प्राइवेट डिफेन्स रिलेटेड टू प्रॉपर्टी: गाईड (संपत्ति की निजी रक्षा का अधिकार: भारतीय दंड संहिता 1860)

0
1523
Private defence related to property
Image Source-https://rb.gy/rgls9r

यह लेख Pranjal Rathore द्वारा लिखा गया है जो महाराष्ट्र नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, औरंगाबाद में पढ़ रहे हैं और बीए एलएलबी (ऑनर्स) कर रहे हैं। लेखक ने संपत्ति से संबंधित निजी रक्षा और अवधारणाओं को संक्षिप्त और सरल भाषा में स्पष्ट करने का प्रयास किया है। इस लेख का अनुवाद Revati Magaonkar ने किया है।

Table of Contents

परिचय (इंट्रोडक्शन)

एक व्यक्ति अपनी संपत्ति के साथ-साथ दूसरों की संपत्ति के खिलाफ अधिकार का अभ्यास कर सकता है। संपत्ति के खिलाफ निजी रक्षा (प्राइवेट डिफेंस) के विशेषाधिकार या अधिकार का अभ्यास चोरी, सेंध (हाउस ब्रेकिंग), शरारत (मिसचीफ) या आपराधिक अतिचार (क्रिमिनल ट्रेसपास) या डकैती, शरारत या गृह-अतिचार (हाउस ट्रेसपास) के अपराधों के खिलाफ किया जाना चाहिए, जब व्यक्ति भय या मौत का कारण बनने की, या गंभीर चोट की संभावना के डर में है। प्रत्येक व्यक्ति के पास अपनी संपत्ति को त्यागने (डिस्कार्ड) और उसकी सहमति के बिना उसकी संपत्ति में जाने वाले किसी भी अतिचारी (ट्रेसपासर्स) को वहां से पहले निकालने का अधिकार उसके पास होता है। जैसा भी हो, अगर अतिचारी के पास संपत्ति का मालिकी हक्क है और मालिक इसके बारे में सोचता है, तो निजी बचाव (प्राइवेट डिफेंस) का विशेषाधिकार मालिक के लिए उपलब्ध नहीं है। उदाहरण के लिए, वहा रहने वाला (ऑक्यूपंट)।

संपत्ति की निजी रक्षा के अधिकार (राइट टु प्राइवेट डिफेंस ऑफ़ प्रॉपर्टी)

इस तरह के अधिकार का अभ्यास करने के लिए, नीचे दी गई शर्तों को पूरा करना चाहिए:

  1. अतिचारी को योग्य रूप से महत्वपूर्ण समय के अवधि में संपत्ति के वास्तविक भौतिक स्वामित्व (फिजिकल ओनरशिप) में होना चाहिए;
  2. वह वास्तविक भौतिक स्वामित्व उस जगह के मालिक की जानकारी में होना चाहिए, या तो सूचित किया जाना चाहिए या सच्चाई के किसी भी तथ्य को छुपाए बिना होना चाहिए;
  3. अतिचार कर्ता द्वारा वास्तविक मालिक को बेदखल करने की प्रक्रिया समाप्ती में और अंतिम होनी चाहिए;
  4. यदि भूमि खेती के लायक है ऐसी घटना हो, तो इस घटना में धारक ने भूमि पर कोई फसल विकसित की है, उस समय वास्तविक मालिक सहित किसी के पास उन पैदावार को नष्ट करने का विकल्प नही होता है।

संपत्ति की निजी सुरक्षा का अधिकार (राईट ऑफ प्राइवेट डिफेन्स ऑफ प्रोपर्टी)

संपत्ति का कब्जा (पजेशन ऑफ प्रौपर्टी)

यदि अतिचार (ट्रेसपास) करने वाले के पास संपत्ति का कब्जा है और यदि उस जमीन के मालिक को उस चीज के बारे में पता है तो मालिक को संपत्ति के खिलाफ निजी बचाव का कोई अधिकार नहीं है। दूसरी ओर, यदि अतिचार करने वाले के पास संपत्ति का कब्जा नहीं है, तो संपत्ति के मालिक को उस भूमि के निजी रक्षा का अधिकार है। इस प्रकार, संपत्ति का अधिकार (राइट ऑफ़ प्रॉपर्टी) संपत्ति की निजी रक्षा के अधिकार के अनुसार एक मुख्य भूमिका निभाता है।

