक्सप्रेस) रूप में हो। एक निहित (इंप्लायड) प्रतिनिधित्व भी मान्य माना जाएगा और इसलिए, इनकार नहीं किया जा सकता है।

चित्रण (इलस्ट्रेशन)

  1. डेयरी फार्म स्थापित करने के लिए R ने G को पैसा उधार दिए। उन्होंने व्यवसाय में गहरी दिलचस्पी लेना शुरू कर दिया और परिसर पर पट्टा (लीज) प्राप्त करने के लिए अपने व्यक्तिगत प्रभाव का इस्तेमाल किया और बाद में पक्षों और उनकी मांगों को प्राप्त करने के लिए भी वहां मौजूद थे। D ने इस धारणा के तहत संघ को एक निश्चित मात्रा में सामग्री की आपूर्ति (सप्लाईड) की कि R पार्टनर है। यहाँ, आचरण के माध्यम से R को विबंधन द्वारा भागीदार के रूप में उत्तरदायी ठहराया जाएगा।
  2. T ने K को C से स्टार्क एंटरप्राइजे में अपने भागीदार के रूप में परिचित कराया, जबकि वह वास्तव में नहीं था। K ने इस तरह के प्रतिनिधित्व से इनकार नहीं किया; इसलिए, उसे होल्डिंग आउट द्वारा भागीदार के रूप में उत्तरदायी ठहराया जाएगा।

प्रतिनिधित्व का ज्ञान

एक अन्य आवश्यकता प्रतिनिधित्व का ज्ञान है। जिस व्यक्ति का एक व्यवसायिक संघ के भागीदार के रूप में प्रतिनिधित्व किया जा रहा है, उसे इस तरह के किसी भी प्रतिनिधित्व के बारे में पता होना चाहिए और उसका ज्ञान होना चाहिए। परिणामस्वरूप, या तो व्यक्ति को झूठा प्रतिनिधित्व स्वयं करना चाहिए था या किसी तीसरे पक्ष के मामले में, इसके बारे में पता होना चाहिए था और इसका खंडन नहीं करना चाहिए था। इसके अलावा, प्रतिवादी को उत्तरदायी ठहराने वाले वादी को ऐसे प्रतिनिधित्व का ज्ञान होना चाहिए।

चित्रण

  1. जहाँ A ने XYZ व्यवसायिक संघ के एक भागीदार के रूप में खुद का प्रतिनिधित्व किया, अगर B ने इस विश्वास पर काम किया तो उसे विबंधन द्वारा एक भागीदार के रूप में उत्तरदायी ठहराया जाएगा।

किए गए प्रतिनिधित्व के परिणामस्वरूप किया गया कार्य

अंत में, वादी को एक भागीदार के रूप में प्रतिवादी को उत्तरदायी ठहराने के लिए किए गए ऐसे प्रतिनिधित्व के विश्वास पर कार्य करना चाहिए।

चित्रण

  1. जहां गौतम ने खुद को रियल एंटरप्राइजेज का भागीदार होने का प्रतिनिधित्व किया है, और जोएल ने इस विश्वास पर भरोसा करते हुए व्यवसायिक संघ को साख दिया है, अगर संघ भुगतान करने में चूक करती है तो गौतम को जवाबदेह ठहराया जाएगा। गौतम, यहाँ, विबंधन द्वारा एक भागीदार के रूप में उत्तरदायी है और दायित्व से बच नहीं सकता है या बाद में किए गए ऐसे प्रतिनिधित्व  से इनकार नहीं कर सकता है।

विबंधन द्वारा एक भागीदार के दायित्व

विबंधन या होल्डिंग आउट द्वारा एक भागीदार तीसरे पक्ष के लिए उत्तरदायी होगा जिसने किए गए प्रतिनिधित्व  पर भरोसा करते हुए साख दिया है। ऐसे भागीदार की यह जिम्मेदारी है कि वह तीसरे पक्ष को हुए नुकसान की भरपाई करे। हालांकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि वह कंपनी पर दावा हासिल नहीं करता है, न ही वह “वास्तविक भागीदार” बन जाता है, बल्कि केवल तीसरे पक्ष को क्षतिपूर्ति करने या किए गए प्रतिनिधित्व  के कारण हुई हानियों और चोटों के लिए उत्तरदायी होता है। यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि एक भागीदार जो मर गया है या दिवालिया (इंसोल्वेंट) हो गया है, या निष्क्रिय हो गया है (बशर्ते व्यवसायिक संघ के विघटन के बाद एक अभिनय भागीदार द्वारा ऋण लिया गया हो) उसके दायित्व सिद्धांत के लिए एक अपवाद है। अमेरिका जैसे देशों में, इस तरह के दायित्व 1997 के संशोधित यूनिफ़ॉर्म भागीदारी अधिनियम (रूपा) द्वारा शासित होते है, जिसमें कहा गया है कि एक व्यक्ति जो किसी अन्य व्यक्ति या पक्ष को व्यवसाय की माँग करने की अनुमति देता है जैसे कि वे भागीदार हों, उन्हें तीसरे पक्ष द्वारा एक भागीदार माना जाना चाहिए। यह व्यवसाय के हिस्से के रूप में किए गए और होने वाले कार्यों के लिए “संयुक्त रूप से और अलग-अलग” उत्तरदायी होने वाले भागीदारों की विशेषता के अनुरूप है। दायित्वों के प्रकारों को आम तौर पर तीन प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

