कंपनी कानून में प्रमोटर्स की भूमिका 

0
556

यह लेख Pramit Bhattacharya, Sujitha.S के द्वारा लिखा गया है और Danish Ur Rahman के द्वारा अद्यतन (अपडेट) किया गया है। इस लेख में लेखक किसी कंपनी के प्रमोटर की भूमिका और स्थिति के बारे में बात करता हैं। यह लेख एक प्रमोटर के कर्तव्यों और उत्तरदायित्व पर प्रकाश डालता है और कंपनी के निगमन से पहले और निगमन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद प्रासंगिक कानूनी मामले और कानूनी प्रावधानों के संदर्भ में प्रमोटर की स्थिति पर भी गौर करता है। इस लेख का अनुवाद Pradyumn Singh के द्वारा किया गया है। 

Table of Contents

परिचय 

किसी कंपनी को स्थापित करना कोई एक दिन का काम नहीं है। इससे पहले कि कोई फर्म अपना अंतिम रूप ले सके, उसे कई प्रक्रियाएं पूरी करनी होंती है। प्रमोटर्स प्रक्रिया की शुरुआत से ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। निगम बनाने की प्रक्रिया व्यापक है, और इसमें कई चरण शामिल होते हैं। गठन प्रक्रिया का पहला चरण ‘प्रचार’ (प्रमोशन) होती है। प्रमोटर के रूप में जाना जाने वाला एक व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह इस स्तर पर व्यवसाय शुरू करने की अवधारणा के साथ आता है। किसी फर्म को निगमित करने के लिए विभिन्न प्रक्रियाओं को पूरा करना होता है। प्रमोटर इन कार्यों को अंजाम देते हैं और फर्म की स्थापना करते हैं। प्रमोटर्स शब्द का प्रयोग भारतीय कंपनी मामलों में अक्सर किया जाता है। भारतीय कंपनी अधिनियम, 1956 को प्रमोटरों पर दायित्व तय करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन इसे कहीं भी परिभाषित नहीं किया गया है और सामान्य कानूनी सिद्धांत के तहत उनकी स्थापित स्थिति को स्वीकार कर लिया गया है। इसके बाद, भारतीय कंपनी अधिनियम, 2013 ने पहली बार इस शब्द को परिभाषित किया। यह एक आम ग़लतफ़हमी है कि प्रमोटरों का काम तब तक जारी रहता है जब तक कि व्यवसाय ने संपत्ति नहीं खरीद ली, या प्रारंभिक धन नहीं जुटा लिए या फिर जब तक निदेशक मंडल ने कंपनी की गतिविधियों का नियंत्रण अपने हाथ में नहीं ले लिया। जबकि, कंपनी अधिनियम 2013 के विभिन्न प्रावधानों की समीक्षा से पता चलता है कि जब निदेशक मंडल कंपनी के व्यवसाय का नियंत्रण अपने हाथ में ले लेता है तब भी प्रमोटरों की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इसे उस अवधि तक ले जाया जा सकता है जब कंपनी एक चालू संस्था के रूप में काम कर रही हो और यहां तक ​​कि उस समय तक भी जब कंपनी के कार्य ख़त्म हो रहे हों।

प्रमोटर्स की परिभाषा 

“प्रमोटर्स” वाक्यांश की परिभाषा धारा 2 (69) के कंपनी अधिनियम, 2013 में परिभाषित की गई है। इस शब्द का उपयोग विशेष रूप से अधिनियम की धारा  35, 39, 40, 300 और 317 में किया गया है। अधिनियम की धारा 2 (69) में कहा गया है कि प्रमोटर वह व्यक्ति है जिसका नाम कंपनी के प्रॉस्पेक्टस में नामित है, वार्षिक रिटर्न में शामिल है, या कंपनी के मामलों पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नियंत्रण रखता है, जैसे एक हितधारक, निदेशक के रूप में, या जिसके निर्देश पर निदेशक मंडल कार्य करता है। सरल शब्दों में, एक प्रमोटर वह व्यक्ति होता है जो विभिन्न प्रारंभिक कदम उठाता है जैसे कंपनी का प्रॉस्पेक्टस बनाना, बाजार में प्रतिभूतियों (सेक्यूरिटी) को प्रवाहित करना आदि, लेकिन यदि कोई व्यक्ति पेशेवर क्षमता में ऐसा कर रहा है, तो उसे प्रमोटर नहीं माना जाता है। बोशर बनाम रिचमंड लैंड कंपनी (1892) मे प्रमोटर शब्द को ऐसे व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया गया है जो किसी निगम का निगमन और संगठन करता है। वह उन व्यक्तियों को एक साथ लाता है जो उद्यम में रुचि रखते हैं, सदस्यता प्राप्त करने में सहायता करते हैं, और उस तंत्र को फिर गति प्रदान करते हैं और  गठन की ओर ले जाती है।

वैधानिक परिभाषा – कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 2(69)

कंपनी अधिनियम, 2013 में प्रमोटर की एक वैधानिक परिभाषा शामिल है, जो कमोबेश (मोर या लेस) कार्यात्मक श्रेणियों के संदर्भ में भी है:  प्रमोटर का मतलब एक व्यक्ति है ;

  1. जिसे प्रॉस्पेक्टस में इस तरह नामित किया गया है या कंपनी द्वारा उल्लिखित वार्षिक रिटर्न में पहचाना गया है (धारा 92)। 
  2. जिसका कंपनी के मामलों पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नियंत्रण है, चाहे शेयरधारक, निदेशक या अन्यथा किसी रूप में। 
  3. जिनकी सलाह, निर्देशों या आदेशों के अनुसार कंपनी का निदेशक मंडल कार्य करता है, परंतु पेशेवर क्षमता में कार्य करने वाले व्यक्तियों को शामिल नहीं किया गया है।

