दुष्प्रेरण और आपराधिक साजिश के बीच अंतर

0
5556
Indian Penal Code

यह लेख डा अम्बेडकर वैश्विक विधि संस्थान, तिरुपति के Koushik Chittella और एमिटी लॉ स्कूल, नोएडा के Nikunj Arora द्वारा लिखा गया है। यह लेख संक्षेप में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए विभिन्न निर्णयों सहित दुष्प्रेरण (अबेटमेंट) और आपराधिक साजिश (क्रिमिनल कांस्पीरेसी)की अवधारणाओं पर चर्चा करता है ताकि पाठकों को इन विषयों के बारे में पूरा ज्ञान प्राप्त हो सके। इस लेख का अंतिम भाग पूरी तरह से दुष्प्रेरण और आपराधिक साजिश के बीच अंतर से संबंधित है। इस लेख का अनुवाद Lavika Goyal द्वारा किया गया है I

Table of Contents

परिचय

बहुत से लोग सोचते हैं कि अपराध करने के लिए आवश्यक चीजों की योजना बनाना औ व्यवस्थित करना लेकिन बाद में किसी कारणवश ऐसा नहीं करना अपराध नहीं है। लेकिन, अपराधों के इस क्षेत्र को “अपूर्ण अपराध (इन्कोएट ओफ्फेंस)” कहा जाता है। इस प्रकार के अपराध अधूरे हैं। अपूर्ण अपराधों में अपराध करने के लिए आवश्यक संभावना और तैयारी शामिल होती है, भले ही अपराध बाद में न किया गया हो। अधूरे (अपूर्ण) अपराधों के कुछ उदाहरण दुष्प्रेरण और आपराधिक साजिश है। 

भारतीय दंड संहिता, 1860 का अध्याय V उन लोगों से संबंधित है जो दूसरों को अपराध करने के लिए उकसाते हैं और उनकी मदद करते हैंI दुष्प्रेरण का अपराध किसी व्यक्ति द्वारा अपराध या अवैध कार्य करने के लिए उकसाना है।  इसे भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 107 के तहत परिभाषित किया गया है। आपराधिक साजिश दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच अवैध तरीकों से कार्य करने के लिए समझौता है। इसे वर्ष 1870 में आपराधिक संशोधन अधिनियम, 1913 के साथ जोड़ा गया, जिसमें संहिता की धारा 120-A  को शामिल किया गया।

दुष्प्रेरण 

दुष्प्रेरण को अपराध के लिए एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति को शह या उकसाने के रूप में परिभाषित किया गया है। अपराध के लिए साजिश में शामिल होना और किसी भी कार्य को अपराध के लिए आगे बढ़ाना दुष्प्रेरण कहा जाता है। “अबेट” का शाब्दिक अर्थ सहायता और किसी कार्य को करने के लिए प्रोत्साहित करना है। करतार सिंह बनाम पंजाब राज्य (1961) के निर्णय में सर्वोच्च न्यायालय ने ‘अबेट’ शब्द को सहायता और एक अवैध कार्य करने में दूसरों की मदद करने के लिए परिभाषित किया है। जबकि साज़िश को दो लैटिन शब्द ‘कॉन’ अर्थात एक साथ और ’स्पिरेयर’ अर्थात साँस लेना, से लिया गया है।

दुष्प्रेरण की चर्चा भारतीय दंड संहिता,1860 की धारा 107 से 120 तक की गई है। दुष्प्रेरण धारा 107 में परिभाषित है, जो इस बात पर जोर देता है की दुष्प्रेरण किसी को उकसाने, सहायता करने या उसके आपराधिक इरादे के निष्पादन (एक्जिक्यूशन) को प्रोत्साहित करने की इच्छा है।

तीन व्यक्ति A, B, C का उदहारण लेते है। A और B, C को मारने की योजना करते है जिसमें A एक योजना बनाता है और C को मारने का जाल बिछाता है। B  पूरे परिदृश्य को जानते हुए बंदूक का जाल बनाने के लिए A की मदद करता है। यह भी दुष्प्रेरण माना जायेगा जिसमें B अपराध में अपराधी (A) की मदद करता हैं । जो व्यक्ति, उकसाने  में,  प्रोत्साहित करने, या ऐसा करने के लिए दूसरे को बढ़ावा देता है उसे एक दुष्प्रेरक (अबेटर) कहा जाता है। जो व्यक्ति अपराध करता है उसे मुख्य अपराधी (प्रिंसिपल ऑफेंडर) कहा जाता है। उपरोक्त उदाहरण में, A मुख्य अपराधी है, और B दुष्प्रेरक है। यहां एक व्यक्ति को बढ़ावा देने और अपराध के वास्तविक अपराधी के बीच आपराधिक कानून के तहत एक महत्वपूर्ण अंतर है।  हालांकि, एक आपराधिक साजिश में, A और B,C को मारने के लिए एक समझौता करते है और समान रूप से योगदान दे  भी सकते है और नहीं भी दे सकते लेकिन एक दूसरे की मदद कर सकते है क्योकि उनका एक ही इरादा है। 

दुष्प्रेरण के तत्व

दुष्प्रेरण निम्न से गठित होता है:

  1. एक व्यक्ति को दंडनीय काम करने के लिए उकसाना, या
  2. किसी भी साजिश में अपराध करने के लिए शामिल होना,
  3. जानबूझकर एक अपराध के लिए सहायता करना।

दुष्प्रेरण मुख्य रूप से दुष्प्रेरक के इरादे पर निर्भर करता है। लेकिन, अपराध, के लिए उत्तरदायी होने के लिए भारतीय दंड संहिता की धारा 107 के तहत अभियोजन पक्ष (प्रॉसिक्यूशन)को एक आपराधिक कृत्य (एक्टस रिअस) (गलत कार्य) के साथ मेंस रिया की उपस्थिति (एक दोषी मन) को साबित करना होगा। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि क्रोध में एक व्यक्ति द्वारा बोले गए शब्दो को किसी भी प्रकार की शह या प्रोत्साहन के रूप में नही माना जायेगा क्योंकि एक विवेकी (प्रूडेंट) आदमी के लिए क्रोध में अपने शब्दों को नियंत्रित करना असंभव है जबकि एक साजिश में, दोनों साजिशकर्ताओं को अपराध के किए जाने का ज्ञान होता है। वे समान रूप से योगदान देते हैं और साजिश की कारवाई को सांझा (शेयर) करते हैं जो उन्हें एक ही अपराध के लिए उत्तरदायी बना देती है।

