भारत में श्रम कानून के अनुसार न्यूनतम मजदूरी

0
125

यह लेख Sai Shriya Potla द्वारा लिखा गया है। यह लेख न्यूनतम मजदूरी पर संसद द्वारा पारित विभिन्न कानूनों पर प्रकाश डालते हुए श्रम कानूनों के अनुसार भारत में न्यूनतम मजदूरी पर विस्तार से प्रकाश डालता है। यह लेख न्यूनतम मजदूरी के घटकों और भारत के सभी राज्यों में न्यूनतम मजदूरी की गणना कैसे की जाती है, से भी संबंधित है । इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja के द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

मजदूरी एक प्रकार का पारिश्रमिक (रिमूनरेशन) है जो नियोक्ता द्वारा अपने कर्मचारियों को एक निर्दिष्ट समय, यानी एक घंटे, एक दिन, एक सप्ताह या एक पखवाड़े (फॉर्टनाइट) में किए गए काम के आधार पर प्रदान किया जाता है। आम तौर पर अकुशल काम या शारीरिक श्रम के लिए मजदूरी का भुगतान किया जाता है, इसके विपरीत, वेतन का भुगतान कुशल काम या सफेदपोश नौकरियों के लिए किया जाता है जो नियमित अंतराल पर दिए जाते हैं। 

नियोक्ता अधिक लाभ कमाने के लिए श्रमिकों को दी जाने वाली मजदूरी को कम कर सकते हैं और स्थिर रोजगार की कमी और गरीबी के कारण श्रमिकों को उन नाममात्र मजदूरी को स्वीकार करने के लिए मजबूर किया जाता है। एक वेतनभोगी कर्मचारी के विपरीत, जिसके पास दीर्घकालिक सुरक्षा होती है, श्रमिकों का अक्सर उनके नियोक्ताओं द्वारा शोषण किया जाता है। इसलिए, प्रत्येक कार्यस्थल पर न्यूनतम मजदूरी होनी चाहिए। न्यूनतम मजदूरी पारिश्रमिक की वह न्यूनतम राशि है जो किसी नियोक्ता को कार्यस्थल पर उत्पीड़न को नियंत्रित करने के लिए किसी कर्मचारी को देनी होती है। 

निम्नलिखित लेख भारत में श्रम कानून के अनुसार न्यूनतम मजदूरी, न्यूनतम मजदूरी के इतिहास और न्यूनतम मजदूरी को विनियमित करने के लिए भारत में पारित विशेष कानून से विस्तृत रूप से संबंधित है।

न्यूनतम मजदूरी

न्यूनतम मजदूरी पारिश्रमिक की वह न्यूनतम राशि है जो नियोक्ता द्वारा कर्मचारी को कार्य के प्रदर्शन के लिए भुगतान की जानी आवश्यक है। सामूहिक समझौते या व्यक्तिगत समझौते से न्यूनतम मजदूरी को कम नहीं किया जा सकता है। राज्य देश की आर्थिक स्थिति और जीवन-यापन की लागत को ध्यान में रखते हुए न्यूनतम मजदूरी की दर निर्धारित करता है।

न्यूनतम मजदूरी का उद्देश्य

  • जीवन स्तर का बुनियादी मानक: न्यूनतम मजदूरी यह सुनिश्चित करती है कि एक व्यक्ति सभ्य जीवन जिए और भोजन, कपड़े, आश्रय और अन्य बुनियादी सुविधाओं सहित अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करे।
  • कार्यस्थल पर उत्पीड़न को रोकता है: श्रमिकों को उनके काम के लिए कम मजदूरी देने से रोका जाएगा। राज्य यह सुनिश्चित करने के लिए लगातार निगरानी करेगा कि सभी कार्यस्थल न्यूनतम मजदूरी के सिद्धांत का पालन करें। 
  • गरीबी दूर करना: न्यूनतम मजदूरी, कम मजदूरी वाली नौकरियों के लिए पारिश्रमिक की मात्रा बढ़ाएगा। कुछ स्तर पर, यह गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों के जीवन स्तर को ऊपर उठा सकता है।
  • उत्पादन बढ़ाना: जब कर्मचारी पारिश्रमिक की राशि से संतुष्ट होते हैं, तो कार्यस्थल में उनकी उत्पादकता बढ़ने की संभावना होती है, जिससे कुल उत्पादन में वृद्धि होगी और अप्रत्यक्ष रूप से देश की अर्थव्यवस्था को मदद मिलेगी।
  • किसी देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाना: सभी लोगों के पारिश्रमिक में वृद्धि के साथ, देश की औसत आय बढ़ती है, जिससे आर्थिक विकास होता है। 

वेतन/मजदूरी के प्रकार

उचित मजदूरी पर त्रिपक्षीय समिति, 1948 ने तीन प्रकार की मजदूरी को परिभाषित किया, अर्थात् न्यूनतम मजदूरी, उचित मजदूरी और जीवन निर्वाह मजदूरी।

