भारत के असंगठित क्षेत्र में अनुबंध का कानून और उसका कार्यान्वयन

0
421

यह लेख लॉसिखो से एडवांस्ड कॉन्ट्रैक्ट ड्राफ्टिंग, नेगोशिएशन एंड डिस्प्यूट रेजोल्यूशन में डिप्लोमा करने वाली Pratha Kotecha द्वारा लिखा गया है। इस ब्लॉग पोस्ट मे असंगठित क्षेत्र (अनर्ऑर्गनाइज्ड सेक्टर), इसकी परिभाषा और उनसे जुडी विशेषताओं और श्रम मजदूरों की चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Chitrangda Sharma के द्वारा किया गया है।

परिचय

भारत का असंगठित क्षेत्र का कार्यबल, कोविड-19 की शुरुआत से पहले अर्थव्यवस्था की व्यापक प्रगति को आगे बढ़ाने में सबसे आगे रहा है। हालाँकि, बेहतर आर्थिक समृद्धि के बावजूद; शोषण, गरीबी और साधारण जरूरतों की कमी अभी भी पारंपरिक हैं। इस लेख का उद्देश्य अप्रत्यक्ष लचीले रोजगार अनुबंध, भारत में लागू श्रम अनुबंध के कानूनों, विशेष रूप से अनुबंध श्रम (विनियमन और उन्मूलन) अधिनियम, 1970 के संबंध में प्रावधानों, इन कानूनों को लागू करने में आने वाली समस्याओं और अनुशंसित समाधानों पर विचार-विमर्श करना है।

असंगठित क्षेत्र क्या हैं?

उद्योगों में परिचालन और कामकाजी बल को तुलनात्मक रूप से कमजोर वर्ग के रूप में मापा जाता है। लेकिन अर्थव्यवस्था की प्रगति ने श्रम के लिए दोहरी विरोधी माँगों को जन्म दिया है। सबसे पहले, ऐसा प्रतीत होता है कि संगठित श्रम बहुत मजबूती से विकसित हुआ है और उदारीकरण (लिबरलाइजेशन) की प्रगति में बाधा बन रहा है। इस कदम से औद्योगिक विवाद अधिनियम, कारखाना अधिनियम, व्यवसाय संघ अधिनियम या मौजूदा नीति के तरीके जैसे श्रम कानूनों में संशोधन के माध्यम से श्रम पर लगाम लगाई गई है। 

दूसरा, ब्लू-कॉलर श्रम शक्ति को एक कमजोर और शोषित समूह के रूप में माना जाता है और ऐसी संगठित श्रम बल की सुरक्षा के लिए कई मांगें की गई हैं, उदाहरण के लिए, बाल श्रम, कपड़ा श्रमिक, निर्माण श्रमिक और कृषि श्रमिक जैसी शक्तियां आदि। यह अस्वाभाविक स्थिति श्रम के दो श्रेणियों में विभाजन के कारण उत्पन्न हुई है;

  1. संगठित श्रम: कानून द्वारा दृढ़ता से संरक्षित और इसकी अपनी स्वर्णिम (औरीफेरोस) व्यापार संघ हैं
  2. असंगठित श्रमिक: असुरक्षित और, अक्सर नहीं, अर्थव्यवस्था में उदारीकरण (लिबरलाइजेशन) से पहले शोषण किया गया।

असंगठित क्षेत्र की परिभाषा

“असंगठित क्षेत्र” शब्द की कोई वैज्ञानिक परिभाषा नहीं है और न ही कोई उचित परिभाषा देने का कोई वास्तविक प्रयास किया गया है। असंगठित क्षेत्र को अनौपचारिक क्षेत्र भी कहा जाता है।

इसकी परिभाषा इस प्रकार है: “श्रमिकों का समूह, जिन्हें परिभाषा द्वारा परिभाषित नहीं किया जा सकता है, लेकिन उन्हें उन लोगों के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो बाधाओं के कारण एक सामान्य उद्देश्य की प्राप्ति के लिए संगठित नहीं हो पाए हैं।”

श्रम पर राष्ट्रीय आयोग ने नीचे उल्लिखित असंगठित श्रम के प्रकारों को ऊपर उल्लिखित विशेषता के साथ दर्ज किया और मान्यता दी।

