भारतीय संविधान का अनुच्छेद 360

0
4640
Constitution

यह लेख सिम्बायोसिस लॉ स्कूल, नोएडा के छात्र Ayush Tiwari ने लिखा है। यह लेख भारतीय संविधान के अनुच्छेद 360 की व्याख्या करता है, जो भारत में वित्तीय आपातकाल के प्रावधान से संबंधित है। इस लेख का अनुवाद Sameer Choudhary ने किया है।

परिचय

शब्द “आपातकाल” सामान्य रूप से एक ऐसी स्थिति को संदर्भित करता है जिसमें त्वरित (क्विक) कार्रवाई की आवश्यकता होती है। राजनीतिक रूप से, यह एक ऐसी स्थिति को संदर्भित करता है जो अचानक होती है और ऐसी स्थिति में सरकारी अधिकारियों को जल्दी और अपने कानूनी अधिकार के भीतर प्रतिक्रिया देने की आवश्यकता होती है। 

एक आपात स्थिति एक ऐसा परिदृश्य (सिनेरियो) है जिसमें शासन प्रणाली विफल हो गई है और त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता है ताकि समस्या का समय पर समाधान करने के लिए सही प्रक्रियाओं का पालन किया जा सके।

एक आपात स्थिति में, केंद्र यह सुनिश्चित करने के लिए सभी निर्णय लेने वाले अधिकारियों का नियंत्रण ग्रहण करता है कि विकसित संकट के लिए त्वरित समाधान की आपूर्ति की जाए। परिणामस्वरूप, जबतक भारत में आपातकाल लागू रहता है, देश आपातकाल की अवधि के लिए सरकार की एकात्मक (यूनिटरी) प्रणाली में परिवर्तित हो जाता है।

भारतीय संविधान के आपातकालीन प्रावधान जर्मन संविधान से लिए गए थे। अनुच्छेद 352 से 360 तक संविधान के भाग XVIII में आपातकालीन प्रावधान शामिल हैं। ये अनुच्छेद केंद्र सरकार को किसी भी असामान्य घटना पर ठीक से प्रतिक्रिया करने में सक्षम बनाते हैं। संविधान में इन अनुच्छेदों को शामिल करने के पीछे तर्क देश की संप्रभुता (सोवरेंटी), एकता, अखंडता (इंटीग्रिटी) और सुरक्षा के साथ-साथ लोकतांत्रिक राजनीतिक व्यवस्था और संविधान की रक्षा करना है।

हालांकि आपातकालीन प्रावधान आवश्यक हैं, लेकिन सरकार को देश में उत्पन्न होने वाली हर समस्या को हल करने के लिए उनका उपयोग नहीं करना चाहिए; इसके बजाय, ऐसी स्थिति को हल करने के लिए अन्य सभी वैकल्पिक समाधानों का उपयोग पहले किया जाना चाहिए, और केवल तभी जब ये तरीके समस्या को प्रभावी ढंग से संबोधित करने में विफल हो जाते हैं, तो इसे हल करने के लिए आपातकाल के प्रावधान का उपयोग किया जाना चाहिए।

भारत में आपातकाल घोषित करने की शक्ति किसके पास है?

संकट के समय, भारत के राष्ट्रपति, जो कि राष्ट्र के प्रमुख भी हैं, भारतीय संविधान के अनुच्छेद 360(1) के तहत आपातकाल की स्थिति घोषित करने का अधिकार रखते हैं। अनुच्छेद 360(1) के अनुसार, “यदि राष्ट्रपति की राय है कि ऐसा परिदृश्य विकसित हो गया है तो वह यह घोषणा करते हुए एक उद्घोषणा (प्रोक्लेमेशन) जारी कर सकते हैं कि भारत या उसके क्षेत्र के किसी भी हिस्से की वित्तीय स्थिरता या क्रेडिट जोखिम में है।” हालाँकि, राष्ट्रपति किसी भी समय आपातकाल की घोषणा नहीं कर सकते हैं; इसके बजाय, संविधान की आवश्यकता है कि वह ऐसा तभी करे जब केंद्रीय मंत्रिमंडल, जिसमें भारत के प्रधान मंत्री शामिल हैं, ने उन्हें लिखित रूप में सूचित किया है कि आपातकाल घोषित किया जाना है, और उसके बाद ही राष्ट्रपति आपातकाल की घोषणा कर सकते हैं। यदि कोई राज्य आपातकाल की घोषणा करते है, तो उस राज्य के राज्यपाल उन्हें लिखित रूप में सूचित करेंगे। 