प्रमोटर्स के प्रकार 

जैसा कि ऊपर कहा गया है, एक प्रमोटर वह होता है जो किसी कंपनी के गठन का विचार रखता है। एक व्यक्ति, व्यक्तियों का समूह, कोई फर्म या कंपनी, प्रमोटर के रूप में कार्य कर सकता है। एक प्रमोटर सामयिक (ऑकेजनल), पेशेवर, प्रबंधन या वित्तीय प्रमोटर हो सकता है। एक पेशेवर प्रमोटर वह होता है जो कंपनी के चालू होने पर हितधारकों को कंपनी का शासन सौंपता है। वित्तीय प्रमोटर वे प्रमोटर होते हैं, जो वित्तीय संस्थानों या बैंकों को बढ़ावा देते हैं। इनका मुख्य उद्देश्य बाजार की वित्तीय स्थिति का आकलन करना और उचित समय पर एक कंपनी बनाना है। प्रमोटरों को प्रबंधित करने के मामले में, वे न केवल कंपनी के गठन में मदद करते हैं बल्कि जब कंपनी बन जाती है, तो उन्हें कंपनी में प्रबंधन एजेंसी का अधिकार मिल जाता है। सामयिक प्रमोटर वे होते हैं जिनका मुख्य काम कंपनी चलाना और सभी प्रारंभिक कार्य करना होता है। हालाँकि वे प्रचार (प्रमोशन) का काम नियमित रूप से नहीं करते हैं, फिर भी वे एक कंपनी स्थापित कर सकते हैं और फिर अपने मूल पेशे में वापस जा सकते हैं।

पेशेवर प्रमोटर 

  • पेशेवर प्रमोटर वे लोग होते हैं जो नए व्यावसायिक उद्यमों को बढ़ावा देने में विशेषज्ञ होते हैं।
  • पेशेवर प्रमोटर एक नई कंपनी की स्थापना के लिए सभी कदम उठाते हैं; उनके पास विभिन्न व्यवसायों को बढ़ावा देने का वर्षों का अनुभव होता है, और उस अनुभव के साथ, वे पेशेवर रूप से एक कंपनी का प्रचार करते हैं।
  • पेशेवर प्रमोटरों को व्यवसाय के रूप में कंपनियों का प्रचार करना होता है। पेशेवर प्रमोटर ज्यादातर सीधे तौर पर किसी विशिष्ट कंपनी से नहीं जुड़े होते हैं क्योंकि उनका व्यवसाय विभिन्न अन्य कंपनियों के प्रमोटर के रूप में होता है। प्रमोशन के समय ही वे किसी खास कंपनी से जुड़े होते हैं।
  • एक बार जब पेशेवर प्रमोटर कंपनी का प्रचार-प्रसार पूरा कर लेते हैं, तो वे कंपनी का प्रबंधन अपने मालिकों या शेयरधारकों को सौंप देते हैं, और फिर वे बढ़ावा देने के लिए किसी अन्य नए व्यावसायिक उद्यम या किसी अन्य कंपनी में चले जाते हैं।

सामयिक प्रमोटर 

  • सामयिक प्रमोटर्स  नियमित आधार पर किसी कंपनी के प्रचार कार्य में शामिल नहीं होते हैं, और ना ही उसके काम को प्रचार करते है।
  • पेशेवर प्रमोटरों के विपरीत, सामयिक प्रमोटर समय-समय पर कंपनियों की एक श्रृंखला को बढ़ावा नहीं देते हैं; वे केवल सीमित संख्या में उन कंपनियों का प्रचार करते हैं जिन्हें वे बढ़ावा देना चाहते हैं।
  • चूँकि कभी-कभी प्रमोटरों का किसी कंपनी को बढ़ावा देने के अलावा अपना व्यवसाय या पेशा होता है और एक बार प्रचार कार्य पूरा हो जाने के बाद वे कंपनी का प्रबंधन कंपनी के मालिकों या शेयरधारकों को सौंप देते हैं, और वे अपने पेशे में वापस चले जाते हैं।
  • आम तौर पर, कभी-कभार प्रमोटर की रुचि किसी कंपनी को बढ़ावा देने या कंपनी को फ्लोटिंग स्टेज में लाने में मदद करने में होती है। वे अपने विचारों से किसी कंपनी को अस्तित्व में लाना पसंद करते हैं। सामयिक प्रमोटर वकील, अकाउंटेंट, डॉक्टर या कोई अन्य पेशेवर हो सकते हैं; यदि उन्हें किसी कंपनी को बढ़ावा देने में रुचि है, तो वे कभी-कभार प्रमोटर बन जाते हैं।

वित्तीय प्रमोटर 

  • कुछ वित्तीय संस्थान कभी-कभी नए व्यावसायिक उद्यमों को अस्तित्व में लाकर उनकी सहायता करते हैं, और वे उनके प्रमोटर बन जाते हैं और कंपनी का प्रचार-प्रसार उसी तरह करते हैं जैसे एक सामान्य प्रमोटर करता है।
  • अधिकांश वित्तीय संस्थान आगामी व्यवसायों को वित्तीय सहायता और वित्तीय मार्गदर्शन प्रदान करते हैं और उन्हें व्यापार जगत में अपने व्यावसायिक उद्यम शुरू करने में मदद करते हैं।
  • एक कंपनी को अपने अस्तित्व के लिए पूंजी की आवश्यकता होती है और प्रमोटर कंपनी को अस्तित्व में लाने के लिए काम करता है। वित्तीय प्रमोटर कंपनी को उसकी पूंजी का वित्तपोषण (फन्डिंग) करके मदद करता है।
  • वित्तीय प्रमोटर अक्सर नए उद्यमियों के साथ सहयोग करते हैं जो निवेश करने के इच्छुक होते हैं और उन्हें नए व्यवसायों में निवेश करने के लिए सहायता करते हैं, और इस प्रकार वित्तीय सहायता प्राप्त करके नए व्यवसायों को बढ़ावा देते हैं।
  • वित्तीय प्रवर्तक किसी कंपनी को अस्तित्व में लाने के लिए आवश्यक प्रबंधन और तकनीकी विशेषज्ञता प्रदान करते हैं।