  1. निर्माण श्रमिकों सहित ठेका श्रमिक।
  2. लघु उद्योगों में श्रमिकों को नियोजित किया जाता है।
  3. दुकानों और प्रतिष्ठानों में कर्मचारी।
  4. बाल श्रमिक
  5. कृषि एवं ग्रामीण श्रमिक
  6. अनौपचारिक श्रमिक
  7. बंधुआ मजदूर
  8. महिला श्रमिक
  9. हथकरघा (हैंडलूम) और पावरलूम श्रमिक
  10. बीड़ी और सिगार श्रमिक
  11. सफ़ाईकर्मी और मैला ढोने वाले
  12. चर्मशोधन कारखानों (टैनरीज) में श्रमिक
  13. आदिवासी श्रम

ऊपर उल्लिखित समूह को कम विशेषाधिकार प्राप्त हैं, और इनकी सामाजिक-आर्थिक आवश्यकताओं पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

असंगठित श्रमिकों की प्रमुख विशेषताएँ

असंगठित श्रमिकों की प्रमुख विशेषताएँ हैं:

  • असंगठित श्रमिक अपनी संख्या की दृष्टि से अत्यधिक शक्तिशाली है और इसलिए, यह हमारे देश भर में सर्वव्यापी है।
  • कोई आधिकारिक नियोक्ता-कर्मचारी संबंध नहीं है। उदाहरण के लिए, छोटे और सीमांत किसान, बटाईदार (शेयरक्रूपर) और खेतिहर मजदूर मामूली अनुकूल स्थिति में एक साथ काम करते हैं।
  • कार्यस्थल फैला हुआ है और टुकड़ों में बंटा हुआ है।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में असंगठित श्रमिक शक्ति जाति और सामुदायिक विचारों से अत्यधिक संतुष्ट है। शहरी क्षेत्रों में, ऐसे विचार कम हैं, भले ही पूरी तरह से अनुपस्थित नहीं हैं, क्योंकि शहरी क्षेत्रों में अधिकांश असंगठित श्रमिक मूलतः ग्रामीण क्षेत्रों से ही हैं।
  • असंगठित श्रमिक व्यापार संघ की ओर से ध्यान न दिए जाने से पीड़ित हैं और इस कारण वे नुकसानदेह स्थिति में हैं।

अनुबंध मजदूर क्या हैं?

वे श्रमिक जो अल्पावधि के लिए कुछ श्रम या कार्य करने के लिए अनुबंध या समझौते के माध्यम से नियोजित होते हैं। भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 एक “अनुबंध” को अदालत में लागू करने योग्य समझौते के रूप में परिभाषित करता है। एक वैध अनुबंध बनाने के लिए, आवश्यक रूप से आपसी दायित्व, विचार-विमर्श, अनुबंध करने वाले पक्षों की स्वतंत्र सहमति और अनुबंध में प्रवेश करने की योग्यता होनी चाहिए। अनुबंध ‘किराए पर लेने के अनुबंध’ के रूप में हो सकता है, जिसमें यह नियोक्ता और कर्मचारी के बीच एक निश्चित अवधि के लिए हो सकता है, या यह अप्रत्यक्ष लचीले रोजगार के लिए हो सकता है जैसा कि नियोक्ता, कर्मचारी और तीसरे पक्ष के प्रतिनिधि (एजेंट) और ठेकेदार के बीच देखा जाता है। 

हमारे देश में कई पक्षों से जुड़े रोजगार संबंधों को आमतौर पर “अनुबंध श्रम” के रूप में उल्लेख किया जाता है। इसे उन श्रमिकों के रूप में समझा जाता है जिन्हें किसी ठेकेदार के माध्यम से काम पर रखा गया है। यहां “ठेकेदार” शब्द में वे दोनों शामिल हैं जिन्होंने किसी संस्थान के लिए श्रमिकों की आपूर्ति करने का कार्य किया है और जिन्होंने कुछ अनुबंध श्रमिकों की मदद से किसी संस्थान में कोई काम किया है। भारत में अनुबंध श्रम से संबंधित कानूनों को अनुबंध श्रम (विनियमन और उन्मूलन) अधिनियम, 1970 द्वारा विनियमित किया जाता है, जो अनुबंध श्रम के रोजगार को मानकीकृत करता है, जिसमें न्यूनतम मजदूरी, अधिक समय तक (ओवरटाइम) और सामाजिक सुरक्षा के संबंध में सुरक्षा के प्रावधान शामिल हैं, लेकिन इन्हीं तक सीमित नहीं हैं। यह अधिनियम स्पष्ट रूप से “मुख्य गतिविधियों” में अनुबंध श्रम के उपयोग पर प्रतिबंध लगाता है जो एक सतत प्रकृति की हैं।

