अगर कोई मुझे ऑनलाइन ब्लैकमेल कर रहा है तो मैं क्या कर सकता हूँ

0
20685
Indian Penal Code
Image Source- https://rb.gy/4tsipa

यह लेख अहमदाबाद के निरमा विश्वविद्यालय के छात्र Nehal Mishra ने लिखा है। इस लेख में, वह उस स्थिति पर चर्चा करती है जिसमें एक व्यक्ति को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर ब्लैकमेल किया जाता है । इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta के द्वारा किया गया है। 

परिचय (इंट्रोडक्शन)

ब्लैकमेल जबरदस्ती का एक तरीका है जिसमें किसी व्यक्ति या लोगों के समूह को उनके बारे में पूरी तरह से सही या गलत जानकारी जारी करने या प्रसारित (डिसेमिनेट) करने की धमकी दी जाती है, जब तक कि विशिष्ट (स्पेसिफिक) मांग पूरी नहीं हो जाती। यह आमतौर पर हानिकारक जानकारी होती है जिसे आम जनता के बजाय केवल रिश्तेदारों या सहयोगियों के साथ साझा (शेयर) किया जाता है। इसमें पीड़ित या पीड़िता के किसी करीबी को शारीरिक (फिजिकल) मानसिक (मेन्टल) या भावनात्मक (इमोशनल) नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ आपराधिक मुकदमा चलाने की धमकी देना शामिल हो सकता है।

यह आमतौर पर व्यक्तिगत लाभ के लिए किया जाता है, आमतौर पर शक्ति, धन या संपत्ति के रूप में। हमारे संदेशों तक पहुंचने में, ऑनलाइन मीडिया के माध्यम से रिपोर्ट पोस्ट करने, समाचार पढ़ने, आपूर्ति (सप्लाई)  खरीदने, या केवल व्हाट्सएप का उपयोग करने से, हमारी कोई भी सामान्य गतिविधि वेब के उपयोग के बिना संभव नहीं है। विभिन्न एक्सचेंजों और बड़ी मात्रा में सूचनाओं का नियमित रूप से कारोबार होने के कारण, नाजुक डेटा के बिखर जाने का एक ज्यादा खतरा है। वेब-आधारित मीडिया संभवतः सबसे ज्यादा रूप से मान्यता प्राप्त चरण है जहां किसी व्यक्ति के मार्मिक (टची) डेटा के दुरुपयोग के कारण ऑनलाइन चालें चली जाती हैं। जबकि वेब-आधारित मीडिया राक्षस अपनी नींव की रक्षा के लिए एक रास्ता खोज रहे हैं। वेब-आधारित मीडिया के माध्यम से बड़ी संख्या में लोगों ने जबरदस्ती के आगे घुटने टेक दिए हैं। साइबर अपराध से प्रभावित होने वाले व्यक्तियों की संख्या में भारी वृद्धि हुई है।

डिजिटल ट्रैप

भारत ने पिछले दशक के दौरान साइबर अपराध और यौन शोषण (सेक्सटॉर्शन) की घटनाओं में वृद्धि का अनुभव किया है, जो प्रभावी रूप से यौन लाभ के लिए ब्लैकमेल कर रहा है। सेक्सटॉर्शन में आमतौर पर एक ब्लैकमेलर शामिल होता है जिसके पास पीड़ित की निजी फिल्मों या तस्वीरों तक पहुंच होती है। पीड़ितों को पैसे, यौन संबंधों, या अतिरिक्त समझौता सामग्री के लिए ब्लैकमेल किया जाता है, साथ ही यदि वे ब्लैकमेलर की बात नहीं मानते हैं तो ब्लैकमेलर उन्हें मौजूद सामग्री को इंटरनेट पर प्रकाशित करने की धमकी देता है। जब एक रिश्ते में एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के ग्राफिक सामग्री रखता है, तो रिवेंज पोर्नोग्राफी काफी आम है। उन ग्राफिक फ़ोटो/वीडियो के ऑनलाइन उजागर (एक्सपोज़) होने के डर से, पीड़ितों पर अक्सर रिश्तों में बने रहने के लिए दबाव डाला जाता है।

