भारतीय व्यापार घाटा और इसके कारक

0
410

यह लेख वर्तमान में आईआईटी दिल्ली से एमबीए कर रहे T Girish Akhil द्वारा लिखा गया है। इस लेख में भारतीय व्यापार घाटे (ट्रेड डेफिसिट) पर चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Shreya Prakash के द्वारा किया गया है।

व्यापार का संक्षिप्त इतिहास

धन के आदान-प्रदान के लिए व्यक्तियों या संस्थाओं के बीच वस्तुओं और सेवाओं को स्थानांतरित (ट्रांसफर) करने की प्रक्रिया को व्यापार के रूप में जाना जाता है। प्राचीन काल में वस्तु विनिमय प्रणाली (बार्टर सिस्टम) प्रचलित थी जहाँ धन के उपयोग के बिना वस्तुओं और सेवाओं का आदान-प्रदान किया जाता था। बाद में, वस्तु विनिमय प्रणाली को मुद्रा के रूप में पहचाने जाने वाले सामान्य विनिमय (कॉमन एक्सचेंज) माध्यम के माध्यम से प्रतिस्थापित किया गया, जिसके परिणामस्वरूप व्यापार को बढ़ावा मिला। दुनिया के विभिन्न हिस्सों को जोड़ने वाले व्यापार मार्ग स्थापित किए गए और विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं का स्थानांतरण हुआ। इस प्रक्रिया में, वाणिज्य (कॉमर्स) ने धन को पूंजी में परिवर्तित किया, और बैंकिंग प्रणाली विकसित की जहां धन को सीमाओं के पार स्थानांतरित किया गया। जल्द ही, बाज़ार शहरी जीवन का हिस्सा बन गए और अधिकारियों द्वारा नियंत्रित किए जाने लगे।

आज, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार विकसित हो गया है जहाँ अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं और क्षेत्रों में वस्तुओं, सेवाओं और पूंजी का आदान-प्रदान होता है। विश्व व्यापार संगठन जैसे संगठन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापार की सुविधा और विकास के लिए बनाए गए हैं। अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की प्रमुख विशेषताएं निर्यात और आयात हैं क्योंकि वे उपभोक्ताओं और देशों को विभिन्न बाजारों और नए उत्पादों से परिचित कराते हैं जिससे वैश्वीकरण होता है।

भारतीय व्यापार

किसी देश का घरेलू उत्पादन उसके निर्यात और आयात पर निर्भर करता है। चूंकि भारत श्रम और भूमि से संपन्न था, इसलिए श्रम-प्रधान वस्तुओं के उत्पादन में यह बेहतर स्थिति में रहा क्योंकि उस समय पूंजी एक दुर्लभ कारक थी। 20वीं शताब्दी के पूर्वार्द्ध (फर्स्ट हाफ) के दौरान भारतीय विदेशी व्यापार को महत्व मिला क्योंकि तिलहन (ऑइलसीड), कपास (कॉटन), जूट और चाय जैसी फसलों का उत्पादन बढ़ने के साथ बड़े पैमाने पर निर्यात किया जाने लगा। स्वतंत्रता से पहले, भारत के निर्यात में मुख्य रूप से कच्चे माल और वृक्षारोपण फसलें शामिल थीं, जबकि आयात में मुख्य रूप से उपभोक्ता सामान और अन्य विनिर्मात (मैन्युफैक्चर्स) शामिल थे।