आनुपातिक (प्रो राटा) दायित्व

यदि कोई पूर्व-मौजूदा संबंध नहीं है और भागीदारों के रूप में प्रतिनिधित्व करने वाले सभी व्यक्ति प्रतिनिधित्व को स्वीकार करते हैं, तो दायित्व साझा किया जाता है या उस व्यक्ति के बीच आनुपातिक होता है जो खुद को एक भागीदार के रूप में चित्रित करता है और अन्य सभी जो प्रतिनिधित्व स्थापित करते हैं और सहमत होते हैं।

भागीदारी दायित्व

जब वास्तविक भागीदारों ने प्रतिनिधित्व के लिए सहमति दी, तो जिसने भागीदार होने का दावा किया या इसके लिए सहमति व्यक्त की, और वास्तविक भागीदार दोनों को भागीदारी दायित्व माना जाता है।

प्रथक (सेपरेट) दायित्व

यदि कोई पूर्व संबंध नहीं है और केवल कुछ या अन्य में से कोई भी भागीदारों के रूप में प्रतिनिधित्व नहीं करता है, या यदि किसी मौजूदा भागीदारी में कोई भी हितधारक (स्टेकहोल्डर्स) प्रतिनिधित्व के लिए सहमत नहीं है, तो यह प्रथक दायित्व है।

इसलिए, यदि अदालत को पता चलता है कि प्रतिनिधित्व किया गया था, तो खुद को गलत तरीके से प्रस्तुत करने वाले पक्ष को एक सामान्य भागीदार के रूप में जवाबदेह ठहराया जाएगा भले ही वे एक साझेदारी बनाने का इरादा रखते हों या क्या उन्होंने उन कार्यों में भाग लिया हो जिसके परिणामस्वरूप नुकसान हुआ हो।

विबंधन द्वारा भागीदारों पर न्यायिक घोषणाएं

स्कार्फ बनाम जार्डिन (1882)

इस मामले में स्कार्फ एक व्यवसायिक संघ से सेवानिवृत्त (रिटायरमेंट) हुए जहां वे और रोजर्स भागीदार थे। स्कार्फ को बीच से बदल दिया गया था, हालांकि, स्कार्फ की सेवानिवृत्ति या नए साथी के रूप में बीच की मान्यता की कोई सार्वजनिक घोषणा नहीं हुई थी। जब जार्डिन, जो कि कंपनी का एक पुराना आपूर्तिकर्ता (सप्लायर) था, द्वारा आपूर्ति किए गए माल का भुगतान कंपनी द्वारा नहीं किया गया, तो उसने कंपनी और पहले के भागीदार स्कार्फ पर भी मुकदमा दायर कर दिया।

निर्णय

इस मामले में न्यायालय ने तथ्यों का आकलन किया और इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि एक निवर्तमान (आउटगोइंग) भागीदार की सेवानिवृत्ति और एक नए भागीदार की नियुक्ति की सूचना दी जानी चाहिए, जिसके विफल होने पर उसे विबंधन द्वारा भागीदार माना जाएगा। यह माना गया कि चूंकि जार्डिन ने पहली बार में नये व्यवसायिक संघ (स्कार्फ के बीना रोजर्स और बीच) पर मुकदमा दायर किया और बाद में स्कार्फ पर, उन्होंने एक निहित समझौते के माध्यम से, नये व्यवसायिक संघ को स्वीकार किया। अंत में, जार्डिन अब पुराने व्यवसायिक संघ पर समान कारण के लिए मुकदमा नहीं कर सकता था क्योंकि इसने प्राकृतिक न्याय सिद्धांतों और भागीदारी अधिनियम दोनों का उल्लंघन किया था। मामले ने नियम के कुछ अपवादों पर प्रकाश डाला, जिनमें शामिल हैं:

  1. भागीदार की मृत्यु को अपने आप में पर्याप्त नोटिस माना जाएगा।
  2. एक भागीदार का दिवाला भी अपने आप में पर्याप्त नोटिस का गठन करेगा और अतिरिक्त रूप से भारतीय भागीदारी अधिनियम की धारा 42 को आकर्षित करेगा।
  3. यदि कोई शुरुआत से ही निष्क्रिय है तो नोटिस देने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि ग्राहक कंपनी में उसकी भागीदारी के बारे में जानते हैं।

पोर्टर बनाम इंसेल (1905)