लोगों को अक्सर बदली हुई छवियों के माध्यम से ब्लैकमेल किया जाता है जिसमें उनके चेहरे को यौन सामग्री में बदल दिया गया है। साइबर-स्टॉकिंग को अक्सर रिवेंज पोर्नोग्राफी और सेक्सटॉर्शन के साथ जोड़ा जाता है। इस तरह के अपराध सोशल नेटवर्किंग नेटवर्क और डेटिंग वेबसाइटों द्वारा काफी बढ़ जाते हैं। स्मार्टफ़ोन एप्लिकेशन जोखिम में योगदान करते हैं क्योंकि वीडियो-कॉलिंग ऐप्स के उपयोगकर्ता इस बात से अनजान होते हैं कि उनकी वीडियो टेप रिकॉर्ड की जा रही है। ऐसे फोन ऐप हैं जो व्हाट्सएप ऑडियो और वीडियो चैट रिकॉर्ड करते हैं, ऐसे एप्लिकेशन जिनकी किसी की फोन गैलरी (जैसे गेम, फोटो-एडिटिंग ऐप और सोशल नेटवर्क ऐप) की सभी सामग्री तक पहुंच होती है, और फॉर्मेट किए गए फोन से डेटा रिकवर करने के लिए सिस्टम होते हैं। लोगों के शिकार होने के सबसे आम कारणों में से एक है ऐसे फोन ऐप्स और तकनीक-आधारित क्षमताओं के बारे में जागरूकता की कमी होती है।

भारतीय कानून के तहत ब्लैकमेलिंग से संबंधित प्रावधान (प्रोविशंस)

