कानून के स्रोत के रूप में रीति रिवाज़

0
92

यह लेख राजीव गांधी राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, पटियाला के द्वितीय वर्ष के छात्र Anirudh Vats द्वारा लिखा गया है। यह लेख सबसे पहले विभिन्न विचारकों द्वारा दी गई रीति रिवाज़ो की विभिन्न परिभाषाओं पर चर्चा करेगा, फिर कानून के स्रोत के रूप में रीति रिवाज़ो की उत्पत्ति का पता लगाएगा। यह रीति रिवाज़ो के प्रकार, वैध रीति रिवाज़ो की आवश्यकताओं और रीति रिवाज़ो को समझने के लिए विभिन्न सिद्धांतों को भी प्रस्तुत करेगा। इस लेख का अनुवाद Shubham Choube द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

रीति रिवाज़ कानून के सबसे शुरुआती स्रोत हैं और आज हम जिस तरह से अंग्रेजी सामान्य कानून प्रणाली को देखते हैं, उसका आधार बनाते हैं। उन्हें सांस्कृतिक रीति रिवाज़ों के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो व्यापक अभ्यास और निरंतर उपस्थिति के कारण निश्चित और दायित्व या मंजूरी द्वारा समर्थित हो गए हैं।

परिभाषाएँ

जॉन सैल्मंड

“रीति रिवाज़ उन सिद्धांतों का मूर्त रूप है, जिन्होंने न्याय और सार्वजनिक उपयोगिता के सिद्धांतों के रूप में राष्ट्रीय चेतना में अपनी जगह बनाई है।”

सैल्मंड के अनुसार, एक वैध रीति रिवाज़ में पूर्ण कानूनी अधिकार होता है, जो अपने आप में कानून की शक्ति होती है। वह रीति रिवाज़ो को दो भागों में विभाजित करते है:

  1. सामान्य रीति रिवाज़ – एक सामान्य रीति रिवाज़ में किसी राज्य के पूरे क्षेत्र में कानून की शक्ति होती है।। उदाहरण के लिए, इंग्लैंड में सामान्य कानून।
  2. स्थानीय रीति रिवाज़ – स्थानीय रीति रिवाज़ वे हैं जो किसी विशेष इलाके में कानून की शक्ति के साथ काम करते हैं। स्थानीय रीति रिवाज़ का अधिकार सामान्य रीति रिवाज़ से अधिक होता है।

सी.के. एलन

सी.के. एलन रीति रिवाज़ को “कानूनी और सामाजिक घटना के रूप में परिभाषित करते हैं जो समाज में निहित शक्तियों द्वारा विकसित होते है – आंशिक रूप से तर्क और आवश्यकता की शक्तियाँ, और आंशिक रूप से सुझाव और अनुकरण (इमीटेशन) की शक्तियाँ।”

जे.एल. ऑस्टिन

“रीति रिवाज़ आचरण का एक नियम है जिसका पालन शासित लोग स्वैच्छिक रूप से करते हैं, न कि किसी राजनीतिक श्रेष्ठ द्वारा तय किए गए कानून के अनुसरण में।”

ऑस्टिन के विचारों को अक्सर रीति रिवाज़गत कानून के विपरीत माना जाता था क्योंकि उनके लिए, राजनीतिक श्रेष्ठ ही कानून का एकमात्र स्रोत था और रीति रिवाज़ ‘वास्तविक कानून’ नहीं थे। उन्हें कानून माने जाने के लिए संप्रभु की सहमति और आदेश की आवश्यकता थी।

रॉबर्ट कीटोन

“रीति रिवाज़गत कानून को मानवीय क्रियाकलापों के उन नियमों के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जो प्रथा द्वारा स्थापित किए जाते हैं और जिन पर ये नियम लागू होते हैं, उनके द्वारा कानूनी रूप से बाध्यकारी माने जाते हैं, जिन्हें न्यायालयों द्वारा अपनाया जाता है और कानून के स्रोत के रूप में लागू किया जाता है, क्योंकि आम तौर पर इनका पालन पूरे राजनीतिक समाज द्वारा या उसके कुछ हिस्से द्वारा किया जाता है।”

