कंपनी अधिनियम के तहत शेयर – अर्थ, प्रकृति और प्रकार

1
4758
Companies Act
Image Source- https://rb.gy/qdmmxn

यह लेख Sneha Chawla ने एनयूजेएस, कोलकाता से एंटरप्रेन्योरशिप एडमिनिस्ट्रेशन और बिजनेस लॉस में डिप्लोमा करते हुए लिखा गया है। इस लेख में नए कंपनी अधिनियम 2013 के तहत शेयर के बारे में चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Shreya Prakash द्वारा किया गया है।

परिचय

कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 2 की उप-धारा 84, “शेयर” को परिभाषित करती है। “शेयर” का अर्थ, स्टॉक सहित किसी कंपनी की शेयर पूंजी (कैपिटल) में एक हिस्सा है। शेयरों को एक प्रकार की सुरक्षा माना जाता है। प्रतिभूतियों (सिक्योरिटीस) को उक्त अधिनियम की धारा 2 की उप-धारा 80 में परिभाषित किया गया है, जो प्रतिभूति अनुबंध अधिनियम (सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट्स एक्ट), 1956 की धारा 2 के खंड (h) में परिभाषित प्रतिभूतियों की परिभाषा को संदर्भित करता है।

उक्त अधिनियम की धारा 44 के अनुसार, कंपनी में किसी भी सदस्य के शेयर चल संपत्ति (मूवेबल प्रॉपर्टी) होंगे। इसे कंपनी के लेखों द्वारा प्रदान किए गए तरीके से हस्तांतरणीय (ट्रांसफरेबल) माना जाता है।

उक्त अधिनियम की धारा 45 के अनुसार, यह सुनिश्चित करने के लिए शेयर पूंजी रखने वाली सभी कंपनियों के लिए अनिवार्य है कि कंपनी के शेयरों को एक विशिष्ट (डिस्टिंक्टिव) संख्या से अलग किया जाएगा। यह अपेक्षा उस स्थिति में लागू नहीं होती है जब शेयर किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा धारित किया जाता है, जिसका नाम डिपॉजिटरी के रिकॉर्ड में लाभकारी हित धारक (होल्डर ऑफ बेनिफिशियल इंटरेस्ट) के रूप में दर्ज किया गया है।

प्रतिभूतियों का आवंटन (एलॉटमेंट)

शेयरों की पेशकश मूल रूप से तब की जाती है जब कंपनी द्वारा आवेदन फॉर्म की आपूर्ति (सप्लाई) की जाती है। जब कोई आवेदन स्वीकार किया जाता है, तो इसे आवंटन माना जाता है। इसे किसी कंपनी की पहले की गैर-विनियोजित पूंजी (अन– एप्रोप्रिएटेड कैपिटल) में से एक विनियोग (एप्रोप्रिएशन) के रूप में माना जाता है। नतीजतन जहां जब्त किए गए शेयरों को फिर से जारी किया जाता है, यह आवंटन के समान नहीं होता है।

आवंटन को वैध माने जाने के लिए इसे अनुबंध के कानून की आवश्यकताओं और सिद्धांतों का पालन करना होगा, जो प्रस्तावों की स्वीकृति के संबंध में है।

आवंटन पर वैधानिक प्रतिबंध (स्टेच्यूटरी रिस्ट्रिक्शंस)

1. न्यूनतम सदस्यता (मिनिमम सब्सक्रिप्शन) और आवेदन राशि (एप्लीकेशन मनी)

कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 49 के अनुसार वैध आवंटन की पहली आवश्यकता न्यूनतम सदस्यता है। कंपनी के दिए गए प्रॉस्पेक्टस में न्यूनतम सदस्यता की राशि बताई जाएगी, जब शेयर जनता को पेश किए जाते हैं। कोई शेयर तब तक आवंटित नहीं किया जाएगा जब तक कि एक निर्दिष्ट राशि की सदस्यता नहीं ली जाती है और आवेदन राशि, जो कि अपील से कम नहीं होगी, को सफल माना जाएगा, और स्टॉक एक्सचेंज के निर्णय को रद्द कर दिया जाएगा और लिस्टिंग की अनुमति दी जाएगी। ऐसे, आवंटन को भी बचाया जाएगा।

