भारत में हिंदू और मुसलमानों के व्यक्तिगत कानून

0
697
Hindu and Muslim Personal Laws

इस लेख में, यूपीईएस (देहरादून) से Saksham Chhabra, हिंदू और मुसलमानों के व्यक्तिगत कानूनों पर चर्चा करते हैं। इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja द्वारा किया गया है। 

Table of Contents

परिचय

व्यक्तिगत कानून वे कानून हैं जो किसी विशेष धर्म पर सामान्य रूप से लागू होते हैं और वे कानून हैं जो धर्म को नियंत्रित करते हैं। ये वे रीति-रिवाज या कानून हो सकते हैं जिनका पालन लंबे समय से किया जा रहा है और ये वे कानून हैं जहां से इन धर्मों ने भी अपना आधार प्राप्त किया है और इन पर कानून विकसित हुए हैं। लोग लंबे समय से इन कानूनों का पालन कर रहे हैं और ये उनके धर्म के लोगों के लिए प्रचलित हैं। ये कानून लोगों की विभिन्न मान्यताओं और भावनाओं को ध्यान में रखते हुए स्थापित किए गए हैं।

हिंदू व्यक्तिगत कानून 

हिंदू कानून सबसे प्राचीन और आदिम कानूनों में से एक है जो आज के युग में भी प्रचलित है और दुनिया भर में जाना जाता है। यह 1956 के हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम द्वारा शासित है, यह हिंदू कानून के तहत निर्वसीयत (इंटेस्टेट) और वसीयती उत्तराधिकार में संशोधन और विनियमन करने के लिए भारत की संसद द्वारा निर्वसीयत (निर्वसीयत संपत्ति) से संबंधित एक संहिताबद्ध (कोडीफाइड) कानून है, लेकिन कुछ मामलों में, भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम एक प्रमुख भूमिका निभाता है। धारा 529 एक महिला सहदायिक (कोपार्सनरी) की अवधारणा (एक व्यक्ति जो विरासत में मिली भूमि को समान रूप से साझा करता है) (धारा 6 और 7), पुरुष निर्वसीयत और उनके उत्तराधिकार के क्रम के बारे में बात करती है।

(धारा 813), महिला निर्वसीयत और उनके उत्तराधिकार का क्रम (धारा 1416), अन्य रिश्ते और अधिकार (अर्ध-रक्त, पूर्ण-रक्त, गर्भ में बच्चा आदि) को हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम की धारा 1729 के तहत निपटाया गया है। भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम, 1925 का भाग VI, धारा 57 से शुरू होकर, एक हिंदू के अपनी वसीयत (वसीयतनामा उत्तराधिकार) के अनुसार अपनी संपत्ति का निपटान करने के अधिकार को स्पष्ट रूप से मान्यता देता है। अनुसूची III उन धाराओं का प्रावधान करती है जो प्रतिबंधों के अधीन हिंदू कानून के तहत वसीयत और कोडिसिल पर लागू होती हैं।

पहले, महिलाओं को पुरुषों के बराबर नहीं माना जाता था और संपत्ति में उनका समान अधिकार नहीं था, लेकिन वर्ष 2005 में संशोधन के बाद उन्हें बराबर माना जाता है और उन्हें पुरुषों के समान अधिकार प्राप्त हैं और अब संशोधन के बाद वे कर्ता या सहदायिक में से कोई एक बन सकती हैं, जिसका अधिकार पहले उनके पास नहीं था। हिंदू कानून में विभिन्न अधिनियम और प्रावधान हैं जो इसे तलाक, विवाह, दत्तक ग्रहण (एडॉप्शन), उत्तराधिकार, संपत्ति, अल्पसंख्यक, बेटे के अधिकार, पवित्र दायित्व आदि जैसे मामलों में नियंत्रित करते हैं, जो हिंदू विवाह अधिनियम, 1955, भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम, 1925, संरक्षकता और दत्तक ग्रहण (गार्जियनशिप एंड एडॉप्शन) अधिनियम, 1956 द्वारा शासित होते हैं। ये निम्नलिखित कानून हिंदू व्यक्तिगत कानून के अनुसार हैं। हिंदू कानून के मुख्य स्रोत रीति-रिवाज और विधान हैं, जहां से कानून की उत्पत्ति हुई है।

