परिनिर्धारित और अपरिनिर्धारित हर्जाना

0
1661
Indian Contract Act

यह लेख सिम्बायोसिस लॉ स्कूल, नोएडा की प्रथम वर्ष की छात्रा Janhavi Arakeri द्वारा लिखा गया है। वह परिनिर्धारित (लिक्विडेटेड) और अपरिनिर्धारित (अनलिक्विडेटड) हर्जाने के बीच के अर्थ, उद्देश्य और अंतर पर चर्चा करती है। इस लेख का अनुवाद Sameer Choudhary द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

सैक्सन के बीच सैलिक कोड में हर इंसान और संपत्ति के हर टुकड़े पर वेरेगिल्ड नामक एक मूल्य लगाया जाता था। अगर कोई घायल हो गया या मारा गया या किसी की संपत्ति या सामान चोरी हो गया, तो दोषी व्यक्ति को पीड़ित के परिवार या संपत्ति के मालिक को क्षतिपूर्ति के रूप में वेरेगिल्ड देना होगा। हर्जाने की अवधारणा इसी से विकसित हुई है।

अनुबंध के उल्लंघन पर एक अदालत आम तौर पर उतनी राशि को पुरस्कार के रूप में देती है जितनी राशि घायल पक्ष को उस आर्थिक स्थिति में बहाल (रिस्टोर) कर देगी, जिसकी उम्मीद वादी को प्रतिवादी के द्वारा वादे के प्रदर्शन से थी। पक्ष अनुबंध के उल्लंघन के लिए पक्षों में से एक द्वारा भुगतान किए जाने वाले परिनिर्धारित हर्जाने के लिए एक अनुबंध में आ सकती हैं। सामान्य कानून के तहत, एक परिनिर्धारित हर्जाना खंड लागू नहीं किया जाएगा यदि शब्द का एकमात्र उद्देश्य उल्लंघन को दंडित करना है (इस मामले में इसे दंडात्मक हर्जाना कहा जाता है)।

हर्जाना क्या है ?

सरल शब्दों में हर्जाना, उल्लंघन, हानि या चोट के कारण मुआवजे के एक रूप को संदर्भित करता है। जैसा कि फुलर और पेरड्यू द्वारा समझाया गया है, हर्जाना “निर्भरता ब्याज” या “पुनर्स्थापन ब्याज” (रेस्टोरेशन इंटरेस्ट) की सुरक्षा की मांग कर सकता है।

हर्जाने को विशेष रूप से वाणिज्यिक (कमर्शियल) लेनदेन में और संबंधित व्यक्तियों के अधिकारों के उल्लंघन के लिए दंडात्मक उपायों के रूप में भी महत्व प्राप्त हुआ है। विभिन्न क्षेत्रों में दिए गए हर्जाने की प्रकृति व्यापक रूप से भिन्न होती है। उन्हें आमतौर पर टॉर्ट या अनुबंध उल्लंघन के मामलों में दिया जाता है।

किस प्रकार के हर्जाने उपलब्ध हैं?

सामान्य और विशेष हर्जाना

घटनाओं के प्राकृतिक क्रम में उभरने वाले हर्जानो को सामान्य हर्जाने के रूप में जाना जाता है, जबकि विशेष हर्जाना उन परिस्थितियों को संदर्भित करता है जो अनुबंध में प्रवेश करते समय पक्षों द्वारा उचित रूप से प्रत्याशित (एंटीसिपेट) होते हैं।

मामूली हर्जाना

यह तब भी दिया जा सकता है, जब कोई पक्ष जिसे कोई वास्तविक नुकसान नहीं हुआ हो, लेकिन, उसके खिलाफ कोई उल्लंघन हुआ हो, या ऐसे मामलों में जहां बिना किसी वास्तविक हर्जाने को साबित किए, कानूनी अधिकार का उल्लंघन हुआ हो।

