भारतीय दंड संहिता की धारा 498A

0
5523
Indian Penal Code

यह लेख क्राइस्ट (डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी), बेंगलुरु की कानून की छात्रा Sanjana Santhosh द्वारा लिखा गया है। यह लेख भारतीय दंड संहिता की धारा 498A के तहत अपराध की प्रकृति, महत्व और संवैधानिक वैधता के साथ-साथ इस प्रावधान के संभावित दुरुपयोग और दुरुपयोग के उपाय के बारे में बताता है। यह लेख क्रूरता की अवधारणा और धारा 498A के खिलाफ सुरक्षा मांगने की प्रक्रिया के साथ-साथ इस विषय पर ऐतिहासिक निर्णयों की भी व्याख्या करता है। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

शब्द “घरेलू हिंसा”, हिंसा या दुर्व्यवहार के किसी भी कार्य को संदर्भित करता है, जिसमें मानसिक, शारीरिक और यौन शोषण (सेक्शुअल अब्यूज) शामिल है, जो घरेलू वातावरण में होता है, जैसे विवाह या सहवास (कोहेबिटेशन) संबंध; शब्द “अंतरंग (इंटिमेट) साथी हिंसा” घरेलू हिंसा का एक और प्रचलित नाम है। भारत में दहेज, पुरुष प्रभुत्व (डोमिनेंस) और संयुक्त परिवार संरचनाओं के सांस्कृतिक मानदंड (नॉर्म्स) इस घटना को अन्य जगहों की तुलना में अधिक सामान्य बनाते हैं। नतीजतन, ये तत्व इस संभावना में और योगदान करते हैं कि महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकार हो सकती हैं। जहां दहेज की उम्मीद की जाती है और प्राप्त नहीं होता है या जहां प्राप्त दहेज की राशि पर्याप्त नहीं होती है, तो महिलाओं को अक्सर पति और उसके परिवार दोनों से दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है।

इस तरह के मामलों की रिपोर्टिंग से जुड़े सामाजिक कलंक और अन्य लोग इसके बारे में क्या सोचते हैं, इसके साथ सामान्य भारतीय पूर्वाग्रह (प्रेजुडिस) के कारण, आंकड़े एक गलत तस्वीर पेश करते हैं। जब कोई पीड़ित अपनी चोटों से मर जाता है, आत्महत्या कर लेता है, या चिकित्सा की तलाश करता है, तभी मामला पुलिस और अदालतों में जाता है। कम गंभीरता का दुरुपयोग आमतौर पर छुपाया जाता है। 1983 से पहले घरेलू दुर्व्यवहार को संबोधित करने वाले भारतीय कानून में कोई प्रावधान नहीं था। भारतीय दंड संहिता, 1860 में धारा 498A को सम्मिलित करते हुए 1983 में संसोधन किया गया था। महिला जीवनसाथी के खिलाफ ‘वैवाहिक क्रूरता’ धारा 498A का विषय है। भारत में हाल के कानून के साथ, वैवाहिक क्रूरता अब एक दंडनीय अपराध है जिसे अदालत से बाहर नहीं सुलझाया जा सकता है।

आईपीसी की धारा 498A 

1983 में, आपराधिक कानून (द्वितीय संशोधन) अधिनियम के पारित होने के साथ, धारा 498A को आइपीसी में जोड़ा गया था। इस खंड का लक्ष्य पति या परिवार के अन्य सदस्यों को दहेज के लिए पत्नी को प्रताड़ित करने से रोकना है और ऐसा करने पर उन्हें दंडित करना है। 1983 से पहले अपने पति या ससुराल वालों द्वारा पत्नी के उत्पीड़न के लिए लागू किए गए हमले, चोट, गंभीर रूप से चोट या हत्या से निपटने वाली आईपीसी की सामान्य धाराएँ थी। हालाँकि, दुल्हन को जलाने और महिलाओं के खिलाफ अन्य हिंसा की बढ़ती घटनाओं, विशेषकर युवा महिलाओं, जो नवविवाहित हैं, ने सभी का ध्यान खींचा। महिलाओं के खिलाफ किए गए जघन्य (हीनियस) अपराधों को संबोधित करने के लिए सामान्य आईपीसी प्रावधानों को अपर्याप्त माना गया। संसद ने फैसला किया कि इस मुद्दे को सीधे संबोधित करने के लिए कानून की तीन चीज़े आवश्यक थीं:

  • पति और पति के रिश्तेदारों द्वारा महिलाओं के प्रति क्रूरता के अंतर्निहित (अंडरलाइंग) अपराध को परिभाषित करना।
  • महिलाओं की विशिष्ट मौतों की जांच की आवश्यकता वाली नीतियों को लागू करना।
  • महिलाओं के खिलाफ हिंसा के अपराधियों को और आसानी से न्याय के कटघरे में लाने के लिए, भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 में संशोधन करना आवश्यक है।

इस समस्या के आलोक में, भारतीय दंड संहिता (आइपीसी) में संशोधन करके धारा 498A और धारा 304B (दहेज हत्या) दोनों को शामिल किया गया था। बाद में, आपराधिक प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 174 को एक महिला की शादी के सात साल के भीतर उसकी आत्महत्या या संदेहास्पद मौत की स्थिति में कार्यकारी (एग्जिक्यूटिव) मजिस्ट्रेट द्वारा पूछताछ की आवश्यकता के लिए संशोधित किया गया था। साक्ष्य अधिनियम की एक नई धारा 113B में कहा गया है कि यदि यह साबित हो जाता है कि दहेज की मांग के संबंध में किसी व्यक्ति द्वारा क्रूरता या उत्पीड़न के संपर्क में आने के तुरंत बाद एक महिला की मृत्यु हो गई, तो यह माना जाएगा कि उत्पीड़क महिला की मौत के लिए जिम्मेदार था।

धारा 498A का उद्देश्य विवाहित महिलाओं को उनके पति या उनके पति के परिवार के सदस्यों द्वारा दुर्व्यवहार से बचाना है। जेल में अधिकतम तीन साल की सजा और 30 हजार रुपये जुर्माना निर्धारित किया गया है। शब्द “क्रूरता” को आम तौर पर महिला या उसके परिवार पर किसी भी संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा (वैल्युएबल सिक्योरिटी) के लिए किसी भी गैरकानूनी मांग को पूरा करने के इरादे से उत्पीड़न करने साथ ही महिला के शरीर या स्वास्थ्य को शारीरिक या मानसिक नुकसान पहुंचाने वाले कार्यों को शामिल करने के लिए परिभाषित किया गया है। एक महिला की दहेज देने की क्षमता पर आधारित उत्पीड़न धारा के अंतिम उपधारा के दायरे में आता है। “क्रूरता” का तत्व एक ऐसी परिस्थिति को बता रहा है जिसमें महिला को अपनी जान लेने के लिए प्रेरित किया जाता है।

धारा 498A की अनिवार्यताएं

इस धारा को लागू करने के लिए, कुछ आवश्यक शर्तें पूरी की जानी चाहिए। इनमें से कुछ निम्नलिखित हैं:

  1. यह आवश्यक है कि वह एक विवाहित महिला हो। यह प्रावधान पत्नियों और महिला रिश्तेदारों को उनके पति और/या पुरुष रिश्तेदारों के अपमानजनक व्यवहार से बचाने के लिए जोड़ा गया था।
  2. उस महिला ने या तो क्रूरता या उत्पीड़न का अनुभव किया होगा। शब्द “क्रूरता” विभिन्न प्रकार के व्यवहारों को संदर्भित कर सकता है। दहेज की मांग करना अपने आप में कठोर है।
  3. इस तरह के क्रूर उत्पीड़न को या तो पति या पति के परिवार द्वारा प्रदर्शित किया जाना चाहिए था।

धारा 498A के तहत अपराध की प्रकृति

धारा 498A अपराध की प्रकृति निम्न है:

  1. संज्ञेय (कॉग्निजेबल) अपराध: संज्ञेय अपराध वे होते हैं जिनमें पुलिस बिना वारंट के गिरफ्तार कर सकती है, जबकि गैर-संज्ञेय (नॉन कॉग्निजेबल) अपराध वे होते हैं जिनमें पुलिस बिना वारंट के गिरफ्तार नहीं कर सकती है। कानूनी परिभाषा को पूरा करने वाले किसी भी अपराध की रिपोर्ट और जांच करना कानून प्रवर्तन (एनफोर्समेंट) का दायित्व है।
  2. गैर-जमानती: यदि धारा 498A के तहत शिकायत दर्ज की जाती है, तो मजिस्ट्रेट जमानत से इनकार कर सकता है और जमानत की सुनवाई की आवश्यकता के बिना अभियुक्त  को अदालत या पुलिस हिरासत में भेज सकता है।
  3. नॉन-कम्पाउंडेबल: एक याचिकाकर्ता नॉन-कम्पाउंडेबल मामले को वापस नहीं ले सकता है यानी भारतीय राज्य आंध्र प्रदेश के अपवाद के साथ अदालत के बाहर (जैसे कि बलात्कार या 498A का चार्ज) समझौता नहीं कर सकता है, जहां बाद के आरोप को कंपाउंडेबल कर दिया गया है।

धारा 498A के तहत सजा

धारा 498A के तहत अपराध एक गंभीर अपराध है और इसके लिए कारावास और जुर्माने की गंभीर सजा हो सकती है। धारा 498A के अनुसार, यदि किसी विवाहित महिला के पति या किसी रिश्तेदार पर उस महिला को क्रूरता या किसी मानसिक या मनोवैज्ञानिक (साइकोलॉजिकल) कार्य के अधीन करने का आरोप लगाया जाता है, जो उत्पीड़न की श्रेणी में आता है, तो उसे कारावास की सजा दी जा सकती है जिसकी अवधि को 3 साल तक बढ़ाया जा सकता है और वाह जुर्माने के लिए भी उत्तरदायी होगा।