उद्यमशील प्रमोटर 

  • एक उद्यमी की भूमिका एक आरंभकर्ता और एक प्रमोटर की होती है। उद्यमी एक प्रमोटर भी होता है, क्योंकि वह प्रमोटर की तरह ही सभी शुरुआती काम करता है, जैसे व्यवसाय के लिए सही सदस्यों को ढूंढना, कंपनी के लिए उसके नाम पर अनुबंध करना और व्यवसाय या कंपनी को अस्तित्व में लाना।
  • ऐसे व्यक्ति जो व्यवसाय के लिए विचार रखते हैं और कंपनी के प्रचार के लिए आवश्यक सभी आवश्यक कदम उठाते हैं, वह उद्यमशील प्रमोटर कहलाते हैं।
  • इस प्रकार के प्रमोटर एक व्यवसाय इकाई स्थापित करने और उसे आकार देने के लिए आवश्यक कदम उठाते हैं और वे कंपनी का अंतिम नियंत्रण और प्रबंधन भी करते हैं। अधिकतर, संस्थापक जो प्रचार करता है वह उद्यमशील प्रमोटर होता है।
  • उद्यमशील प्रमोटर वे होते हैं जो कंपनी के प्रचार-प्रसार के लिए जमीनी स्तर पर काम करते हैं क्योंकि वे अधिकतर संस्थापक होते हैं, और वे कंपनी के प्रचार के दौरान होने वाले सभी जोखिमों के लिए उत्तरदायी होते हैं।
  • भारत में उद्यमशील प्रमोटरों का सबसे अच्छा उदाहरण टाटा, बिरला और रिलायंस समूह है, जहां खुद संस्थापकों ने कंपनी का सारा प्रचार किया है।

प्रमोटर के कार्य

एक प्रमोटर किसी कंपनी के निर्माण में विभिन्न कार्य करता है, वो कल्पना करने से लेकर विचार को वास्तविकता में बदलने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाता है। प्रमोटर के कुछ कार्य निम्नलिखित हैं –

  • प्रमोटर का एक मुख्य कार्य कंपनी के गठन के उदेश्य को समझना है
  • प्रमोटर इस विचार की विकास क्षमता और संभावनाओं को देखता है कि कंपनी का गठन लाभदायक और व्यावहारिक होगा या नहीं।
  • विचार की कल्पना हो जाने के बाद, प्रमोटर विचार को वास्तविकता में बदलने के लिए उपलब्ध संसाधनों को एकत्रित और व्यवस्थित करता है।
  • प्रमोटर कंपनी का नाम तय करता है और कंपनी के आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन (ए ओ ए) और मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन (एम ओ ए) से संबंधित सामग्री का भी निपटारा करता है।
  • प्रमोटर वह है जो यह तय करता है कि कंपनी का मुख्य कार्यालय कहाँ स्थित होगा। प्रमोटर महत्वपूर्ण पदों के लिए लोगों या संघों को नामांकित भी करता है। उदाहरण के लिए, प्रमोटर पहली बार कंपनी के बैंकरों, लेखा परीक्षकों (ऑडिटर) और निदेशकों की नियुक्ति कर सकता है।
  • प्रमोटर अन्य सभी आवश्यक दस्तावेज भी तैयार करता है जो एक कंपनी को शामिल करने के लिए आवश्यक होते हैं।
  • प्रमोटर को एक विस्तृत जांच से गुजरना होगा, और खोजे गए विचार से संबंधित सभी अवधारणाओं का विश्लेषण करने के बाद, प्रमोटर को लागत, लाभप्रदता, उत्पादन, उत्पाद की मांग, बाजार में ऐसे उत्पाद की आपूर्ति आदि के बारे में भी सोचना चाहिए।
  • कंपनी बनाने के लिए आवश्यक सभी संसाधन जुटाने के लिए प्रमोटर को कंपनी की ओर से तीसरे पक्ष के साथ प्रारंभिक अनुबंध करना होता है। प्रमोटर सामग्री, भूमि और मशीनरी की खरीद के लिए अनुबंध करता है, और वह कंपनी के प्रारंभिक कामकाज के लिए कर्मचारियों की भर्ती भी करता है।
  • प्रमोटर यह तय करता है कि कंपनी के (एम ओ ए) और (ए ओ ए) दोनों पर हस्ताक्षरकर्ता कौन हो सकता है। हस्ताक्षरकर्ता वे होते हैं जो कंपनी के निदेशक बन जाते हैं, और प्रमोटर को ऐसे हस्ताक्षरकर्ताओं से लिखित सहमति मिलती है कि वे निदेशक के रूप में कार्य करेंगे।
  • प्रमोटर कंपनी के प्रचार की अवधि के दौरान विज्ञापन और विपणन (मार्केटिंग) रणनीतियों के माध्यम से कंपनी के लिए सभी प्रचार करता है। 

किसी प्रमोटर की कानूनी स्थिति को परिभाषित करना बहुत कठिन काम हो सकता है। उसे कंपनी का कर्मचारी, ट्रस्टी या एजेंट नहीं माना जा सकता। जब कंपनी ट्रैक पर होती है तथा बोर्ड और प्रबंधन द्वारा नियंत्रित की जाती है तो प्रमोटर की भूमिका समाप्त हो जाती है।

प्रमोटर की कानूनी स्थिति

किसी कंपनी के प्रमोटर की कानूनी स्थिति को समझना बहुत जटिल है। प्रमोटर की कानूनी स्थिति को ठीक करना कठिन है, भले ही वह कंपनी को अस्तित्व में लाने के लिए सभी काम करता हो। प्रमोटर की कानूनी स्थिति नीचे विस्तार से बताई गई है:

प्रमोटर कोई एजेंट नहीं है

प्रमोटर को किसी कंपनी का एजेंट बनाने के लिए उस कंपनी को अस्तित्व में होना चाहिए, लेकिन कंपनी के प्रचार के दौरान कंपनी पंजीकृत नहीं होती है, और इसलिए प्रमोटर भी एजेंट नहीं होते है, और वह उस कंपनी की तरफ से व्यक्तिगत रूप से दर्ज किए गए अनुबंधों के लिए उत्तरदायी नहीं होते है। 