  • ब्लैकमेलिंग आपराधिक धमकी का एक रूप है, जिसे भारतीय दंड संहिता की धारा 503 में परिभाषित किया गया है, “जो कोई किसी अन्य व्यक्ति के शरीर, ख्याति (रेप्यूटेशन) या सम्पत्ति को, या किसी ऐसे व्यक्ति के शरीर या ख्याति को, जिससे कि वह व्यक्ति हितबद्ध (इंटरेस्टेड) हो कोई क्षति/नुकसान करने की धमकी उस अन्य व्यक्ति को इस आशय से देता है कि उसे संत्रास कारित (कॉज़ अलार्म) किया जाए, या उससे ऐसे धमकी के निष्पादन का परिवर्जन (ऑमिट) करने के साधन स्वरूप कोई ऐसा कार्य कराया जाए, जिसे करने के लिए वह वैध रूप से आबद्ध (बाउंड) न हो, या किसी ऐसे कार्य को करने का लोप कराया जाए, जिसे करने के लिए वह वैध रूप से हकदार हो, वह आपराधिक अभित्रास (क्रिमिनल इंटिमिडेशन) करता है। उसे 2 साल तक की हो सकती है, या जुर्माना, या दोनों का संयोजन हो सकता है।
  • इसका वर्णन करने के लिए धारा 384 का भी इस्तेमाल किया जा सकता है: जबरन वसूली किसी भी प्रकार के कारावास, 3 साल तक, जुर्माना, या दोनों ही दंडनीय है। इस प्रावधान के तहत 3 साल की सजा है, और अपराध गैर-जमानती है और किसी भी मजिस्ट्रेट में विचारणीय है।
  • पीड़िता को दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 108(1)(i)(a) के तहत अधिकार है कि वह अपने क्षेत्र के मजिस्ट्रेट से संपर्क करे और उसे उस व्यक्ति के बारे में सूचित करे जिस पर उसे संदेह है कि वह कोई भी अश्लील सामग्री वितरित (डिस्ट्रीब्यूट) कर सकता है। मजिस्ट्रेट के पास ऐसे व्यक्तियों को हिरासत में लेने का अधिकार होता है और उन्हें सामग्री के प्रसार को प्रतिबंधित करने वाले एक बांड पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता होती है। यह आरोपी के लिए एक निवारक (डिटरेंट) के रूप में काम कर सकता है। यह एक त्वरित निवारण अनुभाग (क्विक रिड्रेसल सिस्टम) है क्योंकि पीड़ित आरोपी के खिलाफ कोई ठोस सबूत प्रदान किए बिना मजिस्ट्रेट के पास शिकायत दर्ज कर सकता है। 
  • कोई भी व्यक्ति जो किसी भी इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से किसी की अंतरंग (इंटिमेट) और समझौता (कॉम्प्रोमाइज) करने वाली छवियों को प्रकाशित या धमकाता है, जिसमें ऐप्स और अन्य सामाजिक मीडिया शामिल हैं, भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 292 के तहत आरोपित है।
  • यदि किसी महिला की तस्वीर अश्लीलता से ली जाती है और उसकी जानकारी के बिना वितरित की जाती है, तो सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (टेक्नोलॉजी एक्ट) की अन्य संबंधित धाराओं की मदद से आईपीसी की धारा 354c के तहत दृश्यरतिकता (वॉयरिज्म) का मामला भी बनाया जा सकता है।
  • अन्य कानून यौन शोषण (सेक्सुअल अब्यूज) को नियंत्रित करते हैं: घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम (प्रोटेक्शन ऑफ़ वूमेन फ्रॉम डॉमेस्टिक वॉयलेंस एक्ट), 2005, यह कानून घरेलू शोषण से पीड़ित महिलाओं को सहारा प्रदान करने के लिए बनाया गया था; कार्यस्थल पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, (द सेक्शुअल हैरेसमेंट ऑफ़ वूमेन ऐट वर्कप्लेस (प्रिवेंशन, प्रोहिबिशन एंड रिड्रेसल) एक्ट 2013, यह अधिनियम कार्यस्थल पर एक महिला को यौन उत्पीड़न से बचाता है; भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 354(a-d) विभिन्न प्रकार के यौन अपराधों के लिए दंड का प्रावधान करती है; धारा 376(2) विशिष्ट परिस्थितियों में अधिकार के दुरुपयोग के कारण बलात्कार के बारे में बात करती है; दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 108(1)(i)(a) में संशोधन किया गया है ताकि पीड़िता को मजिस्ट्रेट से संपर्क करने और अश्लील सामग्री के प्रसार के बारे में सीधे मजिस्ट्रेट को शिकायत दर्ज करने की शक्ति प्रदान की जा सके; यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम (द प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेज एक्ट), 2012 का उद्देश्य बच्चों के यौन शोषण के मुद्दों से निपटना है; सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट), 2000 साइबर अपराध से संबंधित कुछ यौन अपराधों को भी कवर करता है।
  • आईटी अधिनियम, 2000 की धारा 66E– गोपनीयता का उल्लंघन- किसी व्यक्ति की सहमति के बिना उसकी तस्वीरें खींचने या प्रसारित करने पर रोक लगाता है।
  • आईटी अधिनियम, 2000 की धारा 67– अश्लील इलेक्ट्रॉनिक सामग्री प्रसारित करना- किसी को बदनाम करने के लिए चित्र या वीडियो साझा करना दंडनीय है। 
  • आईटी अधिनियम, 2000 की धारा 67B– बाल अश्लीलता- यदि पीड़ित नाबालिग है, 18 वर्ष से कम उम्र का है।
  • आईटी अधिनियम, 2000 की धारा 67A– स्पष्ट यौन कृत्यों (सेक्सुअली एक्सप्लीकिट एक्ट्स) वाली इलेक्ट्रॉनिक सामग्री- वीडियो क्लिप रिकॉर्ड करने और साझा करने के लिए छिपे हुए कैमरों का उपयोग करना दंडनीय अपराध है।

