एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ: मामले का विश्लेषण

0
345

यह लेख Shivani. A. द्वारा लिखा गया है। यह लेख एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ के मामले का विस्तृत विश्लेषण प्रदान करता है। यह एक विस्तृत लेख है जिसमें संविधान के अनुच्छेद 356 की पृष्ठभूमि (बैकग्राउंड) से लेकर वर्तमान शासन प्रणाली पर फैसले के प्रभाव तक मामले से संबंधित सभी महत्वपूर्ण पहलुओं को शामिल किया गया है। यह वर्तमान मामले में दिए गए प्रमुख विवादों और निर्णयों से भी संबंधित है। इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja के द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ (1994) का मामला भारत के संविधान के अनुच्छेद 356 से संबंधित एक ऐतिहासिक निर्णय है। केंद्र-राज्य संबंधों की जटिलताओं और संविधान की मूल संरचना के सिद्धांत को समझने के लिए यह एक महत्वपूर्ण मामला है। इस ममाले ने अनुच्छेद 356 का दायरा निर्धारित किया है और इस अनुच्छेद के उपयोग पर कुछ प्रतिबंधों को परिभाषित किया है, जिससे केंद्र-राज्य संबंधों से संबंधित कुछ जटिल मुद्दों को हल करने में मदद मिली। इसने संघीय ढांचे के सिद्धांत और राज्यपाल (गवर्नर) और राष्ट्रपति की भूमिकाएँ भी निर्धारित कीं। इस फैसले को एक ऐतिहासिक फैसला माना जाता है क्योंकि नौ न्यायाधीशों की पीठ ने यह फैसला सुनाया जो अनुच्छेद 356 के दुरुपयोग और केंद्र और राज्य के बीच झगड़े के मामले में उत्पन्न होने वाले सभी विवादों के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य करता है। इस मामले का फैसला 11 मार्च 1994 को न्यायमूर्ति एस.आर. पांडियन, ए.एम. अहमदी, जे.एस. वर्मा, पी.बी. सावंत, के. रामास्वामी, एस.सी. अग्रवाल, योगेश्वर दयाल और बी.पी. जीवन रेड्डी की संवैधानिक पीठ के द्वारा सुनाया गया था।

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ: मामले की पृष्ठभूमि 

अनुच्छेद 356 का इतिहास

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ (1994) मामले की पृष्ठभूमि को समझने से पहले, हमें अनुच्छेद 356 के इतिहास को समझने की आवश्यकता है। भारत को अंग्रेजों से आजादी मिलने के बाद, मुख्य प्रश्नों में से एक जिसे संविधान सभा द्वारा निर्धारित किया जाना था, वह यह था कि क्या भारत को संघीय (फेडरल) या एकात्मक (यूनिटरी) सरकार प्रणाली का पालन करना चाहिए। इस प्रश्न का उत्तर देने के लिए संविधान सभा के सदस्यों के पास दो विचारधाराएँ थीं।  प्रथम विचारधारा का मानना ​​था कि भारत को सरकार की संघीय प्रणाली का पालन करना चाहिए। इस विचारधारा में विश्वास करने वाले कुछ सदस्य टी.टी. कर्मचारी और के. संथानम थे। उनका मानना यह ​​था कि संघवाद की अवधारणा भारत के संविधान में इतनी गहराई से समाहित है कि इसे तब तक नहीं बदला जा सकता जब तक कि हम पूरे संविधान को न बदल दें। दूसरी विचारधारा का मानना यह ​​था कि भारत को सरकार की एकात्मक प्रणाली का पालन करना चाहिए। इस विचारधारा में विश्वास करने वाले कुछ सदस्य पी.टी. चाको, पी.एस. देशमुख, बी.एम. गुप्ते और सीताराम एस जाजू थे। इन सदस्यों का मानना यह था कि भारत अपने आप में एकात्मक प्रणाली का पालन नहीं करता है, हालाँकि, उनका दावा था कि यह एक विकेन्द्रीकृत (डिसेंट्रलाइज) एकात्मक राज्य है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि केंद्र और राज्य दोनों के पास कुछ शक्तियां हैं। हालाँकि, निर्दिष्ट शक्तियाँ राज्यों को दी जाती हैं जबकि अवशिष्ट शक्तियाँ केंद्र को दी जाती हैं। इसलिए, उन्हें लगता है कि भारत एक संघीय राज्य से अधिक एकात्मक राज्य है।  हालाँकि, मसौदा समिति के अध्यक्ष डॉ. बी.आर. अंबेडकर ने यह कहकर प्रश्न को स्पष्ट किया कि भारत में संघीय और एकात्मक दोनों तरह की सरकार प्रणाली है। उन्होंने दावा किया कि यह कहना गलत है कि राज्य केंद्र के अधीन हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि सामान्य परिस्थितियों में, शासन की संघीय प्रणाली प्रबल होगी और एकात्मक प्रणाली विशेष रूप से युद्ध या आपात स्थिति के दौरान प्रबल होगी। डॉ. अम्बेडकर ने यह भी उल्लेख किया कि अनुच्छेद 356 के उपयोग को एक मृत पत्र के रूप में माना जाना चाहिए और इसका उपयोग केवल दुर्लभतम मामलों में ही किया जाना चाहिए। हालाँकि, सत्ता में आने वाली सरकारों ने डॉ. अम्बेडकर द्वारा दिए गए सुझाव पर ध्यान नहीं दिया। इसका कारण यह है कि अनुच्छेद 356 का उपयोग सत्ताधारी दल द्वारा लगातार उन राज्यों में राष्ट्रपति शासन लगाकर अपनी राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता (रिवालरी) के लिए किया जाता रहा है, जो विपक्षी दलों के नियंत्रण में हैं। अब तक यह अनुच्छेद 132 बार लगाया जा चुका है। वर्तमान मामला भी उन उदाहरणों में से एक है जिसमें यह अनुच्छेद केंद्र द्वारा मनमाने ढंग से लगाया गया था।

