भारतीय संविधान का 35वां संशोधन

0
1408
Constitution of India

यह लेख पटना के चाणक्य नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी के छात्र Gautam Badlani ने लिखा है। यह लेख संविधान (35वां संशोधन) अधिनियम, 1974 से संबंधित प्रावधानों और न्यायिक निर्णयों की जांच करता है। यह लेख अधिनियम की मुख्य विशेषताओं और भारतीय राजनीतिक संस्थानों में सिक्किम के लोगों के प्रतिनिधित्व के लिए बनाए गए विशेष प्रावधानों पर प्रकाश डालता है। इस लेख में 35वें संशोधन के महत्व और उसके परिणाम पर भी प्रकाश डाला गया है। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta द्वारा किया गया है।

परिचय

संविधान (35वां संशोधन) अधिनियम 1974 में संसद द्वारा पारित किया गया था। इस अधिनियम में सिक्किम को एक सहयोगी राज्य के रूप में नामित करने का प्रावधान था, जो भारतीय इतिहास में अभूतपूर्व (अनप्रेसिडेंटेड) था। माना जाता है कि 35वें संशोधन ने सिक्किम को भारतीय संघ में एक पूर्ण राज्य के रूप में प्रवेश का मार्ग प्रशस्त (पेव) किया था। यह लेख संशोधन के ऐतिहासिक कारणों, प्रावधानों और संशोधन की प्रमुख विशेषताओं और उसके बाद की व्याख्या करता है।

भारतीय संविधान के 35वें संशोधन का ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य (पर्सपेक्टिव)

35वें संशोधन से पहले, सिक्किम एक संरक्षित राज्य था, और सिक्किम के लोग भारत के साथ घनिष्ठ संबंध बनाना चाहते थे। 8 मई, 1973 को, सिक्किम चोग्याल, भारत सरकार के प्रतिनिधि (विदेश सचिव, केवल सिंह) और सिक्किम के राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों द्वारा एक त्रिपक्षीय (ट्राईपार्टिएट) समझौता किया गया था। समझौते में यह प्रावधान था कि सिक्किम के लोगों को वयस्क मताधिकार (एडल्ट सफरेज) के आधार पर चुनाव में भाग लेने का अधिकार था और सिक्किम विधानसभा की स्थापना की परिकल्पना (एनविसेज) की गई थी, जिसका कार्यकाल 4 साल का होगा। इसके बाद 1974 में सिक्किम विधानसभा की स्थापना हुई। सभा ने भारत के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने की इच्छा व्यक्त की।

इसके बाद, सिक्किम सरकार विधेयक, 1974 को सिक्किम सरकार ने पूर्ण बहुमत से पारित किया। इस विधेयक में भारत के राजनीतिक संस्थानों में सिक्किम के लोगों की अधिक भागीदारी और प्रतिनिधित्व की परिकल्पना की गई थी। इस प्रकार, सिक्किम सरकार अधिनियम, 1974 को प्रभावी बनाने और भारत के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने के लिए सिक्किम के लोगों की इच्छाओं को बनाए रखने के लिए 35वां संविधान संशोधन अधिनियमित (इनेक्ट) किया गया था।

भारतीय संविधान के 35वें संशोधन की मुख्य विशेषताएं

संशोधन ने संविधान में अनुच्छेद 2A को शामिल किया, जो सिक्किम को संघ के साथ जोड़ने का प्रावधान करता है। इसके अलावा, अधिनियम ने संविधान में अनुसूची 10 को भी सम्मिलित किया था, जिसमें सिक्किम के क्षेत्र और उन शर्तों को निर्धारित किया गया था जिन पर सिक्किम संघ के साथ जुड़ा था।

भारत सरकार की जिम्मेदारियां

भारत सरकार की निम्नलिखित जिम्मेदारियां थीं:

  1. क्षेत्रीय अखंडता (इंटीग्रिटी) की रक्षा के लिए और सिक्किम की रक्षा के लिए।
  2. सिक्किम के राजनीतिक, आर्थिक और वित्तीय बाहरी मामलों का विनियमन (रेगुलेशन) और संचालन।
  3. भारत सरकार रेलवे, टेलीग्राफ, वायरलेस कनेक्शन, एयर नेविगेशन तकनीक, पोस्ट, टेलीफोन और लैंडिंग ग्राउंड के निर्माण और रखरखाव के लिए जिम्मेदार थी।
  4. सिक्किम के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए।
  5. सिक्किम में सांप्रदायिक (कम्यूनल) सद्भाव और प्रभावी प्रशासन सुनिश्चित करने के लिए।
  6. भारत के उच्च शिक्षण संस्थानों में सिक्किम के छात्रों को शैक्षिक अवसर प्रदान करने और उन्हें अन्य नागरिकों की तुलना में भारतीय सार्वजनिक सेवा में रोजगार के समान अवसर प्रदान करने के लिए।
  7. भारतीय राजनीतिक संस्थानों में सिक्किम के लोगों की अधिक से अधिक भागीदारी की सुविधा के लिए।

सिक्किम के लोगों का प्रतिनिधित्व

इस अधिनियम में विधायिका और अन्य राजनीतिक संस्थानों में सिक्किम के लोगों के प्रतिनिधित्व के लिए भी प्रावधान किया गया था। इसमें निम्नलिखित प्रावधान थे:

  • सिक्किम के लोगों को लोकसभा और राज्यसभा में एक-एक सीट आवंटित (अलॉट) की गई थी।
  • राज्यसभा के प्रतिनिधि का चुनाव सिक्किम विधानसभा द्वारा किया जाना था और लोकसभा के प्रतिनिधि को सिक्किम के लोगों द्वारा सीधे चुना जाना था। सिक्किम को एक संसदीय क्षेत्र माना जाना था।
  • संसद में सिक्किम के प्रतिनिधि के रूप में चुने जाने के लिए आवश्यक योग्यताएं सिक्किम विधानसभा के सदस्य होने के लिए आवश्यक योग्यताएं थीं।
  • लोकसभा के साथ-साथ राज्यसभा के सिक्किम प्रतिनिधियों को राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति से संबंधित लोगों के अलावा अन्य सभी मामलों में संबंधित सदनों के सदस्य माना जाता था।
  • सिक्किम के प्रतिनिधियों की अयोग्यता से संबंधित प्रश्न राष्ट्रपति को भेजे जाने थे और राष्ट्रपति को चुनाव आयोग से परामर्श करने के बाद इस मुद्दे पर निर्णय लेना था।

भारतीय संविधान के 35वें संशोधन के बाद

35वें संविधान संशोधन को 36वें संविधान संशोधन, 1975 द्वारा निरस्त कर दिया गया था, जिसने सिक्किम को एक पूर्ण राज्य का दर्जा प्रदान किया और सिक्किम का नाम भारतीय संविधान की पहली अनुसूची में एक राज्य के रूप में शामिल किया था। भारतीय संविधान में 36वें संशोधन के माध्यम से सिक्किम भारत का 22वां राज्य बना। इस संशोधन ने 10वीं अनुसूची को हटा दिया। 36वें संविधान संशोधन को संविधान के अनुच्छेद 368 के अनुसार राज्यों द्वारा अनुमोदित (रेटीफाई) किया गया और अनुच्छेद 80, अनुच्छेद 81, पहली अनुसूची और चौथी अनुसूची में संशोधन किया गया था।

सिक्किम से संबंधित विशेष प्रावधान

36वें संशोधन में अनुच्छेद 371-F भी शामिल किया गया जो सिक्किम से संबंधित कुछ विशेष प्रावधान प्रदान करता है। ये विशेष प्रावधान निम्नलिखित हैं:

  1. सिक्किम राज्य की विधानसभा में न्यूनतम 30 सदस्य होते हैं और भारतीय संविधान के तहत प्रदान की गई राज्य विधानसभा के समान शक्तियां और कार्य होते हैं।
  2. संशोधन ने संसद को सिक्किम विधान सभा के लिए सिक्किम के विभिन्न वर्गों से संबंधित सदस्यों के चुनाव के लिए प्रावधान करने का भी अधिकार दिया।
  3. सिक्किम के राज्यपाल सिक्किम की आबादी के विभिन्न वर्गों की शांति और आर्थिक और सामाजिक उन्नति सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार थे।
  4. राष्ट्रपति को भारतीय संविधान के प्रावधानों के अनुरूप लाने के लिए संशोधन से पहले सिक्किम के कानूनों को निरस्त करने या उनमें संशोधन करने का अधिकार था। राष्ट्रपति के ऐसे निर्णय को किसी भी न्यायालय में चुनौती नहीं दी जा सकती थी। राष्ट्रपति की यह शक्ति नियत तिथि से 2 वर्ष बाद समाप्त होनी थी।

ऐतिहासिक निर्णय

  1. 35वें और 36वें संशोधन के महत्व को सर्वोच्च न्यायालय ने सिक्किम राज्य बनाम सुरेंद्र प्रसाद शर्मा (1994) के मामले में संक्षेप में प्रस्तुत किया था। न्यायालय ने कहा कि 36वां संशोधन 14 अप्रैल, 1975 को हुए विशेष जनमत सर्वेक्षण (ओपिनियन पोल) पर आधारित था और विशेष सर्वेक्षण के आधार पर सिक्किम के मुख्यमंत्री ने सिक्किम को भारत में एक राज्य के रूप में स्वीकार करने के लिए भारत सरकार से अनुरोध किया था। बाद में, प्रविष्टि (एंट्री) 22 में सिक्किम का नाम भारत के 22वें राज्य के रूप में जोड़ा गया।
  2. निर्मला एल मेहता बनाम ए बालासुब्रमण्यम (2004) के मामले में, याचिकाकर्ता ने सिक्किम लॉटरी जीती थी और पुरस्कार राशि से पहले सिक्किम कर कानूनों के अनुसार उसका आयकर काट लिया गया था या लॉटरी उसे जमा कर दी गई थी। हालांकि, जब उसने अपनी आयकर रिटर्न दाखिल करते समय कटौती के रूप में कर राशि का दावा किया, तो निर्धारण अधिकारी ने इस आधार पर अनुरोध पर विचार करने से इनकार कर दिया कि राशि का भुगतान न तो भारतीय खजाने को किया गया था और न ही आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 199 के अनुसार कर की कटौती की गई थी। याचिकाकर्ता ने तब आयकर आयुक्त से संपर्क किया, जिन्होंने सिक्किम कानूनों के तहत कर के रूप में कटौती की गई राशि को लॉटरी की कुल राशि से बाहर करने की राहत प्रदान की, जिस पर आयकर रिटर्न की गणना करते समय विचार किया जाना था।

न्यायालय ने सिक्किम को भारतीय राज्य के रूप में शामिल करने के संबंध में निम्नलिखित टिप्पणियां कीं:

  • ब्रिटिश शासन के दौरान, सिक्किम पर चोग्याल नामक एक वंशानुगत सम्राट का शासन था, जिसने अंग्रेजों की सर्वोच्चता को स्वीकार किया था।
  • बाद में, जैसे ही भारत ने स्वतंत्रता प्राप्त की, सिक्किम, भारत सरकार और सिक्किम के बीच एक संधि के तहत भारत का एक संरक्षित राज्य बन गया, और सिक्किम के रक्षा, संचार (कम्यूनिकेशन) और बाहरी मामलों से संबंधित मामलों का प्रबंधन भारत द्वारा किया जाना था। भारत में विलय (मर्जर) के पक्ष में व्यापक जनमत के बावजूद, सिक्किम अपनी रियासत और सामरिक (स्ट्रेटेजिक) भौगोलिक स्थिति के कारण पूर्ण राज्य नहीं बन सका।
  • 1974 में राजशाही (मोनार्की) समाप्त हो गई तब सिक्किम विधानसभा ने सिक्किम में पूर्ण सरकार स्थापित करने और भारत के साथ घनिष्ठ संबंध स्थापित करने का निर्णय लिया।
  • सिक्किम विधानसभा ने तब सिक्किम सरकार अधिनियम पारित किया और भारत सरकार ने सिक्किम प्रस्ताव को प्रभावी करने के लिए 35 वां संवैधानिक संशोधन अधिनियमित किया।
  • अदालत ने कहा कि 35वें संवैधानिक संशोधन ने एक सहयोगी राज्य की अवधारणा पेश की और प्रकृति में अभिनव (इनोवेटिव) था।
  • अदालत ने तब नोट किया कि चूंकि चोग्याल ने 35वें संवैधानिक संशोधन का विरोध किया था और अंतरराष्ट्रीय हस्तक्षेप की मांग की थी, सिक्किम विधानसभा ने 1975 में एक प्रस्ताव पारित किया था जिसमें चोग्याल के कार्यों को सिक्किम के लोगों की लोकतांत्रिक इच्छाओं के प्रतिकूल घोषित किया गया था और चोग्याल संस्था को समाप्त कर दिया गया था 

न्यायालय ने आगे कहा कि अनुच्छेद 371F का सम्मिलन आवश्यक था क्योंकि सिक्किम में कानून, भारत का हिस्सा बनने से पहले, एक राजशाही के तहत एक समाज के लिए बनाए गए थे और भारतीय संविधान के अनुरूप नहीं थे, जो एक स्वतंत्र समाज का प्रावधान करता है। इस प्रकार, सिक्किम के लोगों को दिए गए आश्वासनों को पूरा करने के लिए विशेष प्रावधान करना आवश्यक था। अनुच्छेद 371F ने सुनिश्चित किया कि सिक्किम का एक राजशाही से एक लोकतांत्रिक मुक्त समाज में सुचारू रूप से संक्रमण हो।

अदालत ने तब माना कि याचिकाकर्ता ने भारत में लॉटरी जीती थी और एक भारतीय राज्य में लागू एक विशेष कराधान कानून के अनुसार कर का भुगतान किया था। इसके अलावा, आयकर अधिनियम, 1961, सिक्किम में उस समय लागू नहीं था जब याचिकाकर्ता ने लॉटरी जीती थी। न्यायालय ने याचिका की अनुमति देते हुए कहा कि आयकर अधिनियम सिक्किम में अर्जित आय पर उस समय लागू नहीं किया जा सकता जब अधिनियम सिक्किम पर लागू नहीं था।

3. आर.सी. पौडयाल बनाम भारत संघ (1993), के ऐतिहासिक मामले में सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष यह प्रश्न उठा कि क्या अनुच्छेद 371F बुनियादी लोकतंत्र सिद्धांतों का उल्लंघन है। याचिकाकर्ता ने अनुच्छेद 371F के प्रावधानों के अनुसार सिक्किम विधानसभा में प्रदान की गई सीटों के आरक्षण को चुनौती दी थी।

याचिकाकर्ता ने तर्क दिया कि आरक्षण अनुच्छेद 14 का उल्लंघन है और अनुच्छेद 371F भारतीय संविधान के लोकतांत्रिक और गणतंत्रीय सिद्धांतों का उल्लंघन है। इसके अलावा, चूंकि आरक्षण धर्म के आधार पर था, इसने संविधान के अनुच्छेद 15 का भी उल्लंघन किया था।

