खतरनाक परिसर के लिए दायित्व

0
1040
Law of Torts

यह लेख विवेकानंद इंस्टीट्यूट ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज, जीजीएसआईपीयू की छात्रा Nidhi Chhillar ने लिखा है। इस लेख में उन्होंने वैध आगंतुकों (विजिटर), अतिचारियों (ट्रेसपासर) और बच्चों के प्रति कब्जाधारी (आक्यूपायर) के दायित्व के बारे में चर्चा की है। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta के द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

क्या परिसर के कब्जाधारी का उसके परिसर में प्रवेश करने वाले लोगों के प्रति दायित्व है? क्या परिसर में प्रवेश करने वाले लोग घायल होने पर मालिक पर मुकदमा कर सकते हैं? क्या होगा यदि परिसर में प्रवेश करने वाला व्यक्ति अतिचारी या बच्चा हो?

परिसर या अन्य संरचनाओं जैसे कार, जहाज, हवाई जहाज या लिफ्टों के कब्जाधारी के पास अपनी सुरक्षा के लिए परिसर में प्रवेश करने वाले लोगों के लिए एक दायित्व होता है।

1957 तक, कब्जाधारी के दायित्व का निर्धारण करने वाले नियम अत्यंत जटिल थे। लेकिन कब्जाधारी दायित्व अधिनियम 1957 पारित होने के बाद अब इंग्लैंड में इसे सरल बना दिया गया है।

दायित्व की प्रकृति परिसर में आने वाले व्यक्तियों के प्रकार के अनुसार भिन्न होती है। इस प्रकार, मालिक के दायित्व का अध्ययन तीन शीर्षों के अंदर किया जाता है:

  1. वैध आगंतुकों के प्रति दायित्व
  2. अतिचारियों के प्रति दायित्व
  3. बच्चों के प्रति दायित्व

कब्जाधारी कौन है?

जिस कब्जाधारी के पास परिसर का नियंत्रण है, उसे भौतिक कब्जाधारी या मालिक होने की आवश्यकता नहीं है। यह निर्धारित करने के लिए कोई परीक्षण नहीं है कि कोई व्यक्ति कब्जाधारी है या नहीं। इस प्रकार, मामले के तथ्य दायित्व का निर्धारण करते है।

व्हीट बनाम लैकॉन

तथ्य: इस मामले में पब के प्रबंधक (मैनेजर) को कमरे किराए पर देने का अधिकार था, भले ही वह मालिक नहीं था। एक पेइंग मेहमान की अंधेरे में सीढ़ी से गिरकर मौत हो गई। नतीजतन, प्रतिवादियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। प्रतिवादियों ने तर्क दिया कि किसी अजनबी द्वारा सीढ़ी के बल्ब को हटा दिया गया था और इस प्रकार, उन्होंने लापरवाही नहीं की थी।

निर्णय: हाउस ऑफ लॉर्ड्स ने माना कि प्रतिवादी पब के मालिक थे और इस प्रकार, उन्हे खतरनाक परिसर के लिए उत्तरदायी बनाया जा सकता था, लेकिन इस मामले में, केवल तथ्य यह है कि सीढ़ियां पर अंधेरा था, जो परिसर को खतरनाक नहीं बनाता हैं, क्योंकि अगर व्यक्ति सावधान होता तो चोट को टाला जा सकता था।

वैध आगंतुकों के प्रति दायित्व

कब्जाधारी दायित्व अधिनियम 1957 के पारित होने तक स्थिति सामान्य कानून नियमों द्वारा शासित होती थी। हालाँकि, पुराना नियम अभी भी महत्वपूर्ण है क्योंकि न्यायाधीश मालिक के दायित्व तय करते समय पुराने सामान्य नियम को लागू करना जारी रखते हैं। इस क्षेत्र में कानून लगातार विकसित किया गया है। सामान्य कानून के तहत आगंतुकों को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है और उनमें से प्रत्येक के प्रति दायित्वों के लिए अलग-अलग नियम निर्धारित किए गए थे। आगंतुकों की श्रेणी निम्नलिखित है:

  1. आमंत्रित व्यक्ति (इन्वाइटी): यदि आगंतुक और परिसर के कब्जाधारी की आगंतुक की यात्रा में एक समान रुचि थी, तो आगंतुक को आमंत्रित व्यक्ति के रूप में जाना जाता है।