  • न्यूनतम मजदूरी: जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, न्यूनतम मजदूरी पारिश्रमिक की वह न्यूनतम राशि है जो नियोक्ता को कर्मचारी को देना होता है। यह नियोक्ता का अनिवार्य दायित्व है; उसे इसे हर कीमत पर पूरा करना होगा।
  • उचित मजदूरी: न्यूनतम मजदूरी वैधानिक आदेश है, जबकि उचित मजदूरी उद्योग के विवेक पर निर्भर है। उचित मजदूरी किसी विशेष क्षेत्र में वित्तीय बोझ और जीवनयापन की लागत को वहन करने की उद्योग की क्षमता पर निर्भर करता है। अब तक, कई संगठन अपने कर्मचारियों को उचित मजदूरी देते हैं।
  • जीवन-यापन के लिए मजदूरी: एक व्यक्ति को जीवन-यापन के लिए मजदूरी अर्जित करने वाला माना जाता है यदि वह न केवल अपनी और अपने परिवार की बुनियादी जरूरतों को पूरा करता है, बल्कि शिक्षा, बीमा आदि जैसी अन्य विलासिता (लग्जरीज) की चीजें भी वहन कर सकता है। जीवन-यापन के लिए मजदूरी किसी राष्ट्र का अंतिम लक्ष्य है। हालाँकि, हर देश अपनी आर्थिक स्थितियों को देखते हुए जीवनयापन लायक मज़दूरी नहीं दे सकता।

न्यूनतम मजदूरी कानूनों का इतिहास

हम्मूराबी की संहिता न्यूनतम मजदूरी को संबोधित करने वाला दुनिया का सबसे पहला पाठ है। इसमें कहा गया है, “यदि कोई व्यक्ति किसी कारीगर को काम पर रखता है, तो उसे वर्ष की शुरुआत से पांचवें महीने तक प्रतिदिन छह दाने चाँदी देनी होगी। छठे महीने से लेकर वर्ष के अन्त तक वह प्रतिदिन पाँच दाने चाँदी देगा।” आधुनिक युग में, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया सभी देशों में न्यूनतम मजदूरी विनियमन (रेगुलेशन) लागू करने वाले पहले देश हैं।

प्रारंभ में, न्यूनतम मजदूरी की अवधारणा का उपयोग श्रमिकों और उद्योगों के बीच विवादों को निपटाने के लिए किया गया था। न्यूजीलैंड सरकार द्वारा अधिनियमित औद्योगिक सुलह (कांसिलिएशन) और मध्यस्थता (आर्बिट्रेशन) अधिनियम, 1894 ने मध्यस्थता की अदालत को न्यूनतम मजदूरी तय करके औद्योगिक विवादों को निपटाने का अधिकार दिया। मध्यस्थता द्वारा न्यूनतम मजदूरी तय करने की यह पद्धति ऑस्ट्रेलिया की अदालतों द्वारा अपनाई गई थी।

उसी समय, ऑस्ट्रेलिया और यूनाइटेड किंगडम ने पसीना बहाने की प्रथा को खत्म करने के लिए न्यूनतम मजदूरी कानून पेश किया। पसीना बहाना अपने श्रमिकों को अपर्याप्त मजदूरी देने का एक तरीका है, जिससे उनके लिए अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा करना मुश्किल हो जाता है। 

भारत में न्यूनतम मजदूरी कानूनों का इतिहास

न्यूनतम मजदूरी की अवधारणा प्राचीन काल से ही भारतीय समाज में मौजूद रही है। अर्थशास्त्र और सुक्रान्ति कुछ प्रसिद्ध भारतीय ग्रंथ हैं जिनमें मजदूरी का भुगतान, नियोक्ता और कर्मचारी संबंध, न्यूनतम मजदूरी आदि का उल्लेख है।

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद श्रमिकों के अधिकारों को महत्व मिला। 1943 में, एक भारतीय श्रम सम्मेलन ने भारत में श्रमिकों की कामकाजी स्थितियों की जांच के लिए स्थायी श्रम समिति की मदद से एक श्रम जांच समिति की स्थापना की। 1946 में स्थायी श्रम समिति ने न्यूनतम मजदूरी के मुद्दे को संबोधित करने के लिए विशेष कानून बनाने की सिफारिश की, जिसके परिणामस्वरूप न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 की शुरुआत हुई, जिससे भारत अपना न्यूनतम मजदूरी कानून बनाने वाले पहले विकासशील देशों में से एक बन गया।

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948

श्रमिकों के कल्याण के लिए न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 पारित किया गया था। यह अधिनियम यह सुनिश्चित करने के लिए न्यूनतम मजदूरी तय करता है कि कार्यस्थल पर श्रमिकों का शोषण न हो। यह अधिनियम विशेष रूप से असंगठित क्षेत्र के अधिकारों की रक्षा के लिए लागू किया गया था, क्योंकि काम की अस्थिरता और सौदेबाजी की शक्ति की कमी के कारण वे शोषण का आसान लक्ष्य हैं।

न्यूनतम मजदूरी विधेयक 11 अप्रैल, 1946 को केंद्रीय विधान सभा में पेश किया गया और उसी वर्ष पारित किया गया। हालाँकि, न्यूनतम मजदूरी अधिनियम (इसके बाद “अधिनियम” के रूप में संदर्भित) 15 मार्च, 1948 को लागू हुआ।

उपयुक्त सरकार

उपयुक्त सरकार के पास अनुसूचित रोजगार के संबंध में न्यूनतम मजदूरी निर्धारित करने की शक्ति है। अधिनियम की धारा 2(b) के अनुसार:

  1. केंद्र सरकार के पास केंद्र सरकार और रेलवे प्रशासन के अधिकार के तहत किए जाने वाले न्यूनतम मजदूरी, या खानों, तेल-क्षेत्र और प्रमुख बंदरगाहों के संबंध में किसी रोजगार, या किसी केंद्रीय अधिनियम के तहत स्थापित किसी भी सहयोग को निर्धारित करने का अधिकार है।
  2. राज्य सरकार को अन्य अनुसूचित रोजगार के संबंध में न्यूनतम मजदूरी निर्धारित करने का अधिकार है।

अधिनियम की धारा 2(g) अनुसूचित रोजगार को ऐसे रोजगार के रूप में परिभाषित करती है जो अधिनियम में उल्लिखित अनुसूची या ऐसे अनुसूचित रोजगार का हिस्सा बनने वाली कार्य की किसी शाखा के दायरे में आता है। अनुसूचित रोजगार को दो भागों में बांटा गया है – भाग I और भाग II। भाग I गैर-कृषि रोजगार से संबंधित है और भाग II कृषि रोजगार से संबंधित है। 

मजदूरी की न्यूनतम दरों का निर्धारण

धारा 3 में कहा गया है कि उपयुक्त सरकार को अनुसूची में भाग I और भाग II के लिए न्यूनतम मजदूरी तय करने का अधिकार है। अनुसूची के भाग II में निर्दिष्ट न्यूनतम मजदूरी की दर निर्धारित करते समय, उपयुक्त सरकार राज्य के एक हिस्से या एक विशिष्ट वर्ग के लिए दर तय कर सकती है।

उपयुक्त सरकार पांच वर्ष से अधिक के नियमित अंतराल पर न्यूनतम मजदूरी की समीक्षा कर सकती है और यदि आवश्यक समझी जाए तो न्यूनतम मजदूरी की दरों में बदलाव कर सकती है। भले ही उपयुक्त सरकार पांच साल के भीतर न्यूनतम मजदूरी की समीक्षा करने में विफल रहती है, सरकार के पास मजदूरी की न्यूनतम दर की समीक्षा करने और उसे तय करने का अधिकार है। जब तक न्यूनतम मजदूरी की नई दरें तय नहीं हो जातीं, तब तक न्यूनतम मजदूरी की पुरानी दरें ही लागू रहेंगी।

यदि उस रोजगार में श्रमिकों की कुल संख्या उस राज्य के एक हजार सदस्यों से कम है तो उपयुक्त सरकार न्यूनतम मजदूरी की दर तय नहीं कर सकती है। हालाँकि, यदि यह उपयुक्त सरकार के ध्यान में लाया जाता है कि श्रमिकों की कुल संख्या एक हजार सदस्यों से बढ़ गई है, तो सरकार न्यूनतम मजदूरी की दर निर्धारित कर सकती है। 

न्यूनतम मजदूरी की दरें तय या संशोधित करते समय, उपयुक्त सरकार निम्नलिखित कर सकती है:

  1. निम्नलिखित के लिए मजदूरी की एक अलग न्यूनतम दर तय करें 
  • विभिन्न अनुसूचित रोजगार 
  • एक ही अनुसूचित रोजगार में विभिन्न प्रकार के कार्य
  • वयस्क
  • किशोर (एडोलोसेंट)
  • बच्चे और प्रशिक्षु (अप्रेंटिस)
  • विभिन्न इलाकों में न्यूनतम मजदूरी।

2. मजदूरी की एक या अधिक अवधि तय करें, जैसे- एक घंटा, एक सप्ताह, एक महीना या कोई लंबी अवधि।

जब उपयुक्त सरकार न्यूनतम मजदूरी की नई दर तय या संशोधित करती है, जबकि न्यूनतम मजदूरी से संबंधित कोई कार्यवाही किसी न्यायाधिकरण (ट्रिब्यूनल) के समक्ष लंबित है, तो मजदूरी की ऐसी संशोधित न्यूनतम दर कार्यवाही में लागू नहीं होगी।

मजदूरी की न्यूनतम दर

धारा 4 के अनुसार, उपयुक्त सरकार को न्यूनतम मजदूरी की नई दर तय या संशोधित करते समय निम्नलिखित में से एक को शामिल करना होगा-

  1. मजदूरी और विशेष भत्तों की मूल दर, जिसे जीवनयापन भत्ते की लागत के रूप में भी जाना जाता है, जो उपयुक्त सरकार द्वारा विशिष्ट अंतराल पर प्रदान की जाती हैं,
  2. कम दर पर आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए मजदूरी की मूल दर और रियायतों का नकद मूल्य, जिसमें जीवन-यापन भत्ते की लागत शामिल हो भी सकती है और नहीं भी,
  3. मजदूरी की मूल दर, जीवनयापन भत्ते की लागत और रियायतों का नकद मूल्य।

न्यूनतम मजदूरी तय करने और संशोधित करने की प्रक्रिया

अधिनियम की धारा 5 न्यूनतम मजदूरी तय करने और संशोधित करने के लिए दो तरीके प्रदान करती है। वे हैं-

  • समिति द्वारा: समितियाँ और उप-समितियाँ पूछताछ करती हैं और न्यूनतम मजदूरी तय करने या संशोधित करने के बारे में उपयुक्त सरकार को सलाह देती हैं।

न्यूनतम मजदूरी की दर तय करने या संशोधित करने से संबंधित मामलों पर समितियों और उप-समितियों को सलाह देने के लिए उपयुक्त सरकार अधिनियम की धारा 7 के तहत एक सलाहकार बोर्ड नियुक्त कर सकती है।