मेंस रिया

मेंस रिया (दोषी मन) किसी भी अपराध को करने में एक महत्वपूर्ण तत्व है। उकसाने के मामले में, दोनों व्यक्तियों, यानी, उकसाने वाले और मुख्य अपराधी के पास मानसिक तत्व होना चाहिए, यानी मेंस रिया । दोषी मन के बिना दुष्प्रेरण करना असंभव है। एक दुष्प्रेरक किसी अपराध को करने में प्रत्यक्ष (डायरेक्ट) या परोक्ष (इनडायरेक्ट) रूप से दो तरह से मदद कर सकता है। वह अपराध करने के लिए पिस्तौल खरीदने और सौंपने में प्रत्यक्ष रूप से मदद कर सकता है या अप्रत्यक्ष रूप से एक कार्य को अंजाम देने में मदद  कर सकता है जो एक अपराध होगा , जबकि एक साजिश के मामले में, मानसिक तत्व की गंभीर रूप से जांच की जाती है और समझौता किया जाता है। पक्षों के बीच अपराध करने के लिए किसी व्यक्ति को दोषी ठहराने से पहले अदालत द्वारा सावधानीपूर्वक मूल्यांकन किया जाता है I मेंस रिया के महत्व को ठाकुर निताबेन बनाम गुजरात राज्य (2017) के मामले में माननीय न्यायालय द्वारा विस्तृत किया गया था।

अपराध का ज्ञान

अपराध के गठन में एक अन्य महत्वपूर्ण तत्व उस अपराध का पूर्ण ज्ञान है।  यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि किसी अपराध को करने वाले व्यक्ति को उस अपराध का पूरा ज्ञान होना चाहिए जो किसी अन्य व्यक्ति द्वारा किया जा रहा है जो मुख्य अपराधी होगा। दुष्प्रेरण के मामले की सुनवाई करने वाली कोई भी अदालत अपराध के बारे में उसके ज्ञान और मानसिक तत्व (मेंस रिया) की उपस्थिति का गंभीर मूल्यांकन करती है।  यदि व्यक्ति में दोनों तत्व हैं और उसने कृत्य के परिणामों को जानने के बाद भी जानबूझकर अपराध किया है, तो उसे दुष्प्रेरण के अपराध के लिए उत्तरदायी माना जाएगा, जबकि एक आपराधिक साजिश में, मानसिक तत्व के बाद ज्ञान की जांच की जाती है, क्योंकि अपराध ज्ञान पर भी निर्भर करता है।  ज्यादातर मामलों में साजिशकर्ताओं को अपराध की पूरी जानकारी होती है , इसलिए अपराध के ज्ञान को दूसरा महत्व दिया जाता है।

भारतीय दंड संहिता की धारा 107 के तहत दुष्प्रेरण

भारतीय दंड संहिता में, दुष्प्रेरण को धारा 107 के तहत परिभाषित किया गया है।

सरल शब्दों में, इसे एक व्यक्ति के रूप में कहा जा सकता है जो किसी अन्य को अवैध कार्य करने के लिए उकसाता है या जो जानबूझकर उस काम को करने में संलग्न (एन्गेज) है और जानबूझकर दूसरों को कुछ अवैध कार्य करने में सहायता करता है, उसे दुष्प्रेरण का अपराध कहा जाता है।

भारत दंड संहिता के तहत दुष्प्रेरण के लिए सजा

भारतीय दंड संहिता में, दुष्प्रेरण के अध्याय में धारा 107 से धारा 120 तक 15 धाराएं है। जब कोई  स्पष्ट प्रावधान संहिता में उपलब्ध नहीं होता है तो धारा 109, दुष्प्रेरण की सजा के बारे में बताता है। दुष्प्रेरक को मुख्य अपराधी के सामान ही सजा मिलती है अगर अपराध दुष्प्रेरक के उकसाने पर किया गया है। ऊपर वर्णित कार्य के लिए सजा धारा 117 में दी गई दुष्प्रेरण की सजा के समान है। जबकि साजिश धारा 120-A में परिभाषित  है और साजिश के लिए सजा धारा 120-B  में दी गई है।

क्योंकि लोगों का मानना है की जो अपराध करते है सिर्फ उन्हें सजा मिलती है, इसलिए  दुष्प्रेरण की अवधारणा को एक अलग अपराध के रूप में मानना और सजा देना जनता के लिए बहुत ही अजीब हो सकता है। भारतीय दंड संहिता में विभिन्न प्रकार के दंडों की व्याख्या करने वाली उनकी धाराओं के अनुसार विभिन्न दंडों को स्पष्ट और विस्तृत रूप से रेखांकित किया गया है। इसमे शामिल है:

  • धारा 109: जैसे कि इस धारा में, एक व्यक्ति जो अपराध के लिए उकसाता है उसे  मुख्य अपराधी के समान ही सजा प्राप्त होती है, अगर मुख्यअपराधी का आपराधिक कृत्य दुष्प्रेरक के उकसाने के कारण हुआ है।

यदि दुष्प्रेरक अपराध के समय पर अनुपस्थित रहता है, तो वहा धारा 109 के प्रावधान लागू रहेंगे। केवल आवश्यकता यह है की उसने या तो अपराध करने में मदद की है या उसे उकसाया है या वह  अपराध की साजिश में शामिल रहा है। साथ ही, उसे साजिश के अनुसार कुछ गैर कानूनी कार्य या बहिष्करण (एक्सक्लूज) करना चाहिए था, या जानबूझकर किसी कार्य या निरीक्षण के माध्यम से अपराध करने में  सहायता करनी चाहिए थी।

इस धारा में, यह समझाया गया है कि अगर दंड संहिता स्वतंत्र रूप से इस तरह की सजा को संबोधित नही करती है तो दुष्प्रेरण वास्तविक अपराध (ओरिजिनल ओफ्फेंस) के रूप में दंडनीय है। उकसाने को किसी  विशिष्ट तरीके से या कानून के तहत केवल शब्दों में व्यक्त करने की कोई जरूरत नही है। आचरण या व्यवहार को भी उकसाने के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। प्रत्येक मामला अलग होता है, तो यह निर्धारित करना की उसमे किसी व्यक्ति को उकसाया गया है या नहीं यह इसके विशेष तथ्यों पर निर्भर करेगा।

अभियोजन को यह बात कानून को साबित करने की आवश्यकता नहीं है कि संदिग्ध (सस्पेक्ट) का असली इरादा सिर्फ उकसाना था। जब तक की वहा किसी व्यक्ति को उकसाया गया था या अपराध किया गया था या यदि मुख्य अपराधी का इरादा और ज्ञान उसी उकसाये हुए व्यक्ति के सामान था जिसके द्वारा अपराध किये जाने की सम्भावना थी। किसी व्यक्ति को उकसाने के लिए केवल तभी उत्तरदायी ठहराया जा सकता है जब ये शर्तें पूरी हों। इसके अतिरिक्त, इस धारा के स्पष्टीकरण के अनुसार, दुष्प्रेरण के परिणाम के रूप में दुष्प्रेरित कार्य को पूरा किया जाना चाहिए।