धारा 498A के अंतर्गत क्रूरता आती है

क्रूरता किसी अन्य व्यक्ति या जानवर को दर्द या संकट का जानबूझकर या लापरवाही से प्रवृत्त (इनफ्लिक्शन) करना है। आपराधिक कानून के तहत, क्रूरता का अर्थ दंड, यातना (टॉर्चर), उत्पीड़न, क्रूर व्यवहार आदि हो सकता है। इसका अर्थ व्यक्तियों के प्रति ‘अमानवीय’ व्यवहार भी हो सकता है। जब एक व्यक्ति जानबूझकर दूसरे को नुकसान पहुँचाता है या नुकसान को रोकने के लिए कुछ भी नहीं करता है, तो इसे क्रूरता कहा जाता है। क्रूरता निस्संदेह एक काफी सामान्य वाक्यांश है जिसमें अवधारणाओं की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल हो सकती है। किसी भी प्रकार की क्रूरता, चाहे वह शारीरिक, मानसिक या भावनात्मक हो, अस्वीकार्य है। धारा 498A के तहत इरादतन और अनजाने में मनोवैज्ञानिक और शारीरिक नुकसान दोनों को संरक्षित किया गया है।

इसकी शर्तों के अनुसार, निम्नलिखित में महिलाओं के प्रति क्रूरता और/या उत्पीड़न के कार्य शामिल हैं:

  • जानबूझकर किसी महिला को इस हद तक उकसाना कि वह आत्महत्या कर ले
  • यदि किसी की हरकतें जानबूझकर की गई हैं और इससे किसी महिला को गंभीर नुकसान हो सकता है, तो उस पर आरोप लग सकते हैं।
  • कोई भी इरादतन कार्य जो महिला के शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य या उसके जीवन के लिए जोखिम पैदा करता है,
  • किसी संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा की गैरकानूनी मांग को पूरा करने के लिए उसे या उसके परिवार के सदस्यों को मजबूर करने के इरादे से महिला का उत्पीड़न,
  • दहेज नहीं देने पर महिला के साथ अभद्र (अब्यूजिव) व्यवहार करना।

उत्पीड़न और क्रूरता, उनकी सामान्य अर्थ परिभाषाओं में, लगातार और शत्रुतापूर्ण हस्तक्षेप या धमकियों के माध्यम से किसी को अंतहीन मानसिक पीड़ा के अधीन करना है। अगर पत्नी या उसके परिवार को संपत्ति या महत्वपूर्ण सुरक्षा छोड़ने के इरादे से इस तरह से परेशान किया जाता है, तो यह धारा 498A का उल्लंघन करता है। किसी से जो आप चाहते हैं वह करने के लिए बल या धमकी का उपयोग करना “ज़बरदस्ती” कहलाता है।

कालियापेरुमल बनाम तमिलनाडु राज्य (2003) के मामले में, यह फैसला सुनाया गया कि क्रूरता धारा 304B और धारा 498A दोनों अपराधों का एक आवश्यक तत्व है। भारतीय दंड संहिता की धारा 498A के तहत एक अपराध का दोषी पाया जाना संभव है, भले ही आपको दहेज से संबंधित मौत के लिए धारा 304B के तहत अपराध का दोषी नहीं पाया गया हो। धारा 498A के व्याख्यात्मक नोट “क्रूरता” को परिभाषित करते हैं। हालांकि धारा 304B में कोई परिभाषा प्रदान नहीं की गई है, धारा 498A में प्रदान की गई “क्रूरता” या “उत्पीड़न” की परिभाषा धारा 304B पर भी लागू होती है। आईपीसी की धारा 304B के तहत दहेज हत्या माने जाने के लिए, पीड़िता की मृत्यु, जोड़े के विवाह के पहले सात वर्षों के दौरान हुई होगी, जबकि धारा 498A के तहत, क्रूरता अकेले अपराध का गठन करती है। हालांकि, धारा 498A में ऐसी समय सीमा का कोई जिक्र नहीं है।

इंदर राज मलिक बनाम सुनीता मलिक (1986), के मामले में यह निर्धारित किया गया था कि धारा 498A की व्याख्या “क्रूरता” शब्द को परिभाषित करती है, जिसमें किसी महिला को परेशान करने के उद्देश्य से उसे या किसी संबद्ध व्यक्ति को किसी भी संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा की किसी भी गैरकानूनी मांग को पूरा करने के लिए मजबूर करने जैसे कार्य शामिल हैं। 

ऐसे मामले में जहां पति का विवाहेतर संबंध (एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर) है और वह नियमित रूप से अपनी पत्नी पर हमला करता है, ऐसी परिस्थितियां आईपीसी की धारा 498A के स्पष्टीकरण (a) के तहत “लगातार क्रूरता” की परिभाषा को संतुष्ट करती हैं, और पति को आईपीसी की धारा 306 के तहत आत्महत्या के लिए उकसाने का दोषी पाया जा सकता है। 

शारीरिक पीड़ा देना शारीरिक क्रूरता के रूप में जाना जाता है। किसी भी प्रकार की शारीरिक हिंसा, जिसमें पिटाई, जलाना, मुक्का मारना, काटना, अंगों को मरोड़ना, मारना, गला घोंटना आदि शामिल हैं, लेकिन यह बस यहां तक सीमित नहीं है, को शारीरिक क्रूरता माना जाता है। ज्यादातर मामलों में आंखों से शारीरिक क्रूरता का पता लगाया जा सकता है। जैसा कि “शारीरिक क्रूरता” शब्द का तात्पर्य है, इस प्रकार की क्रूरता में किसी अन्य व्यक्ति पर वास्तविक शारीरिक दर्द या पीड़ा का प्रकोप शामिल है। शारीरिक स्तर पर दुर्व्यवहार स्पष्ट संकेत छोड़ता है, जैसे खरोंच और टूटी हुई हड्डियाँ। शारीरिक आक्रामकता (एग्रेशन) का कोई भी कार्य जो किसी के जीवन, अंगों या स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है या जोखिम पैदा करता है।

मौखिक या अमौखिक दुर्व्यवहार का कोई भी रूप, जैसे चिल्लाना, गाली देना, धमकी देना या किसी अन्य व्यक्ति को डराना, मानसिक क्रूरता का कार्य है। नकारात्मक शब्द और विचार उतने ही हानिकारक हैं जितने कि शारीरिक हिंसा है। शारीरिक शोषण के विपरीत, मानसिक क्रूरता के साक्ष्य जुटाना अधिक चुनौतीपूर्ण होता है।

भारतीय दंड संहिता, विशेष रूप से धारा 498A, किसी व्यक्ति की मानसिक स्थिति के खिलाफ दुर्व्यवहार के वास्तविक कार्य और कार्य के प्रयास दोनों को दंडित करती है। फलस्वरूप, यदि पति या पति के परिवार के सदस्य पत्नी के साथ क्रूरता करते हैं, चाहे शारीरिक या मानसिक क्रूरता, जो महिला को आत्महत्या करने के लिए प्रेरित करती है या महिला के जीवन, अंग, या मानसिक या शारीरिक स्वास्थ्य के लिए कोई गंभीर चोट या खतरा पैदा करना, या यदि वे किसी संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा की गैरकानूनी मांग को पूरा करने के लिए महिला को उसके या उसके परिवार के सदस्यों को मजबूर करने के इरादे से परेशान करते हैं। 

केवल पति या उसके परिवार के सदस्य ही धारा 498A के तहत उत्तरदायी ठहराए जा सकते हैं। हालाँकि, “रिश्तेदार” शब्द को यहाँ परिभाषित नहीं किया गया है। न्यायालय के फैसलों से पता चलता है कि यह प्रावधान आमतौर पर पति के तत्काल परिवार पर लागू होता है, जिसमें उसके माता-पिता, भाई-बहन और ससुराल वाले शामिल होते हैं। यदि “दूसरी पत्नी” का “पति” उससे शादी करता है, जबकि उसकी पहली कानूनी शादी अभी भी प्रभावी है, तो “दूसरी पत्नी” धारा 498A के तहत “पति या उसके रिश्तेदार” पर उनके द्वारा की गई किसी भी क्रूरता के लिए मुकदमा नहीं कर सकती है, जैसा कि नल्ला तिरुपति रेड्डी और अन्य बनाम तेलंगाना राज्य (2014) के मामले में तर्क दिया गया था। सर्वोच्च न्यायालय ने 498A के पीछे विधायी उद्देश्य का हवाला देते हुए असहमति जताई थी।

धारा 498A के तहत शामिल क्रूरता के उदाहरण

आइपीसी की धारा 498A के तहत शामिल क्रूरता के कुछ उदाहरण निम्नलिखित है:-

  • दहेज की लगातार मांग से क्रूरता
  • झूठी और तंग करने वाली मुकदमेबाजी द्वारा क्रूरता
  • वंचित और व्यर्थ की आदतों से क्रूरता
  • विवाहेतर संबंधों द्वारा क्रूरता
  • दहेज की मांग पर प्रताड़ित करना और क्रूरता करना
  • बालिकाओं को स्वीकार न करने पर क्रूरता
  • पत्नी को लिंग निर्धारण परीक्षण (सेक्स डिटरमिनेशन टेस्ट) के लिए मजबूर कर क्रूरता
  • पवित्रता पर झूठे हमलों से क्रूरता
  • बच्चों को छीनकर क्रूरता 
  • पत्नी को पीटना या शारीरिक रूप से चोट पहुँचाना (शराब के प्रभाव में या नहीं) द्वारा क्रूरता

