भारत में मानवाधिकार और न्याय वितरण प्रणाली

0
116
Human rights and justice delivery system in India

यह लेख एडवांस्ड कॉन्ट्रैक्ट ड्राफ्टिंग, नेगोशियेशन एंड डिस्प्यूट रेजोल्यूशन में डिप्लोमा करने वाली Shapna G और Oishika Banerji (टीम लॉसीखो) द्वारा लिखा गया है। यह लेख भारत में मानवाधिकारो और न्याय प्रदान करने की प्रणाली पर चर्चा करता है। इस लेख का अनुवाद Divyansha Saluja द्वारा किया गया है। 

परिचय 

मानवाधिकार व्यक्तियों में उनके जन्म के आधार पर निहित होते हैं। ये अधिकार स्वत: विरासत में मिले हैं और उन्हें अलग नहीं किया जा सकता हैं। राष्ट्र के विकास के लिए मानवाधिकारों की रक्षा आवश्यक है। भारत का संविधान अनुच्छेद 21 और अन्य मौलिक अधिकारों के तहत, बुनियादी मानवाधिकारों की सुरक्षा की गारंटी देता है। मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा (यूनिवर्सल डिक्लेरेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स) में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि मनुष्य और मानव गरिमा का सम्मान “दुनिया में स्वतंत्रता, शांति और न्याय की नींव” है। विशेष रूप से आपराधिक न्याय प्रणाली में मानवाधिकारों के सिद्धांतों का पालन एक बहुत ही महत्वपूर्ण कार्य है। सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय दोनों, मौलिक अधिकारों के संरक्षक होने के नाते, मानवाधिकारों के हित में भी अपनी सुरक्षा का विस्तार करते हैं। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 32 और 226 में मौलिक अधिकारों का उल्लंघन होने पर राज्य या निजी व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए एक निवारण तंत्र का प्रावधान किया गया है, जिसमें मानवाधिकार समावेश (इन्क्लूसिव) है। यह लेख भारत के संबंध में मानवाधिकारों से संबंधित परिदृश्य और भारतीय संविधान का पालन करके इसे सुरक्षित रखने में भारतीय न्यायपालिका की भूमिका की एक झलक प्रदान करता है।

भारतीय संदर्भ में मानवाधिकार

मानवाधिकारों को नियंत्रित करने वाले मौलिक मूल्यों की पहली और सर्वोच्च अभिव्यक्ति संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा अपनाया गया एक अंतरराष्ट्रीय दस्तावेज है जो सभी मनुष्यों के अधिकारों और स्वतंत्रता को स्थापित करता है, यानी मानवाधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा। मानव अधिकारों की सार्वभौम घोषणा के अनुच्छेद 9-12 और नागरिक और राजनीतिक अधिकारों पर अंतर्राष्ट्रीय वाचा (इंटरनेशनल कॉविनेंट ऑन सिविल एंड पॉलिटिकल राइट्स) के अनुच्छेद 10 में आपराधिक न्याय प्रणाली के लिए एक न्यूनतम मानक निर्धारित किया गया है जिसका देशों को पालन करने की सलाह दी जाती है। भारत का सर्वोच्च न्यायालय मेनका गांधी बनाम भारत संघ (1978) और खड़क सिंह बनाम उत्तर प्रदेश राज्य (1962) जैसे मामलों में इस तरह की सलाह का प्रतिबिम्ब (रिफ्लेक्टर) रहा है। आगे, सुनील बत्रा बनाम दिल्ली प्रशासन (1978) में सर्वोच्च न्यायालय ने देखा था कि विचाराधीन (अंडर ट्रायल) कैदी को सलाखों के पीछे रखने में देरी करना न्याय, इक्विटी, मौलिक स्वतंत्रता, गरिमा और बंधुत्व के सिद्धांतों का उल्लंघन है, जैसा कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 19 और 20 के तहत स्थापित किया गया है।