अनुच्छेद 360  के तहत वित्तीय आपातकाल

भारत के संविधान में तीन प्रकार की आपात स्थितियाँ दी गई हैं, और उनमें से एक है वित्तीय आपातकाल है। भारतीय संविधान कुछ परिस्थितियों में आर्थिक नुकसान की संभावना को स्वीकार करता है। नतीजतन, ऐसी घटना की स्थिति में, भारतीय संविधान का अनुच्छेद 360 देश में वित्तीय आपातकाल लगाने की अनुमति देता है।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 360 के अनुसार, राष्ट्रपति वित्तीय आपातकाल की घोषणा कर सकते हैं यदि उन्हें लगता है कि भारत या इसके क्षेत्र के किसी भी हिस्से की वित्तीय स्थिरता खतरे में है। इसलिए, जब देश में एक ऐसा परिदृश्य सामने आता है जो आर्थिक संकट की ओर ले जाता है, तो भारत के राष्ट्रपति समस्या के समाधान के लिए आपातकाल की घोषणा कर सकते हैं। वित्तीय आपातकाल की स्थितियों की न्यायिक समीक्षा (ज्यूडिशियल रिव्यू) को 44वें संशोधन अधिनियम 1978 द्वारा संभव बनाया गया है।

संसद की स्वीकृति और वित्तीय आपातकाल की समयावधि

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 360(2) के अनुसार, वित्तीय आपातकाल की घोषणा की संसद के दोनों सदनों द्वारा इसके जारी होने के दो महीने के भीतर पुष्टि की जानी चाहिए। एक वित्तीय आपातकाल, यदि संसद के दोनों सदनों द्वारा अनुमोदित (अप्रूव्ड) किया जाता है, तो इसे निरस्त किए जाने तक यह अनिश्चित काल तक प्रभाव में रहता है। इसमें दो बातें निहित (इंप्लाइड) हैं:

  1.  इसे जारी रखने के लिए बार-बार संसदीय अनुमोदन की आवश्यकता नहीं होती है।
  2. वित्तीय आपातकाल का कार्य किसी समय सीमा के अधीन नहीं है।

वित्तीय आपातकाल की घोषणा को मंजूरी देने वाला प्रस्ताव संसद के किसी भी सदन (लोकसभा या राज्य सभा) में साधारण बहुमत से ही पारित किया जा सकता है। राष्ट्रपति किसी भी समय संसदीय समझौते के बिना किसी वित्तीय आपातकाल की उद्घोषणा को रद्द कर सकता है।

वित्तीय आपातकाल के परिणाम

संसद द्वारा आपातकाल की स्थिति को मंजूरी देने के बाद, संघ देश के वित्तीय मामलों का पूर्ण नियंत्रण ग्रहण करता है। केंद्र सरकार किसी भी राज्य को वित्तीय निर्देश प्रदान कर सकती है, और राष्ट्रपति राज्यों से पूछ सकते हैं:

  • सरकारी कर्मचारियों के सभी या किसी भी वर्ग के वेतन और लाभों में कटौती करने के लिए।
  • एक बार राज्य विधानमंडल द्वारा अधिनियमित (इनैक्ट) किए जाने के बाद संसद द्वारा विचार के लिए सभी धन विधेयकों को सुरक्षित रखने के लिए।
  • सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों सहित केंद्र सरकार के अधिकारियों के वेतन और भत्तों को कम करने के लिए।

भारतीय संविधान के तहत आपातकालीन स्थितियों के प्रकार 

भारत के संविधान के तहत तीन प्रकार की आपातकालीन स्थितियों का उल्लेख किया गया है:

  1. राष्ट्रीय आपातकाल
  1. राज्य आपातकाल (राष्ट्रपति शासन) 
  2. वित्तीय आपातकाल

राष्ट्रीय आपातकाल (अनुच्छेद 352)

राष्ट्रीय आपातकाल को संविधान के अनुच्छेद 352 के तहत परिभाषित किया गया है। राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा वैधानिक मानकों (स्टैंडर्ड्स) से मेल खाती है जिनका पालन तब किया जाना चाहिए जब एक असाधारण परिस्थिति राष्ट्र के सद्भाव, रक्षा, समृद्धि या प्रशासन को धमकाती या प्रभावित करती है।

