वाणिज्यिक अनुबंधों में पाए जाने वाले महत्वपूर्ण खंड

0
632
Important clauses found in commercial contracts

यह लेख इंटरनेशनल बिजनेस लॉ में डिप्लोमा कर रही Priya Nandi द्वारा लिखा गया है और इसे Oishika Banerji (टीम लॉसिखो) द्वारा संपादित किया गया है।  इस लेख में वाणिज्यिक (कमर्शियल) अनुबंधों में पाए जाने वाले विभिन्न महत्वपूर्ण खंडों के बारे में चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta के द्वारा किया गया है।

परिचय

एक सहज और परेशानी मुक्त मसौदा वाणिज्यिक अनुबंध कॉर्पोरेट जगत में एक फलदायी व्यवसाय चलाने का आधार है। यह पानी की तरह साफ होना चाहिए, इसलिए किसी भी अनुबंध का मसौदा तैयार करने से पहले बहुत तेज गति से व्यक्ति को अनुबंध के संदर्भ को समझने की जरूरत है ताकि वह अपने दिमाग पर एक अवलोकन कर सके और वाणिज्यिक खंडों की सामग्री पर बुद्धि के साथ काम कर सके। इसलिए अनुबंध में प्रवेश करने से पहले, पक्षों के पास उस निर्णय के संबंध में उद्देश्यों का एक स्पष्ट सेट होना चाहिए जो वह दूसरे व्यक्ति से करने वाला है। चूंकि वाणिज्यिक अनुबंध एक कानूनी दस्तावेज है जो किसी भी व्यावसायिक उद्यम (वेंचर) के गठन, बातचीत और प्रवर्तन (एनफोर्समेंट) को नियंत्रित करने में शामिल होता है। भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 की धारा 2(h) के तहत, अनुबंध एक ऐसा समझौता है जो कानून द्वारा लागू करने योग्य होता है। इसलिए “यह दो या दो से अधिक पक्षों द्वारा किए गए वादों का एक सेट है और कानूनी रूप से बाध्यकारी समझौता है”। हालाँकि, वाणिज्यिक अनुबंध 1872 के भारतीय अनुबंध अधिनियम और 1963 के विशिष्ट राहत अधिनियम द्वारा भी शासित होता है। चूँकि व्यावसायिक अनुबंध किसी भी व्यावसायिक उद्यम का एक अभिन्न अंग है। वाणिज्यिक अनुबंधों के खंड डराने वालें और आलोचनात्मक हो सकते हैं, जो कानूनी शब्दजाल से भरे हो सकते हैं। चूँकि यह व्यवसाय के पतन का कारण बन सकता है, इसलिए वाणिज्यिक खंडों की अवधारणा को आसान आम भाषा में समझना महत्वपूर्ण है। इसलिए इस लेख में, हम उन मानक खंडों को बताएंगे जो आम तौर पर वाणिज्यिक अनुबंधों में पाए जाते हैं।

मानक आवश्यक खंड 

वाणिज्यिक अनुबंध कई अलग-अलग आकारों में तैयार किए जाते हैं, लेकिन कुछ सामान्य खंड हैं जिनके सभी वाणिज्यिक अनुबंधों में शामिल होने की सबसे अधिक संभावना है। परिणामस्वरूप, वाणिज्यिक अनुबंधों में छह मानक खंड मौजूद हो सकते हैं:

1. क्षतिपूर्ति (इंडेम्निफिकेशन) और दायित्व खंड:

भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 की धारा 124 के तहत क्षतिपूर्ति को परिभाषित किया गया है। लेकिन सरल शब्दों में कहें तो यह नुकसान की भरपाई है। चूँकि एक वाणिज्यिक अनुबंध में दो पक्ष शामिल होते हैं, पक्षों के नाम इस प्रकार हैं –

  • क्षतिपूर्तिकर्ता।
  • क्षतिपूर्ति धारक/ क्षतिपूर्ति प्राप्तकर्ता।

क्षतिपूर्ति पाने वाला वह व्यक्ति है जो नुकसान से बचाने का वादा करता है और जिसके नुकसान की भरपाई करनी होती है। इसलिए यह खंड आमतौर पर एक वाणिज्यिक अनुबंध का मसौदा तैयार करते समय पाया जाता है क्योंकि यह उस पक्ष के लिए एक सुरक्षा कवच के रूप में कार्य करता है जिसे दूसरे पक्ष के व्यवहार के कारण खर्च या नुकसान उठाना पड़ सकता है।

अनुबंध पर हस्ताक्षर करने वाले पक्षों के सभी वैध नियमों और शर्तों के अनुसार वाणिज्यिक अनुबंधों में एक क्षतिपूर्ति खंड को शामिल करने की आवश्यकता है। यह खंड परक्राम्य (नेगोशिएबल) है क्योंकि यह खर्चों और लागतों के लिए दायित्व को किसी अन्य पक्ष पर स्थानांतरित कर देता है, और यह पारस्परिक या एकतरफा खंड हो सकता है। दूसरी ओर, दायित्व खंड उस हिस्सेदारी की मात्रा को दर्शाता है जो प्रत्येक पक्ष किसी भी क्षति की स्थिति में पूर्व निर्धारित कर सकता है। यह वित्तीय या किसी अन्य क्षति को वहन करने वाले किसी भी पक्ष की जिम्मेदारी की सीमा को भी रेखांकित करता है।