इसके अलावा, भारतीय संदर्भ में मानवाधिकारों के लिए कानून को नियंत्रित करने वाले सिद्धांत, मानवाधिकार अधिनियम, 1993 का उद्देश्य समान अवसर प्रदान करना है, जिससे भेदभाव के किसी भी आधार के बावजूद हर व्यक्ति के साथ अनुचित व्यवहार को रोका जा सके। यह अधिनियम वर्ष 1991 में पेरिस में आयोजित मानव अधिकारों के संरक्षण के लिए राष्ट्रीय संस्थानों पर पहली अंतर्राष्ट्रीय वर्कशॉप में अपनाए गए पेरिस सिद्धांतों के अनुरूप पारित किया गया था। इन सिद्धांतों को 1993 में संयुक्त राष्ट्र की महासभा द्वारा समर्थन दिया गया था।

मानवाधिकार अधिनियम, 1993 के संरक्षण की धारा 2(1)(d) मानव अधिकारों को “जीवन, स्वतंत्रता, समानता और व्यक्ति की गरिमा से संबंधित अधिकार, जो की संविधान द्वारा गारंटीकृत या अंतर्राष्ट्रीय वाचाओ में सन्निहित (एंबडीड) है, और भारत में अदालतों द्वारा लागू करने योग्य है” के रूप में परिभाषित करती है।” अधिनियम की महत्वपूर्ण अच्छाई धारा 3 के तहत है जहां राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एन.एच.आर.सी.) की स्थापना का प्रावधान है। एन.एच.आर.सी. 12 अक्टूबर, 1993 को स्थापित एक स्वतंत्र वैधानिक निकाय है जो देश में मानवाधिकार संरक्षण के प्रहरी (वाचडॉग) के रूप में कार्य करता है। 

एन.एच.आर.सी. का तंत्र

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग पूरी तरह से एक अलग संस्था होने के नाते, ‘मानवाधिकारों का प्रहरी’ माना जाता है। आयोग मानव अधिकारों के उल्लंघन की जांच करने के लिए अधिकृत है। जबकि एन.एच.आर.सी. केंद्र सरकार के अधीन आता है, राज्य मानवाधिकार आयोग (एसएचआरसी) राज्य के अधिकारियों की सहायता और सलाह से कार्य करता है। वे मानव अधिकारों के उल्लंघन को रोकने के लिए केवल कार्यकारी (एक्जीक्यूटिव) अधिकारियों पर एक जाँच के रूप में कार्य करते हैं। आयोग के पास व्यक्तियों के बीच मानवाधिकारों के उल्लंघन से निपटने का कोई क्षेत्राधिकार (ज्यूरिसडिक्शन) नहीं है, जब तक कि उसे कोई शिकायत प्राप्त न हो। लेकिन उल्लंघन वाली ऐसी अधिकांश शिकायतें अदालतों के क्षेत्राधिकार में आती हैं। 

एन.एच.आर.सी. आठ अन्य सदस्यों के साथ एक अध्यक्ष से बना है। वे आठ सदस्य हैं:

  1. चार पूर्णकालिक (फुल टाइम) सदस्य।
  2. चार मानद (डीम्ड) सदस्य।

मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम, 1993 की धारा 12 एन.एच.आर.सी. के कार्यों को निर्धारित करती है, जो यहां दिए गए हैं:

  1. एन.एच.आर.सी. सभी प्रकार के मामलों में खुद को शामिल करने के लिए जिम्मेदार है, जिसमें मानवाधिकारों के उल्लंघन से संबंधित आरोप शामिल हैं, भले ही यह किसी न्यायिक प्रक्रिया के तहत हो। 
  2. एन.एच.आर.सी. कैदियों के रहने की स्थिति को समझने के लिए जिम्मेदार है ताकि उनके साथ दुर्व्यवहार से बचा जा सके। रहन-सहन की स्थितियों का निरीक्षण करने के लिए कैदियों से मिलना और उनकी बेहतरी के लिए उनकी सिफारिश करना, एन.एच.आर.सी. के महत्वपूर्ण कार्यों में से एक है।
  3. एन.एच.आर.सी. संविधान के प्रावधानों की समीक्षा कर सकता है जो मानवाधिकारों की रक्षा करने का इरादा रखता है और आवश्यक प्रतिबंधात्मक उपायों का सुझाव दे सकता है।
  4. एन.एच.आर.सी. से मानव अधिकारों के क्षेत्र में किए जाने वाले किसी भी प्रकार के अनुसंधान (रिसर्च) को बढ़ावा देने की अपेक्षा की जाती है। यह वास्तव में जनता के बीच मानवाधिकारों के बारे में जागरूकता और साक्षरता बढ़ाएगा। 
  5. एन.एच.आर.सी. को केंद्र और राज्य दोनों सरकारों को तर्कसंगत कदमों की सिफारिश करने की शक्ति भी प्राप्त है, जो भारतीय संदर्भ में मानवाधिकारों के उल्लंघन को रोकने में मदद कर सकते हैं।