  • धारा 110: धारा 110 के तहत अगर एक दुष्प्रेरक मुख्य अपराधी से अलग इरादे से एक अपराध करता है, तो वह तब भी उस अपराध की सजा के लिए जवाबदेह होगा जो उन दोनों के द्वारा किया गया है। इस धारा के अनुसार, दुष्प्रेरित (अबेटेड) व्यक्ति का कोई दायित्व नहीं है।
  • धारा 111: यह धारा इस वाक्यांश “हर व्यक्ति को अपने कर्मो का फल भुगतना पड़ता है” के चारो और घूमती है। यदि एक व्यक्ति दूसरे को विशिष्ट गलत काम करने के लिए उकसाता है, और बाद वाला, इस तरह के उकसावे के जवाब में, न केवल उस गलत काम को करता है, बल्कि इसे आगे बढ़ाने के लिए एक और गलत काम करता है, तो पहला व्यक्ति बाद के संबंध में एक दुष्प्रेरक के रूप में आपराधिक रूप से उत्तरदायी होता है।
  • धारा 112: धारा 112 के परिणामस्वरूप, दुष्प्रेरक को दुष्प्रेरित अपराध और किये गए अपराध दोनों के लिए उत्तरदायी ठहराया जाता है। धारा 111, 112 और 133 की एक साथ जांच करने से, यह स्पष्ट है कि यदि कोई व्यक्ति किसी अपराध के लिए दूसरे को उकसाता है और मुख्य अपराधी उस काम को करता है जिसका वैकल्पिक परिणाम दुष्प्रेरक के इरादे से होता है तो यह अपराध को अधिक गंभीर बनाता है इसलिए यहाँ दुष्प्रेरक परिणामों के लिए जिम्मेदार होगा।

यह पूछताछ इस बात से संबंधित है कि क्या उकसाने वाला, अगर वह प्रेरित होने के समय एक समझदार व्यक्ति था या यदि वह जानबूझकर मुख्य अपराधी की सहायता कर रहा था, तो उसके कार्यों के संभावित परिणामों का अनुमान लगाया जा सकता था।

  • धारा 113: धारा 111 को धारा 113 के साथ पढ़ना महत्वपूर्ण है। धारा 111 के भाग के रूप में, अपराधिक कार्य को समायोजित किया जाता है, भले ही इसका प्रभाव उकसाए गए अधिनियम से अलग हो। कानून का यह हिस्सा उन स्थितियों को संभालता है जिनमें अपराधिक कार्य उकसाने वाले कार्य के बराबर होता है, लेकिन इसका प्रभाव समान नहीं होता है। 
  • धारा 114: इस धारा को संभवत: तभी गतिविधि में लाया जाता है जब विशिष्ट गलत कामों के लिए उकसाने वाली शर्तें पहले साबित हो गई हों, और उसके बाद, उस गलत काम के लिए आरोपी की उपस्थिति को  प्रदर्शित किया जाता है। धारा 114 उस मामले के बारे में बात करती है, जहां दुष्प्रेरण किया गया है, हालांकि, जहां इसके अलावा गलत काम वास्तव में हुआ है और उकसाने वाला वहां मौजूद है, और जिस तरह से वह इस तरह के मामले का प्रबंधन (मैनेज) करता है I गलत काम करने की स्थिति में वृद्धि की परिस्थितियों के साथ उकसाने के बजाय, गलत काम बहुत ही गलत काम में बदल जाता है। यहां धारा स्पष्ट रूप से दंडात्मक नहीं है।

धारा 114 के प्रावधान हर उस स्थिति में लागू नहीं होते हैं, जिसमें एक दुष्प्रेरक अपराध करते समय  मौजूद होता है। धारा 109 के विपरीत, जो दुष्प्रेरण की व्याख्या करती है, धारा 114 अपराध के समय दुष्प्रेरक की उपस्थिति के बिना दुष्प्रेरण की व्याख्या करती है।

धारा 34 और धारा 114 में अंतर है। विशेष रूप से, धारा 34 के तहत, जहां एक आपराधिक कृत्य एक सामान्य लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, कई लोगों द्वारा किया जाता है, वहा प्रत्येक व्यक्ति जिम्मेदार होता है जैसे कि इसे स्वयं द्वारा समाप्त किया गया था; इसलिए, यदि दो या दो से अधिक लोग मौजूद हैं, जो किसी हत्या को अंजाम देने में सहायता कर रहे हैं और उकसा रहे हैं, तो प्रत्येक पर अपराध के मुख्य अपराधी के रूप में मुकदमा चलाया जाएगा, हालांकि, यह निर्धारित करना मुश्किल होगा कि वास्तव में अपराध किसने किया था। 

धारा 114 का उद्देश्य उस स्थिति को संबोधित करना है जिसमें एक व्यक्ति, गलत कार्य करने से पहले, खुद को एक दुष्प्रेरक के रूप में उत्तरदायी बनाता है, आपराधिक कार्य के समय उपस्थित होता है, लेकिन इसमें सक्रिय रूप से भाग नहीं लेता है। धारा 34 केवल दूसरे के कार्य को उकसाने के द्वारा एक व्यक्ति द्वारा दूसरे व्यक्ति के आदेश को क्रियान्वित (एक्जीक्यूट) करने के कार्य को शामिल नहीं करती है।

  • धारा 115: धारा 115 के परिणामस्वरूप, भले ही अपराध वास्तव में किया गया हो या नहीं कुछ अपराधों के दुष्प्रेरण को अपराध माना जाता है।

कम से कम 7 साल की कैद और जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इसके अलावा, यदि कोई दुष्प्रेरक कोई ऐसा कार्य करता है जिससे किसी व्यक्ति को चोट पहुंचती है, जिसके परिणामस्वरूप वह दुष्प्रेरण के लिए उत्तरदायी है, तो दुष्प्रेरक किसी भी प्रकार के कारावास के अधीन होगा, जैसे कि अवधि 14 वर्ष तक पहुंच सकती है, और यह भी जुर्माने के अधीन होगा।

दुष्प्रेरण के प्रकार

भारतीय आपराधिक कानून तीन प्रकार के दुष्प्रेरण को मान्यता देता है। वो हैं:

  1. उकसाने पर दुष्प्रेरण
  2. साजिश द्वारा दुष्प्रेरण
  3. जानबूझकर सहायता (इंटेंशनल ऐड) द्वारा दुष्प्रेरण

उकसाने पर दुष्प्रेरण

कोई भी व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को अपराध करने के लिए उकसाता/उत्तेजित करता है तो उसे दुष्प्रेरण का अपराध करने वाला कहा जाता है। जो किसी को कुछ ऐसा करने के लिए उकसाता है जो अवैध है। एक बच्चे को आत्महत्या करने के लिए उकसाने का एक उदाहरण लेते है, जिसमें दुष्प्रेरक ने उसके निजी ब्राउज़िंग इतिहास (प्राइवेट ब्राउज़िंग हिस्ट्री) को इस तरह से कैप्चर किया कि बच्चे के पास उस स्थिति से बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं है। दुष्प्रेरक के इस कार्य  को उकसावे द्वारा दुष्प्रेरण के रूप में जाना जाता है जहां उसने बच्चे को आत्महत्या करने के लिए उकसाया है। भले ही वह नहीं चाहता था की ऐसा हो, फिर भी वह दुष्प्रेरण के लिए उत्तरदायी है।

