पहले इनकार करने का अधिकार

0
976
Right of First Refusal

यह लेख Jyoti Sharma ने लिखा है। इस लेख को Ojuswi (एसोसिएट, लॉसिखो) द्वारा एडिट किया गया है। इस लेख में पहले इनकार करने के अधिकार के बारे में बताया गया है। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta के द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

पहले इनकार करने का अधिकार दो पक्षों के बीच एक अनुबंध है, जिसमें दूसरे पक्ष (धारक) के पास किसी प्रस्ताव को स्वीकार या अस्वीकार करने के लिए अनुबंध का पहला अधिकार या पहला अवसर (अनुदानकर्ता (ग्रांटर)) होता है। प्रस्ताव को स्वीकार करने के लिए दूसरे पक्ष पर कोई बाध्यता नहीं है। यह खंड कानूनी रूप से दोनों पक्षों को बांधता है। पहले इनकार करने का अधिकार अनुबंधों का एक बहुत ही सामान्य खंड है। पहले इनकार करने का अधिकार प्रत्येक निवेशक और भागीदार का अधिकार है। सहमत होने के लिए सभी समावेशी (इनक्लूसिव) और पहले इनकार करने के व्यापक अधिकार को अनुबंधों में शामिल किया जा रहा है, जैसे शेयर खरीद समझौता, फ्रेंचाइजी समझौता, लीज समझौता, आदि। यह खंड पक्षों को कुछ शक्तियां और अधिकार प्रदान करता है। यह लेख पहले इनकार करने के अधिकार की सभी आवश्यकताओं की जानकारी देगा।

पहले इनकार करने का अधिकार क्या है?

पहले इनकार करने का अधिकार एक संविदात्मक (कॉन्ट्रैक्चुअल) अधिकार है, लेकिन किसी व्यक्ति या कंपनी के साथ किसी अन्य व्यक्ति के व्यापार लेनदेन में प्रवेश करने से पहले का दायित्व नहीं है।

पक्ष – अनुदानकर्ता और धारक; अनुदानकर्ता के पास एक ऐसी संपत्ति होती है जिसे धारक भविष्य की तारीख में खरीदना चाहता है।

पहले इनकार करने का अधिकार यह सुनिश्चित करता है कि जब कोई तीसरा पक्ष उस संपत्ति के लिए अनुदानकर्ता के पास जाता है, तो अनुदानकर्ता को पहले धारक को उसी कीमत और शर्तों के लिए एक प्रस्ताव देना चाहिए।

पहले इनकार करने के अधिकार की निम्नलिखित विशेषताएं है:

1. संविदात्मक अधिकार

संविदात्मक अधिकार सभी पक्षों को दिए गए अधिकारों के गारंटीकृत सेट के रूप में परिभाषित करते हैं जब भी वे अनुबंध निष्पादित (एग्जिक्यूट) करते हैं। अनुबंध के सभी पक्षों को जैसा समझौते में उल्लेख किया गया है, उसका पालन करना होगा ताकि भविष्य के किसी भी विवाद से बचा जा सके। पहले इनकार करने के अधिकार के पक्षों को अपने संविदात्मक अधिकारों को परिभाषित करने की आवश्यकता होती है, जिसके तहत पहले पक्ष को तीसरे पक्ष के साथ किसी भी लेनदेन जिसके लिए एक समझौता पहले ही निष्पादित किया जा चुका है, में संलग्न होने से पहले दूसरे पक्ष को प्रस्ताव देना चाहिए।

2. कोई दायित्व नहीं है

दायित्व का अर्थ है कोई भी कार्य जो किसी बल या दबाव द्वारा किया जाता है।

अधिकार के मामले में, दूसरा पक्ष प्रस्ताव को अस्वीकार कर सकता है और निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र है। पहला पक्ष दूसरे पक्ष पर दबाव नहीं बना सकता है। यदि दूसरा पक्ष प्रस्ताव को स्वीकार करने से इनकार करता है तो पहला पक्ष दूसरों को प्रस्ताव देने के लिए स्वतंत्र है।

3. निवेशक/ भागीदार के अधिकार

जब पक्षों के बीच एक समझौता निष्पादित किया जाता है, तो यह तीसरे पक्ष को प्रस्ताव देने से पहले दूसरे पक्ष का विशेषाधिकार (प्रिविलेज) या अधिकार होता है।