न्याय और मानवाधिकार देने की प्रतिकूल (एडवर्सेरियल) प्रणाली के बीच का संबंध

एक प्रतिकूल आपराधिक न्याय प्रणाली में, अभियुक्त को तब तक निर्दोष माना जाता है जब तक कि वह उचित संदेह से परे दोषी साबित न हो जाए। यह प्रणाली दोनों पक्षों को सबूत पेश करने और गवाहों से जिरह (क्रॉस एग्जामिनेशन) करने की अनुमति देकर बचाव करने वाले और मुकदमा चलाने वाले व्यक्तियों के अधिकारों का ठीक से पालन करती है। प्रतिकूल प्रणाली का महत्वपूर्ण नुकसान मामले को प्रबंधित करना है। भारतीय आपराधिक न्याय प्रणाली प्रतिकूल प्रणालियों से कई व्यवस्थित समस्याओं से ग्रस्त है, जिसके परिणामस्वरूप कई मानवाधिकारों का उल्लंघन होता है, अर्थात्,

  1. आपराधिक न्याय प्रणाली में मानवाधिकारों के उल्लंघन की एक भिन्न श्रेणी पुलिस हिरासत के दौरान होती है और यह सरकारी और गैर-सरकारी अध्ययनों द्वारा व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है कि पुलिस हिरासत अपने कैदियों के प्रति यातना और दुर्व्यवहार के उपयोग को सुविधाजनक बनाने वाली प्रणाली में संचालित होती है।

पुलिस की बर्बरता का आदर्श उदाहरण 2020 में तमिलनाडु में देखा गया जहां बेनिक्स और जयराज को पुलिस अधिकारियों ने बेरहमी से पीटा, जिससे कुछ ही दिनों में उनकी मृत्यु हो गई। उन पर राज्य द्वारा लगाए गए लॉकडाउन नियमों के उल्लंघन का आरोप लगाया गया था। जबकि यह पुलिस क्रूरता के कई उदाहरणों में से एक है, इन सभी उदाहरणों में समान रूप से जो देखा जा सकता है वह संवैधानिक जनादेश के रूप में अनुच्छेद 21 के तहत गारंटीकृत जीवन के अधिकार और सम्मान की रक्षा करने में कार्यकारी अधिकारियों की विफलता है। इसके अलावा, एन.एच.आर.सी. के आंकड़ों से पता चलता है कि मार्च 2020 तक पुलिस और न्यायिक हिरासत में लगभग 17,146 मौतें हुई हैं। 

सर्वोच्च न्यायालय ने कई मौकों पर प्रतिकूल प्रणालियों की गैर-गतिशील प्रकृति की आलोचना की है। राम चंद्र बनाम हरियाणा राज्य (1981) में, सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि, “एक मुकदमे की अध्यक्षता करने वाले न्यायाधीश के लिए रेफरी या अंपायर की भूमिका ग्रहण करने और परीक्षण प्रक्रिया में प्रवेश करने वाले जुझारू और प्रतिस्पर्धी (कंपेटिटीव) तत्वों से अपरिहार्य विकृति (इनएविटेबल डिस्टोर्शन) के साथ अभियोजन पक्ष और बचाव पक्ष के बीच एक प्रतियोगिता में विकसित होने की अनुमति देने के लिए एक दुर्भाग्यपूर्ण प्रवृत्ति (टेंडेंसी) है।

