कोविड-19 महामारी के दौरान विवाह प्रमाणपत्र कैसे प्राप्त करें

0
1541
Hindu Marriage Act
Image Source- https://rb.gy/3xayrg

यह लेख नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ़ स्टडी एंड रिसर्च इन लॉ, रांची की Gursimran Kaur Bakshi ने लिखा है।  यह लेख आपको कोविड-19 महामारी के दौरान विवाह प्रमाणपत्र (सर्टिफिकेट) के लिए आवेदन (एप्लाई) करने के तरीके के बारे में मार्गदर्शन करेगा। इस लेख का अनुवाद Sakshi Gupta द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय (इंट्रोडक्शन)

इसमें कोई संदेह नहीं है कि कैसे कोविड-19 महामारी ने कई लोगों की योजनाओं को बुरी तरह प्रभावित किया है जो शादी करने की योजना बना रहे थे। अब, शादी करने के लिए, एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि दो लोगों के लिए एक दूसरे से शादी करने की आवश्यकता है। फिर भी, विवाह रजिस्ट्रेशन और विवाह प्रमाण पत्र प्राप्त करने की प्रक्रिया कठिन बनी हुई है। महामारी के साथ, यह एक कठिन कार्य बन गया है।

आइए समझते हैं, पहले, सामान्य परिस्थितियों में, कोई व्यक्ति विवाह प्रमाण पत्र के लिए कैसे आवेदन कर सकता है और कोविड-19 महामारी के दौरान यह प्रक्रिया कैसे बदल गई है।

ऐसे कौन से कानून हैं जिनके माध्यम से आप विवाह प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकते हैं?

भारत में विवाह दो प्रमुख एक्टों, हिंदू मैरिज एक्ट, 1955 और स्पेशल मैरिज एक्ट, 1954 के माध्यम से नियंत्रित (रेगुलेट) किया जाता है। आइए पहले समझते हैं कि दो एक्टों के तहत विवाह की परिभाषा क्या है।

हिंदू मैरिज एक्ट, 1955 के तहत विवाह और रजिस्ट्रेशन की शर्तें

हिंदू मैरिज एक्ट, 1955 के तहत, विवाह को पुरुष और महिला के बीच एक पवित्र संस्था (इंस्टीट्यूशन) माना जाता है। यह एक्ट उन व्यक्तियों पर लागू होता है जो धारा 2(1) के अनुसार हिंदू (विरशैव, लिंगायत या ब्रह्मो, प्रार्थना या आर्य समाज के अनुयायी (फॉलोवर्स)), बौद्ध, जैन और सिख हैं।

  • एक्ट के तहत शादी करने की शर्तें

एक्ट की धारा 5 के तहत विवाह को संपन्न करने के लिए आवश्यक शर्तें हैं:

  1. विवाह केवल दो हिंदुओं के बीच किया जा सकता है, जिनमें से एक पुरुष है जिसने 21 वर्ष की आयु पूरी कर ली है और दूसरी महिला है, जिसने शादी के समय 18 वर्ष की आयु पूरी कर ली है।
  2. दोनों में से किसी का भी विवाह के समय जीवनसाथी नहीं होना चाहिए।
  3. उनमें से कोई भी मानसिक अस्वस्थता के परिणामस्वरूप वैध सहमति देने में असमर्थ नही होना चाहिए। यदि पार्टियों में से एक वैध सहमति देने में सक्षम है, लेकिन इस तरह के मानसिक विकार (डिसऑर्डर) से पीड़ित है या इस हद तक कि वह शादी और बच्चों के प्रजनन (प्रोक्रिएशन) के लिए अनुपयुक्त (अनफिट) है, इसमें एक ऐसी स्थिति भी शामिल है जिसमे व्यक्ति पागलपन के बार-बार हमलों से पीड़ित होता है। इन शर्तों को विवाह करने में असमर्थता (इंकेपेबिलिटी) माना जाता है।
  4. अंत में, पार्टियों को निषिद्ध संबंधों की डिग्री (डिग्री ऑफ प्रोहिबिटेड रिलेशनशिप) के भीतर नहीं होना चाहिए, जिसमें वे एक-दूसरे के सपिंदा नहीं हैं। इसका एक अपवाद (एक्सेप्शन) यह है कि प्रत्येक पार्टी को शासित करने वाली प्रथा दोनों के बीच विवाह की अनुमति देती है।