जमुना सिंह बनाम बिहार राज्य (1967)

इस मामले में, सर्वोच्च न्यायालय ने उल्लेख किया है कि अपराध किया या नहीं भी किया जा सकता, लेकिन जब दुष्प्रेरक द्वारा उकसाया जाता है तो उस पर मुकदमा चलाया जा सकता है। न्यायालय ने स्पष्ट रूप से उल्लेख किया कि दुष्प्रेरण के अपराध के लिए तब मुकदमा चलाया जा सकता है जब उसे उकसाया गया हो लेकिन इसके लिए अपराध करने की आवश्यकता नहीं होती है।

साजिश द्वारा दुष्प्रेरण

दूसरे प्रकार का दुष्प्रेरण साजिश द्वारा दुष्प्रेरण है जिसमें व्यक्ति दो या दो से अधिक व्यक्तियों के साथ मिलकर  कोई कार्य या अवैध चूक करता है। साजिश द्वारा दुष्प्रेरण एक ऐसा मामला है जहां एक ही मामले में दुष्प्रेरण और साजिश दोनों मौजूद हैं। अभियोजन पक्ष आरोपी पर दुष्प्रेरण और साजिश दोनों का आरोप लगता है। यह अदालत के विवेक (डिस्क्रीशन) पर निर्भर करता है कि आरोपी को साजिश के लिए या केवल दुष्प्रेरण के अपराध के लिए दोषी ठहराया जाए।  दहेज हत्या के मामले साजिश के तहत दुष्प्रेरण (एबेटमेंट बाय कांस्पीरेसी ) के बेहतरीन उदाहरण हैं।

नूर मोहम्मद मोमिन बनाम महाराष्ट्र राज्य (1971)

इस मामले में, नूर मोहम्मद पर संहिता की धारा 109 के तहत  दुष्प्रेरण का आरोप था। उसने , उन्होंने, 3 अन्य लोगों के साथ एक हत्या की, जिसके लिए सर्वोच्च न्यायालय ने उल्लेख किया कि आपराधिक साजिश के दायरे में इस मामले में उकसाने के अपराध की तुलना में व्यापक रूप से प्रयोज्यता (एप्लीकेबिलिटी) है।

जानबूझकर सहायता द्वारा दुष्प्रेरण

किसी व्यक्ति को प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से पूर्ण ज्ञान के साथ सहायता करके अपराध करने के लिए उकसाना सहायता द्वारा दुष्प्रेरण है। एक सुरक्षा प्रहरी (गार्ड) का उदाहरण लेते है जो जानबूझकर दरवाजे पर चाबियां छोड़ देता है ताकि ठग घर को लूट सकें। उसने उन्हें घर में घुसने में मदद की, इसलिए यह सहायता के द्वारा दुष्प्रेरण है।

कुछ महत्वपूर्ण मामलों

चित्रेश कुमार चोपड़ा बनाम राज्य (2009)

इस मामले में, दुष्प्रेरक ने व्यवसाय के लिए कर्ज लेने वाले व्यक्ति को उकसाया और नाराज किया जिसने बदले में दबाव में आकर आत्महत्या कर ली। अदालत ने इस मामले में कहा कि आत्महत्या के लिए उकसाना और इच्छामृत्यु एक अपराध है और उसे भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 306 के तहत उत्तरदायी बनाया गया।

तेजसिंह बनाम राजस्थान राज्य (1957)

यह मामला दुष्प्रेरण के सबसे पुराने मामलों में से एक है जहां पीड़िता सती हुई (सती एक पुरानी हिंदू प्रथा है जहां एक विधवा अपने मृत पति की चिता के ऊपर बैठकर खुद को बलिदान कर देती है)। इस मामले में आरोपी ने सती के नारे लगाकर उसे उकसाया। फैसले में आरोपी को दंड संहिता की धारा 106 के तहत आत्महत्या के लिए उकसाने का जिम्मेदार ठहराया।

एक दुष्प्रेरक कौन है?

धारा 108 में दुष्प्रेरक की चर्चा की गई है। ‘दुष्प्रेरक’ शब्द एक ऐसे व्यक्ति को संदर्भित करता है जो किसी अपराध के अंजाम देने में सक्रिय रूप से शामिल है, या जो एक निश्चित कार्य को अंजाम देने में सक्रिय रूप से भाग लेता है जो की एक अपराध होगा अगर वह उस व्यक्ति द्वारा किया जाता है जिसकी मानसिक क्षमता या ज्ञान दुष्प्रेरक के सामान होता है।

उकसाने के संबंध में निम्नलिखित प्रस्ताव (प्रोपोजिशन) हैं, जो धारा 108 में निहित हैं:

  • इस तथ्य के बावजूद कि दुष्प्रेरक स्वयं अवैध चूक (ओमीशन) करने के लिए बाध्य नहीं हो सकता है, फिर भी दुष्प्रेरण एक अपराध बन सकता है। जब कोई लोक सेवक (पब्लिक सर्वेंट) संहिता द्वारा शासित कर्तव्य का अवैध चूक करता है और एक निजी पक्ष (प्राइवेट पार्टी) उसे प्रोत्साहित करता है, तो निजी पक्ष उस अपराध को बढ़ावा देता है जिसके लिए लोक सेवक दोषी है, हालांकि निजी पक्ष स्वयं अपराध नहीं कर सकता था।
  • दुष्प्रेरण के अपराध के लिए दुष्प्रेरित कार्य करने की आवश्यकता नहीं है। दुष्प्रेरण कार्य पर निर्भर नहीं करता बल्कि दुष्प्रेरक के इरादे पर निर्भर करता है।
  • इस बात की कोई आवश्यकता नहीं है कि दुष्प्रेरित व्यक्ति अपराध करने के लिए कानून द्वारा सक्षम हो, या अपराध का वही इरादा या ज्ञान हो जो दुष्प्रेरण के अपराध का गठन करने के लिए उकसाने वाले के रूप में होना चाहिए। दुष्प्रेरक के आपराधिक इरादे के बावजूद, दुष्प्रेरण एक वास्तविक अपराध है; केवल एक अपराध करने के लिए केवल उकसाने की आवश्यकता है। दुष्प्रेरित व्यक्ति , जिसका अर्थ है वह व्यक्ति जिसका कार्य दुष्प्रेरक करता है, उसे कानूनी मानक (स्टैण्डर्ड) पर नहीं रखा जाता है।
  • जब दुष्प्रेरण एक अपराध है तो ऐसे दुष्प्रेरण के लिए उकसाना भी एक अपराध है।
  • साजिश अंतर्निहित (अंडरलाइंग)आपराधिक कार्य  में भाग लेने वाले के बिना दुष्प्रेरण  के अपराध का गठन कर सकती है। ऐसे मामले में, उस व्यक्ति के लिए साजिश में शामिल होना पर्याप्त है जिस साजिश द्वारा  अपराध किया गया है।

