ऑनलाइन धोखाधड़ी का विश्लेषण और उसके उपचार

0
476
Online fraud analysis and its remedies

यह लेख लॉसिखो से कॉर्पोरेट लिटिगेशन में डिप्लोमा कर रहे Anantkumar Collins द्वारा लिखा गया है और Shashwat Kaushik द्वारा संपादित किया गया है। इसमें प्रत्येक प्रकार की ऑनलाइन धोखाधड़ी के साथ-साथ इनके उपचारों की विस्तृत व्याख्या भी शामिल है। इस लेख का अनुवाद Shreya Prakash के द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

आदिकाल से ही अपराध पृथ्वी पर हर जगह उपस्थित है और इसने सभी को प्रभावित किया है। अपराध को आम तौर पर एक अवैध गतिविधि समझा जाता है, जिससे कि कोई व्यक्ति अनावश्यक प्रतिशोध या लाभ प्राप्त करना चाहता है। सरकार द्वारा एक अपराध का आरोप लगाया जाता है, और विभिन्न अधिकारियों और अदालतों द्वारा मौजूदा कानून और नियमों के तहत आपराधिक या नागरिक कानून में सजा, जैसे जुर्माना, मुआवजा और सुरक्षा पर फैसला किया जाता है। भारतीय दंड कानून भारतीय दंड संहिता 1860 (आईपीसी), 1860 और प्रक्रियात्मक पहलू दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 द्वारा प्रदान किया जाता है।

धोखाधड़ी का संक्षिप्त इतिहास और परिभाषा

धोखाधड़ी में तथ्यों का गलत प्रतिनिधित्व शामिल है, चाहे वह जानबूझकर महत्वपूर्ण जानकारी को छिपाना हो या कुछ हासिल करने के विशिष्ट उद्देश्य के लिए किसी अन्य पक्ष को गलत बयान प्रदान करना हो जो धोखे के बिना प्रदान नहीं किया जा सकता था। पहला उदाहरण ग्रीस में 300 ईसा पूर्व में खोजा गया था, जब हेगेस्ट्राटोस नाम के एक यूनानी व्यापारी ने एक बड़ी बीमा पॉलिसी खरीदी थी जिसे बॉटमरी के नाम से जाना जाता था। उसने अपने जहाज के एवज में ऋण लिया और उसे ब्याज सहित चुकाने का वादा किया, लेकिन उसने ब्याज सहित पैसे वापस नहीं किए। यह बहुत स्पष्ट और व्यापक रूप से स्वीकार किया गया है कि जो कोई भी अपनी बेईमानी से वित्तीय या अन्यथा-लेकिन कानूनी तौर पर नहीं- लाभ उठाने के लिए किसी अन्य व्यक्ति से झूठ बोलता है, वह बेईमानी से काम कर रहा है। ऑनलाइन धोखाधड़ी में स्पैम, घोटाले, स्पाइवेयर, पहचान की चोरी, फ़िशिंग और इंटरनेट बैंकिंग जैसी धोखाधड़ी शामिल हैं।

अपराध तीन प्रकार के होते हैं: घोर अपराध, दुष्कर्म (मिसडिमीनर) और उल्लंघन। अपराध की प्रकृति और परिस्थितियों के आधार पर प्रत्येक पर अलग-अलग दंड लगाया जाता है। घोर अपराध का मतलब मानव वध (महाअपराध) है और यह आईपीसी के तहत धारा 299 से 302 के अंतर्गत आता है। दुष्कर्म मामूली अपराध हैं जो अक्सर होते रहते हैं, जैसे कि कोई व्यक्ति वैध लाइसेंस के बिना वाहन चला रहा हो। उल्लंघन का तात्पर्य कानून या नियम तोड़ने से है; उदाहरण के लिए, शहर में समय के साथ यातायात उल्लंघन लगातार बढ़े हैं।