इस मामले में एक खेत की स्थापना के लिए प्रतिवादी द्वारा अन्य प्रतिवादियों को बड़ी मात्रा में धन उधार दिया गया था। उन्होंने न केवल कंपनी में गहरी दिलचस्पी दिखाई, बल्कि उन्होंने ब्याज दर कम करने के लिए अपने व्यक्तिगत संबंधों का भी इस्तेमाल किया। इसके अलावा, वह ज्यादातर जमीन पर ही रहता था, पक्षों का स्वागत करता था और व्यवसाय को करीब से देखता था। वादी ने इस धारणा पर भरोसा करते हुए कि प्रतिवादी भी एक भागीदार था प्रतिवादियों को निर्माण सामग्री की आपूर्ति की और उन पर मुकदमा दायर किया।

निर्णय

इस मामले में, न्यायालय ने माना कि प्रतिवादी, विबंधन द्वारा एक भागीदार था और उसे उत्तरदायी ठहराया जा सकता है, क्योंकि उसने अपने खुद के आचरण से, भागीदार होने का प्रतिनिधित्व किया।

बेवन बनाम नेशनल बैंक लिमिटेड (1960)

मौजूदा मामले में, B, एम.डब्लू एंड कंपनी के नाम से एक व्यवसाय करता है। उक्त कंपनी के प्रबंधक एम डब्लू थे। जब वादी ने आपूर्ति किए गए माल के लिए धन की वसूली के लिए B और एम डब्लू दोनों पर आरोप लगाया तो एम डब्लू ने तर्क दिया कि चूंकि वह भागीदार नहीं था, इसलिए उसे उत्तरदायी नहीं ठहराया जाना चाहिए।

निर्णय

न्यायालय ने दोनों प्रतिवादियों को यह कहते हुए उत्तरदायी ठहराया कि चूंकि कंपनी के पास प्रबंधक का नाम है और वह व्यवसाय में सक्रिय भूमिका निभाता है, इसलिए उसका कंपनी का भागीदार होना निहित हो सकता है, और इसलिए, वर्तमान मामले में, वह वादी द्वारा दिए गए साख के लिए इस अनुमान के साथ उत्तरदायी माना जाएगा कि MW भागीदार है। यहाँ, MW ने एक भागीदार के रूप में सार्वजनिक रूप से (हालांकि अनजाने में) खुद का प्रतिनिधित्व किया। इसके अलावा, B को उत्तरदायी मानते हुए, अदालत ने निर्धारित किया कि “और कंपनी” के अतिरिक्त के साथ एक व्यक्ति के नाम के तहत एक व्यवसाय करना और उस व्यक्ति को कंपनी प्रबंधक के रूप में नियोजित (एंप्लॉयिंग) करना जिसे कंपनी का संपूर्ण प्रबंधन प्रत्यायोजित (डेलिगेटिड) किया गया है, उस व्यक्ति को कंपनी के एकमात्र मालिक के रूप में प्रतिनिधित्व नहीं करता है, बल्कि यह कंपनी में एक भागीदार के रूप में उसका प्रतिनिधित्व करता है।

निष्कर्ष

अत: निष्कर्ष में, विबंधन द्वारा एक भागीदार एक ऐसे व्यक्ति को संदर्भित करता है जिसने खुद को एक व्यवसायिक संघ का भागीदार होने का झूठा प्रतिनिधित्व किया है, और जिस पक्ष के सामने इस तरह का प्रतिनिधित्व किया जाता है, वह इसे सच मानकर, विश्वास पर कार्य करता है। यह कहा जा सकता है कि विबंधन या होल्डिंग आउट द्वारा भागीदार को उत्तरदायी ठहराने की अवधारणा एक प्रभावी प्रावधान है जिसका उद्देश्य उन तीसरे पक्षों के हितों की रक्षा करना है जो उन्हें किए गए झूठे प्रतिनिधित्व  के आधार पर साख देते हैं। हालाँकि, अवधारणा कपटपूर्ण इरादे से किए गए प्रतिनिधित्व  के लिए प्रतिबंधित नहीं है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

क्या विबंधन द्वारा बने भागीदार द्वारा व्यवसायिक संघ को पूंजी की कोई राशि दी जाती है?

चूंकि विबंधन द्वारा भागीदारी एक अनुमानित (प्रिजंपशन) भागीदारी से कम नहीं है, ऐसा भागीदार पूंजी का योगदान नहीं करता है या व्यवसायिक संघ के व्यवसाय में भाग नहीं लेता है; हालाँकि, उसके दायित्व असीमित होते है।

क्या विबंधन द्वारा भागीदारी के मामले में व्यवसायिक संघ के ऋणों के लिए कोई दायित्व उत्पन्न होगा?

सामान्य रूप से विबंधन द्वारा एक भागीदार या तो कंपनी के प्रबंधन में उसकी सक्रिय भागीदारी के परिणामस्वरूप या कंपनी को व्यवसाय में उसके नाम का उपयोग करने की अनुमति के परिणामस्वरूप बनाया जा सकता है। नतीजतन, विबंधन द्वारा एक भागीदार को उनके नाम का उपयोग करके किए गए व्यवसायिक संघ के ऋणों के लिए उत्तरदायी माना जाएगा।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here