कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 123

0
1311
Companies act 2013

यह लेख एक कानूनी पेशेवर Anjali Sinha द्वारा लिखा गया है। यह लेख लाभांश (डिविडेंड्स), इसके स्रोत, घोषणा, अपवाद और सहायक मामलो का विस्तृत विश्लेषण प्रदान करता है। इसके अलावा, यह कंपनी (लाभांश की घोषणा और भुगतान) नियम के संबंध में लाभांश की घोषणा का वर्णन करता है। इस लेख का अनुवाद Nisha ने किया।

Table of Contents

परिचय 

लाभांश का भुगतान वर्तमान वर्ष के लाभ, पिछले वर्षों के लाभ या दोनों में से किया जा सकता है। मान लीजिए कि भले ही किसी कंपनी में इस वर्ष घाटा हुआ हो, फिर भी वह लाभांश का भुगतान कर सकती है यदि पिछले वर्षों के मुनाफे को बांटा नहीं गया हो। 

इसके अतिरिक्त, लाभांश का भुगतान वर्तमान वर्ष में किए गए लाभ से किया जा सकता है, भले ही वर्तमान वर्ष की शुरुआत में कंपनी के लाभ और हानि खाते में ऋणात्मक (निगेटिव) शेष हो और उस वर्ष में लाभ कमाती हो लेकिन लाभ पिछले वर्ष के नुकसान को शामिल करने के लिए अपर्याप्त है (यानी, लाभ और हानि खाता चालू वर्ष के लाभ के लिए लेखांकन के बाद एक नकारात्मक संतुलन दिखाता है)। 

इसके अलावा, सूचीबद्ध (लिस्टेड) सार्वजनिक कंपनियों और भारत में किसी भी मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज पर अपनी प्रतिभूतियों (सिक्युरिटीज) को सूचीबद्ध करने के इच्छुक सार्वजनिक कंपनियों के मामले में लाभांश का भुगतान न करने के मामले में सेबी द्वारा प्रशासित किया जाएगा।

लाभांश का अर्थ

लाभांश शेयर पूंजी पर प्रतिफल/लाभ (रिटर्न) है जिसे शेयरधारक किसी कंपनी की सदस्यता से लेते हैं और भुगतान करते हैं।  कंपनी अधिनियम,2013 की धारा 2(35) ‘लाभांश’ शब्द को “लाभांश में कोई अंतरिम (इंटरिम) लाभांश शामिल है” के रूप में परिभाषित करता है। शब्दकोश के अनुसार, लाभांश, एक दिवालिया (इन्सॉल्वेंट) संपत्ति के लेनदारों को भुगतान की गई राशि या ऋण ब्याज या लाभ के रूप में एक व्यक्ति का हिस्सा है। हालाँकि, व्यापार की भाषा में, लाभांश कंपनी के लाभ का हिस्सा है जो इसके सदस्यों को वितरित किया जाता है।

अंतरिम लाभांश और अंतिम लाभांश के बीच बहुत ही सूक्ष्म अंतर होता है। जबकि एक अंतिम लाभांश कंपनी के लिए एक दायित्व है और इसे सामान्य बैठक के सदस्यों द्वारा घोषित किए जाने के बाद लागू किया जा सकता है, मंडल (बोर्ड) द्वारा एक अंतरिम लाभांश की घोषणा से कोई दायित्व नहीं बनता हैऔर अंतरिम लाभांश के वास्तव में भुगतान किए जाने से पहले इसे किसी भी समय रद्द किया जा सकता है भले ही अंतरिम लाभांश का एक हिस्सा एक अलग बैंक खाते में जमा किया गया हो, फिर भी रद्दीकरण किया जा सकता है। मंडल के पास अतिरिक्त अंतरिम लाभांश घोषित करने का अधिकार है, और अंतरिम लाभांश सामान्य बैठक में सदस्यों के अनुमोदन (अप्रूवल) के अधीन नहीं है। 