सूचना प्रौद्योगिकी के परिणामस्वरूप, एक नए प्रकार का अपराध सामने आया है जिसे ऑनलाइन धोखाधड़ी के रूप में जाना जाता है। ऑनलाइन धोखाधड़ी अब एक वैश्विक चिंता बन गई है। इस तरह की ऑनलाइन धोखाधड़ी किसी को भी प्रभावित कर सकती है। हम एक तकनीकी युग में हैं जिसे 4जी, 5जी और 6जी के नाम से जाना जाता है। हम ऑनलाइन व्यापार करने के लिए कंप्यूटर, लैपटॉप और मोबाइल फोन सहित नवीनतम उपकरणों का उपयोग करते हैं। जनवरी 2023 तक, 5.18 बिलियन लोगों ने इंटरनेट का उपयोग किया, जो दुनिया की 64.6% आबादी का प्रतिनिधित्व करता है। इस कुल में से, 4.76 बिलियन लोग, या दुनिया की 59.4% आबादी, फेसबुक, व्हाट्सएप और इंस्टाग्राम जैसी सोशल मीडिया साइटों का उपयोग करती है। औसतन 100 में से 95 लोग इंटरनेट का उपयोग करते हैं। हर देश में हर दिन बढ़ोतरी देखी जा रही है। भारत में एक अलग कानून है जिसे “साइबर कानून” के नाम से जाना जाता है, जो भारतीय दंड संहिता, 1860 और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 द्वारा शासित होता है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, भारतीय दंड संहिता 1980 और राष्ट्रीय मानक और प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईएसटी) अनुपालन वे कानून हैं जो साइबर सुरक्षा की नींव बनाते हैं। भारत जैसे देशों में, जहां इंटरनेट का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, वहां कई कानून हैं।

ऑनलाइन धोखाधड़ी के प्रकार और कार्यप्रणाली (मोड्स ऑपरेंडी)

ऑनलाइन धोखाधड़ी ने ऑनलाइन अपराध करने के लिए विभिन्न प्रकार की नवीन रणनीतियों और युक्तियों का उपयोग किया है। इसमें मैलवेयर फैलाने के लिए दुर्भावनापूर्ण सॉफ़्टवेयर, ईमेल और त्वरित संदेश सेवाएँ, उपयोगकर्ता डेटा चुराने वाली नकली वेबसाइटें और विस्तृत, व्यापक फ़िशिंग घोटाले शामिल हैं।

फ़िशिंग लिंक

जालसाज (फ्राडस्टर) तृतीय-पक्ष लिंक वेबसाइट बनाते हैं जो मूल वेबसाइटों की तरह दिखती हैं, जैसे बैंक की वेबसाइट, ई-कॉमर्स वेबसाइट, सर्च इंजन आदि। जालसाज आम तौर पर इसे एसएमएस/ ई-मेल/ तत्काल संदेश फैलाते और भेजते हैं। अधिकांश समय, ग्राहक केवल एक नज़र डालकर और विस्तृत यूआरएल की जांच किए बिना लिंक पर क्लिक करके सुरक्षित सूचना दर्ज कर देते हैं। लिंक को वेबसाइटों के प्रामाणिक दिखने वाले नामों के माध्यम से गुप्त रूप से छुपाया जाता है, लेकिन वे वास्तविक नहीं होते हैं, और ग्राहक एक फ़िशिंग वेबसाइट पर पुनर्निर्देशित हो जाते हैं। जब ग्राहक इन वेबसाइटों पर सुरक्षित सूचना दर्ज करते हैं, तो वे सुरक्षित हो जाते हैं और धोखेबाजों द्वारा उपयोग किए जाते हैं।

उपचार

अज्ञात लिंक पर क्लिक न करें और ऐसे संदेशों/ ईमेल को तुरंत हटा दें। साथ ही भविष्य में उन पर क्लिक करने से बचें। जहां और जब आवश्यक हो, विवरणों की जांच और सत्यापन (वेरिफिकेशन) को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

फर्जी कॉल

जालसाज, बैंक/ सरकारी संस्थान/ बीमा एजेंट आदि से फर्जी अधिकारी बनकर फोन करते हैं और निजी जानकारी जैसे नाम, जन्मतिथि, निवास स्थान, आधार कार्ड नंबर आदि प्राप्त कर लेते हैं। वे कभी-कभी एक खाते के ब्लॉकिंग या फ्रीजिंग को रोकने के लिए पीड़ित पर तत्काल विवरण के लिए दबाव डालते हैं। 

उपचार

फर्जी कॉल प्राप्त करने से बचें और उपयोगकर्ता नाम/ पासवर्ड/ कार्ड विवरण/ नाम, जन्म तिथि, पता या आधार नंबर जैसी व्यक्तिगत जानकारी साझा न करें।

ऑनलाइन बिक्री प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करके धोखाधड़ी

जालसाज विक्रेताओं के लिए नकली ऑनलाइन बाज़ार स्थापित करते हैं, ताकि वे ग्राहकों को आकर्षित कर सकें और अपने उत्पाद मुफ़्त में पेश कर सकें। यह पूरी तरह से मुफ़्त है, और इसके परिणामस्वरूप, उच्च स्तरीय धोखाधड़ी की संभावनाएँ हैं।

उपचार

जितना संभव हो सके बचें और ऑनलाइन उत्पादों पर वित्तीय लेनदेन में सावधानी बरतें। याद रखें कि ऑनलाइन कोई भी पैसा प्राप्त करते समय कहीं भी पासवर्ड या पिन की आवश्यकता नहीं होती है। पैसे प्राप्त करने के लिए कभी भी कोई एप्लिकेशन इंस्टॉल न करें।