जब पहले जैसी परिस्थितियां दोबारा अस्तित्व में आई थीं, तो संविधान के अनुच्छेद 352 के अनुसार आपातकालीन कार्यान्वयन (एग्जिक्यूशन) किया गया था।

  1. युद्ध
  2. बाहरी आक्रमण या
  3. सशस्त्र विद्रोह।

अनुच्छेद 352 में यह प्रावधान है कि यदि राष्ट्रपति “संतुष्ट” महसूस करते है कि एक खतरनाक स्थिति मौजूद है जो विदेशी आक्रमण या सशस्त्र विद्रोह के परिणामस्वरूप भारत या उसके किसी भी वर्ग की सुरक्षा को खतरे में डालती है, तो वह उस संबंध में सभी के लिए एक बयान जारी करेंगे।

जब राष्ट्रपति देश में आपातकाल की घोषणा करते है, तो यह एक महीने तक रहता है। कार्यकाल बढ़ाने के लिए, राष्ट्रपति को संसद के दोनों सदनों में उद्घोषणा लानी होगी, और यदि वे प्रस्ताव को स्वीकार करते हैं, तो यह छह महीने तक चलेगा। यदि स्थिति लगातार बिगड़ती रहती है और आपातकाल की स्थिति को 6 महीने से अधिक बढ़ाने की आवश्यकता होती है, तो दोनों सदनों द्वारा एक बार फिर एक प्रस्ताव पारित किया जाना चाहिए। राष्ट्रीय आपातकाल की राष्ट्रपति की घोषणा को उसकी उद्घोषणा की तिथि से 30 दिन की अवधि समाप्त होने से पहले किसी भी समय राष्ट्रपति द्वारा निरस्त किया जा सकता है, इसलिए इस तरह की घोषणा के प्रभावी होने के लिए कोई न्यूनतम समय अवधि नहीं है।

राज्य आपातकाल या राष्ट्रपति शासन (अनुच्छेद 356)

संविधान का अनुच्छेद 356 राष्ट्रपति को किसी भी भारतीय राज्य में राष्ट्रपति शासन स्थापित करने की अनुमति देता है यदि संवैधानिक तंत्र विफल हो जाता है। इसके दो रूप हैं:

  1. यदि राष्ट्रपति को राज्य के राज्यपाल से रिपोर्ट मिलती है या अन्यथा वह आश्वस्त या संतुष्ट है कि राज्य की स्थिति ऐसी है कि राज्य सरकार संविधान के प्रावधानों के अनुसार शासन नहीं कर सकती है।
  2. अनुच्छेद 365 के तहत, यदि कोई राज्य उन विषयों पर संघ द्वारा दिए गए सभी आदेशों का पालन करने में विफल रहता है, जिन पर उसका अधिकार है, तो राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है।

मूल शब्दों में, राष्ट्रपति शासन तब होता है जब राज्य सरकार को निलंबित कर दिया जाता है और राज्य को सीधे राज्यपाल के कार्यालय के माध्यम से राष्ट्रीय सरकार द्वारा प्रशासित किया जाता है। किसी भी राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने के लिए संसदीय सहमति की आवश्यकता होती है। इसके जारी होने के दो महीने के भीतर, संसद के दोनों सदनों द्वारा राष्ट्रपति शासन की घोषणा की पुष्टि की जानी चाहिए। अनुमोदन (अप्रूवल) के लिए साधारण बहुमत की आवश्यकता होती है।

राष्ट्रपति शासन पहले छह महीने के लिए प्रभावी होता है। फिर इसे विधायी अनुमोदन के साथ हर छह महीने में तीन साल के लिए नवीनीकृत (अपडेटेड) किया जा सकता है।

संविधान के 44वें संशोधन (1978) ने राष्ट्रपति शासन की स्थापना पर एक वर्ष से अधिक समय तक विभिन्न सीमाएं लगाईं। इसमें कहा गया है कि राष्ट्रपति शासन का नवीनीकरण केवल एक वर्ष से अधिक किया जा सकता है यदि निम्नलिखित शर्तें पूरी होती हैं:

  • भारत में राष्ट्रीय आपातकाल है।
  • राज्य में विधानसभा चुनाव कराने में आने वाली चुनौतियों के कारण, भारत का चुनाव आयोग घोषणा करता है कि राष्ट्रपति शासन को बनाए रखा जाना चाहिए।

