साझेदारी के विघटन और व्यवसाय-संघ के विघटन के बीच अंतर

0
439

यह लेख महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय, विधि संकाय, वडोदरा की बी.ए.एलएलबी छात्रा Meera Patel के द्वारा लिखा गया है। यह लेख एक व्यवसाय-संघ (फर्म) और साझेदारी के विघटन के अर्थ को परिभाषित करता है और दोनो के बीच अंतर को बताता है। इस लेख का अनुवाद Chitrangda Sharma के द्वारा किया गया है।

परिचय

किसी साझेदारी के विघटन और किसी व्यवसाय-संघ के विघटन के बीच सबसे बुनियादी अंतर यह है कि पहला एक व्यवसाय के संचालन का विघटन है और दूसरा साझेदारों के बीच व्यावसायिक संबंध का विघटन है। इस कथन का अर्थ यह है कि साझेदारी का विघटन किसी व्यवसाय-संघ के विघटन के समान नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब साझेदारों के बीच मौजूद कानूनी रूप से उचित संबंध समाप्त हो जाते है, तो इसे व्यवसाय-संघ के विघटन के रूप में जाना जाता है, जबकि जब कोई साझेदारी व्यवसाय संघ के लिए अयोग्य हो जाता है तो उस विशेष साझेदार की साझेदारी व्यवसाय संघ के साथ समाप्त हो जाती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है की व्यवसाय संघ काम करना बंद कर देती है। व्यवसाय-संघ अन्य साझेदारों की इच्छा के अनुसार स्वयं बहुत अच्छा कार्य कर सकता है।

किसी व्यवसाय-संघ के विघटन और साझेदारी के विघटन के बीच एक मूलभूत अंतर यह है कि ऐसी स्थिति में जहां साझेदारी का विघटन होता है, कोई अन्य विघटन नहीं होता है, लेकिन जब एक व्यवसाय-संघ का विघटन होता है, तो सभी साझेदारियां भी समाप्त हो जाती हैं। भारतीय साझेदारी अधिनियम,1932 की धारा 39 के अनुसार, साझेदारी का विघटन विभिन्न परिस्थितियों के कारण व्यवसाय में शामिल साझेदारों के बीच व्यावसायिक संबंध समाप्त करने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है। यह समाप्ति साझेदारी से संबंधित सभी परिसंपत्तियों, देनदारियों, ऋणों, खातों और शेयरों को भी समाप्त कर देती है और निपटान विलेख के रूप में साझेदारों के बीच विभाजित कर देती है। मुख्य बात जो इस खंड पर प्रकाश डालती है वह यह है कि भले ही किसी व्यवसाय-संघ को भंग करने और साझेदारी को भंग करने की प्रक्रिया समान दिखती है, लेकिन वे पूरी तरह से अलग हैं। साझेदारी और व्यवसाय-संघ के बीच अंतर और दोनों में विघटन कैसे भिन्न होता है, यह जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

साझेदारी की परिभाषा

भारतीय साझेदारी अधिनियम, 1932 की धारा 4 के अनुसार, “साझेदारी उन व्यक्तियों के बीच का संबंध है जो किसी व्यवसाय के मुनाफे को सभी या उनमें से किसी एक द्वारा सभी के लिए साझा करने के लिए सहमत हुए हैं”। भारतीय साझेदारी अधिनियम, 1932 के अनुसार साझेदारी बनाने के लिए आवश्यक सभी आवश्यक तत्व नीचे सूचीबद्ध हैं

  • साझेदारों के बीच एक समझौते का अस्तित्व आवश्यक है।
  • साझेदारी बनाने के पीछे मुख्य उद्देश्य लाभ कमाना और उसे साझेदारों के बीच बाँटना होता है।
  • समझौते के अनुसार, इस तथ्य का पालन करना आवश्यक है कि समझौता व्यवसाय को संयुक्त रूप से चलाने के लिए होना चाहिए या ऐसी स्थितियों में जहां यह संभव नहीं है, अन्य साझेदारों को सभी की ओर से कार्य करना चाहिए।

चित्रण: आशीष और अनीश ने एक समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद एक साथ 200 बैग खरीदे, जहां वे अपने संयुक्त खाते के लिए अनुकूलित बैग बेचेंगे। यह साझेदारी बनाने का एक आदर्श उदाहरण है और यहां, आशीष और अनीश को साझेदार माना जाता है।