  • अधिसूचना द्वारा: उपयुक्त सरकार अपने प्रस्तावों को सीधे आधिकारिक राजपत्र में अधिसूचना द्वारा प्रकाशित कर सकती है। ऐसे प्रस्तावों पर जनता से प्रतिक्रिया ली जाएगी। न्यूनतम मजदूरी तय करने के लिए केवल उन्हीं प्रतिक्रियाओं पर विचार किया जाएगा जो अधिसूचना के दो महीने के भीतर होंगी।

यदि न्यूनतम मजदूरी की दर अधिसूचना के माध्यम से तय या संशोधित की जाती है तो भी उपयुक्त सरकार समिति से संपर्क कर सकती है।

सामान्य कार्य दिवसों के लिए घंटे निश्चित करना

अधिनियम की धारा 13 उपयुक्त सरकार को इस संबंध में प्रावधान करने का अधिकार देती है-

  1. एक सामान्य कार्य दिवस में काम के घंटों की संख्या तय करना, जिसमें एक या अधिक अंतराल शामिल हों। 
  2. कर्मचारियों को प्रत्येक सप्ताह एक दिन का विश्राम प्रदान करना तथा विश्राम के दिन पारिश्रमिक प्रदान करना।
  3. आराम के ऐसे दिन के लिए पारिश्रमिक का भुगतान सामान्य दिन का भुगतान होगा, काम के घंटो से अधिक दर नहीं। काम के घंटो से अधिक दर निर्दिष्ट कार्य समय से अधिक घंटे काम करना है।

उपर्युक्त लाभ कर्मचारी को तभी उपलब्ध होंगे जब वह निम्नलिखित श्रेणी में आता है:

  1. यदि कर्मचारी किसी आपातकालीन या अनदेखे कार्य के कारण काम नहीं कर सका, 
  2. यदि कर्मचारी ऐसी प्रकृति के कार्य में लगा हुआ है कि उसे कार्यस्थल की सीमा के बाहर कार्य करना होगा,
  3. यदि कर्मचारी के काम की प्रकृति रुक-रुक कर होती है, तो रुक-रुक कर काम करने के लिए, कर्मचारी को अपनी ड्यूटी के घंटों के दौरान निष्क्रियता की अवधि मिलनी चाहिए। भले ही कर्मचारी ऐसे दिन ड्यूटी पर हो, उसे कोई भी शारीरिक कार्य करने के लिए बाध्य नहीं किया जाएगा।
  4. यदि कर्मचारी उस कार्य में लगा हुआ है जिसे तकनीकी कारणों से पूरा किया जाना चाहिए, और; 
  5. यदि कर्मचारी ऐसे कार्य में शामिल है जहां वह प्राकृतिक बल की अनियमित कार्रवाई के कारण पर्याप्त रूप से प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं है, तो प्राकृतिक बल वे हैं जो मानव नियंत्रण में नहीं हैं।

एक श्रमिक की मजदूरी जो सामान्य कार्य दिवस से कम समय तक काम करता है

धारा 15 में कहा गया है कि यदि कोई कर्मचारी एक दिन में निर्धारित कार्य घंटों से कम काम करता है, तो वह सामान्य कार्य दिवस के बराबर पारिश्रमिक की पूरी राशि प्राप्त करने का हकदार होगा। हालाँकि, कर्मचारी को सामान्य कार्य दिवस पर पूरी राशि नहीं मिलेगी यदि उसकी काम करने में विफलता उसकी काम करने की अनिच्छा के कारण हुई हो।

दावा

अधिनियम की धारा 20 अधिनियम के प्रावधानों का अनुपालन न करने से उत्पन्न होने वाले दावों पर निर्णय लेने के लिए ‘प्राधिकरण’ की योग्यता प्रदान करती है। वे हैं-

  1. कर्मकार मुआवज़ा आयुक्त
  2. केंद्र सरकार का कोई भी अधिकारी जो राज्य सरकार के किसी भी अधिकारी के लिए श्रम आयुक्त के रूप में कर्तव्यों का पालन करता है, जो श्रम आयुक्त के पद से नीचे का नहीं हो।
  3. कोई भी अधिकारी जिसके पास दीवानी अदालत के न्यायाधीश या वजीफा मजिस्ट्रेट के रूप में अनुभव हो।

पीड़ित कर्मचारी, कानूनी व्यवसायी या पीड़ित कर्मचारी की ओर से कोई भी व्यक्ति प्राधिकरण के समक्ष शिकायत दर्ज कर सकता है। आवेदक को निर्धारित न्यूनतम मजदूरी का भुगतान न करने के छह महीने के भीतर आवेदन करना चाहिए। यदि आवेदक के पास प्राधिकारी को संतुष्ट करने के लिए पर्याप्त कारण हैं तो वह छह महीने के बाद आवेदन कर सकता है।

प्राधिकरण नियोक्ता और कर्मचारी दोनों को सुनवाई का अधिकार प्रदान करता है। यदि प्राधिकारी को लगता है कि यह आवश्यक है, तो अंतिम निर्णय लेने से पहले आगे की जांच के लिए बुला सकता है।

न्यूनतम मजदूरी की दर से कम भुगतान के मामले में, यदि प्राधिकारी द्वारा कर्मचारी को देय न्यूनतम मजदूरी और मुआवजे का भुगतान वास्तविक न्यूनतम मजदूरी की राशि से अधिक है, तो प्राधिकारी को यह सुनिश्चित करना होगा कि क्षतिपूर्ति राशि वास्तविक न्यूनतम मजदूरी से दस गुना अधिक है।

