एक महिला की शील भंग करना

0
6070
Indian Penal Code

यह लेख Amrutha Selvam द्वारा लिखा गया है, जो लॉसीखो से लीगल इंग्लिश कम्युनिकेशन- ओरेटरी, राइटिंग, लिसनिंग एंड एक्यूरेसी में डिप्लोमा कर रही हैं। इसे Oishika Banerji (टीम लॉसीखो) द्वारा संपादित किया गया है। इस लेख में लेखक महिला की शील भंग करने की अवधारणा, इससे संबंधित प्रावधान और मामलो पर चर्चा करती हैं। इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja द्वारा किया गया है।

परिचय

भारतीय समाज में महिलाओं की शील पर बहुत जोर दिया जाता है और कोई भी ऐसा कार्य जिसे शील के अपमान के रूप में देखा जाता है, उसे गंभीर अपराध माना जाता है। किसी महिला की शील भंग करने का अपराध हिंसा के शारीरिक कार्यों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसमें कोई भी मौखिक या गैर-मौखिक आचरण भी शामिल है जिसका उद्देश्य महिला का अपमान करना है। इस अपराध को प्रकृति से संज्ञेय (कॉग्मिजेबल), गैर-जमानती और गैर-शमनीय (नॉन कंपाउडेबल) माना जाता है। हाल के वर्षों में, महिलाओं के खिलाफ यौन अपराधों के कई हाई-प्रोफाइल मामलों के साथ भारत में महिलाओं की सुरक्षा का मुद्दा सामने आया है। भारत सरकार ने यौन अपराधों के खिलाफ कानूनों को मजबूत करने के लिए कदम उठाए हैं, जिसमें बलात्कार और यौन हमले के लिए सख्त निवारक (डिटरेंट) की शुरूआत शामिल है। हालाँकि, महिलाओं के खिलाफ यौन अपराध भारत में एक बड़ी समस्या बनी हुई है और यह सुनिश्चित करने के लिए अभी भी प्रयासों की आवश्यकता है कि कानूनों को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए। व्यक्तियों के लिए अपने अधिकारों के बारे में जागरूक होना और समाज के लिए यौन अपराधों के प्रति जीरो टॉलरेंस का दृष्टिकोण रखना महत्वपूर्ण है। इस लेख का उद्देश्य भारत में महिलाओं की शील भंग करने के अपराध और यौन अपराध के खिलाफ कानूनों को मजबूत करने के लिए, किए जा रहे प्रयासों का अवलोकन प्रदान करना है।

एक महिला की शील भंग करना – आई.पी.सी. के तहत प्रावधान

भारत में एक महिला की शील भंग करने का अपराध भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 के तहत परिभाषित एक गंभीर अपराध है। इस धारा में कहा गया है कि कोई भी व्यक्ति जो किसी भी महिला पर हमला करता है या आपराधिक बल का उपयोग करता है, अपमान करने का इरादा रखता है या यह जानता है कि वह महिला की शील को भंग कर देगा, उसे दोनों में से किसी भी विवरण के कारावास, एक साल लेकिन जो पांच साल तक बढ़ सकता है से दंडित किया जाएगा, और जुर्माने के लिए भी उत्तरदायी होगा। 

भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 की अनिवार्यताएं

शील क्या है

एक महिला की शील भंग करने का कार्य तेजी से बढ़ रहा है, जिससे महिलाओं के जीवन पर मानसिक और शारीरिक पीड़ा बढ़ रही है। शील को शील, संयम, और सरलता की विशेषता के रूप में परिभाषित किया गया है। एक महिला की शील भंग करने के संदर्भ में, यह उस गुण को संदर्भित करता है जो एक महिला को उसके लिंग के कारण जोड़ता है और सामान्य रूप से महिलाओं से जुड़ा एक गुण है। यह शर्म या शील की भावना है जो एक महिला महसूस करती है जब उसका सामना किसी ऐसे कार्य से होता है जिसका उद्देश्य उसकी शील को ठेस पहुंचाना होता है। सीधे शब्दों में कहें, पंजाब राज्य बनाम मेजर सिंह (1966) के मामले पर फैसला करते हुए अदालत ने देखा है कि एक महिला के लिए शील पूरी तरह से एक अलग अवधारणा के रूप में विकसित हुई है जिसका महिला की काया से बहुत कम लेना-देना है। अदालत आगे कहती है कि एक महिला की शील उसके लिंग सहित स्त्रीत्व से घनिष्ठ रूप से जुड़ी हुई है।

