अनुच्छेद 142 : न्यायिक संयम की आवश्यकता

0
875
Constitution of India

यह लेख Muskaan Khandelwal द्वारा लिखा गया है और Oshika Banerji (टीम लॉसिखो) द्वारा संपादित (एडिट) किया गया है। इस लेख में भारतीय संविधान के अनुच्छेद 142 पर चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Shreya Prakash के द्वारा किया गया है।

परिचय

भारतीय संविधान का अनुच्छेद 142 भारत के सर्वोच्च न्यायालय को किसी भी ऐसे आदेश को पारित करने के लिए विवेकाधीन शक्ति प्रदान करता है, जिसे वह अपने समक्ष लंबित किसी भी मामले में ‘पूर्ण न्याय के लिए आवश्यक’ मानता है। 27 मई, 1949 को संविधान सभा द्वारा अनुच्छेद 142 अधिनियमित किया गया था, जो न्याय के सुरक्षित प्रशासन को सुनिश्चित करने के लिए देश की सर्वोच्च अदालत को पूर्ण अधिकार देता है। अनुच्छेद 142 के अभ्यास का आदर्श उदाहरण राम जन्म भूमि मामला है, जहां सर्वोच्च न्यायालय की 5-न्यायाधीशों की खंडपीठ ने विवादित भूमि पर एक मंदिर के निर्माण की अनुमति दी, लेकिन इसके साथ ही मस्जिद के निर्माण के लिए यूपी केंद्रीय सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन प्रदान की। यह नोट करना आदर्श है कि पिछले कुछ वर्षों से, सर्वोच्च न्यायालय द्वारा संविधान के अनुच्छेद 142 का उपयोग ‘पूर्ण न्याय’ के आधार पर एक मामले का फैसला करने के लिए बढ़ गया है। अनुच्छेद 142 के इस बार-बार आह्वान (इन्वोकेशन) में नियमों का एक समान सेट नहीं है जो इसके आवेदन के तरीकों को सुधार सके। इस प्रकार जिन परिस्थितियों में अनुच्छेद 142 लागू होता है और जिन परिस्थितियों में इसके उपयोग को देखा नहीं जा सकता है, वे अस्पष्ट रहती हैं, और यही कारण है कि न्यायिक संयम (ज्यूडिशियल रिस्ट्रेंट) की आवश्यकता चर्चा में आती है। यह लेख न्यायिक संयम के माध्यम से भारतीय संविधान के अनुच्छेद 142 को उजागर करने की दिशा में समर्पित है।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 142 का दायरा

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, भारतीय संविधान का अनुच्छेद 142 (1) सर्वोच्च न्यायालय को ऐसा कोई भी आदेश पारित करने का अधिकार देता है “जैसा कि किसी भी कारण या उसके समक्ष लंबित मामले में पूर्ण न्याय करने के लिए आवश्यक है”। अनुच्छेद 142 संतोषजनक परिस्थितियों के इरादे से तैयार किया गया है, जिसे कानून के मौजूदा प्रावधानों द्वारा कुशलतापूर्वक और पर्याप्त रूप से निपटाया नहीं जा सकता है। वाक्यांश ‘पूर्ण न्याय’ जो अनुच्छेद 142 (1) का सार है, व्यापक शब्द है और लचीला भी है ताकि जटिल परिस्थितियों की जरूरतों को पूरा किया जा सके जो मानव सरलता द्वारा बनाई गई हैं या क़ानून संचालन या संविधान के अनुच्छेद 32, 136 और 141 के तहत घोषित कानून का परिणाम हैं। यह अशोक कुमार गुप्ता बनाम उत्तर प्रदेश राज्य (1997) के मामले में माना गया था। भारत का सर्वोच्च न्यायालय अनुच्छेद 142 के तहत ऐसी व्यापक शक्तियों का एकमात्र भंडार है और इसलिए क़ानून के तहत कई आदेश जारी कर सकता है।

यह दिसंबर 2016 में था जब भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने अनुच्छेद 142 पर भरोसा किया ताकि शराब की बिक्री पर रोक लगाई जा सके और यह सुनिश्चित किया जा सके कि राजमार्ग के बाहरी किनारे से या बस हाईवे सर्विस लेन से 500 मीटर की दूरी के भीतर शराब की बिक्री राजमार्ग से सुलभ नहीं है। शराब पीकर वाहन चलाने की बढ़ती दर को रोकने के लिए यह निर्णय लिया गया है।