संरक्षकता:

नाबालिग बच्चों की संरक्षकता के हिंदू कानून को हिंदू अवयस्क (माइनोरिटी) और संरक्षकता अधिनियम, 1956 द्वारा सुधारा, संहिताबद्ध और परिभाषित किया गया है। इस प्रकार, अधिनियम की धारा 4(b) में कहा गया है कि अवयस्क का अर्थ वह व्यक्ति है जिसने अठारह वर्ष की आयु पूरी नहीं की है। उसे एक ऐसा व्यक्ति माना जाता है, जो शारीरिक और बौद्धिक रूप से अपूर्ण और अपरिपक्व है, और इसलिए उसे किसी की सुरक्षा की आवश्यकता है। धारा 69 हिंदू कानून के तहत विभिन्न संरक्षकों की अवधारणा और अधिकार और प्रतिबंध क्या हैं, से संबंधित है। ऐसे कुछ तरीके हैं जिनसे बच्चे की संरक्षकता माता-पिता में से किसी एक को दी जाती है:

  1. यदि दंपत्ति में कोई लड़का या अविवाहित लड़की (वैध) है, तो पहला संरक्षक पिता होगा और पिता के बाद मां को संरक्षकता के लिए माना जाएगा; लेकिन 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे के मामले में, बच्चे की अभिरक्षा (कस्टडी) हमेशा माँ के पास रहेगी जब तक कि पिता ने अपनी मृत्यु के बाद किसी और को नाबालिग बच्चे का संरक्षक नियुक्त नहीं किया हो।
  2. यदि दंपत्ति के पास एक नाजायज लड़का या लड़की है, तो बच्चे की पहली संरक्षक माँ है और माँ के बाद, संरक्षक पिता होता है, जब तक कि माँ ने अपनी मृत्यु के बाद किसी व्यक्ति को नाबालिग बच्चे का प्राकृतिक संरक्षक नियुक्त नहीं किया हो।
  3. यदि दंपत्ति की एक बेटी है और वह शादीशुदा है तो विवाहित बेटी का संरक्षक उसका पति होगा।

संरक्षक को हटाने का आधार:

अदालत के पास हिंदू अवयस्क और संरक्षकता अधिनियम, 1956 की धारा 13 के अनुसार किसी भी संरक्षक को हटाने की शक्ति है, जो इस प्रकार हैं:

  1. यदि वह हिंदू नहीं रहता है,
  2. यदि वह साधु या सन्यासी बन जाता है,
  3. यदि उसका हित नाबालिग के हित के विरुद्ध है तो अदालत उसे हटा सकती है।

ऐसी बातें तय करते समय नाबालिग का कल्याण अत्यंत महत्वपूर्ण है।

हिंदू कानून के तहत दत्तक ग्रहण:

हिंदू कानून के तहत दत्तक ग्रहण दो तरीकों से किया जा सकता है:

  1. देश के भीतर दत्तक ग्रहण,
  2. अंतर-देशीय दत्तक ग्रहण,

हिंदू कानून के तहत कुछ धार्मिक मान्यताओं के कारण दत्तक ग्रहण की अवधारणा का पालन किया जाता है। हिंदू कानून में कुछ दायित्व हैं जिन्हें बेटे को निभाना जरूरी है, इसके लिए दत्तक ग्रहण करना जरूरी है। इस प्रकार, हिंदू कानून हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 के तहत एक बच्चे को दत्तक ग्रहण करने की अनुमति देता है और प्रत्येक दत्तक ग्रहण इस अधिनियम के दायरे में होना चाहिए और इस अधिनियम के प्रावधानों का कोई भी उल्लंघन शून्य होगा। पहले इस अधिनियम की अवधारणा थी कि केवल पुरुष ही बच्चे को ग्रहण कर अब महिला भी दत्तक ग्रहण कर सकती है। यह अधिनियम जम्मू और कश्मीर राज्य को छोड़कर पूरे भारत में लागू है और किसी भी हिंदू व्यक्ति पर लागू होता है। इसके अलावा, हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 की धारा 617 इस बारे में बात करती है कि कौन दत्तक ग्रहण कर सकता है,  वैध दत्तक ग्रहण के लिए क्या आवश्यक हैं, दत्तक ग्रहण के लिए पुरुष और महिला के लिए शर्तें क्या हैं, किसे दत्तक ग्रहण किया जा सकता है, कानून की नजर में माता-पिता और ग्रहण किए गए बच्चे के बीच क्या अधिकार और संबंध हैं आदि।

