एक टॉर्ट के आवश्यक तत्व क्या होते हैं

0
4860
Law of Torts
Image Source- https://rb.gy/2ite3u

यह लेख नोएडा के सिम्बायोसिस लॉ स्कूल की छात्रा Diva Rai ने लिखा है। इस लेख में वह टॉर्ट्स के तत्वों/घटकों (कांस्टीट्यूएंट), टॉर्शियस दायित्व का समीकरण (लाइबिलिटी इक्वेशन) और इससे संबंधित मामलों पर चर्चा करती है। इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja के द्वारा किया गया है।

टॉर्शियस दायित्व का समीकरण

टॉर्ट एक व्यक्ति के निजी या नागरिक अधिकारों का उल्लंघन है और पीड़ित पक्ष के द्वारा मुकदमा दायर किया जाना चाहिए।

टॉर्शियस दायित्व = देखभाल का कर्तव्य (ड्यूटी ऑफ़ केयर) + कर्तव्य का उल्लंघन + क्षति (कारण और दूरदर्शिता (रिमोटनेस))

  • दावेदार (क्लेमेंट) को देखभाल का कर्तव्य प्रतिवादी द्वारा दिया जाता है।
  • किसी दिए गए मामले में देखभाल के मानक (स्टैंडर्ड ऑफ़ केयर) की आवश्यकता होती है और यदि प्रतिवादी द्वारा इसे पूरा नहीं किया जाता है, तो इसे विघटित (ब्रोकन) हुआ माना जाता है।
  • उल्लंघन के परिणामस्वरूप वादी को हानि होनी चाहिए।

टॉर्ट्स के घटक

कोई भी निहित कानूनी अधिकार एक कानूनी कर्तव्य बनाता है। कानूनी अधिकार वे अधिकार होते हैं जो कानून द्वारा किसी विशेष पक्ष या व्यक्ति को प्रदान किए जाते हैं। एक टॉर्ट का गठन करने के लिए, निम्नलिखित तीन शर्तों को पूरा करना होता है:

  1. प्रतिवादी ने कुछ कार्य या चूक की होगी।
  2. कार्य या चूक के परिणामस्वरूप कानूनी नुकसान (हानि), यानी दावेदार के कानूनी अधिकार का उल्लंघन होना चाहिए।
  3. गलत कार्य इस तरह का होना चाहिए कि इसके बदले में कोई कानूनी राहत दी जा सके।

टॉर्ट का पहला घटक

प्रतिवादी की ओर से कोई चूक या कुछ कार्य होना चाहिए।

  • कोई कार्य या चूक गलत तब होगी यदि उत्तरदायी ठहराया जाने वाला व्यक्ति कानूनी कर्तव्य के अधीन था।
  • प्रासंगिक कार्य या चूक को कानून द्वारा मान्यता दी जानी चाहिए। यह नैतिक या सामाजिक गलती नहीं होनी चाहिए।
  • इसे जानबूझकर या लापरवाही से किया जाना चाहिए।

उदाहरण: अतिचार (ट्रेसपास) करना या कोई ऐसा बयान प्रकाशित करना जो किसी अन्य व्यक्ति को बदनाम करता है या गलती से किसी अन्य व्यक्ति को हिरासत में लेने के कार्य को, अतिचार, मानहानि या झूठे कारावास के लिए उत्तरदायी ठहराया जा सकता है।

ग्लासगो कॉर्पोरेशन बनाम टेलर

इस मामले में, एक कंपनी बच्चों को जहरीले पेड़ से दूर रखने के लिए उचित बाड़ (फेंस) लगाने में विफल रहती है और एक बच्चा जहरीले पेड़ से फल तोड़कर खा लेता है जिसके परिणामस्वरूप वह मर जाता है। इसलिए इस चूक के लिए कंपनी जिम्मेदार है।

