संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद

0
3451

यह लेख एमिटी लॉ स्कूल, नोएडा की छात्रा Priyal Jain द्वारा लिखा गया है। इस लेख का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूनाइटेड नेशंस ह्यूमन राइट्स काउंसिल) की अवधारणा और उससे संबंधित अन्य प्रासंगिक पहलुओं की व्याख्या करना है। इस लेख का अनुवाद Archana Chaudhary द्वारा किया गया है।

परिचय 

एक मानवाधिकार परिषद अंतर-सरकारी निकाय (इंटर गवर्नमेंटल बॉडी) है, अर्थात एक निकाय जो विभिन्न राष्ट्रों की दो या दो से अधिक सरकारों के बीच मौजूद है, और यह दिए गए एक विशिष्ट एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए संयुक्त राष्ट्र (यूएन) के भीतर कई अलग-अलग अंगों में से एक है। मानवाधिकार परिषद दुनिया भर के लोगों के मानवाधिकारों के संरक्षण (सेफगार्ड) और सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है। यह उन स्थितियों में उचित और आवश्यक कार्रवाई करने की जिम्मेदारी रखता है जहां मानवाधिकारों का उल्लंघन होता है। यह दुनिया भर में मानवाधिकारों के उल्लंघन के संबंध में अपनी राय देकर विभिन्न समस्याओं का समाधान भी करता है। 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद क्या है?

परिषद का मुख्य कार्य दुनिया भर के सभी लोगों के मानवाधिकारों की रक्षा करने के विचार को बढ़ावा देना और सार्वभौमिक (यूनिवर्सली) रूप से सभी के द्वारा मौलिक स्वतंत्रता (फंडामेंटल फ्रीडम) की प्राप्ति सुनिश्चित करना है। परिषद अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानून के विकास में मदद करती है (अंतर्राष्ट्रीय कानून का एक निकाय जिसे दुनिया में सभी स्तरों पर मानवाधिकारों की रक्षा के लिए डिज़ाइन किया गया है), सदस्य राज्यों के मानवाधिकार रिकॉर्ड की समीक्षा (रिव्यू) करता है, मानवाधिकारों के दुरुपयोग को रोकने के लिए काम करता है, उन मामलों में आपात (इमरजेंसी) स्थिति का जवाब देना जहां मानवाधिकारों का उल्लंघन होता है और मानवाधिकार मुद्दों पर चर्चा के लिए एक अंतरराष्ट्रीय मंच के रूप में कार्य करता है। महिलाओं के अधिकारों की रक्षा, अल्पसंख्यक अधिकार (माइनोरिटी राइट्स), जातीय संघर्ष (एथनिक स्ट्राइफ) और मनमानी गिरफ्तारी (आर्बिट्रेरी अरेस्ट) से मुक्ति भी इस परिषद के दायरे में आती है। 

इस परिषद के मुख्य उद्देश्य हैं:

  1. संयुक्त राष्ट्र के सदस्य राज्यों में मानवाधिकारों के दुरुपयोग के आरोपों की जांच करना। 
  2. यह सुनिश्चित करने के लिए कि नीचे सूचीबद्ध मानवाधिकार सभी लोगों को गारंटीकृत हैं, और साथ ही, यह ऐसे गारंटीकृत मानवाधिकारों की रक्षा करने का भी प्रयास करता है।  
  • एकत्र होने की स्वतंत्रता (फ्रीडम ऑफ असेंबली)
  • भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता (फ्रीडम ऑफ स्पीच एंड एक्सप्रेशन)
  • धर्म की स्वतंत्रता
  • महिलाओं के अधिकारों का संरक्षण और
  • एलजीबीटी समुदाय और नस्लीय (रेशियल) और जातीय अल्पसंख्यकों के अधिकारों का संरक्षण।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का इतिहास