उदाहरण के लिए, किसी दुकान पर जाने वाले व्यक्ति को आगंतुक कहा जाता है, भले ही उसने कुछ खरीदा हो या नहीं।

आमंत्रित व्यक्ति को आगे दो श्रेणियों में विभाजित किया गया है:

  • सार्वजनिक आमंत्रित व्यक्ति: इसमें वे लोग शामिल हैं जो परिसर में जनता के सदस्य के रूप में प्रवेश करते हैं या रहते हैं, जिससे परिसर जनता के लिए खुला होता है।
  • व्यवसाय आमंत्रित व्यक्ति: इसमें वे लोग शामिल हैं जो उस उद्देश्य के लिए परिसर में प्रवेश करते हैं या रहते हैं जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कब्जाधारी के व्यवसाय से संबंधित होता है।

2. अनुज्ञप्तिधारी (लाइसेंसी): जब आगंतुक को स्वामी के व्यवसाय में कोई रूचि नहीं हो और वह परिसर के मालिक की सहमति से परिसर में प्रवेश करते है, तो उसे अनुज्ञप्तिधारी के रूप में जाना जाता है। एक अनुज्ञप्तिधारी को एक सामाजिक अतिथि के रूप में माना जा सकता है।

एक आमंत्रित व्यक्ति के प्रति कर्तव्य

कब्जाधारी को किसी आमंत्रित व्यक्ति के प्रति उच्चतम स्तर की देखभाल करनी चाहिए। परिसर के मालिक का यह कर्तव्य है कि वह यह सुनिश्चित करे कि आमंत्रित व्यक्ति संपत्ति के किसी भी खतरे से सुरक्षित है।

आमंत्रित व्यक्ति के मामले में कब्जाधारी का दायित्व एक असामान्य खतरे के कारण हुई हानि के लिए है, इस संबंध में वह न केवल उस खतरे के लिए उत्तरदायी है जिसके बारे में वह वास्तव में जानता था, बल्कि उस खतरे के लिए भी है जिसके बारे में उसे पता होना चाहिए था।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए, कि आमंत्रित लोगों का कोई भी नुकसान होने से रोकने के लिए कब्जाधारी को उचित देखभाल करने की आवश्यकता है। प्रत्येक मामले के तथ्यों और परिस्थितियों के आधार पर तर्कसंगतता अलग-अलग मामलों में भिन्न होती है। इस प्रकार, व्यक्ति को उस उचित देखभाल करने की आवश्यकता है जो एक समझदार व्यक्ति समान परिस्थितियों में करता है।

उदाहरण के लिए, दुकानदार से नियमित निरीक्षण की अपेक्षा करना उचित है लेकिन यह अपेक्षा करना अनुचित है कि यदि फर्श पर कुछ बिखरा हुआ है तो वह पूरे दिन इस पर नजर रखेगा।

मामले 

उपर्युक्त नियम पहली बार निर्धारित किया गया था:

इंदरमौर बनाम डेम्स 

तथ्य: इस मामले में वादी, एक गैस फिटर, प्रतिवादी के परिसर में गैस नियामक (रेगुलेटर) की जांच करने के लिए गया था। ऐसा करते समय, वह खुली हुई जगह से गिर गया और परिणामस्वरूप घायल हो गया। वादी ने तब प्रतिवादी के खिलाफ चोटों के लिए नुकसान की वसूली के लिए कार्रवाई की।

निर्णय: इस मामले में, आगंतुकों की तीन श्रेणियां स्थापित की गईं:

  1. आमंत्रित व्यक्ति,
  2. अनुज्ञप्तिधारी, और
  3. अतिचारी।

अदालत ने यह माना कि वादी, इस मामले में, एक आमंत्रित व्यक्ति था क्योंकि उसने व्यावसायिक उद्देश्य के लिए परिसर में प्रवेश किया था। अदालत ने यह देखा कि प्रतिवादी खतरे से अवगत थे और इसलिए उनके पास वादी के प्रति कर्तव्य था कि वे उस के बारे में बताएं। इस प्रकार, प्रतिवादियों को उत्तरदायी ठहराया गया था।

केट्स बनाम मोंगिनी ब्रदर्स 

तथ्य: इस मामले मे वादी, प्रतिवादी के रेस्तरां में दोपहर का भोजन करने गया था। वादी पंखे के नीचे बैठ गया। छत का पंखा वादी पर गिर गया, जिससे वह घायल हो गया। इसके बाद वादी ने प्रतिवादी के खिलाफ कार्रवाई की।