इसके अलावा, शील केवल शारीरिक शील तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसमें नैतिक और मनोवैज्ञानिक शील भी शामिल है। एक महिला की नैतिक शील को शर्म या शील की भावना कहा जाता है जो एक महिला महसूस करती है जब उसका सामना किसी ऐसे कार्य से होता है जिसका उद्देश्य उसकी शील को ठेस पहुँचाना होता है। एक महिला की मनोवैज्ञानिक शील को उसके स्वाभिमान और गरिमा की सहज भावना कहा जाता है। 

भारतीय दंड संहिता, 1860 के तहत महिला की शील भंग करने के अपराध के लिए क्या सजा है

भारतीय दंड संहिता, 1860 के अनुसार, एक महिला की शील को भंग करने की सजा एक अवधि के लिए किसी भी विवरण का कारावास है जो एक वर्ष से कम नहीं होगी, लेकिन जिसे पांच साल तक बढ़ाया जा सकता है, और जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इसका मतलब यह है कि अगर कोई व्यक्ति किसी महिला की शील भंग करने का दोषी पाया जाता है, तो उसे कम से कम एक साल की जेल और अधिकतम पांच साल की जेल की सजा हो सकती है। अपराधी जुर्मान देने के लिए भी उत्तरदायी होगा।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इस अपराध के लिए सजा केवल कारावास और जुर्माने तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसमें सजा के अन्य रूप भी शामिल हैं जैसे सामुदायिक सेवा, परामर्श और पुनर्वास (रिहैबिलिटेशन) कार्यक्रम। न्यायालय के पास यह विवेकाधिकार भी है कि यदि वह आवश्यक समझे तो अतिरिक्त दंड भी दे सकता है। बार-बार अपराध करने या गंभीर परिस्थितियों के मामलों में, अदालत कड़ी सजा दे सकती है। उदाहरण के लिए, सामूहिक बलात्कार या नाबालिग से बलात्कार के मामलों में, सजा एक ऐसी अवधि के लिए कारावास है जो 20 वर्ष से कम नहीं होगी, लेकिन जो आजीवन कारावास तक बढ़ सकती है, और जुर्माना के लिए भी उत्तरदायी होगी।

इसके अलावा, कुछ कानून जैसे यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम, 2012 (पॉक्सो), और आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम, 2013 भी बच्चों के खिलाफ यौन अपराधों के लिए कठोर दंड का प्रावधान करते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि किसी महिला की शील भंग करने के अपराध की सजा केवल अपराधी तक ही सीमित नहीं है। भारतीय न्यायपालिका ने माना है कि अपराध के लिए सजा ऐसी होनी चाहिए जो अपराधी को फिर से अपराध करने से रोक सके, और दूसरों को भी इसी तरह के अपराध करने से रोक सके। अपराधी को सुधारने और महिलाओं के प्रति उसके दृष्टिकोण में बदलाव लाने के लिए सजा भी ऐसी होनी चाहिए, इसलिए इसे सुधारात्मक सजा कहा जा सकता है। 

भारतीय न्यायपालिका और महिला की शील भंग करने की अवधारणा के प्रति इसका दृष्टिकोण

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, मेजर लछमन सिंह बनाम राज्य (1952) के उल्लेखनीय मामले में महिला से संबंधित शब्द ‘शील’ पर विस्तार से विचार और चर्चा की गई है। जहां तक ​​​​भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 के तहत अपराध को विचाराधीन रखा गया था, यह स्पष्ट रूप से माना गया था कि महिला की शील भंग करने के अपराध के आवश्यक घटक को पूरा करने के लिए केवल आरोप पर्याप्त नहीं होंगे। इसके अलावा, यह रामकृपाल सिंह बनाम मध्य प्रदेश राज्य (2007) का मामला था, जहां भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने 1860 की संहिता के तहत धारा 354 और धारा 509 के बीच संबंध पर विचार किया था। धारा 509, महिला की शील का अपमान करने के इरादा को धारा 354 के तहत उल्लिखित अपराध के एक अनिवार्य घटक के रूप में रखती है। 