मानवाधिकार परिषद को संयुक्त राष्ट्र महासभा (जनरल असेंबली) द्वारा 15 मार्च, 2006 को प्रस्ताव (रेजोल्यूशन) 60/251 द्वारा बनाया गया था, जो कि पूर्व 60 वर्षीय संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग को बदलने के बाद, जो 1946 से 2006 तक संचालित (ऑपरेटेड) था। पूर्व आयोग (कमीशन) अप्रभावी हो गया था क्योंकि इसमें खराब मानवाधिकार रिकॉर्ड वाले अधिकांश देश शामिल थे। नए निकाय का पहला सत्र (सेशन) 19 जून से 30 जून, 2006 तक था। परिषद ने इसकी प्रक्रियाओं और तंत्रों को स्थापित करने के लिए 2007 में प्रस्ताव 5/1 द्वारा एक संस्था-निर्माण पैकेज (इंस्टीट्यूशन बिल्डिंग पैकेज) अपनाया; जिसमें सार्वभौमिक आवधिक समीक्षा (यूनिवर्सल पीरियोडिक रिव्यू) (संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य देशों में मानवाधिकारों की स्थितियों का विश्लेषण करने के लिए), सलाहकार समिति (एडवाइजरी कमिटी) (मानव अधिकारों पर उत्पन्न होने वाले मुद्दों पर सलाह देने के लिए), और शिकायत प्रक्रिया (व्यक्तियों या संगठनों द्वारा सामना किए जाने वाले मानवाधिकारों के उल्लंघन की स्थितियों को स्वीकार करने के लिए) के तंत्र शामिल थे। परिषद को संयुक्त राष्ट्र की विशेष प्रक्रियाओं के साथ भी काम करना पड़ता है क्योंकि यह मानव अधिकारों पर पूर्व आयोग द्वारा स्थापित किया गया था और इसमें विशेष प्रतिनिधि, विशेष प्रतिवेदक (स्पेशल रिपोर्टियर), स्वतंत्र विशेषज्ञ (इंडिपेंडेंट एक्सपर्ट्स) और कार्य समूह शामिल हैं जो विशिष्ट देशों में मानव अधिकारों के मुद्दे की निगरानी, ​​जांच, सलाह और रिपोर्ट करते हैं। परिषद ने जून 2016 में अपने 10 साल पूरे किए और कई आयोजनों के माध्यम से इस कार्यक्रम का जश्न मनाया। 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के कार्य

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद मानवाधिकार के उच्चायुक्त कार्यालय (हाई कमिश्नर ऑफ ह्यूमन राइट्स) (ओएचसीएचआर) के साथ मिलकर काम करती है। मानवाधिकार परिषद नियमित रूप से अपने जून सत्र में महिलाओं और लड़कियों के मानवाधिकारों के उल्लंघन के मुद्दे को स्वीकार करती है, और परिषद ऐसी महिलाओं के मानवाधिकारों के दुरुपयोग की समस्या का समाधान ढूंढकर उनके मानवाधिकारों की रक्षा करने का प्रयास करती है। संयुक्त राष्ट्र महिला, जिनेवा में अपने संपर्क कार्यालय के माध्यम से भी इस मुद्दे की ओर अग्रसर है, और वे यह सुनिश्चित करने का प्रयास करती हैं कि दुनिया भर में महिलाओं के ऐसे मुद्दों को परिषद के सत्रों में संबोधित किया जाता है, यह सुनिश्चित करते हुए कि परिषद महिलाओं के मुद्दों की अनदेखी नहीं कर रही है। महिलाओं के मानवाधिकारों से संबंधित मुद्दों को उजागर करने के लिए परिषद विभिन्न समूह चर्चाओं और अन्य पक्ष कार्यक्रमों में भाग लेती है। यह लैंगिक समानता अधिवक्ताओं (जेंडर इक्वालिटी एडवोकेट्स) अर्थात, ऐसे अधिवक्ता जो समाज के सभी पहलुओं में महिलाओं की समानता के लिए लड़ते हैं, की भागीदारी, जुड़ाव (इंगेजमेंट) और कार्य का भी समर्थन करता है। मानवाधिकार परिषद के इतिहास में अब तक का सबसे व्यस्त वर्ष 2021 था, जब परिषद ने फिजी के राजदूत (एंबेसडर) नज़हत एस. खान की अध्यक्षता में नए नवाचारों (इनोवेशन) को शुरू करने, सीमाओं को तोड़ने और नए मानवाधिकार मानकों (स्टैंडर्ड) को स्थापित करने की दिशा में काम किया। 