4. भविष्य के लेन-देन

पहले इनकार करने का अधिकार हमेशा भविष्य की तारीख को निर्दिष्ट करता है। एक समझौता या अनुबंध वर्तमान तिथि पर निष्पादित होता है लेकिन यह खंड हमेशा भविष्य की निश्चितता के बारे में बात करता है।

5. अवसर

एक समझौते के इनकार खंड का अधिकार हमेशा एक दूसरे पक्ष को प्रस्ताव को स्वीकार या अस्वीकार करने की अनुमति देता है। दूसरे पक्ष की पसंद के बाद, लेन-देन सामान्य रूप से अन्य लोगों के साथ किया जा सकता है।

एक समझौते में पहले इनकार करने के अधिकार खंड 

एक समझौते में पहले इनकार करने के अधिकार खंड का मसौदा (ड्राफ्ट) तैयार करते समय, विचार करने के लिए प्रमुख बिंदु नीचे दिए गए हैं –

1. समय सीमा / समय अवधि

किसी भी अनुबंध में, पहले इनकार करने के अधिकार खंड के समय/ कार्यकाल का विशेष रूप से उल्लेख किया जाना चाहिए। जैसे पट्टा (लीज) समझौते में यदि पट्टे का समय समाप्त हो जाता है, तो निर्दिष्ट समय के बाद संपत्ति का मालिक पहले इनकार करने के अधिकार के धारक को सूचित किए बिना अन्य लेनदेन में प्रवेश कर सकता है। समय के बारे में प्रावधान स्पष्ट होना चाहिए।

2. जवाब देने का समय

अनुबंध में एक सीमित अवधि होनी चाहिए जिसमें पक्ष को प्रस्ताव को स्वीकार या अस्वीकार करने के लिए जवाब देना होगा, समय व्यतीत होने के बाद संपत्ति का मालिक किसी तीसरे पक्ष के साथ लेनदेन में प्रवेश कर सकता है।

3. समाप्त होना

अनुबंध में यह उल्लेख होना चाहिए कि किस लेनदेन के तहत पहले इनकार करने का अधिकार समाप्त हो जाएगा। यदि पहले इनकार करने के अधिकार का धारक प्रस्ताव को स्वीकार करता है, लेकिन इसे पूरा नहीं करता है, तो अधिकार समाप्त हो जाएगा। यदि अनुबंध में इन शर्तों को निर्दिष्ट नहीं किया गया है तो मतभेद या मुद्दे हो सकते हैं।

4. अपवाद

एक अनुबंध में स्पष्ट रूप से बताया जाना चाहिए कि किस लेनदेन के तहत पहले इनकार करने का अधिकार लागू नहीं होगा। उदहारण- लेन-देन परिवार के सदस्यों या ट्रस्ट के बीच होता है, यह तब भी हो सकता है जब किसी मालिक की मृत्यु हो जाती है।

5. हस्तांतरणीय (ट्रांसफरेबल)

पक्ष तय कर सकते हैं कि पहले इनकार करने का अधिकार किसी अन्य पक्ष को हस्तांतरित किया जाएगा या नहीं। अनुबंध को इस पर स्पष्ट होना चाहिए कि यदि कोई संपत्ति किसी और को हस्तांतरित की जाती है तो क्या नया मालिक वही अधिकार जारी रखेगा या नहीं।

6. उल्लंघन के उपाय

चूंकि पहले इनकार करने का अधिकार एक संविदात्मक अधिकार है और यदि कोई पक्ष अनुबंध का उल्लंघन करता है तो क्षतिग्रस्त (हार्म्ड) पक्ष, दूसरे पक्ष पर नुकसान के लिए मुकदमा कर सकता है या विशिष्ट प्रदर्शन के लिए कह सकता है।

7. लेन-देन जो पहले इनकार करने के अधिकार को शुरू (ट्रिगर) करते हैं

अनुबंध में, यह निर्दिष्ट किया जाना चाहिए कि पहले इनकार करने का अधिकार किस समय पर शुरू होगा। उदाहरण के लिए – जब मालिक कोई संपत्ति बेचना चाहता है। उस स्थिति में, इस खंड का प्रभाव शुरू होगा।

8. परिभाषाएं

अनुबंध को लेनदेन से संबंधित सभी परिभाषाओं को परिभाषित करना चाहिए। उदाहरण के लिए – संपत्ति, एसेट और प्रतिफल (कंसीडरेशन)। यदि संपत्ति और एसेट का विवरण स्पष्ट रूप से परिभाषित नहीं किया गया है तो ये मालिक के साथ-साथ पहले इनकार करने के अधिकार के धारक के लिए भी हानिकारक हो सकते हैं।