स्वप्ना बर्मन बनाम सुबीर दास (2003) का ऐतिहासिक मामला, जिसमे न्यायालय ने कहा था कि धारा 509 के प्रावधान के तहत, ‘शील’ शब्द न केवल एक अश्लील चरित्र के यौन संबंध के चिंतन की ओर ले जाता है बल्कि अभद्रता को भी शामिल करता है। इसलिए, यह विचार करना आवश्यक है कि कोई भी कार्य जिसे बलात्कार के रूप में कम माना जा सकता है, तो उसे महिला की शील भंग करने के रूप में माना जाना चाहिए। इसके अलावा, यह बताना महत्वपूर्ण है कि एक महिला पर किसी अन्य महिला की शील भंग करने के अपराध के लिए भी मुकदमा चलाया जा सकता है क्योंकि भारतीय दंड संहिता, 1860 की संहिताबद्ध धाराएं स्वयं लिंग तटस्थ (न्यूट्रल) हैं और कार्यों के लिए एक अपराधी के रूप में किसी विशेष व्यक्ति के लिंग को निर्दिष्ट नहीं करती हैं। इस प्रकार इस अपराध के लिए अभियोजन (प्रॉसिक्यूशन) पुरुषों और महिलाओं दोनों के मामलों में विस्तारित होता है। 

भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 के तहत, प्रावधान को सख्त बनाने के उद्देश्य से और इस तरह के अपराध के आपराधिक रिकॉर्ड की तेजी से बढ़ रहे दर पर अंकुश लगाने के इरादे से, अपराध के संबंध में किए जा रहे अनगिनत संशोधनों में भारतीय न्यायपालिका द्वारा योगदान देने में महत्वपूर्ण भूमिका रही है, जिससे महिला को बड़े पैमाने पर सुरक्षा का प्रावधान उपलब्ध हो सके। न्यायमूर्ति वर्मा समिति की रिपोर्ट के अनुसार, जो 23 जनवरी, 2013 को प्रस्तुत की गई थी, यौन संपर्क के गैर-मर्मज्ञ (नॉन पेनेट्रेटिव) रूपों को यौन हमला माना जाना आवश्यक था और भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 के तहत सजा को बढ़ाकर पांच साल किया जाना था। समिति द्वारा ऐसे अपराध के लिए एक त्वरित और अधिक तेज़ परीक्षण का भी सुझाव दिया गया था। भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जेएस वर्मा की अध्यक्षता वाली समिति ने यौन अपराधों के मूल कारण की पहचान शासन की विफलता के रूप में की थी। इस रिपोर्ट ने भारतीय दंड संहिता, 1860 में 2013 के प्रमुख संशोधन को पेश करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। दिए गए सुझाव को ध्यान में रखते हुए, आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम, 2013 के माध्यम से मार्च 2013 में महत्वपूर्ण संशोधन लाया गया था और इसी के माध्यम से दंड बढ़ाए गए थे।

बलात्कार की तुलना में महिला की शील भंग करना 

यह नोट करना आदर्श है कि महिलाओं की शील भंग करने और बलात्कार के अपराध में उन तथ्यों और प्रावधानों के रूप में एक महत्वपूर्ण अंतर है, जो किसी भी अपराध के लिए आरोप बनाने के लिए जिम्मेदार हैं। हालांकि दोनों अपराधों के बीच अंतर की रेखा नगण्य (नेगलिजिबल) है, दोनों को किसी भी तरह से समान नहीं माना जा सकता है। दोनों के बीच के अंतर पर आगे बढ़ने से पहले, बलात्कार के अपराध के बारे में एक सामान्य विचार होना आवश्यक है। 

बलात्कार का अपराध

भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 375 के तहत बलात्कार को एक अपराध के रूप में परिभाषित किया गया है और धारा 376 के तहत इसके लिए सजा का प्रावधान है। बलात्कार को एक पुरुष द्वारा एक महिला पर किए गए अपराध के रूप में वर्णित किया जा सकता है, बशर्ते वह उस पुरुष की पत्नी न हो और वह पुरुष भी बारह वर्ष से कम का न हो। धारा 376 की उप-धारा (2) में प्रावधान है कि कोई भी व्यक्ति जो उप-धारा में प्रदान किए गए खंडों की शर्तों को पूरा करके बलात्कार करता है, उसे बलात्कार करने के लिए उत्तरदायी ठहराया जाएगा और उसे धारा 376 में निर्धारित अवधि के लिए कठोर कारावास की सजा काटनी होगी। 