एक ऐतिहासिक प्रस्ताव 48/13 में, परिषद ने पहली बार स्वच्छ, स्वस्थ और टिकाऊ पर्यावरण (सस्टेनेबल एनवायरनमेंट) के मानव अधिकार को मान्यता दी। परिषद के 15 साल के इतिहास में, 2021 में पहली बार, परिषद ने प्रतिनिधियों को कोविड-19 स्थिति के कारण दूरस्थ (रिमॉटली) रूप से मतदान करने की अनुमति दी और अपने सत्रों में बोलने के लिए सबसे अधिक गणमान्य (डिग्निटरीज) व्यक्तियों को आकर्षित किया। परिषद ने अपने संबंधित ट्रस्ट फंड के माध्यम से दुनिया भर के सबसे कम विकसित देशों और छोटे द्वीप (आइलैंड) विकासशील राज्यों से संबंधित 19 प्रतिनिधियों की भागीदारी का भी समर्थन किया। इसके अलावा, पहली बार, परिषद ने पांच सत्रों का आयोजन किया जो म्यांमार, कब्जे वाले फिलिस्तीनी क्षेत्र (ऑक्यूपाइड फिलिस्तीनी टेरिटरी) और इज़राइल, अफगानिस्तान, सूडान और इथियोपिया से संबंधित थे। परिषद ने 17 विशेष प्रक्रियाओं और जांच निकायों के जनादेश (मैंडेट) को भी बढ़ाया, और नीचे दिए गए 7 नए जनादेश बनाए:

  • श्रीलंका पर एक जवाबदेही परियोजना (एकाउंटेबिलिटी प्रॉजेक्ट)।
  • बेलारूस में एक निगरानी मिशन।
  • कब्जे वाले फिलीस्तीनी क्षेत्र और इज़राइल पर जांच का एक आयोग।
  • अफगानिस्तान के लिए एक विशेष संवाददाता।
  • दुनिया भर में कानून प्रवर्तन (एनफोर्समेंट) में प्रणालीगत नस्लवाद (सिस्टेमिक रेसिज्म) को संबोधित करने वाला एक नस्लीय न्याय निकाय।
  • जलवायु परिवर्तन (क्लाइमेट चेंज) पर विशेष संवाददाता।
  • इथियोपिया के लिए एक जांच निकाय।

परिषद की लगातार अपने काम को पूर्णता के साथ नहीं करने के लिए आलोचना की जाती है क्योंकि परिषद में कई घूर्णन (रोटेटिंग) सीटों पर कुख्यात (नोटोरियस) मानवाधिकार हनन (एब्यूजर्स) करने वालों का कब्जा है, जैसे सऊदी अरब, लीबिया, चीन, क्यूबा, ​​सीरिया, और कई अन्य, जिन्होंने लोगों के मानवाधिकारों की रक्षा से परिषद को दूर करने की उनकी शक्ति का सफलतापूर्वक उपयोग किया है। 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में सदस्यता