अतिचार के निजी बचाव का अधिकार (राईट ऑफ प्राइवेट डिफेन्स ऑफ ट्रेसपासर)

एक अतिचारी के खिलाफ मालिक का आत्मरक्षा (सेल्फ डिफेंस) का विशेषाधिकार तब तक उपलब्ध है जब तक कि अतिचारी वास्तविक रूप में जमीन पर है। अगर अतिचार कर्ता ऐसे समय संपत्ति को जप्त या मालिक को वहा से निकलने का प्रयास करता है, तो मालिक को संपत्ति से उसको बाहर निकालने या संपति को जप्त करने का प्रयास करनेवाले अतिचारी पर घावं देकर उसे उस जगह से दूर करने का अधिकार है। जिस क्षण अतिचारी को उस जमीन से बाहर निकाल दिया जाता है, उस समय मालिक के निजी बचाव के विशेषाधिकार समाप्त हो जाता है और वह कानून को अपने हाथ में नहीं ले सकता है और अतिचारी को नुकसान नहीं पहुंचा सकता है, जहां मालिक के खिलाफ निजी रक्षा सुलभ है। ऐसी घटना में कि व्यक्ति संपत्ति के कानूनी स्वामित्व (लीगल ओनरशिप) में है और मालिक उसे संपत्ति से बाहर निकालने का प्रयास करता है, तब संपत्ति के धारक के पास निजी रक्षा का उपयोग करने का विकल्प होता है।

जब संपत्ति की निजी रक्षा मौत का कारण बनती है (प्राइवेट डिफेन्स ऑफ प्रोपर्टी एक्सटेंडस टू कॉजिंग डेथ)

एक व्यक्ति संपत्ति के खिलाफ निजी बचाव के अपने विशेषाधिकार का अभ्यास नहीं कर सकता है, जिसमें नीचे दिए गए मामलो को छोड़कर किसी भी व्यक्ति की मृत्यु हो सकती है:

डकैती (रॉबरी)

आईपीसी की धारा 390 के अनुसार डकैती को दो अलग-अलग तरीकों से प्रस्तुत किया जा सकता है। लंबे समय में, सेंधमारी (बर्गलारी – घर फोड़ना) या तो डकैती या जबरदस्ती का एक प्रेरित चरण है। सेंधमारी डकैती है जब व्यक्ति को डकैती होते समय में:

  1. मृत्यु, चोट, अन्यायपूर्ण प्रतिबंध (अन जस्ट रिस्ट्रिक्शन), गलत कारावास (रोंगफुल कन्फाइनमेन्ट) का कारण बनता है;
  2. मृत्यु, चोट या अन्यायपूर्ण प्रतिबंध लगाने का प्रयास;
  3. मृत्यु, चोट या अन्यायपूर्ण सीमा (अन जस्ट लिमिटेशन) के भय का कारण बनता है;
  4. मृत्यु, चोट या गलत कारावास का भय पैदा करने का प्रयास होता है।

भयादोहन (ब्लैकमेल) या जबरन वसूली (एक्सटोर्शन) तब चोरी होती है जब डकैती करने के समय व्यक्ति को म्यूत्यू के भय से वक्त गुजरना पड़ता है या चोट लगने या अनुचित प्रतिबंध के डर से रखा जाता है।

रात में घर तोड़ना (हाऊस ब्रेकींग एट नाईट)

आईपीसी की धारा 446 के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति रात में घर में तोड़फोड़ करता है तो दूसरे व्यक्ति को स्वता की रक्षा करने का एक हद तक विशेषाधिकार है जहा वह अतिचार करने वाले व्यक्ति की मृत्यु या मृत्यु का कारण बन सकता है।

आग से अनिष्ट नुकसान (मिसचीफ बाय फायर)

इसे आईपीसी की धारा 436 के तहत स्पष्ट किया गया है। यदि कोई व्यक्ति किसी की संपत्ति को अनुचित नुकसान पहुंचाने का कार्य करता है, तो यह अनिष्ट नुकसान (मिसचीफ)  के अंतर्गत आता है। अग्नि द्वारा की गई अनिष्ट नुकसान को सबसे उग्र (फ्यूरियस) प्रकार की शरारत माना जाता है।