रीति रिवाज़ो की उत्पत्ति

आदिम (प्रिमिटिव) समाजों में, लोगों पर कोई बाहरी अधिकार नहीं था, फिर भी लोग निष्पक्षता और स्वतंत्रता के लिए एक तंत्र के साथ एकजुट समूहों में संगठित थे।

लोगों ने अपनी परिस्थितियों के प्रति सहज प्रतिक्रिया के साथ-साथ उन तक पहुँचने के लिए समन्वित सचेत निर्णय के माध्यम से नियम और विनियम विकसित किए।

अंततः, लोगों ने उन परंपराओं, आचरण, अनुष्ठानों को पहचानना शुरू कर दिया जो किसी निश्चित क्षेत्र या समूह में प्रचलित थे, और देखा कि कैसे उन्होंने सामाजिक विनियमन के लिए एक व्यवस्थित दृष्टिकोण बनाया।

ब्रिटेन में, न्यायविदों और विधायकों ने इन स्वरूप का अध्ययन करना शुरू किया, उनकी व्यापकता, उपयोग और प्रयोज्यता (ऍप्लिकेबिलिटी) को रिकॉर्ड किया। इन्हें रीति रिवाज़ो के रूप में जाना जाने लगा, जिन्हें बाद में औपचारिक रूप दिया गया और इंग्लैंड के सामान्य कानून में शामिल किया गया।

रीति रिवाज़ो की उत्पत्ति कैसे होती है, इस बारे में दो दार्शनिकों के अलग-अलग विचार हैं।

सर हेनरी मेन

सर हेनरी मेन के अनुसार, “रीति रिवाज़, थेमिस्टेस या निर्णयों के बाद की अवधारणा है।” थेमिस्टेस न्यायिक पुरस्कार था, जिन्हें न्याय की ग्रीक देवी द्वारा राजा को निर्देशित किया जाता था। उन्होंने समझाया, “थेमिस्टेस, थेमिस, का बहुवचन, स्वयं पुरस्कार हैं, जो न्यायाधीशों को ईश्वरीय रूप से निर्देशित किए जाते हैं।”

उन्होंने विकास को अलग-अलग चरणों में वर्णित किया। ये निम्नलिखित हैं:

1. ईश्वरीय प्रेरणा के तहत शासकों द्वारा कानून

पहले चरण में, शासकों द्वारा कानून दिए जाते थे जो अपने आदेशों के लिए ईश्वरीय स्वीकृति चाहते थे। उन्हें ईश्वर का दूत माना जाता था, जो लोगों के लिए कानून बनाते थे।

2. रीति रिवाज़ो का विकास

धीरे-धीरे, जैसे-जैसे लोगों को अपने शासकों के हुक्मों का पालन करने की आदत होती जाती है, वे रीति रिवाज़गत कानून के रूप में विकसित होते हैं, और लोगों के दैनिक जीवन का हिस्सा बन जाते हैं।

3. पुजारियों के हाथों में कानून का ज्ञान

रीति रिवाज़ो और आचरण का ज्ञान तब अल्पसंख्यक, मुख्य रूप से धार्मिक लोगों द्वारा अध्ययन किया जाता है। यह लोगों पर शासकों की शक्ति के कमजोर होने के कारण संभव है। पुजारी रीति रिवाज़ो का अध्ययन करते हैं, स्वरूप को पहचानते हैं, उनकी प्रासंगिकता को समझते हैं और रीति रिवाज़ो को औपचारिक रूप देते हैं।

4. संहिताकरण (कॉडिफिकेशन)

