डिजिटल मीडिया में उचित उपयोग सिद्धांत

0
376

यह लेख टेक्नोलॉजी लॉ, फिनटेक रेगुलेशंस एंड टेक्नोलॉजी कॉन्ट्रैक्ट्स में डिप्लोमा कर रहे Akshay Gendle द्वारा लिखा गया है। इस लेख में हम डिजिटल सदी में डिजिटल मीडिया में कानून के तहत उचित उपयोग के सिद्धांत पर चर्चा कर रहे हैं। यह लेख हमें उचित उपयोग की अवधारणा के तहत अन्य लोगों के कार्य का उचित उपयोग करने के बारे में जानकारी प्रदान करता है। इस लेख का अनुवाद Shubham Choube द्वारा किया गया है।

परिचय

इस संसार में मौलिक (ओरिजिनल) रचना के समान कुछ भी नहीं है। जो कुछ भी बनाया गया है वह किसी के मौजूदा कार्य से प्रभावित या प्रेरित है। यह कोई कलाकृति या आविष्कार हो सकता है और उचित उपयोग की आड़ में कानून द्वारा इसकी अनुमति है। लेकिन 21वीं सदी एक डिजिटल सदी है और दूसरे लोगों के कार्य का उपयोग करना बेहद आसान है। इस प्रकार, हम लोगों को मौजूदा कार्यों से प्रेरणा लेने से नहीं रोक सकते। लेकिन यह प्रेरणा किस हद तक वैध है?

यही बुनियादी सवाल है। यहां, हम कानून के तहत उचित उपयोग के उसी सिद्धांत पर चर्चा कर रहे हैं, खासकर इस डिजिटल सदी की डिजिटल मीडिया में।

उचित उपयोग का इतिहास और उत्पत्ति

पिछली शताब्दी में उचित उपयोग की कोई अवधारणा नहीं थी क्योंकि अन्य लोगों के कार्य की नकल करना या दोहराना कठिन था। लेकिन 15वीं शताब्दी में प्रिंटिंग प्रेस के आविष्कार के साथ नकल करना एक आसान प्रक्रिया बन गई। ऐसे में मूल रचना की रक्षा करना बेहद जरूरी हो गया है।

बाद में 17वीं शताब्दी में, भारत में, ब्रिटिश लेखकों ने उनकी पूर्व अनुमति के बिना फ्रांसीसी अभिव्यक्तियों (एक्सप्रेशन) का उपयोग करना शुरू कर दिया। इसे उचित उपयोग के आधार पर उचित ठहराया गया, यानी समाचार प्रेषण (रिपोर्टिंग), आलोचना आदि के लिए कोई भी मूल लेखक के अधिकारों का उल्लंघन किए बिना मौजूदा कार्य का उपयोग कर सकता है।

यहां तक कि भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने भी माना कि कॉपीराइट कानून के दो उद्देश्य हैं:

  • व्यक्ति की मूल रचना की रक्षा करना, और
  • विज्ञान और कला की प्रगति में मदद करना।

दूसरे उद्देश्य के लिए, हमें बड़े पैमाने पर लोगों को बिना किसी भेदभाव या शुल्क के मौजूदा कार्य उपलब्ध कराना होगा ताकि वे समाज में नवीनता (इनोवेशन) ला सकें, जो अंततः समाज को प्रगति में मदद करेगा। यह और कुछ नहीं बल्कि उचित उपयोग सिद्धांत है और इसके महत्व का हवाला शीर्ष न्यायालय ने दिया है।

उचित उपयोग सिद्धांत क्या है?

