भारत में ट्रेडमार्क विरोध

0
1493
Trademark act
image source- https://rb.gy/xdqf6d

यह लेख Team ligwiz द्वारा लिखा गया है। यह लेख ट्रेडमार्क के संबंध में विपत्ति और विरोध के बीच के  अंतर को स्पष्ट करता है और साथ ही ट्रेडमार्क विरोध की अवधारणा का विश्लेष्ण प्रदान करेगा। इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja के द्वारा किया गया है। 

परिचय

एक ट्रेडमार्क विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं की एक पहचान बनाकर उनको और वस्तुओं और सेवाओं से अलग करने में मदद करता है, और वह पहचान ही ब्रांड को बाजार में विकसित करती है। यदि यह सुरक्षित नहीं है, तो यह अपनी विशिष्ट विशेषता खो देगा और यह बाजार में प्रतिष्ठा बनाने में सक्षम नहीं होगा। ट्रेडमार्क विरोध, एक ऐसा चरण है जहां कोई तीसरा पक्ष किसी व्यक्ति या कंपनी को ऐसे ट्रेडमार्क का पंजीकरण (रजिस्ट्रेशन) प्राप्त करने से रोक सकता है जो अलग नहीं है या जिसका उपयोग पहले से ही बाजार में किया जा रहा है। यह उस ब्रांड या कंपनी के बारे में उपभोक्ताओं या उपयोगकर्ताओं के बीच किसी भी भ्रम से बचने के लिए है, जिसकी वस्तुओं या सेवाओं का वे लाभ उठा रहे हैं। यह पहले से मौजूद ट्रेडमार्क या प्रसिद्ध मार्क्स के ब्रांड मूल्य को कम करने से रोकता है और उनकी विशिष्टता को भी सुरक्षित करता है। ट्रेडमार्क विरोध और ट्रेडमार्क आपत्ति दो अलग-अलग चरण हैं और उनके बारे में जनता के बीच हमेशा भ्रम होता है। यह लेख दोनों के बीच कुछ स्पष्टता लाएगा और ट्रेडमार्क विरोध की अवधारणा को संक्षेप में समझाएगा।

आपत्ति की तुलना में विरोध 

ट्रेडमार्क आपत्ति

पंजीकृत होने से पहले एक ट्रेडमार्क कई चरणों से गुजरता है जो इसकी पंजीकरण योग्यता की जांच करता है। इनकार के प्रारंभिक चरणों में से एक ट्रेडमार्क आपत्ति है, जिसे रजिस्ट्री से ट्रेडमार्क परीक्षक द्वारा स्थापित किया जाता है। अधिकांश मामलों में आपत्ति को रजिस्ट्रार के समक्ष उचित प्रतिनिधित्व द्वारा दूर किया जा सकता है।

आपत्ति के कुछ सामान्य आधार हैं:

  1. विशिष्टता (डिस्टिंटिवनेस) का अभाव (धारा 9),
  2. लंबित या पंजीकृत मार्क के साथ समानता (धारा 11),
  3. भौगोलिक (ज्योग्राफिकल) नामों का प्रयोग,
  4. अंतरराष्ट्रीय मालिकाना नाम,
  5. ट्रेडमार्क के हिस्से के रूप में या ट्रेडमार्क के रूप में आपत्तिजनक या अश्लील शब्द

ट्रेडमार्क विरोध

ट्रेडमार्क रजिस्ट्री द्वारा आवेदन स्वीकार किए जाने के बाद किसी तीसरे पक्ष द्वारा ट्रेडमार्क विरोध स्थापित किया जाता है। ट्रेडमार्क पंजीकरण प्रक्रिया में यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण और अहम चरण है। ट्रेडमार्क सभी प्रारंभिक आवश्यकताओं यानी विशिष्टता कारक को पूरा करने के बाद और इसकी पंजीकरण योग्यता के संबंध में रजिस्ट्री से अनुमोदन (अप्रूवल) प्राप्त करने के बाद, किसी तीसरे पक्ष के विरोध को आमंत्रित करने के लिए ट्रेडमार्क जर्नल में अंततः इसे विज्ञापित किया जाता है। इसके पीछे का मुख्य कारण आम जनता को पंजीकरण के खिलाफ विरोध करने का अवसर देना है यदि वे मानते हैं कि ट्रेडमार्क भ्रामक या ध्वन्यात्मक (फोनेटिकली) रूप से उनके मालिक के अन्य मौजूदा मार्क के समान है।

विरोध के लिए कौन दायर कर सकता है?

कोई भी व्यक्ति अपने व्यावसायिक या व्यक्तिगत हित के तथ्य के बावजूद विरोध का नोटिस दे सकता है। व्यक्ति को पूर्व पंजीकृत ट्रेडमार्क का मालिक होने की आवश्यकता नहीं है। वह एक ग्राहक, एक खरीदार या जनता का सदस्य हो सकता है जो वस्तु का उपयोग करने की संभावना रखता है। विरोध दायर करने की स्थिति में विरोधी की प्रामाणिकता (बोना फाइड) का प्रश्न ही नहीं उठता है। लोगों को ट्रेडमार्क जर्नल में इसके प्रकाशन (पब्लिकेशन) की तारीख से तीन महीने की अवधि के भीतर ट्रेडमार्क का विरोध करने की अनुमति होती है, जिसे बाद में अधिकतम एक महीने तक बढ़ाया जा सकता है।

विरोध के आधार क्या हैं?