मजदूरी का भुगतान न करने की स्थिति में, प्राधिकारी कर्मचारी को मुआवजे के साथ-साथ दस रुपये से अधिक की मजदूरी भी देने का आदेश दे सकता है। भले ही पक्षों ने अदालत में समझौता कर लिया हो, फिर भी प्राधिकरण मुआवजे का आदेश दे सकता है। प्राधिकरण के निर्णय को अंतिम माना जायेगा।

यदि न्यूनतम मजदूरी से कम भुगतान का आवेदन दुर्भावनापूर्ण या कष्टप्रद (वेक्सेशस) पाया जाता है, तो प्राधिकरण नियोक्ता को आवेदक से पचास रुपये का मुआवजा दे सकता है।

कुछ अपराधों के लिए दंड

अधिनियम की धारा 22 में निर्धारित राशि से कम न्यूनतम मजदूरी के भुगतान पर जुर्माने का उल्लेख है। यदि नियोक्ता न्यूनतम मजदूरी दर से कम भुगतान करता है या धारा 13 के किसी प्रावधान का उल्लंघन करता है, तो उसे छह महीने से अधिक के कारावास या पांच सौ रुपये का जुर्माना या दोनों से दंडित किया जाएगा।

न्यूनतम मजदूरी तय करने के मानदंड 

उपयुक्त सरकार द्वारा न्यूनतम मजदूरी की दर तय करने या संशोधित करने के लिए कोई विशिष्ट मानदंड नहीं हैं। हालाँकि, नई दिल्ली में आयोजित भारतीय श्रम सम्मेलन, 1957 की त्रिपक्षीय समिति ने न्यूनतम मजदूरी तय करने के लिए पाँच मानदंड निर्धारित किए। वे हैं:

  1. न्यूनतम मजदूरी प्रति श्रमिक तीन उपभोग इकाई होना चाहिए।
  2. न्यूनतम मजदूरी को एक वयस्क की 2700 कैलोरी की बुनियादी भोजन आवश्यकता को पूरा करना चाहिए।
  3. इसे परिवार की कपड़ों की आवश्यकताओं को पूरा करना होगा।
  4. ईंधन, प्रकाश व्यवस्था और अन्य वस्तुओं का हिस्सा न्यूनतम मजदूरी का 20% तक होना चाहिए।
  5. आवास के संबंध में, सरकारी औद्योगिक आवास योजना के तहत सरकार द्वारा प्रदान किए जाने वाले किराए को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम की संवैधानिक वैधता

न्यूनतम मजदूरी का सिद्धांत भारतीय संविधान के अनुच्छेद 39 और राज्य के नीति निदेशक सिद्धांतों के अनुच्छेद 43 के तहत गहराई से अंतर्निहित है। अनुच्छेद 39(a) में उल्लेख है कि राज्य पुरुषों और महिलाओं के लिए समान रूप से आजीविका के पर्याप्त साधन सुनिश्चित करने के लिए कानून अपना सकता है। अनुच्छेद 43 में कहा गया है कि राज्य, उपयुक्त कानून के माध्यम से, सभी श्रमिकों के लिए जीवनयापन मजदूरी, सभ्य जीवन स्तर और सामाजिक और आर्थिक अवसर सुनिश्चित करता है।

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम की संवैधानिक वैधता इस आधार पर उठाई गई थी कि यह बिजॉय कॉटन मिल्स लिमिटेड बनाम अजमेर राज्य (1954) के मामले में संविधान के अनुच्छेद 19(1)(g) के तहत निहित मुक्त व्यापार और व्यवसाय की स्वतंत्रता का उल्लंघन करता है। 

नियोक्ताओं ने तर्क दिया कि श्रमिकों के लिए न्यूनतम मजदूरी की उथल-पुथल नियोक्ताओं के अधिकारों पर अनुचित प्रतिबंध लगाती है, क्योंकि वे अनुच्छेद 19(1)(g) के तहत व्यापार और व्यवसाय नहीं कर सकते क्योंकि उद्योग न्यूनतम मजदूरी भुगतान करने की स्थिति में नहीं है। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि यह अधिनियम अनुचित है क्योंकि न्यूनतम मजदूरी की दर तय करने से संबंधित उपयुक्त सरकार के निर्णय की समीक्षा नहीं की जाती है। 

सर्वोच्च न्यायालय ने माना कि श्रमिकों के लिए न्यूनतम और उचित मजदूरी सुनिश्चित करना आम जनता के हित के लिए अनुकूल है और इस प्रकार व्यापार और व्यवसाय की स्वतंत्रता पर कोई अनुचित प्रतिबंध नहीं है। न्यायालय ने आगे फैसला सुनाया कि उचित सरकार को न्यूनतम मजदूरी की दर तय करने से पहले समिति का निर्णय लेना होगा और हालांकि उपयुक्त सरकार का निर्णय जांच के अधीन नहीं है, यह अधिनियम के प्रावधानों को अनुचित घोषित करने का कारण नहीं हो सकता है।

मजदूरी संहिता, 2019

देश में प्रचलित वर्तमान आर्थिक परिस्थितियों और नई तकनीकी प्रगति के साथ श्रम कानूनों को संरेखित करने के लिए मजदूरी संहिता, 2019 लागू की गई थी। मजदूरी संहिता, 2019 चार श्रम कानूनों को समेकित करती है- 