स्वतंत्रता के बाद भारतीय व्यापार

स्वतंत्रता के बाद, निर्यात में मुख्य रूप से कृषि उत्पाद और लौह अयस्क (आयरन ओर) जैसे कच्चे उत्पाद शामिल थे। दूसरी पंचवर्षीय योजना में उद्योगों, खनन और परिवहन क्षेत्रों के विकास पर बहुत अधिक जोर दिया गया। कई उत्पादों पर निर्यात शुल्क कम कर दिया गया और निर्यात प्रदर्शन के आधार पर कई वस्तुओं को कच्चे माल के आयात के लिए विशेष लाइसेंस दिए गए। नए बाजारों पर विजय जारी रही और कई पूर्वी यूरोपीय देशों के साथ व्यापार बढ़ाने के लिए कई समझौते तैयार किए गए। चूंकि आयात निर्यात से अधिक है, इसलिए पूंजीगत वस्तुओं को प्रतिबंधित श्रेणी और ओजीएल (ओपन जनरल लाइसेंस) श्रेणियों में सूचीबद्ध किया गया है। प्रतिबंधित पूंजीगत वस्तुओं के लिए आयात लाइसेंस अनिवार्य कर दिया गया। आयात की अनुमति केवल तभी दी गई जब इसे संबंधित विभागों द्वारा अनिवार्य बताया गया। कई निर्यात प्रोत्साहन प्रदान किए गए और आयात को निर्यात से जोड़ा गया। निर्यात वृद्धि सालाना चक्रवृद्धि लगभग 1.8 प्रतिशत के आसपास थी। 1950, 1960 के दशक में निर्यात वृद्धि लगभग 1.8 प्रतिशत वार्षिक चक्रवृद्धि के आसपास थी। 1970 के दशक में, भारत का निर्यात प्रति वर्ष 18.92 प्रतिशत की दर से बढ़ा; हालाँकि, 1980 के दशक में इसमें तेजी से गिरावट आई, जहाँ निर्यात में प्रति वर्ष 7.85 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 1970 के दशक में आयात भी 15.89 प्रतिशत की वार्षिक दर से बढ़ा और 1980 के दशक में मामूली गिरावट के साथ 11.54 प्रतिशत हो गया।

भारतीय विदेश व्यापार सुधार

1990 के दशक की शुरुआत में, भारतीय अर्थव्यवस्था ने इसे दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक बनाने के लिए नाटकीय नीतिगत बदलाव देखे थे। एक नया आर्थिक मॉडल, जिसे लोकप्रिय रूप से एलपीजी (उदारीकरण (लिबेरलाइजेशन), निजीकरण और वैश्वीकरण) के नाम से जाना जाता है, पेश किया गया था। भारतीय अर्थव्यवस्था के दीर्घकालिक लाभों के लिए कठोरता को दूर करने और अंतर्राष्ट्रीय प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ाने के लिए कई संरचनात्मक सुधार किए गए। इस नीति के तहत, भारत ने निजी क्षेत्र के लिए अपने व्यापार प्रतिबंध खोल दिए हैं और देश के विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय बैंकों से संपर्क किया है। उदारीकरण के साथ लाइसेंस राज और बड़ी संख्या में व्यापार बाधाओं को दूर करने का इरादा था। अर्थव्यवस्था के मुख्य और वित्तीय क्षेत्रों को निजी और विदेशी कंपनियों के लिए खोलकर, बहुराष्ट्रीय कंपनियों और विदेशी निवेशकों ने भारत को अवसरों की भूमि में बदल दिया।

भारतीय व्यापार (1990 से 2010)

1991 में संरचनात्मक सुधारों की शुरुआत के साथ, सेवा क्षेत्र को निजी भागीदारी के लिए खोल दिया गया है। निर्माण, पर्यटन, स्वास्थ्य और कंप्यूटर से संबंधित सेवाओं जैसी सेवाओं को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए स्वचालित अनुमोदन मार्ग पर रखा गया है। उस अवधि के दौरान दूरसंचार सेवाओं में उदारीकरण का अनुभव हुआ है क्योंकि दूरसंचार क्षेत्र के कई क्षेत्रों में पूर्ण स्वामित्व वाली विदेशी कंपनियों को अनुमति दी गई है, लंबी दूरी के टेलीफोन और इंटरनेट में सरकार का एकाधिकार समाप्त कर दिया गया है। कई सेवाओं में, सरकार ने विदेशी हिस्सेदारी की सीमा को पहले की 49 प्रतिशत की सीमा से बढ़ाकर 74 प्रतिशत कर दिया। इसी तर्ज पर, वहां वित्तीय सेवाओं में कुछ उदारीकरण देखा गया है। बीमा नियामक विधेयक को 2000 में अनुमोदित किया गया था, जिसमें संयुक्त उद्यमों और साझेदारी के माध्यम से 26 प्रतिशत तक विदेशी इक्विटी भागीदारी की अनुमति दी गई थी। सीमा को 49 प्रतिशत तक बढ़ाए जाने के साथ, म्यूचुअल फंड और पूंजी बाजार सहित वित्तीय क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्र विदेशी भागीदारी के लिए खुल गए हैं। 2000 से, अस्पताल खंड को स्वचालित व्यापार मार्ग पर 100% एफडीआई भागीदारी के लिए खोल दिया गया है। विभिन्न प्रकार की सहायक कंपनियों, प्रौद्योगिकी, प्रशिक्षण और संयुक्त उद्यमों के माध्यम से 30 से अधिक विदेशी कंपनियां स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में मौजूद हैं। इसी तरह, निर्माण क्षेत्र में, सरकार ने सिविल कार्यों में स्वचालित मार्ग के माध्यम से 100 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति दी है। 1980-90 से 1990-2000 के दशक तक निर्यात की वृद्धि में वार्षिक प्रतिशत परिवर्तन लगभग 23% था। 1980-90 के दशक में निर्यात 3-6% की तुलना में 1990-200 के दशक में सकल घरेलू उत्पाद का 7-10% तक बढ़ गया है। उदारीकरण के दौर के बाद व्यापार संतुलन भी बढ़ा है।