जबकि अनुबंध कंपनी की ओर से होता है, इसलिए कंपनी को इसकी पुष्टि करनी होती है; यदि उसके पास अनुसमर्थन करने की शक्ति नहीं है और प्रमोटर फिर भी तीसरे पक्ष के साथ अनुबंध करता है, तो इस मामले में प्रमोटर उत्तरदायी होगा। इसलिए, प्रमोटर व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी होगा लेकिन वह कंपनी के एजेंट के रूप में उत्तरदायी नहीं हो सकता है।

प्रमोटर किए गए खर्चों का हकदार नहीं होता है

प्रमोटर कंपनी के अस्तित्व में आने के लिए अपनी क्षमता से काम करता है, और वह इस प्रसार से होने वाले खर्च का हकदार नहीं है।

यदि प्रमोटर ने कंपनी के प्रचार के दौरान कुछ खर्च किया है, तो कंपनी को ऐसे खर्चों के लिए प्रमोटर को प्रतिपूर्ति करनी होगी। इसलिए, प्रमोटर कानूनी तौर पर प्रमोशन के दौरान कंपनी की ओर से किए गए किसी भी खर्च का हकदार नहीं होता है।

प्रमोटर और उसका पारिश्रमिक (रैम्यूनरेशन)

कंपनी प्रमोटर को पारिश्रमिक दे सकती है, लेकिन कंपनी के लिए प्रमोटर को उसके द्वारा किए गए काम के लिए पारिश्रमक देना अनिवार्य नहीं है। पारिश्रमिक का भुगतान प्रमोटर को कंपनी के प्रचार के दौरान उसके द्वारा किए गए कार्य के लिए एकमुश्त (लम्प सम) भुगतान या कमीशन का भुगतान करके किया जा सकता है।

आम तौर पर, यदि कंपनी का प्रचार कंपनी के मालिकों या शेयरधारकों के पास है, तो पारिश्रमिक की अवधारणा सारहीन है, लेकिन पेशेवर प्रमोटरों के संदर्भ में, जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है, उनका पारिश्रमिक अनिवार्य है, क्योंकि पेशेवर प्रमोटरों का एकमात्र व्यवसाय किसी कंपनी को बढ़ावा देना है, इसलिए उन्हें भुगतान किया जाना चाहिए। पेशेवर प्रमोटरों को उन विभिन्न कंपनियों से पारिश्रमिक मिलता है जिनका उन्होंने प्रचार किया है।

प्रमोटरों को शेयर या डिबेंचर का आवंटन 

कंपनी प्रमोटरों को शेयर या डिबेंचर लेने की अनुमति दे सकती है और उन्हें आवंटित कर सकती है, या वे भविष्य की तारीख में अपनी प्रतिभूतियां (सेक्यूरिटीस) खरीदने का विकल्प भी दे सकते हैं। यदि प्रमोटरों को शेयर आवंटित किए जाते हैं, तो वे कंपनी के शेयरधारक बन जाते हैं, और इस प्रकार उन्हें कुछ हद तक कंपनी के स्वामित्व का भी हक प्राप्त हो जाता है।

भारतीय कानून कंपनियों के प्रमोटरों को कर्मचारी स्टॉक विकल्प योजना (ईएसओपी) देने से रोकता है। भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (शेयर आधारित कर्मचारी लाभ और  इक्विटी) विनियम, 2021 के विनियम 2(1)(i) और कंपनी (शेयर पूंजी और डिबेंचर जारी करना) नियम, 2014 का नियम 12 के अनुसार ईएसओपी देने पर यह प्रतिबंध प्रदान किया गया है। 

ये नियम और विनियम सूचीबद्ध कंपनियों पर लागू होते हैं। प्रमोटर्स को कर्मचारियों की परिभाषा से बाहर रखा गया है, और इस प्रकार उन्हें कर्मचारी स्टॉक विकल्प (ईएसओपी) देना प्रतिबंधित है।

यह प्रतिबंध उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डिपार्ट्मन्ट ऑफ प्रमोशन एंड इन्टर्नल ट्रेड) के अंतर्गत पंजीकृत स्टार्टअप के प्रमोटरों पर लागू नहीं होता है। कंपनी कानून समिति (सीएलसी) ने अपने 2016 के रिपोर्ट के माध्यम से छूट प्रदान की है। सीएलसी ने सिफारिश की कि स्टार्टअप्स को प्रमोटरों को कर्मचारी स्टॉक विकल्प (ईएसओपी) देने की अनुमति दी जानी चाहिए, क्योंकि वे कर्मचारी या पूर्णकालिक निदेशक के रूप में काम कर सकते हैं। प्रमोटरों को ईएसओपी का अनुदान स्टार्टअप को नकदी प्रवाह को प्रभावित किए बिना पर्याप्त मुआवजा देने की अनुमति देगा।

प्रमोटर के कर्तव्य

कंपनी बनाने वाले प्रमोटर्स के कंपनी के प्रति कुछ बुनियादी कर्तव्य होते हैं। एक प्रमोटर का कंपनी के साथ भरोसा और विश्वास का रिश्ता होता है, यानी कि एक प्रत्ययी (फिडूशीएरी) रिश्ता। इस भरोसेमंद रिश्ते को ध्यान में रखते हुए, प्रमोटर कंपनी के गठन से संबंधित सभी भौतिक तथ्यों का खुलासा करने के लिए बाध्य होते है। प्रमोटर का यह भी दायित्व है कि वह किसी संपत्ति को खरीदने और फिर उसे लाभ के लिए कंपनी को बिना कोई खुलासा किए बेचने जैसी प्रचार गतिविधियों को अंजाम देते समय कोई गुप्त लाभ न ले। प्रमोटर को विभिन्न पक्षों के साथ लेनदेन करते समय मुनाफा कमाने से नहीं रोका जाता है। इसमें एकमात्र शर्त यह है कि वह इस तरह के मुनाफे का खुलासा करने के कर्तव्यवध्य है और कोई गुप्त तरह से फायदा नहीं लेता है।