किए गए कार्य की गलती सुनिश्चित करने के लिए परीक्षण

दूसरों के कानूनी अधिकार बुरी तरह से प्रभावित नहीं होने चाहिए। इसलिए निजी अधिकारों के सभी उल्लंघन अदालत में लागू करने योग्य हैं, जिसका अर्थ है कि उल्लंघन को साबित करने के लिए किसी सबूत की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, सार्वजनिक अधिकारों का उल्लंघन तब तक नहीं होता जब तक कि शिकायतकर्ता को नुकसान होने के साथ साथ जनता को भी पर्याप्त नुकसान न हुआ हो।

  • निजी अधिकार- पूरी दुनिया को छोड़कर किसी विशेष व्यक्ति को दिए गए सभी अधिकार। जैसे: संपत्ति का अधिकार, शरीर की सुरक्षा का अधिकार, प्रतिष्ठा (रेप्यूटेशन) का अधिकार आदि।
  • सार्वजनिक अधिकार- सामान्य रूप से समाज के सदस्यों से संबंधित अधिकार।

दिल्ली नगर निगम बनाम सुभगवंती के मामले में, उत्तरदाताओं ने तीन लोगों के वारिस के रूप में नुकसान के लिए तीन मुकदमे दायर किए, जो दिल्ली नगर समिति के घंटाघर के गिर जाने के परिणामस्वरूप मारे गए थे। निचली अदालत ने माना कि इमारतों की उचित देखभाल करना नगर समिति का कर्तव्य था ताकि जो लोग राजमार्ग को एक अधिकार के रूप में इस्तेमाल कर रहे है उन्हे खतरा न हो।

यह कहा गया था की, “यह सच है कि सामान्य नियम यह है कि वादी को लापरवाही साबित करनी चाहिए, न कि प्रतिवादी को की वह इसे झूठा ठहराए। लेकिन इस नियम का एक अपवाद है जो उस स्थिति में लागू होता है जब नुकसान का कारण बनने वाली चीज के आसपास की परिस्थितियां विशेष रूप से प्रतिवादी या उसके नौकर के नियंत्रण या प्रबंधन (मैनेजमेंट) में होती हैं और घटना ऐसी होती है जो सामान्य क्रम में प्रतिवादी की ओर से लापरवाही के बिना नहीं होती है”।

टॉर्ट का दूसरा घटक

किसी कार्य या चूक के परिणामस्वरूप कानूनी क्षति (हानि) होनी चाहिए। “क्षति” का अर्थ है गलत कार्य या चूक के परिणामस्वरूप किसी और को हुई या अनुमानित हानि या चोट। टॉर्ट के सभी मामलों में, शिकायतकर्ता को अनिवार्य रूप से यह साबित करना होता है कि प्रतिवादी के कार्य या चूक के परिणामस्वरूप उसे कानूनी क्षति हुई है। कानूनी क्षति तभी संभव है जब शिकायतकर्ता के कानूनी अधिकार का उल्लंघन किया गया हो। यदि किसी कानूनी अधिकार का उल्लंघन नहीं किया जाता है, तो टॉर्ट के तहत कोई कार्रवाई या हर्जाना संभव नहीं है। मैक्सिम “डैमनम साइन इंजुरिया” इस स्थिति को व्यक्त करता है। क्षति अनुमान के दृष्टिकोण से, अधिकारों को दो श्रेणियों में बांटा गया है:

पूर्ण

यदि एक पूर्ण अधिकार का उल्लंघन किया जाता है, तो कानून निश्चित रूप से क्षति को मानता है, भले ही गलत करने वाले को धन की कोई हानि न हुई हो। पूर्ण कानून का उल्लंघन अपने आप में लागू करने योग्य है, यानी बिना किसी क्षति के सबूत के। अनुमानित क्षति को कानूनी क्षति कहा जाता है। उदाहरण: भूमि के उल्लंघन का अधिकार कार्रवाई योग्य है, भले ही उल्लंघन से कोई नुकसान न हुआ हो।

