दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 188 

0
143
Criminal Procedure Code

यह लेख Mudit Gupta द्वारा लिखा गया है, जो वर्तमान में मुंबई लॉ एकेडमी विश्वविद्यालय से बीबीए एलएलबी (ऑनर्स) कर रहे हैं। यह लेख दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 188 के सभी पहलुओं, प्रत्यर्पण (एक्सट्राडिशन) कानूनों के साथ इसके संबंध, साथ ही अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) द्वारा किए गए अपराधों के मामलों में न्यायिक प्रश्नों पर चर्चा करता है। इस लेख का अनुवाद Shubhya Paliwal द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

हृदय नाथ रॉय बनाम राम चंद्र (1921) के मामले में कलकत्ता उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने आधिकार क्षेत्र की एक उपयुक्त परिभाषा दी-

“तथ्यों की जांच करने, कानून लागू करने, फैसला सुनाने और उसे अमल में लाने की शक्ति” 

जब भी कोई अपराध होता है और वह विचारण (ट्रायल) के चरण में जाता है, तो पहला सवाल जिसका उत्तर देने की आवश्यकता होती है, वह यह है कि संबंधित मामले पर किस अदालत का अधिकार क्षेत्र होगा। इस प्रश्न के उत्तर के बिना, कोई कानूनी उपचार प्राप्त नहीं किया जा सकता है, क्योंकि इसके बिना विचारण शुरू नहीं हो सकता। इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए और उस भूमि के कानून को पूरी तरह से लागू करने के लिए जहां दंडनीय अपराध से संबंधित मुकदमे का विचारण किया जाना चाहिए, मूल मसौदे (ओरिजिनल ड्राफ्ट) में दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 के अध्याय-XIII में जोड़ा गया था।

सुनवाई शुरू होने से पहले, अदालत के अधिकार क्षेत्र को स्पष्ट किया जाना चाहिए ताकि आरोपी पर एक ही अपराध के लिए दो बार मुकदमा न चलाया जाए। धारा 188 और धारा 189 के तहत प्रदान किए गए प्रावधान ऐसे दो प्रावधान हैं जो अतिरिक्त-क्षेत्रीय (एक्स्ट्रा टेरिटोरियल) अधिकार क्षेत्र के बारे में इस संदेह को स्पष्ट करते हैं।

इस लेख में, परीक्षण और जांच से संबंधित दंड प्रक्रिया संहिता, 1983 के सभी प्रावधान जहां अतिरिक्त-क्षेत्रीय आधिकार क्षेत्र शामिल है, अंग्रेजी न्यायपालिका के दृष्टिकोण, अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय के अधिकार क्षेत्र और विस्तार से एक प्रत्यर्पण संधि के विषय में प्रासंगिकता (रेलेवेंस) के साथ चर्चा की गई है। 

दंड प्रक्रिया संहिता का अध्याय-XIII

दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 के अध्याय-XIII द्वारा जांच के साथ-साथ मुकदमे में आपराधिक अदालतों के अधिकार क्षेत्र से संबंधित प्रावधान भी हैं। यह स्पष्ट रूप से अधिकार क्षेत्र के बारे में बुनियादी (ग्राउंड) नियमों को निर्दिष्ट करता है जिसके माध्यम से एक अदालत किसी विशेष आपराधिक घटना का संज्ञान (कॉग्निजेंस) ले सकती है।

अध्याय के अधिकांश प्रावधान उन मामलों के बारे में बात करते हैं जो केवल भारतीय आधिकार क्षेत्र से संबंधित गतिविधियों से संबंधित हैं, लेकिन धारा 188 और धारा 189 विशेष रूप से उन प्रावधानों को निर्धारित करती हैं जहां विदेशी हस्तक्षेप एक या दूसरे तरीके से शामिल है। चाहे हस्तक्षेप मुकदमे के संबंध में हो या ऐसे सबूत हो जो न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत करने के लिए आवश्यक हैं, कानून के ये दो प्रावधान मामले के निपटान के लिए काम आते हैं।