प्रमोटर्स की प्रत्ययी स्थिति

किसी कंपनी के संबंध में प्रमोटर की प्रत्ययी  स्थिति को सबसे पहले एर्लांगर बनाम न्यू सोम्ब्रेरो फॉस्फेट कंपनी (1878) के मामले में समझाया गया था। इस मामले में लॉर्ड केर्न्स ने कहा कि प्रमोटर्स निस्संदेह प्रत्यय स्थिति में हैं। कंपनी का निर्माण उन्हीं के हाथ में होता है। उनके पास यह परिभाषित करने की शक्ति है कि कंपनी कब और कैसे, किस आकार में और किसकी देखरेख में अस्तित्व में आएगी और एक व्यावसायिक निगम के रूप में कार्य करना शुरू करेगी।

चूँकि किसी कंपनी के प्रमोशन की अवधारणा प्रस्तावित कंपनी के संबंध में प्रमोटर को बहुत लाभप्रद स्थिति प्रदान करती है, इसलिए अदालतों द्वारा प्रमोटर पर प्रत्ययी स्थिति की जिम्मेदारी तय की जाती है। एक प्रमोटर का पहला और सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्य यह है कि यदि वह कंपनी के साथ लेनदेन के माध्यम से किसी भी प्रकार का लाभ प्राप्त करता है और शेयरधारकों से धन प्राप्त करता है, तो उसे ऐसे लेनदेन से संबंधित सभी तथ्यों का ईमानदारी से खुलासा करना चाहिए।

प्रमोटर की प्रत्ययी स्थिति को एर्लांगर बनाम न्यू सोम्ब्रेरो फॉस्फेट कंपनी (1878) मामले में समझाया गया है, जो निम्नलिखित है । 

मामले के तथ्य

एर्लांगर के नेतृत्व में लोगों के एक समूह ने 55,000 यूरो में एक द्वीप खरीदा जिसमें फॉस्फेट की खदानें थीं। फॉस्फेट कंपनी के नाम से एक कंपनी को उसी द्वीप पर स्थापित किया गया था, और एर्लांगर कंपनी का प्रमोटर था। एर्लांगर ने पांच व्यक्तियों को कंपनी के निदेशक के रूप में नामित किया, जिनमें से दो विदेश में थे, और तीन अन्य में से दो पूरी तरह से एर्लांगर के नियंत्रण में थे। तीन निदेशकों ने 1,10,000 यूरो में एर्लांगर से द्वीप खरीदा, एक प्रॉस्पेक्टस जारी किया गया और कंपनी के शेयर वितरित किए गए। शेयरधारकों ने अपनी पहली बैठक में भूमि की खरीद को अपनाया, लेकिन तथ्यों का खुलासा नहीं किया गया। कंपनी विफल हो गई, और परिसमापक (लिक्विडैटर) द्वारा प्रमोटर पर लाभ की वापसी के लिए और हितों के टकराव के खुलासे के लिए मुकदमा दायर किया गया।

मामले का मुद्दा

क्या प्रमोटर पर कंपनी के साथ भरोसेमंद संबंध होने के बावजूद परस्पर विरोधी हितों का खुलासा नहीं करने के लिए मुकदमा दायर किया जाएगा?

मामले का फैसला

प्रमोटर की ओर से एकमात्र तर्क यह था कि कंपनी के निदेशक मंडल को एर्लांगर से द्वीप की इस तरह की खरीद के तथ्यों की जानकारी थी। अदालत ने इस दलील को खारिज कर दिया और कहा कि अगर प्रमोटर द्वीप को कंपनी को बेचने का प्रस्ताव रखता है, तो उस पर यह ज़िम्मेदारी है कि वह कंपनी को ऐसे निदेशकों का एक समूह प्रदान करे, जिनके पास यह जानकारी हो कि वे जिस संपत्ति को खरीदने जा रहे हैं, वह प्रमोटर की संपत्ति है। निदेशकों का यह समूह सक्षम और निष्पक्ष होना चाहिए, ताकि यह तय किया जा सके कि खरीदारी की जानी चाहिए या नहीं। कंपनी के निदेशक मंडल को ऐसी खरीद में स्वतंत्र और निष्पक्ष होना चाहिए। इस मामले में, द्वीप को बोर्ड के केवल तीन निदेशकों द्वारा खरीदा गया था और जिनमें से दो पूरी तरह से एर्लांगर के नियंत्रण में थे, इसलिए प्रमोटर का बोर्ड पर नियंत्रण था, और बोर्ड के विशिष्ट निदेशकों को तथ्यों का खुलासा करना कंपनी को तथ्यों का खुलासा नहीं माना जा सकता है। इस मामले में, प्रमोटर को उत्तरदायी और प्राप्त लाभ वापस करने का हकदार ठहराया गया था।

प्रमोटर को अत्यंत सावधानी और उचित परिश्रम से काम करना चाहिए

प्रमोटर का कर्तव्य है कि वह कंपनी के प्रचार के दौरान और कंपनी का काम करते समय पूरी सावधानी और लगन से काम करे, क्योंकि कंपनी के प्रचार के दौरान प्रमोटर को बहुत सारी शक्तियाँ और अधिकार प्राप्त होते हैं, इसलिए उससे अत्यंत सावधानी और उचित परिश्रम के साथ काम करने की अपेक्षा की जाती है।

एक प्रमोटर के दायित्व

प्रॉस्पेक्टस में अनियमित्ताओं के संबंध में दायित्व

धारा 26 यह परिभाषित करता है कि प्रॉस्पेक्टस में क्या कहा जाना चाहिए और कौन सी रिपोर्ट शामिल की जानी चाहिए। यदि इस प्रावधान का पालन नहीं किया जाता है तो प्रमोटर को शेयरधारकों द्वारा जवाबदेह ठहराया जा सकता है।