राज्य ने तर्क दिया कि संविधान के अनुच्छेद 2 के अनुसार बनाए गए एक नए राज्य के प्रवेश के नियमों और शर्तों को प्रदान करने वाला कानून न्यायोचित (जस्टिशिएबल) नहीं था और इसलिए याचिका को बनाए रखने योग्य नहीं था। इसके अलावा, याचिकाकर्ताओं ने दलील दी कि अनुच्छेद 371F ने संसद को सिक्किम विधानसभा में कम प्रतिनिधित्व वाले समुदायों के लिए आरक्षण करने का अधिकार दिया, भले ही ऐसा आरक्षण संवैधानिक प्रावधानों के उल्लंघन में हो। अनुच्छेद 371F विशेष रूप से संसद के निर्णय की न्यायिक समीक्षा (रिव्यू) पर रोक लगाता है।

अदालत ने माना कि याचिका विचारणीय (मेंटेनेबल) थी और नए राज्यों के प्रवेश की शर्तों के संबंध में बनाए गए कानून न्यायोचित थे। भले ही अनुच्छेद 2 के तहत विधायिका को प्रदत्त शक्तियाँ बहुत व्यापक हैं, यह नहीं माना जा सकता है कि संसद को निरंकुश शक्ति प्राप्त है और इसे न्यायिक जांच के अधीन नहीं किया जा सकता है। नियम और शर्तें भारतीय संविधान के मूल सिद्धांतों का उल्लंघन नहीं कर सकती हैं।

अदालत ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 2 और अनुच्छेद 371F को इस तरह से सामंजस्यपूर्ण (हार्मोनियस) ढंग से पढ़ने की जरूरत है कि वे संविधान के प्रावधानों के साथ असंगत नहीं हो।

न्यायालय ने माना कि अनुच्छेद 371F वैध था क्योंकि संविधान मतदाताओं की पूर्ण गणितीय समानता को अनिवार्य नहीं करता है और भले ही इसके परिणामस्वरूप कोई भेदभाव हुआ हो, तो सिक्किम राज्य की ऐतिहासिक वास्तविकताओं को देखते हुए इस तरह के भेदभाव को उचित ठहराया गया था। आरक्षण आवश्यक था क्योंकि लाभार्थी समुदाय अल्पसंख्यक (माइनॉरिटी) समूह थे जिन्हें इस तरह के आरक्षण के अभाव में राज्य विधानसभा में पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं मिलेगा।

निष्कर्ष

35वां संविधान संशोधन एक ऐतिहासिक और अभूतपूर्व संशोधन है जिसने एक सहयोगी राज्य का दर्जा प्रदान किया और अंततः सिक्किम को भारत के 22वें राज्य के रूप में शामिल करने का मार्ग प्रशस्त किया। इसने सिक्किम को भारत के साथ घनिष्ठ संबंध बनाने में मदद की, और यह 1975 में सिक्किम के मुख्यमंत्री द्वारा आयोजित जनमत सर्वेक्षण के परिणाम में स्पष्ट था। भारत के विधायी उपकरणों में सिक्किम को प्रदान किए गए प्रतिनिधित्व ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और 36 वें संवैधानिक संशोधन के अधिनियमित होने का नेतृत्व किया।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न 

  • भारत में कितने संवैधानिक संशोधन हुए हैं और नवीनतम संशोधन कौन सा था?

भारतीय संविधान में 105 संशोधन हुए हैं। नवीनतम संशोधन वर्ष 2021 में किया गया था, जिसने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़े समुदायों की सूची को पहचानने और बनाए रखने के अधिकार को बहाल (रिस्टोर) कर दिया था।

  • सिक्किम के पहले मुख्यमंत्री का नाम बताइए।

काजी लहेंदुप दोरजी सिक्किम के पहले मुख्यमंत्री थे।

  • सिक्किम राज्य में उपयोग की जाने वाली आधिकारिक भाषाएं कौन सी हैं?

सिक्किम में मुख्यतः चार भाषाएँ: सिक्किमी (भूटिया), अंग्रेजी, लेप्चा और नेपाली बोली जाती हैं।

संदर्भ

  • सिक्किम राज्य बनाम सुरेंद्र प्रसाद शर्मा, 1994 एससीसी (5) 282
  • आर.सी. पौडयाल बनाम भारत संघ, 1993 एआईआर 1804

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here