एक दुष्प्रेरण की स्थिति तब होती है जब भारत में कोई व्यक्ति, भारत के बाहर किसी भी कार्य को करने के लिए उकसाता है जो कि भारतीय दंड संहिता की धारा 108A में परिभाषित भारत में अपराध माना जायेगा।

एक दुष्प्रेरक भारतीय दंड संहिता की धारा 111 के तहत उत्तरदायी है। इस धारा के आधार पर, दुष्प्रेरक की जिम्मेदारियां एक मुख्य अपराधी के समान होती हैं। अपवाद (एक्सेप्शन) तब होते हैं जब किसी उकसावे, साजिश, या जानबूझकर सहायता के प्रभाव में और उकसावे के संभावित परिणाम के रूप में कार्य पूरे किए जाते हैं। यह एक ऐसे अपराध का दुष्प्रेरण है जिसका एक संभावित परिणाम होता है जिसके लिए उकसाने से आने की उम्मीद की जा सकती है। इसके अलावा, संभावित परिणामों का प्रमाण महत्वपूर्ण है। दुष्प्रेरक ने जो दावा किया है उसका समर्थन करने वाले साक्ष्य के अभाव में, दुष्प्रेरक को की गई कार्रवाई के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

दुष्प्रेरक को उस कार्य के लिए भी उत्तरदायी ठहराया जाएगा जो उसने उकसाने पर किया था, भले ही वह कार्य वही था या नहीं, जब तक कि उसका इरादा वही है और वह जानता था कि यह किया जाएगा। एक दुष्प्रेरक को हमेशा मुख्य अपराधी के रूप में एक ही मुकदमे में मुकदमा चलाने की आवश्यकता नहीं होती है और उस पर उस अपराध के लिए उकसाने का आरोप लगाने से पहले उसे आरोपित अपराध का दोषी ठहराया जाना चाहिए। एक सामान्य नियम के रूप में, दुष्प्रेरण को तब तक सिद्ध नहीं किया जा सकता जब तक कि कार्य किया नहीं जाता। हालांकि, यह प्रस्ताव बिना शर्त नहीं है। कुछ मामलों में, अपराधी को दोषी ठहराने के लिए सबूत पर्याप्त नहीं हो सकता है, लेकिन यह दुष्प्रेरक को दोषी ठहराने के लिए पर्याप्त हो सकता है। यदि अपराधी को संदेह के लाभ (बेनिफिट ऑफ़ डाउट) के आधार पर आरोप से बरी कर दिया जाता है, तो अदालत सबूतों और तथ्यों के आधार पर दुष्प्रेरक को दोषी ठहरा सकती है।

आपराधिक साजिश

अंग्रेजी कानून साजिश को दो व्यक्तियों के बीच कुछ ऐसा करने के लिए किए गए समझौते के रूप में परिभाषित करता है जो दूसरों के लिए हानिकारक है, जो मौजूदा कानून के विपरीत है। अपराध करने के लिए व्यक्तियों का अवैध संयोजन (कॉम्बिनेशन) ही अपराध का सार (जिस्ट) है।

मुल्काह्यो बनाम रेजिना (1868)

इस मामले में, पक्ष अवैध आव्रजन (इमिग्रेशन) को अंजाम देने के लिए एक समझौता करते हैं। यह मामला वर्ष 1870 में संशोधन के साथ भारतीय दंड संहिता में आपराधिक साजिश के अपराध को शामिल करने का कारण था। न्यायालय ने निम्नलिखित बयान दिया “जब दो या दो से अधिक व्यक्ति आपराधिक गतिविधि करने के लिए सहमत होते हैं, तो साजिश ही अपने आप में आपराधिक कार्य है I 

आपराधिक साजिश एक बड़ा अपराध है और आमतौर पर एक अन्य अपराध के साथ आरोपित किया जाता है, लेकिन दुष्प्रेरण एक वास्तविक अपराध (सब्सटैंटिव ऑफेंस) नहीं है। हत्या का एक उदाहरण लेते है जिसमें A और B अपनी संपत्ति के लिए C को मारने के लिए सहमत होते हैं। यहां,धारा 302, यानी हत्या के साथ आपराधिक साजिश की कोशिश की जाएगी, लेकिन जब हम एक उदाहरण लेते हैं जहां A ने B को C को मारने के लिए उकसाया, तो A पर केवल उकसाने का आरोप लगाया जाएगा और B पर हत्या का आरोप लगाया जाएगा।

भारतीय दंड संहिता, 1860 के तहत आपराधिक साजिश

इसे धारा 120A के तहत परिभाषित किया गया है। आपराधिक साजिश को भारतीय दंड संहिता की धारा 120A द्वारा परिभाषित किया गया है। दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच एक अवैध कार्य करने या करने के लिए एक समझौते के रूप में, या एक ऐसा कार्य जो अवैध तरीकों से अवैध नहीं है। धारा 43 के अनुसार, “अवैध” शब्द किसी ऐसी चीज को संदर्भित करता है जो एक अपराध है या जो निषिद्ध (प्रोहिबित)  है या जो नागरिक कार्रवाई (सिविल एक्शन) के लिए आधार उत्पन्न करती है।

जैसा कि धारा 120A से जुड़े प्रावधान में उल्लेख किया गया है, अपराध करने के लिए एक मात्र समझौता आपराधिक साजिश है, और आपराधिक साजिश को स्थापित करने के लिए किसी भी खुले (ओवर्ट) कार्य या चूक की आवश्यकता नहीं है। यह तभी आवश्यक है जब कोई अवैध कार्य करने की इच्छा हो जो अपराध नहीं है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि अवैध कार्य समझौते का मुख्य उद्देश्य है या केवल आकस्मिक (इंसीडेंटल) है।

सरल शब्दों में, इसे दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच अपनी प्रकृति में अवैध कार्य करने के लिए एक समझौते के रूप में कहा जा सकता है, यह महत्वहीन है कि क्या किया गया कार्य  साजिश का अंतिम उद्देश्य है, या यह केवल उस उद्देश्य के लिए आकस्मिक है , जिसके बारे में कहा जाता है कि वे आपराधिक साजिश का अपराध करते हैं।

आंध्र प्रदेश राज्य बनाम गणेश्वर राव (1963)

तत्काल मामले में, सर्वोच्च न्यायालय ने पक्ष द्वारा की गई विशेष अनुमति याचिका को स्वीकार कर लिया और हत्या के साजिशकर्ता आरोपियों को बरी कर दिया।  मामले को रिमांड पर लिया गया और उच्च न्यायालय को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा की गई टिप्पणियों पर विचार करने और उन्हें चिह्नित करने के लिए कहा गया।

एक साजिश की अनिवार्यता (एसेंशियल)