हिंदू कानून के तहत तलाक:

हिंदू कानून के तहत तलाक हिंदू विवाह अधिनियम के तहत किया जाता है। 1869 के भारतीय तलाक अधिनियम की धारा 10, महिलाओं को कुछ आधारों पर अपने पति से तलाक के लिए आवेदन करने का अधिकार बताती है, जैसे कि व्यभिचार (एडल्टरी), द्विविवाह, परित्याग, आदि। साथ ही, अधिनियम में संशोधन के बाद इसमें धारा 10A के रूप में एक नई धारा भी जोड़ी गई, जिसने जोड़ों को आपसी सहमति से तलाक की आजादी दी है। इसलिए अधिनियम में विभिन्न अध्याय हैं जो तलाक के विभिन्न तरीकों के बारे में बात करते हैं जबकि हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 1118 के तहत विवाह की शून्यता के बारे में बात की गई है। यह अधिनियम न्यायिक अलगाव और यहां तक ​​कि यदि दंपत्ति चाहे तो पुनर्विवाह के लिए और भरण-पोषण और मामलों के निपटारे के लिए भी अधिकार और प्रक्रियाएं निर्धारित करता है। जबकि धारा 1930 तलाक की प्रक्रिया में अधिकार क्षेत्र (ज्यूरिस्डिकशन) और निर्धारित प्रक्रिया के बारे में बात करती है। तलाक एक ऐसी अवधारणा है जिसे वर्ष 1956 के बाद स्थापित किया गया है क्योंकि पहले तलाक के संबंध में कोई प्रावधान नहीं था और सती प्रथा की प्रथा देश में प्रचलित थी लेकिन चूंकि महिलाओं के अधिकार और कर्तव्य प्रतिबंधित थे इसलिए कानून निर्माताओं ने इस अधिनियम की आवश्यकता को पहचाना और बनाया।

मुस्लिम व्यक्तिगत कानून :

जब हम मुस्लिम कानून के बारे में बात करते हैं तो हम समझते हैं कि यह एक संहिताबद्ध कानून है और 1937 के मुस्लिम कानून (शरीयत) द्वारा शासित होता है और तलाक, भरण-पोषण, विरासत आदि से संबंधित सभी कानून इसके द्वारा शासित होते हैं।

मुस्लिम कानून की उत्पत्ति का स्रोत मुख्यतः कुरान है। हालाँकि मुस्लिम समुदाय दो मुख्य समूहों में विभाजित है:

  • शिया समुदाय (शिया कानून)
  • सुन्नी समुदाय (सुन्नी कानून)

ये दोनों समुदाय अपने-अपने कानूनों द्वारा शासित और विनियमित हैं लेकिन इन्हें नियंत्रित करने वाले ये कानून मुख्य रूप से कुरान से लिए गए हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि कुरान ईश्वर का वचन है और कोई भी व्यक्ति जो मुस्लिम है वह इस कानून का पालन करता है (एक व्यक्ति को एक मुस्लिम तब माना जाता है जब वह मानता है कि ईश्वर एक है और मुहम्मद पैगंबर हैं)।

दत्तक ग्रहण

इस्लामिक कानून हिंदू कानून के विपरीत दत्तक ग्रहण की अवधारणा को मान्यता नहीं देता है और यह मोहम्मद इलाहाबाद बनाम मोहम्मद इस्माइल के ऐतिहासिक मामले में भी साबित हुआ था, जहां अदालत ने माना था कि हिंदू कानून के तहत दी दत्तक ग्रहण की अवधारणा के समान, मुस्लिम कानून के तहत दत्तक ग्रहण की कोई अवधारणा नहीं है, लेकिन मुस्लिम कानून पितृत्व की अवधारणा को स्वीकार करता है। दोनों के बीच बुनियादी अंतर यह है कि दत्तक ग्रहण के तहत, जिस व्यक्ति को ग्रहण किया गया है उसे दूसरे व्यक्ति का बेटा कहा जाता है, जबकि पितृत्व में स्वीकृति की अनिवार्यता यह है कि पावती (एक्नोलेजी) को दूसरे के बेटे के रूप में नहीं जाना जाना चाहिए।