पर्याप्त हर्जाना

मामूली हर्जाने के विपरीत, अनुबंध के उल्लंघन की सीमा साबित होने पर पर्याप्त हर्जाना दिया जाता है, लेकिन इसकी गणना में अनिश्चितताएं होती हैं।

गंभीर और अनुकरणीय (एक्सेमप्लेरी) हर्जाना

इस तरह का हर्जाना अक्सर उस प्रकृति का होता हैं कि वे प्राप्त नुकसान से अधिक हो जाता है, और ऐसा मुख्य रूप से प्रतिवादी के दुर्भावनापूर्ण व्यवहार के परिणामस्वरूप हो सकता है।

परिनिर्धारित और अपरिनिर्धारित हर्जाना

अनुबंधों के मामले में, पक्ष अनुबंध के उल्लंघन पर एक निश्चित राशि का भुगतान करने के लिए सहमत हो सकते हैं। जब अनुबंध में ऐसे प्रावधान बनाए जाते हैं, तो उन्हें परिनिर्धारित हर्जाने के रूप में जाना जाता है। दूसरी ओर, अनुबंध के इस तरह के उल्लंघन से पीड़ित पक्ष को हुए नुकसान या चोट के आकलन के आधार पर अदालतों द्वारा अपरिनिर्धारित हर्जाना दिया जाता है।

भारतीय अनुबंध कानून, 1872 के तहत परिनिर्धारित हर्जाना

धारा 74 परिनिर्धारित हर्जाने से संबंधित है। इस प्रकार, वादी को हर्जाने का दावा करने के लिए उसके साथ किए गए अनुबंध का उल्लंघन होना चाहिए। ऐसे मामलों में जहां अनुबंध की शर्तों के किसी भी उल्लंघन के बिना, अनुबंध का उचित निरसन (रिवोकेशन) होता है, वहां हर्जाने का दावा उत्पन्न नहीं होना चाहिए क्योंकि कोई उल्लंघन नहीं है।

आम तौर पर हर्जाने का दावा किया जाता है और वादी को हर्जाना दिया जाता है ताकि उसकी स्थिति को वापस वैसा ही किया जा सके, जिसमें वह होता अगर उसके साथ ऐसा कोई उल्लंघन नहीं होता। इन हर्जाने का दावा आम तौर पर उस पक्ष से किया जाता है जो इस तरह के उल्लंघन का कारण बनता है। धारा 74 के तहत परिनिर्धारित हर्जाने की स्थिति में, शिकायतकर्ता और प्रतिवादी दोनों हर्जाने का दावा कर सकते हैं। परिनिर्धारित हर्जाने के मामले में, मुआवजे का आश्वासन दिया जाता है क्योंकि उचित मुआवजे का फैसला किया जाता है। इसलिए, यह उम्मीद की जाती है कि चूंकि उल्लंघन करने वाले पक्ष के जोखिम कम होंगे, इसलिए हर्जाना पहले से ही निर्दिष्ट होता हैं।

परिनिर्धारित हर्जाने का दावा करने के लिए पूर्वापेक्षाएँ (प्रीरिक्विजाइट) क्या हैं?

  • अनुबंध का उल्लंघन

हर्जाने का दावा करने के लिए यह आवश्यक पूर्वापेक्षा है, चाहे वह हर्जाना परिनिर्धारित हो, अपरिनिर्धारित हो या कुछ और। इसलिए, इस बात की परवाह किए बिना कि प्रतिवादी संविदात्मक व्यवस्था से किस हद तक लाभ कमाता है, जब तक अनुबंध का उल्लंघन नहीं होता है, तब तक हर्जाने के लिए कोई दावा नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा, उल्लंघन करने वाला पक्ष हर्जाने की भरपाई के लिए उत्तरदायी है।

एक उल्लंघन को स्थापित करने के लिए, उस पर निर्णय लेना और उसे साबित करना होता है, न कि यह केवल पक्षों द्वारा तय किया जाता है।