योग्य

योग्य अधिकारों के मामले में क्षति का कोई अनुमान नहीं होता है, और ऐसे अधिकारों के उल्लंघन को केवल क्षति के प्रमाण के आधार पर ही लागू किया जा सकता है।

उदाहरण: यदि कोई मकान मालिक ऐसा करने के अधिकार के बिना पट्टे (लीज) पर दी गई संपत्ति में सुधार करता है, तो मकान मालिक क्षति के लिए उत्तरदायी होता है, भले ही संपत्ति में सुधार किया जा सके और परिवर्तनों से अधिक मूल्यवान बनाया जा सके।

इंजुरिया साइन डैमनम

  • इंजुरिय का अर्थ है कानून द्वारा शिकायतकर्ता को दिए गए अधिकार का उल्लंघन या शिकायतकर्ता के अधिकार के साथ अनधिकृत हस्तक्षेप (अनऑथराइज्ड इंटरफेरेंस), चाहे वह कितना ही मामूली क्यों न हो।
  • डैमनम का अर्थ है पर्याप्त धन, आराम, स्वास्थ्य, हानि या क्षति।
  • साइन का अर्थ है बिना।

इस प्रकार, इंजुरिया साइन डैमनम का अर्थ है वादी को कोई नुकसान, हानि या क्षति पहुंचाए बिना, कानून का उल्लंघन करना।

एशबी बनाम व्हाइट के मामले में, शिकायतकर्ता एक योग्य मतदाता था। प्रतिवादी, एक रिटर्निंग अधिकारी ने शिकायतकर्ता का मत लेने से गलत तरीके से इनकार कर दिया। वादी को कोई नुकसान नहीं हुआ क्योंकि जिस उम्मीदवार को वह मत देना चाहता था, वह चुनाव जीत गया। राजा की पीठ के न्यायालय ने बहुमत से दावे को खारिज कर दिया।

मुख्य न्यायाधीश होल्ट ने असहमति व्यक्त की: “निश्चित रूप से हर क्षति के कारण एक नुकसान होता है, हालांकि इसके लिए दूसरे पक्ष को कुछ भी खर्च नहीं करना पड़ता है, और इसके विपरीत साबित करना असंभव है; एक क्षति केवल आर्थिक ही नहीं होती है, लेकिन क्षति के कारण एक नुकसान होता है, जहां एक व्यक्ति को उसके अधिकारों से बाधित किया जाता है। ”

हाउस ऑफ लॉर्ड्स में अपील करने पर, बहुमत ने मुख्य न्यायाधीश होल्ट की असहमति को बरकरार रखा और प्रतिवादी को उत्तरदायी ठहराया गया था।

भीम सिंह बनाम स्टेट ऑफ जम्मू और कश्मीर के मामले में, याचिकाकर्ता, जम्मू और कश्मीर के एम.एल.ए. को, विधानसभा के सत्र (सेशन) में भाग लेने के दौरान पुलिस द्वारा गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया था। इसके अलावा, उन्हें मजिस्ट्रेट के समक्ष आवश्यक अवधि के भीतर पेश नहीं किया गया था। जिसके परिणामस्वरूप, उन्हें विधानसभा के सत्र में भाग लेने के उनके संवैधानिक अधिकार से वंचित कर दिया गया था। संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत प्रदान किए गए व्यक्तिगत स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार का उल्लंघन किया गया था। जब तक सर्वोच्च न्यायालय ने याचिका पर फैसला सुनाया, तब तक भीम सिंह को रिहा कर दिया गया था, लेकिन अनुकरणीय (एक्सेंप्लरी) हर्जाना 50,000 रूपये परिणामी राहत के रूप में दिए गए थे।

मार्जेट्टी बनाम विलियम्स के मामले में, वादी (मार्जेट्टी) का प्रतिवादी के बैंक में एक खाता था। हालांकि वादी के खाते में पर्याप्त धन था, लेकिन जब वादी ने चेक के माध्यम से कुछ पैसे निकालने का प्रयास किया, तो उसे ऐसा करने की अनुमति नहीं थी और बैंक के अधिकारियों ने उनके इस कार्य के लिए पर्याप्त तर्क भी नहीं दिया।

