हिंदू कानून के तहत प्राकृतिक अभिभावक

0
5389
Hindu Law
Image Source- https://rb.gy/jtc3uf

यह लेख स्कूल ऑफ लॉ, बेनेट विश्वविद्यालय के Vijaya Gupta द्वारा लिखा गया है। इस लेख में हिंदू कानून के तहत प्राकृतिक अभिभावक (गार्डियन) के बारे मे चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Revati Magaonkar द्वारा किया गया है।

परिचय

अभिभावकता (गार्डीयनशिप) उस व्यक्ति और बच्चे के बीच का रिश्ता है जो मानसिक रूप से विकृत है या प्राकृतिक अक्षमताओं के साथ पैदा हुआ है। अभिभावक वह व्यक्ति होता है जिसके पास बच्चे और बच्चे की संपत्तियों की देखभाल करने का अधिकार होता है। हिंदू धर्म के तहत, बच्चे की अभिभावकता पर कोई विशेष कानून नहीं था क्योंकि परिवार के सभी सदस्य एक साथ रहते थे। यदि बच्चे के माता-पिता नहीं है, तो परिवार का मुखिया वह व्यक्ति होता है जो बच्चे की देखभाल करता है। आजादी से पहले अभिभावकता पर भी कोई कानून नहीं थे। इसलिए, स्वतंत्रता के बाद, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने हिंदू कोड बिल, 1950 प्रस्तुत किया। हिंदू कोड बिल में हिंदू विवाह अधिनियम, हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, हिंदू अल्पसंख्यक और अभिभावकता अधिनियम और हिंदू दत्तक और भरण पोषण अधिनियम शामिल थे। 

हिंदू कानून के तहत अभिभावकता के कानून को हिंदू अल्पसंख्यक और अभिभावकता अधिनियम (इसके बाद ‘1956 का अधिनियम’) के तहत संहिताबद्ध (कोडीफाइड) किया गया था। यह 1956 में अधिनियमित किया गया था। अधिनियम को नाबालिगों के साथ अभिभावक के संबंध, उनके अधिकारों और नाबालिग और संपत्ति पर अभिभावक की शक्ति को परिभाषित करने के लिए अधिनियमित किया गया था। यह अधिनियम अभिभावक और वार्ड अधिनियम का एक विस्तारित भाग है। इस अधिनियम को कानून के रूप में हिंदुओं के बीच अल्पसंख्यक और अभिभावकता से संबंधित कानून के कुछ हिस्सों में संशोधन और संहिताबद्ध करने के लिए लाया गया था। यह अधिनियम मुख्य रूप से अभिभावक, अभिभावकों के प्रकार और बच्चे की सुरक्षा पर केंद्रित है। 

हिंदू कानून के तहत एक प्राकृतिक अभिभावक कौन है?

अभिभावक वह व्यक्ति होता है जो बच्चे की देखभाल तब तक करता है जब तक कि वह स्वयं निर्णय लेने में सक्षम न हो जाए। 1956 के अधिनियम में, एक अभिभावक वह व्यक्ति होता है जो नाबालिग व्यक्ति की या उस व्यक्ति की संपत्ति या दोनों की देखभाल करता है। इसमें विभिन्न प्रकार के अभिभावक शामिल हैं जैसे कि प्राकृतिक अभिभावक, नाबालिग के पिता या माता की इच्छा से नियुक्त अभिभावक या न्यायालय द्वारा नियुक्त या घोषित अभिभावक। अधिनियम के तहत तीन प्रकार के अभिभावक हैं, वे हैं:

  1. प्राकृतिक अभिभावक,
  2. वसीयतनामा (टेस्टामेंट्री) अभिभावक और
  3. अभिभावक जो न्यायालय द्वारा नियुक्त या घोषित किए गए हैं। 