अनुबंध के प्रत्याशित उल्लंघन की स्थिति में भी हर्जाने का दावा किया जा सकता है। इस तरह के मामले में, दूसरा पक्ष अनुबंध को जारी रखने के लिए सहमति दे सकता है या उसे रद्द कर सकता है। अनुबंध के एक प्रत्याशित उल्लंघन की स्थिति में, वादी को अनुबंध के निरस्तीकरण (रिसिशन) से पहले अनुबंध को पूरा करने के इरादे को स्थापित करने पर हर्जाने का दावा करने की अनुमति दी जाएगी।

  • नुकसान का सबूत

यह उल्लेखनीय है कि खंड “वास्तविक क्षति या हानि इसके कारण हुई है या नहीं को साबित करना” परिनिर्धारित हर्जाने के दावे के लिए पूर्ण रूप से सबूत को स्थापित करने से दूर नहीं होगा। यह इस समझ से निकलता है कि अनुबंध के उल्लंघन के मामले में परिनिर्धारित हर्जाने के रूप में सहमत उचित मुआवजा कुछ नुकसान या चोट के संबंध में है; इस प्रकार, परिनिर्धारित हर्जाने के ऐसे दावे के लिए हानि या चोट का अस्तित्व अपरिहार्य (इनडिसपेंसेबल) है।

  • कारण

किए गए उल्लंघन और पक्ष को हुए नुकसान या हानि के लिए दावा किया गए हर्जाने के बीच एक संबंध होना चाहिए और उसके उपर एक दायित्व लगाया जाना चाहिए। कहा जाता है कि यह कारण के बीच का संबंध बनाया गया है क्योंकि यदि प्रतिवादी द्वारा अनुबंध के उल्लंघन का कार्य चोट या क्षति के संबंध में एकमात्र “वास्तविक और प्रभावी” कारण है जिसके लिए हर्जाने का दावा किया गया है; तो कई कारणों की उपस्थिति में “प्रमुख और प्रभावी” कारण को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

  • हर्जाने की मात्रा

अनुबंध के उल्लंघन से पीड़ित एक पक्ष केवल उस हर्जाने की वसूली कर सकता है, जिन्हें या तो “सामान्य रूप से या स्वाभाविक रूप से माना जाना चाहिए, अर्थात घटनाओं के नियमित पाठ्यक्रम के अनुसार” उल्लंघन से, या “दोनों पक्षों द्वारा “जिस समय उन्होंने अनुबंध में प्रवेश किया, उसके उल्लंघन के संभावित परिणाम के रूप में” उचित रूप से विचार किया जाना चाहिए

  • शमन (मिटिगेशन)

यह उल्लेखनीय है कि अनुबंध के उल्लंघन पर हर्जाने का दावा करने वाले पक्ष ने अनुबंध के आवश्यक भाग का प्रदर्शन किया था या करने के लिए तैयार था। इसलिए, नुकसान का दावा करने से पहले नुकसान को कम करने का कर्तव्य अपरिहार्य है।

परिनिर्धारित हर्जाना और जुर्माने में क्या अंतर है?

भारतीय कानून परिनिर्धारित हर्जाने और जुर्माने के बीच कोई अंतर नहीं देखता है। दिया गया मुआवजा अनुबंध में निर्दिष्ट राशि से अधिक नहीं हो सकता है। भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 की धारा 74 के अनुसार, यदि पक्ष हुए नुकसान में सुधार करते हैं, तो न्यायालय अधिक हर्जाने की अनुमति नहीं देगा। हालांकि, मामले के आधार पर यह कम राशि का हर्जाना दे सकता है। इसलिए पीड़ित पक्ष को उचित मुआवजा मिलता है, लेकिन कोई जुर्माना नहीं होता है।

धारा 74 का अपवाद जो कहता है कि यदि कोई पक्ष आम जनता के हित में किसी कार्य के निष्पादन (एग्जीक्यूशन) के लिए राज्य या केंद्र सरकार के साथ अनुबंध में प्रवेश करता है, तो इस तरह के अनुबंध का उल्लंघन, पक्ष को अनुबंध में निर्दिष्ट राशि का संपूर्ण भुगतान करने के लिए उत्तरदायी बनाता है। 