अब, ये वे शर्तें हैं जिन्हें एक्ट के तहत पार्टियों द्वारा एक-दूसरे से शादी करने के लिए पूरा करना आवश्यक है। एक बार ये हो जाने के बाद, अगला कदम एक्ट की धारा 7 के तहत प्रथागत (कस्टमरी) संस्कारों और समारोहों के अनुसार हिंदू विवाह करना है। इस तरह के संस्कारों और समारोहों में सप्तपदी शामिल हो सकती है जो पवित्र अग्नि (सात फेरे) से पहले दूल्हे और दुल्हन द्वारा संयुक्त रूप से सात कदम उठाने की एक रस्म है। एक बार ऐसा करने के बाद, अंतिम सातवां कदम उठाए जाने पर विवाह को पूर्ण और बाध्यकारी कहा जाता है।

  • एक्ट के तहत विवाह रजिस्ट्रेशन की शर्तें

अगला और सबसे महत्वपूर्ण कदम है शादी के लिए रजिस्ट्रेशन करना। विवाह का रजिस्ट्रेशन संबंधित राज्य सरकार के लिए एक्ट की धारा 8 के तहत हिंदू विवाह रजिस्टर के तहत इसका प्रमाण बनाए रखने के लिए किया जाता है। हिंदू विवाह रजिस्टर के तहत, राज्य सरकार की आवश्यकता होती है कि विवाह से संबंधित कुछ विवरण (पार्टिकुलर) नियमों के तहत निर्धारित (प्रेस्क्राइब्ड) तरीके से दर्ज किए जाते हैं और ऐसा करने में विफलता के परिणामस्वरूप 25 रुपये तक का जुर्माना हो सकता है। विवाह के रजिस्ट्रेशन के लिए नियम बनाने की शक्ति का प्रयोग संबंधित राज्य सरकारों द्वारा किया जाता है। सुप्रीम कोर्ट ने सीमा बनाम अश्विनी कुमार (2006) में कहा है कि राज्य सरकार को विवाह के अनिवार्य रजिस्ट्रेशन के लिए नियम बनाने चाहिए।

कुछ राज्यों ने विवाह के अनिवार्य रजिस्ट्रेशन को नियंत्रित करने वाले कानून बनाए हैं और फैसले के बाद से, अन्य राज्यों ने भी इसे लागू किया है। य़े हैं:

स्पेशल मैरिज एक्ट, 1954 के तहत विवाह और रजिस्ट्रेशन की शर्तें

  • एक्ट के तहत शादी करने की शर्तें

स्पेशल मैरिज एक्ट, 1954 की धारा 4 के तहत निर्धारित विवाह की शर्तें लगभग हिंदू मैरिज एक्ट, 1955 की धारा 5 के समान ही हैं। अंतर यह है कि स्पेशल मैरिज एक्ट, 1954 में,  निषिद्ध संबंधों के बीच विवाह की अनुमति है, यदि कम से कम एक पार्टी के रीति-रिवाज इसकी अनुमति देते है।

हिंदू मैरिज एक्ट, 1955 के तहत, दोनों पार्टी के रीति-रिवाज को इसकी अनुमति देनी चाहिए। स्पेशल मैरिज एक्ट, 1954 के संदर्भ (कॉन्टेक्स्ट) में प्रथा शब्द का अर्थ किसी भी जनजाति (ट्राइब), समुदाय (कम्युनिटी), समूह या परिवार से संबंधित व्यक्ति के संबंध में नियम है जिसे राज्य सरकार ने उनकी ओर से आधिकारिक राजपत्र (ऑफिशियल गैजेट) में अधिसूचित (नोटिफाई) किया है। जनजाति, समुदाय या समूह के सदस्यों द्वारा लगातार और समान रूप से नियम का पालन किया गया हो, यह अनुचित (अनरीजनेबल) या सार्वजनिक नीति (पॉलिसी) का विरोध नहीं करना चाहिए, और परिवार द्वारा बंद नहीं किया जाना चाहिए।