1956 के अधिनियम की धारा 6 में नाबालिग के प्राकृतिक अभिभावक के बारे में बताया गया है। 1956 के अधिनियम के तहत तीन प्रकार के प्राकृतिक अभिभावक हैं वे पिता, माता या पति हैं। 1956 के अधिनियम की धारा 6 के अनुसार पिता प्राकृतिक अभिभावक होता है और उसके बाद माता नाबालिग की प्राकृतिक अभिभावक बन जाती है। साथ ही, अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 19 के तहत, यह कहा गया है कि एक पिता को अपने नाबालिग बच्चे की प्राकृतिक अभिभावकता से तब तक वंचित नहीं किया जा सकता जब तक कि वह अयोग्य (अनफिट) नहीं पाया गया हो। जब पिता जीवित होता है, तो वह प्राकृतिक अभिभावक होता है और उसके बाद ही माता प्राकृतिक अभिभावक बनती है। पिता या माता को छोड़कर कोई भी बाहरी व्यक्ति नाबालिग का अभिभावक नहीं बन सकता है। नाबालिग की अभिभावकता नाबालिग के कानूनी अधिकार के बारे में नहीं है, लेकिन यह बच्चे के कल्याण को ध्यान में रखती है। 1956 के अधिनियम की धारा 13 में नाबालिग के कल्याण के बारे में बताया गया है। यह कहा गया है कि धारा 6 को हमेशा 1956 के अधिनियम की धारा 13 के साथ पढ़ा जाना चाहिए। साथ ही, अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 7 और 17, में यह माना जाता है कि अभिभावक की नियुक्ति करते समय एक नाबालिग बच्चे के कल्याण को देखा जाना चाहिए। इस अधिनियम के लिए, नाबालिग का कल्याण सर्वोपरि है और पिता का अभिभावक का अधिकार बच्चे के कल्याण के अधीन है। ‘कल्याण’ शब्द को केवल पैसे और केवल शारीरिक आराम से नहीं मापा जाना चाहिए, बल्कि यहां शारीरिक कल्याण के साथ-साथ बच्चे के नैतिक कल्याण को भी देखा जाना चाहिए। कल्याण के साथ-साथ न्यायालय माता-पिता की पितृसत्ता के सिद्धांत को भी बच्चे की कस्टडी के लिए महत्वपूर्ण मानता है। यदि न्यायालय पिता को नाबालिग बच्चे की संरकक्षता के लिए अनुपयुक्त पाता है तो माता उस नाबालिग बच्चे की अभिभावक bn जाती है।।

1956 के अधिनियम की धारा 6 (a) में कहा गया है कि पिता नाबालिग का प्राकृतिक अभिभावक होता है, ‘उसके बाद’ मां प्राकृतिक अभिभावक बन जाती है। 1999 से पहले, ‘उसके बाद’ शब्द का अर्थ यह था कि माता अभिभावक केवल तब बनती है जब पिता की मृत्यु हो जाती है, लेकिन 1999 के बाद, दो ऐतिहासिक मामलों में गीता हरिहरन बनाम भारतीय रिजर्व बैंक और वंदना शिव बनाम जयंत बंधोपाध्याय, में सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि कुछ परिस्थितियों में पिता के जीवित रहने पर भी मां नाबालिग की प्राकृतिक अभिभावक के रूप में कार्य कर सकती है। ‘उसके बाद’ शब्द का अर्थ ‘अनुपस्थिति में’ के रूप में परिभाषित किया गया था। ‘अनुपस्थिति’ शब्द का अर्थ है नाबालिग की संपत्ति या उसके जीवन से पिता की अनुपस्थिति। यदि माता-पिता दोनों लंबे समय से अलग-अलग रह रहे हैं और यदि नाबालिग बेटी मां के साथ रह रही है तो मां नाबालिग की प्राकृतिक अभिभावक बन जाती है। साथ ही, यदि पिता नाबालिग के मामलों के प्रति पूरी तरह से उदासीन (इनडिफरेंट) है या वह किसी भी कारण से नाबालिग की देखभाल करने में शारीरिक रूप से असमर्थ है, तो पिता को अनुपस्थित माना जा सकता है और मां नाबालिग की ओर से वैध रूप से कार्य कर सकती है। 