2. ओवर-सब्सक्राइब्ड प्रॉस्पेक्टस

एक आवंटन वैध होता है जब स्टॉक एक्सचेंज की अनुमति दी जाती है और प्रॉस्पेक्टस को प्राप्त धन के ओवर-सब्सक्राइब हिस्से के रूप में माना जाता है, और इसे आवेदकों को दिए गए समय सीमा के भीतर वापस भेज दिया जाता है।

शेयरों के आवंटन के सिद्धांत

1. उचित प्राधिकारी (प्रॉपर अथॉरिटी) द्वारा शेयरों का आवंटन

आवंटन आम तौर पर एक रेजोल्यूशन द्वारा किया जाता है, जिसमें निदेशक मंडल (बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स) होता है। लेकिन जहां इस तरह की आर्टिकल्स उपलब्ध कराई जाती थीं, वहां सचिवों द्वारा किए गए आवंटन को नियमित माना जाता था।

2. उचित समय के भीतर

आवंटन मूल रूप से एक उचित या निर्दिष्ट अवधि के भीतर किया जाता है अन्यथा आवेदन समाप्त हो जाएगा। आवेदन और आवंटन के बीच छह महीने की निर्दिष्ट समय सीमा को उचित नहीं माना जाता है।

3. सूचित किया जाएगा

यह प्राथमिक है कि आवेदक को आवंटन का संचार (कम्युनिकेशन) होना चाहिए। आवंटन के उचित पते और मुहर लगे पत्र को पोस्ट करना पर्याप्त संचार के रूप में माना जाता है, भले ही पत्र में देरी हो या वह खो गया हो।

4. निरपेक्ष (एब्सोल्यूट) और बिना शर्त के (अनकंडीशनल)

आवेदक के नियम और शर्तों के अनुसार आवंटन निरपेक्ष और बिना शर्त के होना चाहिए। इस प्रकार जहां एक व्यक्ति ने इस शर्त पर 400 शेयरों के लिए आवेदन किया कि उसे कंपनी की एक नई शाखा का कैशियर नियुक्त किया जाएगा, बॉम्बे उच्च न्यायालय ने माना कि वह किसी भी आवंटन से बाध्य नहीं था जब तक कि उसे नियुक्त नहीं किया गया हो।

ग्लोबल डिपॉजिटरी रिसिप्ट

जैसा कि कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 41 के तहत दिया गया है, एक कंपनी अपनी आम बैठक (जनरल मीटिंग) में एक प्रस्ताव पारित कर सकती है, जिसमें कंपनी द्वारा निर्धारित शर्तों के अधीन किसी भी विदेशी देश में डिपॉजिटरी रिसिप्ट जारी करने के लिए अधिकृत किया जा सकता है।

निजी कार्य नियुक्ति (प्राइवेट प्लेसमेंट)

कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 42 के अनुसार, कोई भी कंपनी निजी कार्य नियुक्ति के लिए प्रस्ताव पत्र जारी करके निजी कार्य नियुक्ति कर सकती है। ऐसे नियुक्ति पर धारा 42 के प्रावधान लागू होते हैं। प्रतिभूतियों का प्रस्ताव या प्रतिभूतियों के लिए सदस्यता का निमंत्रण कई व्यक्तियों को दिया जा सकता है, लेकिन 50 से अधिक नहीं या उतनी अधिक संख्या में जो निर्धारित की गई है। यह संख्या धारा 62(1)(b) के प्रावधानों के अनुसार कर्मचारी स्टॉक विकल्प (एम्प्लॉय स्टॉक ऑप्शन) की एक योजना के तहत प्रतिभूतियों का प्रस्ताव कर रही कंपनी के योग्य संस्थागत खरीदारों और कर्मचारियों को शामिल करने के लिए नहीं है। यह एक वित्तीय वर्ष में और ऐसी शर्तों पर किया जा सकता है, जैसा कि निर्धारित किया जा सकता है, जिसमें निजी नियुक्ति के रूप और तरीके को शामिल करना होता है।