यह रितेश सिन्हा मामले (2019) में था, जहां सर्वोच्च न्यायालय ने एक बार फिर से अभियुक्तों के अनिवार्य आवाज के नमूने लेने के लिए अनुच्छेद 142 को लागू किया था, क्योंकि मौजूदा कानूनों (दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 (सीआरपीसी)) में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है जो आवाज के नमूनों को स्पष्ट रूप से संदर्भित करने के लिए न्यायालय को शक्तियां प्रदान करता है। यहां तक ​​कि सीआरपीसी में किए गए संशोधन में लिखावट और शरीर के नमूनों का परीक्षण शामिल है, लेकिन आवाज के नमूनों के परीक्षण को छोड़ दिया गया है। यूनियन कार्बाइड कॉर्पोरेशन बनाम भारत संघ (1991) के मामले में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा इसी तरह का दृष्टिकोण अपनाया गया था, जिसे आमतौर पर भोपाल गैस रिसाव (लीक) मामले के रूप में जाना जाता है। इस मामले में न्यायालय ने कहा था कि अनुच्छेद 142 द्वारा प्रदान की गई शक्तियों का प्रतिबंध अनुच्छेद के दायरे को बड़ा नुकसान पहुंचाने के लिए जिम्मेदार होगा, इसलिए इस मामले में दायरे का विस्तार किया गया था। इस मामले का विशेष उल्लेख किया गया है क्योंकि यह नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा के लिए अदालतों द्वारा बनाए गए कानूनों और मौलिक अधिकारों को प्रतिबंधित करने के लिए बनाए गए कानूनों के बीच अंतर करता है। यह इस बात की भी गारंटी देता है कि सर्वोच्च न्यायालय अपनी निहित शक्ति का दुरुपयोग नहीं कर सकता है ताकि गारंटीकृत मौलिक अधिकारों का उल्लंघन किया जा सके क्योंकि यह अभिभावक देवदूत (गार्डियन एंजल) है इसलिए ये अधिकार अनुच्छेद 142 के माध्यम से इसे बनाए रखने के लिए जिम्मेदार हैं।

न्यायिक समीक्षा (रिव्यू) और शक्ति पृथक्करण (सेपरेशन ऑफ पावर) के सिद्धांत के साथ इसका संबंध

‘शक्तियों के पृथक्करण’ की अवधारणा फ्रांसीसी राजनीतिक दार्शनिक (फिलोसोफिकल) मॉन्टेस्क्यू द्वारा पेश की गई थी, जिन्होंने कहा था कि एक सरकार के आम तौर पर तीन पंख होते हैं, अर्थात्, कार्यपालिका (एक्जीक्यूटिव), विधायिका और न्यायपालिका, जो एक-दूसरे से स्वतंत्र होते हैं लेकिन अन्योन्याश्रित (इंटरडेपेंडेंट) रूप से स्वतंत्र नहीं होते हैं। यह कहना आदर्श है कि जहां विधायिका कानूनों के निर्माण के लिए जिम्मेदार है, वहीं कार्यपालिका ऐसे कानूनों के कार्यान्वयन (इंप्लीमेंटेशन) की देखभाल करती है और यह न्यायपालिका है जिसे ऐसे कानूनों की व्याख्या करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। न्यायिक व्याख्या को ‘न्यायिक समीक्षा’ की संज्ञा भी दी जाती है, जिसे आगे तीन श्रेणियों में विभाजित किया जाता है, अर्थात् न्यायिक सक्रियता (एक्टिविज्म), न्यायिक संयम (रिस्ट्रेन्ट) और न्यायिक अतिक्रमण (ओवररीच)। न्यायिक समीक्षा एक प्रक्रिया है जिसके माध्यम से सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय कार्यपालिका और विधायिका के कार्यों की समीक्षा या जांच करते हैं, जिससे भारतीय संविधान का पालन होता है।

जबकि जिन तरीकों से न्यायिक समीक्षा का प्रयोग किया जा सकता है, उन पर अगर ध्यान दिया जाए, हमारे विषय में इसे प्राप्त होने वाले भार के कारण, न्यायिक संयम को थोड़ा और उजागर करना आवश्यक है। न्यायिक व्याख्या का एक सिद्धांत, न्यायिक संयम न्यायिक समीक्षा के नाम पर निहित शक्तियों के अत्यधिक उपयोग को प्रतिबंधित करने के लिए न्यायाधीशों को प्रोत्साहित करने वाला माना जाता है। यह अवधारणा इस बात पर जोर देती है कि न्यायपालिका के पास किसी भी मौजूदा कानून को खत्म करने से पहले उचित अंतर्दृष्टि (इनसाइट) होनी चाहिए, सिवाय इस आधार के कि वह संविधान के विपरीत है। यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि न्यायिक रूप से प्रतिबंधित न्यायाधीशों को भी स्टेयर डिसाईसिस का सम्मान करने की आवश्यकता है, जो कि पिछले न्यायाधीशों द्वारा सौंपी गई मिसाल को कायम रखने का सिद्धांत है।