परंतुक (प्रोवाइजो) खंड- यदि कोई व्यक्ति किसी बच्चे को ग्रहण करना चाहता है तो वह अदालत के आदेश के साथ 1890 के संरक्षकता और प्रतिपाल्य (वार्ड) अधिनियम के तहत ऐसा कर सकता है।

मुस्लिम कानून के तहत संरक्षकता:

मुस्लिम कानून के ये अधिकारी हमें नाबालिग की संपत्ति की संरक्षकता के बारे में बताते हैं, क्योंकि संरक्षकता सिर्फ एक हस्तक्षेप है। चूंकि, मुस्लिम कानून के ये अधिकारी नाबालिग की संपत्ति की संरक्षकता के बारे में जोरदार ढंग से बात करते हैं, इसलिए व्यक्ति की संरक्षकता एक मात्र अनुमान है और चूंकि मुस्लिम व्यक्तिगत कानून अन्य कानूनों की तरह संहिताबद्ध नहीं है, इसलिए कुछ अवधारणाएं और शर्तें हैं जिनका हम अध्ययन इसके अंतर्गत करते हैं।

संरक्षक के अधिकार:

  1. अलगाव की शक्ति,
  2. पट्टा (लीज) देने की शक्ति,
  3. अवयस्क बच्चे की ओर से व्यवसाय चलाने की शक्ति,
  4. विभाजन करने की शक्ति,
  5. ऋण लेने और अनुबंध करने की शक्ति।

इसके अलावा, मुस्लिम कानून प्राकृतिक संरक्षक, वसीयतनामा संरक्षक और अदालत द्वारा नियुक्त संरक्षकों की अवधारणा से संबंधित है और वास्तविक, अभिरक्षा और संरक्षकता के संदर्भ में अभिरक्षा की अवधारणा को भी शामिल करता है जो अत्यंत महत्वपूर्ण हैं जिन्हें मुस्लिम कानून के तहत परिभाषित किया गया है। कानून के बारे में विस्तार से बताया गया है क्योंकि मुस्लिम कानून कोई संहिताबद्ध कानून नहीं है, इसलिए इसमें हर पहलू से संबंधित अवधारणाएं हैं।

उत्तराधिकार

मुस्लिम कानून अपने स्वयं के कानून द्वारा शासित होता है जिसे शरीयत कहा जाता है। मुस्लिम कानून अलग संपत्ति की अवधारणा को मान्यता नहीं देता है। पुरुष और महिला दोनों के उत्तराधिकार के लिए समान सामान्य नियमों (जैसे प्रतिनिधित्व का नियम, बहिष्करण का नियम, ज्येष्ठाधिकार (प्रिमोजेनिचर) का नियम, निहित विरासत का नियम और विशेष उत्तराधिकार का नियम) के साथ केवल एक ही संपत्ति है, यदि कोई मुस्लिम व्यक्ति वसीयत किए बिना मर जाता है तो कानूनों के अनुसार, किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद, उसके स्वामित्व के दायरे में आने वाली संपत्ति को शेष संपत्ति से कुछ खर्चों और देनदारियों को काटने के बाद कानूनी उत्तराधिकारियों के बीच वितरित की जाएगी, जिसे विरासत संपत्ति के रूप में भी जाना जाता है। उत्तराधिकार के लिए मुस्लिम कानून इस प्रकार है:

  1. क़ुरान,
  2. इज्मा,
  3. सुन्ना,
  4. क़िया,

संपत्ति का वितरण:

मुस्लिम कानून के तहत, दो विचारधारा हैं जिन्हें शिया और सुन्नी कानून विचारधारा के नाम से जाना जाता है। शिया कानून के तहत मृत व्यक्ति की संपत्ति को प्रति स्ट्रिप के रूप में विभाजित किया जाता है, जिसका अर्थ यह भी है कि वे परिवार में साझा करते हैं, इस प्रकार, मात्रा उस शाखा पर निर्भर करती है जिसमें वे हैं और उनकी शाखा में मौजूद लोगों की संख्या पर भी निर्भर करता है। सुन्नी कानून के तहत, विरासत योग्य संपत्ति को प्रति व्यक्ति विभाजित किया जाता है जिसके अनुसार उन्हें विरासत योग्य संपत्ति में बराबर हिस्सा मिलता है। यदि कोई मुस्लिम पुरुष या महिला अपनी अलग संपत्ति की वसीयत करना चाहता है तो वह केवल एक तिहाई संपत्ति की ही वसीयत कर सकता है, उससे अधिक की नहीं और शेष संपत्ति कानूनी उत्तराधिकारियों को मिल जाएगी और यदि व्यक्ति एक तिहाई से अधिक संपत्ति की वसीयत करना चाहता है, तो उसे अन्य कानूनी उत्तराधिकारियों की सहमति लेनी होगी और यदि उसने अन्य उत्तराधिकारियों की सहमति नहीं ली है और अपनी मृत्यु के बाद संपत्ति के एक तिहाई हिस्से के अपने अधिकार से अधिक वसीयत करता है, तो उस व्यक्ति को जिसे संपत्ति की वसीयत की गई थी वह केवल एक तिहाई की सीमा तक ही होगी।

सुन्नी कानून के तहत विरासत:

  1. हिस्सेदार,
  2. अवशेष (रेसिडुअरी),
  3. दूर के रिश्तेदार।

हिस्सेदार वह व्यक्ति होता है जो व्यक्ति के अनुसार संपत्ति में एक निश्चित मात्रा में हिस्सेदारी का सीधे हकदार होता है और यह कोरम (12) द्वारा तय किया जाता है और हिस्सेदार के बाद यदि कोई संपत्ति बच जाती है तो वह अवशेष के पास जाती है और अवशेष द्वारा उनका हिस्सा लेने के बाद भी अगर, संपत्ति बच जाती है तो यह फिर से हिस्सेदारों में वापस चली  जाएगी। दूर के रिश्तेदार वे रिश्ते हैं जो न तो हिस्सेदार हैं और न ही अवशेषी और संपत्ति उन्हें तभी मिलेगी जब हिस्सेदार या अवशेष में से कोई भी जीवित नहीं है। मुस्लिम कानून में विरासत का अधिकार जन्म के साथ मिलता है, गर्भ में पल रहे बच्चे को कोई अधिकार नहीं होता उसे संपत्ति में बराबर का अधिकार तभी मिलेगा जब वह परिवार में जीवित पैदा हुआ हो और शरीयत कानून विधवा और बच्चों वाली विधवा के मामले में शेयरों की संख्या और अन्य मामलों की भी बात करता है और यदि कोई व्यक्ति बिना किसी कानूनी उत्तराधिकारी के मर जाता है तो एस्चीट नामक प्रक्रिया में उसकी पूरी संपत्ति सरकार के पास चली जाती है।

शिया कानून के तहत विरासत:

शिया कानून के तहत उत्तराधिकार का क्रम इस प्रकार है:

  1. सजातीयता (कॉन्सेनगुईनीटी) द्वारा वारिस,
  2. विशेष मामले के अनुसार वारिस
  • समूह 1 (माता-पिता और बच्चे और बच्चों के वंशज)
  • समूह 2 (दादा-दादी, भाई-बहन और उनके वंशज)
  • समूह 3 (मामा-मौसी और चाचा)

ऑल और रेड का सिद्धांत:

ऐसे मामले होते हैं जहां ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है जिसमें कुल हिस्सेदार पैतृक संपत्ति से अधिक हो जाते हैं, तो हिस्सेदारी आनुपातिक रूप से कम हो जाती है। जबकि ऐसे मामले में जहां हिस्सेदारों का हिस्सा विरासत योग्य संपत्ति से कम है, शेष हिस्सा अवशेष को जाता है और यदि कोई अवशेष नहीं है तो यह दूर के रिश्तेदारों को चला जाता है।

वसीयती उत्तराधिकार के मामले में, निम्नलिखित मामले हैं:- (यहां देखें)

  • मुस्लिम वसीयत का निरसन (रिवोकेशन):