निर्यात और आयात की संरचना (क्षेत्रवार)

आज़ादी से पहले और योजना के शुरुआती वर्षों के दौरान, भारत के प्रमुख निर्यात चाय, जूट, कपास, कपड़ा थे। पूंजीगत सामान और अन्य इंजीनियरिंग वस्तुएं, रसायन, चमड़ा, तैयार वस्त्र, हस्तशिल्प आदि निर्यात सूची में शामिल हो गए। इसी प्रकार, भारत के आयात व्यापार में प्राथमिक उत्पादों से पूंजीगत वस्तुओं और अन्य मध्यवर्ती निर्माताओं की ओर बदलाव आया है। पहले, भारत के प्रमुख आयात में खाद्यान्न, कपास और जूट आदि शामिल थे, लेकिन उसके बाद, प्रवृत्ति बदल गई है; अब प्राथमिक उर्वरकों, लोहा और इस्पात, अलौह धातुओं और अन्य औद्योगिक आदानों का आयात बढ़ गया है। भारतीय सेवा क्षेत्र उल्लेखनीय रूप से विकसित हुआ है और इसने देश की जीडीपी में बड़ा योगदान दिया है। सेवाओं के विश्व निर्यात में भारत की हिस्सेदारी 1990 में 0.6 प्रतिशत से बढ़कर 2001 में 1.2 प्रतिशत हो गई और 2008 में 2.8 प्रतिशत तक बढ़ गई, जबकि इसी अवधि के दौरान, वैश्विक निर्यात में इसकी हिस्सेदारी 0.5 प्रतिशत से बढ़ गई। 1990 में 0.7 प्रतिशत और 2008 में 1.1 प्रतिशत हो गया। 1990 में भारत के निर्यात में सेवाओं का हिस्सा 20 प्रतिशत था और 2008 में यह बढ़कर 59.2 प्रतिशत हो गया।

संख्या में भारतीय व्यापार (2018-19)

  • भारतीय निर्यात: $331 बिलियन
  • भारतीय आयात: $507.44 बिलियन
  • व्यापार घाटा: $176.42 बिलियन

भारत के व्यापार घाटे के कारण

भारत के व्यापार घाटे के लिए जिम्मेदार कारक हैं-

  1. विदेशी मुद्रा भंडार (फॉरेन रिजर्व):

किसी देश का विदेशी मुद्रा भंडार उसके केंद्रीय बैंक के पास रखी विदेशी मुद्राएं होती हैं। ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से बैंक विदेशी मुद्रा भंडार रखते हैं। सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक उनकी मुद्राओं के मूल्यों को प्रबंधित करना है। आम तौर पर, किसी देश के निर्यातक विदेशी मुद्रा स्थानीय बैंकों में जमा करते हैं। इन स्थानीय बैंकों के माध्यम से, वे मुद्रा को अपने केंद्रीय बैंक में स्थानांतरित करते हैं। फिर निर्यातकों को उनके व्यापारिक साझेदारों द्वारा डॉलर, यूरो या अन्य मुद्राओं में भुगतान किया जाता है। निर्यातक इन विदेशी मुद्राओं को स्थानीय मुद्रा के लिए विनिमय करते हैं, जिसका उपयोग बदले में अपने श्रमिकों और स्थानीय आपूर्तिकर्ताओं को भुगतान करने के लिए किया जाता है।