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ की राजनीतिक पृष्ठभूमि 

श्री रामचन्द्र हेगड़े जो जनता पार्टी के नेता थे, उन्हें 8 मार्च 1985 को कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उसी वर्ष जनता पार्टी और लोक दल का विलय (मर्जर) हुआ था और बाद में जो पार्टी बनी उसका नाम जनता दल रखा गया था। हालाँकि, अरक बॉटलिंग अनुबंधों और फोन टैपिंग मुद्दों के संबंध में श्री रामचंद्र हेगड़े के खिलाफ कुछ आरोप लगाए गए थे जिससे उनकी प्रतिष्ठा खराब हो गई थी। जिस परिणामस्वरूप, उन्होंने 10 अगस्त 1988 को इस्तीफा दे दिया और बाद में, एस.आर. बोम्मई कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने। विलय के बाद दोनों पार्टियों के बीच कई मुद्दों पर असहमति हुई थी जिसके कारण जनता पार्टी अलग हो गई थी। जिन 139 सीटों पर जनता पार्टी ने दावा किया था, उनमें से एक विभाजन हुआ और जनता दल, जिसने अध्यक्ष के समर्थन के साथ 112 सीटें हासिल कीं, स्वतंत्र उम्मीदवारों और 27 अन्य विधायकों ने एच.डी. देवेगौड़ा का समर्थन किया जो जनता पार्टी के नेता थे और बाद में सरकार से इस्तीफा दे दिया था। इस बीच, जनता दल के विधायकों में से एक, कल्याण राव मोलाकेरी, जो देवेगौड़ा के नेतृत्व वाली जनता पार्टी से अलग हो गए थे, ने राज्यपाल को एक पत्र भेजा जिसमें दावा किया गया था कि 17 अप्रैल 1989 को जनता दल, भारतीय जनता पार्टी और अन्य स्वतंत्र विधायकों के बीच बड़े पैमाने पर असंतोष हुआ था। इस पत्र में 19 विधायकों के हस्ताक्षर थे, जिनमें से 18 हस्ताक्षर जनता दल के सदस्यों के और 1 हस्ताक्षर भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों के थे। राज्यपाल ने सचिव (सेक्रेटरी) से स्पष्टीकरण प्राप्त करने के बाद राष्ट्रपति को अपनी रिपोर्ट भेजी जिसमें कहा गया था कि जनता दल के 19 विधायकों के इस्तीफे के कारण, यह अब अल्पमत (माइनोरिटी) पार्टी है और कोई अन्य पार्टी नहीं है जो संविधान में उल्लिखित प्रावधान के अनुसार विधानसभा का संचालन कर सके। इसलिए राज्यपाल के द्वारा संविधान के अनुच्छेद 174(2)(b) के अनुसार राज्य विधानसभा को भंग करने का आदेश दिया गया था। मुख्यमंत्री एस.आर. बोम्मई ने राज्यपाल को सदन में सरकार की ताकत की जांच करने के लिए संयुक्त सत्र बुलाने का सुझाव दिया, लेकिन राज्यपाल ने इस सलाह को नजरअंदाज कर दिया और राष्ट्रपति को सूचित किया कि चूंकि श्री एस.आर. बोम्मई ने सदन के भीतर बहुमत का समर्थन खो दिया है और चूंकि कोई अन्य दल सरकार बनाने की स्थिति में नहीं था, इसलिए राष्ट्रपति के पास अनुच्छेद 356(1) के तहत प्रदत्त अपनी शक्तियों का उपयोग करने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं था। जिसके परिणामस्वरूप, अप्रैल 1989 में, राष्ट्रपति ने अपने निर्णय की घोषणा करते हुए कहा कि श्री एस.आर. बोम्मई के नेतृत्व वाली जनता दल सरकार को भंग कर दिया गया था और एस.आर. बोम्मई द्वारा विभिन्न आधारों पर एक रिट याचिका द्वारा सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष इसकी वैधता पर सवाल उठाया गया था। सर्वोच्च न्यायालय ने फैसला सुनाया कि अनुच्छेद 356(1) के तहत जारी किया गया फैसला पूरी तरह से न्यायिक जांच के दायरे से बाहर नहीं है। अनुच्छेद 356(1) के तहत आपातकाल की उद्घोषणा (प्रोक्लेमेशन) जारी करने के लिए राष्ट्रपति के लिए पूर्ववर्ती शर्त यह है कि राष्ट्रपति को इस बात से वास्तविक संतुष्टि होनी चाहिए कि किसी राज्य की संवैधानिक तंत्र पूरी तरह से खराब हो गया है और इसे प्रासंगिक तथ्यों और परिस्थितियों के द्वारा समर्थित किया जाना चाहिए। न्यायिक विश्लेषण का दायरा इस बात की जांच तक ही सीमित है कि क्या किसी राज्य में आपातकाल की उद्घोषणा जारी करने के लिए राष्ट्रपति द्वारा बताए गए कारणों का राष्ट्रपति द्वारा की गई कार्रवाई, यानी राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने से कोई तर्कसंगत संबंध है या नहीं। अदालतें इस बात की जांच कर सकती हैं कि क्या राष्ट्रपति की संतुष्टि किसी भी कारण से दुर्भावनापूर्ण थी, या पूरी तरह से असंगत और अप्रासंगिक आधार पर आधारित थी। ऐसी स्थिति में, राष्ट्रपति की बताई गई संतुष्टि अनुच्छेद 356 के तहत संवैधानिक अर्थों में संतुष्टि नहीं होगी। हालांकि, अंत में, सर्वोच्च न्यायालय ने याचिका खारिज कर दी और माना कि कर्नाटक में राष्ट्रपति शासन की उद्घोषणा असंवैधानिक थी। 