9 मई, 2006 को, महासभा के प्रस्ताव 60/251 के पैरा 7 के अनुपालन (कंप्लायंस) में, 47 देशों को परिषद के सदस्य राज्यों के रूप में चुना गया था। सीटों का वितरण समान भौगोलिक (ज्योग्राफिकल) प्रतिनिधित्व के अनुसार होता है, यानी 13 सीटें अफ्रीकी राज्यों के समूह और एशिया-प्रशांत (पेसिफिक) राज्यों के समूह को दी जाती हैं, 6 सीटें पूर्वी यूरोपीय राज्यों के समूह को दी जाती हैं, 7 सीटें पश्चिमी यूरोपीय को दी जाती हैं और अन्य राज्यों के समूह और लैटिन अमेरिकी और कैरेबियाई राज्यों के समूह को 8 सीटें दी जाती हैं। परिषद का सदस्य बनने के लिए, एक देश को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 191 राज्यों में से कम से कम 96 के वोट प्राप्त करने चाहिए, यानी पूर्ण बहुमत होना चाहिए। संयुक्त राष्ट्र महासभा सदस्य राज्यों का चुनाव करते समय मानवाधिकारों को बढ़ावा देने और उनकी रक्षा करने में उम्मीदवार राज्य के योगदान के साथ-साथ इस संबंध में उनकी स्वैच्छिक प्रतिज्ञाओं (वॉलंटरी प्लेज) और प्रतिबद्धताओं (कमिटमेंट) को भी ध्यान में रखती है। सदस्य 3 साल के लिए चुने जाते हैं और लगातार दो कार्यकालों के बाद तत्काल पुन: चुनाव के लिए पात्र नहीं होते हैं। जैसा कि कहा जाता है कि नेतृत्व (लीडरशिप) के साथ जिम्मेदारी भी आती है। इसलिए, प्रत्येक सदस्य राज्य को यह जिम्मेदारी सौंपी जाती है कि वे स्वयं मानवाधिकारों के उल्लंघनकर्ता न हों। यह एक मानदंड (क्राइटेरिया)  है जिस पर राज्यों द्वारा स्वयं जोर दिया गया था जब उन्होंने मार्च 2006 में मानवाधिकार परिषद बनाने के लिए प्रस्ताव 60/251 को अपनाया था, क्योंकि सऊदी अरब, चीन और क्यूबा जैसे देश परिषद में एक शक्तिशाली स्थिति रखते हैं जो विश्वसनीयता को कमजोर करता है और परिणामस्वरूप, लोगों का परिषद में विश्वास खो जाता है। 

संयुक्त राष्ट्र महासभा के पास किसी भी परिषद सदस्य के अधिकारों को निलंबित (सस्पेंड)  करने की शक्ति है यदि परिषद को पता चलता है कि कोई सदस्य अपने कार्यकाल के दौरान लगातार मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहा है। निलंबन संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 2/3 बहुमत के साथ लागू होता है। संयुक्त राज्य अमेरिका ने 2018 में इजरायल पर अपने असमान ध्यान के कारण परिषद से हाथ खींच लिया। इज़राइल वह देश है जिसने अब तक अपने खिलाफ महत्वपूर्ण परिषद प्रस्तावों की सबसे बड़ी संख्या प्राप्त की है। कभी-कभी, चीन, क्यूबा, ​​​​इरिट्रिया, रूस और वेनेजुएला जैसे देश, जो स्वयं मानवाधिकारों के हनन हैं, को परिषद का सदस्य बनाया गया था। भारत को 1 जनवरी, 2019 को परिषद के सदस्य के रूप में चुना गया था। 31 दिसंबर, 2022 तक, संयुक्त राष्ट्र के 123 सदस्य राज्यों ने मानवाधिकार परिषद के सदस्यों के रूप में कार्य किया था, जो संयुक्त राष्ट्र की विविधता (डायवर्सिटी) को दर्शाता है और दुनिया भर में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर बोलते समय परिषद को वैधता प्रदान करता है।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का नेतृत्व

परिषद में एक पांच-व्यक्ति ब्यूरो होता है, जिसमें एक अध्यक्ष (प्रेसिडेंट) और चार उपाध्यक्ष (वाइस प्रेसिडेंट) होते हैं, प्रत्येक पांच क्षेत्रीय समूहों में से एक का प्रतिनिधित्व करता है। उनमें से प्रत्येक परिषद के वार्षिक चक्र (एनुअल साइकिल) के अनुसार एक वर्ष के लिए कार्य करता है। संयुक्त राष्ट्र में अर्जेंटीना के स्थायी प्रतिनिधि फेडेरिको विलेगास को दिसंबर 2021 में 16वें चक्र (2022) के लिए परिषद के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। मानवाधिकार के लिए उच्चायुक्त का कार्यालय परिषद का सचिवालय (सेक्रेटेरिएट) है, जिसका मुख्यालय (हेडक्वार्टर) स्विट्जरलैंड के जिनेवा में है। 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की बैठक