धारा 498A की संवैधानिक वैधता

इंदर राज मलिक और अन्य बनाम श्रीमती सुमिता मलिक (1986) के मामले में यह दावा किया गया था कि धारा 498A भारत के संविधान के अनुच्छेद 14 और अनुच्छेद 20(2) के खिलाफ है। दहेज निषेध अधिनियम, 1961 इसी तरह के मुद्दों को संबोधित करता है। इसलिए, संयुक्त रूप से दोनों कानूनों के प्रयोग को दोहरे खतरे के रूप में जाना जाता है। हालांकि, दिल्ली उच्च न्यायालय ने फैसला सुनाया है कि यह प्रावधान दोहरे खतरे को जन्म नहीं देता है। दहेज निषेध अधिनियम की धारा 4 के विपरीत, जो क्रूरता के किसी अतिरिक्त तत्व के बिना केवल दहेज की मांग को आपराधिक बनाती है, धारा 498A अपराध के अधिक गंभीर रूप को संबोधित करती है। यह एक पत्नी या उसके परिवार से धन या मूल्यवान सुरक्षा की मांग जो हिंसा या अन्य प्रकार के दुर्व्यवहार के साथ होता है, को दंडित करता है। नतीजतन, एक व्यक्ति को समान आचरण के लिए इस प्रावधान और धारा 4 दोनों के तहत आरोपों का सामना करना पड़ सकता है। इस प्रावधान में अदालतों को व्यापक लचीलापन दिया गया है ताकि यह निर्धारित किया जा सके कि कानून को कैसे लागू किया जाए और उचित दंड का निर्धारण किया जाए। यह धारा न्यायिक प्राधिकरण (अथॉरिटी) के दायरे से बाहर नहीं है। न्यायिक प्रणाली को मामलों को मनमाने ढंग से तय करने की क्षमता नहीं दी गई है।

हालांकि ऐतिहासिक मामले वजीर चंद बनाम हरियाणा राज्य (1989) में एक युवा विवाहित महिला की जलने से मौत से संबंधित परिस्थितियो में हत्या या आत्महत्या के लिए उकसाने की बात साबित नहीं हुई, ससुराल वाले अभी भी दहेज के लिए उत्पीड़न की रोकथाम के लिए इस नई अधिनियमित धारा के जाल में फंसे हुए थे। यह तथ्य कि लड़की के पिता ने उसकी मृत्यु के बाद उसके ससुराल से उसकी कई संपत्ति ले ली, इस बात का प्रमाण है कि लड़की के ससुराल वालों द्वारा उसकी शादी के समय से लेकर उसकी मृत्यु तक वित्तीय और भौतिक (मैटेरियल) सहायता के लिए दबाव डाला जा रहा था।

आधुनिकीकरण, शिक्षा, वित्तीय सुरक्षा, और स्वतंत्रता की एक नई भावना में विकास ने कट्टरपंथी नारीवादियों (रेडिकल फेमिनिस्ट) को धारा 498A को एक हथियार के रूप में उपयोग करने की शक्ति दी है। कई पतियों और सास-ससुर ने उनके प्रतिशोध (वेंजेंस) की कीमत चुकाई है। जब एक पत्नी (या उसके करीबी रिश्तेदार) अपने पति को भारतीय दंड संहिता की धारा 498A के तहत दावा करके ब्लैकमेल करने की कोशिश करती है, तो अदालतें लगभग हमेशा यह फैसला देती हैं कि वे इसकी जालसाज़ी (फैब्रिकेट) कर रही है। धारा 498A की शिकायत का सामान्य परिणाम अदालत में जाने से पहले “मामले को निपटाने” के लिए बड़ी रकम की जबरन वसूली की मांग है।

धारा 498A के तहत शिकायत कौन दर्ज कर सकता है

सीआरपीसी की धारा 198A एक अदालत को आइपीसी की धारा 498A के तहत दंडनीय अपराध का संज्ञान (कॉग्निजेंस) लेने का आदेश केवल तभी देती है, जब अपराध का गठन करने वाले तथ्यों की पुलिस रिपोर्ट दी गई हो या जब पीड़ित पत्नी या उसके पिता, माता, भाई, बहन, उसके पिता या माता के भाई या बहन द्वारा या अदालत की अनुमति से, रक्त, विवाह या गोद लेने से संबंधित किसी अन्य व्यक्ति द्वारा शिकायत की जाती है।

धारा 498A के तहत शिकायत

एक महिला जो किसी भी प्रकार के दुर्व्यवहार, चाहे शारीरिक, मानसिक या यौन शोषण की शिकार रही हो, को इसकी रिपोर्ट करने से डरना नहीं चाहिए। पीड़िता को पति या उसके परिवार के सदस्यों के हाथों खुद को और नुकसान से बचाने के लिए पुलिस को घटना की सूचना देनी चाहिए। अगर एक महिला ने पहले से शिकायत नहीं की है तो उसे एक अनुभवी आपराधिक बचाव वकील को पारिश्रमिक (हायर) पर लेना चाहिए और फिर प्राथमिकी (एफआईआर) जमा करनी चाहिए। पीड़ित को अपराध की सूचना तुरंत पुलिस को देनी चाहिए।

पीड़िता की ओर से कोई मित्र या परिवार का कोई सदस्य पुलिस स्टेशन जा सकता है यदि वह स्वयं ऐसा करने के लिए बहुत अधिक घायल है या यदि वह वहां जाने में सहज महसूस नहीं करती है। यदि व्यक्तिगत रूप से पुलिस स्टेशन जाना असंभव है, तो उसे 100 डायल करना चाहिए, जो कि पुलिस हेल्पलाइन है, यह अगला सबसे अच्छा विकल्प है। ऐसी रिपोर्ट प्राप्त करने वाले पुलिस अधिकारी को यथाशीघ्र इसका दस्तावेजीकरण करना चाहिए; ऐसा करने से पीड़ित को कानूनी कार्रवाई में आगे बढ़ने में मदद मिलेगी। किसी अभियुक्त  व्यक्ति या गलत काम के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का पहला कदम पुलिस शिकायत दर्ज करना है, जिसे अक्सर प्राथमिकी (एफआईआर) के रूप में जाना जाता है।

पीड़ित पत्नी द्वारा या उसके पिता, माता, भाई, बहन, उसके पिता या माता के भाई या बहन द्वारा या न्यायालय की अनुमति से, रक्त, विवाह या गोद लेने से संबंधित किसी अन्य व्यक्ति द्वारा शिकायत पर न्यायालय धारा 498A के तहत दंडनीय अपराध का संज्ञान लेगा। पुलिस के पास प्राथमिकी (एफआईआर) या आपराधिक शिकायत दर्ज करने से परीक्षण (ट्रायल) या आपराधिक अदालती प्रक्रिया शुरू होती है। नीचे परीक्षण प्रक्रिया का विवरण विस्तार से दिया गया है:

  1. पहले चरण के रूप में सबसे पहले एक प्राथमिकी दर्ज करनी चाहिए। आपराधिक प्रक्रिया संहिता का प्रासंगिक प्रावधान धारा 154 है। प्राथमिकी कानूनी प्रक्रिया शुरू करती है।
  2. प्राथमिकी दर्ज होने के बाद, जांच अधिकारी एक जांच करेगा और एक रिपोर्ट प्रस्तुत करेगा। अधिकारी मामले की पृष्ठभूमि को देखने, साक्ष्य इकट्ठा करने, संभावित गवाहों से पूछताछ करने आदि सहित सभी आवश्यक प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद जांच को समाप्त करता है और इसके लिए तैयारी करता है।
  3. इसके बाद पुलिस को मजिस्ट्रेट के सामने आरोप पत्र (चार्जशीट) पेश करनी होती है। प्रतिवादी के खिलाफ सभी आपराधिक आरोपों को आरोप पत्र में शामिल किया जाता है।
  4. पक्षों को मजिस्ट्रेट के सामने अपने मामलों और तर्कों को पेश करने का अवसर मिलने के बाद, मजिस्ट्रेट आरोपों को परिभाषित करता है और मुकदमे की तारीख निर्धारित करता है।
  5. आपराधिक प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 241 दोषी की दलील को संबोधित करती है। जब आरोप तय हो जाते हैं, तो अभियुक्त  दोषी होने की दलील दे सकता है। यह सुनिश्चित करना न्यायाधीश का काम है कि दोषी की दलील स्वेच्छा से दर्ज की गई थी। दोषसिद्धि न्यायालय के विवेक पर है।
  6. आरोप लगाए जाने के बाद और प्रतिवादी दोषी न होने की दलील दर्ज करता है, अभियोजन पक्ष (प्रॉसिक्यूशन) अदालत में अपना मामला प्रस्तुत करता है, साक्ष्य के पहले (और आमतौर पर अधिक) बोझ को वहन करता है। साक्ष्य मौखिक या लिखित रूप में प्रस्तुत किया जा सकते है। मजिस्ट्रेट किसी को भी गवाह सम्मन जारी कर सकता है और उस व्यक्ति को कोई साक्ष्य लाने की आवश्यकता हो सकती है।
  7. जब अभियोजन पक्ष के गवाहों को अदालत में पेश किया जाता है, तो अभियुक्त  या उसके वकील को उनसे जिरह (क्रॉस एग्जामिनेशन) करने का अवसर मिलता है।
  8. इस समय पर, अभियुक्त अदालतों में कोई भी सहायक साक्ष्य प्रस्तुत कर सकता है। उन्हें अपने तर्क को मजबूत करने का मौका दिया जाता है। हालांकि, अभियुक्त को साक्ष्य पेश करने के लिए मजबूर नहीं किया जाता है क्योंकि यह अभियोजन पक्ष या दावा किया गया पीड़ित है, जिसके ऊपर साक्ष्य प्रस्तुत करने का बोझ है।
  9. अगर बचाव पक्ष गवाह पेश करता है, तो अभियोजन जिरह करेगा।
  10. जब दोनों पक्षों की ओर से सारे साक्ष्य दे दिए गए हों, तो न्यायाधीश या न्यायालय फैसला सुनाएगा।
  11. अंतिम चरण मौखिक तर्क होता है। अंतिम मौखिक तर्क न्यायाधीश को दोनों पक्षों द्वारा प्रस्तुत किए जाते हैं (पहले अभियोजन फिर बाद में बचाव पक्ष)।
  12. अदालत तब प्रस्तुत सभी तर्कों और मामले में प्रस्तुत साक्ष्यों पर विचार करने के बाद अंतिम निर्णय देती है। अदालत तब प्रतिवादी को दोषमुक्त करने या दोषी ठहराने के अपने निर्णय की व्याख्या करती है।
  13. अभियुक्त दोषी पाया जाता है या नहीं, इसके आधार पर अंतिम फैसले का परिणाम या तो बरी या सजा हो सकता है।
  14. यदि प्रतिवादी दोषी पाया जाता है, तो सजा की स्थिति में उसकी सजा की अवधि निर्धारित करने के लिए सुनवाई की जाएगी।
  15. यदि स्थिति इसकी अनुमति देती है, तो कोई उच्च न्यायालय में अपील दायर कर सकता है। सत्र न्यायालय और उच्च न्यायालय में मुकदमा हार जाने पर मामले को सर्वोच्च न्यायालय तक ले जाया जा सकता है।