निर्णय: यह निर्धारित किया गया कि किसी गुप्त दोष के कारण वादी पर छत का पंखा गिर गया था। इस प्रकार, प्रतिवादी दोष की खोज नहीं कर सका। प्रतिवादी को उत्तरदायी नहीं ठहराया गया था।

एक अनुज्ञप्तिधारी के प्रति कर्तव्य

जैसा कि पहले चर्चा की गई है, एक अनुज्ञप्तिधारी वह व्यक्ति होता है जो कब्जाधारी के परिसर में कब्जाधारी के लाभ के लिए नहीं बल्कि अपने उद्देश्य के लिए उसकी व्यक्त या निहित सहमति से प्रवेश करता है।

  • सामान्य कानून के तहत, कब्जाधारी का कर्तव्य था कि वह किसी भी गुप्त दोष के बारे में विवरण प्रदान करे, जिसके बारे में उसे पता था। हालांकि, अगर खतरे के बारे में पता नहीं था तो कब्जाधारी उत्तरदायी नहीं होता। मालिक भी उस खतरे के लिए उत्तरदायी नहीं था जो स्पष्ट था और अनुज्ञप्तिधारी ने इसकी सराहना की।
  • परिसर के मालिक का यह कर्तव्य था कि वह जानबूझकर या दुर्भावनापूर्ण रूप से अनुज्ञप्तिधारी को घायल नहीं करेगा।
  • नया खतरा पैदा होने पर अनुज्ञप्तिधारी को उचित नोटिस दिया जाना था।

मामला 

फेयरमैन बनाम परपेचुअल इन्वेस्टमेंट बिल्डिंग सोसाइटी 

तथ्य: इस मामले में वादी अपनी बहन के साथ एक कमरे में रहने के लिए चला गया, जिसे प्रतिवादी द्वारा किराए पर दिया गया था। एक सामान्य सीढ़ी थी जिसका स्वामित्व और नियंत्रण प्रतिवादी के पास था।

सीढ़ियों में से एक में गिराव (डिप्रेशन) था, वादी की एड़ी गिराव में फंस गई जिससे वह घायल हो गई। वादी ने प्रतिवादी के खिलाफ कार्रवाई करते हुए आरोप लगाया कि वादी अनुज्ञप्तिधारी था और इसलिए, प्रतिवादी ने उनके प्रति असाधारण देखभाल की।

निर्णय: यह माना गया कि प्रतिवादियों को केवल छिपे हुए खतरे के लिए उत्तरदायी बनाया जा सकता है, न कि उस खतरे के लिए जो स्पष्ट था। यह देखा गया कि इस मामले में, वादी यदि सावधानी बरतती तो चोट से बच सकती थी। खतरा स्पष्ट था और वह इसे देख सकती थी।

कब्जाधारी दायित्व अधिनियम, 1957

कब्जाधारी दायित्व अधिनियम, 1957 के पारित होने के साथ, आमंत्रित व्यक्ति और अनुज्ञप्तिधारी के बीच का अंतर अब समाप्त कर दिया गया है।

अब, सभी वैध आगंतुकों के लिए एक ही नियम लागू होता है। परिसर के कब्जाधारी से उचित देखभाल की अपेक्षा की जाती है जिसे “देखभाल के सामान्य कर्तव्य” के रूप में जाना जाता है।

अधिनियम की धारा 2, कब्जाधारी के कर्तव्य की सीमा पर चर्चा करती है।

  • एक कब्जाधारी अपने सभी आगंतुकों के प्रति देखभाल का सामान्य कर्तव्य रखता है। देखभाल के सामान्य कर्तव्य का अर्थ ऐसी उचित देखभाल करने का कर्तव्य है जो परिसर को आगंतुक के लिए उस उद्देश्य के लिए सुरक्षित बनाएगा, जिसके लिए उसे कब्जाधारी द्वारा आमंत्रित या अनुमति दी गई थी।
  • एक कब्जाधारी किसी भी आगंतुक के साथ एक समझौता करके अपने कर्तव्य को कम कर सकता है, बढ़ा सकता है या संशोधित कर सकता है।
  • एक कब्जाधारी से अपेक्षा की जाती है कि वह बच्चों का विशेष ध्यान रखे क्योंकि उन्हें वयस्कों (एडल्ट्स) की तुलना में कम गंभीर माना जाता है।