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ के तथ्य

जनता पार्टी कर्नाटक राज्य विधानमंडल में एस.आर. बोम्मई के नेतृत्व में सरकार बनाने वाली सबसे बड़ी पार्टी है। सितंबर 1988 में जनता पार्टी और लोकदल का विलय होकर नया जनता दल बना था। दो दिन के अंदर 13 सदस्यों को शामिल कर मंत्रिमंडल का विस्तार किया गया था। बाद में जनता दल के विधायक के.आर. मोलाकेरी ने पार्टी छोड़ दी थी। उन्होंने राज्यपाल पेकेंटंती वेंकटसुब्बैया को 19 अन्य पत्रों के साथ एक पत्र भी प्रस्तुत किया था। इन पत्रों पर कथित तौर पर उन विधायकों द्वारा हस्ताक्षर किए गए थे जो मंत्रालय का समर्थन कर रहे थे और उन्होंने कहा था कि वे अपना समर्थन वापस ले रहे हैं। नतीजा यह हुआ कि 19 अप्रैल को राज्यपाल ने राष्ट्रपति को एक रिपोर्ट भेजी जिसमें पार्टी में हो रहे दलबदल के बारे में बताया गया था। उनके द्वारा यह भी बताया गया कि इस कारण से, मुख्यमंत्री एस.आर. बोम्मई को विधानसभा में बहुमत का समर्थन प्राप्त नहीं हुआ था और परिणामस्वरूप, एस.आर. बोम्मई सरकार के लिए संविधान के अनुसार प्रशासन चलाना अनुचित था।  इसलिए, उन्होंने सुझाव दिया कि राष्ट्रपति को धारा 356(1) के तहत अपनी शक्तियों का प्रयोग करना चाहिए। हालाँकि, अगले दिन, 19 विधायकों में से सात, जिनके हस्ताक्षर उन पत्रों में मौजूद थे, जिन्हें राज्यपाल ने राष्ट्रपति के समक्ष प्रस्तुत किया था, ने शिकायत की कि पत्रों में उनके हस्ताक्षर गलत बयानी (मिसरिप्रेजेंटेशन) द्वारा प्राप्त किए गए थे और मंत्रालय को उनके समर्थन की पुष्टि की थी। मुख्यमंत्री और कानून मंत्री ने उसी दिन राज्यपाल से मुलाकात की और सुझाव दिया कि वह विधानसभा बुलाएं और पार्टी को बहुमत साबित करने का मौका दें। इसी आशय से उन्होंने राष्ट्रपति को टेलेक्स संदेश भेजा था। हालाँकि, राज्यपाल ने उसी दिन, यानी 20 अप्रैल 1989 को फिर से राष्ट्रपति को एक और रिपोर्ट भेजी, जिसमें कहा गया कि मुख्यमंत्री ने सदन के बहुमत का विश्वास खो दिया है और अनुच्छेद 356(1) के तहत कार्य करने के अपने पहले के अनुरोध को दोहराया है। कर्नाटक सरकार को राष्ट्रपति ने बर्खास्त (डिस्मिस) कर दिया और उसी दिन राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था। संसद ने भी अनुच्छेद 356(3) के अनुसार उद्घोषणा को स्वीकार कर लिया था। 26 अप्रैल 1989 को उद्घोषणा की वैधता को चुनौती देने के लिए एस.आर. बोम्मई द्वारा एक शिकायत दायर की गई थी। पहले याचिकाकर्ता, श्री एस.आर. बोम्मई के साथ तीन अन्य याचिकाकर्ताओं, जो मुख्यमंत्री की परिषद के सदस्य थे, द्वारा परमादेश (मैंडेमस) की एक रिट भी दायर की गई थी। यह याचिका, संविधान के अनुच्छेद 226 के तहत कर्नाटक उच्च न्यायालय में दायर की गई थी। यह याचिका इसलिए दायर की गई थी क्योंकि याचिकाकर्ताओं का मानना ​​था कि उन्हें फ्लोर टेस्ट (यह एक विश्वास प्रस्ताव है जो सदन में यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि सत्ता में सरकार को विधायिका की बहुमत का समर्थन प्राप्त है या नहीं) के माध्यम से अपना बहुमत साबित करने का मौका दिया जाना चाहिए। हालाँकि, कर्नाटक उच्च न्यायालय के तीन न्यायाधीशों के एक पैनल के द्वारा याचिका को खारिज कर दिया गया था। ऐसी ही स्थिति मेघालय, नागालैंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश राज्यों में देखी गई थी। राष्ट्रपति ने इन राज्यों में विधानसभाएं भंग कर राष्ट्रपति शासन भी लागू कर दिया था। इसलिए, सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले में इन सभी राज्यों की ओर से दायर याचिकाओं पर एक साथ सुनवाई की थी। राष्ट्रपति ने 11 अक्टूबर 1991 को अनुच्छेद 356(1) के तहत मेघालय सरकार को भंग करने की उद्घोषणा जारी की थी। उद्घोषणा में कहा गया था कि, राज्यपाल द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर, राष्ट्रपति इस बात से संतुष्ट थे कि मेघालय राज्य में ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गई है कि राज्य की सरकार संविधान में उल्लिखित प्रावधानों के अनुसार और तदनुसार प्रशासन नहीं कर रही है और परिणामस्वरूप, मेघालय की सरकार भंग कर दी गई है और राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है। राज्यपाल द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर, राष्ट्रपति ने 7 अगस्त 1988 को नागालैंड की सरकारों को बर्खास्त कर दिया था। इस उद्घोषणा की वैधता को गौहाटी उच्च न्यायालय की खंडपीठ के समक्ष चुनौती दी गई थी। हालाँकि, दोनों न्यायाधीशों की अपनी अलग राय थी और इसलिए, मामले को तीसरे न्यायाधीश के पास भेजा गया था। इससे पहले कि तीसरे न्यायाधीश मामले की सुनवाई कर पाते, केंद्र सरकार ने मामले को सुनवाई के लिए सर्वोच्च न्यायालय में स्थानांतरित (ट्रांसफर) कर दिया था। बाबरी मस्जिद विध्वंस के कारण पूरे देश में हिंसा फैल गई थी। परिणामस्वरूप, श्री पी.वी. नरसिम्हा राव के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिंदू परिषद जैसे संगठनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। केंद्र सरकार के द्वारा मध्य प्रदेश, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश की सरकारों को भी बर्खास्त कर दिया गया था। इसकी वैधता को संबंधित राज्यों के उच्च न्यायालयों में चुनौती दी गई थी। केवल मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय में दायर याचिका को अनुमति दी गई लेकिन राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के उच्च न्यायालयों में दायर याचिकाएं वापस ले ली गईं थी और सर्वोच्च न्यायालय में अपील की गई थी। कर्नाटक उच्च न्यायालय में एस.आर. बोम्मई द्वारा दायर रिट की कार्यवाही 27 अप्रैल 1989 को शुरू हुई थी और 30 मई 1989 तक जारी रही थी। अंततः इसे 6 जुलाई 1989 को कर्नाटक उच्च न्यायालय की 3-न्यायाधीश की पीठ द्वारा खारिज कर दिया गया था। भले ही उद्घोषणा को असंवैधानिकता के आधार पर चुनौती दी गई थी, लेकिन केंद्र सरकार द्वारा यह तर्क दिया गया था कि उद्घोषणा वैध थी और इसे संसद के दोनों सदनों की सहमति के बाद ही लागू किया गया था। केंद्र सरकार की ओर से पेश हुए महान्यायवादी (अटॉर्नी जनरल) ने भी अपने तर्क को साबित करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय के विभिन्न फैसलों पर भरोसा किया था। हालाँकि, काफी विचार-विमर्श और चर्चा के बाद 5 साल बाद 11 मार्च 1994 को सर्वोच्च न्यायालय ने इस मामले का फैसला सुनाया था।