धारा 498A के तहत जमानत

उन लोगों के लिए जिन्हें गिरफ्तार किया गया है, लेकिन अभी तक किसी अपराध के लिए दोषी नहीं ठहराया गया है, जमानत का उपयोग जेल में चल रहे मुकदमे से उनकी रिहाई के लिए किया जा सकता है। ऐसे अपराध जिन्हें आम तौर पर तीन साल या उससे कम की जेल या जुर्माने से दंडित किया जाता है, उन्हें जमानती माना जाता है, और जहां जमानत ऐसे अपराधों के लिए अधिकार का मामला है, उन्हें “जमानती अपराध” कहा जाता है। भारतीय दंड संहिता की धारा 498A के उल्लंघन के अभियुक्त व्यक्ति के लिए वर्तमान समय में जमानत प्राप्त करना संभव है। यह एक गैर-शमनीय (नॉन कंपाउंडेबल), संज्ञेय (कॉग्निजेबल) अपराध है। पुलिस द्वारा शिकायतकर्ता द्वारा की गई शिकायत के आधार पर “प्राथमिकी” (एफआईआर) दर्ज करने के बाद केवल मजिस्ट्रेट ही धारा 498A के तहत जमानत जारी कर सकता है। हालांकि, समय के साथ, आईपीसी की धारा 498A के तहत की गई खतरनाक गिरफ्तारियां सीमित हो गई हैं, भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय के फैसलों के लिए धन्यवाद, जैसे अर्नेश कुमार और राजेश शर्मा का मामला (इसकी बाद में चर्चा की गई है)।

आपराधिक प्रक्रिया संहिता में संशोधन के परिणामस्वरूप, पुलिस को अब सीआरपीसी की धारा 41A के अनुसार जांच के लिए पुलिस के सामने पेश होने के अपने कर्तव्य के बारे में अभियुक्त को सूचित करना आवश्यक है। यदि अभियुक्त जब भी संबंधित जांच अधिकारी उनकी उपस्थिति का अनुरोध करता है, तो उपस्थित होकर ऐसी पूछताछ में सहयोग करना जारी रखता है, तो धारा 498A के तहत गिरफ्तारी शायद ही कभी की जाती है। इस प्रकार, अदालत ने अनावश्यक गिरफ्तारियों की संख्या को कम करने के प्रयास में पुलिस को सीआरपीसी की धारा 41A में उल्लिखित विधि का पालन करने का आदेश दिया है।

सभी के सर्वोत्तम हितों को ध्यान में रखते हुए समय-समय पर कार्रवाई की गई है। सीएडब्ल्यू प्रकोष्ठ (सेल)/महिला थाना आदि के माध्यम से पूर्व-परीक्षण मध्यस्थता (मिडिएशन) इन प्रक्रियाओं का एक उदाहरण है। अगर महिला अभी भी प्राथमिकी पूर्व मध्यस्थता और परामर्श के बाद प्राथमिकी दर्ज करना चाहती है, तो वह ऐसा कर सकती है। शिकायतकर्ता द्वारा प्राथमिकी को वापस नहीं लिया जा सकता है, लेकिन उच्च न्यायालयों के पास प्राथमिकी को रद्द करने के लिए सीआरपीसी की धारा 482 में सूचीबद्ध अधिकार हैं।

लेकिन प्राथमिकी दर्ज होने के बाद अग्रिम (एंटीसिपेटरी) जमानत पर रिहा होना आदर्श है। जब एक अभियुक्त व्यक्ति अग्रिम जमानत के लिए अदालत में याचिका दायर करता है, तो न्यायाधीश के पास प्रतिवादी पर विशिष्ट प्रतिबंध लगाने का विवेक होता है। एक मानदंड में आवश्यक भरण पोषण के बराबर राशि में पत्नी या अन्य आश्रितों के नाम पर डिमांड ड्राफ्ट जमा करना शामिल हो सकता है, आदि।

धारा 498A के तहत अपील

अपीलीय अदालत में अपील दायर करके निचली अदालत के फैसले या आदेश को चुनौती दी जा सकती है। निचली अदालत में किसी मामले में शामिल कोई भी व्यक्ति मामले के परिणाम की अपील प्रस्तुत कर सकता है। एक “अपीलकर्ता” वह है जिसने अपील दायर की है या अपील जारी रख रहा है, और “अपीलीय न्यायालय” वह है जिसके पास अपील प्रस्तुत की गई है। हारने वाले पक्ष के लिए अदालत के फैसले को उच्च न्यायालय में अपील करने का कोई स्वत: सहारा नहीं है। केवल उन मामलों में जहां कानून द्वारा स्पष्ट रूप से अपील की अनुमति है और यदि आवश्यक न्यायालयों के समक्ष ऐसा करना एक विकल्प है, तो ऐसा प्रस्ताव दायर करना संभव है। अपील भी एक निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर प्रस्तुत की जानी चाहिए।

यदि पर्याप्त आधार हैं, तो कोई उच्च न्यायालय में अपील दायर कर सकता है। सत्र न्यायालय निचले स्तर के मजिस्ट्रेट अदालत की अपील सुनता है। सत्र न्यायालय द्वारा दिए गए निर्णय को उच्च न्यायालय में और वहां से सर्वोच्च न्यायालय में अपील करना संभव है। यदि आवश्यक हो, तो पत्नी या अभियुक्त अपील दायर कर सकते हैं।

यदि आपको या आपके किसी जानने वाले को सत्र न्यायाधीश या अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश, या किसी अन्य अदालत के समक्ष मुकदमे के परिणामस्वरूप सात साल से अधिक की जेल की सजा मिली है, तो आपको अपने मामले को उच्च न्यायालय में अपील करने का अधिकार है।

धारा 498A का दुरुपयोग

भारत में, पिछले 20 वर्षों में महिलाओं के खिलाफ हिंसा के कानूनों के खिलाफ सबसे आम तर्कों में से एक यह रहा है कि महिलाएं इन कानूनों का लाभ उठाती हैं। पुलिस, नागरिक समाज, राजनेता, और यहां तक ​​कि उच्च न्यायालयों और सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों ने भी दृढ़ता से तर्क दिया है कि कानूनों का “दुरुपयोग” किया जा रहा है। दुरुपयोग का दावा आईपीसी की धारा 498A और धारा 304B जो दहेज हत्या के अपराध के बारे में है, के खिलाफ किया गया है। “मुस्लिम महिलाओं के लिए न्याय” नामक एक लेख में, जो द हिंदू में प्रकाशित हुआ था, पूर्व न्यायमूर्ति के.टी. थॉमस ने इसी तरह के दृष्टिकोण के बारे में लिखा था। आपराधिक न्याय प्रणाली में सुधारों पर 2003 की मलीमथ समिति की रिपोर्ट में भी यह “सामान्य शिकायत” दर्ज की गई थी कि आईपीसी की धारा 498A घोर दुरूपयोग के अधीन है; रिपोर्ट ने प्रावधान में संशोधन का सुझाव देने के औचित्य (जस्टिफिकेशन) के रूप में इसका इस्तेमाल किया लेकिन यह इंगित करने के लिए कोई डेटा प्रदान नहीं किया कि कैसे प्रावधान का दुरूपयोग किया जा रहा था। इसलिए, इन “तर्कों” को संबोधित करना महत्वपूर्ण है ताकि महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाए गए विभिन्न आपराधिक कानूनों के प्रभाव की वर्तमान तथ्यात्मक (फैक्चुअल) स्थिति की अधिक सटीक तस्वीर पेश की जा सके।

वैवाहिक और परिवार के सदस्य द्वारा दुर्व्यवहार जटिल व्यवहार हैं, फिर भी न्यायिक प्रणाली, कानून प्रवर्तन (इंफोर्समेंट), और सांस्कृतिक दृष्टिकोण इस वजह से घरेलू हिंसा के मामलों को लगातार कम आंकते हैं। घरेलू दुर्व्यवहार को आपराधिक बनाने के लिए कानून और नीति के संस्थानीकरण (इंडस्ट्रियलाइजेशन) के बावजूद, सरकार ने पिछले 20 वर्षों में सुधारों का उनके निवारक लक्ष्यों के संबंध में कोई पर्याप्त मूल्यांकन नहीं किया है। 1983 में आईपीसी में धारा 498A जोड़ी गई थी। घरेलू हिंसा के लिए कानूनी दंड के परिणामों की मौजूदा स्तर की समझ के लिए शोध (रिसर्च) और विकास के तत्काल कार्यक्रम की आवश्यकता है। कार्यकर्ताओं, पीड़ितों, अधिवक्ताओं और आपराधिक न्याय व्यवसायियों के कानून को संगठित करने और घरेलू दुर्व्यवहार से निपटने के लिए नीति बनाने के महत्वपूर्ण प्रयासों के विपरीत, कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने घरेलू हिंसा के लिए कानूनी परिणामों के हानिकारक प्रभाव पर बहुत कम या कोई शोध नहीं किया है।

यह शोध इस व्यापक धारणा को दूर करने के लिए आवश्यक है कि महिलाएं अपने पति और ससुराल वालों को परेशान करने और पीड़ित करने के लिए कानूनी व्यवस्था का उपयोग कर रही हैं। जब घरेलू हिंसा कानून की बात आती है, तो राज्य और इसकी एजेंसियों को अपना ध्यान जीवनसाथी और ससुराल वालों को “दुरुपयोग” से बचाने के लिए कानूनों के सही इरादे को लागू करने की ओर स्थानांतरित (शिफ्ट) करने की आवश्यकता होती है और उन महिलाओं की रक्षा करना चाहिए जो अपने दुर्व्यवहारियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करने का साहस जुटाती हैं।