2. समाप्ति खंड:

किसी व्यावसायिक संगठन में कई अप्रत्याशित परिस्थितियाँ घटित हो सकती हैं। यह हमेशा नहीं बताता है कि इसे कैसे व्यवस्थित किया गया होगा। ऐसी स्थितियों में अनुबंध समाप्ति चरण पर आ सकते हैं। इसलिए, यह समाप्ति खंड आमतौर पर इस बात को शामिल करता है कि अनुबंध की समाप्ति किस स्थिति में निष्पादित की जानी चाहिए, भले ही अनुबंध के अनुसार कितना भी समय बचा हो।

यह मूल रूप से यह रेखांकित करता है कि:

  • अनुबंध किस आधार पर समाप्त हो सकता है?
  • और समाप्ति के समय अनुबंध अवधि से कैसे निपटें?

3. गोपनीयता और गैर-प्रकटीकरण खंड:

वित्तीय जानकारी, व्यापार रहस्य, ग्राहक सूची और मालिकाना प्रौद्योगिकी और जानकारी की किसी भी अन्य सूची की सुरक्षा किसी भी व्यावसायिक इकाई का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसलिए एक सख्त गोपनीयता खंड निर्धारित करना बहुत महत्वपूर्ण है।

अनुबंध में शामिल सभी पक्षों को किसी भी अर्थ में किसी भी अनधिकृत (अनऑथराइज्ड) पक्ष या व्यक्ति को इसका खुलासा करने से रोकने के लिए खंड का मसौदा तैयार किया जाना चाहिए। यह खंड इसमें शामिल सभी पक्षों की संवेदनशील जानकारी के लिए एक सुरक्षा कवच के रूप में काम करता है, जहां किसी समझौते में दो या दो से अधिक पक्ष होते हैं, वहां संविदात्मक दायित्वों को पूरा करने के लिए विवरणों का आदान-प्रदान हो सकता है। यह खंड प्रत्येक पक्ष के लिए बाध्यकारी प्रकृति का है इसलिए इससे प्रत्येक पक्ष को दूसरे पक्ष की जांच करने में मदद मिलती है ताकि सभी जानकारी सुरक्षित रहे। प्रत्येक व्यवसाय दूसरे से भिन्न होता है इसलिए यह खंड यह सीमा भी निर्धारित करता है कि कोई पक्ष किसी जानकारी को कितना प्रकट कर सकता है या इसके विपरीत।

4. अप्रत्याशित घटना खंड:

अप्रत्याशित घटना एक सामान्य खंड है जिसका अर्थ है “श्रेष्ठ बल”; इसे अंग्रेजी में फोर्स मेजरे कहा जाता है और यह एक फ़्रेंच शब्द है। इस खंड का मुख्य उद्देश्य कोविड-19 महामारी के दौरान व्यावसायिक उद्यमों के सामने आने वाले संकटों के कारण बढ़ा दिया गया है। अब से अप्रत्याशित घटना एक अज्ञेय घटना है जिसे अनुबंध के उल्लंघन में शामिल नहीं किया जा सकता है और किसी भी पक्ष को किसी भी अधूरे दायित्व के लिए उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता है जिसका वादा हस्ताक्षरित समझौते में किया जा सकता है।

यह एक जोखिम आवंटन उपकरण के रूप में काम करता है। इससे दोनों पक्षों को ऐसी स्थिति में लाभ होता है जहां परिस्थिति बेकाबू हो या पक्ष के हाथ में न हो। ऐसी स्थिति में पक्ष दूसरे पक्ष को घटित घटना के बारे में सूचित कर सकते है और ऐसी स्थिति में काम करना अव्यावहारिक है। यह खंड मूल रूप से घटना की पूर्व सूचना और वैध उचित कारण के साथ समझौते में किए गए वादों को लागू करने की प्रक्रिया का वर्णन करता है।

5. शासन और अधिकार क्षेत्र (ज्यूरिसडिक्शन):

आज इस दुनिया में, विदेशी विस्तार काफी नियमित है, क्योंकि वाणिज्यिक अनुबंध भी निजी अंतर्राष्ट्रीय कानून का एक विषय है, यह वाणिज्यिक अनुबंध के शासन को परिभाषित करता है यानी जब अनुबंध एक देश में हुआ और इसका प्रभाव दूसरे देश में होता है। उदाहरण के लिए, एक अनुबंध पर एक देश में प्रस्ताव और स्वीकृति के साथ हस्ताक्षर किए जा सकते हैं, उदाहरण के लिए, इंग्लैंड। लेकिन इंग्लैंड में हस्ताक्षरित अनुबंध भारत में निष्पादित किया जा सकता है, दूसरी ओर, इंग्लैंड में किए गए अनुबंध का विषय जर्मनी में स्थित है और अनुबंध में दोनों पक्ष इटली में अधिवासित (डोमिसाइल) हैं।