  • एक्ट के तहत रजिस्ट्रेशन की शर्तें

स्पेशल मैरिज एक्ट, 1954 के तहत रजिस्ट्रेशन के लिए राज्य सरकार द्वारा एक विवाह अधिकारी की नियुक्ति (अपॉइंट) की जाती है, जिसे विवाह संपन्न होने से पहले लिखित रूप में विवाह की सूचना देनी होती है। नोटिस उस जिले के विवाह अधिकारी को एक्ट की दूसरी अनुसूची (शेड्यूल) में निर्दिष्ट (स्पेसिफाई) फॉर्म में दिया जाना चाहिए जहां विवाह के लिए कम से कम एक पार्टी नोटिस की तारीख से 30 दिन पहले रहती हो। विवाह अधिकारी विवाह पर आपत्तियां (ऑब्जेक्शन) आमंत्रित करने के लिए नोटिस प्रकाशित (पब्लिश) कर सकता है। हालांकि, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सफिया सुल्ताना बनाम उत्तर प्रदेश राज्य (2021) के फैसले के अनुसार नोटिस प्रकाशित करने की कोई अनिवार्य आवश्यकता नहीं है। अदालत ने माना कि भारतीय संविधान के आर्टिकल 21 के तहत निजता (प्राइवेसी) के मौलिक अधिकार (फंडामेंटल राइट्स) की आवश्यकताओं के अनुरूप (इन लाइन) नोटिस को अनिवार्य रूप से प्रकाशित करने के लिए एक्ट की धारा 6(2) संवैधानिक रूप से अनुमेय (इंपर्मिसिबल) है।

इसके अलावा, तीन गवाहों के साथ पार्टियों को विवाह अधिकारी की उपस्थिति में तीसरी अनुसूची में निर्दिष्ट फॉर्म के अनुसार एक घोषणा (डिक्लेरेशन) पर हस्ताक्षर करने की आवश्यकता होती है और घोषणा पर विवाह अधिकारी द्वारा प्रतिहस्ताक्षर (काउंटरसाइन) किया जाएगा। विवाह को विवाह अधिकारी की उपस्थिति में या तीन गवाहों की उपस्थिति में पार्टियों के साथ उचित दूरी पर और विवाह अधिकारी ने घोषणा की, “मैं, (ए), (बी), को मेरी वैध पत्नी (या पति) मानता हु”।

अंत में, विवाह संपन्न हो जाने के बाद, विवाह अधिकारी विवाह प्रमाण पत्र बुक में चौथी अनुसूची में निर्दिष्ट फॉर्म में एक प्रमाण पत्र दर्ज करेगा और इस तरह के प्रमाण पत्र पर शादी के पार्टी और तीन गवाहों द्वारा एक्ट की धारा 13 के अनुसार हस्ताक्षर किए जाएंगे।

विवाह को अनिवार्य रूप से रजिस्टर करने के कारण

एक कारण है कि सुप्रीम कोर्ट और विभिन्न अन्य हाई कोर्ट्स ने विवाह के अनिवार्य रजिस्ट्रेशन के लिए पुष्टि की है। विवाह को आधिकारिक रूप से रजिस्टर करना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह उन मामलों में साक्ष्य के रूप में एक महिला को सुरक्षा प्रदान करता है जहां पति या इसके विपरीत विवाह के अस्तित्व से इनकार करता है। अनिवार्य रजिस्ट्रेशन राज्य को प्रोहिबिशन ऑफ चाइल्ड मैरिज एक्ट, 2006 के तहत अवैध रूप से हो रहे बाल विवाहों की संख्या और माता-पिता के अलग होने का निर्णय लेने पर बच्चे की कस्टडी पर नज़र रखने की अनुमति देता है।