नागरिक दायित्व

धारा 35 किसी भी प्रॉस्पेक्टस में गलत विवरण के लिए नागरिक दायित्वों की रूपरेखा तय करता है। इस धारा के तहत, एक व्यक्ति जिसने प्रॉस्पेक्टस के आधार पर कंपनी के शेयरों और डिबेंचर के लिए सदस्यता ली है, प्रॉस्पेक्टस में किसी भी गलत बयान के लिए प्रमोटर को जिम्मेदार ठहरा सकता है। प्रॉस्पेक्टस में दिए गए गलत बयानों के परिणामस्वरूप शेयरों या डिबेंचर की सदस्यता लेने वाले किसी भी व्यक्ति को होने वाले किसी भी नुकसान या क्षति के लिए प्रमोटर को उत्तरदायी ठहराया जा सकता है। धारा 62 के तहत उन कारणों के संबंध में विशिष्ट प्रावधान भी प्रदान किए गए हैं जिनके आधार पर प्रमोटर अपनी देनदारी से बच सकता है। ये उपाय किसी भी व्यक्ति के लिए उपलब्ध हैं जिन्हें प्रॉस्पेक्टस के गलत विवरण के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

आपराधिक दायित्व

धारा 34 झूठे दावों वाले प्रॉस्पेक्टस का मसौदा तैयार करने की आपराधिक देनदारियों से संबंधित है। पिछले दो उदाहरणों में वर्णित नागरिक देनदारियों के अलावा, प्रमोटरों को आपराधिक रूप से जवाबदेह ठहराया जा सकता है, यदि उनके द्वारा जारी किए गए प्रॉस्पेक्टस में यदि गलत विवरण हैं तो जुर्माना या तो दो साल की जेल की सजा या 5000 रुपये तक का जुर्माना, या दोनों है। जब तक वह यह नहीं दिखा सकता कि गलत बयान महत्वहीन था, या उचित आधार पर उसका यह विश्वास करना उचित था कि प्रॉस्पेक्टस जारी करने के समय बयान सत्य था, तब तक प्रमोटर को गलत बयानों के लिए आपराधिक रूप से उत्तरदायी ठहराया जा सकता है।

प्रमोटरों की सार्वजनिक परीक्षा

धारा 300 यह अदालत को किसी निगम के प्रचार या स्थापना में धोखाधड़ी के दोषी पाए गए सभी प्रमोटरों की सार्वजनिक जांच का आदेश देने का अधिकार देता है। यदि परिसमापक (लिक्विडैटर) की रिपोर्ट कंपनी के समापन के दौरान उसके प्रचार या स्थापना में धोखाधड़ी का संकेत देती है, तो कंपनी के प्रत्येक अन्य निदेशक या अधिकारी की तरह प्रमोटर को भी अदालत द्वारा सार्वजनिक जांच के लिए उत्तरदायी ठहराया जा सकता है।

व्यक्तिगत दायित्व

पूर्व-निगमन अनुबंधों के लिए प्रमोटरों को व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी ठहराया जा सकता है।

  • एक प्रमोटर को कंपनी के प्रॉस्पेक्टस में सही तथ्यों का उल्लेख करना होता है। यदि वह ऐसा नहीं करता है तो उसे इसके लिए उत्तरदायी ठहराया जा सकता है। प्रॉस्पेक्टस में दिए गए किसी भी असत्य कथन के लिए प्रमोटर उत्तरदायी होगा, और अगर उस असत्य कथन के आधार पर किसी व्यक्ति ने कंपनी की प्रतिभूतियों की सदस्यता ली है और उसे कोई नुकसान हुआ है, तो वह प्रमोटर पर मुकदमा कर सकता है।
  • सिविल दायित्व के अलावा, प्रमोटर को प्रॉस्पेक्टस में किसी भी असत्य बयान का उल्लेख करने के लिए आपराधिक रूप से भी उत्तरदायी ठहराया जा सकता है। यदि वह पूंजी प्राप्त करने की मनसा से कोई असत्य कथन प्रस्तुत करता है तो उस पर कठोर दण्ड भी लगाया जा सकता है।
  • यदि ऐसी कोई रिपोर्ट है जो कंपनी के गठन या प्रचार गतिविधियों में धोखाधड़ी का आरोप लगाती है, तो एक प्रमोटर को सार्वजनिक जांच के लिए उत्तरदायी बनाया जा सकता है।
  • यदि प्रमोटर की ओर से कर्तव्य का उल्लंघन होता है या अगर उसने कंपनी की किसी संपत्ति का दुरुपयोग किया होता है या वह विश्वास के उल्लंघन का दोषी होता है, तो कंपनी प्रमोटर के खिलाफ भी कार्रवाई कर सकती है।

कंपनी के निगमन से पूर्व और बाद में प्रमोटर की स्थिति: 

कंपनी के निगमन से पहले

वर्ष 1963 में विशिष्ट राहत अधिनियम लागू होने से पहले प्रमोटरों को प्रचार की गतिविधियों को अंजाम देना बेहद मुश्किल लगता था। इस अधिनियम के पारित होने से पहले, कंपनी के पूर्व-निगमन अनुबंधों को शून्य माना जाता था। ऐसे अनुबंधों का अनुमोदन भी नहीं किया जा सकता था। इसलिए, लोग बिना किसी निश्चित अनुबंध के कंपनी के निगमन के लिए संसाधनों की आपूर्ति करने में बहुत झिझक रहे थे। प्रमोटर व्यक्तिगत देनदारी लेने को लेकर भी बहुत आशंकित थे। विशिष्ट राहत अधिनियम, 1963 की शुरूआत से प्रमोटरों के लिए निगमन गतिविधियों को अंजाम देना आसान हो गया, क्योंकि प्रमोटर अब तीसरे पक्ष के साथ निगमन-पूर्व अनुबंध कर सकते थे।

धारा 15 (h) और 19 (e) में कहा गया है कि ;

  • प्रमोटर को कंपनी के उद्देश्य और लाभ के लिए अनुबंध करना चाहिए। 
  • निगमन समझौते में प्रदान की गई शर्तों को ऐसे अनुबंधों की गारंटी देनी चाहिए।
  • कंपनी द्वारा अनुबंध की पुष्टि की जानी चाहिए और इसकी सूचना विपरीत पक्ष को दी जानी चाहिए।