डकैती, अनिष्ट नुकसान या गृह-अतिचार मौत या गंभीर चोट के भय के साथ (रॉबरी, मिसचीफ ऑर हाऊस  ट्रेसपास विथ सेंसिबल ड्रेड ऑफ डेथ ऑर ग्रिविअस हर्ट)

यदि किसी की संपत्ति पर चोरी, डकैती, अनिष्ट नुकसान या घर-अतिचार का कोई अपराध किया जा रहा है, तो अधिकांश भाग के लिए, एक व्यक्ति, दोषी पक्ष की मृत्यु का कारण नहीं बन सकता है। किसी भी मामले में, यदि व्यक्ति मृत्यु या भयंकर घाव के भय या धमकी के तहत है कि यदि वह उस व्यक्ति को मृत्यु नहीं देगा या उसका कारण नहीं बनेगा तो उसका परिणाम उसकी खुद की मृत्यु या असहनीय चोट का कारण बन सकता, तो वह उस समय अपराधी की मृत्यु का कारण बन सकता है।

यह कंचन बनाम राज्य के मामले में देखा जा सकता है, कि घायल व्यक्ति और उसके दोस्तों द्वारा आरोपी की संपत्ति का अनिष्ट नुकसान किया गया था इस आधार पर, आरोपी को उनके मौत का कारण बनने का विशेषाधिकार नहीं है। ऐसा करने के लिए उस व्यक्ति के पास एक मौत या गंभीर चोट जैसा खतरा होना चाहिए कि अगर किसी भी तरह से उसने कार्रवाई ना कि तो यह उसकी खुद की मौत या गंभीर चोट का कारण बन सकता है।

उपर दि गई सभी परिस्थितियों में, इस तथ्य के बावजूद कि हमलावर की मृत्यु का कारण बनने के लिए किसी व्यक्ति के अधिकार तक पहुँचा जा सकता है, परंतु उस विशेषाधिकार का उपयोग महत्वपूर्ण या आवश्यक स्थितियों से अधिक नहीं किया जा सकता है।

जब संपत्ति की निजी रक्षा का अधिकार मृत्यु के अलावा अन्य कारणों तक विस्तृत हो जाता है (व्हेन राईट ऑफ प्राइवेट डिफेन्स ऑफ प्रोपर्टी एक्सटेंड टु कॉज अदर दन डेथ)

जब अपराध की स्थिति में, उसे करने, या करने का प्रयास करने के वक्त निजी रक्षा के अधिकार के उपयोग करना जरूरी बन जाता है, चाहे वह चोरी, अनिष्ट नुकसान, या आपराधिक अतिचार हो, वह अधिकार जानबूझकर मृत्यु के कारण तक नहीं पहुंच सकता है, फिर भी धारा 99 में दि गई सीमाओं के अधीन, जानबूझकर एक गलत काम करने वाले को, मृत्यु के अलावा किसी अन्य कृति के लिए विस्तारित किया जाता है। इस धारा के अनुसार अभियुक्तों को किसी भी स्थिति  में अपने निजी बचाव के अधिकार को पार करने की स्वीकृति नहीं दी जा सकती है। यदि कोई व्यक्ति निजी प्रतिरक्षा के विशेषाधिकार का उल्लंघन करता है और अतिचारी की मृत्यु का कारण बनता है, तो वह धारा 304, भाग II के तहत उत्तरदायी होगा। यह खंड धारा 103 का अंतिम उत्पाद है क्योंकि धारा 101 धारा 100 का निष्कर्ष है।

वी.सी.चेरियन बनाम राज्य के मामले में तीन मृत व्यक्तियों ने किसी अन्य व्यक्ति के साथ मिलकर एक चर्च की निजी संपत्ति में, अवैध रूप से सड़क बिछा दी थी। उनके खिलाफ अदालत में साक्ष्य का एक आपराधिक न्याय (क्रिमिनल बॉडी ऑफ़ एविडेंस) लंबित (पेंडिंग) था। चर्च के साथ संबंध रखने वाले तीन मृत लोगों ने इसे बंद करने के लिए इस सड़क पर नाकाबंदी की। उस नाकाबंदी को खाली करने वाले तीन मृत व्यक्तियों को आरोपि ने मृत्यु होने तक मारा था। केरल उच्च न्यायालय ने सहमति व्यक्त की कि चर्च के व्यक्तियों को निजी बचाव का विशेषाधिकार था, लेकिन निहत्थे मृत व्यक्ति की मृत्यु का कारण बने इस हद तक नहीं था, जिसका कार्य संहिता की धारा 103 के तहत नहीं आता था।