इस लेख में हम इन प्रावधानों और अन्य संबंधित विषयों पर विस्तार से बात करेंगे। इन दो प्रावधानों के पीछे मुख्य कारण दोहरे दंड (डबल जियोपर्डी) का सिद्धांत था। यह सिद्धांत एक अभियुक्त को एक कानूनी बचाव प्रदान करता है और एक वैध दोषमुक्ति (एक्विटल) या सजा के बाद एक ही आरोप और तथ्यों के लिए बार-बार कोशिश किए जाने से उसकी रक्षा करता है। अपील के मामले में यह सिद्धांत लागू नहीं होता है।

धारा 188 किस बारे में बात करती है

अब देखते हैं कि दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 में भारत के बाहर किए गए दंडनीय अपराधों यानी धारा 188 के संबंध में दिए गए प्रावधान का विवरण क्या है।

जब एक अतिरिक्त-क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र लागू होता है तो धारा 188 परीक्षण और जांच के लिए प्रावधान करती है। प्रावधान की भाषा कहती है कि-

जब कोई अपराध भारत के बाहर किया जाता है-

  1. भारत के नागरिक द्वारा, चाहे खुले समुद्र में या कहीं और; या
  2. ऐसे व्यक्ति द्वारा, जो भारत में पंजीकृत (रजिस्टर्ड) किसी भी जहाज या विमान पर, नागरिक नहीं है,

जहां वह पाया जा सकता है, उसके साथ ऐसे अपराध के संबंध में निपटा जा सकता है जैसे कि वह भारत के भीतर किसी भी स्थान पर किया गया हो। 

इसके अतिरिक्त, इस प्रावधान में एक और बिंदु भी जोड़ा गया है, जो कि यह कहता है की अध्याय-XIII के पूर्ववर्ती (प्रीसेडिंग) खंडों में किसी प्रावधान के होने के बावजूद भी, ऐसे किसी भी अपराध की जांच या मुकदमा भारत में केंद्र सरकार की पूर्व मंजूरी के बिना नहीं किया जाएगा। इसका मतलब यह है कि यदि भारत के नागरिक द्वारा भारत के क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र के बाहर कोई आपराधिक अपराध किया जाता है, तो उस मामले में, उसी अपराध के लिए परीक्षण और जांच भारत के अधिकार क्षेत्र में की जाएगी। साथ ही, यदि कोई भारतीय नागरिक नहीं है और भारत में पंजीकृत किसी जहाज या विमान पर आपराधिक अपराध करता है, तो भी देश के कानूनों के अनुसार भारत में स्थित अदालतों द्वारा मामले की सुनवाई की जाएगी।

इन दोनों मामलों में एकमात्र शर्त यह है कि इस तरह के परीक्षण और पूछताछ के लिए केंद्र सरकार की ओर से मंजूरी की आवश्यकता होती है। ऐसी स्वीकृति के बिना कोई सुनवाई या जांच आगे नहीं बढ़ सकती है।

धारा 189 किस बारे में बात करती है

अब बात करते हैं कानून की धारा 189 की, यह प्रावधान भारत के क्षेत्र के बाहर किए गए दंडनीय अपराधों के लिए साक्ष्य की प्राप्ति के संबंध में केंद्र सरकार को शक्ति प्रदान करता है। यह प्रावधान संहिता की धारा 188 के अनुसार अपराध के बारे में पूछताछ करने की शक्ति का विस्तार करता है। संहिता में इस धारा की भाषा के अनुसार-

केंद्र सरकार, यदि उचित समझती है, तो यह निर्देश दे सकती है कि किसी न्यायिक अधिकारी के समक्ष या उस क्षेत्र के लिए या उस क्षेत्र में या उस क्षेत्र के लिए भारत के राजनयिक (डिप्लोमेटिक) या कांसुलर प्रतिनिधि के समक्ष पेश किए गए बयानों की प्रतियां अदालत द्वारा साक्ष्य के रूप में प्राप्त की जाती है, ऐसे बयान या प्रदर्शन जिस मामले से संबंधित हैं ऐसे किसी भी मामले में, जो भी अदालत जांच या परीक्षण आयोजित करती है वह साक्ष्य लेने के लिए आयोग जारी कर सकती है।