अदालत ने देवेंद्र पाल सिंह बनाम एनसीटी ऑफ दिल्ली (2002) के मामले में कुछ व्यापक आवश्यक बातें बताई हैं जो आपराधिक साजिश के बराबर हैं।  वो हैं:

  • पूरा किया जाने वाला उद्देश्य
  • पूरा करने की योजना
  • उद्देश्य को पूरा करने के लिए दो व्यक्तियों के बीच समझौता

भारतीय दंड संहिता के तहत सजा

सजा संहिता की धारा 120B  के तहत परिभाषित  है। इसमें उल्लेख किया गया है कि एक साजिश के लिए एक पक्ष, जब मौत से दंडनीय अपराध करता है, तो उसे आजीवन कारावास या 2 साल की अवधि के लिए कठोर कारावास की सजा दी जाएगी। संहिता में उल्लिखित अपराध के अलावा किसी भी साजिश को छह महीने से अधिक की अवधि के लिए कारावास या जुर्माना या दोनों से दंडित किया जाएगा।

आपराधिक साजिश के लिए एक व्यक्ति को आरोपी बनाने के लिए अभियोजन पक्ष को इन तत्वों की उपस्थिति को साबित करना होगा:

  1. कानूनी या अवेध कार्य अवैध तरह से किया गया हो।
  2. एक कार्य को करने के लिए दो या दो से अधिक व्यक्तियों के बीच समझौते
  3. मन का मिलना (मीटिंग ऑफ़ माइंड्स)
  4. उसी के लिए सजा।

दुष्प्रेरण के विपरीत, आपराधिक साजिश के अपराध को साबित करना कठिन है। अभियोजन पक्ष को आपराधिक साजिश करने के लिए दोनों पक्षों के बीच मन के मिलने को साबित करना चाहिए। लेकिन दुष्प्रेरण में, आरोपी दुष्प्रेरक के नाम की जानकारी देगा जो की प्रारंभिक चरण में जिम्मेदार है । एक साजिश साबित करने में इस्तेमाल किया गया सबूत “परिस्थितिजन्य साक्ष्य” (सर्कमस्टेंशियल एविडेंस) है। परिस्थितिजन्य साक्ष्य एक ऐसा साक्ष्य है जो मामले के प्रत्यक्ष प्रासंगिक (रिलेवेंट) तथ्यों पर आधारित है। यह ज्यादातर मामलों में प्रत्यक्ष साक्ष्य माना जाता है।

आपराधिक साजिश की मुख्य टिप्पणियों में से एक निम्न मामले में सर्वोच्च न्यायलय द्वारा दी गई थी:

परवीन बनाम हरियाणा राज्य (2020)

इस मामले में पुलिस 4 आरोपियों को एक ट्रेन में ले जा रही थी जिसमें कुछ ठग डिब्बे में घुस गए और एक पुलिसकर्मी को स्थानीय राइफल से गोली मार दी और आरोपी को बचाने की कोशिश की। पुलिस ने उन्हें पकड़ा तो मुख्य आरोपियों पर आपराधिक साजिश का मुकदमा चलाया गया। उच्च न्यायालय ने एक निर्णय दिया और मामले में एक आपराधिक साजिश की उपस्थिति का फैसला किया। आरोपियों में से एक परवीन (सोनू) ने अपने मामले पर विचार करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में एक एस.एल.पी (स्पेशल लीव पिटीशन) दायर की। सर्वोच्च न्यायालय ने मामले की सुनवाई की और उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए फैसले को एक बयान देकर रद्द कर दिया कि परिस्थितिजन्य साक्ष्य के अभाव में पक्षों के बीच मन के मिलन को साबित करने के लिए किसी व्यक्ति को आपराधिक साजिश के लिए दोषी ठहराना सुरक्षित नहीं है।

अपराध का ज्ञान

एक साजिश को साबित करने में एक अन्य महत्वपूर्ण तत्व अपराध के पूर्ण ज्ञान की उपस्थिति है। सर्वोच्च न्यायलय ने अपराध के ज्ञान का महत्व बताया और एक बयान दिया है कि भारतीय दंड संहिता की धारा 120 A  के तहत किसी व्यक्ति को साजिश के लिए मुकदमा चलाने के लिए ज्ञान होना पर्याप्त है।

महाराष्ट्र राज्य बनाम सोमनाथ थापा (1996)

इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने अपराध के ज्ञान के रूप में आपराधिक साजिश के अर्थ और व्यापक अनिवार्यता को निर्दिष्ट किया है। आपराधिक साजिश का आरोप स्थापित करने के लिए, आरोपी को अपने कृत्य के परिणामस्वरूप होने वाले अपराध का ज्ञान होना चाहिए। अदालत ने भारतीय दंड संहिता की धारा 120 A के तहत दोषी इरादे वाले साजिशकर्ताओं को दंडित किया।

भारतीय साक्ष्य अधिनियम ,1872 की धारा 10

भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 की धारा 10 में कहा गया है कि एक बार अवैध कार्य करने की साजिश साबित हो जाने के बाद, एक साजिशकर्ता के कार्य अन्य साजिशकर्ताओं के कार्य बन जाते हैं। साजिश के मामले के हिस्से के रूप में, सबूत धारा 10 के तहत स्वीकार्य होना चाहिए। किसी भी साजिशकर्ता का कोई बयान, कार्य या लेखन, भले ही वह उनके सामान्य इरादे से संबंधित हो, साजिश के अस्तित्व को साबित करने के लिए उन सभी के खिलाफ इस्तेमाल या साबित किया जा सकता है। इस तरह के एक तथ्य को स्वीकार करने से पहले, निम्नलिखित पूर्वापेक्षाएँ (प्रीरिक्विजिट) पूरी होनी चाहिए:

  • दो या दो से अधिक व्यक्तियों के पास यह मानने के लिए उचित आधार होने चाहिए कि उन्होंने कोई अपराध करने की साजिश रची है जिसपर  मुकदमा चलाया जा सकता है।
  • उनमें से किसी एक द्वारा अपने सामान्य मंशा के बारे में दिए गए किसी भी कथन, कार्य या लेखन का उपयोग दूसरों के विरुद्ध तभी किया जा सकता है जब वह उस समय के बाद किया गया हो जब वह पहली बार इरादा बना था।

अपराध की प्रकृति के कारण, बद्री राय बनाम राज्य (1958) में यह माना गया है कि साक्ष्य अधिनियम की धारा 10 को जानबूझकर तैयार किया गया है ताकि सह-साजिशकर्ता के ऐसे कृत्यों और बयानों को प्रतिवादियों के पूरे  समूह के खिलाफ स्वीकार्य होने की अनुमति दी जा सके। किसी साजिश की कल्पना करने और उसे अंजाम देने के लिए गोपनीयता और अंधेरे की जरूरत होती है। नतीजतन, अभियोजन पक्ष के लिए यह यथार्थवादी (रियलिस्टिक) नहीं है कि एक आरोपी के प्रत्येक अलग-थलग कार्य या बयान को दूसरे आरोपी के साथ जोड़ा जाए, जब तक कि उन्हें एक साथ जोड़ने वाली कोई सामान्य कड़ी न हो। सम्राट बनाम शफी अहमद (1925) में, यह फैसला सुनाया गया था कि एक साजिशकर्ता उसके लिए जिम्मेदार है जो दूसरा साजिशकर्ता उन दोनों द्वारा बनाए गए सामान्य इरादे को आगे बढ़ाने के लिए करता है, और प्रत्येक साजिशकर्ता अपने साथी साजिशकर्ता द्वारा किए गए कार्यों के लिए जिम्मेदार है।