एक वसीयत, अपनी असाधारण प्रकृति के कारण, निरसन योग्य होती है। एक वसीयतकर्ता, जब भी उसका मन करे, अपनी वसीयत को स्पष्ट रूप से या परोक्ष रूप से रद्द कर सकता है। इस तरह, जब मृत वसीयतकर्ता अपनी विरासत के विषय को नष्ट कर देता है, या इसकी प्रवृत्ति पूरी तरह से बदल देता है, या इसे किसी और को सौंप देता है, तो निरसन का अर्थ लगाया जा सकता है। किसी भी स्थिति में, वसीयत करने के बाद वसीयतकर्ता का विवाह वसीयत को रद्द नहीं करता है। मुहम्मदन कानून का यह नियम भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम, 1925 के तहत नियम से बिल्कुल अलग है जहां वसीयतकर्ता का विवाह उसकी वसीयत को रद्द कर देता है।

  • विरासतों का लुप्त होना:

सुन्नी कानून के तहत, यदि वसीयतदार वसीयतकर्ता के जीवित रहने पर जीवित नहीं रहता है, तो विरासत समाप्त हो जाती है और वसीयतकर्ता की संपत्ति का कुछ हिस्सा बनता है, जबकि शिया कानून के तहत यदि वसीयतदार वसीयतकर्ता के बावजूद जीवित नहीं रहता है, तो विरासत समाप्त नहीं होती है, बल्कि वसीयतकर्ता के लाभार्थी की संपत्ति का कुछ हिस्सा बन जाती है। ऐसा तब होता है जब विरासत पाने वाले का कोई लाभार्थी नहीं होता, तो विरासत समाप्त हो जाती है।

  1. विरासतों का उन्मूलन (अबेटमेंट) :

सुन्नी कानून के तहत, यदि वसीयत, वसीयत योग्य तीसरे व्यक्ति से अधिक हो जाती है, और उत्तराधिकारी सहमति नहीं देते हैं, तो सुन्नी कानून के तहत विरासत धीरे-धीरे कम हो जाती है। पवित्र उद्देश्यों के लिए विरासत भी, सामान्य उद्देश्यों के लिए वसीयत के अनुपात में कम हो जाती है और उन पर प्राथमिकता नहीं होती है। पवित्र उद्देश्य के लिए सम्पदा को स्वयं तीन वर्गों में विभाजित किया गया है:

  1. अनिवार्य परोपकार, उदाहरण के लिए, समाप्त हो चुके व्यक्ति के हित में हज के निष्पादन के लिए विरासत;
  2. इसका सुझाव दिया गया है, फिर भी इसकी आवश्यकता नहीं है, उदाहरण के लिए, औसत से कम पर परोपकार के लिए बंदोबस्ती (एंडोमेंट) तीसरे की तुलना में अधिक है।

जबकि शिया कानून छूट के मानक को नहीं मानता है। कुछ वसीयतों में से, पहली वसीयत तब तक कायम रहती है जब तक कि वसीयत योग्य तीसरा समाप्त न हो जाए। जहां वसीयत में कुछ संपत्तियां पाई जानी हैं, वहां आवश्यकता उस अनुरोध से निर्धारित होती है जिसमें उनका उल्लेख किया गया है। किसी भी मामले में, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि जहां दो अलग-अलग लोगों के लिए सही तीसरे की क्रमिक वसीयत होती है, वहां बाद की विरासत प्रबल होती है।

  • मुस्लिम वसीयत का निष्पादक (एग्जिक्यूटर):

सख्त मुस्लिम कानून के तहत, एक निष्पादक वसीयतकर्ता के इरादों को पूरा करने के लिए केवल एक प्रशासक था। वह अपने निधन के बाद अपनी संपत्ति और बच्चों की सुरक्षा और प्रबंधन के लिए वसीयतकर्ता द्वारा नामित एक ट्रस्टी था। वह मृतक की संपत्ति का वैध मालिक नहीं था और संपत्ति उसमें निहित नहीं थी। उसके पास संपत्ति की पेशकश या अनुबंध करने या किसी अन्य तरीके से अलग करने की कोई ऊर्जा नहीं थी। अब, भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम, 1925 की धारा 211 के प्रावधानों के तहत, एक मुस्लिम की वसीयत का निष्पादक सभी कारणों से उसका कानूनी प्रतिनिधि है और मृतक की सारी संपत्ति उसमें निहित है; इस प्रकार, वह नियत समय पर संपत्ति का निपटान करने की क्षमता रखता है।

