सीपीसी का आदेश 41 नियम 27

0
4694
Civil Procedure Code

यह लेख कर्नाटक स्टेट लॉ यूनिवर्सिटी के लॉ स्कूल के कानून के छात्र Naveen Talawar द्वारा लिखा गया है। इस लेख में सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908 का आदेश 41 नियम 27 विस्तार से संबोधित किया गया है, जिसमें नियम 27 के दायरे और संबंधित प्रावधान, हाल ही के कानूनी मामले भी शामिल हैं। इस लेख का अनुवाद Shubhya Paliwal द्वारा किया गया है।

परिचय

वे कौन सी परिस्थितियाँ हैं जिनमें अपीलीय स्तर पर भी अतिरिक्त दस्तावेजों को साक्ष्य के रूप में स्वीकार किया जा सकता है? यह प्रक्रियात्मक कानून का एक महत्वपूर्ण पहलू है। सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908 (“सीपीसी”) के अनुसार अपीलीय अदालत के पास निम्नलिखित शक्तियाँ हैं: अंतिम निर्णय देना; मामले को वापस करना; मुद्दों को तैयार करना और उन्हें परीक्षण (ट्रायल) के लिए संदर्भित (रेफर) करना; अतिरिक्त साक्ष्य लेना या ऐसे साक्ष्य लेने का आदेश देना। इसलिए, अदालत के पास सीपीसी की धारा 107(1)(d) के तहत अपीलीय स्तर पर अतिरिक्त साक्ष्य लेने का अधिकार है।

सामान्य नियम यह है कि अपीलीय अदालत को निचली अदालत के रिकॉर्ड में प्रस्तुत साक्ष्य से परे (बियोंड) नहीं देखना चाहिए और वह अपील पर कोई अतिरिक्त साक्ष्य नहीं ले सकता। हालांकि, सीपीसी के आदेश 41 नियम 27 में एक अपवाद (एक्सेप्शन) है जो अपीलीय अदालत को विशेष परिस्थितियों में अतिरिक्त साक्ष्य लेने की अनुमति देता है। यदि इस नियम में उल्लिखित शर्तें पूरी होती हैं, तो अपीलीय अदालत अतिरिक्त साक्ष्य की अनुमति दे सकती है।

सीपीसी के आदेश 41 नियम 27 का दायरा

सीपीसी के आदेश 41 नियम 27 का दायरा बहुत स्पष्ट है, जैसा कि कर्नाटक बोर्ड ऑफ वक्फ बनाम भारत सरकार (2004) में देखा गया था, जिसमें कहा गया है कि अपील के पक्ष अतिरिक्त साक्ष्य  पेश करने के हकदार नहीं होंगे, चाहे मौखिक या दस्तावेजी, जब तक कि उन्होंने यह नहीं दिखाया है कि उचित परिश्रम के बावजूद, वे ऐसे दस्तावेज पेश करने में असमर्थ थे और ऐसे दस्तावेज अदालत को उचित निर्णय देने में सक्षम बनाने के लिए आवश्यक है।

अतिरिक्त साक्ष्य की स्वीकार्यता (एडमिसिबिलिटी) मौजूदा मुद्दे की प्रासंगिकता (रेलेवेंस) पर, या आवेदक के पास पहले चरण (स्टेज) में इस तरह के साक्ष्य पेश करने का अवसर था या नहीं इस तथ्य पर निर्भर नहीं है। सच्ची परीक्षा यह है कि क्या अपीलीय अदालत अतिरिक्त साक्ष्य पर विचार किए बिना ऐसे मुद्दे पर निर्णय दे सकती है, जो अतिरिक्त साक्ष्य को जोड़ने की मांग करता है। ऐसी स्थिति तभी होगी जब अदालत यह निर्धारित करे कि साक्ष्य में अंतर्निहित (इन्हेरेंट) कमी थी या इसकी वर्तमान स्थिति में इसकी समीक्षा (रिव्यू) करने के बाद कोई अन्य दोष था। इसलिए अपीलीय अदालत को केवल मौजूदा साक्ष्य में कमी को भरने के लिए अतिरिक्त साक्ष्य स्वीकार करने की अनुमति है।

यदि पेश किए जाने के लिए मांगा गया अतिरिक्त साक्ष्य मामले के बारे में किसी भी शेष प्रश्न को स्पष्ट करता है, वाद के केंद्रीय विवाद पर प्रत्यक्ष (डायरेक्ट) और महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है, और स्पष्ट रूप से न्याय के हित में इसे रिकॉर्ड करने की आवश्यकता है, तो आवेदन मंजूर किया जा सकता है।