  1. मजदूरी भुगतान अधिनियम, 1936 
  2. न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 
  3. बोनस भुगतान अधिनियम, 1965 
  4. समान पारिश्रमिक अधिनियम, 1976

संहिता का मसौदा नियोक्ताओं और श्रमिकों के प्रतिनिधियों, क्षेत्रीय श्रम सम्मेलनों, अंतर-मंत्रालयी परामर्शों और नौ त्रिपक्षीय बैठकों में श्रम पर संसदीय स्थायी समिति की रिपोर्टों के आधार पर तैयार किया गया था। मजदूरी संहिता 30 जुलाई, 2019 को लोकसभा में और 2 अगस्त, 2019 को राज्यसभा में पारित की गई। मजदूरी संहिता को 8 अगस्त, 2019 को राष्ट्रपति की मंजूरी मिली।

न्यूनतम मजदूरी के संबंध में मजदूरी संहिता, 2019 में मुख्य परिवर्तन

संहिता ने न्यूनतम मजदूरी के संबंध में नए बदलाव पेश किए। वे निम्नलिखित सम्मिलित करते हैं-

न्यूनतम मजदूरी

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 में, केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों को अनुसूची में उल्लिखित रोजगारों में न्यूनतम मजदूरी की दर तय करने या संशोधित करने की शक्ति है। हालाँकि, नए संहिता ने न्यूनतम मजदूरी तय करने की इस पद्धति को बदल दिया।

संहिता की धारा 9 केंद्र सरकार को विभिन्न भौगोलिक स्थानों में सभी रोजगारों के लिए न्यूनतम मजदूरी निर्धारित करने का अधिकार देती है। उपयुक्त सरकार को न्यूनतम मजदूरी तय करना होगा, जो केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम मजदूरी से कम नहीं होना चाहिए। 

काम के घंटों से अधिक काम के लिए मजदूरी 

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम के तहत, यदि कोई कर्मचारी सामान्य कामकाजी घंटों से अधिक काम करता है, तो नियोक्ता को अधिनियम के तहत या उपयुक्त सरकार द्वारा निर्धारित काम के घंटो से अधिक काम के लिए मजदूरी की राशि, जो भी अधिक हो, का भुगतान करना आवश्यक है।

संहिता ने काम के घंटो से अधिक काम के लिए मजदूरी को एक समान कर दिया है। संहिता की धारा 14 में कहा गया है कि नियोक्ता को काम के घंटो से अधिक काम के लिए मजदूरी की सामान्य दर से दोगुना भुगतान करना होगा।

जुर्माने की राशि में बढ़ोतरी

संहिता ने अधिनियम द्वारा निर्धारित न्यूनतम मजदूरी की दर के प्रावधानों का अनुपालन न करने पर जुर्माने की राशि में वृद्धि की। धारा 54 में कहा गया है कि यदि कोई नियोक्ता संहिता द्वारा निर्धारित से कम भुगतान करता है, तो उसे पचास हजार तक के जुर्माने के साथ उत्तरदायी ठहराया जाएगा। 

यदि नियोक्ता को संहिता के तहत न्यूनतम मजदूरी के प्रावधानों का एक से अधिक बार उल्लंघन करते हुए पाया जाता है, तो उसे तीन महीने की कैद और एक लाख रुपये का जुर्माना होगा।

हालाँकि मजदूरी संहिता 2019 में ही पारित कर दी गई थी, लेकिन यह अभी तक लागू नहीं हुई है। 18 दिसंबर, 2020 को, केंद्र सरकार, आधिकारिक राजपत्र में अधिसूचना द्वारा, संहिता के कुछ प्रावधानों को उस हद तक लागू करती है, जिस हद तक वे केंद्र सरकार से संबंधित हैं। वे सम्मिलित करते हैं-

केंद्रीय सलाहकार बोर्ड

संहिता की धारा 42 में कहा गया है कि केंद्रीय सलाहकार बोर्ड में केंद्र सरकार द्वारा नामित सदस्य होते हैं। वे सम्मिलित करते हैं-

  1. कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति
  2. नियोक्ताओं का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति
  3. स्वतंत्र व्यक्ति बोर्ड के कुल सदस्यों के एक तिहाई से अधिक नहीं होंगे
  4. राज्य सरकारों के पांच प्रतिनिधि

बोर्ड के एक-तिहाई सदस्य महिलाएँ होंगी और अध्यक्ष की नियुक्ति केंद्र सरकार द्वारा व्यक्तिगत व्यक्तियों में से की जाएगी।

केंद्रीय सलाहकार बोर्ड न्यूनतम मजदूरी की दर तय करने या संशोधित करने के संबंध में केंद्र सरकार को सुझाव देगा। केंद्र सरकार बोर्ड द्वारा देखे जाने वाले मामलों के संबंध में राज्य सरकार को निर्देश जारी कर सकती है।

केंद्रीय सलाहकार बोर्ड को अपनी प्रक्रियाओं को विनियमित करने का अधिकार है, जिसमें समिति और उप-समिति की बैठकें शामिल हैं। अधिनियम बोर्ड के सदस्यों के लिए कार्यकाल निर्धारित करेगा।

संहिता की धारा 42 के लागू होने के साथ, न्यूनतम मजदूरी अधिनियम की धारा 8, जो केंद्रीय सलाहकार बोर्ड से संबंधित थी, निरस्त कर दी गई है।