मामले 

रोल्स बनाम नाथन

तथ्य: इस मामले में प्रतिवादी उस परिसर का मालिक था जिसे कोक से चलने वाले बॉयलर द्वारा केंद्रीय रूप से गर्म किया गया था। दो चिमनी सफाईकर्मियों ने चिमनी में एक झाडू से छेद को सील करने की कोशिश की, लेकिन कार्बन मोनोऑक्साइड गैस की उपस्थिति के कारण उनकी मृत्यु हो गई। मृतकों को खतरे के बारे में चेतावनी दी गई थी लेकिन उन्होंने निर्देशों और चेतावनियों की अवहेलना की थी।

निर्णय: यह माना गया था कि खतरा स्पष्ट था और मृतक को खतरे के बारे में बताया गया था, इसलिए, मृतक ने इसकी सराहना की थी। आगे यह कहा गया कि प्रतिवादी लापरवाह नहीं था और इसलिए, उसे उत्तरदायी नहीं बनाया जा सकता है।

क्लाउस मित्तलबाचर्ट बनाम ईस्ट इंडिया होटल्स लिमिटेड 

तथ्य: इस मामले में वादी लुफ्थांसा एयरलाइंस में सह-पायलट था। वादी दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल में रुका था। उसने स्विमिंग पूल में गोता लगाया, उसका सिर पूल के तल से टकराया और इसलिए, उसे गंभीर चोटें आईं। वह 13 वर्षों तक लकवाग्रस्त रहा और फलस्वरूप उसकी मृत्यु हो गई। यह पाया गया कि चोट के पीछे का कारण पूल में पानी की कमी थी।

निर्णय: यह माना गया कि प्रतिवादी लापरवाही कर रहे थे क्योंकि स्विमिंग पूल का डिज़ाइन दोषपूर्ण था। इस प्रकार, प्रतिवादियों को उत्तरदायी ठहराया गया था।

राजमार्ग से सटे ढांचों के मालिक का कर्तव्य

  • राजमार्ग से सटे भवनों या संरचनाओं का रखरखाव इस प्रकार किया जाना चाहिए कि वे राजमार्ग के उपयोगकर्ताओं के लिए वह खतरनाक न बनें।
  • यदि संरचना या भवन की खतरनाक प्रकृति के कारण राजमार्ग के उपयोगकर्ता को कोई चोट लगती है तो मालिक उसके लिए उत्तरदायी होगा।

दिल्ली नगर निगम बनाम सुभगवंती 

तथ्य: इस मामले में घंटाघर, चांदनी चौक, नई दिल्ली में टाउन हॉल के सामने स्थित था। नगर निगम से संबंधित संरचना ढह गई जिसके परिणामस्वरूप कई लोगों की मौत हो गई। यह पाया गया कि संरचना 80 वर्ष पुरानी थी और एमसीडी संरचना की देखभाल करने में विफल रही थी।

निर्णय: सर्वोच्च न्यायालय ने यह माना कि प्रतिवादी उत्तरदायी थे क्योंकि वे संरचना की देखभाल करने में लापरवाही कर रहे थे। प्रतिवादी संरचना की वजह से संभावित खतरे के लिए उत्तरदायी थे।

मालिक का दायित्व क्या है?

आम तौर पर, जब एक इमारत एक किरायेदार को किराए पर दी जाती है, तो वह किरायेदार होता है जो परिसर में किसी भी नुकसान के लिए आगंतुकों के लिए उत्तरदायी होता है। हालाँकि, कुछ परिस्थितियों में मकान मालिक को उत्तरदायी बनाया जा सकता है, उनमें से कुछ की चर्चा नीचे की जा रही है:

  • सामान्य क्षेत्र: मकान मालिक सामान्य क्षेत्रों में आगंतुकों या किरायेदार को हुए नुकसान के लिए उत्तरदायी है जो सभी किरायेदारों द्वारा साझा किए जाते है। उदाहरण के लिए, पार्किंग स्थल, हॉलवे, सीढ़ियाँ, आदि।
  • अव्यक्त दोष (लेटेंट डिफेक्ट): यदि दोष ऐसा है जो मकान मालिक को किरायेदारी के समझौते में प्रवेश करने से पहले पता था, लेकिन किरायेदार को इसके बारे में खुलासा नहीं किया गया, तो आगंतुकों को इस तरह के दोष के कारण होने वाली कोई भी चोट, मकान मालिक को उत्तरदायी बना देगी।
  • मरम्मत के लिए संविदात्मक (कॉन्ट्रैक्चुअल) दायित्व: आम तौर पर, मकान में मरम्मत कराने के लिए मकान मालिक जिम्मेदार नहीं होता है। हालाँकि, यदि उसने किरायेदार के साथ एक समझौता किया था और  मकान की मरम्मत कराने का वचन दिया था, तो यह मकान मालिक होगा जो मरम्मत में लापरवाही के कारण आगंतुकों को कोई चोट लगने पर जिम्मेदार होगा।