बड़ी संख्या में महिलाओं ने अपने पति और ससुराल वालों को परेशान करने और अपने लिए अनुचित लाभ प्राप्त करने के लिए धारा 498A के कार्यान्वयन (इंप्लीमेंटेशन) द्वारा उन्हें प्रदान किए गए भारी अधिकार का लाभ उठाया है। अपने पति से बदला लेने की इच्छा रखने वाली महिलाएं अपने रिश्तेदारों को धमकाने और ब्लैकमेल करने के लिए धारा 498A का इस्तेमाल करती हैं।

भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने धारा 498A के उल्लंघन के झूठे आरोप लगाने वाले पुरुषों की बढ़ती प्रवृत्ति को मान्यता दी है, इसे “घटना” और “सामाजिक बुराई” कहा है। जैसा कि सर्वोच्च न्यायालय ने सुशील कुमार शर्मा बनाम भारत संघ और अन्य (2005) के मामले में देखा था, कि “कानूनी आतंकवाद” धारा 498A के दुरुपयोग का वर्णन करता है। पति के अलावा, बुजुर्ग माता-पिता या दूर के रिश्तेदार जैसे निर्दोष तीसरे पक्ष को अक्सर गलत तरीके से फंसाया जाता है और आपराधिक न्याय प्रणाली की धारा 498A के दुरुपयोग के परिणामस्वरूप उन्हें भारी कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

इस कानून का उद्देश्य क्रूरता के वास्तविक मामलों में महिलाओं की सुरक्षा करना है, जो आज फर्जी दावों की बढ़ती संख्या से खतरे में पड़ गया है। धारा 498A के तहत अपराध संज्ञेय और गैर-जमानती दोनों है, और शिक्षित महिलाएं आजकल इस धारा के तहत उपलब्ध विशाल शक्ति से अवगत हैं। एक महिला की एक शिकायत से उसका पति और उसके रिश्तेदार सलाखों के पीछे हो सकते हैं। इस धारा के तहत एक आरोप का बचाव भी चुनौतीपूर्ण हो सकता है, क्योंकि महिला का शब्द अक्सर ऊंचा होता है और महिला द्वारा अपनी शिकायत में स्थापित कथा का खंडन करना अधिक कठिन हो जाता है। एक महिला शिकायत दर्ज करने के बाद अपने पति और उसके परिवार को तलाक, ज्यादा भरण पोषण, या यहाँ तक कि ज़बरदस्त जबरन वसूली (एक्सटॉर्शन) के अपने अनुरोधों का पालन करने के लिए मजबूर कर सकती है। यहां, हमारे पास क्रूरता के सच्चे मामलों में निष्पक्षता की रक्षा के उद्देश्य से कानून के दुरुपयोग का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

परिवार को बर्बाद करने या उनसे छुटकारा पाने के लिए महिलाएं तेजी से अपने पति के खिलाफ झूठे दावे ला रही हैं, एक प्रवृत्ति जो इस प्रावधान की भावना और शब्द के खिलाफ जाती है। इस प्रावधान का दुरुपयोग बढ़ रहा है, और कई शिक्षित महिलाएं जानती हैं कि यह संज्ञेय और गैर-जमानती है, इसलिए अधिकारी महिला की शिकायत पर उसके पति को गिरफ्तार करने के लिए तेजी से कार्रवाई कर सकते हैं।

मुकेश बंसल बनाम उत्तर प्रदेश राज्य (2022) में, इलाहाबाद के माननीय उच्च न्यायालय ने फैसला सुनाया है कि न्यायालय ने एक आदेश जारी किया है जिसमें सभी जिलों को परिवार कल्याण समितियों (एफडब्ल्यूसी) बनाने और उन्हें तीन महीने के भीतर कार्य करने की आवश्यकता है। न्यायालय ने चिंता व्यक्त की कि धारा 498A के लगातार बिना सोचे-समझे किए जाने वाले दुरुपयोग से हमारी सदियों पुरानी विवाह संस्था की पारंपरिक स्थिति पूरी तरह से समाप्त हो रही है। परिणामस्वरूप, न्यायालय ने निम्नलिखित आदेश दिया:

  1. प्राथमिकी दर्ज होने के बाद लेकिन दो महीने की “कूलिंग-पीरियड” समाप्त होने से पहले और मामले को एफडब्ल्यूसी के सामने लाए जाने से पहले पति या उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ कोई गिरफ्तारी या जबरदस्ती की कार्रवाई नहीं की जाएगी।
  2. केवल आईपीसी की धारा 498A के उल्लंघन से जुड़े मामले, साथ में धारा 307 के तहत कोई चोट न लगना और आईपीसी के अन्य हिस्से जिनमें सजा 10 साल से कम है, को एफडब्ल्यूसी को भेजा जाएगा।
  3. प्रासंगिक मजिस्ट्रेट को आईपीसी की धारा 498A और अन्य संबंधित धाराओं के तहत दर्ज की गई सभी शिकायतों या आवेदनों को तुरंत परिवार कल्याण समिति को प्रस्तुत करना चाहिए।
  4. शिकायत दर्ज होने के दो महीने के भीतर, समिति एक बैठक आयोजित करेगी और एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेगी जिसे उस मजिस्ट्रेट/पुलिस अधिकारियों को भेजा जाएगा जिनके पास शिकायतकर्ता ने मूल रूप से शिकायत दर्ज की थी।
  5. परिवार कल्याण समिति के सदस्यों को कानून सेवा सहायता समिति से ऐसा आवधिक प्रशिक्षण (पीरियोडिक ट्रेनिंग) प्राप्त होगा जैसा कि बाद वाला उचित समझे।
  6. आईपीसी की धारा 498A और संबद्ध (एलाइड) प्रावधानों की प्राथमिकी या अन्य शिकायतों के जवाब में सक्षम जांच अधिकारियों द्वारा जांच की जाएगी।

सावित्री देवी बनाम रमेश चंद और अन्य (2003) जैसे मामलों में अदालत ने स्पष्ट रूप से फैसला सुनाया कि नियमों का शोषण किया जा रहा था और इस हद तक दुरुपयोग किया जा रहा था कि वे स्वयं विवाह की संस्था को खतरे मे डाल रहे थे, जो अंततः पूरे समाज के लिए बुरा था। न्यायालय ने पाया कि अधिकारियों और विधायकों के लिए स्थिति और कानूनी आवश्यकताओं की जांच करना आवश्यक था ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ऐसा कुछ भी दोबारा न हो।

सरिता बनाम आर रामचंद्रन (2003) के मामले में, न्यायालय ने विपरीत प्रवृत्ति को नोटिस किया और कानून आयोग और संसद को अपराध को असंज्ञेय (नॉन कॉग्निजेबल) और जमानती अपराध बनाने का आदेश दिया, और कुछ महिलाओं द्वारा इस खंड के दुरुपयोग की कड़ी निंदा की थी। अदालत ने जटिल मुद्दों का जवाब देने का प्रयास किया है- क्या होता है जब किसी के हाथ शोषण का शिकार खुद शोषण करने वाला बन जाता है? कदाचार (मिसकंडक्ट) को दंडित करना और पीड़ित को सुरक्षा देना हमेशा अदालत की जिम्मेदारी रही है। ऐसी स्थिति में पति के पास क्या विकल्प है?

महिला इस आधार पर अपने पति से तलाक के लिए मामला दायर कर सकती है, जिससे वह पुनर्विवाह कर सकती है या संभवतः मौद्रिक मुआवजा प्राप्त कर सकती है। बहुत सारे महिला अधिकार संगठन इसे गैर-संज्ञेय और जमानती अपराध बनाने की अवधारणा के प्रति उत्सुक नहीं हैं क्योंकि उनका मानना ​​है कि अभियुक्त इस तरह से न्याय से बचने में सक्षम होंगे। हालाँकि, यह व्यक्ति को खुद को साबित करने का मौका देकर न्याय के उद्देश्यों को पूरा करेगा। जब किसी के साथ अन्याय हुआ है, तो न्याय यह सुनिश्चित करता है कि उसे क्षतिपूर्ति (रेस्टिट्यूशन) प्राप्त करने का अवसर दिया जाए।

न्याय में देरी मतलब न्याय से वंचित होना, और जब महिलाएं आईपीसी की धारा 498A के तहत अपने पति पर झूठा आरोप लगाती हैं, तो जो पुरुष निर्दोष होते है, उन्हें तुरंत न्याय प्राप्त करने का अवसर नहीं मिलता है। इसलिए, विधायकों को इस प्रावधान को तटस्थ (न्यूट्रल) बनाने के लिए एक तंत्र का प्रस्ताव करने की आवश्यकता है ताकि दोषियों और घायलों दोनों को न्याय मिल सके।

दुरुपयोग के खिलाफ उपाय

धारा 498A के झूठे मुकदमे के खिलाफ पति और उसके रिश्तेदार कई सावधानियां बरत सकते हैं, जिन्हें नीचे सूचीबद्ध किया गया है:

  1. भारतीय दंड संहिता की धारा 500 के तहत मानहानि (डिफामेशन) का मुकदमा दायर किया जा सकता है। एक पुरुष को एक महिला पर मानहानि का मुकदमा करने का अधिकार है यदि वह अपने पति या उसके परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ क्रूरता का झूठा दावा करती है।
  2. एक आपराधिक साजिश का साक्ष्य: इसके अलावा, ऐसी महिला के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 120B के तहत मुकदमा चलाया जा सकता है, जो आपराधिक साजिश को अपराध के रूप में परिभाषित करती है। एक पति या पत्नी आईपीसी की इस धारा के तहत अदालत में निवारण की मांग कर सकते है यदि उनके पास संदेह करने के लिए उचित आधार हैं और वह यह स्थापित कर सकते है कि उसकी पत्नी एक आपराधिक साजिश में शामिल है जिसके परिणामस्वरूप उसके और उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ झूठे आरोप लगाए गए हैं।
  3. महिलाएं आम तौर पर धारा 498A के अपने झूठे मामलों के समर्थन में जालसाजी किए हुए साक्ष्य लाती हैं और उन पर भरोसा करने की कोशिश करती हैं, जिससे कानूनी कार्रवाई हो सकती है। भारतीय दंड संहिता की धारा 191 ‘झूठे साक्ष्य प्रदान करने’ को ऐसे अपराध के रूप में परिभाषित करती है जो इस स्थिति में किया जा सकता है।
  4. ऐसी परिस्थितियों में जहां पत्नी ने अपने पति या उसके परिवार के सदस्यों को शारीरिक नुकसान पहुंचाने की धमकी दी है, धारा 506 जो आपराधिक धमकी के लिए दंड स्थापित करती है, के तहत प्रति-शिकायत दर्ज की जा सकती है।
  5. जब एक पत्नी अपने पति को छोड़ देती है और अपने माता-पिता के पास वापस चली जाती है, तो पति को हिंदू विवाह अधिनियम, 1955 की धारा 9 के तहत दांपत्य अधिकारों की बहाली (रेस्टिट्यूशन ऑफ़ कंजूगल राइट्स) के लिए याचिका दायर करने का अधिकार है। यह तभी लागू होता है जब अभियुक्त को 498A के मामले में रिहा या बरी कर दिया जाता है। 
  6. एक योग्य आपराधिक बचाव वकील की सलाह लें जो आपके मामले के लिए सर्वोत्तम कार्यवाही पर आपको सलाह दे सके।
  7. अगर आपको लगता है कि आप पर झूठा आरोप लगाया गया है, तो आपको साक्ष्य और दस्तावेज इखट्ठे करने चाहिए जो आपके मामले का समर्थन करते हो। आप फोन कॉल, वीडियो रिकॉर्डिंग, संदेश आदि जैसे साक्ष्य एकत्र कर सकते हैं।
  8. पत्नी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जा सकती है यदि पति के पास यह विश्वास करने का कारण है कि वह धोखे से उसे 498A के मामले में फंसा रही है, उसे या उसके परिवार को ब्लैकमेल कर रही है, या अन्यथा उन्हें चोट या परेशानी हुई है।
  9. हाल के निष्कर्षों और इस धारा के उल्लंघन की बढ़ती घटनाओं के आलोक में इस क़ानून में संशोधन की आवश्यकता है।
  10. चूंकि पति के परिवार में कई और महिलाओं को परेशान करने के लिए कानून का दुरुपयोग किया जा रहा है, महिलाओं के गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) की जिम्मेदारी है कि वे किसी भी लिंग का पक्ष लिए बिना शिकायतों की गहन जांच करें। किसी भी महिला को छोटी-छोटी बातों के लिए अपने ससुराल वालों पर आरोप लगाने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए। यह सुनिश्चित करना अंतर्राष्ट्रीय महिला समूहों का कर्तव्य है कि अनिवासी भारतीयों (एनआरआई) को परेशान करने और उनसे बड़ी रकम वसूलने के प्रयास में कोई निराधार शिकायत दर्ज न की जाए। इन समूहों पर सर्वेक्षण (सर्वे) और शोध के माध्यम से अधिनियम के दुरुपयोग के प्रभावों के बारे में जनता को शिक्षित करने की भी जिम्मेदारी है। यदि ये समूह कपटपूर्ण शिकायतें दर्ज कराने में मदद करते पाए जाते हैं, तो उन्हें उस क्षेत्राधिकार (ज्यूरिसडिक्शन) में कानूनी परिणामों का सामना करना चाहिए जिसमें वे स्थित हैं।
  11. अपनी पत्नियों या ससुराल वालों के हाथों घरेलू हिंसा के शिकार पुरुष देश भर में बड़ी संख्या में सामने आए हैं। शायद ही कोई ऐसा समूह हो जो प्रताड़ित पुरुषों और उनके परिवारों की कहानी के बारे में सुनकर और उनकी ओर से अधिकारियों को वकालत करके प्रभावी सहायता प्रदान कर सके। प्रभावित परिवारों की सहायता के लिए देश भर के शहरों में परिवार परामर्श सुविधाओं की स्थापना की तत्काल आवश्यकता है।
  12. 498A मामलों की त्वरित सुनवाई से न केवल सच्चे दहेज पीड़ितों की शिकायतों का त्वरित समाधान होगा बल्कि उन बेगुनाहों को भी न्याय मिलेगा जिन पर झूठा आरोप लगाया गया है।
  13. तुच्छ मुकदमों की संख्या कम करके, न्यायिक प्रणाली को अपने कुछ कार्यभार से छुटकारा मिल जाएगा, और वैध मामलों को और अधिक तेज़ी से संसाधित किया जाएगा।
  14. क़ानून “मानसिक क्रूरता” की अस्पष्ट परिभाषा प्रदान करता है, जिसका अनपेक्षित (अनइंटेंडेड) तरीकों से फायदा उठाया जा सकता है। इसे और अधिक स्पष्ट रूप से परिभाषित करने की आवश्यकता है ताकि कानून में अस्पष्ट क्षेत्र बंद हो जाएं। पुरुषों को भी भावनात्मक दुर्व्यवहार के लिए अपनी पत्नियों पर मुकदमा करने का अधिकार होना चाहिए।
  15. नागरिक अधिकारियों द्वारा जांच के बाद ही अपराध किए जाने की पुष्टि होने के बाद ही संज्ञान लिया जाना चाहिए। इसके दुरुपयोग को रोकने के लिए सरकार को पुलिस अधिकारियों को जागरूक करना चाहिए।
  16. तथ्य यह है कि धारा 498A के तहत दोषी ठहराए गए लोग बॉन्ड पोस्ट नहीं कर सकते हैं, यही मुख्य कारण है कि कानून का इतनी बार दुरुपयोग किया जाता है कि रक्षाहीनों को परेशान किया जाता है। बुजुर्ग माता-पिता, गर्भवती बहनों और स्कूली उम्र के बच्चों की अनावश्यक हिरासत को रोकने के लिए यह आवश्यक है कि इस उपधारा को जमानती बनाया जाए।
  17. एक बार प्राथमिकी दर्ज हो जाने के बाद, इसे वापस नहीं लिया जा सकता है, भले ही पत्नी यह देख ले कि उसने गलती की है और ससुराल वापस जाना चाहती है। विवाह की संस्था को बचाने के लिए यह समझौता योग्य होना चाहिए। इसके अलावा, यदि पति-पत्नी सौहार्दपूर्ण ढंग से अलग होने का निर्णय लेते हैं, तो चल रही आपराधिक प्रक्रियाएं उनके जीवन में महत्वपूर्ण परेशानी पैदा करेंगी।
  18. केवल मुख्य प्रतिवादी के पास “संज्ञान लेने” या औपचारिक रूप से आरोपित होने के बाद गिरफ्तारी वारंट जारी होना चाहिए। पति के परिवार के सदस्यों को गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए।
  19. उन लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए जो आईपीसी की धारा 498A के उल्लंघन का आरोप लगाते हैं जब अदालत का फैसला है कि ऐसे आरोप निराधार हैं। इस वजह से, कम लोग कानूनी व्यवस्था से गंदे हाथों और छिपे हुए मकसद के साथ संपर्क करेंगे। सभी अधिकारी जो महिलाओं और उनके परिवारों पर अन्यायपूर्ण आरोप लगाने की साजिश रचते हैं, उन्हें आपराधिक आरोपों का सामना करना चाहिए।

धारा 498A के ऐतिहासिक फैसले

विवाह के संदर्भ में महिलाओं को दुर्व्यवहार से बचाने के लिए भारतीय कानूनी प्रणाली इस धारा को नियोजित करती रही है। दस वास्तविक मामलों में से नौ मामलों में, हिंसा दहेज विवाद से जुड़ी होती है, जिसमें पत्नी को तब तक प्रताड़ित, पीटा और डराया जाता है जब तक कि वह अपने पति की अधिक धन और संपत्ति की मांगों को नहीं मान लेती है।

मोहम्मद होशन, ए.पी. और अन्य बनाम आंध्र प्रदेश राज्य (2002)

एक साथी दूसरे के प्रति निर्दयी रहा है या नहीं, यह सवाल अंततः एक तथ्य है। पीड़ित की संवेदनशीलता, सामाजिक पृष्ठभूमि, परिवेश (सराउंडिंग), शिक्षा, आदि जैसे कारकों की एक भूमिका होती है कि शिकायत, आरोप, या क्रूरता की मात्रा वाले ताने किसी व्यक्ति को कैसे प्रभावित करते हैं। जो मानसिक क्रूरता का गठन करता है वह भी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होता है, जो उनकी भेद्यता (वल्नरेबिलिटी) के स्तर, उनकी बहादुरी और उनके लचीलेपन के आधार पर होता है। मानसिक क्रूरता पर निर्णय मामला-दर-मामला आधार पर निर्धारित किया जाना चाहिए।

सुशील कुमार शर्मा बनाम भारत संघ और अन्य (2005)

तथ्य

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत, एक याचिका दायर की गई थी जिसमें यह घोषणा करने की मांग की गई थी कि भारतीय दंड संहिता, 1860 की धारा 498A असंवैधानिक और अधिकारातीत (अल्ट्रा वायर्स) है, और दुर्भावनापूर्ण इरादे वाले लोगों द्वारा निर्दोष लोगों के उत्पीड़न को रोकने के लिए दिशानिर्देशों बनाए जाने चाहिए। एक और याचिका में पूछा गया कि जब भी अदालत फैसले पर पहुंचती है और आईपीसी की धारा 498A के तहत अपराध के आचरण के संबंध में किए गए दावे निराधार थे, तो आरोप लगाने वाले व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