अंतिम और आख़िरी चरण इन कानूनों को संहिताबद्ध करना है। पुजारी रीति रिवाज़ो का सावधानीपूर्वक अध्ययन करते हैं और इसे कागज पर लिख देते हैं। फिर इस संहिता को बढ़ावा दिया जाता है और नए क्षेत्रों और इलाकों में फैलाया जाता है।

टी. हॉलैंड

हॉलैंड के अनुसार, “रीति रिवाज़ आम तौर पर पालन किया जाने वाला आचरण है”।

हॉलैंड का कहना है कि रीति रिवाज़ की उत्पत्ति लोगों द्वारा दो कार्यों में से अधिक सुविधाजनक कार्य को चुनने के सचेत विकल्प से हुई है।

हॉलैंड के लिए रीति रिवाज़ अनुकरण (इमीटेशन) से बढ़ते हैं। प्रारंभिक राजनीतिक समाजों में राजा या समाज का मुखिया कानून नहीं बनाता था, बल्कि सही और गलत की लोकप्रिय धारणाओं के अनुसार न्याय करता था, जो सामान्य तौर पर लोगों द्वारा अपनाए जाने वाले आचरण के दौरान स्थापित होते थे। जिसे आम जनता ने स्वीकार कर लिया था और जो उनके रीति रिवाज़ो में शामिल था, उसे सही माना जाता था और जिसे उन्होंने अस्वीकार कर दिया था या जो उनके रीति रिवाज़ो में शामिल नहीं था, उसे गलत माना जाता था।

रीति रिवाज़ो के प्रकार

रीति रिवाज़ो को दो व्यापक श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। ये हैं बिना किसी बाध्यता वाले रीति रिवाज़ और कानूनी रूप से बाध्यकारी दायित्वों वाले रीति रिवाज़।

बिना किसी बाध्यता वाले रीति रिवाज़

ये रीति रिवाज़ कानून द्वारा लागू नहीं किए जा सकते, लेकिन फिर भी समाज में प्रचलित हैं और इन पर सामाजिक प्रतिबंध लगे हुए हैं।

उदाहरण के लिए, हर समाज में कुछ रीति रिवाज़ होते हैं जैसे कि कैसे कपड़े पहने जाएँ, बड़ों को कैसे संबोधित किया जाए या विवाह कैसे आयोजित किए जाएँ आदि। ये कानूनी रूप से बाध्यकारी नहीं हैं, लेकिन फिर भी इन पर शक्तिशाली प्रतिबंध लगाए जा सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि कोई व्यक्ति रंगीन कपड़े पहनकर अंतिम संस्कार में आता है, तो उसे उसके आस-पास के अन्य लोगों द्वारा बहिष्कृत और अलग-थलग कर दिया जाएगा।

ये रीति रिवाज़, हालांकि बाध्यकारी नहीं हैं, समाज में बहुत महत्व रखते हैं और समाज के कुशल कामकाज के लिए इनका समान रूप से पालन किया जाना चाहिए।

इनमें से हर एक रीति रिवाज़ का पालन इस डर से किया जाता है कि इन रीति रिवाज़ो को मान्यता न मिलने पर उन्हें सामाजिक रूप से बहिष्कृत कर दिया जाएगा। इस तरह के रीति रिवाज़ गैर-आधिकारिक होते हैं क्योंकि इनका पालन करना अनिवार्य नहीं होता। समाज के सामाजिक दबाव के कारण लोग इनका पालन करते हैं। जब इस तरह के किसी रीति रिवाज़ का दुरुपयोग होता है, तो समाज आमतौर पर सामाजिक निराशा या बहिष्कार का प्रदर्शन करके प्रतिक्रिया करता है; हालाँकि, सही मायने में इसकी कोई स्वीकृति नहीं है। इस तरह के रीति रिवाज़ो को ‘सामाजिक रीति रिवाज़’ कहा जा सकता है।