आम तौर पर, यह सिद्धांत लोगों को मूल व्यक्ति के अधिकारों का उल्लंघन किए बिना कुछ हद तक कॉपीराइट किए गए कार्य का निःशुल्क उपयोग करने की अनुमति देता है। यह एक सीमित रूप में कार्य के बिना लाइसेंस उपयोग की अनुमति देता है जिसका उद्देश्य टिप्पणी, अनुसंधान (रिसर्च), शिक्षण, आलोचना, समाचार समाचार प्रेषण (रिपोर्टिंग) आदि है।

इस कार्य में अभिव्यक्ति के मूल कार्य शामिल हो सकते हैं, जिनमें साहित्यिक (लिटरेरी), संगीतमय, चित्रात्मक, फिल्म, दृश्य-श्रव्य (ऑडिओविडुअल) आदि शामिल हैं। भारतीय कॉपीराइट अधिनियम 1957 की धारा 52 उचित उपयोग सिद्धांत और उन परिस्थितियों की व्याख्या करती है जिनमें उचित उपयोग की अनुमति है।

इसी तरह, अमेरिकी कॉपीराइट अधिनियम की धारा 107 यह जांचने के लिए चार कारकों को सूचीबद्ध करती है कि क्या स्थिति उचित उपयोग के दायरे में आती है और क्या नहीं।

ये चार कारक इस प्रकार हैं

उपयोग का उद्देश्य और चरित्र

यहां, न्यायालय मुख्य रूप से यह देखता है कि क्या व्यक्ति मौजूदा कार्य में नई अभिव्यक्ति और अर्थ जोड़ रहा है या केवल चीजों की नकल कर रहा है। और नया कार्य उसकी अपनी कुछ अंतर्दृष्टि (इनसाइट), अनुसंधान, समझ आदि को जोड़कर मौजूदा कार्य में कुछ मूल्य जोड़ता है।

कॉपीराइट कार्य की प्रकृति

यदि कार्य जीवनी की तरह तथ्यात्मक (फैक्चूअल) प्रकृति का है, तो न्यायालय द्वारा इसे उचित उपयोग माने जाने की संभावना है क्योंकि यह बड़े पैमाने पर जनता के लिए अधिक फायदेमंद होता है। यदि कार्य प्रकृति में काल्पनिक है, जैसे उपन्यास और नाटक, तो न्यायालय आमतौर पर इसकी रचनात्मक प्रकृति के कारण अधिक सुरक्षा प्रदान करती है। यदि कार्य पहले से ही प्रकाशित है, तो अप्रकाशित कार्य की तुलना में उचित उपयोग का दायरा बढ़ जाता है क्योंकि न्यायालय मूल लेखक को बड़े पैमाने पर जनता के सामने अपने कार्य की पहली उपस्थिति को नियंत्रित करने का अधिकार देता है।

उपयोग की गई मात्रा और संपूर्ण रूप से इसका महत्व

आम तौर पर, अधिक पैसा उल्लंघन का कारण बनता है लेकिन हर समय ऐसा नहीं होता है। नकल किए गए भाग का महत्व सबसे अधिक मायने रखता है। हार्पर एंड रो बनाम नेशन एंटरप्राइजेज (1984) मामले में, नकल किए गए 300 शब्दों वाले हिस्से को 200,000 पांडुलिपियों (मैनुस्क्रिप्ट) में से महत्वपूर्ण माना गया क्योंकि न्यायालय ने इसे पुस्तक का हृदय माना था।

कॉपीराइट किए गए कार्य के बाजार पर उपयोग का प्रभाव

यदि छोटे हिस्से का उपयोग करने से बाजार में कार्य को संभावित (पोटेंशियल) नुकसान होता है, तो इसे उचित उपयोग के दायरे से बाहर माना जाता है।

यहां, बाज़ार में कार्य के लिए वर्तमान के साथ-साथ भविष्य का बाज़ार भी शामिल है। आप पुस्तक प्रकाशित करना चाहते हैं और यह वर्तमान बाजार में अच्छी तरह से बिक रही है। लेकिन आपके पास इसे दुनिया भर में कई अलग-अलग भाषाओं में प्रकाशित करने का भी अधिकार है और यहां तक कि भविष्य में फिल्म के अधिकार भी आपके पास हैं। इस प्रकार, यदि कोई आपकी पुस्तक को किसी अन्य भाषा में प्रकाशित करना चाहता है या फिल्म बनाना चाहता है, तो उसे इसके लिए आपकी पूर्व अनुमति लेनी होगी।