1956 के अधिनियम की धारा 6 (a) के प्रावधान में कहा गया है कि अगर नाबालिग की उम्र पांच साल से कम है तो मां नाबालिग बच्चे की प्राकृतिक अभिभावक होगी। ‘आम तौर पर मां के साथ’ शब्द को अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 9 के साथ पढ़ा जाना चाहिए, जो न्यायालय के अधिकार क्षेत्र से संबंधित है जिसमें यह कहा गया है कि ‘वह स्थान जहां नाबालिग रहता है’। पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चे की माँ को प्राकृतिक अभिभावक के रूप में बताने का उद्देश्य यह है कि माँ बच्चे के कल्याण की देखभाल करने के लिए सबसे अच्छी व्यक्ति है और पिता बच्चे की जरूरतों के साथ-साथ बच्चे के कल्याण के लिए पर्याप्त समय नहीं दे सकता है। जब बच्चा पांच साल से कम उम्र का होता है तो ‘वह स्थान जहां नाबालिग रहता है’ वाक्यांश का अर्थ है कि न्यायालय का अधिकार क्षेत्र वहा होगा जहां मां रहती है क्योंकि बच्चा मां के साथ रहता है। साथ ही, कुछ न्यायालयों का विचार है कि न्यायालयों का अधिकार क्षेत्र उस आधार पर होगा जहां बच्चा आमतौर पर रहता है न कि मां के निवास के आधार पर।

धारा 6 के खंड (b) का अर्थ है कि मां नाजायज बच्चे की प्राकृतिक अभिभावक है और उसके बाद पिता अभिभावक है। खंड (c) में कहा गया है कि अगर लड़की विवाहित है तो पति प्राकृतिक अभिभावक बन जाता है। अगर नाबालिग लड़की की शादी हो चुकी है तो उसका पति प्राकृतिक अभिभावक होगा। अभिभावक और वार्ड अधिनियम की धारा 21 में यह भी कहा गया है कि एक अवयस्क (माइनर) पति अपनी अवयस्क पत्नी का अभिभावक होने के लिए सक्षम है। यदि नाबालिग पत्नी विधवा हो जाती है तो पति की मृत्यु से पहले जो नाबालिग अभिभावक था वह व्यक्ति उसका अभिभावक होगा।

धारा 6 की व्याख्या में कहा गया है कि पिता और माता में सौतेला पिता और सौतेली माँ शामिल नहीं है। 1956 के अधिनियम की धारा 7 कहती है कि दत्तक (एडोप्टेड) पुत्र का प्राकृतिक अभिभावक दत्तक पिता और उसके बाद दत्तक माता है। 

एक प्राकृतिक अभिभावक की शक्तियां क्या हैं?

पुराने हिंदू कानून के तहत, कर्ता संयुक्त परिवार का सबसे वरिष्ठ सदस्य होता है। संयुक्त परिवार बनाने के लिए कम से कम एक पुरुष सदस्य का होना आवश्यक है। यह कहा गया है कि एक कर्ता संपत्ति या कानूनी आवश्यकता के लाभ के लिए संयुक्त परिवार की संपत्ति को अलग करने के लिए सक्षम है, और यह उन समकक्षों (कोपार्सनर) को भी बाध्य करता है जिनमें नाबालिग भी शामिल हैं। हिंदू कानून के तहत, ऐसा कोई पाठ नहीं है जो नाबालिग को संयुक्त परिवार का कर्ता होने से रोकता नहीं है। अन्य सभी समकक्षों की सहमति से नाबालिग परिवार का कर्ता बन सकता है। साथ ही, पिता या किसी पुरुष सदस्य की अनुपस्थिति में नाबालिग कर्ता के रूप में कार्य कर सकता है। जब एक नाबालिग पुरुष सदस्य को संयुक्त परिवार के कर्ता के रूप में माना जाता है और अगर मां नाबालिग के प्राकृतिक अभिभावक के रूप में कार्य करती है तो कर्ता सदस्यों के हितों के लिए प्राकृतिक अभिभावक के रूप में कार्य कर सकता है।