2013 के कंपनी अधिनियम की तालिका F के खंड 81 के अनुसार, मंडल, धारा 123 के अधीन, सदस्यों को अंतरिम लाभांश का भुगतान कर सकता है, जैसा कि कंपनी के लाभ के आलोक में उचित लगता है।

हालांकि, कंपनी कार्य विभाग ने अंतरिम लाभांश के संबंध में एक स्थिति जारी की, जिसमें कहा गया है कि सामान्य बैठक को लाभांश को मंजूरी देने का अधिकार है, और मंडल अंतरिम लाभांश का भुगतान कर सकता है, अगर विधानपत्र  (आर्टिकल ऑफ़ एसोसिएशन) द्वारा अधिकृत (ऑथराइज्ड) किया जाता है, कंपनी सामान्य बैठक में अंतरिम लाभांश को नियमित करती है। हालांकि, ये कानूनी रूप से बाध्यकारी नहीं हैं।

लाभांश की घोषणा 

अधिनियम के तहत पंजीकृत (रजिस्टर्ड) कंपनियों को कोई लाभांश घोषित करने और भुगतान करने के लिए कोई विशिष्ट शक्ति प्रदान नहीं की गई है। लाभांश का भुगतान करने की शक्ति एक कंपनी में एक स्थायी मौजूदा विशेषता है जो न तो कंपनी अधिनियम, 2013 से प्राप्त होती है और न ही संगम ज्ञापन (मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन) या  विधान पत्र से। हालाँकि, जिस तरीके से लाभांश घोषित किया जाना है, वह विधान पत्र द्वारा नियंत्रित होता है।

  • धारा 123 का खंड 1 स्रोत प्रदान करता है जिसके माध्यम से किसी कंपनी द्वारा लाभांश घोषित या भुगतान किया जा सकता है। (नीचे विस्तार से चर्चा की गई)।
  • धारा 123 का खंड 2 प्रदान करता है कि अनुसूची II के अनुसार, मूल्यह्रास (डेप्रिसिएशन) वितरित किया जाएगा।
  • धारा 123 का खंड 3 प्रदान करता है कि किसी कंपनी का निदेशक मंडल (बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर) लाभ और हानि खाते में अधिशेष (सरप्लस) से या वर्तमान वित्तीय वर्ष में उत्पन्न लाभ से अंतरिम लाभांश की घोषणा कर सकता है, बशर्ते कि पिछले तीन वित्तीय वर्षों के दौरान कंपनी द्वारा घोषित यह औसत लाभांश से अधिक न हो।
  • धारा 123 के खंड 4 में प्रावधान है कि लाभांश की राशि इसकी घोषणा से पांच दिनों के भीतर एक अलग बैंक खाते में जमा की जानी चाहिए।
  • धारा 123 के खंड 5 में प्रावधान है कि इसे पंजीकृत शेयरधारक को भुगतान किया जाना चाहिए, और नकद में दिया जाना चाहिए। स्वीकृत होने पर बोनस जारी किया जा सकता है, लेकिन नकद लाभांश का भुगतान चेक या इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से भी किया जा सकता है।
  • धारा 123 का खंड 6 प्रदान करता है कि यदि धारा 73 और 74 के किसी भी प्रावधान को पूरा नहीं किया जाता है, तो पूर्ण अनुपालन फिर से शुरू होने तक कोई इक्विटी लाभांश घोषित नहीं किया जा सकता है।

वरीयता (प्रिफेरेंस) शेयर पर लाभांश

वितरण योग्य लाभ की उपलब्धता के अधीन, एक वरीयता शेयर जारी करने की अवधि और विधानपत्र  के अनुसार एक अधिमान्य लाभांश का अधिकार रखता है। लाभांश का वरीयता  अधिकार पूर्व निर्धारित राशि या पूर्व निर्धारित दर के लिए दिया जा सकता है। इसका संचयी (क्युमुलेटिव) प्रभाव हो भी सकता है और नहीं भी।