अनिवासी भारतीयों के मामले में इन प्रावधानों की प्रासंगिकता

अनिवासी भारतीयों के लिए इन प्रावधानों की प्रासंगिकता और प्रयोज्यता (एप्लीकेबिलिटी) के बारे में जानने से पहले, आइए पहले यह समझें कि अनिवासी भारतीय कौन है। आयकर अधिनियम, 1961, किसी व्यक्ति को भारतीय निवासी माने जाने या न माने जाने के मानदंड प्रदान करता है। निवास या गैर-निवास के आधार पर किसी व्यक्ति की स्थिति उसके भारत में रहने की अवधि पर निर्भर करती है। रहने की अवधि की गणना प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए दिनों की संख्या में की जाती है जो 1 अप्रैल से 31 मार्च तक होती है। एक व्यक्ति को भारतीय निवासी माना जाएगा यदि वह व्यक्ति आयकर अधिनियम की धारा 6 में निर्धारित शर्तों को पूरा करता है:

  1. व्यक्ति पिछले वर्ष के लिए 182 दिनों की अवधि के लिए भारत में रहा है।
  2. व्यक्ति कुल चार वर्षों के लिए कुल 365 दिनों की अवधि के लिए भारत में रहा है और जब वह भारत में था उस विशेष वर्ष में 60 दिनों या उससे अधिक की अवधि के लिए रहा है।

कोई भी व्यक्ति जो ऊपर उल्लिखित शर्तों को पूरा नहीं करता है, उस पिछले वर्ष में अनिवासी भारतीय माना जाता है।

अब अनिवासी भारतीय के लिए इन प्रावधानों की प्रासंगिकता और प्रयोज्यता को समझते हैं। शब्द “भारत के अनिवासी” स्वयं परिभाषित करता है कि वे देश के क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र में निवासी नहीं हैं, लेकिन यह उन्हें देश के नागरिक होने के अधिकार से वंचित नहीं करता है। चूंकि वे भारत में नहीं रह रहे हैं, लेकिन भारतीय नागरिकता धारण कर रहे हैं, उनके द्वारा किए गए किसी भी दंडनीय अपराध को भारत के कानूनों के अनुसार और भारत के क्षेत्र में स्थित अदालतों में जांच और मुकदमे में रखा जाएगा। लेकिन जैसा कि प्रावधान में उल्लेख किया गया है, भारत के क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र के बाहर किए गए ऐसे किसी भी अपराध के लिए मुकदमा शुरू करने के लिए केंद्र सरकार से मंजूरी ही एकमात्र आवश्यकता है। भारत की केंद्र सरकार की स्वीकृति की आवश्यकता तब होगी जब एक आपराधिक कार्रवाई परीक्षण चरण में शुरू की जाती है और इससे पहले नहीं। इसलिए, परीक्षण केंद्र सरकार की मंजूरी के बिना संज्ञान के चरण से आगे नहीं बढ़ सकता है।

अतिरिक्त-प्रादेशिक आधिकार क्षेत्र के संबंध में अंग्रेजी न्यायपालिका का दृष्टिकोण

रेग बनाम बेनिटो लोपेज़ (1858) इस मामले में जहां विदेशी, उच्च समुद्र पर इंग्लैंड से आने वाले जहाजों में यात्रा कर रहे थे, न्यायालय ने ऐसे अधिकार क्षेत्र के सवाल से निपटने के लिए इस विचाराधीन प्रावधान में अपराधियों की खोज के रूप में ‘पाया’ शब्द की व्याख्या की, जो निम्नलिखित प्रभाव से था:

यदि किसी व्यक्ति पर जो कि ब्रिटिश है, आरोप लगाया जाता है, या किसी भी ब्रिटिश जहाज पर गहरे समुद्र में, या किसी विदेशी बंदरगाह पर कोई अपराध करने का आरोप लगाया जाता है; या यदि कोई व्यक्ति, जो ब्रिटिश विषय नहीं है उस पर उच्च समुद्र पर किसी भी ब्रिटिश जहाज पर कोई अपराध करने का आरोप लगाया गया है, और महामहिम (हर मेजेस्टी) के प्रभुत्व में किसी भी न्यायालय के अधिकार क्षेत्र में पाया जाता है, जिसे इस तरह का संज्ञान होगा और अपराध यदि उसके सामान्य आधिकार क्षेत्र की सीमा के भीतर किया जाता है, तो ऐसे न्यायालय को मामले की सुनवाई करने का अधिकार होगा जैसे कि ऐसा अपराध ऐसी सीमाओं के भीतर किया गया हो: बशर्ते कि इस खंड में निहित कुछ भी अधिनियम 12 और 13 विक्ट. सी. 96 को बदलने या उसमे हस्तक्षेप के लिए नहीं लगाया जाएगा।

न्यायालय ने यह भी कहा कि “पाया” शब्द का व्यापक अर्थ में उपयोग किया गया है और किसी भी न्यायालय को अधिकार क्षेत्र देकर सभी मामलों को शामिल करने के इरादे से कानून में डाला गया था, जिसके स्थानीय आधिकार क्षेत्र में व्यक्ति परीक्षण के समय पाया गया था। इस प्रावधान का उद्देश्य स्थानीय आधिकार क्षेत्र से संबंधित हर मुद्दे को हल करना था। लॉर्ड कैंपबेल, मुख्य न्यायाधीश, ने कहा कि “यदि कैदी को उसकी इच्छा के विरुद्ध अदालत के अधिकार क्षेत्र में लाया गया था, तो उस मामले में, अधिनियम की व्याख्या के अनुसार उसे वहां पाया गया नहीं कहा जा सकता है।” उन्होंने यह भी कहा कि अधिनियम की व्याख्या के अनुसार अभिव्यक्ति “वह मिल सकता है” का अर्थ किसी भी जगह से संबंधित है जहां वह वास्तव में मौजूद है, लेकिन वहां से नहीं जहां उसे उसकी इच्छा के विरुद्ध लाया गया था।

अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय का अधिकार क्षेत्र 

रोम संविधि (स्टेट्यूट) की प्रस्तावना (प्रीएंबल) प्रत्येक राज्य को अपने अधिकार क्षेत्र में किए गए किसी भी और प्रत्येक दंडनीय अपराध पर अधिकार क्षेत्र का प्रयोग करने का कर्तव्य देती है। लेकिन जब दो राज्य किसी विशेष अपराध पर अपने अधिकार क्षेत्र का प्रयोग करने का दावा करते हैं, तो अंतर्राष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय की रोम संविधि आरोपी की राष्ट्रीय स्थिति के लिए मुख्य भूमिका निभाती है। यह प्रावधान करता है कि संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अध्याय VII के प्रावधानों के अनुसार जब तक कि जिस स्थिति में अपराध किया गया था वह सुरक्षा परिषद (सिक्योरिटी काउंसिल) द्वारा न्यायालय को संदर्भित नहीं किया जाता है, न्यायालय दो मामलों में अपने अधिकार क्षेत्र का प्रयोग कर सकता है-

  1. यदि वे देश जो मामले के पक्षकार हैं, संविधि के पक्षकार हैं; या
  2. न्यायालय के आधिकार क्षेत्र को स्वीकार किया गया है।

ये ऐसी शर्तें हैं जो अंतर्राष्ट्रीय अपराध न्यायालय को किसी विशेष मामले की सुनवाई और जांच के साथ आगे बढ़ने का अधिकार देती हैं।