हालांकि, ये शीर्ष तभी प्रभावी होंगे जब इसके विपरीत कोई सहमति न हो। इस प्रकार, यदि मकान मालिक ने किरायेदार के साथ एक समझौते में अपने दायित्व को प्रतिबंधित कर दिया है, तो मकान मालिक इसके लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

मिंट बनाम गुड 

तथ्य: इस मामले में प्रतिवादी ने साप्ताहिक किराएदारी पर एक भवन को किराये पर दिया था। प्रतिवादी द्वारा परिसर में प्रवेश करने का कोई अधिकार स्पष्ट रूप से सुरक्षित नहीं था। प्रतिवादी द्वारा दिए गए भवन की दीवार गिरने से वादी घायल हो गया था।

निर्णय: यह माना गया कि परिसर में प्रवेश करने का अधिकार परिस्थितियों से निहित हो सकता है, इस प्रकार, प्रतिवादी को उत्तरदायी ठहराया गया था।

अतिचारियों के प्रति दायित्व

कब्जाधारी दायित्व अधिनियम में केवल वैध आगंतुकों के प्रति कब्जेदार की देयता शामिल है, न कि अतिचारियों के प्रति। इस प्रकार, अतिचारियों के प्रति दायित्व अभी भी सामान्य कानून द्वारा कवर किए गए है।

अतिचारी कौन है?

अतिचारी एक ऐसा व्यक्ति है जो दूसरे के परिसर में उसकी सहमति के बिना प्रवेश करता है। हालांकि, अगर कब्जाधारी ने जमीन पर दूसरों के प्रवेश पर आपत्ति नहीं की तो यह माना जाता है कि उसने इसके लिए सहमति दी थी। ऐसे आगंतुकों को तब अनुज्ञप्तिधारी का अधिकार प्राप्त होता है।

लोव्रे बनाम वॉकर

तथ्य: इस मामले में प्रतिवादी उस भूमि का मालिक था जिसका उपयोग जनता द्वारा रेलवे स्टेशन से आने-जाने के लिए एक शॉर्टकट के रूप में किया जाता था। प्रतिवादी ने इस प्रथा का विरोध किया लेकिन इसके खिलाफ कभी कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं की गई। वादी, मैदान पार करते समय प्रतिवादी के स्वामित्व वाले घोड़े से घायल हो गया था। प्रतिवादी ने तर्क दिया कि यहां वादी, एक अतिचारी था और इसलिए उसके खिलाफ उसका कोई कर्तव्य नहीं था।

निर्णय: अदालत ने यह माना था कि चूंकि प्रतिवादी इतने लंबे समय तक अतिचारियों के खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करने में विफल रहा था, इसलिए ऐसी परिस्थितियों में प्रतिवादी की सहमति की उपस्थिति मान ली जा सकती है। यह देखा गया कि वादी इस मामले में एक अनुज्ञप्तिधारी था और इसलिए, प्रतिवादी को चोट के लिए उत्तरदायी ठहराया गया था।

अतिचारियों के प्रति कर्तव्य की प्रकृति

  • कब्जाधारी को अपने परिसर को अतिचारियों के लिए सुरक्षित नहीं बनाना चाहिए।
  • हालाँकि, वह जानबूझकर अतिचारी को घायल करने का कार्य नहीं कर सकता। अतिचारियों को परिसर में प्रवेश करने से रोकने के लिए कब्जाधारी को उचित कदम उठाने का अधिकार है लेकिन वह उन्हें नुकसान पहुंचाने के लिए कुछ नहीं कर सकता है। उदाहरण के लिए, यदि सीढ़ी से गिरकर अतिचारी घायल हो जाता है, तो कब्जाधारी उत्तरदायी नहीं होगा, लेकिन दूसरी ओर, यदि दीवार पर लगी स्प्रिंग गन के कारण अतिचारी घायल हो जाता है, जिसके मालिक ने कोई नोटिस नहीं दिया है, तो मालिक जिम्मेदार होगा।
  • परिसर के कब्जाधारी का सामान्य देखभाल का कर्तव्य है।