1956 के अधिनियम की धारा 8 प्राकृतिक अभिभावक की शक्तियों के बारे में बताती है। नाबालिग के कल्याण के लिए प्राकृतिक अभिभावकों को शक्तियां दी गई हैं। प्राकृतिक अभिभावकों की शक्तियों को दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है: एक अपने नाबालिग व्यक्ति और उसकी संपत्ति के संबंध में पूर्ण शक्तियों से संबंधित है और दूसरा उन शक्तियों से संबंधित है जो वह न्यायालय की मंजूरी और नियंत्रण के अधीन प्रयोग कर सकता है। सर्वोच न्यायालय ने धारा 8 की व्याख्या की और कहा कि यह धारा नाबालिग की अचल (इमोवेबल) संपत्ति के हस्तांतरण (ट्रांसफर) के संबंध में प्राकृतिक अभिभावकों की शक्तियों की प्रकृति और सीमा के बारे में बताती है। धारा में वर्णित ‘अचल संपत्ति’ शब्द की व्याख्या एक नाबालिग की निश्चित संपत्ति के रूप में की जाती है और इसका अर्थ संयुक्त परिवार की संपत्ति में उसके अनिश्चितकालीन (इंडेफिनाइट) हित में उतार-चढ़ाव नहीं है।

धारा 8 का खंड (1) अभिभावक की सामान्य शक्तियों के बारे में बताता है। यह अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 29 के समान है, जिसमें कहा गया है कि अभिभावक की नियुक्ति न्यायालय द्वारा की जाती है और वह न्यायालय के निर्णय से बाध्य होता है। यह धारा नाबालिग की संपत्ति या अचल संपत्ति का अर्थ बताती है। यह उस संपत्ति से संबंधित है जिसका नाबालिग मालिक है। धारा स्पष्ट करती है कि अभिभावक ऐसे सभी कार्य कर सकता है जो नाबालिग के लाभ के लिए हों और उचित हों। नाबालिग की संपत्ति की देखभाल नाबालिग के प्राकृतिक अभिभावक द्वारा की जाती है। यह धारा प्राकृतिक अभिभावक को संयुक्त परिवार में नाबालिग के अविभाजित हित को शामिल करने की अनुमति नहीं देती है। यदि प्राकृतिक अभिभावक कोई ऐसी संपत्ति अर्जित (एक्वायर) करना चाहता है जिससे नाबालिग को लाभ हो, तो वह न्यायालय की अनुमति लिए बिना उस संपत्ति का अधिग्रहण (एक्विजिशन) कर सकता है।

खंड (1) यह भी निर्धारित करता है कि अभिभावक व्यक्तिगत अनुबंधों द्वारा नाबालिग को बाध्य नहीं कर सकता है। साथ ही, वह नाबालिग के नाम पर अनुबंध नहीं कर सकता जिससे नाबालिग पर कोई दायित्व लग जाए। वह नाबालिग पर वित्तीय दायित्व अधिरोपित (इंपोज) कर सकता है, परन्तु वह उस पर और कोई दायित्व नहीं थोप सकता। एक अभिभावक को ऋण का भुगतान करने के लिए बिना शर्त उपक्रम (अनकंडिशनल अंडरटेकिंग) द्वारा नाबालिग या उसकी संपत्ति पर व्यक्तिगत दायित्व लागू करने का कोई अधिकार नहीं है, जो कानूनी आवश्यकता के लिए या नाबालिग के लाभ के लिए अनुबंधित नहीं है। यह उन विचारों में से एक है जहा बताया गया है कि एक अभिभावक के पास अपने नाबालिग को खरीद के अनुबंध के लिए बाध्य करने की शक्ति है और अभिभावक द्वारा दर्ज किया गया अनुबंध लागू करने योग्य है। साथ ही, उसके पास बिक्री के अनुबंध में अपने नाबालिग को बाध्य करने की शक्ति है, लेकिन अभिभावक को न्यायालय की पूर्व अनुमति से नाबालिग की संपत्ति को अलग करना होगा और फिर वह बिक्री के अनुबंध में प्रवेश कर सकता है जो लागू करने योग्य होगा।