बाध्यकारी दायित्वों वाले रीति रिवाज़

इस वर्गीकरण में उन रीति रिवाज़ो पर चर्चा की जाती है जिन्हें वस्तुनिष्ठ (ऑब्जेक्टिव) और कठोर अर्थ में पुरुषों के विशेष दायित्वों और प्रतिबद्धताओं के रूप में देखा जाता है। ऐसे रीति रिवाज़ विवाह और बच्चों के पालन-पोषण, संपत्ति के हस्तांतरण आदि की प्रतिबद्धता को निर्देशित कर सकते हैं।

ऐसे रीति रिवाज़ सामाजिक परंपराओं, बाहरी औचित्य या शैली के दायरे से संबंधित नहीं हैं; बल्कि, वे समाज के वास्तविक व्यवसाय से संबंधित हैं, वह कार्य जिसे सामुदायिक जीवन के लिए आवश्यक परिस्थितियों को सत्यापित करने और सुनिश्चित करने के लिए अभ्यास किया जाना चाहिए।

इस श्रेणी के अंतर्गत आने वाली रीति रिवाज़ों पर प्रतिबंध पिछली श्रेणी की तुलना में अधिक कड़े हैं। यदि इन रीति रिवाज़ों को व्यापक स्वीकृति मिलती है, तो वे कानूनी चरित्र प्राप्त कर लेते हैं। इन रीति रिवाज़ों का उल्लंघन करने पर, उल्लंघनकर्ता को उस विशेष रीति रिवाज़ को नियंत्रित करने वाले क़ानून के अनुसार पर्याप्त दंड दिया जाता है।

इन्हें आगे कानूनी रीति रिवाज़ों और पारंपरिक रीति रिवाज़ों में विभाजित किया जा सकता है।

कानूनी रीति रिवाज़

कानूनी रीति रिवाज़ की स्वीकृति निश्चित और निरपेक्ष होती है। यह अपने संचालन में नकारात्मक है, इस अर्थ में कि, यदि रीति रिवाज़ का पालन नहीं किया जाता है, तो कुछ वांछित परिणाम नहीं होंगे। उदाहरण के लिए, यदि आप विवाह की रीति रिवाज़ का ठीक से पालन नहीं करते हैं, तो उस विवाह को अमान्य माना जाएगा और उस विवाह से पैदा होने वाले किसी भी बच्चे को नाजायज माना जाएगा।

कानूनी रीति रिवाज़ अपने आप में ही लागू रहते है, चाहे भागीदार पक्षों के बीच रीति रिवाज़ के विपरीत कोई भी समझौता क्यों न हो। वे अपने कार्य में बिना शर्त और निरपेक्ष होते हैं और कानून का रूप ले लेते हैं।

वे आचरण के अनिवार्य नियम हैं जो विश्वास या परंपरा पर आधारित नहीं होते।

सैल्मंड के अनुसार, कानूनी रीति रिवाज़ो में अपने आप में कानूनी बाध्यता या प्रोप्रियो विगोर होता है। वह कानूनी रीति रिवाज़ो को सामान्य और स्थानीय रीति रिवाज़ो में विभाजित करता है, जिनकी चर्चा पहले की जा चुकी है।

पारंपरिक रीति रिवाज़

सैल्मंड के अनुसार, ‘एक पारंपरिक रीति रिवाज़ वह है जिसका अधिकार इसके द्वारा बाध्य होने वाले पक्षों के बीच समझौते में इसकी स्वीकृति और समावेश (इंकॉर्पोरेशन) पर सशर्त है।’