शिकायतकर्ता ने चेक का भुगतान करने से इनकार करने वाले बैंकर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। अदालत ने प्रतिवादी को उसके पैसे वापस लेने में सक्षम नहीं होने के लिए उत्तरदायी ठहराया था। अदालत ने माना कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि ग्राहक को कोई वास्तविक नुकसान या क्षति हुई है।

डैमनम साइन इंजुरिया

  • डैमनम का अर्थ है पर्याप्त क्षति, हानि या धन, आराम, स्वास्थ्य या इस तरह की क्षति।
  • साइन का अर्थ है बिना।
  • इंजुरिया का अर्थ है वादी को कानून द्वारा प्रदान किए गए अधिकार का उल्लंघन या वादी के अधिकार के साथ अनाधिकृत हस्तक्षेप, चाहे यह किसी भी स्तर पर हो।

इस प्रकार, डैमनम साइन इंजुरिया का अर्थ है क्षति, जो वादी के वैध अधिकार के साथ अनधिकृत हस्तक्षेप के बिना है।

ग्लूसेस्टर ग्रामर स्कूल केस– कुछ विवाद के कारण, प्रतिवादी, जो एक स्कूल मास्टर थे, उन्होने वादी के लिए एक प्रतिद्वंद्वी (राइवल) स्कूल की स्थापना की। प्रतिस्पर्धा (कंपटीशन) के कारण वादी को अपनी फीस कम करनी पड़ी। इसलिए उसे हुए नुकसान के मुआवजे का दावा किया गया था। यह माना गया कि शिकायतकर्ताओं को हुए नुकसान के लिए कोई हर्जाना नहीं दिया जा सकता है।

मुगल स्टीमशिप कंपनी बनाम मैकग्रेगर गो एंड कंपनी – कई स्टीमशिप कंपनियों ने संयुक्त रूप से कम भाड़ा देकर वादी को, चाय ले जाने वाले व्यापार से निकाल दिया। हाउस ऑफ लॉर्ड्स ने माना कि शिकायतकर्ता के पास कार्रवाई का कोई कारण नहीं था क्योंकि प्रतिवादियों ने अपने व्यापार की रक्षा और विस्तार करने और अपने मुनाफे को बढ़ाने के लिए कानूनी रूप से काम किया था।

एक्टन बनाम ब्लंडेल – इस मामले में, सामान्य तरीके से, प्रतिवादी (एक जमींदार) अपने क्षेत्र में खनन (माइनिंग) कार्य करता था। अंत में उसने दूसरे मालिक (वादी) की जमीन से पानी निकाला, जिसके माध्यम से पानी एक भूमिगत मार्ग में उसके कुएं में चला गया। यह फैसला सुनाया गया था कि प्रतिवादी को वादी को किसी भी नुकसान का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं थी क्योंकि प्रतिवादी वादी के अधिकार के किसी भी उल्लंघन में शामिल नहीं था और प्रतिवादी अपने खनन के उद्देश्य के लिए पानी का उपयोग करने के लिए पूरी तरह से हकदार था।

मेयर एंड कंपनी ऑफ़ ब्रैडफोर्ड बनाम पिकल्स – ब्रैडफोर्ड कॉर्पोरेशन ने अपने कुएं से पानी उपलब्ध कराया। बगल की भूमि प्रतिवादी (पिकल्स) की थी, जहां से ब्रैडफोर्ड कॉर्पोरेशन ने पानी की आपूर्ति (सप्लाई) की और एक कुआं खोदा। ब्रैडफोर्ड कॉरपोरेशन ने तर्क दिया कि प्रतिवादी ने अपनी भूमि में कुआं खोदा, जिससे निगम की भूमिगत जल आपूर्ति कम हो गई। इसके कारण उसे एक कॉर्पोरेट मौद्रिक (मॉनेटरी) नुकसान हुआ था क्योंकि निगम के अधिकार क्षेत्र में रहने वाले लोगों के पास निर्वहन के लिए पर्याप्त पानी की आपूर्ति नहीं थी। ब्रैडफोर्ड कॉर्पोरेशन ने पिकल्स पर हर्जाने का मुकदमा दायर किया।