धारा की उप-धारा (2) प्राकृतिक अभिभावकों की शक्तियों की सीमाओं के बारे में बताती है। यह खंड स्पष्ट करता है कि प्राकृतिक अभिभावक न्यायालय की किसी पूर्व स्वीकृति के बिना नाबालिग की अचल संपत्ति के किसी भी हिस्से को गिरवी या चार्ज, या बिक्री, उपहार, विनिमय (एक्सचेंज), अचल संपत्ति के किसी भी हिस्से को 5 साल से अधिक के लिए पट्टे (लीज) पर नहीं दे सकता है। एक अभिभावक को नाबालिग से संबंधित संपत्तियों को स्थानांतरित करने का अधिकार है, बशर्ते कि ऐसा हस्तांतरण या तो नाबालिग के लाभ के लिए होना चाहिए या किसी कानूनी आवश्यकता के लिए होना चाहिए। यदि नाबालिग की संपत्ति का उसके प्राकर्तिक अभिभावक द्वारा उसकी अचल संपत्ति का निपटान (डिस्पोज) किया जाता है, तो उसे न्यायालय की अनुमति लेनी होगी। न्यायालय की अनुमति के बिना अभिभावक द्वारा किया गया अलगाव नाबालिग के विकल्प पर शून्यकरणीय (वॉयडेबल) है।

यदि न्यायालय की मंजूरी के बिना मां द्वारा अलगाव किया जाता है तो नाबालिग के विकल्प पर इसे रद्द किया जा सकता है, तो हस्तांतरण से बचने और संपत्ति को खरीदारों से वापस पाने के लिए पहले अलगाव को रद्द करना, अलगाव करने वाले का कर्तव्य है। वयस्कता प्राप्त करने के तीन वर्ष बीत जाने पर प्रार्थना करना आवश्यक है अन्यथा परिसीमा (लिमिटेशन) के कारण वाद वर्जित (बार्ड) हो जाएगा। बेची गई संपत्ति के संबंध में कोई दावा करने से पहले अलगाव को रद्द करना आवश्यक है। यदि अलगाव को अलग करने की प्रार्थना नहीं की जाती है तो कब्जे की मांग करने वाला मुकदमा चलने योग्य नहीं होगा। एक नाबालिग बिक्री विलेख (सेल डीड) या अलगाव से संबंधित अन्य दस्तावेजों के लिए एक ईओ नामित पक्ष है, तो उसे उन दस्तावेजों को रद्द करने के लिए मुकदमा करना होगा और यह पर्याप्त है यदि नाबालिग बिक्री विलेख रद्द किए बिना कब्जे के लिए आवेदन करता है। 

धारा 8 की उप-धारा (3) प्राकृतिक अभिभावकों की शक्ति पर प्रतिबंधों के बारे में बताती है। एक प्राकृतिक अभिभावक उप-धारा (1) और (2) के उल्लंघन में अचल संपत्ति के साथ व्यवहार करता है तो यह शून्य हो जाता है और नाबालिग पर बाध्य नहीं होता है। वाक्यांश ‘अपने अधीन दावा करने वाला कोई भी व्यक्ति’ में ऐसे व्यक्ति द्वारा बिक्री को अलग रखने के लिए एक अंतरिती (ट्रांसफेरी) शामिल है और वह उप-धारा में वर्णित प्राकृतिक अभिभावक द्वारा अलगाव से बच सकता है। उसके पास बिक्री को रद्द करने की शक्ति भी है। यह भी कहा गया है कि ये न केवल नाबालिगों पर लागू होता है, बल्कि उस व्यक्ति पर भी लागू होता है जिसे नाबालिग ने अपने अधिकार हस्तांतरित किए हैं, ऐसे परिस्थितियों में वाद दायर करने का अधिकार होता है। यदि पिता की मृत्यु होने पर माता को प्राकृतिक अभिभावक के रूप में नियुक्त किया जाता है और माता ने न्यायालय की पूर्व अनुमति के बिना संपत्ति बेच दी है तो बिक्री धारा 8 (3) के तहत लागू नहीं होती है। 

धारा की उप-धारा (4) न्यायालय की मंजूरी के बारे में बताती है। इसका अर्थ यह है कि न्यायालय के पास प्राकृतिक अभिभावक को उप-धारा (2) में वर्णित कार्यों के लिए अनुमति देने की शक्ति केवल तभी है जब यह आवश्यक हो या नाबालिग का स्पष्ट लाभ हो। इस उपधारा की भाषा अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 31 (1) के समान है। उप-धारा (5) का अर्थ है कि उप-धारा (2) में बताए गए कार्यों के लिए न्यायालय की अनुमति के संबंध में, अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 29 लागू होगी। न्यायालय का अर्थ है दीवानी न्यायालय या जिला न्यायालय या अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 4A के तहत अधिकार प्राप्त न्यायालय। 

क्या हिंदू कानून के तहत अभिभावकता के लिए लैंगिक भेदभाव है?