एक पारंपरिक रीति रिवाज़ एक ऐसी प्रथा है जो लंबे समय तक इसका पालन किए जाने और पक्षों के बीच एक अनुबंध से उत्पन्न होने के कारण प्रचलन में आती है; इसका अपने आप में कोई कानूनी चरित्र नहीं होता है। इस प्रकार, एक प्रयोग या पारंपरिक रीति रिवाज़ एक स्थापित मानदंड है जो कानूनी रूप से लागू करने योग्य है, न कि इसके द्वारा स्वतंत्र रूप से किसी कानूनी अधिकार के कारण, बल्कि इसलिए कि इसे संबंधित पक्षों के बीच एक अनुबंध में स्पष्ट रूप से या निहित रूप से शामिल किया गया है।

पारंपरिक रीति रिवाज़ को फिर से दो प्रकारों में विभाजित किया जा सकता है- सामान्य पारंपरिक रीति रिवाज़ और स्थानीय पारंपरिक रीति रिवाज़। सामान्य पारंपरिक रीति रिवाज़ एक विशेष क्षेत्र में व्यापक रूप से प्रचलित होते हैं; जबकि स्थानीय पारंपरिक रीति रिवाज़ एक विशेष स्थान या किसी विशेष व्यापार या लेन-देन तक सीमित होते हैं।

वैध रीति रिवाज़ की आवश्यकताएँ

तर्कसंगतता

एक रीति रिवाज़ बुनियादी नैतिकता, न्याय, स्वास्थ्य और सार्वजनिक नीति की प्रचलित समझ के अनुरूप होनी चाहिए। यदि यह अपनी उत्पत्ति या व्यवहार में उचित नहीं है, तो इसे वैध रीति रिवाज़ नहीं माना जा सकता। उदाहरण के लिए, सती एक समय में एक स्वीकृत रीति रिवाज़ था, लेकिन आधुनिक नैतिक समझ के साथ, यह निंदनीय है, और इसलिए इसे आज एक रीति रिवाज़ नहीं माना जा सकता।

हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि हर रीति रिवाज़ अपनी नैतिकता या नैतिक चिंताओं में परिपूर्ण होना चाहिए, या उसमें शाश्वत ज्ञान होना चाहिए, बस उसे समकालीन समय के लिए प्रासंगिक, उपयोगी और कानून बनाने योग्य होना चाहिए।

क़ानून के अनुरूपता

कोई भी रीति रिवाज़ देश के मौजूदा कानून का उल्लंघन नहीं कर सकते। कोई भी रीति रिवाज़, चाहे वह कितनी भी व्यापक और स्वीकृत क्यों न हो, अगर किसी क्षेत्र के क़ानून का उल्लंघन करते पाए जाते है, तो उसे रीति रिवाज़ नहीं माना जा सकता।

निश्चितता

यह स्पष्ट होने चाहिए कि रीति रिवाज़ क्या है और इसका पालन कैसे किया जाता है। कोई रीति रिवाज़ न्यायालय में तभी टिक सकता है जब वह अनिश्चित न हो। सिद्धांत और व्यवहार में इसे निरपेक्ष और वस्तुनिष्ठ होना चाहिए।

स्थिरता

किसी रीति रिवाज़ को कानून के सामान्य सिद्धांतों के अनुरूप होना चाहिए जो हर मौजूदा कानून या विधान का आधार बनते हैं। ये सिद्धांत न्याय, निष्पक्षता और स्वतंत्रता जैसे विचारों का आधार बनते हैं और हर रीति रिवाज़ को इनके अनुरूप होना चाहिए।

पुरातनता

किसी रीति रिवाज़ का अनादि काल से पालन किया जाना आवश्यक है। रीति रिवाज़ समाज में इतनी गहराई से समाहित होने चाहिए कि उसे कानून बनाना ही एकमात्र स्वाभाविक कदम लगे। हाल ही की या आधुनिक रीति रिवाज़एँ तब तक रीति रिवाज़ नहीं बन सकतते जब तक कि वे समाज में दृढ़ता से स्थापित न हो जाएँ।

निरंतरता

किसी रीति रिवाज़ को बाधित नहीं किया जाना चाहिए या उसका अभ्यास विरल नहीं होना चाहिए। इसे बिना किसी रुकावट के अनादि काल से जारी रहना चाहिए।