आम तौर पर, सफेदपोश श्रमिकों के लिए, अनुबंध के लिए एक अवधि तय की जाती है, और मैन्युअल नौकरियों में लगे ब्लू-कॉलर श्रमिकों के लिए एक अप्रत्यक्ष और लचीले रोजगार अनुबंध का उपयोग किया जाता है, जो ज्यादातर असंगठित क्षेत्र में देखा जाता है।

भारत में श्रम अनुबंधों से संबंधित कानून

श्रम के विभिन्न पहलुओं को नियंत्रित करने वाले कई कानूनों में से, संविदात्मक श्रम कानून विभाग में निम्नलिखित महत्वपूर्ण कानून थे:

श्रम और रोजगार मंत्रालय ने व्यवसाय, सामाजिक सुरक्षा, मजदूरी और वेतन, औद्योगिक विवादों और ऐसे अन्य लागू श्रम/ रोजगार-संबंधी मामलों से संबंधित कई कानूनों को सुसंगत और समेकित करने की समझ के साथ वर्ष 2019 में 4 विधेयक पेश किए है।

असंगठित क्षेत्र में क्या समस्याएँ हैं?

संगठित क्षेत्र की तुलना में, असंगठित क्षेत्र ने संगठन के लाभ या सहायता का आनंद नही उठाया है। उनमें से अधिकांश अदृश्य शिकार बन जाते हैं। यद्यपि असंगठित क्षेत्र रोजगार के मामले में अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, फिर भी कार्यबल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा अभी भी उपेक्षित था।

कार्यबल की समस्याएँ

विशाल अनौपचारिक क्षेत्र के अधिकांश कार्यबल को कार्यस्थल के खतरों के बारे में बहुत कम या कोई जानकारी नहीं है, उनका निवास स्थान कार्य क्षेत्रों के करीब है, वे लंबे समय तक काम करते हैं, शोषण उनके लिए कोई नई बात नहीं है, उनके पास व्यावसायिक सुरक्षा और सेवाओं की कोई धारणा नहीं है, स्वास्थ्य और सुरक्षा कानून के वास्तविक कार्यान्वयन की कमी है, और व्यापार संघ की भी कोई अवधारणा नहीं है।

महिला वर्ग एवं बीड़ी श्रमिकों की समस्याएँ

उन्हें बेहद खराब और कम वेतन दिया जाता है, वे धोखेबाज ठेकेदारों के कारण पीड़ित होती हैं, वे बीमारी पैदा करने वाले वातावरण में काम करती हैं, बाल श्रम करती हैं, और आधे से अधिक महिला कार्यबल दयनीय सामाजिक परिस्थितियों में काम करती हैं।

सरकार के समक्ष समस्याएँ

असंगठित कार्यबल क्षेत्र की पहचान करना जो अशिक्षित हैं और संगठित क्षेत्र के मुनाफे, क्षेत्र की सीमित प्रकृति और नजर रखने की कठिनाई से अनभिज्ञ हैं, समस्याग्रस्त नियोक्ता किसी भी प्रकार के विनियमन से बचते हैं।

संगठित क्षेत्र द्वारा सामना की जाने वाली समस्याएँ

अनुचित और पूर्वाग्रहपूर्ण प्रतिस्पर्धा, रोजगार के अवसरों की कम संख्या, कानूनी “धमकाने”, बेहतर प्रबंधन और स्पष्ट रूप से स्वच्छ खुदरा भंडार (रिटेल स्टोर) के लिए खरीदारों और ग्राहकों की प्राथमिकता, आसानी से प्रतिस्पर्धा करने के लिए असंगठित क्षेत्र के लिए वित्तीय सहायता की अनुपलब्धता हैं।

अनुबंधत्मक कानूनों को लागू करने में किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है?