कंपनी की ओर से प्रमोटर और तीसरे पक्ष के बीच किया गया अनुबंध अभी भी दो व्यक्तियों के बीच अनुबंध माना जाएगा। किसी अनुबंध की पुष्टि करने का अधिकार स्वाभाविक रूप से कंपनी के पास नहीं है। किसी अनुबंध की पुष्टि करने का अधिकार कंपनी को उसके ज्ञापन के माध्यम से दिया जाना चाहिए, इसलिए यदि कंपनी अनुबंध की पुष्टि नहीं करती है तो किसी कंपनी पर तीसरे पक्ष द्वारा मुकदमा नहीं चलाया जा सकता है, भले ही अनुबंध कंपनी के लिए फायदेमंद हो।

यदि कंपनी के पास अनुबंध की पुष्टि करने का अधिकार नहीं है (क्योंकि लेखों में ऐसा अधिकार प्रदान नहीं किया गया है), या कंपनी अनुबंध की पुष्टि नहीं करती है, तो प्रमोटर व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी होगा।

कंपनी के निगमन के बाद

कंपनी के अस्तित्व में आने के बाद, और यदि वह प्रमोटर द्वारा किए गए अनुबंध की पुष्टि करती है, तो ऐसी स्थिति में अनुबंध कंपनी पर बाध्यकारी होगा, न कि प्रमोटर पर। धारा 15 (h)और 19 (e) में यह भी बताया गया है कि प्रमोटर अपने अधिकारों और देनदारियों को कंपनी को हस्तांतरित कर सकता है, बशर्ते कि ऐसा प्रावधान निगमन समझौते में मौजूद हो। हालाँकि प्रमोटर किसी भी प्रकार के वेतन और पारिश्रमिक का हकदार नहीं है। लेकिन सामान्य चलन यह है कि कंपनी स्थापित होने के बाद प्रमोटर को एकमुश्त मुआवजा दिया जाता है। किसी प्रमोटर को कानूनी अधिकार के रूप में मुआवजा देने के लिए नहीं कहा जा सकता है। यदि प्रमोटर को मुआवजा दिया जाता है, तो उसे दिया जाने वाला मुआवजा इक्विटी विज्ञापन निष्पक्षता के आधार पर होता है। यदि कंपनी के प्रमोटर को कोई शेयर आवंटित किया जा रहा है, तो प्रमोटर भी स्वचालित रूप से कंपनी का सदस्य बन जाता है।

प्रमोटर के विशेषाधिकार

क्षतिपूर्ति का अधिकार

जब एक से अधिक सदस्य, कंपनी के प्रमोटर के रूप में कार्य करते हैं, तो एक प्रमोटर दूसरे पर उसके द्वारा भुगतान किए गए मुआवजे और क्षति के लिए मुकदमा कर सकता है। प्रमोटर प्रॉस्पेक्टस में दिए गए किसी भी गलत बयान के साथ-साथ किसी भी छिपे हुए मुनाफे के लिए संयुक्त रूप से और अलग-अलग जवाबदेह होते हैं।

वास्तविक प्रारंभिक व्यय की वसूली का अधिकार

एक प्रमोटर फर्म की स्थापना में किए गए वैध प्रारंभिक व्यय, जैसे विज्ञापन लागत, सॉलिसिटर की फीस और सर्वेक्षकों की फीस की प्रतिपूर्ति का हकदार है। प्रारंभिक व्यय प्राप्त करना कोई संविदात्मक अधिकार नहीं है। यह निर्णय लेना कंपनी के निदेशक मंडल पर निर्भर करता है। वाउचर को भी लागत दावे के साथ संलग्न किया जाना चाहिए।

पारिश्रमिक का अधिकार

जब तक इसके विपरीत कोई अनुबंध न हो, प्रमोटर को कंपनी से पारिश्रमिक पाने का कोई अधिकार नहीं होता है। हालाँकि कंपनी के निदेशकों को प्रमोटरों को उनकी सेवाओं के लिए एक निश्चित राशि का भुगतान करने का प्रावधान कर सकते हैं, लेकिन यह प्रमोटरों को कंपनी पर मुकदमा करने का कोई संविदात्मक अधिकार प्रदान नहीं करता है। यह कंपनी के निदेशकों को दी गई एक शक्ति मात्र है, क्योंकि प्रमोटर आमतौर पर निदेशक होते हैं, और प्रमोटर व्यवहार में अपना पारिश्रमिक अर्जित करेंगे।

कानूनी मामले 

वीवर मिल्स बनाम बालकीज़ अम्मल (1969)

वीवर्स मिल्स लिमिटेड बनाम बाल्कीज़ अम्मल (1969) के मामले में मद्रास उच्च न्यायालय के फैसले ने पूर्व-निगमन अनुबंधों की प्रयोज्यता (ऐप्लकबिलटी) को व्यापक बना दिया था। इस मामले में, प्रमोटर उस फर्म के लिए और उसकी ओर से कई संपत्तियां खरीदने पर सहमत हुए, जिस पर जोर दिया जा रहा था। जब फर्म का गठन हुआ, तो उसने जमीन पर कब्जा कर लिया और उस पर सुविधाओ का निर्माण शुरू कर दिया। यह माना गया कि संपत्ति पर कंपनी के स्वामित्व को रद्द नहीं किया जा सकता, भले ही प्रमोटर ने कंपनी के गठन के बाद कंपनी को जमीन नहीं दी हो।    

केल्नर बनाम बैक्सटर (1866)

केल्नर बनाम बैक्सटर (1866) के मामले में, प्रमोटर ने एक अनौपचारिक कंपनी की ओर से शराब बेचने के श्री केल्नर के वादे को स्वीकार कर लिया; परन्तु निगम ने श्री केल्नर को भुगतान करने में उपेक्षा की और उन्होंने प्रमोटरों पर मुकदमा दायर किया। एर्ले (सी जे) के अनुसार, प्रिंसिपल-एजेंट संबंध निगमन से पहले मौजूद नहीं हो सकता है, और यदि फर्म मौजूद नहीं है तो एजेंट का प्रिंसिपल मौजूद नहीं हो सकता है। वह आगे कहते हैं कि कंपनी गोद लेने या अनुसमर्थन द्वारा पूर्व-निगमन अनुबंध के लिए दायित्व नहीं ले सकती है क्योंकि कोई अजनबी अनुबंध का अनुसमर्थन या स्वीकार नहीं कर सकता है, और कंपनी एक अजनबी थी क्योंकि अनुबंध के गठन के समय इसका कोई अस्तित्व नहीं था। परिणामस्वरूप, उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि प्रमोटर पूर्व-निगमन अनुबंध के लिए व्यक्तिगत रूप से जवाबदेह हैं क्योंकि उन्होंने इसके लिए सहमति दी थी।