नियम बनाने की उपयुक्त सरकार की शक्ति 

धारा 67 केंद्र सरकार को केंद्रीय सलाहकार बोर्ड की प्रक्रिया और बोर्ड के सदस्यों के कार्यकाल के संबंध में नियम बनाने का अधिकार देती है, जैसा कि धारा 42 में बताया गया है।

न्यूनतम मजदूरी के घटक

संहिता की धारा 7 में उल्लेख है कि न्यूनतम मजदूरी में निम्नलिखित घटकों में से कोई एक शामिल हो सकता है-

  1. उपयुक्त सरकार द्वारा विशिष्ट अंतराल पर प्रदान की जाने वाली मजदूरी और भत्ते की मूल दर को जीवनयापन लागत सूचकांक (इंडेक्स) के रूप में भी जाना जाता है।
  2. जीवन निर्वाह सूचकांक की लागत के साथ या उसके बिना, मजदूरी की मूल दर और रियायतों का नकद मूल्य।
  3. मजदूरी की मूल दर में रियायतों का नकद मूल्य और जीवनयापन सूचकांक की लागत शामिल है।

न्यूनतम मजदूरी तय करने या संशोधित करने की प्रक्रिया

धारा 8 निर्दिष्ट करती है कि न्यूनतम मजदूरी दर तय करने या संशोधित करने के लिए उपयुक्त सरकार समिति पद्धति या अधिसूचना पद्धति का पालन कर सकती है।

समिति में निम्नलिखित श्रेणियों के लोग शामिल हैं:

  1. कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति
  2. नियोक्ताओं का प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति
  3. व्यक्तिगत व्यक्ति बोर्ड के कुल सदस्यों के एक तिहाई से अधिक नहीं होंगे

न्यूनतम मजदूरी दर तय करने या संशोधित करने वाली उपयुक्त सरकार धारा 42 के तहत सलाहकार बोर्ड से परामर्श करेगी। उपयुक्त सरकार को हर पांच साल की अवधि में न्यूनतम मजदूरी की दर को संशोधित करना आवश्यक है।

न्यूनतम मजदूरी तय करने की केंद्र सरकार की शक्ति

धारा 9 केंद्र सरकार को सभी राज्यों में सभी रोजगारों के लिए न्यूनतम मजदूरी निर्धारित करने का अधिकार देती है। उपयुक्त सरकार को न्यूनतम मजदूरी की दर केंद्र सरकार द्वारा निर्दिष्ट न्यूनतम मजदूरी से कम नहीं तय करनी होगी। 

यदि उपयुक्त सरकार ने पहले ही न्यूनतम मजदूरी तय कर दी है, जो कि न्यूनतम मजदूरी से अधिक है, तो उपयुक्त सरकार न्यूनतम मजदूरी की दर को कम नहीं करेगी।

न्यूनतम मजदूरी के घटक

न्यूनतम मजदूरी में न केवल वह पारिश्रमिक शामिल होना चाहिए जो जीवन के बुनियादी अस्तित्व को शामिल करता है, बल्कि श्रमिक के संरक्षण और बेहतरी के लिए भी प्रदान करना चाहिए। इन उपयोगिताओं को नियोक्ता की वित्तीय स्थिति की परवाह किए बिना, श्रमिक के न्यूनतम मजदूरी में शामिल किया जाना चाहिए। इसलिए, न्यूनतम मजदूरी के घटकों में और कुछ नहीं जोड़ा जाएगा जो इसे उचित मजदूरी के बराबर लाएगा।

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन का कहना है कि न्यूनतम मजदूरी में निम्नलिखित घटक होने चाहिए:

  • मूल मजदूरी
  • वार्षिक बोनस
  • बख्शीश 
  • वस्तुगत लाभ (शैक्षिक और चिकित्सा बीमा, पेंशन और सेवानिवृत्ति योजना, और यात्रा लाभ)
  • उत्पादकता और प्रदर्शन मजदूरी
  • गैर-मानक कार्य घंटों या खतरनाक कार्य के लिए भत्ते और प्रीमियम।

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम 1948 की धारा 4 न्यूनतम मजदूरी के घटकों से संबंधित है।

भारत में मजदूरी की गणना कैसे की जाती है

भारत में सभी राज्यों में न्यूनतम मजदूरी एक समान नहीं है। न्यूनतम मजदूरी की दर उपयुक्त सरकार द्वारा तय की जाती है। न्यूनतम मजदूरी निर्धारित करने के लिए, श्रमिकों को मोटे तौर पर तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है: अकुशल, कुशल और उच्च कुशल।

  • अकुशल श्रमिक: एक अकुशल श्रमिक को कार्य के लिए किसी प्रशिक्षण या कौशल की आवश्यकता नहीं होती है। ऐसे कार्यकर्ता को कार्य में अपनी बौद्धिक या तर्क क्षमता का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं होगी। शारीरिक श्रम के लिए आमतौर पर अकुशल श्रमिकों की आवश्यकता होती है।
  • कुशल श्रमिक: एक कुशल श्रमिक के पास उच्च योग्यता, प्रशिक्षण और अन्य कौशल होते हैं और वह अपने काम में स्वतंत्र निर्णय लेने में सक्षम होता है।
  • उच्च कुशल श्रमिक: एक उच्च कुशल श्रमिक को इन सभी में सबसे अधिक मजदूरी मिलती है। सबसे अधिक योग्यताओं, नेतृत्व गुणों और पारस्परिक संपर्क वाले कार्यकर्ता को उच्च कुशल कर्मचारी माना जाएगा।