मॉर्टन बनाम पॉल्टर

तथ्य: इस मामले में प्रतिवादी एक एल्म का पेड़ काट रहा था जिसके पास बच्चे मौजूद थे। प्रतिवादी ने बच्चों को चेतावनी नहीं दी, और इस प्रकार पास में खड़े एक बच्चे को घायल कर दिया। जब प्रतिवादियों के खिलाफ कार्रवाई की गई, तो उन्होंने तर्क दिया कि बच्चा परिसर में एक अतिचारी था।

निर्णय: यह माना गया कि प्रतिवादी उत्तरदायी था क्योंकि वह बच्चे को पर्याप्त चेतावनी देने में विफल रहा था।

बच्चों के प्रति दायित्व

कब्जाधारी दायित्व अधिनियम, 1957 में प्रावधान है कि परिसर के कब्जाधारी से अपेक्षा की जाती है कि वह वयस्कों की तुलना में बच्चों के कम सावधान रहने के लिए तैयार रहे। इसलिए, बच्चे को किसी भी तरह के खतरे से बचाने के लिए कब्जाधारी को उचित देखभाल करने की आवश्यकता है।

कब्जाधारी बच्चों को उन खतरों से भी बचाता है जिनसे वयस्कों को किसी सुरक्षा की आवश्यकता नहीं होती है। इसके पीछे तर्क यह है कि बच्चा उसी तरह से निर्णय लेने या कार्य करने में सक्षम नहीं है जिस तरह से वयस्क ने समान परिस्थितियों में कार्य किया होगा।

ग्लासगो कॉर्पोरेशन बनाम टेलर

तथ्य: इस मामले में सार्वजनिक पार्क प्रतिवादियों द्वारा नियंत्रित किया गया था। जहरीले जामुन वाला एक पेड़ था, हालांकि, उसके लिए कोई नोटिस नहीं दिया गया था और पेड़ तक पहुंच जनता के लिए खुली थी। 7 साल के एक बच्चे ने जामुन खा ली और वह मर गया। बच्चे के पिता द्वारा प्रतिवादी के खिलाफ एक कार्रवाई की गई थी।

निर्णय: प्रतिवादियों को उत्तरदायी ठहराया गया, क्योंकि वे जामुन के घातक चरित्र के बारे में कोई नोटिस देने में विफल रहे हैं।

निष्कर्ष

संक्षेप में, एक कब्जाधारी के दायित्व की प्रकृति आगंतुकों के प्रकार के साथ भिन्न होती है। यदि कोई व्यक्ति वैध आगंतुक है तो कब्जाधारी का कर्तव्य है कि वह आगंतुक और उनकी संपत्ति की सुरक्षा के लिए उचित देखभाल करे। कब्जाधारी दायित्व अधिनियम 1957 के पारित होने से पहले, वैध आगंतुकों को आगंतुक के उद्देश्य के आधार पर आमंत्रित व्यक्ति और अनुज्ञप्तिधारी में वर्गीकृत किया गया था। हालाँकि, अब एक आमंत्रित व्यक्ति और अनुज्ञप्तिधारी के बीच के इस अंतर को समाप्त कर दिया गया है।

आम तौर पर मकान मालिक आगंतुकों को हुई चोट के लिए उत्तरदायी नहीं होता है। हालांकि, कुछ स्थितियों में, आगंतुक को हुई किसी भी चोट के लिए मकान मालिक को उत्तरदायी बनाया जा सकता है।

बच्चों के प्रति कब्जाधारी का कर्तव्य आम तौर पर अधिक होता है, क्योंकि बच्चे से एक वयस्क के समान कार्य करने की अपेक्षा नहीं की जा सकती है। इसलिए, कब्जाधारी से अपेक्षा की जाती है कि वह वयस्कों की तुलना में बच्चों के कम सावधान रहने के लिए तैयार रहे।

संदर्भ

  • [1966] AC 552
  • [1866] LR 1 CP 27
  • [1917] 19 BOMLR 778
  • [1923] AC 74, 92 LJKB 50
  • [1963] 2 All ER 908
  • AIR 1997 Del 201
  • 1966 AIR 1750
  • [1951] 1 KB 517
  • [1911] AC 10
  • [1930] 2 KB 183
  • [1922] 1 AC 44
  • R.K. Bangia, Law of Torts

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here