तर्क 

याचिकाकर्ता ने दावा किया कि इन स्थितियों में कोई अभियोजन नहीं बल्कि उत्पीड़न था। कई निर्णयों पर भरोसा किया गया, जिसमें धोखाधड़ी के मुकदमों की संख्या में वृद्धि पर प्रकाश डाला गया। यह तर्क दिया गया कि अभियुक्तों की तुलना में आरोप लगाने वालों की जिम्मेदारी अधिक है। कथित दहेज प्रताड़ना के मामलों में अदालतों की सहानुभूति का उन लोगों द्वारा दुरुपयोग किया जा रहा है जो इससे लाभ उठाना चाहते हैं।

निर्णय 

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने इस तर्क में कोई दम नहीं पाया कि धारा 498A की कानून या संविधान में कोई वैधता नहीं है। अदालत ने कहा कि ऐसे कई मौके आए हैं जहां यह दिखाया गया है कि शिकायतें वास्तविक नहीं थीं और गलत इरादे से की गई थीं। यहां तक ​​​​कि अगर मुकदमे में दोषी नहीं पाया जाता है, तब भी अभियुक्त अपने कष्टों के लिए शर्म महसूस कर सकते हैं। कभी-कभी मीडिया का खराब प्रेस चीजों को और भी बदतर बना देता है। इस प्रकार, अदालत को पूछताछ करनी चाहिए कि प्रावधान के दुरुपयोग को रोकने के लिए कौन से सुधारात्मक कदम लागू किए जा सकते हैं। प्रावधान वैध है लेकिन किसी को प्रतिशोध या उत्पीड़न उद्देश्यों के लिए इसका उपयोग करने का अधिकार नहीं देता है। इसलिए, कानून बनाने वालो को यह पता लगाने की आवश्यकता हो सकती है कि निराधार शिकायतें या दावे दर्ज करने वाले लोगों को प्रभावी ढंग से कैसे दंडित किया जाए। तब तक, समस्या को न्यायालयों द्वारा वर्तमान ढांचे के भीतर ही निपटाया जाना चाहिए।

नीलू चोपड़ा और अन्य बनाम भारती (2009)

इस मामले में अपीलकर्ता नीलू चोपड़ा और कृष्ण सरूप चोपड़ा विवाहित जोड़े हैं और प्रतिवादी भारती उनकी बहू थी। भारती का दावा है कि राजेश (अपीलकर्ता के बेटे) के साथ एक विवाहित महिला के रूप में उसका और उसके माता पिता का जीवन कठिन था। तदनुसार, भारती ने 1993 में भारतीय दंड संहिता की धारा 498A के उल्लंघन के लिए अपने पति और ससुराल वालों पर मुकदमा दायर किया। चूंकि 2006 में राजेश का निधन हो गया, उसके उत्तराधिकारी इस विवाद में शामिल एकमात्र पक्ष थे। न्यायालय ने कहा कि शिकायत में विशिष्टता का अभाव था कि किस प्रतिवादी पर किस अपराध का आरोप लगाया गया था और कथित अपराधों में प्रत्येक अपीलकर्ता की क्या विशिष्ट भूमिकाएँ थीं। राजेश पर विशेष रूप से आरोप लगाए गए थे, लेकिन वह अब अपना बचाव करने के लिए जीवित नहीं थे। सामान्य शिकायत के आधार पर राजेश के बुजुर्ग माता-पिता पर मुकदमा चलाना जारी रखना प्रक्रिया का दुरुपयोग होगा, जिसमें आरोपों को जन्म देने वाली विशिष्ट कार्रवाइयों को निर्दिष्ट नहीं किया गया था। नतीजतन, शिकायत को खारिज कर दिया गया था।

भास्कर लाल शर्मा और अन्य बनाम मोनिका (2014)

इस मामले में मोनिका ने अपीलकर्ता के बेटे, विकास शर्मा से शादी की थी, जिसके पहले से ही उसकी पहली शादी से दो बच्चे हैं। उनकी शादी जल्दी ही ख़राब हो गई, और मोनिका ने अंततः अपने नए जीवनसाथी को छोड़ दिया। उसके बाद, उसने अपने पति और दो अपीलकर्ताओं (उसके ससुर और सास) के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 498A, 406 और 34 के तहत आरोप लगाने का फैसला किया। मोनिका ने अंतरिम (इंटरीम) भरण पोषण के अलावा हर महीने 2 लाख भरण पोषण की मांग की। जैसा कि सर्वोच्च न्यायालय ने उल्लेख किया, अभियोजन पक्ष आईपीसी की धारा 498A के उल्लंघन के लिए किसी भी आवश्यक घटक को स्थापित करने में विफल रहा। मध्यस्थता का कोई प्रयास किए बिना, प्रतिवादी ने भारत में अपीलकर्ताओं की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कठोर उपाय किए। अदालत ने फैसला सुनाया कि बहू पर सास द्वारा किए गए दुर्व्यवहार और बाद में तलाक की धमकी को भारतीय दंड संहिता की धारा 498A के तहत क्रूरता नहीं माना गया। मामले में अभियोजन पक्ष आईपीसी की धारा 498A के तत्वों को स्थापित करने में विफल रहा, और अपील अदालत ने मामले को खारिज कर दिया था।

रीमा अग्रवाल बनाम अनुपम और अन्य (2004)

इस मामले में, पति, सास, ससुर और देवर पर आईपीसी की धारा 498A के तहत क्रूरता और उत्पीड़न के अपराध का आरोप लगाया गया था, जिसमें अपीलकर्ता-पत्नी को जहरीला पदार्थ खाने के लिए मजबूर किया गया था। हालांकि मुकदमे में यह दिखाने के लिए कि अपीलकर्ता-पत्नी और प्रतिवादी-पति कानूनी रूप से विवाहित थे, साक्ष्य का कोई आधार मौजूद नहीं होने के कारण उन्हें बरी कर दिया गया था। दरअसल, दोनों पक्ष अपनी दूसरी ‘शादियां’ कर रहे थे। हालाँकि, यह माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आयोजित किया गया था कि कानून द्वारा इस व्याख्या ने इसके इरादों को विफल कर दिया। वैवाहिक संबंध में प्रवेश करने वाले व्यक्ति को शामिल करने के लिए ‘पति’ अभिव्यक्ति की व्याख्या करना उचित था और पति की ऐसी घोषित या नकली स्थिति के तहत, संबंधित महिला को धारा 498A के तहत प्रदान किए गए तरीके से क्रूरता के अधीन करता है, चाहे विवाह की वैधता भी हो। माननीय न्यायालय ने ऐसा करके यह सुनिश्चित किया कि न्याय लाने के लिए दोनों अपराधों की लचीली व्याख्या होनी चाहिए।

अर्नेश कुमार बनाम बिहार राज्य (2014)

इस मामले में महिला ने कहा कि उसके ससुराल वालों ने अनुचित मांग की थी, जिसमें वे 8 लाख रुपये का भुगतान, एक मारुति कार, एक एयर कंडीशनर आदि था। उसके पति ने अपनी माँ की माँगों को जानने के बाद, उनका साथ दिया और उसकी जगह किसी और महिला से दूसरी शादी करने की कसम खाई। इसके अलावा, यह दावा किया गया कि उसे ससुराल छोड़ने के लिए मजबूर किया गया क्योंकि उसकी दहेज की मांग पूरी नहीं हुई थी। पति ने आरोपों से इनकार किया और सर्वोच्च न्यायालय से अग्रिम जमानत (एंटीसिपेटरी बेल) की मांग की थी। चूंकि धारा 498A का उल्लंघन एक संज्ञेय और गैर-जमानती अपराध है, इसलिए अदालत ने देखा है कि महिलाएं अपने पति और उनके परिवारों को डराने का प्रयास करते समय अक्सर इसे रक्षात्मक के बजाय एक आक्रामक उपकरण के रूप में इस्तेमाल करती हैं। कई बार पति के बीमार दादा-दादी या दूर के रिश्तेदारों को भी इस कानून के तहत झूठा आरोप लगाकर परेशान किया जाता है। न्यायालय ने इस प्रावधान के तहत की जाने वाली गिरफ्तारी से पहले उचित संतुष्टि और शिकायत की सत्यता की पर्याप्त जांच की आवश्यकता वाले नियम स्थापित किए हैं। मजिस्ट्रेट निरोध आदेश जारी नहीं कर सकता। इसलिए, अदालत ने जमानत को मामूली राशि पर निर्धारित करने का आदेश दिया।

ओंकार नाथ मिश्रा बनाम राज्य (दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र) (2008)

इस मामले में माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने उस उद्देश्य को दोहराया जिसके लिए धारा 498A को पेश किया गया था और इस विशेष धारा का उपयोग बुरे उद्देश्यों के लिए करना गलत माना। माननीय न्यायालय ने तर्क दिया कि धारा 498A की शुरुआत दहेज के कारण होने वाली मौतों और पति या उसके पति के रिश्तेदारों द्वारा एक महिला को उत्पीड़न के खतरों से निपटने के उद्देश्य से की गई थी। इस मामले में माननीय न्यायालय द्वारा एक अभियुक्त के खिलाफ लगाए गए आरोपों के औचित्य के लिए किस हद तक मामला स्थापित किया जाना है, इस पर भी चर्चा की गई थी। इसके लिए, यह विचार किया जाना चाहिए कि क्या किसी अपराध की प्रतिबद्धता (कमिटमेंट) को मानने के लिए कोई आधार मौजूद है। यह माना गया था कि धारा 498A के तहत एक अपराध स्थापित करने के लिए, क्रूरता का परिणाम जो या तो महिला को आत्महत्या करने के लिए प्रेरित करता है या गंभीर चोट, जीवन, अंग या स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा करता है, चाहे वह महिला का शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य हो या किसी महिला का उत्पीड़न, जहां ऐसा उत्पीड़न उसे या उससे संबंधित किसी भी व्यक्ति को किसी भी तरह की गैरकानूनी मांग को पूरा करने के लिए जबरदस्ती दिखाने की दृष्टि से किया जाता है।