पहले इनकार करने के अधिकार के लाभ

  • समझौते के खंड में संशोधन

खंड की अवधि को पक्ष की आपसी समझ के अनुसार संशोधित किया जा सकता है। यदि दोनों पक्ष अनुदानकर्ता और धारक, इस संबंधित खंड के लिए किसी भी नियम और शर्तों में संशोधन करने के लिए उत्सुक हैं, तो दोनों आपसी सहमति से ऐसा कर सकते हैं।

  • भविष्य का सौदा

आरओएफआर खंड उस विकल्प के बारे में बताता है जिसे भविष्य की तारीख में बनाया जा सकता है, पक्ष भविष्य के लेनदेन के लिए किसी भी समय सहमत हो सकते हैं। यह खंड बाद में एसेट या संपत्ति को खरीदने की अनुमति देता है।

  • तेज प्रक्रिया 

आरओएफआर खंड लेनदेन को जल्द ही बंद करने में मदद करता है क्योंकि अनुदानकर्ता को पहले से ही पता होता है कि पहला खरीदार कौन होगा और वह सीधे प्रस्ताव के लिए उससे संपर्क कर सकता है। अनुबंध में इस खंड को अनुकूलित करके बिक्री में तेजी लाई जा सकती है।

  • खरीदार के लिए कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है

धारक के पास बाजार में कोई प्रतिस्पर्धी नहीं होगा क्योंकि अनुदानकर्ता सीधे लेनदेन के लिए उससे संपर्क करते हैं। एक बार जब धारक प्रस्ताव का विरोध करता है तो केवल अनुदानकर्ता को ही दूसरों को प्रस्ताव देने का अधिकार होता है। तो तदनुसार यह प्रतिस्पर्धा को प्रतिबंधित करता है।

पहले इनकार करने के अधिकार के नुकसान

  • मुकदमेबाजी 

पहले इनकार करने का अधिकार मुकदमेबाजी का एक स्रोत (सोर्स) है। चूंकि यह खंड भविष्य के लेन-देन की ओर जाता है और भविष्य की निश्चितता नहीं है, यहां ऐसे भी मौके हो सकते हैं जहां धारक और अनुदानकर्ता समझौते के निष्पादित खंड पर सहमत न हों।

  • कोई विपणन योग्यता (मार्केटेबिलिटी) नहीं है

तीसरे पक्ष या खरीदार ऐसे लेन-देन में रुचि नहीं दिखाते हैं, जिसमें वे जानते हैं कि किसी और के पास आरओएफआर है, जिसके कारण संपत्ति बिक्री योग्य नहीं होती है और संपत्ति का मूल्य कम हो जाता है।

  • लंबी प्रक्रिया

पहले इनकार करने के अधिकार के कारण लेन-देन समय पर बंद नहीं होता है और विलंबित हो जाता है। कभी-कभी धारक को निर्णय लेने में समय लगता है जिसके कारण अनुदानकर्ता को समय की अनावश्यक बर्बादी का सामना करना पड़ता है और उसे धारक के निर्णय की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता होती है, उसके बाद ही वह प्रस्ताव के लिए अन्य खरीदारों के पास जा सकता है।

  • बिक्री में देरी

संपत्ति के बारे में पूछताछ किए जाने पर संपत्ति का अनुदानकर्ता, संपत्ति को तुरंत नहीं बेच सकता है। अन्य खरीदारों से संपर्क करने के बावजूद अनुदानकर्ताओं को पहले धारक से संपर्क करने की आवश्यकता होती है।

  • विक्रेता के लिए कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है

कीमतें अक्सर पूर्व-निर्धारित होती हैं, इसलिए विक्रेता अच्छे रिटर्न की उम्मीद नहीं कर सकता है। अनुदानकर्ता को पता है कि उसे किससे संपर्क करने की आवश्यकता है, इसलिए जहां आरओएफआर खंड है वहां कोई प्रतिस्पर्धा नहीं दिखाई देती है।