मुस्लिम कानून के तहत तलाक:

मुस्लिम कानून के तहत तलाक मुस्लिम विवाह अधिनियम 1939 द्वारा शासित होता है। अधिनियम कहता है कि तलाक दो परिस्थितियों में हो सकता है:

  1. पत्नी द्वारा: जब किसी विवाह में पत्नी पति को तलाक देना चाहती है तो वह ऐसा तीन तरीकों से कर सकती है, जिन्हें न्यायिक तलाक भी कहा जाता है:
  • तलाक़-ए तफ़वीज़ 
  • लियान 
  • मुस्लिम विवाह विघटन अधिनियम

2. पति द्वारा: जब पति पत्नी को तलाक देता है तो इसे न्यायेतर (एक्स्ट्रा ज्यूडिशियल) तलाक कहा जाता है और इसके तरीके इस प्रकार हैं:

  • तलाक-ए-सुन्नत
  • तलाक-ए-बिद्दत
  • तलाक-ए-हसन
  • तलाक-ए-अहसान
  • इला
  • जिहार

शिया और सुन्नी कानून के तहत, कुछ शर्तें हैं जिन्हें पहले देखा जाता है और शिया कानून के तहत तलाक को वैध कहने के लिए क्षमता, औपचारिकताएं और व्यक्त शब्दों का उपयोग, स्वतंत्र सहमति, आवश्यक है। इस प्रकार, मुस्लिम कानून के तहत तलाक कानूनी है और विभिन्न तरीकों से किया जा सकता है और दोनों पक्षों द्वारा आपसी सहमति के जरिए भी तलाक लिया जा सकता है।

वसीयत की अवधारणाएँ

वसीयत एक दस्तावेज है जिसमें एक मृत व्यक्ति अपनी संपत्ति को अपनी इच्छा के अनुसार वितरित करने के लिए सौंपता है। भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम, 1925 की धारा 2(h) में प्रावधान है कि वसीयत का अर्थ किसी व्यक्ति की अपनी संपत्ति के संबंध में इरादे की कानूनी घोषणा है, जिसे वह अपनी मृत्यु के बाद प्रभावी करना चाहता है। वसीयत से संबंधित शर्तें निम्नलिखित हैं:

कोडिसिल शब्द से आप क्या समझते हैं

कोडिसिल वसीयत के संबंध में बनाया गया एक लिखत (इंस्ट्रूमेंट) है, जो उसके स्वभाव को समझाता है, बदलता है या जोड़ता है और इसे वसीयत का हिस्सा माना जाता है। कोडिसिल का उद्देश्य वसीयत में कुछ छोटे बदलाव करना है, जिसे पहले ही निष्पादित किया जा चुका है। कोडिसिल को लिखित रूप में किया जाना चाहिए और वसीयतकर्ता द्वारा हस्ताक्षरित होना चाहिए और दो गवाहों द्वारा सत्यापित (वेरिफाई) होना चाहिए। वसीयत और सभी संहिताओं को पढ़कर वसीयतकर्ता के इरादे पर पहुंचना भी अदालत का कर्तव्य है।

निष्पादक कौन है

निष्पादक वह व्यक्ति होता है जिसे व्यक्ति की मृत्यु के बाद वसीयत की आवश्यक प्रक्रियाओं को पूरा करने के लिए अदालत द्वारा नियुक्त किया जाता है। वसीयत बकाया वसूलने, कर्ज चुकाने और संपत्तियों का प्रबंधन करने की शक्तियां प्रदान करती है, व्यक्ति को किसी भी कार्य को करने के लिए नियुक्त किया जाता है जो व्यक्ति की वसीयत से संबंधित होता है।

प्रोबेट से आपका क्या तात्पर्य है

प्रोबेट निष्पादक की नियुक्ति का प्रमाण है जब तक कि इसे निष्पादक द्वारा रद्द नहीं किया जाता है और यह दर्शाता है कि उसके पास पूरी शक्ति है। हालाँकि, निष्पादक को प्रोबेट देने से उसे संपत्ति पर कोई अधिकार नहीं मिलता है।