एक अलग स्थिति में, आशीष और अनीश 200 बैग खरीदते हैं और वे उन्हें आपस में साझा करने के लिए सहमत होते हैं। इस स्थिति को साझेदारी के रूप में नहीं गिना जाएगा क्योंकि उनका व्यवसाय करने का कोई इरादा नहीं है।

एन. गुरव रेड्डी बनाम जिला रजिस्ट्रार (1976) के मामले में, पी. श्री देवम्मा के कानूनी उत्तराधिकारियों के साथ आवेदक और 6 अन्य लोग एक व्यवसाय में साझेदार थे। पांच अन्य साझेदारों के साथ कानूनी प्रतिनिधि साझेदारी से सेवानिवृत्त होना चाहते थे इसलिए उन्होंने साझेदारी को समाप्त करने का फैसला किया। विघटन स्टाम्प पेपर पर निष्पादित किया गया था और निर्णय उन साझेदारों के पक्ष में किया गया था जो साझेदारी को समाप्त करना चाहते थे।

साझेदारी का विघटन

वह अमूर्त संबंध जो 2 या अधिक साझेदारों के बीच कानूनी रूप से बाध्यकारी होता है, साझेदारी के रूप में जाना जाता है। यही कारण है कि साझेदारी को समाप्त करना साझेदारों के बीच कानूनी संबंध को समाप्त करने जैसा है।

ऐसे कई कारण हो सकते हैं जिनकी वजह से साझेदार साझेदारी समाप्त करना चाहते हैं जैसे सेवानिवृत्ति, मृत्यु के कारण साझेदार की अक्षमता, पागलपन, या कोई अन्य कारण जो साझेदारी में अक्षम्य (इनकैपेसिटेट) भूमिका का कारण बन सकता है और इस तरह कोई साझेदारी स्वेच्छा से या अनैच्छिक रूप से समाप्त हो सकती है।

भले ही एक या एक से अधिक साझेदार किसी साझेदारी को समाप्त करने का निर्णय लेते हैं, शेष साझेदार यदि व्यवसाय-संघ को जारी रखना चाहते हैं तो यह उनके विवेक के अधीन है, ताकि व्यवसाय-संघ अपना अस्तित्व न खो दे। अंतर केवल इतना है कि जब शेष साझेदारी व्यवसाय संघ को जारी नहीं रखने और व्यवसाय को आगे बढ़ाने का निर्णय लेते हैं, तो व्यवसाय संघ स्वतः ही भंग हो जाती है। ध्यान रखने वाली एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि जब कोई साझेदारी समाप्त हो जाती है, तो पुराना समझौता स्वचालित रूप से समाप्त हो जाता है और प्रतिस्थापन के रूप में एक नया समझौता उपयोग किया जाता है।

साझेदारी को समाप्त करने के तरीकों की सूची नीचे दी गई है:

  • प्रतिस्थापन के रूप में किसी अन्य साझेदार को स्वीकार करना
  • साझेदार का दिवालिया (इंसोल्वेंट) होना
  • लाभ अंश (शेयर) अनुपात को संशोधित करना
  • साझेदारी अवधि की समाप्ति
  • साझेदारी बनाते समय तय किए गए लक्ष्य/उद्यम (वेंचर) को पूरा करने के बाद
  • साझेदार की मृत्यु
  • एक साझेदार की सेवानिवृत्ति
  • एक समझौते के माध्यम से साझेदारी को समाप्त करना

साझेदारी को भंग करने के तरीके

कानून के संचालन से

एक समझौते का परिणाम होने के कारण, साझेदारी कानून द्वारा शासित होती है। अकेले इस कारण से यह उचित होना चाहिए कि यदि कोई गैरकानूनी गतिविधि होती है, तो साझेदारी को भंग माना जाएगा।

उदाहरण: A और B एक साझेदारी बनाते है और गुजरात में शराब बेचने का निर्णय लेते हैं जो एक शुष्क (ड्राई) राज्य है। यह साझेदारी वैध है लेकिन उद्देश्य अवैध है इसलिए यह साझेदारी कानून द्वारा भंग मानी जाएगी।

किसी न्यायालय की डिक्री से

साझेदारी को समाप्त करने के इस तरीके का उपयोग करते हुए, एक साझेदार अदालत का दरवाजा खटखटाकर साझेदारी को समाप्त कर सकता है। अदालत कुछ परिस्थितियों में साझेदारी के विघटन की अनुमति दे सकती है। ये शर्तें हैं:

  • अगर साझेदार काम करने में सक्षम नहीं है
  • पागलपन और मानसिक अस्थिरता है
  • किसी समझौते का उल्लंघन किया है
  • साझेदारी के ख़राब व्यवहार के परिणामस्वरूप व्यवसाय संघ या अन्य साझेदारों की छवि ख़राब होती है

उदाहरण: A, B, C और D एक व्यवसाय संघ में साझेदार थे। एक अजीब दुर्घटना के कारण, B विकलांग हो गया था और अपने कर्तव्यों को पूरा करने में असमर्थ था इसलिए अन्य सभी साझेदारों ने अदालत का दरवाजा खटखटाया ताकि उन्हें आवश्यक सहायता मिल सके जिससे उन्हें B के साथ अपनी साझेदारी समाप्त करने में मदद मिलेगी।

विघटन का बयान 

यह किसी साझेदारी को समाप्त करने के लिए उपयोग किया जाने वाला सबसे सरल तरीका है। संबंधित पक्ष को राज्य के सचिव को संबोधित करते हुए एक बयान फॉर्म भरना होगा। साझेदारी का नाम, प्रपत्र (फॉर्म) भरने की तारीख और विघटन का कारण उक्त प्रपत्र में भरी जाने वाली सबसे महत्वपूर्ण चीजें हैं।

साझेदारों का कार्य

इस प्रतिरूप (मॉडल) का उपयोग करते हुए, जब साझेदार किसी साझेदारी को समाप्त करना चाहते हैं, तो शेष साझेदार सहमत होंगे और साझेदारी समाप्त करने के लिए उपयुक्त समय तय करेंगे। साझेदारों को समय अवधि जैसी चीजों के लिए एक समझौते पर आने की स्वतंत्रता है लेकिन शेष साझेदार जो साझेदारी समाप्त करना चाहता है उसे भी समय अवधि समाप्त होने से पहले साझेदारी को समाप्त करने का अधिकार है लेकिन केवल कुछ विशेष परिस्थितियों में करने का अधिकार हैं।

उदाहरण: A, B, C, D और E एक साझेदारी में हैं। A अपनी साझेदारी को समाप्त करने का निर्णय लेता है और अपने साझेदारों के साथ अपने निर्णय पर चर्चा करने के बाद, वे निर्णय लेते हैं कि वह अगले 3 सप्ताह तक काम करेगा जब तक कि वे उसके लिए कोई प्रतिस्थापन नहीं ढूंढ लेते हैं। दिल का दौरा पड़ने के कारण उन्हें कुछ समय के लिए आराम करने के लिए कहा गया था, इस प्रकार, वह अपने तीन सप्ताह पूरे होने से पहले ही बिस्तर मे आराम पर थे।

व्यवसाय-संघ की परिभाषा

भारतीय साझेदारी अधिनियम,1932 की धारा 4 ही साझेदारी व्यवसाय संघ के अर्थ को स्पष्ट करती है। उपर्युक्त धारा के अनुसार, “जो व्यक्ति एक दूसरे के साथ साझेदारी में प्रवेश करते हैं उन्हें व्यक्तिगत साझेदार कहा जाता है और सामूहिक रूप से उन्हें एक व्यवसाय संघ के रूप में जाना जाता है”।

जैसा कि ऊपर बताया गया है, किसी व्यवसाय-संघ का विघटन किसी साझेदारी के विघटन से भिन्न होता है। व्यवसाय-संघ के भीतर लाभ और हानि उत्पन्न करने जैसी सभी व्यवसाय-संबंधित गतिविधियों को बंद करना किसी व्यवसाय-संघ के विघटन के रूप में जाना जाता है। जब ये गतिविधियाँ बंद हो जाती हैं, तो परिसंपत्तियों का उपयोग आमतौर पर ऋणों का भुगतान करने के लिए किया जाता है, यदि कोई हो। किसी साझेदारी का विघटन व्यवसाय-संघ के विघटन के बराबर नहीं है, लेकिन किसी व्यवसाय संघ का विघटन साझेदारी के विघटन के बराबर है।