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ में उठाए गए मुद्दे

  1. क्या छह राज्यों में राष्ट्रपति शासन लगाना संवैधानिक रूप से वैध था?
  2. क्या मंत्रिपरिषद और राष्ट्रपति के कार्यों के पीछे कोई राजनीतिक और दुर्भावनापूर्ण इरादे थे?  
  3. क्या अनुच्छेद 356(1) के तहत राष्ट्रपति की शक्तियाँ निरंकुश हैं?
  4. क्या अनुच्छेद 356 के तहत कोई उद्घोषणा न्यायिक समीक्षा (ज्यूडिशियल रिव्यू) के अधीन है? यदि हाँ, तो राष्ट्रपति के बयानों की समीक्षा करने की कार्रवाई में न्यायालय की शक्तियाँ किस हद तक और किस दायरे में होंगी?
  5. राष्ट्रपति की उद्घोषणा में क्या कहा गया है कि ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गई है जहां राज्य के विधायी कार्य संविधान के प्रावधानों के साथ सहयोग में नहीं हो सकते हैं? 

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ में दिए गए तर्क 

याचिकाकर्ता के द्वारा दिए गए तर्क

  1. याचिकाकर्ता की पहली और बड़ी दलील यह थी कि एस.आर. बोम्मई को एक बार भी बहुमत साबित करने का मौका नहीं दिया गया था। एस.आर. बोम्मई और उनके कानून मंत्री अपनी चिंताओं को राज्यपाल के पास ले गए थे, जिन्होंने उनकी दलीलों को पूरी तरह से खारिज कर दिया और उसी दिन, आपातकाल की उद्घोषणा की गई थी और कर्नाटक राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया गया था। 
  2. याचिकाकर्ता के वकील सोली सोराबजी ने दावा किया कि संविधान के अनुच्छेद 356(1) के तहत दी गई शक्ति अप्रतिबंधित नहीं है और न्यायिक आवश्यकता है कि विधानसभा को देश के संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार कार्य करने की स्थिति में नहीं होना चाहिए। विद्वान वकील ने संवैधानिक बहस के दौरान डॉ. बी.आर. अंबेडकर द्वारा साझा किए गए विचारों पर भी भरोसा किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि “इन अनुच्छेदों का दुरुपयोग होने की संभावना है, मैं कह सकता हूं कि मैं इस बात से पूरी तरह इनकार नहीं करता कि इन अनुच्छेदों का दुरुपयोग होने या अन्य राजनीतिक उद्देश्यों के लिए उपयोग की जाने की संभावना है। लेकिन यही आपत्ति संविधान के हर उस भाग पर लागू होती है जो राज्य और प्रांतों के निर्णयों को पलटने के लिए केंद्र को कुछ शक्तियाँ देता है। मुझे आशा है कि राष्ट्रपति, जो जिम्मेदारियों से संपन्न हैं, को प्रांतों के प्रशासन को निलंबित करने से पहले बहुत सावधानी बरतनी चाहिए।”
  3. याचिकाकर्ताओं का दूसरा तर्क यह था कि राष्ट्रपति शासन गलत इरादे से लगाया गया था। उनका मानना ​​था कि राष्ट्रपति का यह कदम राज्य की विधानसभा को भंग कर राष्ट्रपति शासन लगाने के राजनीतिक मकसद पर आधारित था। याचिकाकर्ताओं ने यह भी तर्क दिया कि केंद्र का यह कार्य लोकतंत्र के सिद्धांतों के भी खिलाफ है। 
  4. सोराबजी ने सरकारिया आयोग (कमीशन) की रिपोर्टों पर भी भरोसा किया जिसमें कहा गया था कि संविधान के अनुच्छेद 356 का उपयोग केवल राज्यों के संवैधानिक तंत्र में विफलताओं को ठीक करने के लिए किया जाना चाहिए और वर्तमान मामले की तरह राजनीतिक लाभ के लिए इसका दुरुपयोग नहीं किया जाना चाहिए। सोराबजी का यह भी विचार था कि यदि राष्ट्रपति द्वारा बिना किसी चेतावनी या बहुमत साबित करने का मौका दिए आपातकाल लगाया जाता है, तो यह अनैतिक और अनुचित होगा। 