संपत्ति की निजी रक्षा के अधिकार का प्रारंभ और निरंतरता (कमेंनस्मेंट एंड कंटिन्युएशन ऑफ द राईट ऑफ प्राइवेट डिफेन्स ऑफ प्रोपर्टी) 

संपत्ति की निजी रक्षा का अधिकार तब शुरू होता है जब संपत्ति के लिए जोखिम की एक आशंका दिखाई देने शुरू होती है। चोरी के खिलाफ संपत्ति की निजी रक्षा का विशेषाधिकार तब तक प्राप्त होता है जब तक कि अपराधी ने संपत्ति के साथ अपनी वापसी को प्रभावित नहीं किया है या तो सार्वजनिक अधिकारियों की सहायता प्राप्त नहीं हुई है, या संपत्ति की वसूली नहीं की गई है। चोरी के खिलाफ संपत्ति की निजी रक्षा का अधिकार तब तक जारी रहता है जब तक कि दोषी पक्ष किसी व्यक्ति की मृत्यु या चोट या गलत तरीके से कारावास का कारण बनता है या प्रयास करता है, जब तक कि तत्काल मृत्यु या तत्काल चोट या क्षण में व्यक्तिगत प्रतिबंध (इंडिविजुअल रिस्ट्रिक्शन) आगे बढ़ता है।

  • आपराधिक अतिचार या बुराई के खिलाफ संपत्ति के निजी प्रतिरोध का विशेषाधिकार तब तक है जब तक दोषी पक्ष आपराधिक अतिचार या कपट को करने (कमीशन) में आगे बढ़ता है।
  • शाम के समय घर-तोड़ने के खिलाफ संपत्ति के निजी प्रतिरोध का विशेषाधिकार तब तक जारी रहता है जब तक कि घर-अतिचार जो इस तरह के घर-तोड़ने की आय द्वारा शुरू किया गया हो।

इस विशेषाधिकार का अभ्यास तब किया जा सकता है जब सार्वजनिक प्राधिकरणों (पब्लिक अथॉरिटीज) की कार्य योजना बनाने का कोई अवसर न हो। जब अतिचार प्रभावी ढंग से किया जाता है तो संपत्ति का वास्तविक मालिक संपत्ति को सुरक्षित करने के लिए निजी बचाव का अधिकार खो देता है। यह सुनिश्चित करने के लिए निजी बचाव का कोई अधिकार नहीं है कि संपत्ति एक अतिचारी के लिए सुलभ है जब विवादित भूमि उसके पास बिल्कुल भी नहीं है।

एक घातक हमले के खिलाफ निजी रक्षा का अधिकार जिससे निर्दोष व्यक्ति को नुकसान होने की संभावना है (राईट ऑफ प्राइवेट डिफेन्स अगेन्स्ट डेडली असोल्ट विच इज लाईकली टू कॉज हार्म टू द इनोसंट पर्सन)

अगर किसी हमले के खिलाफ निजी बचाव के अधिकार की गतिविधि में, जो मौत की आशंका का कारण बनता है, तो बचाव को इस हद तक ले जाया जा सकता है कि वह किसी ईमानदार को नुकसान के खतरे के बिना उस अधिकार का व्यावहारिक रूप से अभ्यास नहीं कर सकता है। व्यक्ति, उसका अधिकार या निजी बचाव उस खतरे की दौड़ तक फैला हुआ है।

चित्रण (इल्लस्ट्रेशन):

‘A’ पर एक गिरोह (ग्रुप ऑफ़ पर्सन्स) द्वारा हमला किया जाता है जो उसे मारने का प्रयास करता है। वह भीड़ को समाप्त किए बिना निजी रक्षा के अपने अधिकार का पर्याप्त रूप से अभ्यास नहीं कर सकता है, और वह भीड़ के साथ मिश्रित छोटे युवाओं को चोट पहुंचाने के खतरे के बिना गोली नहीं चला सकता है। ‘A’ कोई अपराध प्रस्तुत नहीं करता है यदि ऐसा करने से वह किसी भी बच्चे को चोट पहुंचाता है।