इक्विटी शेयरों पर किसी भी लाभांश का भुगतान करने से पहले, वरीयता शेयरों में एक निश्चित लाभांश हो सकता है। वरीयता वाले वर्ग के शेयरधारक अन्य वर्ग के शेयरधारकों को भुगतान किए गए किसी भी लाभांश से पहले अपने वरीयता  लाभांश के हकदार हैं यदि वरीयता शेयरों के दो या अधिक वर्ग हैं।

हालाँकि, इन लाभांश अधिकारों से तीन शर्तें जुड़ी हैं। जो निम्नलिखित हैं -: 

  • पहली, वरीयता शेयर कंपनी की शेयर पूंजी का एक हिस्सा हैं, वरीयता लाभांश का भुगतान केवल तभी किया जा सकता है जब कंपनी ने पर्याप्त पैसा कमाया हो।
  • दूसरी, लाभांश को केवल शेयरधारकों को वितरित करने से पहले अधिनियम और कंपनी के विधानपत्र के अनुसार घोषित किया जा सकता है।
  • तीसरी, एक औपचारिक (फॉर्मल) घोषणा की जानी चाहिए थी।

वरीयता लाभांश को वरीयता शेयरधारकों द्वारा ऋण के रूप में नहीं माना जा सकता है और वे इसके भुगतान के लिए पहले मुकदमा नहीं कर सकते। हालाँकि, भले ही वरीयता लाभांश घोषित नहीं किया गया हो, वरीयता शेयरधारक इसके लिए मुकदमा कर सकता है यदि विधानपत्र यह निर्धारित करते हैं कि कंपनी के लाभ का उपयोग वरीयता लाभांश का भुगतान करने के लिए किया जाएगा।

इक्विटी शेयर पर लाभांश

इक्विटी शेयरों पर लाभांश का भुगतान करते समय इक्विटी शेयरों के विभिन्न वर्गों के अधिकारों को ध्यान में रखा जाना चाहिए। वरीयता शेयरों पर सभी लाभांश का भुगतान किए जाने के बाद, इक्विटी शेयरधारक अपने शेयरों पर लाभांश प्राप्त नहीं कर सकते है।

वरीयता लाभांश निश्चित है और इसे बढ़ाया नहीं जा सकता है, भले ही कंपनी का मुनाफा कितना भी बड़ा क्यों न हो, जब तक कि वरीयता शेयर अधिशेष मुनाफे में भाग लेने का अधिकार नहीं रखते। भले ही इक्विटी शेयरधारक वरीयता शेयरधारकों की वरीयता में दूसरे स्थान पर है, लेकिन वह उच्च लाभांश का विशेषाधिकार प्राप्त करते है।

इसलिए, ऊपर वर्णित परिस्थितियों के अपवाद के साथ, इक्विटी शेयरधारकों को तत्काल या बाद के वर्षों में वरीयता लाभांश के भुगतान के बाद कंपनी के शेष लाभ की संपूर्णता के लिए लाभांश प्राप्त हो सकता है।

लाभांश के स्रोत

धारा 123(1) के अनुसार लाभांश के तीन स्रोत हैं:

  1. मूल्यह्रास के लिए प्रदान करने के बाद, वर्तमान वर्ष के कंपनी के मुनाफे में से।
  2. मूल्यह्रास के लिए प्रदान करने के बाद, किसी पिछले वित्तीय वर्ष के लिए कंपनी के लाभ में से।
  3. केंद्र सरकार या राज्य सरकार से लाभांश के भुगतान के लिए प्राप्त कोई भी।

लाभांश प्राप्त करने के लिए कौन पात्र है

एक शेयर पर लाभांश पंजीकृत शेयरधारक, या उसके बैंकों को भुगतान किया जाना चाहिए। जब लाभांश देय होता है, तो इसे कंपनी अधिनियम 2013 की  धारा 127 के तहत घोषणा के 30 दिनों के भीतर वितरित किया जाना चाहिए।

धारा 127 प्रावधान के अनुसार, निम्नलिखित परिस्थितियों में 30 दिनों के भीतर लाभांश का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है:

  • जब एक शेयरधारक ने कंपनी को लाभांश भुगतान के संबंध में निर्देश दिए हैं लेकिन इन निर्देशों का पालन नहीं किया जा सकता है;
  • ऐसे मामलों में जहां लाभांश प्राप्त करने का अधिकार विवाद में हो;
  • ऐसे मामलों में जहां कंपनी द्वारा किसी शेयरधारक-देय राशि को ऑफसेट करने के लिए लाभांश को कानूनी रूप से समायोजित किया गया है।

लाभांश का निरसन (रिवोकेशन)

एक बार घोषित किए जाने के बाद, अंतरिम लाभांश सहित लाभांश ऋण बन जाता है और शेयरधारक के अनुमोदन के बिना इसे रद्द नहीं किया जा सकता है। एक लाभांश जिसे घोषित किया गया है और शेयरधारकों को वितरित किया गया है, बाद के संकल्प द्वारा बदला नहीं जा सकता है।

हालांकि, अगर लाभांश को धोखे से घोषित किया गया था, तो निदेशकों को लाभांश को रोकना उचित होगा। यदि धोखाधड़ी से घोषित लाभांश का भुगतान किया जाता है तो निदेशक कंपनी के लिए व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी और जवाबदेह होते हैं।अनुचित लाभांश भुगतान के लिए निदेशक, शेयरधारक और लेखा परीक्षक  (ऑडिटर ) सभी जिम्मेदार होते हैं। इस घटना में कि एक अनुचित लाभांश के भुगतान के परिणामस्वरूप व्यवसाय को नुकसान होता है, निदेशक आमतौर पर इसे वापस भुगतान करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। उन्हें नुकसान के लिए व्यवसाय की भरपाई करनी चाहिए, उदाहरण के लिए, यदि उन्होंने पूंजी से लाभांश का भुगतान किया है। 

दूसरी ओर, यदि एक शेयरधारक जानता है कि पूंजी से लाभांश का भुगतान किया जाता है, तो वह कंपनी के नुकसान को कवर करने के लिए जिम्मेदार होता है और निदेशक लाभांश वापस प्राप्त कर सकते हैं। निदेशकों को किसी भी शेयरधारक के अनुरोध पर अनुचित और अवैध लाभांश का भुगतान करने से रोका जा सकता है (हूले बनाम ग्रेट वेस्टर्न रेलवे कंपनी ( 1867) 3 सीएच ऐप 262)

अपवाद

लाभांश लाभ की गणना करने के लिए मूल्यह्रास अनुसूची II के अनुसार प्रदान किया जाना चाहिए। 2013 का कंपनी अधिनियम लाभ गणना में मूल्यह्रास को शामिल करने का आदेश देता है। हालाँकि, 1956 के कंपनी अधिनियम ने केंद्र सरकार को मूल्यह्रास के बिना लाभांश भुगतान की अनुमति देने का अधिकार दिया था। 

इसके अलावा, लाभ और हानि खाते का विवरण अतिरिक्त मूल्यह्रास को स्वीकार कर सकता है जो केवल संपत्ति पुनर्मूल्यांकन के परिणामस्वरूप आवश्यक है। इसलिए, 2013 का कंपनी अधिनियम मूल्यह्रास को ध्यान में रखता है, जो ऋणदाताओं के हितों की रक्षा के लिए किया जा सकता है।

1956 के कंपनी अधिनियम के तहत लाभांश घोषित करने से पहले, लाभ को सामान्य रिजर्व में स्थानांतरित किया जाना था। हालाँकि, 2013 के कंपनी अधिनियम की धारा 123 (1) के पहले प्रावधान में कहा गया है कि कंपनी ऐसा करने से पहले जो भी दर चुनती है, उसे रिज़र्व  करने के लिए लाभ हस्तांतरित कर सकती है।

हालांकि, इस तथ्य के बावजूद कि इसकी आवश्यकता नहीं है, कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 134 के तहत निदेशक मंडल को उस राशि के संबंध में विवरण प्रदान करना आवश्यक है, यदि कोई हो, जिसे व्यवसाय अपने रिजर्व में ले जाने का इरादा रखता है। निदेशक मंडल को धारा 135 (3) और 135(5) के अनुसार निदेशक की जिम्मेदारी का विवरण भी दाखिल करना चाहिए। नतीजतन, भले ही निदेशक मंडल के पास अब लाभ को रिज़र्व में डालने का विकल्प है, उन्हें इसे बुद्धिमानी से और कंपनी के सर्वोत्तम हित में उपयोग करना होगा।