  • यदि देय राशि अनुबंध के उल्लंघन पर संभावित नुकसान से अधिक है, तो यह एक जुर्माना है।
  • जब भी कोई अनुबंध एक निश्चित तिथि पर देय राशि और चूक होने पर अतिरिक्त राशि बताता है, तो अतिरिक्त राशि एक जुर्माना है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह संभावना नहीं है कि भुगतान में देरी से नुकसान होगा।
  • भले ही अनुबंध ‘जुर्माने’ या ‘हर्जाने’ के रूप में एक राशि बताता है, अदालत को मामले के तथ्यों से निर्धारित करना चाहिए कि क्या इसमें बताई गई राशि वास्तव में एक जुर्माना या परिनिर्धारित हर्जाना है।
  • जुर्माने का सार चूककर्ता पक्ष के खौफ के रूप में पैसे का भुगतान है। दूसरी ओर, परिनिर्धारित हर्जाना क्षति का सही पूर्व-अनुमान है।
  • हालांकि अंग्रेजी कानून जुर्माने और परिनिर्धारित हर्जाने के बीच अंतर करता है, लेकिन भारत में ऐसा कोई अंतर नहीं है। भारतीय अदालतें पीड़ित पक्ष को उचित मुआवजा देने पर ध्यान केंद्रित करती हैं जो अनुबंध में निर्धारित राशि से अधिक नहीं है।

क्या परिनिर्धारित हर्जाने के खंडों को समझौतों में शामिल किया जाना चाहिए?

परिनिर्धारित हर्जाने के खंडों से, मालिकों और प्रचालकों (ऑपरेटरों) दोनों को फायदा हो सकता है। ऐसे खंड, एक प्रचालक द्वारा दावा किए जाने वाले हर्जाने की मात्रा को सीमित करके मालिकों को अपने जोखिमों को चित्रित करने की अनुमति देते हैं और प्रचालक की पात्रता से संबंधित मुकदमों के समय, लागत और जोखिम को कम करते हैं और मुनाफे के नुकसान के लिए उसके दावे के मूल्य को कम करते हैं। मालिक अपनी बातचीत की शक्ति का उपयोग प्रचालक को देय नुकसान की मात्रा को एक या अधिक वर्षों के खोए हुए मुनाफे तक सीमित करने के लिए भी कर सकते हैं।

अपरिनिर्धारित हर्जाना

धारा 73, अनुबंध के उल्लंघन के परिणामस्वरूप वास्तविक हर्जाने और ऐसे उल्लंघन से उत्पन्न होने वाली हानि से संबंधित है, जो कि गैर-कानूनी हर्जाने की प्रकृति में है क्योंकि इस तरह के हर्जाने को अदालतों द्वारा उस पक्ष, जिसके खिलाफ उल्लंघन हुआ है, को हुए नुकसान या हानि के मूल्यांकन के आधार पर दिया जाता है। 

अपरिनिर्धारित हर्जाना कैसे काम करता है?

जिस हर्जाने का दावा अप्रत्याशित (अनफोरसीएबल) नुकसान के लिए किया जाता है, उन्हें अपरिनिर्धारित हर्जाना कहा जाता है। ये हर्जाना आमतौर पर अनुबंध के उल्लंघन से जुड़े मामलों के लिए दिया जाता है। ये हर्जाना अनुबंध के किसी भी उल्लंघन पर लागू होते हैं जिसमें एक परिनिर्धारित हर्जाने का खंड शामिल नहीं है। हालांकि, शिकायतकर्ता द्वारा दावा की जाने वाली मुआवजे की राशि का अनुमान लगाना मुश्किल हो सकता है क्योंकि यह राशि “अपरिनिर्धारित” है।

निर्माण और इंजीनियरिंग जैसे उद्योग आम तौर पर परिनिर्धारित हर्जाने से निपटते हैं न कि अपरिनिर्धारित हर्जाने से।