मानवाधिकार और न्याय प्रदान करने की जिज्ञासु प्रणाली के बीच संबंध

जिज्ञासु न्याय प्रणाली में, विचारण (ट्रायल) अदालतों द्वारा आयोजित किया जाता है और विचारण करने वाले न्यायाधीश पक्षों से पूछताछ और सीधे सुनवाई करके एक सक्रिय भूमिका निभाते है, और यह निर्धारित करते है कि किस गवाह को बुलाना है और गवाहों को किस क्रम में बुलाना है। संबंधित पुलिस अधिकारी को हर उस अपराध के बारे में सूचित करना होता है जिस पर उसने ध्यान दिया हो और संबंधित अभियोजक को लिखित रूप में प्रस्तुत करता हो। यदि किसी मामले के अभियोजक को लगता है कि मामले में गंभीर अपराध शामिल हैं, तो वह ऐसे मामलों की जांच की निगरानी के निर्देश के लिए न्यायाधीश के पास जा सकता है। न्यायिक प्रणाली में वकीलों की भूमिका निष्क्रिय होती है।

इसके अलावा भारत की प्रतिकूल प्रणाली में गैर-गतिशील प्रकृति और न्यायाधीशों की कमी जैसी कुछ कमियां हैं, जिसके परिणामस्वरूप मानवाधिकारों का उल्लंघन होता है और मामले लंबित रहते हैं, किसी भी आपराधिक न्यायशास्त्र का आधार अभियुक्तों के लिए न्याय और निष्पक्ष सुनवाई की तार्किकता (रीजनेबिलिटी) एक प्रतिकूल प्रणाली में बहुत अच्छी तरह से संरक्षित है। प्रतिकूल और जिज्ञासु दोनों प्रणालियों के अपने नुकसान हैं। इसलिए आपराधिक न्याय प्रणाली और मानवाधिकारों के बेहतर नियमन (रेगुलेशन) के लिए, न्यायिक प्रणाली की महत्वपूर्ण विशेषताओं को प्रतिकूल प्रणाली को मजबूत करने के लिए अपनाया जा सकता है जो पीड़ितों को न्याय देने के उद्देश्य से जांच अधिकारियों को निर्देशित करने में न्यायाधीशों को सक्रिय रूप से भाग लेने में मदद करता है।

प्ली बार्गेनिंग के माध्यम से मानवाधिकारों के विवादों को सुलझाना 

न्यायिक अनुशासन के लिए निर्णय देने में तत्परता (प्रॉम्प्टनेस) की आवश्यकता होती है और इसलिए न्याय में देरी मानवाधिकारों का अचानक उल्लंघन है। वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र के साधन के रूप में दलील सौदेबाजी के आगमन के साथ, प्रक्रिया जहां प्रतिवादी अभियोजक के साथ कारावास की देयता को कम करने के लिए बातचीत करता है, विकसित हुआ। आपराधिक न्याय प्रणाली के सुधारों पर न्यायमूर्ति मालिमथ समिति ने प्ली बार्गेनिंग पर विभिन्न सुझावों का समर्थन किया। भारतीय विधि आयोग ने अपनी 142 वीं रिपोर्ट में उन लोगों के रियायती (कंसेशनल) उपचार के विचार की शुरुआत की जो अपने स्वयं के उल्लंघन पर अपना दोष स्वीकार करते हैं। बिना किसी सुधार के लंबे समय तक चले मुकदमों को प्ली बार्गेनिंग द्वारा निपटाया जा सकता है, जिसमें न्याय प्रदान करने के लिए सुधारात्मक तरीके शामिल हैं।

यशपाल चौधरानी बनाम राज्य (2019) में, दिल्ली उच्च न्यायालय ने दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 (सीआरपीसी) की धारा 482 के तहत एडीआर तरीके के माध्यम से अपराधों को कम करने के लिए दिशानिर्देश प्रदान किए:

2. बिचवई (मीडिएशन) के लिए आपराधिक मामलों के पक्षों के संदर्भ पर विचार करते समय न्यायालय को यह सुनिश्चित करने से पहले कि क्या समझौते के तत्व मौजूद हैं, प्रारंभिक जांच द्वारा जांच करनी चाहिए, और इस चीज पर ध्यान देना चाहिए की आपराधिक कार्रवाई को समाप्त करने के लिए कानून में अनुमति है या तो शामिल अपराध शमनीय (कंपाउंडेबल) है या क्योंकि उच्च न्यायालय के पास इसे रद्द करने के लिए कोई अवरोध नहीं है, और फिर सीआरपीसी की धारा 482 के तहत क्षेत्राधिकार के प्रयोग को नियंत्रित करने वाले सिद्धांतों को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