अनुबंध श्रम (विनियमन और उन्मूलन) केंद्रीय नियम, 1971 के अध्याय III नियम 25(2)(v)(a) में कहा गया है कि जहां एक श्रमिक को एक ठेकेदार द्वारा नियोजित किया जाता है जो उसी तरह का काम करता है जैसा एक श्रमिक करता है, और प्रधान नियोक्ता द्वारा सीधे नियोजित किया गया है, तो, ऐसे मामले में, कर्मचारी काम के वही घंटे, वेतन दर, छुट्टियां और सेवा की ऐसी अन्य शर्तें प्राप्त करने का हकदार होगा जैसा कि मुख्य नियोक्ता द्वारा नियोजित कर्मचारी को मिलता है। हालाँकि, नियोक्ता के कर्तव्यों के एक साथ निष्पादन को सुनिश्चित करने वाले पर्याप्त प्रावधानों की कमी के कारण यह प्रावधान अभी तक लागू नहीं किया गया है। यह अधिनियम उन नियोक्ताओं तक भी सीमित है जो कम से कम 20 या अधिक श्रमिकों को नियोजित करते हैं या जहां आवंटित कार्य 120 दिनों के आकस्मिक कार्य से कम है या 60 दिनों के मौसमी कार्य से कम है।  इसके साथ ही, अधिनियम कुल मिलाकर 20 से कम श्रमिकों पर निस्र्त्तर (साइलेंस) है।

अधिनियम की धारा 10(2)(b) ऐसी स्थिति में अनुबंध श्रम के उन्मूलन का प्रावधान करती है जहां काम बारहमासी या स्थायी प्रकृति का है। यह प्रावधान अनुबंध की समाप्ति के बाद श्रमिकों को हटाने की परिकल्पना करता है, लेकिन वास्तविक कार्यान्वयन के मामले में, श्रमिकों को विस्तारित अवधि के लिए नियोजित किया जाता है और प्रवर्तन अधिकारी अनुबंध श्रमिकों के उपयोग को प्रतिबंधित करने में सक्षम नहीं होते हैं, भले ही यह लागू कानून के अनुरूप नहीं है।

‘समान काम के लिए समान वेतन’ का प्रावधान केवल कागजों पर है और कार्यान्वयन का अभाव है, क्योंकि अधिकांश नियोक्ता अनुभवी लोगों के लिए अधिक भुगतान करते हैं, और ताकत, लिंग आदि के बारे में पूर्वाग्रह हैं।

नए श्रम संहिता में एक “इंस्पेक्टर-कम-फैसिलिटेटर” की भूमिका पर ध्यान केंद्रित किया गया है, जिसे उस अनुपालन को प्राप्त करने में व्यवसायों को सुविधा प्रदान करने के साथ-साथ अनुपालन की जांच करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। बहरहाल, इंस्पेक्टर-कम-फैसिलिटेटर की इस धारणा ने उद्योग को इसके कार्यान्वयन के उत्तर प्रदान करने के बजाय अतिरिक्त प्रश्नों के साथ भ्रमित कर दिया है। “सुविधाकर्ता” की भूमिका एक नया तत्व प्रतीत होती है जो एक “निरीक्षक” की पारंपरिक जिम्मेदारियों से जुड़ी हो सकती है। इस नई व्यवस्था के तहत कुछ खास तरह के “इंस्पेक्टर राज” की अनुचितता के फिर से प्रकट होने जैसी स्थिति हो सकती है।

महामारी-विशिष्ट स्थितियों में नियोक्ताओं के दायित्वों का कार्यान्वयन अस्पष्ट है और भारत में विभिन्न क्षेत्रों के लिए अलग-अलग है।

अनुबंध संबंधी समस्याओं का समाधान

असंगठित क्षेत्र को लाभ और कल्याण प्रदान किया जाना चाहिए जैसे मातृत्व भत्ता, दुर्घटनाओं के मामलों में राहत, प्राकृतिक मृत्यु मुआवजा, और उच्च अध्ययन के लिए बच्चों की शिक्षा सहायता, संबंधित क्षेत्रों के लिए बरसात के मौसम में पेंशन आदि। इसे असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए भी बनाया जाना चाहिए और इसका कार्यान्वयन ठीक से किया जाना चाहिए। दोनों स्तरों पर सरकार को असंगठित श्रमिकों को उनकी वास्तविक जरूरतों को पूरा करने में सहायता करने के लिए कुछ विशिष्ट योजनाएं बनानी चाहिए। सरकार को असंगठित मजदूरों को भी अपनी स्थिति पंजीकृत करने के लिए प्रोत्साहित और प्रेरित करना चाहिए, क्योंकि श्रमिकों के स्वैच्छिक पंजीकरण से वास्तविक लाभार्थियों की पहचान में मदद मिलती है।