इसलिए, लाभांश घोषित करने से पहले मूल्यह्रास की आवश्यकता के अपवाद के साथ, लाभांश की अवधारणा को पूरी तरह से उदार (लिबरल) बना दिया गया है, जो व्यापार क्षेत्र के लिए एक विधायी और न्यायिक वरदान साबित हुआ है।

मामले 

कमिश्नर इनकम टैक्स बनाम एटूर होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड [(2008) 146 कॉम्प कैस 152 (बीओएम)]

इस मामले में, यह निर्धारित किया गया था कि एक व्यक्ति केवल इसलिए लाभांश का हकदार नहीं है क्योंकि उन्होंने शेयर खरीदे या प्राप्त किए होंगे। हालाँकि, शेयरों को कंपनी के खाते की किताबों में उनके नाम पर पंजीकृत नहीं किया जाना चाहिए। प्रतिभूति अनुबंध (विनियमन) अधिनियम, 1956 की धारा 27 के अनुसार, केवल पंजीकृत शेयरधारक ही लाभांश का दावा करने के पात्र हैं, और लाभांश का भुगतान कंपनी द्वारा उनके नाम पर किया जाना चाहिए।

एन कुमार बनाम एम.ओ रॉय, सहायक निदेशक, एसआईएफओ [(2007) 80 एससीएल 55 (एमएडी)]

तथ्य

इस मामले में, एक कंपनी ने 19 सितंबर, 1966 को लाभांश घोषित किया, लेकिन निर्धारित समय सीमा के भीतर इसे वितरित करने में विफल रही। 23 अगस्त 2006 को, कंपनी अधिनियम 1956 की धारा 207 का उल्लंघन करने के लिए व्यापार और उसके निदेशकों के खिलाफ एक शिकायत दर्ज की गई थी। 

मुद्दा

एक निदेशक ने तर्क दिया कि उन्होंने लाभांश की घोषणा से पहले इस्तीफा दे दिया था, उन्हें धारा 207 का उल्लंघन करने के लिए दोषी नहीं ठहराया जा सकता है। 

निर्णय 

अदालत ने माना कि निदेशक के पास कंपनी के संचालन का पूर्णकालिक निरीक्षण नहीं था। धारा 207 के तहत, निदेशक को उल्लंघन के लिए अप्रत्यक्ष रूप से उत्तरदायी नहीं ठहराया जा सकता था, इसलिए उसके खिलाफ कार्यवाही को समाप्त किए जाने की संभावना थी।

स्वदेशी क्लॉथ डीलर्स लिमिटेड बनाम रघुनंदन नियोटिया (1964) 34 कॉम्प कैस 570 (केल)

तथ्य

इस मामले में 30 मार्च, 1960 को शेयरधारकों की एक सामान्य बैठक आयोजित की गई और बैठक के दौरान विभिन्न वर्षों के लिए लाभांश की सिफारिश करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया गया:

  • 31 मार्च, 1961 को 10/- रुपये प्रति शेयर।
  • 31 मार्च, 1962 को 80/- रुपये प्रति शेयर।

मुद्दा

एक तो प्रस्ताव पारित किया गया और हुई बैठक को कंपनी अधिनियम के अवैध और अधिकारातीत (अल्ट्रा वायरस) बताया गया और दूसरा, यह सवाल उठता है कि क्या लाभांश का निर्णय केवल वार्षिक सामान्य बैठक में ही किया जा सकता है?