यह खंड (क्लॉज) निजी रक्षा के लिए नैतिक रूप से उचित एक बाधा को दूर करता है। बाधा व्यक्ति के मस्तिष्क में अनिश्चितता है, इस विषय में कि क्या वह किसी भी घटना में अपने अधिकार का अभ्यास करने के योग्य है, जब उसके कार्यों से कुछ निर्दोष लोगों को चोट लगने की संभावना है। धारा कहती है कि हमले के कारण समझदारी से मौत की आशंका पैदा करने के कारण, अगर बचाव को ऐसी परिस्थिति में देखा जाता है जहां एक निर्दोष व्यक्ति को नुकसान का खतरा मौजूद है, तो निजी रक्षा के अपने विशेषाधिकार का अभ्यास करने के लिए उस पर कोई बंधन नहीं है। और वह उस खतरे को चलाने के लिए योग्य है।

निजी रक्षा का अधिकार मृत्यु से कम (राईट ऑफ प्राइवेट डिफेन्स शॉर्ट ऑफ डेथ)

धारा 104 संपत्ति की निजी रक्षा के विशेषाधिकार को सीमित करती है, क्योंकि धारा 101 निजी रक्षा के विशेषाधिकार के प्रयोग में मृत्यु से कम किसी भी नुकसान का कारण बनने के लिए शरीर की निजी रक्षा के विशेषाधिकार पर रोक लगाती है। धारा 104 आवश्यकतानुसार, यह बताती है कि यदि अपराध जो निजी रक्षा के विशेषाधिकार का प्रयोग करता है, चाहे वह डकैती, शरारत या आपराधिक अतिचार हो, और धारा 103 में निर्दिष्ट किसी भी चित्रण का नहीं है, तो निजी रक्षा का विशेषाधिकार केवल वहा तक फैला है जहा मौत के अलावा किसी भी नुकसान का जानबूझकर कारण बना हो। आईपीसी की धारा 104 आईपीसी की धारा 103 के लिए एक अंतिम उत्पाद है।

नाथन बनाम मद्रास राज्य में, सुप्रीम कोर्ट ने माना कि चूंकि उसने यह विचार नहीं दिया कि संग्रह करने वाले पक्ष को किसी भी घातक हथियार से सुसज्जित (फुरनिष्ड) किया गया था और अपील करने वाले पक्ष के संबंध में मृत्यु या गंभीर चोट का कोई डर नहीं हो सकता था और उनकी पार्टी, आईपीसी की धारा 104 के तहत उनका विशेषाधिकार मृत्यु के अलावा किसी भी नुकसान के कारण विवश था। इस तरह, अभियुक्त, हालांकि, वे संपत्ति की निजी रक्षा के अधिकार का अभ्यास कर रहे थे, लेकिन वह उस अधिकार से आगे निकल गए जब उन्होंने पार्टी में से एक की मृत्यु का कारण बना और बाद में, उनका मामला आईपीसी की धारा 300 के अपवाद 2 के तहत भी आ गया, उन पर आईपीसी की धारा 304 के तहत गैर इरादतन हत्या (कल्पेबल होमीसाइड) का खतरा होगा और मारने का नहीं।

निष्कर्ष (कन्क्लूजन)

आगे आने वाले इस विशेषाधिकार की गतिविधि को वैध बनाने के लिए निरीक्षण किया जाना है:

  1. पूरी दुर्घटना;
  2. आरोपित द्वारा प्राप्त चोटें;
  3. उसकी सुरक्षा के लिए खतरे का आसन्न (इमिनेंट);
  4. अभियुक्तों द्वारा की गई चोटें;
  5. परिस्थितियाँ क्या आरोपित के पास विशेषज्ञों को खोलने के लिए कार्ययोजना बनाने का अवसर था।

निजी रक्षा का अधिकार प्रत्येक निवासी के हाथ में अपनी रक्षा के लिए एक अच्छा हथियार है। यह विशेषाधिकार किसी हमले के जोखिम और अपरिहार्य (इंडिस्पेंसिबल) खतरे के प्रति प्रतिशोध (रिवेंज) का नहीं है। यदि किसी भी मामले में, व्यक्ति इस अधिकार का दुरुपयोग करते हैं, तो अदालत के लिए यह देखना मुश्किल है कि क्या इस विशेषाधिकार का पालन कुछ बुनियादी ईमानदारी के अनुसार किया गया था या नहीं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here