पहले इनकार करने के अधिकार को समझने के लिए कुछ उदाहरण

उदाहरण – 1. लीव और लाइसेंस समझौता

A संपत्ति “X” का मकान मालिक है और B उपरोक्त संपत्ति का किरायेदार है। A और B के बीच लीव और लाइसेंस समझौते में, एक खंड है जिसमें यह उल्लेख किया गया है कि जब भी A इस संपत्ति को बेचता है तो B को प्रस्ताव को स्वीकार या अस्वीकार करने का पहला अधिकार होगा। तो अब, जब A इस संपत्ति को बेचता है और C से इस संपत्ति को 2 करोड़ में खरीदने का प्रस्ताव रखता है, तो, B को इस संपत्ति को 2 करोड़ में खरीदने या अस्वीकार करने का पहला अधिकार है। हालाँकि, इस संपत्ति को खरीदने के लिए B पर कोई बाध्यता नहीं है।

उदाहरण  – 2. लेखक समझौता

लेखक और कंपनी के बीच समझौता है। एक कंपनी लेखक को अपनी पुस्तकों को अन्य कंपनियों को बेचने से रोक सकती है हालांकि लेखक कंपनी के साथ पहले ही, इनकार करने के अधिकार के इस खंड पर बातचीत कर सकता है ताकि वह दोनों पक्षों के बीच आपसी समझ के साथ अपनी पुस्तकों को अन्य कंपनियों को भी बेच सके।

उदाहरण – 3. शेयर हस्तांतरण समझौता

एक निजी कंपनी का निवेशक अपने शेयर किसी अन्य व्यक्ति जो कंपनी का निवेशक नहीं है, को नहीं बेच सकता है। उसे कंपनी के अन्य मौजूदा निवेशकों को पहले एक प्रस्ताव देना होगा। यदि कंपनी के अन्य निवेशक उन शेयरों को खरीदने में रुचि दिखाते हैं तो उन्हें अनिवार्य रूप से उन शेयरों को उस निवेशक को बेचना होगा। X कंपनी के A और B निवेशक क्रमशः 95% और 5% शेयर रखते हैं। अब यदि A अपने 10 शेयर बेचना चाहता है, तो उस स्थिति में, उसे B को पहला प्रस्ताव देना होगा। यदि B इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर देता है तो A अपने शेयर C को बेच सकता है लेकिन यदि B ने उसका प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है, तो A को अनिवार्य रूप से अपने शेयर B को ही बेचने होंगे।

पहले इनकार करने के अधिकार के प्रभाव को संदर्भित करने के लिए मामले 

सत्यनारायण राठी बनाम अन्नामलयार टेक्सटाइल्स (प्राईवेट) लिमिटेड, जैसा कि 1999 में रिपोर्ट किया गया था, 32 सीएलए 56

इस मामले में, निजी कंपनी ने अपने आर्टिकल ऑफ एसोसिएशन में एक खंड डाला था जिसमें कहा गया था कि कंपनी का एक सदस्य अपने शेयरों को अन्य सदस्यों को निदेशक मंडल (बोर्ड ऑफ डायरेक्टर) द्वारा निर्धारित मूल्य पर पेश किए बिना किसी तीसरे पक्ष को उन्हे हस्तांतरित नहीं कर सकता है। इस मामले में अपीलकर्ता (कपास (कॉटन) के आपूर्तिकर्ता) को कंपनी के तीन सदस्यों द्वारा भुगतान के लिए प्रतिभूति (सिक्योरिटी) के रूप में शेयर दिए गए थे। दुर्भाग्य से, भुगतान समय पर नहीं किया गया था। अपीलकर्ता ने निदेशक मंडल को एक आवेदन दिया था कि उसे शेयर हस्तांतरित किए जाएं। लेकिन कंपनी के कुछ ऐसे सदस्य थे जो इन शेयरों को खुद खरीदना चाहते थे। मंडल ने आवेदन को खारिज कर दिया क्योंकि यह एओए में शामिल प्री-एम्पशन खंड का उल्लंघन था। कंपनी इन एओए के तहत लगाए गए प्रतिबंधों से बाध्य होगी जो कंपनी के सदस्यों द्वारा किए जा सकने वाले किसी भी अन्य समझौते के अलावा उन पर बाध्यकारी हैं। इसलिए शेयर अपीलकर्ता को हस्तांतरित नहीं किए जा सकते थे।

इसी तरह के फैसले क्रूकशैंक कंपनी लिमिटेड बनाम स्ट्राइडवेल लेदर प्राईवेट लिमिटेड, (1996) 86 कॉम.कैस. 439 सीएलबी और तरलोक चंद खन्ना बनाम राज कुमार कपूर, (1983) 54 कॉम.कैस. 12 (दिल्ली) में दिए गए थे। 