असंगठित क्षेत्र तक सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ पहुंचाने में न्यायपालिका की भूमिका

हमारे देश की न्यायपालिका असंगठित क्षेत्र के अधिकारों की सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, खासकर कानून के उचित कार्यान्वयन की विफलता की स्थिति में। इस कानून के अलावा, भारत का संविधान असंगठित श्रमिकों के मौलिक अधिकारों की भी रक्षा करता है। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 12 के अनुसार बंधुआ मजदूरों की पहचान की जानी चाहिए और मजदूरों के पुनर्वास को पूरा करने के लिए सरकार द्वारा प्रयास किए जाने की जरूरत है। राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांतों (डीपीएसपी) को बंधुआ मजदूरों को बुनियादी मानवीय गरिमा प्रदान करने के लिए दोनों स्तरों पर सरकारों के लिए दिशानिर्देश के रूप में अधिनियमित किया गया था और एक स्थिति में, यह पूरा नहीं हुआ है, क्योंकि इसका परिणाम संविधान के अनुच्छेद 21 का उल्लंघन होगा। 

डेली रेटेड कैजुअल लेबर बनाम यूनियन ऑफ इंडिया के मामले में अदालत ने माना कि न्यूनतम वेतन से कम भुगतान के उद्देश्य से कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों और कैजुअल कर्मचारियों में वर्गीकृत करना भारत के संविधान के अनुच्छेद 14 और अनुच्छेद 16 का उल्लंघन है और यह आर्थिक, सामाजिक और सांस्कृतिक अधिकारों की अंतर्राष्ट्रीय संधि, 1966 के अनुच्छेद 7 की भावना का भी विरोध करता है। न्यूनतम भुगतान से इनकार करना श्रम के शोषण के समान है। अदालत ने आगे कहा कि सरकार अपनी प्रमुख स्थिति का फायदा नहीं उठा सकती और उसे एक आदर्श नियोक्ता बनना चाहिए।

बंधुआ मुक्ति मोर्चा बनाम भारत संघ के मामले में उच्चतम न्यायालय ने अनुच्छेद 21 और अनुच्छेद 39, 41 और 42 जैसे निर्देशक सिद्धांतों के बीच एक सीधा संबंध विकसित किया है जो मानवीय गरिमा के साथ जीवन के लिए न्यूनतम आवश्यकताओं को शामिल करता है। यह मामला भी विशेष रूप से ऋण बांड प्रणाली के तहत अनौपचारिक जबरन श्रम से संबंधित है।

अनौपचारिक श्रमिकों के काम करने के अधिकार की रक्षा करने वाले एक अन्य फैसले में, सोदान सिंह बनाम नई दिल्ली नगरपालिका समिति में उच्चतम न्यायालय ने कहा कि स्ट्रीट वेंडिंग एक पेशा, व्यापार या व्यवसाय है (अनुच्छेद 19(1) (g)), और इसलिए यह एक नागरिक के अधिकार “किसी भी पेशे का अभ्यास करना, या कोई व्यवसाय, व्यापार या व्यवसाय करना” के तहत संरक्षित एक मौलिक अधिकार है।

निष्कर्ष

असंगठित क्षेत्र, जिसमें कृषि क्षेत्र, निर्माण, रेहड़ी-पटरी वाले, छोटे सेवा प्रदाता, घरेलू कामगार, बीड़ी उद्योग जैसे छोटे उद्योग आदि शामिल हैं, भारत में श्रमिकों का विशाल बहुमत शामिल है। असंगठित क्षेत्र में मजदूर किसी भी उचित लाभ से वंचित होकर विषम परिस्थितियों में काम करते हैं। इस असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के लिए सुरक्षा, सहायता और कल्याण सामाजिक-आर्थिक प्रगति के लिए आवश्यक है। हमारी सरकार द्वारा इन श्रमिकों की सुरक्षा के लिए बनाए गए कानूनों को समग्रता से लागू किया जाना चाहिए और हमारे देश में वास्तविक विकास और प्रगति लाने के लिए ऐसे श्रमिकों का शोषण करने वालों को सख्त सजा दी जानी चाहिए।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here