प्रशासन के प्रमाणपत्र से आप क्या समझते हैं

यह सक्षम न्यायालय द्वारा एक प्रशासक को दिया गया एक प्रमाण पत्र है जहां एक वसीयत मौजूद होती है जो उसे वसीयत के अनुसार मृतक की संपत्ति का प्रबंधन करने के लिए अधिकृत (ऑथराइज) करती है। यदि वसीयत में किसी निष्पादक का नाम नहीं है, तो संपत्ति के लिए प्रशासन पत्र देने के लिए अदालत में एक आवेदन दायर किया जा सकता है।

वसीयतें कैसे सत्यापित की जाती हैं

सत्यापन का अर्थ है निष्पादकों के हस्ताक्षर की गवाही देने के उद्देश्य से किसी दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर करना। इसलिए निष्पादकों द्वारा वसीयत पर अपना निशान लगाने से पहले हस्ताक्षर करने वाले गवाह को वैध सत्यापन नहीं कहा जा सकता है। यह आवश्यक है कि दोनों गवाहों को वसीयतकर्ता की उपस्थिति में हस्ताक्षर करना होगा लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि वसीयतकर्ता को उनकी उपस्थिति में हस्ताक्षर करना होगा। यह भी आवश्यक नहीं है कि प्रमाणित करने वाले गवाहों को वसीयत की सामग्री पता हो।

हिंदू और मुस्लिम कानूनों के बीच अंतर:

            हिंदू कानून             मुस्लिम कानून
1) हिंदू कानून के तहत बहुविवाह की प्रथा को समाप्त कर दिया गया है। 1) मुस्लिम कानून के तहत बहुविवाह की प्रथा कानून के तहत मौजूद है।
2) दत्तक ग्रहण हिंदू कानून के तहत है। 2) दत्तक ग्रहण मुस्लिम कानून के तहत नहीं है।
3) हिंदू कानून एक संहिताबद्ध कानून है। 3) मुस्लिम कानून कोई संहिताबद्ध कानून नहीं है।
4) हिंदू कानून के तहत अलग और पैतृक संपत्ति की अवधारणा है। 4) मुस्लिम कानून के तहत केवल संयुक्त और एकल संपत्ति की अवधारणा है।
5) हिंदू कानून हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, 1956 द्वारा शासित होता है। 5) मुस्लिम कानून 1937 के मुस्लिम शरीयत कानून अधिनियम द्वारा शासित होता है।

निष्कर्ष

व्यक्तिगत कानून, जैसा कि हम जानते हैं, वे कानून हैं जो हर धर्म के हिसाब से अलग-अलग होते हैं लेकिन जब हम उनका अध्ययन करते हैं तो हमें पता चलता है कि सभी कानून लगभग एक-दूसरे के समान हैं, बस यह प्रथा है जिसका लंबे समय से पालन किया जा रहा है। हर धर्म के व्यक्तिगत कानून दूसरों से थोड़े अलग होते हैं लेकिन ज्यादातर एक जैसे ही होते हैं लेकिन अपने-अपने तरीके और नीतियों से व्यवहार करते हैं। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है, जिसमें बहुत सारे धर्म और मान्यताएँ निहित हैं, मेरा व्यक्तिगत रूप से मानना ​​है कि इस देश के प्रत्येक नागरिक के लिए उनके धर्म की परवाह किए बिना समान कानून होने चाहिए, क्योंकि हम सभी पहले भारतीय हैं और भारत के संविधान के अनुच्छेद 44 के अनुसार देश में सभी नागरिकों के लिए एक समान नागरिक संहिता होनी चाहिए और सभी के पास एक ही कानून और नीति होनी चाहिए, सिवाय इसके कि इसे और जटिल न बनाया जाए जितना ये अभी है।

सन्दर्भ:

  • द हिंदू लॉ (बेयर एक्ट),
  • मुस्लिम कानून,
  • भारतीय उत्तराधिकार अधिनियम,(बेयर एक्ट),
  • संरक्षकता और वार्ड अधिनियम, 1956 (निष्पक्ष कार्य)
  • हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम, (निष्पक्ष अधिनियम)
  • हिंदू विवाह अधिनियम (बेयर एक्ट)
  • हिंदू तलाक अधिनियम (बेयर एक्ट)

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here