  5. उनकी ओर से यह भी तर्क दिया गया था कि मामले के तथ्यों से प्रथम दृष्टया यह पता लगाया जा सकता है कि राज्यपाल ने दुर्भावना से कार्य किया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि उनके पास यह तर्क देने के लिए रिपोर्ट प्रस्तुत करने का कोई वैध कारण नहीं था कि कर्नाटक सरकार को बहुमत का समर्थन प्राप्त नहीं था और उन्होंने फ्लोर टेस्ट के खिलाफ सलाह भी दी थी।  
  6. याचिकाकर्ताओं का अगला तर्क यह था कि राष्ट्रपति द्वारा जारी की गई आपातकाल की उद्घोषणा वैध नहीं थी क्योंकि उन्हें राष्ट्रपति को प्रस्तुत की गई सामग्रियों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी जिसके आधार पर राष्ट्रपति द्वारा उद्घोषणा जारी की गई थी। उन्होंने तर्क दिया कि प्रतिवादी राज्यपाल द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के अलावा आपातकाल घोषित करने के लिए कोई अन्य कारण बताने में विफल रहे थे। 
  7. इस प्रकार, याचिकाकर्ताओं ने तर्क दिया कि केंद्र का यह कार्य अनुच्छेद 74(2) के विरुद्ध है। इस अनुच्छेद में प्रावधान है कि केंद्र सरकार को आपातकाल लगाने से संबंधित विवरण राज्य के साथ साझा करना होगा जिसका वर्तमान मामले में केंद्र द्वारा पालन नहीं किया गया था।

प्रतिवादी के द्वारा दिए गए तर्क

  1. इस मामले के प्रतिवादी, केंद्र सरकार का प्रतिनिधित्व महान्यायवादी द्वारा किया गया था। प्रतिवादियों की ओर से यह दलील दी गई थी कि याचिकाकर्ताओं के पास उस रिपोर्ट को चुनौती देने का कोई अधिकार नहीं है जो राज्यपाल ने रिट याचिका के माध्यम से राष्ट्रपति को उच्च न्यायालय में प्रस्तुत की थी।
  2. उन्होंने तर्क दिया कि राज्यपाल को राज्य के मंत्रिपरिषद की सहायता और सलाह के तहत कार्य करना आवश्यक है और उन्हें संविधान के अनुच्छेद 361 के तहत कानूनी कार्रवाई के खिलाफ छूट प्राप्त है।
  3. प्रतिवादियों ने यह भी तर्क दिया था कि याचिकाकर्ता प्रतिवादियों पर किसी अन्य दस्तावेज को उपलब्ध कराने का दावा नहीं कर सकते हैं, जिस पर राष्ट्रपति ने अनुच्छेद 356 के तहत की गई उद्घोषणा जारी करने के लिए विचार किया था और राज्यपाल द्वारा बनाई गई रिपोर्ट ही एकमात्र दस्तावेज है जिसे याचिकाकर्ताओं को प्रस्तुत किया जा सकता है। 
  4. प्रतिवादी ने आगे दलील दी कि अदालत को यह जांच करने का कोई अधिकार नहीं है कि क्या राष्ट्रपति द्वारा अनुच्छेद 365 के तहत उद्घोषणा जारी करने का निर्णय मंत्रिपरिषद की सलाह पर लिया गया है क्योंकि इसे संविधान के अनुच्छेद 74 के खिलाफ माना जाता है।
  5. यह भी तर्क दिया गया कि राज्यपाल ने राज्य में मौजूद सभी तथ्यों और परिस्थितियों को देखकर और उन पर विचार करके रिपोर्ट बनाई थी और फिर इसे राष्ट्रपति को सौंप दिया था। इसलिए, रिपोर्ट वैध थी।
  6. महान्यायवादी ने तर्क दिया कि राष्ट्रपति द्वारा जारी की गई आपातकाल की उद्घोषणा पूरी तरह से एक राजनीतिक निर्णय है और इसे न्यायिक मानकों के अनुसार प्रबंधित नहीं किया जा सकता है। उन्होंने अपने तर्क को पुष्ट करने के लिए राजस्थान राज्य एवं अन्य आदि बनाम भारत संघ (1977) के मामले का हवाला दिया था ।
  7. प्रतिवादियों ने यह भी तर्क दिया कि उद्घोषणा संविधान के अनुच्छेद 74(1) में उल्लिखित शर्तों का पालन करते हुए जारी की गई थी और राज्य कैबिनेट से परामर्श के बाद ही जारी की गई थी। प्रतिवादियों की ओर से यह भी तर्क दिया गया था कि कैबिनेट द्वारा राष्ट्रपति को दी गई सलाह की जांच अदालत द्वारा नहीं की जा सकती है। साथ ही, अनुच्छेद 74(2) में प्रावधान है कि उन कारणों को प्रकाशित करना अनिवार्य नहीं है जिनके आधार पर उद्घोषणा जारी की गई थी। 