ब्लैकमेल से कैसे निपटें

  • ध्यान रखने वाली पहली बात यह है कि आपको कभी भी मुद्दों को अपने हाथ में नहीं लेना चाहिए। यदि आप धमकियों का उपयोग करने का निर्णय लेते हैं, तो आपको लगभग निश्चित रूप से गिरफ्तार कर लिया जाएगा और ब्लैकमेलर अपनी धमकी को अंजाम देने में सक्षम होगा। इसी तरह, अनुरोधों (रिक्वेस्ट)  का पालन करने से कभी-कभी अतिरिक्त (एडिशनल) मांगें हो सकती हैं या यहां तक ​​​​कि ब्लैकमेलर आपके द्वारा सारी शर्ते पूरी किए जाने के बावजूद जबरदस्ती धमकी दे सकता है।
  • पुलिस को अपराधियों का पता लगाने और उन्हें दंडित करने का काम सौंपा गया है। पहले उन्हें कॉल करें। जबरन वसूली (एक्सटॉरशन) और ब्लैकमेल करना अपराध है, और कानून को लागू करना उनकी जिम्मेदारी है। कुछ परिस्थितियों में, खतरा वास्तविकता में आपके दिमाग में दिखाई देने से कम गंभीर होता है।
  • कानून प्रवर्तन (एनफोर्समेंट) के निर्देशों का पालन करें, भले ही वे विपरीत प्रतीत हों। वे आपको अपराधी के हाथों ब्लैकमेल के एक और दौर से गुजरने के लिए मजबूर कर सकते हैं ताकि आपको दोषी ठहराने के लिए पर्याप्त सबूत इकट्ठा किए जा सकें। वैकल्पिक रूप से, वे आपको ब्लैकमेलर को अस्वीकार करने के लिए कह सकते हैं या उन्हें छोड़ने के लिए लुभाने के लिए अन्य कदम उठा सकते हैं। जो भी सलाह दी जाए, ले लो। पुलिस प्रशिक्षित (ट्रेंड) विशेषज्ञ (स्पेशलिस्ट) हैं जो समझते हैं कि इन मामलों को कैसे संभालना है और यह सुनिश्चित करने के लिए क्या सबूत की आवश्यकता होगी कि आपका ब्लैकमेलर आपके साथ या फिर किसी और के साथ ये गलती नहीं कर सकता है।
  • बेशक, इन चुनौतीपूर्ण कानूनी समस्याओं से निपटने में सहायता के लिए अपने वकील से संपर्क करना हमेशा सबसे अच्छा विकल्प होता है। जैसा कि ऊपर बताया गया है, एक वकील न केवल आपकी गोपनीयता की रक्षा करते हुए परिप्रेक्ष्य (प्रोस्पेक्टिव) प्राप्त करने में आपकी सहायता कर सकता है, बल्कि वह आपकी स्थिति में सहायता प्राप्त करने के लिए उपयुक्त प्रक्रिया को नेविगेट करने में भी आपकी सहायता कर सकता है। एक वकील उन विकल्पों का प्रस्ताव करने में सक्षम हो सकता है जिन्हें आपने अन्यथा नहीं माने होते। 

अगर कोई आपको ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर ब्लैकमेल करता है तो आपको क्या जानना चाहिए?

फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हमें और अधिक जुड़ाव महसूस कराते हैं और युवा पीढ़ी के लिए सोशल मीडिया के बिना एक दिन अकल्पनीय (अनइमैजिनेबल) हो गया है। कुछ वर्षों में, इन प्लेटफार्मों ने बहुत लोकप्रियता हासिल की है और दुनिया भर में लाखों उपयोगकर्ताओं (यूजर) को आकर्षित किया है। जहां समाज के लिए सोशल मीडिया के फायदे बेशुमार हैं, वहीं इसके नुकसान भी हैं। इसके दूसरे साइड से पता चलता है कि इन प्लेटफार्मों का इस्तेमाल असामाजिक (ऐंटीसोसल) तत्वों (एलिमेंट) द्वारा अपने फायदे के लिए दूसरों को ब्लैकमेल करने के लिए किया जा रहा है। व्हाट्सएप और फेसबुक के जरिए निर्दोष लोगों को ब्लैकमेल किए जाने की कई घटनाएं हुई हैं। ब्लैकमेलिंग तब होती है जब कोई आपको धमकाता है और वित्तीय या अन्य प्रकार के लाभों की मांग करता है। कानून के अनुसार ब्लैकमेल करना एक गंभीर अपराध है और ब्लैकमेल करने वाले व्यक्ति पर इसका नकारात्मक (नेगिटिव) प्रभाव (इफेक्ट) पड़ सकता है। अगर आपको कोई ब्लैकमेल कर रहा है, तो आपको हमेशा कानून प्रवर्तन निकायों (एनफोर्समेंट  बॉडीज) से मदद लेनी चाहिए। चुपचाप सहने से आपके स्वास्थ्य और मन पर अवांछित प्रभाव (अनडिजायर्ड इफेक्ट) पड़ेगा।