शील भंग करने और बलात्कार के बीच अंतर 

जीत सिंह बनाम राज्य (1992) के मामले में, बलात्कार के अपराध के साक्ष्य की कमी ने पीड़िता को निर्वस्त्र करना, महिलाओं की शील भंग करने के अपराध के तहत वर्गीकृत किया, जिससे धारा 376 को भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 के साथ बदल दिया गया। इसके अलावा, तुकाराम गोविंद यादव बनाम महाराष्ट्र राज्य (2010) का मामला धारा 354 और धारा 375 के बीच के अंतर पर बात करते हुए ध्यान आकर्षित करता है, हालांकि यह मामला धारा 375 के प्रावधान के तहत माना जाता था, बॉम्बे उच्च न्यायालय इस निष्कर्ष पर पहुँचा कि चूंकि महिला के शरीर में लिंग का प्रवेश शामिल नहीं था, इसलिए धारा 354 का अपराध केवल पेश किए गए चिकित्सा साक्ष्य के समर्थन से ही बनाया जा सकता है।

जय चंद बनाम राज्य (1996) के मामले के तथ्य इस मामले में ध्यान आकर्षित करते हैं, जहां आरोपी ने अभियोजिका पर बल प्रयोग करते हुए उसके कपड़े उतारने के इरादे से उसे बिस्तर पर धकेल दिया था। हालाँकि जब अभियोजिका ने स्वयं आत्मरक्षा का प्रयोग करते हुए आरोपी को दूर धकेल दिया और बाद में अपराध को अंजाम देने के लिए पीछे नहीं हटी, तो अदालत के सामने दिलचस्प सवाल यह था कि क्या आरोपी को बलात्कार का दोषी ठहराया जाना चाहिए या उसे भी 1860 की संहिता की धारा 354 के दायरे में ही सीमित रखा जाएगा। यह माना गया था कि चूंकि अदालत के समक्ष सुनाए गए तथ्यों और परिस्थितियों के अनुसार बलात्कार के सबूत का अभाव था, इसलिए जो अपराध किया गया वह भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 के तहत महिलाओं की शील भंग करना था। 

इस संबंध में ध्यान देने योग्य एक अन्य मामला राम मेहर बनाम हरियाणा राज्य (2016) का मामला है, जिसमें आरोपी ने अभियोजिका को पकड़ लिया था और उसके कपड़े उतारने की कोशिश की थी। लिंग का भेदन नहीं होने के कारण बलात्कार का अपराध नहीं बनता था क्योंकि इससे पहले पीड़ित पक्ष ने आरोपी पर दरांती (सिकल) से वार किया था। इस प्रकार आरोपी को धारा 354 के तहत दोषी करार दिया गया। 

इन निर्णयों को उत्तर प्रदेश राज्य बनाम रजित राम (2011) के मामले में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले से खारिज कर दिया गया था, जिसमें भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 द्वारा धारा 376 के तहत सजा को रद्द कर दिया गया था और इस तरह निचली अदालत में वापस भेजा गया था। इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले से असंतुष्ट था क्योंकि धारा 376 के तहत अपराध को धारा 354 में परिवर्तित करते समय उसके द्वारा कोई तर्कसंगत कारण प्रदान नहीं किया गया था। इस प्रकार यह बताते हुए कि तर्क कानूनी दृष्टि से कायम नहीं है, शीर्ष अदालत ने उच्च न्यायालय के न्यायिक तर्क को खारिज कर दिया। 

उपरोक्त सभी निर्णयों को ध्यान में रखते हुए यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है, की जबकि बलात्कार के अपराध की धारा 375 के तहत धारा 375 के साथ पढ़ने की अपनी आवश्यकताओं का सेट है, जब धारा 354 के तहत महिला की शील भंग करने की बात आती है, महिला का अपमान या उसकी गरिमा को नुकसान पहुंचाने का इरादा बनाया जाना चाहिए। सीधे शब्दों में कहें, धारा 375 को धारा 376 के साथ पढ़ा जाए तो इसमें भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 354 के तहत अपराध शामिल है। 

भारत सरकार द्वारा महिलाओं के शील भंग के प्रावधानों को मजबूत करने के लिए किए गए प्रयास