अज्ञात/ असत्यापित मोबाइल ऐप्स के उपयोग के कारण धोखाधड़ी

एसएमएस, सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म और त्वरित संदेशों के माध्यम से, जालसाज आमतौर पर आपके मोबाइल डिवाइस, लैपटॉप या डेस्कटॉप तक पहुंचने के लिए गुप्त मुखौटे के साथ लिंक वितरित करते हैं। जो कोई भी अज्ञात या असत्यापित ऐप्स डाउनलोड करता है उसे अज्ञात ऐप्स पर भेज दिया जाता है। फिर जालसाज के पास डिवाइस तक पूरी पहुंच हो जाती है।

उपचार

कभी भी अज्ञात/असत्यापित स्रोतों से एप्लिकेशन डाउनलोड न करें।

एटीएम/ डेबिट/ क्रेडिट कार्ड स्किमिंग

यह देखा गया है कि जालसाज आपके कार्ड पिन से जानकारी चुराने के लिए एटीएम में स्किमिंग डिवाइस इंस्टॉल करते हैं। यह जानकारी एटीएम में लगे छोटे से छिपे कैमरे से भी चुराई जाती है। कभी-कभी चोर एटीएम केबिन के बाहर आपके प्रवेश करते ही आपके पिन तक पहुंचने, डुप्लिकेट कार्ड बनाने और नकदी निकालने के लिए इंतजार कर रहे होते हैं।

उपचार

एटीएम केबिन में किसी के रहते हुए कभी भी प्रवेश न करें। पिन डालते समय हमेशा कीपैड को अपने हाथ से ढकें। किसी अनजान व्यक्ति को कार्ड या विवरण न दें और गोपनीय बातें कभी साझा न करें।

जालसाज शेयरिंग ऐप/ रिमोट एक्सेस का उपयोग करते है

जालसाज ठगी करने के लिए अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल करते हैं। जालसाज स्क्रीन-शेयरिंग ऐप्स का उपयोग करके लोगों को बेहकाते हैं, जिसके माध्यम से वे गोपनीय सूचना तक पहुंच प्राप्त करने के लिए मोबाइल/लैपटॉप/कंप्यूटर को देख या नियंत्रित कर सकते हैं। समाप्त होने के बाद, वे आपके इंटरनेट बैंकिंग/ भुगतान ऐप्स का उपयोग करके भुगतान कर सकते हैं।

उपचार

अनजान लोगों के साथ स्क्रीन शेयरिंग सुविधाओं को डाउनलोड या सक्रिय न करें।

सिम स्वैप/ सिम क्लोनिंग

चूँकि अधिकांश खाता विवरण और प्रमाणीकरण आपके पंजीकृत (रजिस्टर्ड) मोबाइल नंबर से जुड़े होते हैं इसलिए जालसाज ऐसे डुप्लिकेट सिम पर प्राप्त ओटीपी का उपयोग करके डिजिटल लेनदेन करने के लिए सिम कार्ड तक पहुंच प्राप्त करने या डुप्लिकेट सिम कार्ड प्राप्त करने का प्रयास करते हैं। जालसाज आम तौर पर टेलीफोन या मोबाइल नेटवर्क कर्मचारी बनकर व्यक्ति को कॉल करते हैं, उनके सिम कार्ड को 3जी, 4जी या 5जी से मुफ्त अपग्रेड करने और अतिरिक्त लाभ प्रदान करने के लिए विवरण मांगते हैं।

उपचार

सिम कार्ड से संबंधित सूचना कभी भी साझा न करें। यदि आपने सामान्य सेटिंग में काफी समय तक अपने फ़ोन के मोबाइल नेटवर्क का उपयोग नहीं किया है, तो आपको तुरंत संदेह हो जाना चाहिए और मोबाइल ऑपरेटर को कॉल करके यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आपका सिम डुप्लिकेट जारी नहीं किया गया है।

विभिन्न साइटों से सूचना चुराकर धोखाधड़ी

यह देखा गया है कि लोग अपने बैंक, बीमा कंपनी, आधार अपडेशन केंद्रों आदि के संपर्क विवरण प्राप्त करने के लिए सर्च इंजन का उपयोग करते हैं और अंततः सर्च इंजन पर प्रदर्शित अज्ञात संपर्क नंबरों पर संपर्क कर सकते हैं। सर्च इंजन पर ये संपर्क विवरण असली और वास्तविक दिखते हैं, लेकिन वास्तव में ये नकली होते हैं और सूचना अपने पीड़ितों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए इस सुविधा का उपयोग करते हैं। एक बार जब व्यक्ति उन्हें कॉल करता है, तो सूचना सत्यापन के लिए आपका विवरण साझा करने के लिए कहते हैं। परिणामस्वरूप, लोग अपने सभी विवरणों को साझा कर देते हैं, और इस तरह धोखाधड़ी होती है।