भारत भर के राज्यों के लिए न्यूनतम मजदूरी (प्रति माह) (भारतीय रुपये में)

राज्य अकुशल  कुशल  अत्यधिक कुशल
अंडमान व नोकोबार द्वीप समूह 13,988 17,680 19188
आंध्र प्रदेश 12,344 13,844 14,844
अरुणाचल प्रदेश 6,600 7,200 अनुपलब्ध
असम 9,246.10 13,430.85 17,265.55
बिहार 10,270 13,000 15,886
चंडीगढ़ 12,623 13,298 13,698
छत्तीसगढ़ 10,480 11,910 12,690
दादरा और नगर हवेली 9,237.80 9,653.80 अनुपलब्ध
दमन और दीव 9,237.80 9,653.80 अनुपलब्ध
दिल्ली 17,494 21,215 अनुपलब्ध
गोवा 10,790 13,728 अनुपलब्ध
गुजरात 12,012 – 12,298 12,558 – 12,870 अनुपलब्ध
हरयाणा 10,532.84 12,802.69 13,442.82
हिमाचल प्रदेश 11,250 13,062 13,592
जम्मू और कश्मीर 8,086 12,558 14,352
झारखंड 8,996.34 12,423.87 14,351.39
कर्नाटक 14,424.63 16,858.07 18,260.20
मध्य प्रदेश 9,825 12,060 13,360
महाराष्ट्र 12,699 14,310 अनुपलब्ध
नगालैंड 5,280 7,050 अनुपलब्ध
पंजाब 10,353.77 12,030.77 13,062.77
राजस्थान  6,734 7,358 8,658
त्रिपुरा 7,277 8,928 अनुपलब्ध
उत्तर प्रदेश 10,275 12,661 अनुपलब्ध
उत्तराखंड 9,913 – 10,031 11,070 – 11,218 अनुपलब्ध
पश्चिम बंगाल 9,784 11,804 13,023

निष्कर्ष

न्यूनतम मजदूरी पारिश्रमिक की वह न्यूनतम राशि है जो किसी कर्मचारी को उनके प्रदर्शन के लिए भुगतान किया जाता है। भारत, एक कल्याणकारी राष्ट्र होने के नाते, न्यूनतम मजदूरी के सिद्धांत को अपनाया और कार्यस्थल पर शोषण को रोकने और वित्तीय स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948 लागू किया। अधिनियम राज्य को न्यूनतम मजदूरी की दर तय करने और संशोधित करने, उचित सरकार का मार्गदर्शन करने के लिए सलाहकार बोर्ड नियुक्त करने और अधिनियम के प्रावधानों का अनुपालन न करने पर दंड प्रदान करने में सक्षम बनाता है। अधिनियम के इन सकारात्मक पहलुओं के साथ-साथ, कुछ कमियां भी हैं जो उस उद्देश्य की अखंडता को कम करती हैं जिसके लिए अधिनियम लागू किया गया था।

1948 में अधिनियम के लागू होने के बाद से, देश में कई आर्थिक परिवर्तन हुए हैं, जिससे यह अधिनियम थोड़ा अप्रचलित हो गया है। अधिनियम केवल उन रोजगारों के लिए न्यूनतम मजदूरी प्रदान करता है जो अधिनियम की अनुसूची में उल्लिखित हैं और जिनमें राज्य में 1,000 से अधिक कर्मचारी हैं; इस प्रकार, कई गतिविधियों को अधिनियम का लाभ नहीं मिलता है। प्रमुख चुनौतियों में से एक अधिनियम के अस्तित्व के संबंध में श्रमिकों के बीच ज्ञान की कमी है। मजदूरी संहिता, 2019 ने इन मुद्दों पर ध्यान दिया और पिछले अधिनियम में संशोधन किया। हालाँकि, संहिता के केवल कुछ प्रावधान ही लागू किए गए थे। सरकार को श्रमिकों के बीच श्रम कानूनों के तहत प्रदत्त अधिकारों के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए आवश्यक कदम उठाने चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू) 

क्या मजदूरी संहिता, 2019 लागू है? 

मजदूरी संहिता 8 अगस्त, 2019 को अधिनियमित की गई थी लेकिन संहिता लागू नहीं है। केंद्र सरकार से संबंधित संहिता के केवल कुछ प्रावधान आधिकारिक राजपत्र में अधिसूचना द्वारा लागू हुए थे।

क्या न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948, सभी प्रकार के रोजगार पर लागू होता है?

न्यूनतम मजदूरी अधिनियम, 1948, अधिनियम के तहत अनुसूची में उल्लिखित कुशल और अकुशल दोनों प्रकार के कार्यों पर लागू होता है। अधिनियम के प्रावधान अनुसूची में उल्लिखित अन्य रोजगारों पर लागू नहीं होते हैं।

क्या न्यूनतम मजदूरी मूल मजदूरी के समान है?

मूल मजदूरी वह आधार मजदूरी है जो नियोक्ता को मूल राशि में किसी भी अतिरिक्त या कटौती से पहले मिलता है। दूसरी ओर, न्यूनतम मजदूरी में मूल मजदूरी, भत्ते या बुनियादी सुविधाओं के लिए रियायतों के लिए नकद राशि शामिल होती है।

संदर्भ

  • Labour and Industrial Laws, Central Law Publications, S.N. Misra, 29th edition,

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here