अंग्रेज़ों के जमाने से ही महिलाओं को हर मामले में पुरुष से नीच माना जाता था। समाज किसी भी जाति की महिला की राय को कभी भी ध्यान में नहीं रखता था। ऐसे कई कानून थे जो देश में लोगों के लिए लैंगिक पक्षपाती (जेंडर बायस्ड) या असमान थे। महिला को हमेशा परिवार और घर की देखभाल करने के लिए कहा जाता था लेकिन बिना किसी संदेह के हिंदू कानून इसका पालन नहीं करता है। हिंदू कानून में ऐसे कई कानून हैं जो प्रकृति में लिंग पक्षपाती हैं जैसे हिंदू अल्पसंख्यक और अभिभावक अधिनियम, 1956, हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, हिंदू दत्तक ग्रहण अधिनियम, अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890। 

हिंदू अल्पसंख्यक और अभिभावक अधिनियम, 1956 को देश में कई लोगों द्वारा लैंगिक पक्षपाती माना जाता है क्योंकि 1956 के अधिनियम की धारा 6 (a) में कहा गया है कि पिता प्राकृतिक अभिभावक है और उसके बाद मां को प्राकृतिक अभिभावक कहा जाता है। गीता हरिहरन मामला, पद्मजा शर्मा मामला जैसे कई फैसले हैं जहां न्यायालय ने पिता के जीवित होते हुए भी मां को एक प्राकृतिक अभिभावक माना है। धारा 6 (a) में शब्द ‘उसके बाद’ को पहले पिता की मृत्यु के बाद माना जाता था, लेकिन गीता हरिहरन मामले के बाद ‘उसके बाद’ शब्दों का अर्थ सर्वोच्च न्यायालय द्वारा ‘अनुपस्थिति में’ कहा गया था। 

हालांकि कई मामलों में, न्यायाधीश पिता के जीवित होने पर भी मां को प्राकृतिक अभिभावक बनाने के विचार में थे, लेकिन अधिनियम में बदलाव नहीं लाया गया था। विधि आयोग की 133 रिपोर्ट में महिला के साथ हुए अन्याय को मिटाने और कल्याण के सिद्धांत पर काम करने की सिफारिश की गई थी। यह अनुशंसा (रिकमेंड) की गई थी कि अभिभावक और कस्टडी के संबंध में माता-पिता दोनों को समान कानूनी स्थिति प्रदान करनी चाहिए। अभिभावक एवं वार्ड अधिनियम, 1890 की धारा 19 तथा हिंदू नाबालिग और संरक्षता अधिनियम की धारा 6(a) और 7 में परिवर्तन करने की अनुशंसा (रिकमेंड) की गई थी। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि उसे दत्तक पुत्र को दत्तक पुत्री में संशोधित करना चाहिए। अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890 को भी 2010 तक लिंग पक्षपाती माना जाता था लेकिन 2010 के संशोधन में धारा 19 (b) में संशोधन करके अभिभावक और वार्ड अधिनियम से लिंग भेदभाव को हटा दिया गया था।

हालांकि लैंगिक भेदभाव को अधिनियम, 1890 से हटा दिया गया था लेकिन इसे अल्पसंख्यक और अभिभावकता अधिनियम से नहीं हटाया गया था। 257 वें विधि आयोग की रिपोर्ट में भी इसी तरह की सिफारिश की गई थी जिसमें कहा गया था कि समानता केवल भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के संदर्भ में नहीं बल्कि माता-पिता के अधिकारों और कानूनी स्थिति के संदर्भ में भी हो सकती है। इसलिए असमानता को दूर किया जाना चाहिए। सरकार द्वारा कई सिफारिशों के बाद, 1956 के अधिनियम की धारा 6 (a) में कोई संशोधन नहीं किया गया था। 