तेल की कीमतों में उछाल और इसके लिए भारत की निरंतर मांग के कारण तेल आयात बढ़ता है और इस प्रकार इसका चालू खाता घाटा बढ़ जाता है। इस बढ़ते घाटे के परिणामस्वरूप रुपया कमजोर हो रहा है, क्योंकि अधिक आयात का मतलब है कि भारत को अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए अधिक विदेशी मुद्राएं खरीदनी चाहिए। इससे भारत का व्यापार घाटा बढ़ता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि कोई देश अपने बाहरी दायित्वों को पूरा करता है, विदेशी भंडार की भी आवश्यकता होती है। इन दायित्वों में संप्रभु (सोवरिग्न) और वाणिज्यिक ऋण और आयात का वित्तपोषण शामिल है। 2018-19 के लिए भारत का विदेशी भंडार 412.9 बिलियन डॉलर है।

2. प्राकृतिक आपदाएँ:

बाढ़, भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदाएँ स्थानीय निर्यातकों की वस्तुओं का उत्पादन और निर्यात करने की क्षमता को अस्थायी रूप से निलंबित कर देती हैं, जिससे आयात के भुगतान के लिए विदेशी मुद्रा की उनकी आपूर्ति में कटौती हो जाती है। अंतर्राष्ट्रीय व्यापारी प्राकृतिक आपदाओं के परिणामों के विरुद्ध कुछ हद तक अपना बीमा करा सकते हैं।

3. सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक परिदृश्यों में परिवर्तन के कारण व्यवसायों में शामिल जोखिम:

कुशल श्रम शक्ति, उत्पादकता जैसे सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन किसी देश के समग्र निर्यात और आयात पर प्रभाव डालते हैं।

मुद्रास्फीति (इनफ्लेशन), यदि किसी देश में व्याप्त है, तो किसी उत्पाद की एक इकाई का उत्पादन करने की लागत कम मुद्रास्फीति वाली कीमत से अधिक हो सकती है। इसका असर निर्यात, व्यापार संतुलन पर पड़ता है। विशेष उत्पादों या सेवाओं की मांग अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का एक अनिवार्य घटक है। जो नीतियां सब्सिडी के साथ आयात या निर्यात को प्रतिबंधित करती हैं, वे उन वस्तुओं की सापेक्ष लागत को बदल देती हैं, जिससे यह आयात/ निर्यात के लिए अधिक/ कम आकर्षक हो जाता है। उदाहरण के लिए, कृषि सब्सिडी निर्यात के लिए उत्पादन को प्रोत्साहित करने वाली कृषि गतिविधियों की लागत को कम करती है।

राजनीतिक परिदृश्य भी निर्यात और आयात को प्रभावित कर सकते हैं। उच्च आयात शुल्क, शुल्क जैसी प्रतिबंधात्मक व्यापार नीतियों वाले देशों में खुली व्यापार नीतियों वाले देशों की तुलना में बड़े व्यापार घाटे हो सकते हैं, क्योंकि वे निर्यात से बाहर हो सकते हैं।

4. पारगमन (ट्रांसिट) के दौरान हानि/ क्षतिग्रस्त माल:

पारगमन में सामान चोरी, दुर्घटना या प्राकृतिक आपदाओं से खो या क्षतिग्रस्त हो सकता है। निर्यात और आयात दोनों वस्तुओं का बीमा होना चाहिए जो निर्माता के कारखाने के गेट से खुदरा विक्रेताओं/खरीदारों तक पहुंचने तक सामान को कवर करता है। आम तौर पर, निर्यातक बीमा लागत का बोझ अपने खरीदारों पर डालते हैं। विनियमित बीमा उद्योगों वाले देशों में आयातकों को लाभ होगा क्योंकि वे सस्ती बीमा दरों के लिए कंपनियों के साथ बातचीत कर सकते हैं और किसी भी नुकसान के बाद पारदर्शी दावा प्रक्रिया अपना सकते हैं।

5. व्यापार करने में आसानी:

विश्व बैंक की डूइंग बिज़नेस रिपोर्ट व्यावसायिक जीवन के विभिन्न क्षेत्रों को प्रभावित करने वाले नियमों पर मात्रात्मक संकेतक प्रदान करके व्यावसायिक वातावरण सुधारों को निर्धारित करने के लिए एक महत्वपूर्ण उपकरण और एक पैमाना बन गई है। विश्व बैंक के व्यवसाय करने के संकेतकों का उपयोग व्यावसायिक नियमों के प्रतिनिधित्व के रूप में किया गया था। विश्व बैंक द्वारा जारी नवीनतम व्यवसाय रैंकिंग में भारत वर्तमान में विश्व स्तर पर 63वें स्थान पर है। व्यवसाय करने में आसानी विदेशी निवेश को आकर्षित करती है, और मेक इन इंडिया कार्यक्रम में योगदान देती है जिसके परिणामस्वरूप निर्यात बढ़ता है। भारत को अपनी व्यापार करने में आसानी रैंकिंग में सुधार करने के लिए एक लंबा रास्ता तय करना है क्योंकि यह हमारे निर्यात में सुधार के लिए महत्वपूर्ण कारकों में से एक है।

भारत के व्यापार घाटे को कम करने के अवसर

  1. व्यापार वार्ता (नेगोशिएशन): सरकार को इन देशों में भारतीय निर्यात पर व्यापार प्रतिबंध हटाने के लिए अमेरिका, यूरोपीय संघ, चीन और जापान जैसी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के साथ बातचीत को सुविधाजनक बनाने की आवश्यकता है। निर्यात रणनीति की सफलता के लिए व्यापार नीति और नियामक प्रथाओं के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण महत्वपूर्ण है। यदि विभिन्न सरकारी विभाग व्यापार-संबंधित नीतियों को अलग-अलग देखते हैं, तो उनकी निर्यात रणनीति का समर्थन करने के लिए एक सुसंगत नीति ढांचे को लागू करना और विकसित करना मुश्किल है क्योंकि यह सरकारी विभागों, सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों को जोड़ता है। इसका परिणाम सभी प्रासंगिक हितधारकों को एक साथ लाकर समग्र रूप से तैयार किए गए प्राथमिकता वाले उद्देश्यों का एक व्यापक सेट होगा।
  2. विदेशी कार्यालय बनाना: निर्यात खेपों के प्रमाणीकरण के लिए आयातक देशों (मुख्य रूप से यूएसए, ईयू, जापान) को भारत में कार्यालय स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित करना। व्यापार संवर्धन संगठन स्थानीय कंपनियों को व्यापार शो, क्रेता-विक्रेता बैठक, व्यापार मिशनों का आदान-प्रदान और व्यापार कार्यक्रमों के संचालन के लिए भौतिक बुनियादी ढांचे की पेशकश जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से वैश्विक बाजारों तक पहुंचने की सुविधा प्रदान करता है। व्यापार संवर्धन संगठनों (टीपीओ) को विदेशों में जागरूकता पैदा करने के लिए बाजार सर्वेक्षण, क्षेत्रीय अध्ययन, सेमिनार और सम्मेलन आयोजित करने जैसे ज्ञान-आधारित अभ्यासों में संलग्न होना चाहिए। अधिकांश देशों में, टीपीओ अनुकूलित शुल्क-आधारित सेवाएं प्रदान करते हैं जैसे विदेशी बाजारों में ग्राहकों की पहचान करना, निर्यात परामर्श, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर पाठ्यक्रम आदि। अधिकांश देशों में, टीपीओ निर्यात को प्रशासित करने के लिए राष्ट्रीय सरकार के वाणिज्य मंत्रालय के तहत कार्य करते हैं। उनकी संबंधित सरकार की प्रोत्साहन योजनाएं, जैसे निर्यात सब्सिडी प्रदान करना, गुणवत्ता प्रमाणन कार्यक्रम, क्षमता निर्माण आदि। भारत में विभिन्न राष्ट्रीय और क्षेत्रीय उद्योग मंडलों के अलावा कम से कम 37 आधिकारिक टीपीओ हैं।

भारत सरकार को निम्नलिखित कारणों से विदेशों में भारत के व्यापार संवर्धन संगठन (टीपीओ) के प्रतिनिधि कार्यालय खोलने चाहिए:

  1. विश्व निर्यात में भारत की हिस्सेदारी बढ़ाना
  2. निर्यात में विविधता लाना
  3. नीति इनपुट का स्रोत
  4. विदेशी क्षेत्रों में भारतीय कंपनियों के लिए व्यावसायिक साझेदारों की पहचान करना
  5. प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को आकर्षित करना
  • गुणवत्ता प्रमाणन जारी करना: भारत सरकार ने गुणवत्ता प्रमाणन प्राधिकरण कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) की स्थापना की। एपीडा पहले से ही अंगूर और मूंगफली के लिए यूरेपगैप और एचएसीसीपी जैसे गुणवत्ता प्रमाणन कार्यक्रमों की लागत को प्रमाणित और समर्थन करता है। इस योजना में और अधिक खाद्य पदार्थों को शामिल करने की आवश्यकता है।
  • स्वदेशी प्रयोगशालाएँ: भारत सरकार को अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों से मान्यता प्राप्त करने के लिए भारत में खाद्य परीक्षण प्रयोगशालाओं को प्रोत्साहित करना चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय मान्यता की उच्च लागत को देखते हुए, सरकार इन लागतों को आंशिक रूप से वित्त पोषित करके प्रयोगशालाओं को प्रोत्साहित कर सकती है। प्रयोगशालाओं द्वारा परीक्षण प्रोटोकॉल और आयातक देशों द्वारा पालन किए जाने वाले सहिष्णुता स्तर और खाद्य उत्पादों में अवशेष स्तर कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिन पर प्रयासों के अभिसरण की आवश्यकता है। वाणिज्य विभाग, कृषि निर्यात नीति के हिस्से के रूप में, एक एकल पोर्टल बनाने का प्रस्ताव करता है जो प्रयोगशालाओं की एकल मान्यता की सुविधा प्रदान करता है और विभिन्न संगठनों को मान्यता गतिविधियों को करने से रोकता है। परीक्षण और अंशांकन प्रयोगशालाओं के लिए राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड निर्यातित उत्पादों के लिए अविश्वसनीय नमूनाकरण या परीक्षण तंत्र के मामले में संयुक्त मूल्यांकन, मान्यता और डिफ़ॉल्ट प्रयोगशालाओं को दंडित करने वाला एकमात्र प्रमुख संगठन होगा।
  • ज़ोनिंग सिस्टम बनाना: सरकार को प्रमाणन ज़ोनिंग सिस्टम शुरू करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, उदाहरण के लिए, भारत से उच्च मूल्य के निर्यात की सुविधा के लिए कीटनाशक मुक्त क्षेत्र, जैविक उत्पादन क्षेत्र और रोग मुक्त क्षेत्र बनाना। विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी होने का लक्ष्य रखने वाले निर्यातकों के लिए तुलनात्मक रूप से कम कीमत पर वस्तुओं के उत्पादन की सुविधा प्रदान करते हैं।

भारत सरकार द्वारा सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों में कपड़ा, फार्मास्युटिकल, आईटी जैसे विशिष्ट क्षेत्रों में कई सफल एसईजेड स्थापित किए गए हैं और कुछ बहु-क्षेत्रीय हैं। कुछ देशों के लिए मूल्यवर्धित कृषि वस्तुओं का उत्पादन करने के उद्देश्य से कृषि निर्यात एसईजेड विकसित करने की आवश्यकता है, जो बड़े पैमाने पर कृषि उत्पादों के आयात पर निर्भर हैं।

निष्कर्ष

उदारीकरण के बाद भी, उभरती एशियाई अर्थव्यवस्थाओं और चीन की तुलना में भारतीय अर्थव्यवस्था अभी तक अंतरराष्ट्रीय व्यापार और एफडीआई के लिए पूरी तरह से नहीं खुली है। इसकी विशेषता विश्व अर्थव्यवस्था के साथ उथला एकीकरण है। इसके लिए कई कारक जिम्मेदार हो सकते हैं। देर से शुरू की गई नीति और व्यापार करने में आसानी की मौजूदा रैंकिंग (63वीं) कम से कम यह बताती है कि भारत का विदेशी व्यापार क्यों पिछड़ रहा है। व्यापार में बाधाएँ अपेक्षाकृत ऊँची बनी हुई हैं, इसके अलावा, घरेलू अर्थव्यवस्था में, संस्थागत बाधाओं (आरक्षण नीति) और संरचनात्मक कारकों (उच्च ऊर्जा लागत और बुनियादी ढाँचे की कमी) ने प्रतिस्पर्धी उद्योगों के उदय और एफडीआई के आकर्षण को कम कर दिया है।

संदर्भ

प्राचीन भारतीय अर्थव्यवस्था:

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here