क्या होता है जब राष्ट्रपति शासन लागू हो जाता है

  • राष्ट्रपति की ओर से राज्यपाल राज्य की सरकार की देखरेख करता है। वह राज्य के मुख्य सचिव के साथ-साथ अन्य विशेषज्ञों और प्रशासकों की सहायता लेता है जिन्हें वह चुन सकता है।
  • राष्ट्रपति के पास यह घोषणा करने का अधिकार है कि राज्य विधानमंडल के कार्यों का प्रयोग संसद द्वारा किया जाएगा।
  • राष्ट्रपति राज्य विधानसभा को या तो निलंबित या भंग कर दिया जाता है।
  • जब संसद सत्र में नहीं होती है, तो राष्ट्रपति को राज्य के प्रशासन को नियंत्रित करने वाले अध्यादेश(ऑर्डिनेंस) जारी करने का अधिकार होता है।

उदाहरण जहां वित्तीय आपातकाल एक विकल्प हो सकता था

अब तक, भारत में एक भी वित्तीय आपातकाल नहीं लगा है। 

1991 का वित्तीय संकट

भारत के इतिहास में सबसे गंभीर वित्तीय संकट 1991 में आया। भारत की अर्थव्यवस्था संक्रमण के दौर में थी। 1980 के दशक में राजकोषीय असंतुलन पर्याप्त था और बिगड़ता गया, जिसने वित्तीय तबाही को हवा दी। संघीय और राज्य सरकारों के कुल राजकोषीय (फिस्कल) घाटे में काफी वृद्धि हुई।

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार इतना कम था कि वे मुश्किल से तीन सप्ताह के आयात को कवर कर सके, जिससे रुपये का महत्वपूर्ण अवमूल्यन (डिवैल्यूएशन) हुआ। 1991 के मध्य में, भारत की विनिमय(एक्सचेंज) दर में एक महत्वपूर्ण समायोजन (एडजस्टमेंट) हुआ।

 

हालांकि, भारत को दिवालिया (बैंकरप्ट) होने के कगार पर लाने वाली विकट परिस्थितियों के बावजूद, कोई वित्तीय आपातकाल घोषित नहीं किया गया था।

कोविड-19

सेंटर फॉर एकाउंटेबिलिटी एंड सिस्टमिक चेंज (सीएएससी) ने अनुरोध किया कि मार्च 2020 में लॉकडाउन के दौरान जनहित याचिका के रूप में दायर एक रिट याचिका में कोविड-19 के प्रकोप के परिणामस्वरूप एक वित्तीय आपातकाल की घोषणा की जाए। हालाँकि, इस तर्क को खारिज कर दिया गया था। आधार है कि राष्ट्रपति को यह तय करना होगा कि वित्तीय आपातकाल वैध है या नहीं।

वित्तीय आपात स्थिति केवल राष्ट्रपति द्वारा घोषित की जा सकती है; सर्वोच्च न्यायालय केवल ऐसी घोषणाओं की जांच कर सकता है। याचिका में कहा गया है:

आजादी के बाद से, कोविड-19 देश और दुनिया का सबसे अधिक दबाव वाला आपातकाल रहा है, और इसे कानून के अनुसार प्रबंधन करने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों के बीच एक संयुक्त आदेश की आवश्यकता होती है।

वित्तीय आपातकाल के प्रावधान की आलोचना

वित्तीय आपातकालीन कानून के साथ एक मूलभूत मुद्दा यह है कि, अन्य कानूनों के विपरीत, यह निर्दिष्ट नहीं करता है कि वित्तीय आपातकाल क्या होता है। ‘वित्तीय अस्थिरता’ एक व्यापक शब्द है जिसका उपयोग सरकारें अपने लाभ के लिए कर सकती हैं। भारत एक संघीय व्यवस्था के तहत शासित होता है जिसमें सत्ता केंद्र में स्थानांतरित हो जाती है। हालाँकि, यह क़ानून राज्य के निर्वाचित प्रशासनों के अधिकार को प्रतिबंधित करता है। अपने स्वयं के सर्वोत्तम हित में निर्णय लेने की उनकी क्षमता सीमित है। इसके अलावा, भारत की अर्थव्यवस्था का प्रबंधन केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है। यहां तक ​​कि सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्यों को भी केंद्र सरकार की अक्षमता और विफलता का भार वहन करना होगा। लेकिन, इस प्रावधान का इस्तेमाल कभी नहीं किया गया।