उपचार

सबसे पहले, उचित बैंकों/ कंपनी कार्यालय में जाएं और उनसे वेबसाइटें प्राप्त करें। सर्च इंजन पर अज्ञात संपर्क विवरण खोजने से बचें।

क्यूआर स्कैन के जरिए घोटाला

जालसाज अक्सर विभिन्न बहानों से ग्राहकों से संपर्क करते हैं और उन्हें भुगतान ऐप्स का उपयोग करके क्यूआर कोड स्कैन करने का झांसा देते हैं। इससे धोखेबाज ग्राहक के खाते से पैसे निकाल सकते हैं।

उपचार

भुगतान ऐप्स का उपयोग करके किसी भी क्यूआर कोड को स्कैन करते समय हमेशा सतर्क रहें। खाते के विवरण के साथ एम्बेडेड क्यूआर कोड याद रखें जो किसी विशेष खाते में धन हस्तांतरित (ट्रांसफर) करते हैं।

सोशल मीडिया के माध्यम से प्रतिरूपण (इमपरसोनेशन) करना

जालसाज फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फर्जी अकाउंट बनाते हैं। वे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते हैं और तत्काल चिकित्सा उद्देश्यों आदि के लिए पैसे मांगते हैं। जालसाज भी समय के साथ विश्वास हासिल कर लेते हैं और बाद में जबरन वसूली या ब्लैकमेल के लिए निजी जानकारी का उपयोग करते हैं।

उपचार

किसी अज्ञात व्यक्ति की फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार न करें। गोपनीय बातें न भेजें; इसके अलावा, जब अज्ञात लोग कॉल करने/ या शारीरिक रूप से मिलने के लिए कहें तो सावधान रहें। यह सुनिश्चित करें कि इस प्रकार की प्रोफ़ाइल पूरी तरह से कपटपूर्ण है।

लॉटरी धोखाधड़ी

सबसे आकर्षक तकनीकों में से एक वह है जब जालसाज एक बड़ी लॉटरी जीतने के बारे में एक ईमेल या संदेश भेजते हैं और धोखाधड़ी द्वारा दिए गए खाते पर कर उद्देश्यों, शिपिंग शुल्क, प्रसंस्करण शुल्क आदि के लिए कुछ पैसे जमा करने के लिए कहते हैं। पीड़ित पिंजरे में फंस सकता है, और धोखेबाज को अवैध रूप से धन प्राप्त हो सकता है।

उपचार

इस प्रकार का मेल या संदेश प्राप्त होने पर किसी भी लुभावने ऑफर का जवाब न दें या भुगतान न करें।

ऑनलाइन नौकरी धोखाधड़ी

बेरोजगारी वास्तविक है। जालसाज बढ़ती बेरोजगारी दर का आसानी से फायदा उठाते हैं। पीड़ित आसानी से जाल में फंस जाते हैं क्योंकि जब गोपनीय मामलों को साझा करने का समय होता है, तो धोखेबाज खाते से पैसे निकालने के लिए साझा सूचना का उपयोग करते हैं।

उपचार

याद रखें, एक वास्तविक नौकरी की पेशकश कभी पैसे नहीं मांगती।

निष्कर्ष

ऑनलाइन धोखाधड़ी ने विभिन्न देशों को विभिन्न तरीकों से प्रभावित किया है। यह सच है कि बैंकिंग प्रणाली किसी भी देश का महत्वपूर्ण हिस्सा होती है। यदि बैंकिंग प्रणाली पंगु (पैरालाइज) हो जाती है, तो पूरी अर्थव्यवस्था बिखर जाती है और लोगों पर असर पड़ता है। चूंकि दुनिया भर में इंटरनेट उपयोगकर्ता बढ़ रहे हैं, खासकर महामारी कोविड-19 के बाद, स्वास्थ्य कारणों से ऑनलाइन काम करना आवश्यक है। इंटरनेट उपयोगकर्ता रॉकेट गति से फैल रहे हैं। और नई तकनीक की सुरक्षा सावधानियों के बारे में भी जानकारी की कमी है, जिसे धोखेबाज आसानी से हासिल कर सकते हैं और लोगों को धोखा दे सकते हैं। हालाँकि, भारत में जागरूकता है, और साथ ही सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 और भारतीय दंड संहिता, 1860 भी हैं। इसके अलावा, उन्हें समय-समय पर अद्यतन (अपडेट) किया गया है।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here