यह फैसला सुनाया गया था कि प्रतिवादी उत्तरदायी नहीं है क्योंकि प्रतिवादी का कार्य गैरकानूनी नहीं था क्योंकि उसने कानून का उल्लंघन नहीं किया था।

टॉर्ट का तीसरा घटक

गलत कार्य या चूक इस प्रकार की होती है कि कानूनी उपाय खोजा जा सकता है। कानूनी उपाय टॉर्ट की कार्रवाई के लिए तीसरा आवश्यक उपाय है। टॉर्ट में, गलत काम को गलत की श्रेणी में आना चाहिए जिसके लिए नागरिक क्षति कार्रवाई का उपाय दिया जाता है। नागरिक क्षति एक टॉर्ट है, लेकिन सभी नागरिक क्षति टॉर्ट्स नहीं हैं। टॉर्ट  के लिए आवश्यक उपाय नुकसान के लिए एक कार्रवाई है, लेकिन अन्य उपाय भी प्राप्त किए जा सकते हैं, उदाहरण के लिए, कुछ मामलों में गलत होने के अलावा या शिकायतकर्ता की खुद के कार्य के लिए अदालत में जाए बिना, यानी स्वयं सहायता है।

यूबी जस इबी रेमेडियम

टॉर्ट कानून इस कहावत से विकसित हुआ है “यूबी जस इबी रेमेडियम,” यानी हर गलत के लिए, कानून एक उपाय प्रदान करता है।

एशबी बनाम व्हाइट के मामले में मुख्य न्यायाधीश होल्ट, ने कहा कि “यदि वादी के पास अधिकार है तो उसके पास इसे सही ठहराने और बनाए रखने के लिए एक साधन होना चाहिए, और उसके पास एक उपाय भी होना चाहिए अगर वह इसका आनंद लेने के अभ्यास में पीड़ित होता है और वास्तव में यह कल्पना करना व्यर्थ है कि बिना किसी उपाय के अधिकार की कमी और उपाय की कमी पारस्परिक (रेसिप्रोकल) है”।

निष्कर्ष

टॉर्ट कानून को “उचित आचरण का पालन करने और एक दूसरे के अधिकारों और हितों का सम्मान करने के लिए एक उपकरण” के रूप में बनाया गया है। यह लोगों के हितों की रक्षा करके और ऐसी परिस्थितियाँ प्रदान करके किया जाता है जहाँ एक व्यक्ति जिसके संरक्षित हित का उल्लंघन होता है, वह उस व्यक्ति से मुआवजे की वसूली कर सकता है जिसने उसका उल्लंघन किया है।

तदनुसार, यह निहित है कि टॉर्ट्स के तीन घटक हैं:

  • गलत कार्य: एक व्यक्ति, अर्थात प्रतिवादी, को एक गलत कार्य करना चाहिए।
  • कानूनी क्षति: गलत काम करने से किसी व्यक्ति को कानूनी नुकसान होना चाहिए, यानी शिकायतकर्ता को।
  • कानूनी उपाय: गलत काम इस तरह का होना चाहिए कि हर्जाने के रूप में कानूनी उपाय को उत्पन्न करे।

संदर्भ

  • [1922] 1 AC 44
  • AIR 1966 SC 1750
  • (1703) 2 Ld. Raym. 938
  • AIR 1986 SC 494
  • (1830) 1 B & Ad 415
  • (1410) Y.B. Hill 11 Hen, 4 of 47, P.21, 36
  • (1893) A.C. 25
  • (1843)12 M & W 324
  • (1895) AC 587

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here