इसलिए, यह स्पष्ट है कि उचित उपयोग प्रकृति में व्यक्तिपरक (सब्जेक्टिव) है और पूरी तरह से प्रत्येक मामले के तथ्यों पर निर्भर करता है। न्यायाधीशों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है जो कार्य की प्रकृति का निर्धारण करते हैं और यह भी निर्धारित करते हैं कि क्या यह न्यायसंगत उपयोग के दायरे में आता है या नहीं। लेकिन जब डिजिटल मीडिया की बात आती है तो यह उचित उपयोग नीति अपनी चुनौतियां लाती है और हम आज के डिजिटल मीडिया जगत में उसी उचित उपयोग सिद्धांत पर चर्चा कर रहे हैं।

डिजिटल मीडिया क्या है?

डिजिटल मीडिया में वह जानकारी शामिल होती है जो डिजिटल प्रारूप (फॉर्मेट) में होती है और इंटरनेट या कंप्यूटर नेटवर्क पर साझा की जाती है। इसका निर्माण, वितरण, भंडारण और उपयोग इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों पर होता है। इसमें ऑडियो, वीडियो, टेक्स्ट, ग्राफिक्स आदि शामिल हैं।

इसका मतलब है कि आज हम जो कुछ भी देख रहे हैं वह लगभग डिजिटल प्रारूप में है और इसे डिजिटल मीडिया माना जा सकता है। उदाहरण के लिए, पुराने प्रिंटिंग प्रेस की जगह डिजिटल प्रिंट ने ले ली है, नाटक की जगह मूवी थिएटर और ओटीटी प्लेटफॉर्म आदि ने ले ली है। आज, व्यक्ति की मूल रचना डिजिटल प्रारूप में है और सबसे कमजोर स्थिति में है, जैसी पहले कभी नहीं थी।

इस प्रकार, तकनीकी प्रगति (टेक्निकल एडवांसमेंट) और कृत्रिम बुद्धिमत्ता (आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस) के उद्भव (एमेर्जेंस) के साथ, मूल रचना की रक्षा करना और लोगों को उचित उपयोग का अधिकार देना कानून के लिए एक कठिन कार्य बन गया है।

डिजिटल मीडिया में उचित उपयोग

जब डिजिटल मीडिया की बात आती है, तो हमें सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, समाचार मीडिया और यहां तक कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता पर भी चर्चा करने की आवश्यकता है। ये सभी डिजिटल मीडिया के प्रमुख भाग हैं और इनके द्वारा भारी मात्रा में सूचना और डेटा का उपयोग किया जाता है, इसलिए कॉपीराइट उल्लंघन की संभावना अधिक है। इसलिए, डिजिटल मीडिया के इन हिस्सों में उचित उपयोग सिद्धांत का अनुप्रयोग बेहद महत्वपूर्ण है।

कृत्रिम बुद्धिमत्ता और उचित उपयोग सिद्धांत

एआई ने वास्तव में अपनी क्षमताओं से दुनिया में क्रांति ला दी है और कुछ हद तक मानवीय क्षमताओं को लगभग पीछे छोड़ दिया है। सभी एआई मॉडल इंटरनेट पर मौजूद विशाल मात्रा में डेटा को फीड करने की एक समान प्रक्रिया पर कार्य करते हैं और फिर वे उपयोगकर्ता के आदेशों के अनुसार इस फीड किए गए डेटा को पुन: उत्पन्न करते हैं। इसलिए, उन्हें जेनरेटिव एआई कहा जाता है क्योंकि वे पहले से मौजूद डेटा पर कार्य कर रहे हैं।

लेकिन इसने दुनिया भर में इस बात पर गरमागरम बहस छेड़ दी है कि क्या यह सॉफ़्टवेयर उस व्यक्ति के अधिकारों का उल्लंघन करता है जिसने सबसे पहले यह डेटा बनाया था।

इस प्रकार, इन एआई कंपनियों के खिलाफ बहुत सारे मुकदमे दायर किए गए, यह दावा करते हुए कि उन्होंने उनके कॉपीराइट का उल्लंघन किया है। लेकिन साथ ही ये एआई कंपनियां इस एआई को कॉपीराइट कानून के तहत उचित उपयोग की आड़ में रखने की भी पूरी कोशिश कर रही हैं।