फोनपे और इंडस ओएस

इस मामले में सौदा एक सीधा-सादा लेन-देन है जहां फोनपे, इस कंपनी में अपनी मौजूदा 32% हिस्सेदारी से 90% हिस्सेदारी हासिल करना चाहता है। चूंकि अधिग्रहण (टेक ओवर) कंपनियों के बीच एक मित्रतापूर्ण लेनदेन है, इंडस ओएस भी वही सौदा चाहता है जिसका मूल्य एक फिनटेक कंपनी द्वारा लगभग $ 60 मिलियन लगाया गया था। हालाँकि, यह सौदा इंडस ओएस के दो प्रमुख अल्पसंख्यक (माइनॉरिटी) हितधारकों (स्टेकहोल्डर), अर्थात् एफ़ल ग्लोबल और वेंचरईस्ट द्वारा बाधित है।

एफ़ल ग्लोबल, इंडस ओएस के एक अल्पसंख्यक हितधारक की कंपनी में लगभग 23% हिस्सेदारी है। जैसे ही फोनपे एक कथित टर्म शीट को निष्पादित करके अधिग्रहण लेनदेन के साथ आगे बढ़ा, एफ़ल ग्लोबल ने इंडस ओएस के साथ अपने निवेश समझौते के आरओएफआर अधिकारों को ट्रिगर किया। समझौते के अनुसार, इंडस ओएस के संस्थापकों (फाउंडर) के शेयरों, जिनकी कीमत पर पहले ही बातचीत की जा चुकी है, को पहले एफ़ल ग्लोबल को पेश किया जाना चाहिए था, और उसके बाद किसी तीसरे पक्ष को किया जाना चाहिए था और इंडस ओएस तभी आगे बढ़ सकता था जब एफ़ल ग्लोबल प्रस्तावित कीमत पर शेयरों को खरीदने से इंकार कर देता।

अधिग्रहण अभी भी सिंगापुर कानून की अदालत में परीक्षण का सामना कर रहा है क्योंकि दोनों कंपनियों ने एक दूसरे के खिलाफ कानूनी कार्यवाही दायर की है, जबकि हाल ही में फोनपे ने भारतीय प्रतिभूति और विनिमय (एक्सचेंज) मंडल से हस्तक्षेप करने की अपील की है क्योंकि उनके अनुसार वेंचरईस्ट और एफ़ल ग्लोबल द्वारा एक साइड-डीलिंग की गई है, जो फोनपे और इंडस ओएस के उपरोक्त अधिग्रहण सौदे को खराब करने के लिए जानबूझकर की गई है।

निष्कर्ष

पहले इनकार करने के अधिकार खंड को प्रभावी बनाने के लिए एक वैध अनुबंध होना चाहिए। हालांकि, भविष्य की तारीख के लिए प्रारंभिक चरण में लेनदेन को अंतिम रूप देना कठिन है। जब पक्ष वास्तविक स्थिति में हों तो बातचीत करना या चर्चा करना हमेशा आसान होता है। पहले इनकार करने का अधिकार लेन-देन पर बहुत प्रभाव डालता है। अधिकांश समय इसकी सीमा होती है जिसके कारण पक्षों के बीच मुकदमेबाजी होती है। बाजार अर्थव्यवस्था में प्रतिस्पर्धा कम होने से देश का भी पतन होगा।

कुछ समझौतों जैसे लीव और लाइसेंस समझौते, लेखक समझौते, शेयर हस्तांतरण समझौते, आदि, में आरओएफआर खंड महत्वपूर्ण हैं क्योंकि अनुदानकर्ता को बलिदान की आवश्यकता होती है जिसके द्वारा वे भविष्य में लाभ प्राप्त कर सकते हैं। पक्षों के बीच अच्छी बातचीत के साथ इस खंड का मसौदा तैयार करना उचित है ताकि किसी भी पक्ष को नुकसान न हो। यह एक ज्ञात तथ्य है कि आरओएफआर जैसा बॉयलरप्लेट खंड संस्थापकों और निवेशकों के बीच भविष्य के सभी संभावित विवादों से नहीं बच सकता है, लेकिन जो ज्ञात है वह शब्दों और शर्तों के स्पष्ट, वर्णनात्मक और सटीक उपयोग के साथ ही इन खंड का मसौदा तैयार करना होता है।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here