यह प्रोटेक्शन ऑफ़ वूमेन अगेंस्ट डोमेस्टिक वायलेंस एक्ट, 2005 के तहत महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करता है, क्रिमिनल प्रोसिजर कोड, 1973 की धारा 125 के तहत रखरखाव (मेंटेनेंस) की मांग और पार्टियों के वैवाहिक अधिकारों की बहाली (रेस्टिट्यूशन) के लिए है।  यह इंडियन पीनल कोड 1860,  की धारा 498A के तहत दहेज हत्या के अपराधी को दंडित करने में भी राज्य की मदद करेगा। साथ ही, दहेज मृत्यु के दावों की किसी भी तुच्छ याचिका का मुकाबला करने के लिए विवाह का प्रमाण भी आवश्यक है।

विभिन्न राज्य विधानों के तहत विवाह रजिस्ट्रेशन के लिए स्टेप्स

  • उत्तर प्रदेश हिंदू प्मैरिज रजिस्ट्रेशन रुल्स, 1973 के तहत

इन नियमों के अनुसार, पार्टियों द्वारा एक्ट के तहत उल्लिखित अपेक्षित (मेंशन्ड) अदालती शुल्क के साथ फॉर्म-A भरने के बाद, रजिस्ट्रार जनरल विवाह रजिस्टर में विवाह के विवरण दर्ज कर सकते हैं। रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन दो प्रतियों (डुप्लीकेट) में उस रजिस्ट्रार के पास किया जाएगा जिसके अधिकार क्षेत्र (ज्यूरिसडिक्शन) में विवाह सम्पन्न किया गया है और इसे तीन प्रतियो में पास किया जाएगा यदि विवाह उस अधिकार क्षेत्र के तहत सम्पन्न किया जाता है जहां पति स्थायी (पर्मानेंट) रूप से रहता है।

  • पंजाब कंपल्सरी रजिस्ट्रेशन ऑफ़ मैरिज एक्ट, 2012 के तहत

शादी से तीन महीने की अवधि के भीतर, पार्टी (विवाहित दूल्हा और दुल्हन), उनके माता-पिता या रिश्तेदार में से कोई भी एक विवाह ज्ञापन (मेमोरेंडम) तैयार करेगा और उस पर हस्ताक्षर करेगा और उसकी एक प्रति विवाह रजिस्ट्रार को प्रस्तुत की जानी चाहिए। इसे पुजारी द्वारा हस्ताक्षरित किया जाएगा, पार्टियों द्वारा सत्यापित (अटेस्ट) किया जाएगा, और इसके साथ अपेक्षित न्यायालय शुल्क टिकटें होनी चाहिए। ज्ञापन में यह साबित होना चाहिए कि विवाह व्यक्तिगत संस्कारों और समारोहों के अनुसार हुआ है, इस बात की गवाही देने के लिए गवाह होना चाहिए कि विवाह हो चुका है, और पार्टियों की वैवाहिक स्थिति स्पष्ट होनी चाहिए। यदि सभी जानकारी विवादित नहीं है, तो रजिस्ट्रार इसे विवाह रजिस्टर में दर्ज कर सकता है। यदि रजिस्ट्रार द्वारा आपत्तियों को इंगित (इंडिकेट) किया जाता है, तो उन्हें रजिस्ट्रार द्वारा मांगी गई जानकारी और साक्ष्य के साथ हल किया जा सकता है। विवाह ज्ञापन प्रस्तुत करने में अधिकतम विलंब (डिले) 3 माह की निर्धारित अवधि के बाद 6 माह से अधिक नहीं होना चाहिए।