अपीलीय अदालत सीपीसी के आदेश 41 नियम 27 के तहत अपीलीय स्तर पर नए साक्ष्य को स्वीकार करने की हकदार नहीं है, जहां वह ऐसे साक्ष्य के बिना भी निर्णय दे सकती है। यह अपीलीय अदालत को केवल एक विशेष निर्णय देने के उद्देश्य से नए साक्ष्य को स्वीकार करने का अधिकार नहीं देता है। आम तौर पर, अपीलीय अदालत को अपील के एक नए बिंदु को उठाने के लिए एक पक्ष के लिए नए साक्ष्य पेश करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए। इसी तरह, यदि कोई पक्ष जो किसी विशेष बिंदु को साबित करने का भार वहन करता है, बोझ का निर्वहन (डिस्चार्ज) करने में विफल रहता है, तो वह साक्ष्य पेश करने के लिए नए अवसर का हकदार नहीं है क्योंकि अदालत ऐसे मामले में उसके खिलाफ फैसला सुना सकती है और इसके लिए किसी भी तरह के अतिरिक्त साक्ष्य की आवश्यकता नहीं होती है। यह प्रावधान तब लागू नहीं होता जब अपीलीय अदालत रिकॉर्ड पर मौजूद साक्ष्य के आधार पर संतोषजनक निर्णय दे सकती है।

सिद्धांत

अतिरिक्त साक्ष्य को स्वीकार करने का मूल सिद्धांत यह है कि अनुरोध करने वाले पक्ष को यह साबित करने में सक्षम होना चाहिए कि, अपने सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, वे प्रारंभिक कार्यवाही में अतिरिक्त साक्ष्य पेश करने में असमर्थ रहे। दूसरा, अतिरिक्त साक्ष्य के प्रवेश से प्रभावित पक्ष को इसका खंडन करने का अवसर दिया जाना चाहिए। तीसरा, अतिरिक्त साक्ष्य वर्तमान मुद्दे के लिए प्रासंगिक होना चाहिए।

शर्तें 

1908 के सिविल प्रक्रिया संहिता के आदेश 41 नियम 27 में उन शर्तों को निर्दिष्ट (स्पेसिफाई) किया गया है जिसके तहत अदालत अपील के पक्ष को अपीलीय स्तर पर साक्ष्य पेश करने की अनुमति दे सकती है।

ये शर्तें निम्नलिखित हैं:

  1. यदि डिक्री प्रदान करने वाले विचारणीय अदालत ने साक्ष्य को स्वीकार करने से इनकार कर दिया, जिसे स्वीकार किया जाना चाहिए था, या;
  2. यदि अपीलकर्ता यह साबित करने में सफल होता है कि प्रश्नगत साक्ष्य की उसे जानकारी नहीं थी, या;
  3. यदि अपील करने वाला पक्ष यह साबित करने में सक्षम होता है कि अपने सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, जब विचारणीय अदालत ने अपील की जा रही डिक्री जारी की तो वह साक्ष्य पेश करने में असमर्थ था;
  4. यदि एक अपीलीय अदालत को किसी निर्णय पर पहुंचने के लिए दस्तावेज़ पेश करने या गवाह से पूछताछ करने की आवश्यकता होती है, या;
  5. यदि अपीलीय अदालत किसी अन्य महत्वपूर्ण कारण के लिए किसी भी दस्तावेज की प्रस्तुती या किसी भी गवाह की जिरह (क्रॉस एग्जामिनेशन) का अनुरोध करती है।