2015 के विधि आयोग की रिपोर्ट के बाद, 2019 में एनसीडब्ल्यू की अध्यक्ष रेखा के पास महिला और बाल विकास मंत्रालय की सिफारिशों का एक सेट था। यह सुनिश्चित करने के लिए सिफारिशें की गई थीं कि महिलाओं, विशेष रूप से बलात्कार पीड़िताओं और एकल माताओं के साथ भेदभाव नहीं किया जाए। 1956 के अधिनियम में आयोग ने कहा कि मुख्य परिवर्तन में ‘उसके बाद’ माता यह शब्द नहीं होना चाहिए, बल्कि परिस्थितियों के अनुसार पिता या माता होना चाहिए। ये दोनों नाबालिग बच्चे के प्राकृतिक अभिभावक हैं। 1956 का अधिनियम माता के ऊपर पिता को प्राथमिकता देता है जो भारत के संविधान के अनुच्छेद 14 और 15 का उल्लंघन करता है। आयोग ने यह भी कहा कि उन्हें अधिनियम से ‘नाजायज’ शब्द को हटा देना चाहिए। उन्होंने दत्तक पुत्र से दत्तक पुत्री में परिवर्तन करके अधिनियम की धारा 7 में संशोधन करने का भी सुझाव दिया क्योंकि वे पुत्र और पुत्री के बीच के भेदभाव को दूर करना चाहते थे। सभी सिफारिशों को एक साथ रखकर इसे महिला एवं बाल विकास मंत्रालय को प्रस्तुत किया गया है। 

निष्कर्ष

अभिभावकता एक शब्द है जिसका अर्थ है “अधिकारों और शक्तियों का एक बंडल जो एक नाबालिग बच्चे के और उसके संपत्ति के संबंध में एक व्यक्ति के पास है”। हिंदू धर्म में कोई अभिभावकता कानून नहीं था क्योंकि परिवार के सभी सदस्य हमेशा एक साथ रहते थे। अगर माता-पिता नहीं होंगे तो परिवार के अन्य सदस्य बच्चे की देखभाल करेंगे। इसलिए, देश में एक उचित अभिभावकता कानून बनाने के लिए, संसद ने हिंदू अल्पसंख्यक और अभिभावक अधिनियम, 1956 को अधिनियमित किया। यह अधिनियम अभिभावक और बच्चे के बीच संबंध को परिभाषित करने और उचित अभिभावकता कानून बनाने के लिए भी बनाया गया था। अधिनियम, 1956 के तहत तीन प्रकार के अभिभावक हैं और उनमें से एक प्राकृतिक अभिभावक है। धारा 6 प्राकृतिक अभिभावक के बारे में बताती है और धारा 8 प्राकृतिक अभिभावकों की शक्तियों के बारे में बताती है। धारा 6 में विशेष रूप से कहा गया है कि पिता प्राकृतिक अभिभावक है और उसके बाद माता। इसका अर्थ था कि पिता की मृत्यु के बाद ही माता प्राकृतिक अभिभावक बनती है। लेकिन गीता हरिहरन बनाम आरबीआई के ऐतिहासिक मामले में ‘उसके बाद’ शब्द का अर्थ बदलकर ‘अनुपस्थिति में’ कर दिया गया था। यह कहा गया था कि इस धारा में लैंगिक भेदभाव है क्योंकि पहली प्राथमिकता पिता को दी गई थी। कई विधि आयोग की रिपोर्टें थीं जिनमें लैंगिक भेदभाव को दूर करने के लिए सिफारिशें की गईं लेकिन अधिनियम, 1956 में कभी संशोधन नहीं किया गया। हाल ही में, 2019 में, एनसीडब्ल्यू चेयरपर्सन श्रीमती रेखा शर्मा ने अभिभावकता कानून की समीक्षा (रिव्यू) की और कुछ सिफारिशें की और इसे महिला एवं बाल विकास मंत्रालय को सौंप दिया। जैसा कि हम 21वीं सदी में रह रहे हैं, कोई लैंगिक भेदभाव नहीं होना चाहिए, और हर कानून में सभी के साथ समान व्यवहार किया जाना चाहिए।  इसलिए अधिनियम से लैंगिक भेदभाव को दूर किया जाना चाहिए और माता और पिता दोनों को प्राकृतिक अभिभावक माना जाना चाहिए।