एक लंबित ट्रेडमार्क आवेदन का निम्नलिखित आधारों पर विरोध किया जा सकता है:

  • यदि मार्क संबद्ध (एसोसिएटेड) वस्तु या सेवाओं (किसी भी भाषा में) के लिए एक सामान्य शब्द है;
  • मार्क मुख्य रूप से केवल एक उपनाम है;
  • यह मार्क किसी अन्य ट्रेडमार्क, आधिकारिक मार्क, एक ओलंपिक मार्क या भारत में पंजीकृत भौगोलिक संकेत (ज्योग्राफिकल इंडिकेशन) के साथ भ्रमित करने वाला है;
  • प्रतीक और नाम अधिनियम, 1950 के तहत ट्रेडमार्क निषिद्ध (प्रोहिबिटेड) है;
  • यदि मार्क निंदनीय, अश्लील या अनैतिक (इम्मोरल) है;
  • मार्क वर्तमान भाषा में या व्यवसाय की स्थापित प्रथाओं में प्रथागत है;
  • मार्क कानून के विपरीत है या कानून द्वारा रोका गया है;
  • मार्क में ऐसे मामले हैं जो किसी भी वर्ग के लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने की संभावना रखते हैं;
  • किसी अन्य पक्ष के पास भारत में मार्क या भ्रमित करने वाले समान मार्क का पूर्व उपयोग था;
  • आवेदक ने केवल दूसरे पक्ष के लाइसेंसधारी के रूप में मार्क का उपयोग किया;
  • मार्क विशिष्ट चरित्र से रहित है;
  • मार्क प्रकृति में वर्णनात्मक है;
  • ट्रेडमार्क के लिए आवेदन बुरे विश्वास के साथ किया गया है;
  • ट्रेडमार्क जनता को धोखा दे सकता है या भ्रम पैदा कर सकता है।

विरोध दायर करने के लिए अनिवार्यताएं

ट्रेडमार्क विरोध फॉर्म ट्रेडमार्क- ओ के माध्यम से दायर किया जाता है। संबंधित पक्ष जो विरोध दायर करता है, उसे आवेदन की जानकारी के साथ विरोध के आवश्यक दस्तावेज जमा करने होंगे।

आवश्यक विवरण और दस्तावेज विरोध के आधार पर भिन्न होते हैं। आइए एक नजर विरोध के आधार और उससे जुड़े विवरण पर डालते हैं:

पूर्व पंजीकरण

यदि विरोध पहले से पंजीकृत ट्रेडमार्क पर आधारित है, तो विरोधी को ऐसे ट्रेडमार्क के विवरण का उल्लेख उसकी स्थिति, आवेदन संख्या और प्राथमिकता तिथि के साथ करना होगा।

जाने-माने मार्क

यदि विरोध पहले से मौजूद प्रसिद्ध मार्क या बाजार में प्रतिष्ठा वाले मार्क पर आधारित है, तो कोई भी दस्तावेज जो ऐसे मार्क के प्रमाण के रूप में कार्य कर सकता है और उस देश या देशों के संकेत के रूप में कार्य कर सकता है, जिसमें पहले के मार्क को प्रसिद्ध होने की मान्यता दी गई है, उसका उल्लेख किया जाना चाहिए। वैकल्पिक रूप से, यह प्रमाण कि मार्क पंजीकृत है या इसके लिए पहले ही आवेदन किया जा चुका है, यह प्रस्तुत किया जा सकता है।

लाइसेंसधारी

उन स्थितियों में जहां एक लाइसेंसधारी द्वारा विरोध दर्ज किया जाता है, जो पंजीकृत उपयोगकर्ता नहीं है, लाइसेंसधारी का नाम और उसका पता और एक संकेत दिया जा सकता है कि उसे विरोध में प्रवेश करने के लिए अधिकृत (ऑथराइज) किया गया है।

विदेशी पक्ष

ऐसी स्थितियों में जहां विरोधी पक्ष विदेशी पक्ष है, जिसका भारत में व्यवसाय का कोई स्थान नहीं है, वहां विरोधियों का नाम और भारत में सेवा के लिए उसका पता आवश्यक है।

निष्कर्ष

एक ब्रांड बनाना और उसे बनाए रखना एक बड़ी जिम्मेदारी है और इसमें भारी धनराशि का निवेश किया जा सकता है। इसलिए, एक आवेदन को अपनी विशिष्टता और वैधता साबित करने के लिए पंजीकरण से पहले कई जांच और परीक्षण से गुजरना पड़ता है।

इसलिए, पंजीकरण प्रक्रिया में ट्रेडमार्क विरोध आवश्यक और महत्वपूर्ण चरण है। यह आपके ट्रेडमार्क की सुरक्षा और आपके ब्रांड को सुरक्षित करने के सबसे प्रभावी उपायों में से एक है। चूंकि परिसीमा (लिमिटेशन) अवधि, उपाय देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। पंजीकृत मालिकों/पूर्व उपयोगकर्ताओं को सही समय पर उचित कार्यवाही शुरू करके अपना मार्क हासिल करने में सतर्क रहने की आवश्यकता है।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here