उप-धारा (2) के लिए पहला स्पष्टीकरण प्रदान करता है कि निर्धारित संख्या से अधिक लोगों के लिए निजी नियुक्ति का प्रस्ताव जनता के लिए एक प्रस्ताव माना जाता है और सार्वजनिक मुद्दों से संबंधित (धारा 23-41) के प्रावधानों द्वारा शासित होता है। यह ऐसा होगा कि कंपनी भारत में या उसके बाहर भर्ती के लिए जाने का इरादा रखती है या नहीं।

उप-धारा (2) के दूसरे स्पष्टीकरण में कहा गया है कि इस उप-धारा के उद्देश्यों के लिए, इसमें प्रयुक्त अभिव्यक्ति का निम्नलिखित अर्थ होगा –

“एक योग्य संस्थागत खरीदार (क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर)” का अर्थ सेबी (पूंजी का मुद्दा और प्रकटीकरण आवश्यकताएँ) विनियम, (सेबी (इश्यू ऑफ कैपिटल एंड डिस्क्लोजर रिक्वायरमेंट्स) रेगुलेशन) 2009 में समय-समय पर संशोधित के रूप में परिभाषित किया गया है।

धारा 42(3) के अनुसार कंपनी द्वारा कोई नया प्रस्ताव या निमंत्रण तब तक नहीं दिया जाना चाहिए जब तक कि किसी पहले प्रस्ताव के तहत आवंटन पूरा नहीं किया गया हो या उस प्रस्ताव को वापस ले लिया गया हो या छोड़ दिया गया हो।

सदस्यता के लिए देय सभी धन का भुगतान चेक या डिमांड ड्राफ्ट या अन्य बैंकिंग चैनलों के माध्यम से किया जाना है और न कि नकद में।

धारा 42(5) के अनुसार आवेदन राशि प्राप्त होने के 60 दिनों के भीतर प्रतिभूतियों का आवंटन किया जाता है, ऐसा नहीं करने पर आवेदन राशि को 15 दिनों के भीतर वापस करना होगा अन्यथा उसपर 12% ब्याज प्रभार्य (चार्जेबल) हो जाएगा। आवेदन पर प्राप्त धन को एक अनुसूचित बैंक में एक अलग बैंक खाते में रखा जाता है और इसका उपयोग केवल प्रतिभूतियों के आवंटन के खिलाफ समायोजन या धारा 42(6) के तहत वापसी के लिए किया जाता है।

प्रस्ताव केवल उन्हीं व्यक्तियों को दिया जा सकता है जिनके नाम प्रस्ताव से पहले कंपनी द्वारा दर्ज किए गए हैं। उन्हें नाम से प्रस्ताव प्राप्त करना चाहिए। ऐसे प्रस्तावों का पूरा रिकॉर्ड कंपनी को निर्धारित तरीके से रखना होता है। संबंधित निजी कार्य नियुक्ति प्रस्ताव पत्र के सर्कुलेशन के 30 दिनों की अवधि के भीतर एक प्रस्ताव के बारे में पूरी जानकारी रजिस्ट्रार के पास दाखिल की जाती है। जैसा कि धारा 42 (7) के तहत दिया गया है, इस धारा के तहत प्रतिभूतियों का प्रस्ताव करने वाली कंपनी किसी भी सार्वजनिक विज्ञापन को जारी नहीं करती है या किसी भी मीडिया, विपणन (मार्केटिंग) वितरण चैनलों या एजेंटों का उपयोग जनता को प्रस्ताव के बारे में सूचित करने के लिए नहीं करती है।