हाल के वर्षों में, भारत सरकार ने यौन अपराधों से संबंधित मुद्दों से निपटने के प्रयास में, देश में यौन अपराधों के खिलाफ कानूनों को मजबूत करने के लिए कई कदम उठाए हैं। कुछ प्रमुख प्रयासों में शामिल हैं:

  1. आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम, 2013: भारतीय दंड संहिता, 1860 में किए गए इस संशोधन ने बलात्कार और यौन हमले के लिए कड़ी सजा का प्रावधान किया, जिसमें बार-बार अपराध करने वालों या ऐसे मामलों में जहां पीड़िता को कोमा में छोड़ दिया जाता है, के लिए मौत की सजा शामिल है। संशोधन में योनि, मौखिक और गुदा प्रवेश, और योनि, मुंह और गुदा में वस्तुओं और शरीर के अंगों को सम्मिलित करने जैसे कार्यों को शामिल करने के लिए बलात्कार की परिभाषा का विस्तार किया गया।
  2. यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (पॉक्सो) अधिनियम, 2012: यह अधिनियम बच्चों के खिलाफ यौन अपराधों के लिए सख्त सजा का प्रावधान करता है, जिसे कुछ मामलों में आजीवन कारावास तक बढ़ाया जा सकता है। यह अधिनियम बाल पीड़ितों के अधिकारों की रक्षा के उपायों का भी प्रावधान करता है, जिसमें अदालत कक्षों में क्लोज-सर्किट टेलीविजन कैमरों का उपयोग और बाल पीड़ितों की गवाही दर्ज करने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का उपयोग शामिल है। अधिनियम बच्चों के खिलाफ यौन अपराधों के सभी मामलों के लिए विशेष अदालतों में अपराध किए जाने की तारीख से एक वर्ष की अवधि के भीतर मुकदमा चलाना भी अनिवार्य बनाता है।
  3. निर्भया फंड: 2013 में स्थापित इस फंड का उद्देश्य देश में महिलाओं की सुरक्षा को बढ़ाना है। फंड का उपयोग महिलाओं की सुरक्षा में सुधार के लिए पहल और योजनाओं का समर्थन करने के लिए किया जाता है, जिसमें यौन अपराधों के मामलों की सुनवाई के लिए फास्ट-ट्रैक अदालतों की स्थापना और ऐसे अपराधों से निपटने के लिए पुलिस तंत्र को मजबूत करना शामिल है।
  4. आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम, 2020: इस अधिनियम ने भारतीय दंड संहिता, 1860 में कई बदलाव किए, जिसमें बलात्कार, एसिड हमले और पीछा करने जैसे यौन अपराधों के लिए कड़े प्रतिबंध शामिल हैं। अधिनियम ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की सजा सहित यौन उत्पीड़न के लिए सजा का एक नया प्रावधान भी पेश किया। अधिनियम यौन अपराधों के शिकार या उनके परिवार के सदस्यों की पहचान का खुलासा करने को भी एक दंडनीय अपराध बनाता है।
  5. सुरक्षा सेतु ऐप: सुरक्षा सेतु ऐप संकट में महिलाओं को सहायता प्रदान करने के लिए भारत सरकार द्वारा 2020 में शुरू किया गया एक मोबाइल एप्लिकेशन है। ऐप संकट में महिलाओं को आपातकालीन सहायता, आपातकालीन संपर्क और आपातकालीन अलर्ट जैसी कई सेवाएं प्रदान करता है।

निष्कर्ष

एक महिला की शील भंग करने का अपराध भारत में एक गंभीर अपराध है और कारावास और जुर्माना दोनों के माध्यम से दंडनीय है। हाल के वर्षों में यौन अपराधों के खिलाफ कानूनों को मजबूत करने के प्रयास किए गए हैं, हालांकि, भारत में महिलाओं के खिलाफ यौन अपराध एक बड़ी समस्या बनी हुई है और यह सुनिश्चित करने के लिए अभी भी प्रयासों की आवश्यकता है कि कानूनों को प्रभावी ढंग से लागू किया जाए और अपराधियों को न्याय के दायरे में लाया जाए। व्यक्तियों के लिए अपने अधिकारों के बारे में जागरूक होना और समाज के लिए यौन अपराधों के प्रति जीरो टॉलरेंस का दृष्टिकोण रखना महत्वपूर्ण है।

संदर्भ

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here