इसके अभ्यास में शांति होनी चाहिए

कोई भी रीति रिवाज़ जो हिंसा की वकालत करता है या हिंसा का आह्वान करता है, चाहे वह स्पष्ट रूप से हो या परोक्ष रूप से, उसे रीति रिवाज़ नहीं माना जा सकता।

सार्वजनिक नीति का विरोध नहीं करना चाहिए

जो रीति-रिवाज चल रहा है उसे राज्य की सार्वजनिक नीति चाहे जो भी हो का अनुपालन करना होगा।

सामान्य या सार्वभौमिक होना चाहिए

कार्टर के अनुसार, “रीति रिवाज़ तभी प्रभावी होते है जब वह सार्वभौमिक हो या लगभग सार्वभौमिक हो। राय की एकमतता के अभाव में, रीति रिवाज़ शक्तिहीन हो जाते है, या यूँ कहें कि अस्तित्व में ही नहीं रहते।”

रीति रिवाज़ो के सिद्धांत

ऐतिहासिक सिद्धांत

इस स्कूल के अनुसार, रीति रिवाज़ो में अपनी वैधता होती है, क्योंकि यह तब तक अस्तित्व में नहीं होते जब तक कि आम जनता की कुछ गहन ज़रूरतें या सामाजिक ज़रूरतों की कुछ स्थानीय प्रकृति इसे वैधता प्रदान न करे।

कानून का विकास किसी व्यक्ति की व्यक्तिपरक (सब्जेक्टिव) इच्छा पर निर्भर नहीं करता है। यह उन समुदायों और सभ्यताओं के ज्ञान के कारण है जो पूरे इतिहास में मौजूद रहे हैं।

रीति रिवाज़ आम जनता की आम अंतरात्मा से प्राप्त होता है। यह अधिकार की सहज भावना से उपजा है। कानून की वास्तविकता लोगों की आम इच्छा में है। सविग्नी इसे “वोल्केजिस्ट” कहते हैं।

विश्लेषणात्मक सिद्धांत

ऑस्टिन विश्लेषणात्मक सिद्धांत के मुख्य प्रस्तावक (प्रोपोनेंट) थे। उनके लिए, रीति रिवाज़ो में अपने आप में कोई कानूनी रूप से बाध्यकारी शक्ति नहीं थी। उनका कानूनी चरित्र हमेशा संप्रभु की सहमति के अधीन होता है। उनके लिए, रीति रिवाज़ केवल कानून का प्रतिबिंब (रिफ्लेक्शन) थे, और ‘वास्तविक कानून’ नहीं थे। लोगों पर कोई बाध्यकारी शक्ति रखने के लिए रीति रिवाज़ो को न्यायाधीशों, न्यायविदों या शासकों के संशोधन और अनुमोदन की आवश्यकता होती है। यह उनके विचार के अनुरूप है कि सभी कानून ‘संप्रभु की इच्छा’ है।

निष्कर्ष

इसलिए, यह देखा जा सकता है कि रीति रिवाज़ कानून का एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्रोत हैं, जिनकी ऐतिहासिक जड़ें सबसे शुरुआती और सबसे आदिम समाजों में हैं, और अभी भी प्रासंगिक हैं। समाज लगातार नए रीति रिवाज़ों को स्थापित करने की प्रक्रिया में है जो समय के साथ उपयोग या रीति रिवाज़ो में बदल सकती हैं।

हम रीति रिवाज़ो पर निर्भर हैं और उनके द्वारा शासित होते हैं, चाहे हम जानते हों या नहीं। अंग्रेजी सामान्य कानून की व्याख्या मौजूदा रीति रिवाज़ो के औपचारिककरण के रूप में की जा सकती है, और इसमें समाज में सही रीति रिवाज़ो का होना महत्वपूर्ण है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here