न्यायिक सक्रियता

न्यायिक सक्रियता एक न्यायिक दर्शन है जहां न्यायपालिका को व्यापक जनता के हित में किसी भी कानून के व्यापक निहितार्थ पर विचार करने के लिए अपनी सीमाओं से परे जाना चाहिए और वह जा भी सकती है। इसे कभी-कभी न्यायिक संयम के विपरीत कहा जाता है। न्यायिक सक्रियता या न्यायिक हस्तक्षेप तीन महत्वपूर्ण परिदृश्यों में होता है:

  1. विधायी निर्वात (वैक्यूम): यह आमतौर पर एक निश्चित अपराध के लिए कानून के अभाव में होता है जो पहले ही हो चुका है। जैसा कि भंवरी देवी व अन्य बनाम राजस्थान के मामले में देखा गया। 17 जनवरी, 2002 को, कार्यस्थलों पर महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न को नियंत्रित करने के लिए कोई कानून नहीं था। भारतीय संविधान के गहन मूल्यांकन के बाद, सर्वोच्च न्यायालय ने ऐसे अपराधों को नियंत्रित करने के लिए ‘विशाखा दिशानिर्देश‘ नामक प्रक्रियात्मक दिशानिर्देशों का एक सेट बनाया था। बाद में 2013 में, यौन उत्पीड़न रोकथाम अधिनियम, 2013 (पॉश) अस्तित्व में आया।
  2. कार्यकारी गैर-अनुपालन: हुसैनारा खातून मामले (1979) में, बिहार सरकार ने भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 के उल्लंघन पर ध्यान नहीं दिया, हालांकि इसके बारे में जानकारी मौजूद थी, जिससे कोई कार्रवाई नहीं हो रही थी। भारत के सर्वोच्च न्यायालय के हस्तक्षेप ने उसी में उम्मीद जगाई थी और इसी से अनुच्छेद 21 के तहत त्वरित सुनवाई के अधिकार को मान्यता मिली।
  3. विधायिका और कार्यपालिका दोनों की ओर से: इसके आलोक में, पर्यावरण को नुकसान पहुँचाने वाले, प्रदूषण फैलाने वाले, पटाखों पर प्रतिबंध लगाने और उनके उपयोग के लिए दिशानिर्देश प्रदान करने की सर्वोच्च न्यायालय की पहल उल्लेखनीय है। औद्योगिक (इंडस्ट्रियल) प्रदूषण, वाहन प्रदूषण, थर्मल पावर प्लांट प्रदूषण आदि के संदर्भ में पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने के लिए कई कानून बनाए गए हैं, लेकिन पटाखों से होने वाले पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रित करने के उद्देश्य से जनता के हित में कोई कानून नहीं बनाया गया था। यह सर्वोच्च न्यायालय ही था जिसने दिल्ली में पटाखों के नियमन की दिशा में इतना प्रगतिशील कदम उठाया था।

न्यायिक संयम

न्यायिक सक्रियता के विपरीत माना जाने वाला, न्यायिक संयम न्यायिक व्याख्या के सिद्धांतों में से एक है जो इस बात पर जोर देता है कि न्यायाधीश अपनी शक्ति को सीमित करते हैं। न्यायालयों को यह समझना चाहिए कि नीति और निर्माण और कानून अधिनियमन में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए, बल्कि उनकी व्याख्या करनी चाहिए। तथ्य यह है कि अनुच्छेद 142 के तहत प्रदान की गई सर्वोच्च न्यायालय की इस पूर्ण शक्ति से जुड़े खतरे की एक निश्चित मात्रा को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इसके बजाय यह कहा जा सकता है कि इस शक्ति का प्रयोग असंगत नहीं होना चाहिए। इसलिए चर्चा में न्यायिक संयम का पहलू आता है। यहां, न्यायाधीशों को तीन प्रमुख घटकों के आधार पर निर्णय लेने का प्रयास करना चाहिए:

  1. किसी भी मामले में लिए गए पिछले फैसलों की जांच करना।
  2. संविधान निर्माताओं की मंशा।
  3. न्यायालय को अपने फैसले के आधार पर नई नीति बनाने से खुद को रोकना चाहिए और अपने विशेषज्ञों के लिए नीति तैयार करना छोड़ देना चाहिए।