वादी को अपरिनिर्धारित हर्जाना देने के लिए, अदालत प्रतिपूरक (कंपेंसेट्री) दृष्टिकोण का विकल्प चुनती है:

  • शिकायतकर्ता द्वारा किए गए नुकसान की वसूली
  • शिकायतकर्ता को उस स्थिति में लौटाना जो उल्लंघन से पहले उसके पास थी
  • प्रतिवादी पर कम जुर्माना लगाना
  • शिकायतकर्ता की स्थिति को ऊपर और ऊपर बढ़ाने से बचना जहां उल्लंघन नहीं हुआ होता

वादी द्वारा भुगते गए नुकसान अनुबंध के उल्लंघन के स्वाभाविक परिणाम का परिणामस्वरूप होना चाहिए। दी जाने वाली राशि का निर्धारण करते समय इसे ध्यान में रखा जाएगा।

एक समझौते में प्रवेश करने से पहले, पक्षों को अनुबंध में किसी भी विशिष्ट या असामान्य नुकसान का उल्लेख करना चाहिए, यदि उन पर विचार किया गया हो। इससे विवाद से बचने में मदद मिलेगी और वसूली की संभावना भी बढ़ेगी। अनुबंध पर हस्ताक्षर करने से पहले नुकसान के प्रकार और उनकी सीमा का अनुमान लगाया जा सकता है। हालांकि यह आवश्यक नहीं है, यह सलाह दी जाती है कि नुकसान का अनुमान लगाया जा सकता है।

यदि किसी मामले में, वादी अनुबंध के उल्लंघन के परिणामस्वरूप होने वाले संभावित नुकसान का अनुमान लगाने में सक्षम था और उसने नुकसान को कम करने के लिए कोई उपाय नहीं किया, भले ही वे उपलब्ध हों, और यदि उपाय किए गए थे तो अदालत केवल नुकसान के अनुपात में मुआवजा देगी। वादी नुकसान को उपार्जित (एक्रूड) नहीं होने दे सकता जब एक सामान्य व्यक्ति के प्रयास से उपाय नुकसान को कम या रोक सकते हैं।

नोट: अदालत नैतिक नुकसान के लिए हर्जाना दे सकती है। फिर भी, यह गणना करना और साबित करना मुश्किल हो सकता है कि किसी पक्ष को कितना नैतिक नुकसान हुआ है।

पक्षों को, सभी मामलों में, अनुबंध में अपने उद्देश्यों का स्पष्ट रूप से उल्लेख करना चाहिए। यह भ्रम और अस्पष्टता के कारण होने वाले सभी विवादों और अस्पष्टता को रोकता है। वे या तो अपरिनिर्धारित हर्जाने के खंड बता सकते हैं या सिर्फ खंड को हटा सकते हैं। सामान्य अनुबंधों में, “शून्य” उन लोगों के लिए अपरिनिर्धारित हर्जाने के लिए निर्दिष्ट है जो इसका दावा नहीं करना चाहते हैं। इसका मतलब यह भी है कि अपरिनिर्धारित हर्जाना भी लागू नहीं होता हैं।

अपरिनिर्धारित हर्जाने के क्या फायदे और नुकसान हैं?

एक अनुबंध में अपरिनिर्धारित हर्जाने के प्रावधान को शामिल करना निश्चित रूप से एक फायदा साबित होगा। यह ग्राहक को उन नुकसानों की वसूली में मदद करता है जो अनुबंध के उल्लंघन से पहले, अप्रत्याशित या अनुमान लगाने में कठिन थे। हालांकि, इसके परिणामस्वरूप ठेकेदार पर अज्ञात देयता होती है। इसके अलावा, उल्लंघन होने पर ग्राहक को अपने वास्तविक नुकसान को साबित करने के लिए बाध्य किया जाता है। ग्राहक यह साबित करने के लिए भी बाध्य होगा कि नुकसान अनुबंध के उल्लंघन का एक स्वाभाविक परिणाम था, न कि “दूरस्थ (रिमोट)” परिणाम था।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here