धारा 42 (8) बताती है कि आवंटन करने के बाद, कंपनी रजिस्ट्रार के पास कंपनी द्वारा निर्धारित आवंटन की एक रिटर्न दाखिल करेगी जिसमें सभी सुरक्षा धारकों की पूरी सूची उनके पूरे नाम, पते, प्रतिभूतियों की आवंटित संख्या और कोई अन्य जानकारी भी होगी।

डिफ़ॉल्ट के लिए परिणाम

धारा 42(10) एक स्पष्टीकरण प्रदान करती है, जिसमें कहा गया है कि धारा का कोई भी उल्लंघन कंपनी, उसके प्रमोटरों और निदेशकों को दंड के लिए उत्तरदायी करेगा, जो प्रस्ताव में शामिल राशि तक बढ़ सकता है, या दो करोड़ रुपये भी हो सकता है, जो भी अधिक हो। कंपनी तब जुर्माना लगाने के आदेश के 30 दिनों की निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर ग्राहकों को पैसे वापस करने की स्थिति में होगी।

शेयरों की संख्या

किसी कंपनी के प्रत्येक शेयर को उसकी विशिष्ट संख्या से अलग करना होता है। इस घोषणा के परंतुक (प्रोविसो) में कहा गया है कि यह धारा किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा रखे गए शेयर पर लागू नहीं होती है जिसका नाम डिपॉजिटरी के रिकॉर्ड में शेयर में लाभकारी हित धारक के रूप में दर्ज किया गया है।

शेयरों के लिए प्रमाणन

एक आवंटी को आम तौर पर कंपनी से एक दस्तावेज, यानी शेयर प्रमाणपत्र प्राप्त करने की अनुमति होती है और यह प्रमाणपत्र प्रमाणित करता है कि आवंटी कंपनी में निर्दिष्ट संख्या में शेयरों का धारक है। डिपॉजिटरी रिकॉर्ड में शेयरों को उनकी विशिष्ट संख्या देने की आवश्यकता नहीं होती है। आवंटी द्वारा कंपनी को देय किसी भी देय राशि के लिए ग्रहणाधिकार (लीन) का अधिकार देकर अपना प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए एक आवंटी के अधिकार को पराजित नहीं किया जा सकता है।

कंपनी के पंजीकृत कार्यालय के अलावा किसी अन्य स्थान पर शिकायत दर्ज करने की अनुमति दी गई थी।

प्रतिलिपि (डुप्लीकेट) प्रमाण पत्र

एक शेयरधारक अपने प्रमाण पत्र को सावधानीपूर्वक संरक्षित और संग्रहीत (स्टोर) करेगा क्योंकि उसे बाद में एक प्रतिलिपि पत्र जारी नहीं किया जाएगा जब तक कि वह यह नहीं दिखाता है कि मूल प्रमाण पत्र खो गया है, क्षतिग्रस्त (डैमेज) हो गया है या किसी भी तरह से नष्ट हो गया है या कंपनी को समर्पण (सरेंडर) कर दिया गया है।

संदर्भ

  • Section 44 of Companies Act,2013,
  • Section 45 of Companies Act,2013,
  • CIT v SSV Meenakshi, (1984) 55 Comp Cas 545. In Plate Dealers Assn ,
  • Rishyashringa  Jewellers Ltd v Bombay Stock Exchange, (1995) 6 SCC 714:AIR 1996 SC 480,
  • See, Ss. 4,5 and 6, Indian Contract Act, 1872,
  • Ramanbhai v Ghasiram, ILR (1918) 42 Bom 595,
  • Section 41 of Companies Act 2013,
  • Section 42 of Companies Act 2013,
  • Section 46 of Companies Act, 2013,
  • Section 46 of Companies Act, 2013.

 

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here