  • दिल्ली (कंपल्सरी रजिस्ट्रेशन ऑफ़ मैरिज) ऑर्डर, 2014 के तहत

विवाह अधिकारी को विवाह के 60 दिनों के भीतर विवाह का रजिस्ट्रेशन कराना होगा, उस दिन को छोड़कर जब विवाह संपन्न हुआ था। पार्टियों को संयुक्त रूप से दस्तावेजी सबूत के साथ फॉर्म-A भरना होता है जैसे समारोह की तस्वीरें, शादी की जगह, पार्टियों की पहचान के लिए नाम होगे। इन सब के साथ 200 रुपए फीस देनी होगी। संतुष्ट होने पर, अधिकारी रजिस्टर में विवरण दर्ज कर सकता है और पार्टियों से अनुरोध (रिक्वेस्ट) कर सकता है कि वे दो गवाहों के साथ दिल्ली के स्थायी निवास प्रमाण को प्रमाणित करने के लिए फिर से पेश हों। पार्टियां 10 हजार रुपये की फीस के साथ तत्काल रजिस्ट्रेशन का भी लाभ उठा सकती हैं।

कोविड-19 महामारी के दौरान विवाह प्रमाणपत्र के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के स्टेप्स

चूंकि पार्टियों के नजदीकी अधिकार क्षेत्र में मैरिज रजिस्ट्रार के पास जाकर शादी को पंजीकृत करना असंभव है, वे ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से इसका विकल्प चुन सकते हैं। राज्य सरकारें अपने संबंधित एक्टों के तहत हिंदू मैरिज एक्ट, 1955, स्पेशल मैरिज एक्ट, 1954 और किसी भी अन्य विवाह एक्ट के तहत विवाह के रजिस्ट्रेशन के लिए ऑनलाइन पोर्टल स्थापित (एस्टेब्लिश) करने की शक्ति रखती हैं। इनमें से कुछ पोर्टलों के लिंक नीचे दिए गए हैं:

  • दिल्ली

ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन दिल्ली सरकार के ई-डिस्ट्रिक्ट पोर्टल के माध्यम से किया जा सकता है जहां उपयोगकर्ता (यूजर) को पहले वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने के विकल्प पर क्लिक करना होगा, फिर ‘सेवाओं के लिए आवेदन’ के विकल्प पर क्लिक करना होगा जहां विकल्प 32 के तहत विवाह का रजिस्ट्रेशन डिपार्टमेंट ऑफ रेवेन्यू के तहत होगा।  डाउनलोड के विकल्प पर जाएं, उसके भीतर विकल्प संख्या 31 पर क्लिक करें और रजिस्ट्रेशन फॉर्म डाउनलोड करें। रजिस्ट्रेशन आधार आधारित है और पार्टियों को एक घोषणा के साथ पार्टियों की पहचान, शादी के संस्कार, गवाहों और शादी के स्थान पर बुनियादी (बेसिक) दस्तावेजी विवरण भरने की आवश्यकता होती है।

  • उत्तर प्रदेश

रजिस्ट्रेशन आईजीआरएसयूपी वेबसाइट के माध्यम से किया जा सकता है। विवाह का रजिस्ट्रेशन आधार आधारित है और दोनों पार्टी ऑनलाइन फॉर्म भरकर रजिस्ट्रेशन कर सकती हैं।

  • महाराष्ट्र

विवाह को बॉम्बे म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन की वेबसाइट के माध्यम से पंजीकृत किया जा सकता है। वेबसाइट पर जाएं, ‘माई सिटिजन’ विकल्प पर क्लिक करें, फिर विवाह के रजिस्ट्रेशन का विकल्प चुनें। एक ऑनलाइन फॉर्म-D दिखाई देगा जो विवाह का एक ज्ञापन है जिसे पार्टियों को भरना होता है। तीन गवाहों और पुजारी के विवरण के साथ दूल्हा और दुल्हन दोनों का विवरण उनकी पहचान और निवास प्रमाण के साथ आवश्यक है। सभी विवरण भरने होंगे और प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए भुगतान करना होगा।