जैसा कि पहले चर्चा की गई है, कार्य उचित उपयोग के दायरे में आता है या नहीं यह चार प्रमुख कारकों पर निर्भर करता है, और ये एआई कंपनियां इन चार कारकों का लाभ भी उठाती हैं।

  1. पहला कारक यह लक्ष्य करता है कि कार्य परिवर्तनकारी (ट्रांस्फॉर्मटिव) है या नहीं। यह तर्क दिया गया कि मूल लेखक के कार्य का प्राथमिक उद्देश्य अपने विचारों और अभिव्यक्तियों को अपने दर्शकों के सामने प्रदर्शित करना है। एआई को कार्यों की मध्यवर्ती प्रतिलिपि (इंटरमीडिएट कॉपीइंग) द्वारा प्रशिक्षित (ट्रेन) किया जाता है, जो एक रिवर्स इंजीनियरिंग प्रक्रिया की तरह है। इस प्रक्रिया का उद्देश्य यह समझना है कि मानव-निर्मित मीडिया कैसे कार्य करता है। इस प्रकार, एआई का उद्देश्य अभिव्यंजक (एक्सप्रेसिव) नहीं है। यह स्पष्ट है कि किसी लेखक के कार्य का उद्देश्य अलग है और समान जानकारी वाले एआई का उद्देश्य अलग है। यहां तक कि एआई द्वारा उत्पन्न पैदावन (आउटपुट) भी अत्यधिक परिवर्तनकारी और अद्वितीय (यूनिक) है।
  2. दूसरा कारक कार्य की प्रकृति के बारे में बात करता है। यह तर्क दिया गया कि इसमें कुछ अस्पष्टता है और जब पहला और चौथा कारक मजबूत होता है तो यह कारक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका नहीं निभाता है।
  3. तीसरा कारक हिस्से की मात्रा और पर्याप्तता (सब्सटांटिएलिटी) के बारे में बात करता है। यहां बहस काफी दिलचस्प है। एआई लेखक का लगभग पूरा डेटा ले रहा है लेकिन यह जो पैदावन प्रदान कर रहा है वह अत्यधिक परिवर्तनकारी और पूरी तरह से अलग है। यह ऐसा है जैसे यह जनता के लिए किसी प्रकार का सक्षम विकल्प प्रदान कर रहा है। इसके अलावा, एआई इस प्रक्रिया में जिस मूल कार्य को शामिल करता है वह जनता के लिए बिल्कुल भी सुलभ नहीं है। इस प्रकार, यह उचित उपयोग के लिए एक वैध बिंदु के रूप में खड़ा है।
  4. उचित उपयोग का निर्धारण करने वाला चौथा कारक मूल कार्य के संभावित बाजार पर उपयोग के प्रभाव के बारे में बात करता है। एआई सॉफ्टवेयर लेखक के मूल डेटा का उपभोग करता है और उपयोगकर्ता के आदेशों के अनुसार इसे पुन: प्रस्तुत करता है। लेकिन लेखक के मूल कार्य का संभावित बाज़ार मानव बाज़ार है। इस प्रकार, जाहिर तौर पर, एआई लेखक के ग्राहकों को नहीं छीन रहा है। हालाँकि, लेखक यह तर्क दे सकते हैं कि एआई-जनित कार्य उनके मौजूदा कार्य के मूल्य को नुकसान पहुंचा सकता है।

लेकिन इस परिदृश्य में एआई कंपनियों द्वारा एक बहुत ही चतुर तर्क प्रदान किया गया था। यह कहा गया था कि एआई सिस्टम अत्यधिक नवीन हैं और लेखन, सहायता, कानूनी और यहां तक कि चिकित्सा क्षेत्र में भी बड़े पैमाने पर सामाजिक लाभ हैं। इसके अलावा, यह प्रस्तावित किया गया था कि एआई प्रणाली में अपार क्षमता और नवीनता है और कोई इसकी क्षमताओं का अवलोकन नहीं कर सकता है। और यहां तक कि उचित उपयोग सिद्धांत को भी सबसे पहले विज्ञान और समाज के लाभ के लिए शामिल किया गया था। और इसलिए, हम एआई के भविष्य की उपेक्षा नहीं करेंगे, क्योंकि इसने अपनी पहली पीढ़ी में दुनिया को बाधित कर दिया है।