अनुच्छेद 142 के संबंध में न्यायिक संयम का प्रयोग कैसे किया जा सकता है

अनुच्छेद 142 के संबंध में न्यायिक संयम का प्रयोग कैसे किया जा सकता है, इसका प्रतिबिंब यहां दिया गया है:

  1. अनुच्छेद 142 के भीतर मनमानी:

मनमानापन निर्णय लेने की प्रक्रिया को संदर्भित करता है जो प्रासंगिक विचारों की अनदेखी करते हुए अप्रासंगिक तथ्यों पर आधारित है। हालाँकि इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि न्यायालय की पूर्ण शक्तियों को प्रदान किया गया अलग-अलग प्रतीकवाद उन मामलों में सटीक उपाय प्रदान करने में मददगार साबित हुआ है जहाँ कानून की कमी रही है, जैसे कि बोधिसत्व गौतम बनाम शुभ्रा चक्रवर्ती (1995) में जो उस व्यक्ति के दिल टूटने का वर्णन करता है जिसे कथित रूप से शादी के झूठे वादे से धोखा दिया गया था और संविधान के अनुच्छेद 142 को लागू करके मुआवजा प्रदान किया गया था।

2. ‘पूर्ण न्याय’ की अस्पष्ट परिभाषा:

अनुच्छेद 142 में दिए गए ‘पूर्ण न्याय’ शब्द के साथ बहुत अस्पष्टता है और इसलिए प्रत्येक मामले के तथ्यों और परिस्थितियों के आधार पर व्यक्तिपरक (सब्जेक्टिव) है। शब्दों में इस तरह की मनमानी विवेक के लिए पर्याप्त जगह प्रदान करती है जिससे पूर्ण न्याय के नाम पर सर्वोच्च न्यायालय के हाथों में शक्तियों का दुरुपयोग करने का मार्ग प्रशस्त (पेव) होता है।

3. नियामक ढांचे का अभाव:

ग्रे क्षेत्र छोड़े जाने के कारण न्यायपालिका की कार्रवाई को नियमन के अधीन नहीं किया जा सकता है। सर्वोच्च न्यायालय ने वैकल्पिक नौकरियों के प्रावधान किए बिना दिल्ली के कुछ हिस्सों में ई-रिक्शा के संचालन पर प्रतिबंध लगा दिया था। हालांकि इसे किसी पेशे या व्यापार को जारी रखने के मौलिक अधिकार के उल्लंघन के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है, यह निर्णय वास्तव में अनुच्छेद 142 के तहत शक्ति के दुरुपयोग का प्रतिबिंब है। आगे कोयला ब्लॉक आवंटन मामलों की श्रृंखला में, जबकि केवल संघों को अपने तर्क रखने की अनुमति दी गई थी, अन्य व्यक्तियों और उनके प्रासंगिक साक्ष्य को भारतीय संविधान के अनुच्छेद 142 के प्रयोग में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा नहीं सुना गया था।

निष्कर्ष

हस्तक्षेप के लिए न्यायपालिका की आलोचना की जाती है लेकिन यह उन लोगों को न्याय दिलाने के लिए मौजूद है जिनके लिए न्याय दूर की कौड़ी है। कानून के तहत अदालत में न्याय देना जरूरी नहीं है क्योंकि यह अदालत के बाहर दिया जा सकता है क्योंकि न्याय प्राथमिकता है चाहे वह अदालत के अंदर हो या बाहर। न्यायिक सक्रियता उतनी ही महत्वपूर्ण है जितनी न्यायिक नैतिकता/ न्यायिक संयम, क्योंकि दोनों ही राज्य को बना या बिगाड़ सकते हैं। राज्य के तीन प्रमुख घटकों के बीच शक्तियों का संतुलन बनाए रखना वास्तव में आवश्यक है, किसी भी प्रकार का असंतुलन राज्य को ध्वस्त कर सकता है। एक आम आदमी के लिए कार्यपालिका और विधायिका की तुलना में न्यायपालिका से जुड़ना आसान है, इस प्रकार वह न्यायपालिका चाहेगा जो न्याय सुनिश्चित करने के लिए हर संभव कदम उठाए, बजाय यह दावा करने के कि कानून बनाना उनके काम का हिस्सा नहीं है। यह न्यायपालिका का कर्तव्य है कि वह एक निश्चित सीमा तक अपनी भूमिका निभाए या उससे आगे भी जाए, क्योंकि यह लोग ही हैं जो एक दिन न्याय देने के लिए इसकी प्रशंसा करते हैं और दूसरे दिन किसी भी दिशानिर्देश को लागू करने के लिए आलोचना करते हैं जो उनमें से अधिकांश के पक्ष में नहीं है।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here