मालाबार फिशरीज एंड कंपनी बनाम आयकर आयुक्त (1979) के मामले में, संपत्ति के प्रभाव और देनदारियों के निर्वहन के बारे में भारत के माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा बताया और समझाया गया है। अदालत ने कहा कि, “किसी व्यवसाय-संघ का विघटन, समय के हिसाब से, परिसंपत्तियों के वास्तविक वितरण, विभाजन या आवंटन से पहले होना चाहिए जो कि व्यवसाय-संघ द्वारा खाते बनाने और देय ऋणों और देनदारियों का निर्वहन करने के बाद होता है। विघटन पर व्यवसाय-संघ का अस्तित्व समाप्त हो जाता है और फिर खातों का निर्माण होता है, फिर ऋणों और देनदारियों का निर्वहन होता है और उसके बाद उनके बीच अधिकारों के पारस्परिक समायोजन के माध्यम से पूर्व साझेदारों के बीच संपत्ति का वितरण, विभाजन या आवंटन होता है। पूर्व साझेदारों को परिसंपत्तियों का वितरण, बंटवारा या आवंटन विघटित व्यवसाय-संघ द्वारा नहीं किया जाता है। यह कहना सही नहीं है कि परिसंपत्तियों का वितरण कंपनी के विघटन के साथ ही होता है या यह भंग कंपनी से प्रभावित होता है।”

किसी व्यवसाय-संघ का विघटन

भारतीय साझेदारी अधिनियम,1932 के अनुसार, साझेदारी समाप्त करने की इच्छा रखने वाले किसी भी साझेदार को सभी नियमों और शर्तों का पालन करना होगा। नीचे सूचीबद्ध प्रावधान इस अधिनियम में दिए गए हैं जो विभिन्न तरीकों को बताते हैं जिनके माध्यम से कोई व्यक्ति किसी व्यवसाय-संघ को समाप्त कर सकता है:

धारा 40 : समझौते द्वारा विघटन

भारतीय साझेदारी अधिनियम, 1932 की धारा 40  के अनुसार, किसी भी और सभी व्यवसाय-संघों को एक समझौते के माध्यम से भंग किया जा सकता है। सभी साझेदारों की कानूनी सहमति उतनी ही आवश्यक है जितनी कि समझौते की वैधता है। सभी साझेदार अपनी प्रक्रिया में अदालत को शामिल किए बिना भी व्यवसाय-संघ  को भंग कर सकते हैं। 

धारा 41 : अनिवार्य विघटन

भारतीय साझेदारी अधिनियम, 1932 की धारा 41 के अनुसार, सभी साझेदार अनिवार्य रूप से व्यवसाय-संघ को भंग करने के लिए बाध्य हैं। कई कारणों से मजबूरी का कारक परिदृश्य में आ सकता है।  उक्त कारण हैं: 

  • दिवालिया साझेदार
  • अन्य सभी दिवालिया साझेदारों में से केवल एक साझेदार दिवालिया नहीं है
  • साझेदार अवैध और गैरकानूनी गतिविधियों का हिस्सा हैं जिनमें अवैध उद्देश्य शामिल हो सकते हैं

धारा 42 : आकस्मिकता घटित होने पर विघटन

भारतीय साझेदारी अधिनियम, 1932 की धारा 42 के अनुसार, किसी व्यवसाय-संघ को केवल कुछ परिस्थितियों में ही साझेदारों द्वारा भंग किया जा सकता है। इन परिस्थितियों में शामिल हैं :

  • साझेदारी पूर्व-निर्धारित समय के अनुसार और एक निश्चित निर्धारित लक्ष्य/उद्यम के पूरा होने के बाद समाप्त की जानी चाहिए
  • यदि सभी साझेदारों की मृत्यु हो जाए तो एक व्यवसाय-संघ को भंग किया जा सकता है। हालाँकि, यदि एक साझेदार की मृत्यु हो जाती है, तो अन्य साझेदार यदि चाहें तो व्यवसाय-संघ/व्यवसाय चलाना जारी रख सकते हैं, जिसे साझेदारी के विघटन के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा, न कि व्यवसाय-संघ के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।
  • जैसा कि ऊपर कहा गया है, यदि साझेदार दिवालिया हैं, तो व्यवसाय-संघ को भंग किया जा सकता है।

धारा 43: सूचना के माध्यम से किसी व्यवसाय-संघ का विघटन

भारतीय साझेदारी अधिनियम, 1932 की धारा 43 के अनुसार, एक व्यवसाय-संघ को एक साझेदार द्वारा सूचना के माध्यम से भंग किया जा सकता है। जो साझेदारी व्यवसाय-संघ को भंग करना चाहता है, उसे उक्त व्यवसाय-संघ को भंग करने के इरादे के बारे में सूचित करने के लिए अन्य सभी साझेदारों को सूचना जारी करने के अनुरोध के साथ व्यवसाय-संघ से संपर्क करना चाहिए।