प्रत्यर्पण संधि 

अब बात करते हैं प्रत्यर्पण संधियों के संदर्भ में इन प्रावधानों की भूमिका की। इसे पूरी तरह से समझने के लिए पहले यह समझें कि वास्तव में प्रत्यर्पण होता क्या है। सरल शब्दों में, प्रत्यर्पण एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक आधिकार क्षेत्र एक व्यक्ति को दूसरे अधिकार क्षेत्र में सौंप देता है, जहां उस अधिकार क्षेत्र में लागू कानूनों के अनुसार उस पर (भगोड़ा अपराधी) आपराधिक आरोप लगाया जाता है।

भारत में, एक भगोड़े का प्रत्यर्पण, प्रत्यर्पण अधिनियम, 1962 द्वारा शासित होता है। प्रत्यर्पण कानूनों की प्रयोज्यता पूरी तरह से अन्य देशों के साथ भारत द्वारा हस्ताक्षरित (साइन) संधियों और समझौतों पर निर्भर है।

जैसा कि दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 188 के प्रावधान में दिया गया है, मुकदमे को आगे बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार की मंजूरी आवश्यक है। केंद्र सरकार एक अपराधी को प्रत्यर्पित करने से इंकार कर सकती है यदि वह पहले से ही एक अपराध के लिए भारतीय आधिकार क्षेत्र की अदालतों में मुकदमा चला रहा है और किसी विदेशी देश में उसी अपराध के मुकदमे के लिए वांछित (वांटेड) है। सरकार भारतीय आपराधिक अदालतों में एक अभियुक्त के मुकदमे से भी इनकार कर सकती है, जिसे पहले से ही किसी विशेष अपराध के लिए किसी विदेशी देश में पेश किया जा चुका है। केंद्र सरकार के इस दृष्टिकोण के पीछे का कारण “दोहरे दंड” का सिद्धांत है, क्योंकि यह निष्पक्ष और न्यायसंगत (इक्विटेबल) न्याय के मूल उद्देश्य को विफल कर देगा।

इन मामलों में, शामिल देशों के राजनयिक संबंध अपराध की सुनवाई और जांच के अन्य पहलुओं के संबंध में निर्णय लेने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

प्रमुख निर्णय 

सनूप बनाम केरल राज्य (2018)

यह भारत में उन पहले मामलों में से एक है जिसमें दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 188 के संदर्भ में जांच के दायरे पर चर्चा की गई थी। इस मामले में, अदालत ने एक ऐसे मामले की सुनवाई की जहां अपराध कथित रूप से दुबई में हुआ था। इस मामले में न्यायालय ने कहा था कि ऐसे मामलों में जहां भारत के बाहर अपराध किया गया है, एक अभियुक्त की गिरफ्तारी और हिरासत में लेना कानूनी रूप से तब तक स्वीकार्य नहीं है जब तक कि केंद्र सरकार की मंजूरी नहीं दी जाती है।

न्यायालय ने, इस मामले में, “पूछताछ” शब्द की व्याख्या को विस्तृत किया। न्यायालय ने दंड प्रक्रिया संहिता, 1908 की धारा 188 के प्रावधान के अनुसार व्याख्या करते हुए कहा कि गिरफ्तारी और हिरासत के चरणों को भी केंद्र सरकार से मंजूरी की आवश्यकता होगी।

नेरेला चिरंजीवी अरुण कुमार बनाम आंध्र प्रदेश राज्य (2021)

इस मामले में, सर्वोच्च न्यायालय की खंडपीठ ने कहा कि, दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 188 के प्रावधान के अनुसार, एक भारतीय नागरिक के खिलाफ उसके द्वारा किए गए अपराधों के लिए एक आपराधिक मामले की सुनवाई और भारत के बाहर कार्रवाई की जगह, केंद्र सरकार की मंजूरी के बिना शुरू नहीं हो सकती। हालाँकि, संज्ञान के समय ऐसी पूर्व स्वीकृति की आवश्यकता नहीं होती है। अदालत द्वारा अपराध का संज्ञान लेने के बाद के चरणों के लिए ही इसकी आवश्यकता होती है।