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ का महत्व

यह मामला महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि इसमें संविधान के अनुच्छेद 356 के दायरे और सीमाओं को स्पष्ट रूप से रखा गया है। इस मामले में अदालत ने माना कि इस अनुच्छेद के तहत राष्ट्रपति को प्रदत्त शक्ति का उपयोग केवल असाधारण परिस्थितियों में ही किया जाना चाहिए और केवल तब जब किसी राज्य की संवैधानिक तंत्र की विफलता की स्थिति में अन्य सभी विकल्प समाप्त हो जाएं। इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जो सिद्धांत निर्धारित किये गये थे वे सरकारिया आयोग की सिफ़ारिशों के अनुरूप थे। इस मामले में, अदालत ने प्रतिवादियों की इस दलील को भी खारिज कर दिया कि अदालत उस जानकारी के बारे में पूछताछ नहीं कर सकती जिसके आधार पर संविधान के अनुच्छेद 74(2) के अनुसार राष्ट्रपति द्वारा उद्घोषणा की घोषणा की गई थी। फैसले को पढ़ने से हमें यह समझने में मदद मिलती है कि अदालत ने बताया है कि केंद्र और राज्य सरकार दोनों की शक्तियां एक-दूसरे के समान हैं और राज्य सरकारें केंद्र के अधीन नहीं हैं। इस प्रकार न्यायालय ने संघवाद (फेडरलिज्म) के सिद्धांत को बरकरार रखा है और यह भी कहा था कि संघ और राज्य सरकार के बीच शांति केवल ‘सहयोगी संघवाद’ के अभ्यास से ही सुनिश्चित की जा सकती है। 

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ में न्यायालय का निर्णय

सर्वोच्च न्यायालय की नौ न्यायाधीशों की पीठ ने कर्नाटक, मध्य प्रदेश और गौहाटी उच्च न्यायालयों की सभी अपीलों और राजस्थान और हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालयों में दायर रिट याचिकाओं जिन्हें सर्वोच्च न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया गया था पर भी सुनवाई की थी। मामले की सुनवाई करने वाले सभी न्यायाधीशों ने मुद्दों से संबंधित अपने अलग-अलग विचार दिए थे। बहुमत का फैसला न्यायाधीश सावंत, कुलदीप सिंह, जीवन रेड्डी, अग्रवाल और पांडियन द्वारा दिया गया था और अल्पमत का फैसला न्यायाधीश अहमदी, वर्मा, दयाल और रामास्वामी द्वारा दिया गया था। इस मामले में न्यायाधीशों को निम्नलिखित प्रश्नों से संबंधित कानून का निर्णय करना था:

  • वाक्यांश “ऐसी स्थिति उत्पन्न हो गई है जिसमें राज्य की सरकार संविधान के प्रावधानों के अनुसार नहीं चल सकती” का सटीक अर्थ जैसा कि संविधान के अनुच्छेद 356 में दिया गया है। 
  • राष्ट्रपति की उद्घोषणा की किस हद तक न्यायिक समीक्षा की जा सकती है।
  • यह निर्धारित करने के लिए फ्लोर टेस्ट का महत्व कि क्या मंत्रालय को सदन का विश्वास प्राप्त है। 
  • क्या राष्ट्रपति को अनुच्छेद 356 के तहत विधान सभाओं को भंग करने की अपनी शक्ति का प्रयोग करने के लिए संसद के दोनों सदनों को मंजूरी देनी होगी या नहीं। 

याचिकाकर्ताओं और प्रतिवादियों की दलीलों पर विचार करने के बाद, अदालत के द्वारा निम्नलिखित निर्णय सुनाया गया था:

  • अदालत ने माना कि भले ही अनुच्छेद 356 राष्ट्रपति को विशेष शक्तियाँ प्रदान करता है, राष्ट्रपति को ऐसी शक्तियों का उपयोग बहुत सावधानी से करना चाहिए। अदालत ने डॉ. बी.आर. अंबेडकर के बयान पर भी भरोसा किया। उनका मानना ​​था कि इस अनुच्छेद का प्रयोग केवल असाधारण परिस्थितियों में ही किया जाना चाहिए। सरकारिया आयोग ने भी यही सिफ़ारिश की थी।
  • इस मामले में कहा गया था कि अनुच्छेद 356(3) के अनुसार राष्ट्रपति द्वारा जारी उद्घोषणा का गहन विश्लेषण, संसद के दोनों सदनों द्वारा किया जाना चाहिए।
  • यदि राष्ट्रपति के द्वारा दोनों सदनों की मंजूरी के बिना उद्घोषणा जारी की जाती है तो उद्घोषणा दो महीने की अवधि के भीतर समाप्त हो जाएगी और राज्य विधानसभा फिर से लागू हो जाएगी।
  • अदालत के द्वारा यह भी माना गया कि अनुच्छेद 356 के तहत उद्घोषणा भी भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा न्यायिक समीक्षा के अधीन थी। उच्च न्यायालय या सर्वोच्च न्यायालय को उद्घोषणा को चुनौती देने वाली रिट याचिका पर विचार करने का अधिकार होगा यदि वह संतुष्ट है कि रिट याचिका उद्घोषणा की वैधता के संबंध में विवादास्पद प्रश्न उठाती है। यदि स्थिति की मांग हुई तो न्यायालय राष्ट्रपति को विधान सभा भंग करने से भी रोक सकता है। 
  • किसी राज्य सरकार को बर्खास्त करने की राष्ट्रपति की शक्ति अविभाजित या पूर्ण नहीं थी। 
  • हालाँकि अनुच्छेद 356 स्पष्ट रूप से विधायिका के भंग को संबोधित नहीं करता है, लेकिन ऐसी शक्तियां उक्त अनुच्छेद से निहित हो सकती हैं। अनुच्छेद 174(2) राज्यपाल को विधान सभा को भंग करने की अनुमति देता है और राष्ट्रपति, अनुच्छेद 356(1)(a) के तहत राज्यपाल के साथ-साथ राज्य सरकार की शक्तियां भी स्वयं को प्रदान कर सकता है।