  • गोवा

पार्टियां डिपार्टमेंट ऑफ रजिस्ट्रेशन द्वारा विवाह पोर्टल के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के माध्यम से रजिस्ट्रेशन कर सकती हैं। पहला कदम आवेदक (एप्लीकेंट) रजिस्ट्रेशन विकल्प पर क्लिक करना है, अपने निवास के तालुका के भीतर विवाह रजिस्ट्रार कार्यालय का चयन करें, दूल्हा और दुल्हन की तस्वीरों की स्कैन की गई प्रतियां, दोनों के जन्म प्रमाण पत्र के दस्तावेज, निवास के प्रमाण के एक दस्तावेज, दोनों के प्रमाण की पहचान, और गवाह के प्रमाण दस्तावेज को अपलोड करें। 

  • मध्य प्रदेश

रजिस्ट्रेशन ई-नगर पालिका पोर्टल के माध्यम से किया जा सकता है। ‘आवेदन करने के लिए’ विकल्प पर क्लिक करें और फॉर्म में आगे बढ़ने के लिए एक शहर चुनें। विवरण भरने के लिए दूल्हा, दुल्हन और गवाह के लिए अलग-अलग विकल्प दिखाई देंगे और फिर दस्तावेज अपलोड किए जा सकते हैं। दो गवाहों का विवरण आवश्यक है। दूल्हा और दुल्हन की अलग-अलग तस्वीरें, शादी की तस्वीरें, पार्टियों का आईडी प्रूफ, दोनों का अंडरटेकिंग और गवाहों का आईडी प्रूफ दस्तावेजों के रूप में अपलोड करना होगा। शादी के 6 महीने के अंदर मैरिज सर्टिफिकेट लेना जरूरी है।

  • हरियाणा

रजिस्ट्रेशन, हरियाणा मैरिज रजिस्ट्रेशन पोर्टल के माध्यम से किया जा सकता है। सबसे पहले वेबसाइट पर रजिस्टर करें और अकाउंट बनाएं। एक बार जब आप रजिस्टर और साइन इन कर लेते हैं, तो रजिस्टर मैरिज के विकल्प पर क्लिक करें और फिर रजिस्ट्रेशन का क्षेत्र और स्थान भरें। वर, वधू और दो गवाहों का विवरण उनके पहचान प्रमाण के साथ भरना होगा। एक बार विवरण भरने और भुगतान हो जाने के बाद, पार्टियों को मेरे रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करके और फिर दृश्य टैब पर निकटतम विवाह रजिस्ट्रार से मिलने का समय निर्धारित करना होगा।

  • पंजाब

विवाह रजिस्ट्रेशन फॉर्म पंजाब सरकार के पोर्टल पर उपलब्ध है, सेवाओं का लाभ उठाने के विकल्प पर क्लिक करें, फिर शादी के रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करें, पुजारी की घोषणा के साथ दूल्हा, दुल्हन और दो गवाहों का विवरण भरें और सबमिट कर दें।

निष्कर्ष (कंक्लूज़न)

विवाह का रजिस्ट्रेशन कोई बहुत कठिन कार्य नहीं है बशर्ते (प्रोवाइडेड) विवाह की रस्में और संस्कार पार्टियों के व्यक्तिगत कानूनों के अनुसार हों और इसे प्रमाणित करने के लिए पर्याप्त दस्तावेजी प्रमाण हों। कोविड-19 के साथ, रजिस्ट्रेशन के ये पारंपरिक तरीके काम नहीं कर सकते हैं और इसलिए, न्यूनतम जैसे कि गवाहों के सामने समारोह करना, पार्टियों की पहचान, और विवाह सम्पन्न होने के प्रमाण को पार्टियों द्वारा ठीक से बनाए रखा जाना चाहिए।

इसके अलावा, रजिस्ट्रेशन में देरी नहीं होनी चाहिए क्योंकि महामारी के दौरान सामान्य से अधिक समय लग सकता है। यह सुझाव दिया जाता है कि केंद्र सरकार विवाह प्रमाण पत्र, तलाक प्रमाण पत्र, और इसी तरह के अन्य दस्तावेजों के रजिस्ट्रेशन और जारी करने के लिए एक समान कानून बनाए ताकि राज्यों के विभिन्न कानूनों में असमानता हो जो अक्सर आम नागरिक को भ्रमित करते हैं।

संदर्भ (रेफरेंसेस)

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here