संदर्भ

1. मामले

  • अमिरता कुडुंबन बनाम सोर्नम कुडुंबन, एआईआर 1977 मैड 172
  • अमृतम कुदुंबम बनाम सरन कुदुंबम, (1991) 3 एससीसी 20
  • अमिताभ कुमार साही बनाम राज्य, 2016 एससीसी ऑनलाइन डेल 3135
  • विश्वनाथ चरित बनाम दामोदर पात्रा, एआईआर 1982 कैल 199
  • गौरव नागपाल बनाम सुमेधा नागपाल, (2008) 8 एससीसी 31
  • गीता हरिहरन बनाम भारतीय रिजर्व बैंक (1999) 2 एससीसी 228
  • गोवर्धन लाल बनाम गजेंद्र कुमार, एआईआर 2002 राज 148
  • हर्षदभाई देसाई बनाम भावनाबेन देसाई, एआईआर 2003 गुजरात 74
  • जगन्नाथन बनाम एएम वसुन्दन चेट्टियार, (2001) 2 सीटीसी 641
  • जीजाबाई विट्ठलराव गजरे बनाम पठानखान एआईआर 1971 एससी 315
  • जितेन बौरी बनाम पश्चिम बंगाल राज्य, 2003 एससीसी ऑनलाइन काल 78
  • कृष्ण प्रसाद पॉल बनाम पश्चिम बंगाल राज्य, 2005 एससीसी ऑनलाइन काल 262
  • लिली मन्ना बनाम पश्चिम बंगाल राज्य, 2007 एससीसी ऑनलाइन काल 603
  • नागप्पन बनाम अम्मासाई गौंडर, (2004) 13 एससीसी 480
  • नारायण लक्ष्मण गिलंकर बनाम उदय कुमार काशीनाथ कौशिक, एआईआर 1994 बम 152
  • पद्मजा शर्मा बनाम रतन लाल शर्मा, (2000) 4 एससीसी 266
  • पद्मावती बनाम कुलवंत राय, 2008 (1) एचएलआर 517 (पी एंड एच) 
  • पन्नीलाल बनाम राजेंद्र सिंह, (1993) 4 एससीसी 38
  • परिमल कांति पाल बनाम पश्चिम बंगाल राज्य, 2007 एससीसी ऑनलाइन काल 76 
  • रजत पंगरिया बनाम बीकानेर और जयपुर राज्य और अन्य, 2007 एससीसी ऑनलाइन डीआरएटी 7
  • रीता खरे बनाम मनोज खरे, 2019 एससीसी ऑनलाइन एमपी 3514
  • सरबजीत बनाम पियारा लाल, एआईआर 2005 पी एंड एच 237
  • सरोज बनाम सुंदर सिंह, (2013) 15 एससीसी 727
  • श्री नारायण बल और अन्य बनाम श्रीधर सुतार, (1996) 8 एससीसी 54
  • तेजस्विनी गौड़ बनाम शेखर जगदीश प्रसाद तिवारी, (2019) 7 एससीसी 42
  • थान सिंह बनाम ध्रुव अग्रवाल बनाम बनी इन्वेस्टमेंट्स एंड फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड और अन्य, 2007 एससीसी ऑनलाइन सीएलबी 54
  • वंदना शिवा बनाम जयंत बंधोपाध्याय, एआईआर 1999 एससी 1149
  • विश्वम्भर बनाम लक्ष्मीनारायण (2001) 6 एससीसी 163

2. क़ानून

  • हिंदू अल्पसंख्यक और अभिभावकता अधिनियम, 1956
  • अभिभावक और वार्ड अधिनियम, 1890

3. किताबें

  • हिंदू कानून, मुल्ला, 23 वां संस्करण
  • आधुनिक हिंदू कानून, पारस दीवान

4. जर्नल 

  • हिंदू अभिभावकता कानून पर प्रभाव, CNLU LJ (7) [2017-18]
  • अनुमेहा कर्नाटक और मिहिर नारविलकर, भारत में नाबालिग की संपत्ति का उपचार, आईजेएलएलजेएस

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here