नियम 27 के प्रावधान

भारत संघ बनाम के. वी. लक्ष्मण (2016), के मामले में यह कहा गया था कि संहिता का आदेश 41 नियम 27 एक ऐसा प्रावधान है जो पक्ष को प्रथम और द्वितीय अपीलीय चरणों में अतिरिक्त साक्ष्य दाखिल करने में सक्षम बनाता है। अदालत द्वारा पक्ष को इस तरह के अतिरिक्त साक्ष्य दाखिल करने की अनुमति तभी देनी चाहिए, यदि अपील करने वाला पक्ष अपीलीय अदालत को मनाने में सक्षम है कि परीक्षण चरण में इस तरह के साक्ष्य  जमा न करने का एक वैध कारण था और यह कि अतिरिक्त साक्ष्य प्रासंगिक है और अधिकार तय करने के लिए महत्वपूर्ण है जो पक्ष की लिस (वाद) का विषय हैं। आखिरकार, अदालत को पक्षों को पर्याप्त न्याय प्रदान करना है। तथ्य यह है कि अदालत ने एक पक्ष को एक अपील में अतिरिक्त साक्ष्य प्रस्तुत करने की अनुमति दी है, इसका स्वतः (ऑटोमैटिकली) यह अर्थ नहीं है कि अदालत ने उसके पक्ष में मामले का फैसला किया है और उस साक्ष्य को स्वीकार कर लिया है। वास्तव में, जब एक बार अतिरिक्त साक्ष्य को रिकॉर्ड में शामिल करने की अनुमति दी गई हो तो अपीलीय अदालत द्वारा विरोधी पक्ष को खंडन के रूप में अतिरिक्त साक्ष्य दर्ज करने का मौका देना चाहिए।

निचली अदालत ने साक्ष्य मानने से इनकार कर दिया

आदेश 41 के नियम 27, खंड (1)(a) के अनुसार, अपीलीय अदालत को यह निर्धारित करना चाहिए कि क्या विचारणीय न्यायाधीश ने गलत तरीके से प्रतिवादी के साक्ष्य दर्ज करने के अनुरोध को खारिज कर दिया और परिणामस्वरूप, क्या यह अतिरिक्त साक्ष्य की रिकॉर्डिंग का आदेश देने के लिए अपीलीय अदालत के लिए उपयुक्त था।

के. वेंकटरमैया बनाम सीताराम रेड्डी (1963) में यह देखा गया था कि नियम 27 के तहत अतिरिक्त साक्ष्य को स्वीकार करने का अवसर केवल अपील की सुनवाई शुरू होने के बाद और मौजूदा साक्ष्य की समीक्षा के बाद होता है जब कुछ अंतर्निहित मुद्दे या दोष स्पष्ट हो जाते हैं। इस तरह के साक्ष्य को केवल तभी स्वीकार किया जा सकता है जब अपीलीय अदालत को इसकी आवश्यकता हो। अदालत को अधिक संतोषजनक निर्णय जारी करने की आवश्यकता हो सकती है।

सर्वोच्च न्यायालय ने शिवाजीराव पाटिल बनाम महेश माधव (1986) में कहा गया कि अतिरिक्त साक्ष्य को स्वीकार करने का मूल सिद्धांत यह है कि अनुरोध करने वाला पक्ष यह साबित करने में सक्षम होना चाहिए कि, उनके सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, वे प्रारंभिक कार्यवाही में अतिरिक्त साक्ष्य पेश करने में असमर्थ रहे। दूसरा, अतिरिक्त साक्ष्य के प्रवेश से प्रभावित पक्ष को इसका खंडन करने का अवसर दिया जाना चाहिए। तीसरा, अतिरिक्त साक्ष्य वर्तमान मुद्दे के लिए प्रासंगिक होना चाहिए।

उचित परिश्रम का अभ्यास

कर्नाटक राज्य बनाम केसी सुब्रह्मण्य (2013) में यह देखा गया था कि एक पक्षकार आदेश 41, नियम 27(1)(aa) के तहत अतिरिक्त साक्ष्य  पेश करने की स्वतंत्रता की मांग कर सकता है, अगर प्रस्तुत किए जाने वाले साक्ष्य को नियत अवधि के अभ्यास के बावजूद परीक्षण चरण में प्रस्तुत नहीं किया जा सका और साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया जा सका क्योंकि यह उसकी जानकारी में नहीं था और इसलिए वह साक्ष्य अपीलकर्ता द्वारा अपीलीय मंच के समक्ष प्रस्तुत किए जाने के योग्य है।

प्रयोग किया जाने वाला विवेक प्रावधानों द्वारा सीमित है

आदेश 41 नियम 27(1)(b) सीपीसी के तहत, अपीलीय अदालत की शक्ति नियम की वास्तविक भाषा में निर्धारित प्रतिबंधों द्वारा सीमित है। निर्णय जारी करने में सक्षम होने के लिए, अदालत को निश्चित रूप से यह निर्धारित करना चाहिए कि दस्तावेज़ों को अतिरिक्त साक्ष्य के रूप में स्वीकार करना वास्तव में आवश्यक है।