दुष्प्रेरण और आपराधिक साजिश के बीच अंतर

निम्नलिखित बातों ने दुष्प्रेरण और आपराधिक साजिश के बीच का अंतर पर प्रकाश डाला है:

  1. अपराध में व्यक्तियों की संख्या  दुष्प्रेरण और साजिश में अलग है।  दुष्प्रेरण में, एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को प्रभावित करता है, उकसाता है जबकि एक साजिश में दो या दो से अधिक व्यक्ति अपराध के लिए समझौते में प्रवेश करते है।
  2. दुष्प्रेरण एक वास्तविक अपराध नहीं है लेकिन साजिश एक वास्तविक अपराध  है।
  3. दुष्प्रेरण भारतीय दंड संहिता की धारा 107 के तहत परिभाषित किया गया है। जबकि आपराधिक साजिश को भारतीय दंड संहिता की धारा 120-A के तहत परिभाषित किया गया है।
  4. दुष्प्रेरण के आरोपी होने के लिए, व्यक्ति द्वारा मुख्य अपराधी की सहायता करने या उकसाने या मदद करने का कार्य किया जाना चाहिए । लेकिन, एक साजिश के मामले में, यह अपराध होने के बावजूद है। अभियोजन पक्ष समझौते और कार्य के ज्ञान के लिए किसी व्यक्ति की जांच कर सकता है।
  5. एक साजिश के पक्ष को साजिशकर्ता (कोंस्पिरेटर ) कहा जाता है। लेकिन दुष्प्रेरण के मामले में, यहां दो व्यक्ति होते है जिन्हे दुष्प्रेरक और मुख्य अपराधी कहा जाता है।
  6. दुष्प्रेरक एक मुख्य अपराधी नहीं है जबकि एक साजिशकर्ता(आरोपी) एक मुख्य अपराधी है।
  7. अपराध के विस्तार के आधार पर, मजिस्ट्रेट आरोपी को जमानत दे सकता है।
  8. दुष्प्रेरण तीन तरीको से किया जा सकता है जबकि साजिश दुष्प्रेरण का एक तरीका है ।
  9. यह कहा जा सकता है कि दुष्प्रेरण एक जाति (जीनस) है, जबकि साजिश एक प्रजाति (स्पीशीज) है।
  10. दुष्प्रेरण की तुलना में आपराधिक साजिश का व्यापक अधिकार क्षेत्र है।
दुष्प्रेरण  आपराधिक साजिश
दुष्प्रेरण वाले पक्ष दुष्प्रेरक और मुख्य अपराधी हैं साजिश के पक्षकार साजिशकर्ता कहलाते हैं  
इसे भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 107 के तहत परिभाषित किया गया है इसे भारतीय दंड संहिता की धारा 120-A के तहत परिभाषित किया गया है
दुष्प्रेरक मुख्य अपराधी नहीं है एक साजिशकर्ता मुख्य अपराधी है
दुष्प्रेरण जाति (जीनस) है साजिश प्रजाति (स्पेशीज) है
यह एक वास्तविक (सब्सटेंटिव) अपराध है यह एक वास्तविक अपराध नहीं है
दुष्प्रेरक को मुख्य अपराधी के समान दंड नहीं मिल सकता है एक मामले में जितने भी साजिश करने वाले हों, उन्हें एक जैसी सजा मिलती है

भारत में सर्वोच्च न्यायालय ने और अन्य अग्रणी (लीडिंग) न्यायालय ने, साथ ही भारतीय दंड संहिता ने, निम्नलिखित मुख्य अंतर पर प्रकाश डाला:

  • दुष्प्रेरण में अपराध करने के लिए किसी अन्य व्यक्ति का होना शामिल है। दुष्प्रेरक, जैसे कि, जो व्यक्ति सहायता करता है और उकसाता है, उसे दुष्प्रेरक कहा जाता है, जबकि मुख्य अपराधी, जो की अपराध करता है, मुख्य अपराधी कहा जाता है, और साजिश एक पाठ्यक्रम या कार्यों की श्रृंखला है जबकि समझौता एक अवैध कार्य करने के लिए या / अवैध तरीकों से एक वैध / कानूनी कार्य करने के लिए दो या अधिक व्यक्तियों के बीच किया जाता है। समझौते में, पक्ष साजिशकर्ता के रूप में जाने जाते है।
  • दुष्प्रेरण एक अपराध है, जिसमें एक केवल साजिश का संयोजन या साजिशकर्ताओं के बीच समझौता ही पर्याप्त नहीं है, लेकिन लक्ष्य को पूरा करने के लिए कार्य या चूक होनी चाहिए, लेकिन एक साजिशपूर्ण समझौता  एक अपराध करने के लिए पर्याप्त होता है।  नतीजतन, एक खुला (ओवर्ट) कार्य साजिश से दुष्प्रेरण के मामले में जरूरी है।
  • दुष्प्रेरण में, एक व्यक्ति कोई कार्य कर सकता है, जबकि एक साजिश में, दो या दो से अधिक की आवश्यकता होती है।
  • दुष्प्रेरण की प्रक्रिया के दौरान, सक्षम (कंपटेंट) प्राधिकारियों (अथॉरिटीज) द्वारा मंजूरी, दुष्प्रेरक के खिलाफ आगे बढ़ने के लिए जरूरी नही होती है, क्योंकि वे सिर्फ अपराध में सहायता करते है। एक साजिश में, अपराध के दोषियों को सक्षम प्राधिकारियों द्वारा मुकदमे के लिए मंजूरी दी जानी चाहिए।
  • दुष्प्रेरण, एक जाति के अंतर्गत आता है, जबकि साजिश एक प्रजाति के अंतर्गत आता है। आपराधिक साजिश, धारा 120 B  के तहत एक वास्तविक अपराध (सब्सटेंटिव ऑफेंस) के रूप में दंडनीय है ,जबकि दुष्प्रेरण अपने आप दंडनीय नहीं है। दुष्प्रेरण को कई मायनों जैसे उकसाना, साजिश करना, जानबूझकर सहायता, आदि में किया जा सकता है, लेकिन साजिश उनमें से एक है।
  • जब अपराध को अंजाम देने’की साजिश पहले से ही भारतीय दंड संहिता के दायरे में आती है , तो धारा 120 B लागू नहीं होगी। इसी तरह, जब एक साजिश धारा 107 के तहत उकसाने के बराबर होती है, तो धारा 120 A और 120 B  को लागू करना आवश्यक नहीं है क्योंकि संहिता में विशेष रूप से प्रावधान है कि इस तरह का दुष्प्रेरण आईपीसी की धारा 109,114, 115 और 116 द्वारा दंडनीय हो सकता है। उस मामले में, धारा 120-B  के तहत आरोप तय करना अनावश्यक है जब धारा 107 के तहत आरोप मौजूद है।
  • साजिश, उकसाना और दुष्प्रेरण के बीच घनिष्ठ संबंधों के परिणामस्वरूप, आपराधिक साजिश के वास्तविक अपराध का आयाम (एम्प्लीट्यूड) धारा 107 के अंतर्गत  साजिश द्वारा दुष्प्रेरण की तुलना में व्यापक है।