परिषद हर साल 3 बार मिलती है, और तीन सत्र मार्च (चार सप्ताह के लिए), जून (तीन सप्ताह के लिए), और सितंबर (तीन सप्ताह के लिए) में आयोजित किए जाते हैं। सभी तीन सत्र एक साथ कुल 10 सप्ताह या उससे अधिक के लिए बनते हैं। सत्र जिनेवा, स्विटजरलैंड में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय में आयोजित किए जाते हैं, जहां मानवाधिकारों के उल्लंघन के मुद्दों और स्थितियों पर परिषद को ध्यान देने की आवश्यकता होती है। परिषद के पास किसी भी परिषद सदस्य के अनुरोध पर तत्काल बैठकें आयोजित करने की भी शक्ति है, जो मानवाधिकार संकट पर किसी भी आपात स्थिति का जवाब देने के लिए अल्प सूचना (शॉर्ट नोटिस) पर कुल परिषद सदस्यता के एक तिहाई के समर्थन के साथ है। मई 2022 तक, 34 विशेष सत्र आयोजित किए जा चुके हैं। मई 2022 का अंतिम विशेष सत्र, 12 मई, 2022 को रूस द्वारा दिखाए गए आक्रामकता (एग्रेशन) के कारण यूक्रेन में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर चर्चा करने के लिए आयोजित किया गया था। 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के सदस्य देश

नीचे उल्लिखित 15 देशों को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा जनवरी 2021 में 3 साल के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के सदस्य के रूप में चुना गया था। 

  1. बोलीविया
  2. चीन
  3. कोटे डी आइवर
  4. क्यूबा
  5. फ्रांस
  6. गैबॉन
  7. मलावी
  8. मेक्सिको
  9. नेपाल
  10. पाकिस्तान
  11. रूसी संघ
  12. सेनेगल
  13. यूक्रेन
  14. यूनाइटेड किंगडम
  15. उजबेकिस्तान

निष्कर्ष 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की स्थापना का विचार आज की दुनिया की तरह महान है जहां कई देश अपने नागरिकों के मूल अधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं, यह परिषद उनका रक्षक (सेवियर) हो सकता है। परिषद को अपनी पूरी क्षमता तक पहुंचने के लिए अपनी कमियों को सुधारने के लिए प्रभावी ढंग से काम करने की जरूरत है। परिषद को उन सभी सदस्य राज्यों को हटाने की आवश्यकता है जो स्वयं मानवाधिकारों का हनन करते हैं और दुनिया भर के सभी व्यक्तियों और संगठनों के लिए मानवाधिकारों को सुरक्षित करने की दिशा में काम करते हैं, क्योंकि सभी के बुनियादी मानवाधिकारों की रक्षा किसी भी कीमत पर की जानी चाहिए। 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

  1. क्या गैर सरकारी संगठन और अन्य पर्यवेक्षक (ऑब्जर्वर्स) परिषद की कार्यवाही में भाग लेंगे जैसा कि उन्होंने मानवाधिकार आयोग के साथ किया था?

हां, वे विशेष एजेंसियों, अंतर-सरकारी संगठनों और राष्ट्रीय मानवाधिकार संस्थानों के साथ-साथ आयोग में लागू होने वाली समान व्यवस्थाओं और प्रथाओं के माध्यम से परिषद में सक्रिय (एक्टिवली) रूप से भाग लेंगे। 

2. क्या कोई सदस्य अपने अधिकारों और विशेषाधिकारों (प्रिविलेज) को परिषद में निलंबित कर सकता है?

हां, महासभा को किसी भी परिषद सदस्य के अधिकारों और विशेषाधिकारों को निलंबित करने का अधिकार है, जिसे वह मानता है कि उसने सदस्यता की अवधि के दौरान लगातार मानवाधिकारों का घोर और व्यवस्थित उल्लंघन किया है। निलंबन की इस प्रक्रिया के लिए महासभा द्वारा दो-तिहाई बहुमत की आवश्यकता होती है। 

3. क्या रूस को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से निलंबित कर दिया गया है, और यदि हाँ, तो क्यों?

हाँ, संयुक्त राष्ट्र ने 8 अप्रैल, 2022 को यूक्रेन में रूसी सैनिकों द्वारा व्यवस्थित उल्लंघन के लिए रूस को परिषद से निलंबित कर दिया। 

4. मानवाधिकार दिवस हर साल कब मनाया जाता है?

10 दिसंबर को

5. अजय मल्होत्रा कौन हैं?

ये संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद, जिनेवा की सलाहकार समिति के अध्यक्ष हैं और इस पद को धारण करने वाले पहले भारतीय हैं। 

सन्दर्भ 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here