निर्णय 

इस मामले में, कलकत्ता उच्च न्यायालय ने फैसला सुनाया कि अधिनियम के प्रावधानों को एक साथ लेने पर वार्षिक सामान्य बैठकों में लाभांश की घोषणा की आवश्यकता होती है। पिछले वर्षों के लिए कोई लाभांश घोषित नहीं किया जा सकता है यदि राशियाँ पहले की वार्षिक सामान्य बैठक में बंद कर दी गई हों।

कांतिलाल बनाम सीआईटी, 26 कॉम्प कैस 357 (बम)

बॉम्बे उच्च न्यायालय  ने फैसला सुनाया कि कानून स्पष्ट और अच्छी तरह से स्थापित है कि केवल कंपनी के शेयरधारक ही लाभांश की घोषणा कर सकते हैं। आमतौर पर, लाभांश घोषणा प्रावधान कंपनी के लेखों में शामिल होते हैं। ये अधिनियम की अनुसूची I की तालिका “ए” के विनियम 85-94 के प्रारूप (फॉर्मेट) का पालन करेंगे। विनियम 85 के अनुसार, सामान्य बैठक में लाभांश घोषित करने का अधिकार है, लेकिन यह मंडल द्वारा अनुशंसित राशि से अधिक लाभांश घोषित नहीं कर सकता है। 

हालाँकि, कंपनी उसी वर्ष के लिए दूसरे लाभांश की घोषणा नहीं कर सकती है यदि लाभांश की घोषणा सामान्य बैठक में की जाती है। निदेशक मंडल धारा 205(1A) के तहत अधिनियम के अनुसार अंतरिम लाभांश घोषित करने के लिए अधिकृत है। इसलिए, मंडल एक अंतरिम लाभांश की घोषणा कर सकता है यदि लेख स्पष्ट रूप से अन्यथा नहीं बताते हैं।

निष्कर्ष 

कंपनी अधिनियम 2013, की धारा 123, कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 205 के संबंध में है। इसका उद्देश्य यह कहना है मूल्यह्रास के लिए लेखांकन या लाभांश भुगतान के लिए केंद्र सरकार या राज्य सरकार द्वारा प्रदान किए गए धन से किसी कंपनी को किसी भी वित्तीय वर्ष के लिए उस वर्ष या किसी पिछले वर्ष या वर्षों के मुनाफे से किसी भी सामान्य बैठक में लाभांश का भुगतान करना चाहिए।  एक कंपनी फ्री रिजर्व के अलावा अन्य रिजर्व से लाभांश का भुगतान नहीं कर सकती है। हालांकि, किसी भी लाभांश की घोषणा से पहले लाभ का एक निश्चित प्रतिशत कंपनी के रिजर्व में स्थानांतरित किया जा सकता है।

किसी भी वित्तीय वर्ष के दौरान अपर्याप्त लाभ या कोई लाभ नहीं होने की स्थिति में, केंद्र सरकार के नियमों के अनुसार रिज़र्व में स्थानांतरित संचित लाभ से लाभांश घोषित किया जा सकता है। प्रावधान के अनुसार, मूल्यह्रास का भुगतान अधिनियम की अनुसूची II के अनुसार किया जाना चाहिए। 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

क्या कंपनी की संपत्ति से लाभांश का भुगतान किया जा सकता है?

लाभांश का भुगतान कंपनी की संपत्ति से नहीं किया जा सकता है और सामान्य तौर पर केवल इस उद्देश्य के लिए उपलब्ध लाभ में से ही घोषित किया जा सकता है।

सरल लेखा विधि (‘स्ट्रेट लाइन मेथड)’ के तहत विभिन्न संपत्तियों के मूल्यह्रास की दरों के लिए अनुसूची XIV के तहत क्या निर्धारित है?

अनुसूची XIV सिंगल शिफ्ट, डबल शिफ्ट और ट्रिपल शिफ्ट के आधार पर सरल लेखा विधि के तहत विभिन्न संपत्तियों के मूल्यह्रास की दर प्रदान करता है।

क्या लाभांश का भुगतान नकद और वस्तु के रूप में किया जा सकता है?

धारा 205(3) के अनुसार, लाभांश का भुगतान केवल नकद में किया जा सकता है, वस्तु के रूप में नहीं।

 

संदर्भ 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here