तो, यहां सवाल उठता है कि उपरोक्त प्रदर्शित वाणिज्यिक अनुबंध का उल्लंघन किस देश के कानून द्वारा शासित होगा? इसलिए यह शासन अधिकार क्षेत्र खंड हमें उस देश या राज्य को निर्दिष्ट करने की अनुमति देता है जिसका इस अनुबंध पर अधिकार क्षेत्र होगा ताकि यह स्पष्ट हो सके कि किन देशों के कानून लागू होते हैं।

6. विवाद समाधान खंड:

विवाद समाधान खंड एक समाधान तंत्र के रूप में कार्य करता है। विचारों में अंतर एक सामान्य लक्षण है, तदनुसार, विचारों में अंतर असहमति का कारण बन सकते है, और तभी यह खंड क्रियान्वित (इंप्लीमेंट) होता है। जैसा कि ऊपर कहा गया है, विवाद समाधान खंड एक समाधान तंत्र है, यह पक्षों के बीच उत्पन्न होने वाले विवादों को सुलझाने के लिए एक समाधान प्रदान करता है। यह खंड प्रकृति में व्यक्तिपरक (सब्जेक्टिव) है क्योंकि विभिन्न व्यवसायों में अलग-अलग नियम और शर्तें होती हैं, इसलिए यह खंड व्यवसाय से व्यवसाय में भिन्न होता है, उदाहरण के लिए – बातचीत, बिचवई (मिडिएशन), मध्यस्थता (आर्बिट्रेशन) और कई अन्य समाधान चरण।

वाणिज्यिक अनुबंधों की बारीकियों के साथ-साथ खंडों के बारे में जानना क्यों महत्वपूर्ण है

जब एक वाणिज्यिक अनुबंध का मसौदा तैयार किया जाता है तो उसकी बारीकियों को समझना भी महत्वपूर्ण होता है। इससे अनुबंध के विवरण को समझने में मदद मिलती है कि क्या यह फायदेमंद है या नहीं। प्रत्येक खंड को पढ़ने और समझने में समय और प्रयास लगाना महत्वपूर्ण है। इसलिए, अनुबंध के दायित्व को निष्पादित करते समय बाद की अवधि में कोई खामियां नहीं पाई जा सकतीं। हमें अनुबंध में निर्धारित किए गए खंडों की प्रत्येक पंक्ति को समझने की आवश्यकता है, भले ही यह कितना भी कम महत्वपूर्ण क्यों न लगे। बारीक भाग में भुगतान अनुसूची, वितरण (डिलीवरी) तिथि और अन्य दायित्वों के बारे में भी जानकारी शामिल है। इसमें वित्तीय नियम और शर्तें और अस्वीकरण और बहिष्करण आदि के बारे में अन्य जानकारी शामिल हो सकती है, और इसे अनुबंध के खंड भाग में शामिल नहीं किया जा सकता है।

निष्कर्ष

अंत में यह कहा जा सकता है कि वाणिज्यिक अनुबंध एक कानूनी रूप से बाध्यकारी समझौता है। इसलिए, पक्षों को यह स्पष्ट होना चाहिए कि अनुबंध में किसी भी पक्ष द्वारा की गई पेशकश और स्वीकृति से पहले आपके अनुबंध पृष्ठ पर जो खंड निर्धारित किया गया है, वह यह सुनिश्चित करने के लिए है कि समझौते के तहत शामिल पक्षों को विवाद या अनुबंध के उल्लंघन की स्थिति में संरक्षित किया जाता है। यदि आपको अनुबंध के संदर्भ में शामिल किए जा सकने वाले किसी भी खंड के बारे में संदेह है, तो बारीकी के साथ तैयार किए गए अनुबंध को समझने के लिए पेशेवर कानूनी मदद लेने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा, अनुबंध परक्राम्य होते हैं, इसलिए यदि किसी को ऐसी कोई चीज़ मिलती है जो आपको लगता है कि आपके व्यवसाय के लिए फायदेमंद हो सकती है तो आप अनुबंध को और अधिक अनुकूल बनाने के लिए दूसरे पक्ष के साथ बातचीत कर सकते हैं। अंतिम लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि भविष्य में संदर्भ के लिए आपके द्वारा हस्ताक्षरित सभी समझौतों का रिकॉर्ड संरक्षित किया जाना चाहिए। चूँकि यह हमेशा एक व्यवसायी व्यक्ति को संगठित रहने और सभी दायित्वों को समय पर पूरा करने और दूसरों को अपने कर्तव्यों को याद दिलाने में मदद करता है, इन प्रमुख बिंदुओं को अपनाकर एक व्यवसाय स्वामी खुद को और अपने व्यवसाय को किसी भी कानूनी कार्रवाई और वित्तीय विवादों से सुरक्षित रख सकता है।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here