प्रोबिर कुमार मिश्रा बनाम रमानी रामास्वामी (2009)

प्रोबिर कुमार मिश्र बनाम रमानी रामस्वमी (2009) में, पूछा गया क्या केवल प्रमोटर के हस्ताक्षर मेमोरेंडम और आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन मे होने से उन्हें कंपनी के कर्ज और अन्य दायित्वों के लिए जिम्मेदार माना जा सकता है?। मद्रास उच्च न्यायालय ने माना कि, कंपनी के निगमन से पहले, प्रमोटर को मेमोरेंडम या आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन का हस्ताक्षरकर्ता, या शेयरधारक या कंपनी का निदेशक होने की कोई आवश्यकता नहीं है। मद्रास उच्च न्यायालय ने आगे कहा कि प्रमोटरों को व्यवसाय की “दाइयों” (मिड्वाइफ) कहा जाता है, जैसा कि हेनरी द्वारा निगमों के कानून में उलेखित किया गया था। यह प्रोमोटर्स ही है जो कॉर्पोरेट व्यक्ति को अस्तित्व में लाने के उद्देश्य से सभी प्रमुख भूमिकाएँ निभाता है, जैसे कंपनी के उद्देश्यों का प्रस्ताव करना, मूल योजना बनाना, कंपनी को पंजीकृत कराने की व्यवस्था करना, प्रॉस्पेक्टस, ज्ञापन, लेख तैयार करना और एसोसिएशन आदि कराना, जो कंपनी के अस्तित्व में लाने के लिए महत्वपूर्ण हैं। इस प्रकार, प्रमोटरों को उत्तरदायी ठहराया जा सकता है, भले ही वे मेमोरेंडम या आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन के हस्ताक्षरकर्ता या शेयरधारक या कंपनी के निदेशक न हों, क्योंकि वे कंपनी और इसके निगमन से जुड़े हुए हैं।

निष्कर्ष

यह कहा जा सकता है कि एक प्रमोटर एक व्यक्ति, एक कंपनी या व्यक्तियों का एक संघ हो सकता है जो किसी  कंपनी के गठन के विचार की कल्पना करता है, कंपनी के निगमन के लिए आवश्यक सभी गतिविधियों को करता है, कंपनी को एक अलग कानूनी इकाई के रूप में वास्तविक अस्तित्व प्रदान करना है। प्रमोटर कंपनी के निदेशकों, बैंकरों और लेखा परीक्षकों को नामित करता है और कंपनी के आर्टिकल की सामग्री भी तय करता है। प्रमोटर को एक मोल्डिंग ब्लॉक कहा जा सकता है जो कंपनी को मूल आकार देता है और उसकी भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण होती है। किसी कंपनी को स्थापित करते समय सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा कंपनी का प्रचार करना होता है। प्रमोशन के समय ही किसी कंपनी को शामिल करने के लिए सभी महत्वपूर्ण कदम उठाए जाते हैं और प्रमोटर वे व्यक्ति होते हैं जो किसी कंपनी का प्रचार करते हैं। प्रमोटर का निस्संदेह किसी कंपनी के प्रचार और निगमन पर बहुत प्रभाव होता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

1. क्या केवल व्यक्ति ही किसी कंपनी के प्रमोटर बनने के पात्र हैं?

यह आवश्यक नहीं है कि केवल एक व्यक्ति ही कंपनी के प्रमोटर हों। एक व्यक्ति, व्यक्तियों का एक संघ, एक फर्म या एक कंपनी – कोई भी किसी कंपनी का प्रमोटर हो सकता है। जो कोई भी कंपनी के निगमन के शुरुआती चरण में मदद करता है और कंपनी को अस्तित्व में लाने में सहायता करता है, वह प्रमोटर बन सकता है।

2. कंपनी के संस्थापक और प्रमोटर के बीच क्या अंतर है?

कंपनी के संस्थापक और कंपनी के प्रमोटर के बीच बहुत ही बारीक अंतर है। संस्थापक और प्रमोटर दोनों के पास यह विचार होता है कि कंपनी को किस आधार पर शुरू करना है। कभी-कभी संस्थापक के पास केवल विचार हो सकता है, लेकिन वह कंपनी के प्रचार के लिए कोई आवश्यक कार्य नहीं कर सकता है। उस समय, संस्थापक को कंपनी को बढ़ावा देने के लिए प्रमोटर से मदद मिल सकती है। संस्थापक अपने पूरे जीवनकाल में कंपनी की सफलता या विफलता के लिए जिम्मेदार होता है, जबकि प्रमोटर केवल प्रचार की प्रक्रिया के दौरान कंपनी के लिए जिम्मेदार होता है। एक संस्थापक प्रवर्तक भी हो सकता है।

3. प्रमोटर होल्डिंग क्या है?

प्रमोटर होल्डिंग कंपनी के शेयरों का वह प्रतिशत है जो ऐसी कंपनी के प्रमोटर के पास होता है। उच्च प्रमोटर होल्डिंग स्टॉक वाली कंपनियों को अक्सर निवेशकों के लिए निवेश करने के लिए सुरक्षित माना जाता है। चूंकि प्रमोटर को कंपनी के वास्तविक प्रदर्शन और उसकी क्षमताओं का ज्ञान होता है, अगर प्रमोटर को लगता है कि शेयर खरीदने लायक है, तो संभावना है कि कंपनी भविष्य में अच्छा प्रदर्शन करेगी। 

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here