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ मामले में फैसले का प्रभाव

अनुच्छेद 356 के तहत राष्ट्रपति की शक्तियाँ

अनुच्छेद 356 के तहत राष्ट्रपति को असाधारण शक्तियाँ प्रदान की गई है। इस शक्ति का उपयोग संयमपूर्वक और सावधानी से किया जाना चाहिए। अनुच्छेद 356 को लागू करने के सरकारिया आयोग के विचारों को भी अदालत ने मंजूरी दे दी। आयोग ने कुछ मामलों में अनुच्छेद 356(1) को सक्रिय करने से पहले राज्य को सूचित करने की वकालत की थी। इसमें कहा गया है कि समस्या को हल करने के लिए पहले अन्य सभी विकल्पों पर विचार किया जाना चाहिए और अनुच्छेद 365 का उपयोग केवल तभी किया जाना चाहिए जब कोई अन्य विकल्प उपलब्ध न हो जिसे समस्या को हल करने के लिए लागू किया जा सके। यदि उच्च न्यायालय या सर्वोच्च न्यायालय इस बात से संतुष्ट है कि आपातकाल की उद्घोषणा अनुचित तरीके से जारी की गई है, तो वह उद्घोषणा की वैधता को चुनौती देने वाली रिट याचिका पर सुनवाई करने पर विचार कर सकता है। यदि परिस्थिति की मांग हो तो न्यायालय विधान सभा के भंग होने को स्थगित भी कर सकता है। इसके अलावा, यदि अदालत को लगता है कि उद्घोषणा गैरकानूनी है, भले ही संसद के दोनों सदन इसे स्वीकार कर लें, तो अदालत उद्घोषणा को रद्द कर सकती है और राज्य में विधान सभा को फिर से स्थापित कर सकती है।

धर्मनिरपेक्षता

इस मामले में न्यायालय द्वारा यह माना गया था कि धर्मनिरपेक्षता संविधान की मूल संरचना का एक हिस्सा है। हालाँकि, इस मामले के न्यायाधीशों के सामने एक बड़ी चुनौती “धर्मनिरपेक्षता” शब्द को परिभाषित करना था। प्रत्येक न्यायाधीश की इस शब्द की अपनी-अपनी व्याख्या थी। हालाँकि, धर्मनिरपेक्षता से जुड़े एक पहलू को लेकर उनके बीच आम सहमति थी कि धर्म की स्वतंत्रता एक मौलिक अधिकार है जो सभी नागरिकों के लिए उपलब्ध है और किसी व्यक्ति का धर्म या जाति कोई मायने नहीं रखती है और राज्य को सभी नागरिकों के साथ समान व्यवहार करना चाहिए। न्यायाधीशों ने इस तर्क पर चर्चा की कि यदि राज्य के लिए संविधान में ऐसा नियम निर्दिष्ट है, तो वही राजनीतिक दलों पर भी लागू होना चाहिए।  सभी न्यायाधीशों का तर्क था कि धर्म को राजनीति के साथ नहीं जोड़ा जाना चाहिए। साथ ही, यदि कोई राजनीतिक दल किसी भी प्रकार की गैर-धर्मनिरपेक्ष प्रथाओं का पालन करता है, तो इसे संविधान के विरुद्ध माना जा सकता है। इसके अलावा, यदि कोई राजनीतिक दल किसी भी प्रकार की गैर-धर्मनिरपेक्ष गतिविधियों के माध्यम से चुनाव जीतना चाहता है, तो, उन्हें असंवैधानिक कार्रवाई का पालन करने के लिए उत्तरदायी बनाया जा सकता है।

 

फ्लोर टेस्ट

इस मामले में न्यायाधीशों को जिन मुद्दों से निपटना था उनमें से एक यह निर्धारित करने के लिए एक व्यावहारिक समाधान निर्धारित करना था कि राज्य की विधान सभा को सदन के बहुमत का समर्थन प्राप्त है या नहीं। ऐसा इसलिए है क्योंकि, मौजूदा मामले में, राष्ट्रपति ने केवल राज्यपाल द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट के आधार पर नागालैंड और कर्नाटक की सरकारों को भंग कर दिया था और यह जांचने की कोशिश नहीं की कि क्या वास्तव में सरकारों को सदन में बहुमत हासिल नहीं थी। इसलिए, सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि बहुमत निर्धारित करने के लिए फ्लोर टेस्ट आयोजित किया जाना चाहिए और इस परीक्षण के बाद ही, यदि यह साबित हो जाता है कि सरकार को सदन के बहुमत का समर्थन प्राप्त नहीं है, तो सरकार को भंग किया जा सकता है। न्यायाधीशों ने इस तरह के परीक्षण के कारण पर भी चर्चा की थी। उन्होंने तर्क दिया कि राज्यपाल द्वारा प्रस्तावित रिपोर्ट उनके व्यक्तिगत निर्णय पर आधारित थी और किसी भी प्रकार के व्यक्तिगत पूर्वाग्रह (प्रेजूडिस) से रहित नहीं थी। इसलिए, उनका मानना ​​था कि सरकार के बहुमत को निर्धारित करने के लिए फ्लोर टेस्ट को एक व्यवहार्य तरीका माना जा सकता है। हालाँकि, न्यायाधीशों ने यह भी कहा कि फ्लोर टेस्ट का हमेशा पालन नहीं किया जा सकता है। उन्होंने तर्क दिया कि व्यापक हिंसा की स्थितियों जैसी कुछ असाधारण स्थितियों में इसे छूट दी जा सकती है, जिससे इस तरह का परीक्षण करना असंभव हो जाता है। इसके बाद न्यायाधीशों ने तत्काल मामले के तथ्यों का अवलोकन किया और पाया कि ऐसी असाधारण परिस्थितियों के अभाव में भी फ्लोर टेस्ट आयोजित नहीं किया गया था और इस तरह सरकारों के भंग होने को पलट दिया गया था। 