3. बिचवई करने वालो को आपराधिक मामले के तथ्यों की प्रारंभिक जांच करनी चाहिए और इस तरह के समझौते के लिए पक्षों की सहायता करने की संभावना के रूप में खुद को संतुष्ट करना चाहिए, जैसा कि अदालत द्वारा स्वीकार्य होगा, ऐसा करते समय धारा 482 के तहत अपराधों के शमन या उच्च न्यायालयों की शक्ति के प्रयोग को नियंत्रित करने वाले कानून को ध्यान में रखा जाना चाहिए।

4. बिचवई प्रक्रिया के समापन पर पुनरीक्षण (वेटिंग) की प्रणाली को संस्थागत बनाने की आवश्यकता है ताकि पक्षों द्वारा औपचारिक रूप से समझौता किए जाने से पहले इस बात की संतुष्टि हो कि एक आपराधिक आरोप शामिल है जो या तो शमनीय है या ऐसा है की इस संबंध में उच्च न्यायालय द्वारा सीआरपीसी की धारा 482 के प्रयोग में अवरोध महसूस नही किया जाएगा। 

व्यावसायिक मानवाधिकार मध्यस्थता (आर्बिट्रेशन) मानव अधिकारों का सम्मान करने और व्यवसायों पर संभावित मानव अधिकारों के प्रभावों के व्यापक दायरे के मुद्दों को निपटाने के लिए कॉर्पोरेट दायित्व के रूप में एक उभरती हुई व्यवस्था है, उदाहरण के लिए, आपूर्ति श्रृंखला (सप्लाई चेन) में मजबूरन श्रम, किसी प्रोजेक्ट के आसपास के क्षेत्र को पर्यावरणीय नुकसान, या उपभोक्ताओं के डेटा और गोपनीयता अधिकार। उन्हें घरेलू अदालतों, जनता की अदालत में और मध्यस्थता और समाधान की सुविधा के लिए डिज़ाइन किए गए निकायों के समक्ष सुना जाता है। न्यायमूर्ति मालिमथ समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि, “वर्षों से प्रतिकूल प्रणाली में कई खामियों का फायदा उठाते हुए, बड़ी संख्या में अपराधी दोषसिद्धि से बच रहे हैं। इसने प्रणाली की प्रभावकारिता में जनता के विश्वास को गंभीरता से कम किया है। इसलिए यह जांचना जरूरी है कि बचने के मार्गों को कैसे सामने लाया जाए और संभावित नए मार्गों को कैसे रोका जाए।

एडीआर तंत्र न तो कानून की प्रतिकूल या पूछताछ प्रणाली का पालन करता है। यह प्राकृतिक न्याय के सिद्धांत को कार्य करने के लिए मूल मार्गदर्शक के रूप में अनुसरण करता है। तीसरा व्यक्ति (तटस्थ अधिनिर्णायक (न्यूट्रल एडज्यूडिकेटर)) जो निर्णय दे रहा है उसे प्राकृतिक न्याय के लागू करने को सुनिश्चित करना चाहिए। मध्यस्थ (आर्बिट्रेटर) के निर्णय को केवल प्राकृतिक न्याय के उल्लंघन के आधार पर अदालत में चुनौती दी जा सकती है। ऐसे मामलों में पक्षपात की अनुपस्थिति और परीक्षणों में देरी के साथ मानवाधिकारों के उद्देश्यों की बहुत अच्छी तरह से रक्षा की जाती है।