  1. अगर आपको सोशल मीडिया पर ब्लैकमेल किया जा रहा है, तो इसे बर्दाश्त न करें और न ही चुप रहें। इसके बजाय, आपको शुरू से ही ब्लैकमेलर का मुकाबला करना चाहिए।
  2. यदि आप साइबर ब्लैकमेल के शिकार हैं, तो आपको इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को देनी चाहिए। हालांकि, पुलिस के पास जाने से पहले, एक वकील से बात करें और ब्लैकमेलर को कैसे ट्रैक करें, इस बारे में अच्छा मार्गदर्शन (गाइडेंस) प्राप्त करें। यह आपको एक मजबूत मामला बनाने में मदद कर सकता है। आप अधिकारियों को समस्या की रिपोर्ट करके ब्लैकमेलर को दूसरों को ब्लैकमेल करने से रोक सकते हैं।
  3. साइबर-ब्लैकमेल के शिकार भी गुमनाम रूप से www.cybercrime.gov.in पर अपराध की रिपोर्ट कर सकते हैं। गृह मंत्रालय ने साइबर क्राइम की रिपोर्टिंग के लिए यह वेबसाइट बनाई है। इस वेबसाइट पर शिकायत दर्ज करने के लिए पीड़ित को अपना मोबाइल नंबर और नाम देकर एक खाता बनाना होगा। पीड़ित इंटरनेट पर भी अपने मामले को ट्रैक कर सकता है।
  4. यदि पीड़ित ने घटना की ऑनलाइन रिपोर्ट www.cybercrime.gov.in पर की है, तो पीड़ित द्वारा प्रदान की गई जानकारी के आधार पर राज्यों या केंद्र शासित प्रदेशों के संबंधित पुलिस अधिकारियों द्वारा शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी।
  5. यदि आप किसी भी प्रकार के साइबर अपराध के शिकार हुए हैं, तो अपराधी की छवियों, ईमेल या अन्य सामग्री को न हटाएं क्योंकि ऐसा करने से आभासी दुनिया में सबूतों को ट्रैक करना मुश्किल हो जाता है। तस्वीरें एकत्र करने या सबूतों को प्रिंट करने पर विचार करें और उस मंच पर घटना की रिपोर्ट करें जहां यह हुई, जैसे कि सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट या ब्लॉग, जहां उत्पीड़न या अपराध हुआ है।

साइबर अपराध के बारे में शिकायत कैसे दर्ज करें?

शिकायत कहीं भी दर्ज की जा सकती है, क्योंकि साइबर अपराध का कोई अधिकार क्षेत्र नहीं होता है। एआरडीसी (अटॉर्नी रजिस्ट्रेशन एंड डिसिप्लिनरी कमीशन) के अनुसार, कोई भी व्यक्ति किसी भी शहर में तीन जगहों पर जाकर किसी संदिग्ध व्यक्ति की शिकायत कर सकता है:

  • साइबर सेल 

उन्हें विशेष रूप से साइबर अपराध पीड़ितों से निपटने के लिए स्थापित किया गया है। वे पुलिस विभाग के आपराधिक जांच विभाग के अधिकार क्षेत्र में हैं। आप एफआईआर दर्ज कर सकते हैं। यदि आप जहां रहते हैं वहां साइबर सेल उपलब्ध नहीं है, तो स्थानीय पुलिस स्टेशन में एफ.आई.आर. दर्ज कर सकते हैं। यदि आप एफआईआर दर्ज करने में असमर्थ (एनेबल) हैं तो आप पुलिस आयुक्त से संपर्क कर सकते हैं। एक एफ.आई.आर. थाने में पंजीकृत (रजिस्टर) होना चाहिए।