उसी का तर्क था-

  1. जांच पहला चरण है जो मुकदमे के बाद के चरणों की प्रासंगिकता को निर्धारित करता है क्योंकि दंडनीय अपराधों में सबूत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और अगर जांच में देरी होती है तो वे उपलब्ध नहीं हो सकते हैं।
  2. ये प्रावधान केंद्र सरकार के कंधों से अनावश्यक बोझ को हटाते हैं, जो कि अगर केंद्र सरकार को दंडनीय अपराधों की जांच के लिए भी प्रतिबंधों के संबंध में निर्णय लेने होते तो शायद ऐसा नहीं होता।

सरताज खान बनाम उत्तराखंड राज्य (2022)

इस मामले में, सर्वोच्च न्यायालय ने माना कि भारत के बाहर किए गए अपराध के मुकदमे के लिए दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 188 के तहत केंद्र सरकार की मंजूरी केवल तभी जरूरी है, जब पूरा अपराध भारत के बाहर किया गया हो। यदि अपराध के कुछ हिस्से भारत के क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र के भीतर किए गए थे और अन्य हिस्से भारत के बाहर किए गए थे, तो उस मामले में, ऐसे अपराध के परीक्षण और जांच के लिए किसी भी स्तर पर किसी मंजूरी की आवश्यकता नहीं है।

हाल के एक मामले के साथ इस प्रावधान की प्रासंगिकता

इसी साल 29 मई को पंजाब के जाने-माने राजनेता और गायक सिद्धू मूसेवाला की लॉरेंस बिश्नोई गैंग (आरोपों के अनुसार) ने हत्या कर दी थी। जैसा कि लॉरेंस बिश्नोई खुद इस समय तिहाड़ जेल में है, गिरोह के एक अन्य सदस्य गोल्डी बराड़ ने कथित तौर पर कनाडा में बैठकर सिद्धू मूसेवाला की हत्या की योजना बनाई थी। अब उसे यूएसए में गिरफ्तार कर लिया गया है क्योंकि वह कनाडा से यूएसए भाग गया था। जैसा कि भारत और यूएसए के बीच प्रत्यर्पण संधि है, उसे जल्द ही भारत लाया जाएगा क्योंकि वह भारतीय अधिकार क्षेत्र में एक वांछित (वांटेड) अपराधी है और सिद्धू मूसेवाला की हत्या के लिए उस पर मुकदमा चलाया जाएगा क्योंकि आपराधिक गतिविधि भारत की न्यायिक भूमि पर की गई है। दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 188 के अनुसार, उस पर भारतीय न्यायालयों में मुकदमा चलाया जाएगा, क्योंकि इस मामले में आधिकार क्षेत्र भारत में आएगा।

निष्कर्ष

एक न्यायिक मुद्दा अपने आप में किसी विशेष मामले के भाग्य का फैसला करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। यह पहला और महत्वपूर्ण प्रश्न है, जिसका उत्तर वाद संस्थित किए जाने से पहले ही दिया जाना चाहिए। इस प्रकार, जब कोई मामला विचारण चरण में जाता है तो न्यायक्षेत्र और प्रचलित कानूनों के बारे में पूर्ण स्पष्टता आवश्यक है। यह लेख अधिकांश सूचनाओं को इकट्ठा करने और संश्लेषित (सिंथेसिस) करने का एक प्रयास है जो उन मामलों में परीक्षण और जांच के मुद्दे से संबंधित है जहां अतिरिक्त प्रादेशिक आधिकार क्षेत्र शामिल हैं, जिसके लिए दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 188 और धारा 189 के तहत प्रावधान दिए गए हैं। 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

क्या किसी विशेष मामले में दो से अधिक आधिकार क्षेत्र शामिल हो सकते हैं?

हां, किसी विशेष मामले में दो से अधिक आधिकार क्षेत्र शामिल हो सकते हैं।

भारत के साथ कितने देशों की प्रत्यर्पण संधि है?

भारत की अभी 48 देशों के साथ प्रत्यर्पण संधि है।

संदर्भ 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here