न्याय वितरण प्रणाली के माध्यम से मानवाधिकारों की भलाई के लिए सुझाव 

  1. प्रतिकूल प्रणाली को, विचारण में मानवता, समानता और निष्पक्षता की रक्षा के लिए सबसे अच्छा तरीका माना जाता है। न्यायाधीशों को जांच में सक्रिय रूप से शामिल करके विचारण की निष्पक्षता का दुरुपयोग करने वाली अनियमित प्रथाओ को खत्म किया जा सकता है। यहां जो प्रश्न उठता है वह न्यायिक सक्रियता (एक्टिविज्म) है। न्यायिक सक्रियता आवश्यक है जब इसमें अनुच्छेद 21 का प्रश्न शामिल हो। आपराधिक न्याय सुधार पर न्यायमूर्ति मालिमथ समिति की रिपोर्ट में आपराधिक न्याय प्रणाली के लिए आवश्यक और प्रतिकूल दोनों तरह के सुझाव हैं। विधायिका को रिपोर्ट की समीक्षा (रिव्यू) करनी चाहिए और उन महत्वपूर्ण सुझावों को सम्मिलित करना चाहिए जिनमें मानवाधिकारों के संरक्षण और वृद्धि के लिए एक जिज्ञासु स्पर्श हो सकता है।
  2. प्ली बारगेनिंग पर अधिक जोर दिया जाना चाहिए। न्यायाधीश के मार्गदर्शन में प्ली बार्गेनिंग के मामलों की सिफारिश करने से पहले जांच प्रक्रिया की जानी चाहिए।
  3. टीम की नियुक्ति के लिए केंद्र सरकार से अनुरोध करने की जगह पर, जब भी आवश्यक हो, जांच से निपटने के लिए राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में एक उचित जांच टीम निहित होनी चाहिए।
  4. निजी पक्षों के बीच मानवाधिकारों के उल्लंघन की शिकायतों को सुनने के लिए आयोग को क्षेत्राधिकार प्रदान किया जाना चाहिए। जांच में किसी उल्लंघन के लिए प्राप्त शिकायतों पर विचार किया जाना चाहिए और इसे केवल इसलिए खारिज नहीं किया जाना चाहिए कि यह मामला दर्ज किया गया है और न्यायिक दायरे में आता है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को न्यायालय या न्यायाधिकरण (ट्रिब्यूनल) के उप-न्यायिक होने के बावजूद संज्ञान (कॉग्निजेंस) लेने के लिए समृद्ध होना चाहिए।
  5. श्रमिक वर्ग और परिवारों के लिए, लिंग के आधार पर भेदभाव करने के बजाय मानवाधिकारों के नियमों की निगरानी के लिए अलग मानवाधिकार प्रकोष्ठ (सेल्स) स्थापित किए जाने चाहिए। इस मानवाधिकार प्रकोष्ठ का प्राथमिक कर्तव्य उन अप्रतिबंधित उल्लंघनों के लिए भी सुरक्षा सुनिश्चित करना है, जिनका सामना एक व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में करता है।

निष्कर्ष

किसी देश के मानवाधिकारों के नियमन का उसकी आपराधिक न्याय प्रणाली द्वारा विश्लेषण किया जा सकता है। यह लेख इस निष्कर्ष पर पहुंचता है कि आपराधिक न्याय प्रणाली में मानवाधिकारों के प्रवर्तन (एनफोर्समेंट) में लगभग हर अंतर को एक उचित जांच प्रणाली द्वारा भरा जा सकता है। एक न्यायाधीश को जांच अभ्यास में सक्रिय रूप से भाग लेना चाहिए जिससे वह एक निष्क्रिय भूमिका से बचता है और इक्विटी न्याय में अधिक विश्वसनीयता होती है जिसके परिणामस्वरूप मानवता होती है। हर उल्लंघन को सुलझाने के लिए जांच प्रक्रियाओं को प्ली बार्गेनिंग को महत्व दिया जाना चाहिए। राष्ट्रीय और राज्य मानवाधिकार आयोगों को मजबूत और अलग जांच टीम प्रदान किए जाने पर और किसी भी विभाग (डिपार्टमेंट) द्वारा किसी भी शिकायत पर या अपने स्वयं द्वारा मानवाधिकारों के किसी भी उल्लंघन की समीक्षा के लिए की गई किसी भी कार्यवाही का संज्ञान लेने पर कोई प्रतिबंध नहीं है और यह उनकी शक्तियों को बढ़ाने और उनकी उद्देश्यों की रक्षा करने में सहायता करेगा।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here