वित्तीय आपातकाल के हालिया उदाहरण

अफ़ग़ानिस्तान

अगस्त में जब से तालिबान ने अफगानिस्तान पर नियंत्रण हासिल किया है, देश के वित्तीय और मानवीय संकट और भी बदतर हो गए हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा अपने सैनिकों को वापस लेने, खाद्य संकट पैदा करने और खाद्य सुरक्षा को खतरे में डालने के बाद से तीव्र कुपोषण ने अफगानिस्तान को तबाह कर दिया है। ह्यूमन राइट वॉच के एक अध्ययन के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, मार्च 2022 तक कम से कम 55% आबादी के “संकट या अत्यधिक स्तर के भोजन की कमी” होने की संभावना है । कई मानवीय समूहों ने चेतावनी जारी की है क्योंकि संकट का दायरा और प्रभाव बढ़ गया है, जिसमें कई अफगान बच्चे हर दिन भूख से मर रहे हैं।

श्रीलंका 

कोरोनावायरस महामारी का पर्यटन क्षेत्र पर महत्वपूर्ण नकारात्मक प्रभाव पड़ा है, जो देश के सकल घरेलू उत्पाद (ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट) का लगभग 10% है और विदेशी मुद्रा उत्पन्न करता है। इसके परिणामस्वरूप विदेशी मुद्रा भंडार में कमी आई है। विदेशी मुद्रा उपलब्धता में गिरावट के परिणामस्वरूप उत्पादों के आयात के लिए आवश्यक विदेशी मुद्रा प्राप्त करने के लिए श्रीलंकाई लोगों की लागत में वृद्धि हुई है। नतीजतन, श्रीलंकाई रुपये के मूल्य में कमी आई है। यहां तक ​​कि अपनी सबसे बुनियादी खाद्य जरूरतों को पूरा करने के लिए, राष्ट्र काफी हद तक आयात पर निर्भर है। नतीजतन, रुपये की गिरावट के साथ-साथ भोजन की लागत में वृद्धि हुई है। कृषि उत्पादकता को कम करके, खेती में कृत्रिम उर्वरकों के उपयोग पर सरकार के प्रतिबंध ने इस मुद्दे को और भी खराब कर दिया है। इस प्रकार श्रीलंका में आर्थिक संकट पैदा हो गया। हाल ही में, एक सार्वजनिक आपातकाल को भी संकट को नियंत्रित करने के उपाय के रूप में घोषित किया गया था। इस तथ्य के बावजूद कि श्रीलंका का संविधान किसी भी कानूनी अर्थ में आपातकाल को परिभाषित नहीं करता है। 1947 का सार्वजनिक सुरक्षा अध्यादेश (पीएसओ) उन कारणों या परिस्थितियों को सूचीबद्ध करता है जो आपातकाल की स्थिति पैदा कर सकते हैं, आपातकाल की स्थिति केवल राष्ट्रपति द्वारा घोषित की जा सकती है, और एक न्यायाधीश इस विकल्प की जांच नहीं कर सकता है। श्रीलंकाई संविधान की धारा 155(2) बताती है कि “पीएसओ या सार्वजनिक सुरक्षा से संबंधित कानून के तहत आपातकालीन नियम बनाने की शक्ति में किसी भी कानून के प्रावधानों के संचालन की अवहेलना (ओवरराइड) करने, संशोधित करने या निलंबित करने के कानूनी प्रभाव वाले नियम बनाने की शक्ति इसके संविधान के प्रावधान के सिवाय शामिल होगी। 

निष्कर्ष

वित्तीय आपातकाल के इन प्रावधानों को संविधान के सम्मान को बनाए रखने के इरादे से प्रदान किया गया था। संवैधानिक व्यवस्था की रक्षा करना, उसका विनाश नहीं होने देना, सत्ता संचय (एक्युमुलेशन) का लक्ष्य है। आपातकालीन प्रावधान राष्ट्रीय सरकार की दक्षता को बढ़ाते हैं। संघ देश की रक्षा के लिए प्रभारी है। भारत में यह कानून कभी लागू नहीं हुआ। भारत ने 1991 में एक गंभीर वित्तीय संकट से गुजरने और 1965 में एक ही समय में भुखमरी और युद्ध दोनों से लड़ने के बावजूद, प्रावधानों का उपयोग करने का प्रयास भी नहीं किया। वित्तीय आपातकाल की घोषणा राष्ट्र की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुँचाती है। इसलिए भारत संघ के संघीय ढांचे की रक्षा के लिए, राष्ट्रपति को संघीय प्रमुख के रूप में आपातकालीन शक्तियां दी जाती हैं।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here