नगर निगम, ग्रेटर बॉम्बे बनाम लाला पंचम (1964) में यह कहा गया था कि नियम 27 के खंड (b) के तहत शक्ति का उपयोग रिकॉर्ड में पहले से मौजूद साक्ष्य के पूरक के लिए नहीं किया जा सकता है जब तक कि प्रावधान में सूचीबद्ध आधारों में से एक पूरा नहीं होता है। यदि रिकॉर्ड में दस्तावेज़ धोखाधड़ी के प्रश्न के लिए प्रासंगिक हैं, तो अदालत उन पर विचार करने और निर्णय लेने के लिए आगे बढ़ सकती है।

अपीलीय अदालत का अतिरिक्त साक्ष्य प्राप्त करने और स्वीकार करने का विवेक मनमाना नहीं है, लेकिन सीपीसी के आदेश 41 नियम 27 में निर्दिष्ट सीमाओं द्वारा न्यायिक रूप से सीमित है। यदि अतिरिक्त साक्ष्य को ऐसे साक्ष्य के प्रवेश को नियंत्रित करने वाले नियमों के विरुद्ध स्वीकार किया जाता है, तो यह विवेक का अनुचित उपयोग होगा, और अतिरिक्त साक्ष्य की अवहेलना करनी होगी और इसके बिना मामले का फैसला करना होगा। आदेश 41 नियम 27 में कहा गया है कि अपीलीय अदालत को निर्णय देने के लिए साक्ष्य का अनुरोध करना चाहिए।

नाथ सिंह बनाम वित्तीय आयुक्त, कराधान, पंजाब (1976), यह फैसला सुनाया गया कि अपीलीय अदालत की अतिरिक्त साक्ष्यों पर विचार किए बिना पहले से ही हाथ में रखे साक्ष्यों पर ही निर्णय देने की क्षमता अतिरिक्त साक्ष्य के लिए आवेदनों को संभालते समय उपयोग किए जाने वाले सही मानक हैं।

अतिरिक्त साक्ष्य के प्रवेश के लिए कारणों की रिकॉर्डिंग

अतिरिक्त साक्ष्य के प्रवेश के कारण को रिकॉर्ड करने के लिए एक अपीलीय अदालत की आवश्यकता वाले प्रावधान को सलाह के रूप में वर्णित किया गया है और अनिवार्य नहीं है। नियम 27(2) का उद्देश्य स्पष्ट रूप से इस बात का स्पष्ट रिकॉर्ड रखना है कि अतिरिक्त साक्ष्य पेश करने की अनुमति देने में अपीलीय अदालत द्वारा क्या तौला गया था, क्या यह इस आधार पर किया गया था,

  1. कि जिस अदालत से अपील की गई थी उसने उन साक्ष्यों को खारिज कर दिया था जिन्हें स्वीकार किया जाना चाहिए था,
  2. कि इसने साक्ष्य को अनुमति दी थी क्योंकि उसे अपील पर निर्णय देने के लिए इसकी आवश्यकता थी, या
  3. कि इसने इसे किसी अन्य महत्वपूर्ण कारण के लिए अनुमति दी थी।

कारणों की रिकॉर्डिंग आवश्यक है और आगे की अपील के अदालत के लिए यह निर्धारित करने में मददगार है कि जब अपीलीय अदालत के फैसले के बाद अपील हुई तो क्या अपीलीय अदालत का निर्णय कानून के अनुसार किया गया था। इसलिए, कारण दर्ज करने में विफलता को एक गंभीर दोष के रूप में मानना ​​आवश्यक है। फिर भी, खंड वैकल्पिक है, और अतिरिक्त साक्ष्य को स्वीकार करने के अपने फैसले के पीछे के तर्क को ध्यान में रखने में उच्च अदालत की विफलता इस प्रवेश को अमान्य नहीं करती है।

जब अतिरिक्त साक्ष्य के लिए आवेदन की अनुमति नहीं दी जा सकती है

निम्नलिखित परिस्थितियों में, अतिरिक्त साक्ष्य के लिए आवेदन की अनुमति नहीं है:

  1. यदि वादी को अपील में एक नया मामला स्थापित करने में मदद करने के लिए अधिक साक्ष्य पेश करने की अनुमति दी गई, तो कानूनी विवाद का कोई अंत नहीं होगा। इसके बजाय, पक्षकारों को नए दावे स्थापित करने का अवसर देने या अतिरिक्त साक्ष्य मांगकर मौजूदा दावों को मजबूत करने के लिए मामलों को वापस नहीं भेजा जाना चाहिए।
  2. अतिरिक्त साक्ष्य की अनुमति नहीं है जब ऐसा करने के लिए कोई बाध्यकारी (कॉम्पेलिंग) कारण नहीं है और सुनवाई समाप्त होने तक सर्वोच्च अदालत सहित किसी भी अदालत में कोई साक्ष्य पेश करने का कोई प्रयास नहीं किया जाता है।
  3. अंतराल को भरने या मामले में कमजोर क्षेत्रों को बहाल करने के लिए नए साक्ष्य  पेश करना स्वीकार्य नहीं है।
  4. एक नया मामला पेश करने और अतिरिक्त साक्ष्य जोड़ने के लिखित बयान में संशोधन की अपील से इनकार किया जाएगा।
  5. उचित परिश्रम के बावजूद, दस्तावेज़ पक्ष के नियंत्रण से बाहर थे और उन्हें अनुमति नहीं दी जानी चाहिए थी क्योंकि आवेदन में अपीलकर्ता की आपत्ति नहीं बताई गई थी।

हाल के कानूनी मामले

श्री गोपाल कृष्ण पंडा बनाम प्रबंधक (2019), अपील की सुनवाई से पहले अतिरिक्त साक्ष्य  स्वीकार करने के लिए आदेश 41 नियम 27 सीपीसी के तहत दायर आवेदन पर अपीलीय अदालत विचार कर सकती है या नहीं, इस मुद्दे पर विचार किया गया था। अदालत ने शंकर प्रधान बनाम प्रेमानंद प्रधान (मृत) और अन्य, (2015), का हवाला दिया जिसमें यह कहा गया था कि नियम 27 के खंड (1) (b) के तहत, अतिरिक्त साक्ष्य केवल तभी स्वीकार किए जा सकते हैं, जहां अपीलीय अदालत इसकी “आवश्यकता” है (यानी, इसे आवश्यक पाती है) ).

अदालत ने कहा कि अपील पर सुनवाई के समय अतिरिक्त साक्ष्य के लिए आवेदन पर विचार किया जा सकता है। अदालत को अनुरोध करना चाहिए, भले ही यह अदालत के लिए निर्णय जारी करने में सक्षम हो या किसी अन्य महत्वपूर्ण कारण के लिए आवश्यक हो। जहां कहीं भी अदालत इस प्रक्रिया का पालन करता है, नियम 27(2) के लिए आवश्यक है कि वह अपने तर्कों को रिकॉर्ड करे।

संजय कुमार सिंह बनाम झारखंड राज्य (2022) में, यह देखा गया कि जहां अतिरिक्त साक्ष्य जोड़े जाने से मामले पर लटके हुए प्रश्न चिह्न को हटाया जा सकता है, साक्ष्य का वाद के मुख्य मुद्दे पर सीधा और महत्वपूर्ण असर पड़ता है, और रिकॉर्ड में इसका प्रवेश न्याय के हित में स्पष्ट रूप से आवश्यक है, तो ऐसा आवेदन दिया जा सकता है। क्या अपीलीय अदालत को निर्णय जारी करने के लिए या समान प्रकृति के किसी अन्य महत्वपूर्ण कारण के लिए अतिरिक्त साक्ष्य की आवश्यकता है, यह उन परिस्थितियों में से एक है जिसमें अपीलीय अदालत द्वारा अतिरिक्त साक्ष्य की प्रस्तुती को सीपीसी के आदेश 41 नियम 27 के तहत ध्यान में रखा जाना है। 

निष्कर्ष

एक सामान्य नियम के रूप में, अपीलीय अदालत को अपील तय करने के लिए अतिरिक्त साक्ष्य स्वीकार नहीं करना चाहिए, और पक्षकारों को अपीलीय अदालत में मौखिक या दस्तावेजी अतिरिक्त साक्ष्य पेश करने की अनुमति नहीं है। सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908, हालांकि, सीपीसी के आदेश 41 नियम 27 के तहत, एक अपीलीय अदालत को कुछ शर्तों के अधीन अतिरिक्त साक्ष्य लेने का अधिकार देता है; एक फोर्टियोरी, शक्ति विवेकाधीन है और ध्वनि न्यायिक सिद्धांतों पर इसका प्रयोग किया जाना चाहिए।

संदर्भ 

  • 2, Dinshaw Fardunji Mulla, Code of Civil Procedure (Lexisnexis, 2017).
  • Sarkar’s Commentary On The Code Of Civil Procedure, 1908 (7th Edition, 2020).

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here