धारा 44 : न्यायालय द्वारा विघटन

भारतीय साझेदारी अधिनियम, 1942 की धारा 44 के अनुसार, एक साझेदार अन्य साझेदारों पर मुकदमा करके व्यवसाय-संघ को भंग कर सकता है। इस पद्धति का उपयोग करके, एक साझेदार अन्य सभी साझेदारों पर मुकदमा कर सकता है जब:

  • यदि अन्य साझेदार वादे किए गए कर्तव्यों को पूरा करने में असमर्थ हैं तो एक साझेदार एक व्यवसाय-संघ को भंग कर सकता है। ऐसे कई कारण हैं जिनके कारण एक साझेदार को वादा किए गए कर्तव्यों को पूरा करने में असमर्थ माना जाएगा और चिकित्सा कारणों, लंबी अवधि के लिए कारावास, पागलपन आदि पर भी यहां विचार किया जाएगा।
  • ऐसी स्थितियों में जहां एक साझेदार अपने शेयर/हितों का पूरा हिस्सा किसी तीसरे पक्ष को हस्तांतरित कर देता है या सरल शब्दों में कहें तो यदि साझेदार प्रजनन का निर्णय लेता है, तो व्यवसाय-संघ से संबंधित पूर्व-निर्धारित समझौता व्यवसाय-संघ के विघटन का आधार बन सकता है।
  • ऐसी स्थितियों में जहां साझेदार अपने कार्यों से व्यवसाय-संघ की प्रतिष्ठा में बाधा डालता है जो प्रकृति में विश्वासघाती हैं, यह गतिविधि अन्य सभी साझेदारों के लिए व्यवसाय-संघ को भंग करने का आधार बन सकती है।
  • जब एक साझेदार मानसिक रूप से अस्वस्थ हो जाता है या मानसिक रूप से अस्थिर हो जाता है, तब अन्य साझेदारों के पास उक्त साझेदारों पर मुकदमा करने का अधिकार होता है ताकि अदालत व्यवसाय-संघ को भंग कर सके।

साझेदारी के विघटन और किसी व्यवसाय-संघ के विघटन के बीच अंतर

साझेदारी व्यवसाय-संघ
किसी कंपनी/उद्यम/व्यवसाय-संघ में एक साझेदार और बाकी साझेदारों के बीच कानूनी संबंध समाप्त करने की प्रक्रिया है। जब कोई साझेदारी भंग हो जाती है, तो व्यवसाय-संघ के अन्य साझेदार व्यवसाय जारी रख भी सकते हैं और नहीं भी रख सकते हैं। अदालत के हस्तक्षेप की जरूरत नहीं है। पुस्तकों में समापन की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि साझेदारी समाप्त होने पर व्यवसाय समाप्त नहीं होता है। किसी साझेदारी के विघटन के परिणामस्वरूप व्यवसाय-संघ का विघटन आवश्यक नहीं है। कंपनी/उद्यम/व्यवसाय-संघ की सभी साझेदारियों को विघटित करने की प्रक्रिया जिसके परिणामस्वरूप व्यवसाय-संघ विघटित हो जाता है, व्यवसाय-संघ विघटित करना कहलाती है। जब कोई व्यवसाय-संघ भंग हो जाता है, तो व्यवसाय से संबंधित सभी गतिविधियाँ बंद हो जाती हैं। अदालतें साझेदारों को व्यवसाय-संघ को भंग करने में मदद कर सकती हैं। व्यवसाय बंद होने पर पुस्तकों को बंद करने की आवश्यकता होती है। किसी व्यवसाय-संघ के विघटन के परिणामस्वरूप साझेदारियाँ भी समाप्त हो जाती हैं।

निष्कर्ष

भारतीय साझेदारी अधिनियम,1932 हमारे लिए यह स्पष्ट करता है कि साझेदारी व्यवसाय-संघ के विघटन और साझेदारी के विघटन के बीच बहुत बड़ा अंतर है। ऊपर दिए गए स्पष्टीकरण के अनुसार, हम कह सकते हैं कि जब कोई साझेदारी समाप्त होती है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि व्यवसाय-संघ भी भंग हो गया है, लेकिन दूसरी ओर जब कोई व्यवसाय-संघ भंग हो जाता है, तो इसका मतलब है कि सभी साझेदारियां भी समाप्त हो गई हैं।

संदर्भ

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here