विशेष रूप से, अगर हम आपराधिक साजिश और साजिश द्वारा दुष्प्रेरण के बारे में बात करते हैं, तो अंतर संकीर्ण (नैरो) लग सकता है।  आपराधिक साजिश को  धारा 120A में संबोधित किया गया है जबकि साजिश द्वारा दुष्प्रेरण को धारा 107 में बताया गया है। आपराधिक साजिश में अंतर समझौते की उपस्थिति में है, जबकि साजिश से दुष्प्रेरण में, एक निजी कार्य (प्राइवेट एक्ट) आरोपी को उत्तरदायी बनाने के लिए आवश्यक है।

धारा 107 में शामिल एक साजिश, दूसरे खंड और धारा 120-A  में पाए गए साजिश के प्रावधान के बीच अंतर के बारे में अपनी व्याख्या में, कई अदालतों ने स्पष्ट किया है कि पूर्व अपराध में,  व्यक्तियों का एक मात्र संयोजन या उन दोनों के बीच समझौता ही पर्याप्त नहीं है। जिस अपराध के लिए साजिश की गई है उसे करने के लिए किए गए कार्य या चूक में साजिश सबसे आगे होनी चाहिए; बाद वाले मामले में, वहा सिर्फ एक समझौता होना चाहिए, अगर अपराध किया जाना है। एक बार एक कार्य या अवैध चूक एक अपराध के लिए की गई साजिश के अनुसार होता है, तो साजिशकर्ता अपराध को बढ़ावा देने के लिए दोषी बन जायेंगे।

साजिश द्वारा दुष्प्रेरण अभियोजन द्वारा यह प्रदर्शित करते हुए साबित किया जाता है कि दुष्प्रेरक ने एक निश्चित कार्य करने का कार्य शुरू किया या किसी अन्य व्यक्ति या व्यक्तियों के साथ उस कार्य को करने की साजिश रची या वास्तव में उस कार्य या चूक को किसी कार्य या अवैध चूक के माध्यम से सहायता प्रदान की। आपराधिक साजिश  का दायरा साजिश द्वारा दुष्प्रेरण की अपेक्षा अधिक होता है।

कैसे न्यायपालिका आपराधिक साजिश और दुष्प्रेरण के बीच अंतर करती है

प्रमाथ नाथ तालुकदार्व बनाम सरोज रंजन सरकार (1961), अदालत ने कहा कि आपराधिक साजिश  का सार एक अवैध कार्य को करने के इरादे में है। एक अपराध को करने के लिए किया गया समझौता एक आपराधिक साजिश का गठन करता है। फिर भी, ऐसे मामलों में जहां समझौता एक अवैध कार्य करने के लिए है, लेकिन यह एक अपराध या अवैध साधनों के द्वारा नहीं किया गया है, वहा किसी अन्य कार्रवाई की जरूरत है। जैसे, वहाँ साजिश से दुष्प्रेरण और आपराधिक साजिश के बीच एक अंतर है क्योंकि वहा एक अपराध करने के लिए समझौते की जरूरत है। सरल समझौते साजिश से दुष्प्रेरण का गठन नहीं करते है। एक कार्य या चूक साजिश को अंजाम देने में किया जाना चाहिए। हालांकि, आपराधिक साजिश के मामले में कार्य अपने आप में ही अपराध है। यह समझौता या साजिश है जो अपराध का गठन करता है।

केहर सिंह बनाम राज्य (दिल्ली प्रशासन) (1988) में सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि साजिश द्वारा दुष्प्रेरण के लिए एक साधारण साजिश से अधिक सबूत होने चाहिए। एक बार धारा 120 B के तहत आरोप का प्रावधान विफल हो जाने पर, यह आवश्यक है कि अपीलकर्ताओं द्वारा उन्हें दोषी ठहराने के लिए कुछ खुला (ओवर्ट)  कार्य किया जाए।

सौरेंद्र मोहन बसु बनाम सरोज रंजन सरकार (1960) में अदालत ने कहा कि दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 196A  यह इंगित नहीं करती है कि साजिश द्वारा दुष्प्रेरण के अपराध के लिए उस धारा के तहत पूर्व मंजूरी की आवश्यकता होती है।  इस तरह के पिछले प्रतिबंध केवल उन मामलों में आवश्यक हैं जहां साजिश का आरोप शुद्ध और सरल है, चाहे वह एक अभियोग (इंडिक्टेबल) या गैर-अभियोग अपराध या कोई अवैध कार्य करना हो। इसके अलावा, न्यायालय ने कहा कि जालसाजी (फॉर्जरी) के लिए दुष्प्रेरण के अपराध का संज्ञान लेने के लिए धारा 196A के तहत पिछली मंजूरी की आवश्यकता नहीं है।

निष्कर्ष

पूर्ण (कोएट) अपराध वे होते हैं जो पूर्ण होते हैं और अपराध के 4 चरणों में, पक्षों द्वारा अवैध कार्य किया जाता है। यदि अपराध नहीं किया गया है, लेकिन योजना और तैयारी के सभी चरणों को पूरा कर लिया गया है, तो इसे एक अपूर्ण या अधूरा अपराध माना जाता है। दुष्प्रेरण और आपराधिक साजिश दो ऐसे अपराध हैं जिन्हें अधिकतर अपूर्ण अपराधों के रूप में देखा जाता है।

भारत के दंड कानून में सभी आवश्यक प्रावधान हैं जो एक देश के पास होने चाहिए, लेकिन उसका निष्पादन (एक्जिक्यूशन) सही तरीके से नहीं किया जा रहा है और इसमें व्यावसायिकता (प्रोफेशनलिज्म) का अभाव है। आपराधिक साजिश और दुष्प्रेरण से संबंधित कानूनों को संशोधित करने की आवश्यकता है ताकि सामाजिक कल्याण आसानी से प्राप्त किया जा सके।  अदालतों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि जनता को प्रदान किए गए न्याय की गुणवत्ता (क्वॉलिटी) सही होनी चाहिए क्योंकि देश में अपराध दर बड़े पैमाने पर बढ़ रही है।

संदर्भ 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here