संसदीय मंजूरी से पहले विधानसभा को भंग नहीं किया जा सकता

इस मामले में न्यायाधीशों द्वारा चर्चा किए गए मुख्य मुद्दों में से एक राज्य विधानसभा का भंग होना था। संविधान के अनुच्छेद 174(1)(b) में कहा गया है कि राज्यपाल 5 वर्ष की अवधि समाप्त होने से पहले किसी विशेष राज्य की विधान सभा को भंग कर सकते हैं। हालाँकि, यह भंग होना तब किया जा सकता है जब विधानसभा बहुमत खो देती है और राज्य का प्रशासन चलाने के लिए कोई स्थिर सरकार नहीं होती है। इस मामले में, अदालत ने कहा कि राष्ट्रपति द्वारा संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत आपातकाल की घोषणा जारी होने के बाद ही राज्य सरकार को भंग किया जाना चाहिए। अदालत ने संविधान के अनुच्छेद 74(2) के दायरे पर भी विचार किया था। न्यायाधीशों का मानना ​​था कि यह अनुच्छेद राष्ट्रपति और मंत्रिपरिषद के बीच विचार-विमर्श की गोपनीयता की रक्षा करता है। सर्वोच्च न्यायालय ने आगे कहा कि अदालत राष्ट्रपति और मंत्रिपरिषद के बीच हुई चर्चाओं से चिंतित नहीं है। बल्कि, उसे केवल आदेश की वैधता की चिंता है। इसके अलावा, मंत्रिपरिषद द्वारा दिए गए किसी आदेश या सलाह को अदालत में इस आधार पर चुनौती नहीं दी जा सकती कि राष्ट्रपति द्वारा किया गया कार्य मंत्रिपरिषद द्वारा दी गई सलाह के अनुरूप नहीं है।

निष्कर्ष

निष्कर्षतः, एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ मामले को भारत के संवैधानिक न्यायशास्त्र (ज्यूरिस्प्रूडेंस) का एक ऐतिहासिक निर्णय माना जाता है। भारत में सरकार की अर्ध-संघीय प्रणाली है। यह न तो संघीय है और न ही एकात्मक (यूनिटरी), बल्कि दोनों प्रकार की सरकारों का एक संयोजन है। यह निर्णय महत्वपूर्ण है क्योंकि यह केंद्र-राज्य संबंधों के संवैधानिक तंत्र से संबंधित है। यह निर्णय राज्य सरकारों द्वारा किए जाने वाले प्रशासन में केंद्र के मनमाने हस्तक्षेप को कम करने के लिए एक मिसाल के रूप में कार्य करता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसने संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत राज्यों में राष्ट्रपति शासन लगाने के लिए दिशानिर्देश निर्धारित किए हैं। इस फैसले ने राष्ट्रपति द्वारा राज्य सरकारों की मनमानी बर्खास्तगी पर रोक लगा दी थी। इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि उद्घोषणा जारी करने की राष्ट्रपति की शक्ति पूर्ण नहीं है और न्यायिक समीक्षा के अधीन है। इसमें फ्लोर टेस्ट और धर्मनिरपेक्षता के संबंध में दिशानिर्देश भी दिए गए थे। इसने धर्मनिरपेक्षता को संविधान की मूल संरचना का हिस्सा घोषित किया गया था। 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

एस.आर. बोम्मई कौन थे?

एस.आर. बोम्मई का पूरा नाम सोमप्पा रायप्पा बोम्मई था। वह कर्नाटक के 11वें मुख्यमंत्री थे। वह 1996-1998 तक मानव संसाधन विकास मंत्री भी रहे। वह 13 अगस्त 1988 को कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने और 21 अप्रैल 1989 को तत्कालीन राज्यपाल पी. वेंकटसुब्बैया ने उन्हें बर्खास्त कर दिया था।

संविधान के अनुच्छेद 356 में क्या प्रावधान है?

संविधान के अनुच्छेद 356 में राज्यों में राष्ट्रपति शासन लगाने के बारे में बताया गया है। यह प्रदान करता है कि जब भी ऐसी स्थिति हो जिसमें कोई भी राज्य संविधान के प्रावधानों के अनुसार प्रशासन चलाने में असमर्थ हो, तो केंद्र सरकार स्थिति को नियंत्रित कर सकती है और राष्ट्रपति उस आशय की उद्घोषणा जारी कर सकता है। राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू होने से राज्य की विधानसभा बर्खास्त कर दी जाती है।

एस.आर. बोम्मई बनाम भारत संघ के मामले में क्या निर्धारित किया गया था?

इस मामले ने केंद्र द्वारा राज्य सरकारों की मनमानी बर्खास्तगी पर रोक लगा दी थी। इस मामले में, यह माना गया कि सरकार को सदन में बहुमत प्राप्त है या नहीं, इसका निर्णय करने का एकमात्र तरीका फ्लोर टेस्ट है। साथ ही, इस मामले में यह माना गया था कि धर्मनिरपेक्षता संविधान की मूल संरचना का एक हिस्सा है।

संदर्भ

  • राष्ट्रपति शासन – कर्नाटक में राज्यपाल की भूमिका का एक विश्लेषणात्मक अध्ययन- jstor https://www.jstor.org/stable/41852119

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here