सोशल मीडिया और उचित उपयोग सिद्धांत

डिजिटल मीडिया का एक पहलू सोशल मीडिया है। यूट्यूब दुनिया भर में सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाने वाली सोशल मीडिया वेबसाइट है। इसके लगभग 122 मिलियन दैनिक सक्रिय उपयोगकर्ता हैं और लगभग 3.7 मिलियन वीडियो दैनिक आधार पर अपलोड किए जाते हैं। इसलिए, हम यहां उसी पर चर्चा कर रहे हैं।

यूट्यूब पर वीडियो पोस्ट करते समय, यूट्यूब उपयोग की शर्तें अनुभाग होता है जिसे आपको स्वीकार करना होगा। स्वीकृति मिलने पर, प्लेटफ़ॉर्म और उपयोगकर्ताओं को आपके कार्य को दूसरों के साथ साझा करने और प्रचारित करने का अधिकार भी मिलता है।

खैर, इसका मतलब यह नहीं है कि कोई भी आपकी अनुमति के बिना आपके कार्य का उपयोग कर सकता है। लेकिन अगर ऐसा होता है, तो यह प्लेटफ़ॉर्म के उपयोग की शर्तों का उल्लंघन करता है और कॉपीराइट स्ट्राइक मिलेगी। उपयोग की शर्तें अनुभाग लगभग हर सोशल मीडिया वेबसाइट पर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Lawshikho

यूट्यूब की उचित उपयोग नीति

जब कोई रचनाकार अपनी रचना में कॉपीराइट किए गए कार्य के कुछ हिस्से का उपयोग करता है, तो वह यूट्यूब उचित उपयोग अस्वीकरण (डिस्क्लेमर) चुनता है। यह अस्वीकरण स्पष्ट करता है कि निर्माता ने टिप्पणी, आलोचना, शिक्षा आदि उद्देश्यों के लिए उचित उपयोग नीति के तहत अपने कार्य के कुछ कॉपीराइट भागों का उपयोग किया है। यह अनिवार्य रूप से मूल स्वामी की ओर से भविष्य में कॉपीराइट दावों की संभावना को कम कर देता है।

अमेरिकन डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट (डीएमसीए) एक सुरक्षित बंदरगाह (हार्बर) नियम प्रदान करता है और इसमें कहा गया है कि ऑनलाइन कंपनियां कॉपीराइट-उल्लंघनकारी डेटा को प्रसारित करने और संग्रहीत करने के लिए उत्तरदायी नहीं हैं यदि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है, लेकिन एक बार जब उन्हें इस जानकारी के बारे में पता चल जाता है, तो उन्हें ऐसे उल्लंघनकारी कार्य के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करनी होगी।

निष्कर्ष

समाज में विज्ञान और कला की प्रगति के लिए उचित उपयोग एक आवश्यक सिद्धांत है। पहले के काल में इस सिद्धांत को लागू करना काफी आसान था। लेकिन 21वीं सदी प्रकृति में डिजिटल है। तकनीकी प्रगति और कृत्रिम बुद्धिमत्ता ने दुनिया को काफी हद तक बदल दिया है। इस प्रकार, उचित उपयोग को लागू करना कानून के लिए एक कठिन कार्य बन गया है। हमने पहले ही देखा है कि कैसे एआई कंपनियां कॉपीराइट उल्लंघन के खिलाफ खुद का बचाव कर रही हैं और इस उचित उपयोग सिद्धांत का लाभ उठाने के लिए अपने सर्वोत्तम तर्क का उपयोग कर रही हैं। इस प्रकार, दुनिया भर की न्यायालयें उचित उपयोग सिद्धांत को लागू करने की समान चुनौती का सामना कर रही हैं।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here