राजेश शर्मा और अन्य बनाम उत्तर प्रदेश राज्य (2017)

इस मामले में स्नेहा के पिता ने राजेश को उनकी शादी के समय दहेज दिया था। दहेज की रकम से नाराज राजेश ने अपनी नई दुल्हन को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। स्नेहा ने अपने पति और उसके परिवार के सदस्यों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 498A के तहत मुकदमा दायर किया। वर्तमान अपील परिवार द्वारा आईपीसी की धारा 498A के दुरुपयोग को रोकने के लिए कुछ निर्देशों की मांग करते हुए दायर की गई थी। प्राथमिक तर्क यह दिया गया था कि, ज्यादातर मामलों में, परिवार के सभी सदस्य विवाह संबंधी असहमति को हल करने में शामिल होते हैं, भले ही वे सीधे तौर पर विवाद में शामिल न हों। सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश निम्नलिखित थे:

परिवार कल्याण समिति

  • प्रत्येक जिले में जिला कानूनी सेवा प्राधिकरणों द्वारा गठित तीन पैरालीगल, स्वयंसेवकों (वॉलंटियर), सामाजिक कार्यकर्ताओं, या अन्य इच्छुक नागरिकों से बनी कम से कम एक समिति होनी चाहिए।
  • उस जिले का जिला और सत्र न्यायाधीश, जो जिला कानूनी सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष के रूप में भी कार्य करता है, संगठन के नियमों और संचालन की वार्षिक समीक्षा करेगा।
  • समिति के किसी सदस्य से साक्षी के रूप में पूछताछ नहीं की जा सकेगी।
  • समिति आइपीसीकी धारा 498A के तहत पुलिस या मजिस्ट्रेट के पास दायर की गई किसी भी रिपोर्ट की समीक्षा करने के लिए जिम्मेदार है।
  • शिकायत प्राप्त होने के एक महीने के भीतर, समिति की रिपोर्ट उस प्राधिकरण को सौंपी जाएगी जिसने शिकायत प्राप्त की थी। इससे पहले किसी को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है।

जांच अधिकारी

यह अनुशंसा की जाती है कि धारा 498A के तहत शिकायतों के लिए जांच अधिकारी परिस्थितियों के आधार पर कम से कम चार महीने (एक सप्ताह से कम नहीं) के लिए प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे।

जमानत

लोक अभियोजक/शिकायतकर्ता को एक दिन के नोटिस के साथ जमानत आवेदन जमा करने के बाद, उसी दिन फैसला किया जाना चाहिए। यदि पत्नी या नाबालिग बच्चे के भरण-पोषण या अन्य प्रकार के समर्थन के अधिकार सुनिश्चित किए जा सकते हैं, तो विवादित दहेज की वस्तुओं की वसूली को जमानत का कारण नहीं माना जा सकता है।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग

विचारणीय अदालत सभी परिवार के सदस्यों की भौतिक उपस्थिति को अनिवार्य नहीं कर सकती है, विशेष रूप से जो दूर के स्थानों में रहते हैं और इसके बजाय छूट दे सकते हैं और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की अनुमति दे सकते हैं।

निष्कर्ष

घर में महिलाओं के खिलाफ हिंसा न केवल महिलाओं के मानवाधिकारों का उल्लंघन है बल्कि भारतीय कानून के तहत एक अपराध भी है, जिसे सभी नागरिकों के अधिकारों की रक्षा के लिए बनाया गया है। भारत ने कई अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों (कंवेंशन) को स्वीकार किया है जो महिलाओं की असमान स्थिति को पहचानते हैं और महिलाओं के खिलाफ भेदभाव के सभी रूपों के उन्मूलन (एलिमिनेशन) के लिए सम्मेलन (सीईडीएडब्ल्यू) सहित इस असमानता को दूर करने के लिए महिलाओं के लिए विशेष प्रावधान शामिल हैं। दहेज निषेध अधिनियम (डीपीए) और घरेलू हिंसा से महिलाओं की सुरक्षा अधिनियम (पीडब्ल्यूडीए), आईपीसी की धारा 498A और 304B द्वारा विवाह और परिवार सहित सभी संदर्भों में घरेलू हिंसा प्रतिबंधित है।

लेकिन यह धारा 498A का महिलाओं के लिए विशेष उपाय हाल ही में चर्चा का एक विवादास्पद विषय बन गया है। विधायी कार्रवाई के बिना, यह गतिरोध एक भयानक सामाजिक संकट के रूप में विकसित होगा। न्याय व्यवस्था में जनता के विश्वास के लिए इस प्रावधान को तत्काल अद्यतन (अपडेट) किया जाना चाहिए। दुर्भाग्य से, सभी महिलाएं जो इस जानकारी या सेवाओं से लाभान्वित हो सकती हैं, उनके बारे में जागरूक नहीं होंगी, और इससे भी कम वास्तव में घरेलू हिंसा के लिए मदद मांगेंगी। बेईमान महिलाएं इस नियम का उपयोग अपने शस्त्रागार में एक अन्य उपकरण के रूप में करेंगी। घरेलू हिंसा या क्रूरता के आरोपों के कारण किसी पुरुष पर भरोसा करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को अपने ही घर से निकाले जाने पर भुगतना पड़ेगा, भले ही वे आरोप सही हों या नहीं। अभियुक्त व्यक्ति के गाली देने पर भी पूरे परिवार को सजा नहीं मिलनी चाहिए। यह एक जटिल और महत्वपूर्ण चिंता का विषय है कि इस प्रावधान के माध्यम से एक निर्दोष व्यक्ति और उसके रिश्तेदारों को अक्सर अन्यायपूर्ण कानूनी उत्पीड़न का शिकार होना पड़ रहा है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

क्या धारा 498A निर्दोषता की धारणा के अधीन है?

अभियुक्त को भारत की आपराधिक कानून की प्रणाली के तहत एक उचित संदेह से परे अपना अपराध स्थापित करना चाहिए। यदि अभियुक्त को दोषी पाया जाना है, तो अभियोजन पक्ष को सभी उचित संदेहों को दूर करना चाहिए। मानवाधिकारों की सार्वभौम (यूनिवर्सल) घोषणा, 1948 के अनुच्छेद 11.1 में कहा गया है, कि आपराधिक अपराध के लिए आरोपित प्रत्येक व्यक्ति को तब तक निर्दोष माने जाने का अधिकार है, जब तक कि सार्वजनिक मुकदमे में कानून के अनुसार दोषी साबित न हो जाए, जिसमें उसे अपने बचाव के लिए आवश्यक सभी सुरक्षा प्राप्त हो।

हमारे संविधान का अनुच्छेद 20 एक संदिग्ध के लिए निर्दोषता की धारणा प्रदान करता है; फिर भी, संविधान इसकी पुष्टि या निषेध नहीं करता है, इसे इस प्रावधान की अवहेलना करने के लिए संसद पर छोड़ देता है यदि ऐसा करना आवश्यक या लाभप्रद समझा जाता है। जबकि पति आईपीसी की धारा 498A के तहत आरोपों का सामना करते समय निर्दोषता की धारणा का आनंद नहीं लेता है, उसके पास धारा 304B के तहत साक्ष्य का अधिक बोझ होता है, जो भारतीय साक्ष्य अधिनियम के तहत धारा 113B द्वारा शासित होता है।

क्या बिना पुलिस नोटिस के आइपीसी की धारा 498A के तहत गिरफ्तार किया जाना संभव है?

एक व्यक्ति को अभी भी गिरफ्तार किया जा सकता है, लेकिन अर्नेश कुमार के फैसले के बाद, पुलिस अधिकारी धारा 498A का उल्लंघन करने वाले संदिग्धों को अब स्वचालित रूप से हिरासत में नहीं लेंगे और इसके बजाय उन्हें आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 41 में निर्धारित मानकों का पालन करना होगा। एक व्यक्ति जिसके खिलाफ एक उचित शिकायत की गई है, विश्वसनीय जानकारी प्राप्त हुई है, या उचित संदेह मौजूद है कि उसने एक संज्ञेय अपराध किया है, जिसकी अवधि सात साल से कम हो सकती है और जो सात साल तक बढ़ सकती है, चाहे जुर्माने के साथ या बिना हो, यदि निम्नलिखित शर्तों को पूरा किया जाता है, तो आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 4(1)(b) के तहत गिरफ्तारी के अधीन होगा। एक अधिकारी को इस भाग के तहत गिरफ्तारी नहीं करने का निर्णय लेने के लिए लिखित औचित्य प्रदान करना चाहिए। वे अपनी इच्छा से गिरफ्तार कर सकते हैं, लेकिन उन्हें सभी लागू कानूनों और विनियमों (रेगुलेशन) का पालन करना होगा।

क्या 498A और दहेज उत्पीड़न में कोई अंतर है?

भारतीय दंड संहिता की धारा 498A में कहीं भी “दहेज” शब्द का उल्लेख नहीं है। भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) ने “न केवल दहेज हत्या के मामलों बल्कि विवाहित महिलाओं के साथ उनके ससुराल वालों द्वारा क्रूरता के मामलों से भी प्रभावी ढंग से निपटने के लिए” अध्याय XXA जोड़ा, जिसमें एकमात्र धारा 498A शामिल है। यह “न केवल दहेज हत्या के मामलों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए” किया गया था। 1961 का दहेज निषेध अधिनियम कानून का एक टुकड़ा है जो सीधे तौर पर दहेज को संबोधित करता है। दहेज के रूप में किसी भी संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा के लिए किसी भी गैरकानूनी मांग का पालन करने के लिए उसे या उसके रिश्तेदारों को मजबूर करने के इरादे से एक विवाहित महिला का उत्पीड़न धारा 498A का उल्लंघन है, जो एक विवाहित महिला के साथ किए गए क्रूर व्यवहार (मानसिक और शारीरिक दोनों) को परिभाषित करता है और उस पर चर्चा करता है। इसके अतिरिक्त, यह धारा उत्पीड़न को जबरदस्ती के एक तरीके के रूप में मानती है।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here