  • राष्ट्रीय महिला आयोग (नेशनल कमीशन फॉर वूमेन)

यह एक गैर-लाभकारी संगठन (नॉन-प्रॉफिट ऑर्गनाइजेशन) है जो कानून प्रवर्तन (लॉ इंफॉर्मेंट) से निपटने में इंटरनेट दुरुपयोग के शिकार लोगों की सहायता करता है। जांच में तेजी लाने के लिए, आयोग के पास मौके की जांच करने, सबूत इकट्ठा करने, गवाहों से पूछताछ करने और आरोपी को बुलाने के अधिकार के साथ एक जांच समिति नियुक्त करने का अधिकार है।

  • सोशल मीडिया वेबसाइटों पर रिपोर्टिंग

सोशल मीडिया वेबसाइटों पर रिपोर्टिंग एक विकल्प है यदि उपरोक्त दोनों विकल्पों को किसी भी कारण से करना मुश्किल है। इनमें से अधिकांश वेबसाइटों के पास अपराध की रिपोर्ट करने का विकल्प होता है क्योंकि 2011 के आईटी विनियमों (रेगुलेशन) द्वारा उन्हें आपत्तिजनक सामग्री के प्रसार को रोकने के लिए सूचना प्राप्त करने के 36 घंटे के भीतर कार्रवाई करने की आवश्यकता होती है।

निष्कर्ष (कंक्लूज़न)

यह सुनिश्चित करने के लिए कि हर कोई सुरक्षित रूप से और सम्मानपूर्वक साइबर अपराध की रिपोर्ट कर सकता है, सिस्टम को शिकायतों को प्राप्त करने और दर्ज करने के लिए एक औपचारिक (फॉर्मल) और गोपनीय (कांफीडेंशल) प्रक्रिया (प्रोसिजर) होनी चाहिए, यह सुनिश्चित करना कि घटना की जांच का वादा गोपनीयता के साथ किया जाता है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि इन पीड़ितों के लिए कानूनी, संस्थागत (विश्वविद्यालयों और स्कूलों में यौन उत्पीड़न समितिया), और सामुदायिक सुरक्षा तंत्र (कम्युनिटी प्रोटेक्शन मैकेनिज्म) (जैसे गैर सरकारी संगठन) स्थापित किए जाने चाहिए, साथ ही पीड़ितों को प्रोत्साहित करने और दुर्व्यवहार करने वालों को जवाबदेह ठहराने के लिए कानूनी और मनोवैज्ञानिक समर्थन दिया जाना चाहिए। पीड़ितों को हाशिए (मार्जिनलीजिंग) पर डालने के बजाय समाज को जागरूक होना चाहिए और उन्हें स्वीकार करना चाहिए। इस मुद्दे का सामना करने वाले व्यक्तियों को आगे आने और बोलने के लिए एक साहसिक कदम उठाना चाहिए। उन्हें अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होना चाहिए और शोषक (एक्सप्लोइटेर) को अपनी चुप्पी पर पनपने का मौका नहीं देना चाहिए। इस प्रकार, समाज को पीड़ितों को आगे आने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए और गैर सरकारी संगठन(एन.जी.ओ.) और सरकार भी एक ऐसा वातावरण बनाने के उपाय कर सकती है जो पीड़ित को अपनी दुर्दशा साझा करने के लिए प्रोत्साहित करे और ब्लैकमेलर्स की मांग के आगे न झुके। इसके अलावा, सरकार को भारत में साइबर अपराधों की बढ़ती दरों को रोकने के लिए बड़े पैमाने पर कठोर कदम उठाने चाहिए। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सरकार को पीड़ितों की प्रतिष्ठा और गोपनीयता की सुरक्षा पर जोर देने की जरूरत है।

संदर्भ (रेफरेंसेस)

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here