अनुबंधों में धोखाधड़ी और गलतबयानी

0
185

यह लेख लॉसिखो से डिप्लोमा इन एडवांस्ड कॉन्ट्रैक्ट ड्राफ्टिंग, नेगोशिएशन एंड डिस्प्यूट रिजोल्यूशन कोर्स की छात्रा Divyani Newar द्वारा लिखा गया है। इस लेख में अनुबंधों में धोखाधड़ी (फ्रॉड) और गलतबायनी (मिसरिप्रेजेंटेशन) पर चर्चा की गई है। इस लेख का अनुवाद Shreya Prakash के द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय

आज के विकास के आधुनिक युग में, अनुबंध कानून प्रत्येक व्यावसायिक उद्यम (वेंचर) के लिए आवश्यक है। व्यवसायों से जुड़े अनुबंधों सहित, लगभग हर दिन बहुत सारे अनुबंध किए जाते हैं। 1872 का भारतीय अनुबंध अधिनियम भारत पर शासन करने वाला प्राथमिक कानून है और इसमें भारत में अनुबंधों से संबंधित सभी कानून शामिल हैं।

अधिनियम की धारा 14 अनुबंधों में स्वतंत्र सहमति की अवधारणा पर प्रकाश डालती है। कानूनी रूप से बाध्यकारी अनुबंध में स्वतंत्र सहमति का आवश्यक घटक शामिल होना चाहिए। यह जानने के लिए कि कोई अनुबंध वैध है या नहीं, मानक अनुबंधों में उनके व्यापक उपयोग के कारण धोखाधड़ी और गलत बयानी जैसे मुद्दों पर सावधानीपूर्वक विचार करने की आवश्यकता होती है।

एक वैध अनुबंध क्या है

किसी समझौते को कानूनी रूप से बाध्यकारी अनुबंध के रूप में लागू करने के लिए स्वतंत्र सहमति होनी चाहिए। भारतीय अनुबंध अधिनियम 1872 की धारा 13 के अनुसार, जब दो व्यक्ति एक ही मामले पर एक-दूसरे के साथ समझौते पर पहुंचते हैं, तो उन्हें सहमत माना जाता है।

सभी आवश्यकताओं को पूरा करने वाले अनुबंध वैध माने जाते हैं और उन्हें अदालत में लागू किया जा सकता है। एक वैध अनुबंध के तहत पक्ष अपनी भूमिका निभाने के लिए कानूनी रूप से बाध्य हैं। अनुबंध मौखिक, लिखित या पक्षों के आचरण से किए जा सकते हैं।

एक वैध अनुबंध के तत्व

अनुबंध आज की आधुनिक और सभ्य दुनिया का आधार हैं। भारत में अनुबंधों को नियंत्रित करने वाले कानून भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 के अधीन हैं। भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 की धारा 10 बताती है कि अनुबंध क्या होता है। धारा 10 के अनुसार, एक अनुबंध कानून द्वारा लागू किया जाने वाला एक समझौता है। इसमें निम्नलिखित तत्व शामिल हैं:

  1. प्रस्ताव और स्वीकृति: एक अनुबंध तब अस्तित्व में आता है जब एक पक्ष (प्रस्तावक- ऑफरर) दूसरे पक्ष (प्रस्तावितकर्ता- ऑफरी) को एक प्रस्ताव देता है, और प्रस्तावकर्ता प्रस्ताव स्वीकार कर लेता है। एक प्रस्ताव कानूनी रूप से बाध्यकारी समझौते में प्रवेश करने का एक प्रस्ताव है, जबकि स्वीकृति प्रस्ताव की शर्तों के लिए एक बिना शर्त समझौता है।
  2. कंसेंसस एड आईडम: पक्षों के बीच एक कंसेंसस एड आईडम, या “मन की समानता” होनी चाहिए। इसका मतलब यह है कि दोनों पक्षों को अनुबंध के नियमों और शर्तों की समान समझ होनी चाहिए। कोई भी गलतफहमी या अस्पष्टता अनुबंध को अमान्य कर सकती है।
  3. प्रतिफल (कंसीडरेशन): प्रतिफल वह कीमत है जो दूसरे के वादे के लिए चुकाई जाती है या जब कुछ देने का वादा किया जाता है। यह कुछ भी मूल्यवान हो सकता है, जैसे धन, सामान, सेवाएँ, या कुछ करने या न करने का वादा। बाध्यकारी अनुबंध बनाने के लिए प्रतिफल पर्याप्त और कानूनी रूप से मूल्यवान होना चाहिए।
  4. कानूनी क्षमता: अनुबंध के पक्षों के पास कानूनी रूप से बाध्यकारी समझौते में प्रवेश करने की कानूनी क्षमता होनी चाहिए। नाबालिगों, विकृत दिमाग वाले व्यक्तियों और नशे या नशीली दवाओं के प्रभाव में रहने वाले व्यक्तियों में अनुबंध करने की क्षमता नहीं हो सकती है।
  5. स्वतंत्र सहमति: किसी अनुबंध के पक्षों की सहमति स्वतंत्र और स्वैच्छिक होनी चाहिए। इसे धोखाधड़ी, गलत बयानी, अनुचित प्रभाव, जबरदस्ती या दबाव के माध्यम से प्राप्त नहीं किया जा सकता है। दबाव या अनुचित प्रभाव में किया गया अनुबंध पीड़ित पक्ष की इच्छा पर रद्द किया जा सकता है।
  6. वैध उद्देश्य: अनुबंध का उद्देश्य वैध होना चाहिए। एक अनुबंध जिसमें अवैध या अनैतिक गतिविधियाँ शामिल हैं वह शून्य और अप्रवर्तनीय है।
  7. निश्चितता: अनुबंध की शर्तें निश्चित और सुनिश्चित होनी चाहिए। अस्पष्ट या संदिग्ध शर्तें अनिश्चितता के कारण अनुबंध को शून्य कर सकती हैं।
  8. निष्पादन की संभावना: अनुबंध की शर्तों को निष्पादित करने में सक्षम होना चाहिए। किसी असंभव कार्य को करने का अनुबंध शून्य है।
  9. लिखित या मौखिक: सामान्य तौर पर, अनुबंध या तो लिखित या मौखिक हो सकते हैं। हालाँकि, कुछ प्रकार के अनुबंध, जैसे कि एक निश्चित मूल्य से अधिक भूमि या सामान की बिक्री से जुड़े अनुबंध, लागू करने योग्य होने के लिए लिखित रूप में होने चाहिए।
  10. पंजीकरण: कुछ मामलों में, जैसे कि जब अनुबंध में अचल संपत्ति का हस्तांतरण शामिल होता है, तो अनुबंध को कानूनी रूप से वैध होने के लिए उपयुक्त सरकारी अधिकारियों के साथ पंजीकृत होना चाहिए।

इन आवश्यक तत्वों को पूरा करने से, एक समझौता भारतीय अनुबंध अधिनियम 1872 की धारा 10 के तहत कानूनी रूप से लागू करने योग्य अनुबंध बन जाता है।

स्वतंत्र सहमति: वैध अनुबंध का एक अनिवार्य तत्व

जब दो व्यक्ति किसी अनुबंध में शामिल होते हैं तो दोनों पक्षों के बीच बैठक और विचारों के आदान-प्रदान की आवश्यकता होती है। इसका तात्पर्य यह है कि दोनों पक्षों को एक ही मामले पर एक समान तरीके से समझौता करना होगा। जब कोई व्यक्ति स्वेच्छा से दूसरे के सुझाव या इच्छा को अपनाता है तो इसे सहमति कहा जाता है।

कंसेंसस एड आईडम की अवधारणा के अनुसार अनुबंध के पक्षों का उद्देश्य और इरादा समान होना चाहिए। जब अनुबंध में शामिल सामग्री की बात आती है तो पक्षों को उसपर सहमत होना चाहिए।

भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 14 स्वतंत्र सहमति को परिभाषित करती है। इसमें कहा गया है कि एक सहमति को स्वतंत्र माना जाता है यदि इसमें जबरदस्ती (धारा 15), अनुचित प्रभाव (धारा 16), धोखाधड़ी (धारा 17), गलत बयानी (धारा 18) और गलती (धारा 20, 21 और 22) जैसे तत्व शामिल नहीं हैं।

शून्यकरणीय अनुबंध 

भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 19 स्वतंत्र सहमति की कमी होने पर समझौतों की शून्यकरणीयता को संबोधित करती है। यदि यह पाया जाता है कि पक्षों के बीच हुए अनुबंध में ऊपर उल्लिखित भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 15 से 18 में से कोई भी तत्व शामिल है, तो समझौते को उस पक्ष की पसंद पर शून्यकरणीय माना जाएगा जिसकी सहमति ऐसे ली गई थी।

अनुबंधों में धोखाधड़ी

धोखाधड़ी की अवधारणा

भारतीय अनुबंध अधिनियम धोखाधड़ी को अपराधी को गैरकानूनी लाभ लेने के इरादे से जानबूझकर धोखे के कार्य के रूप में परिभाषित करता है, या दूसरी ओर, पीड़ित के अधिकारों को जब्त कर लेता है, जो कि धारा 17 के प्रारंभिक खंडों में शामिल हैं। धोखाधड़ी तब होती है जब एक व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति के खर्च पर अनैतिक और गैरकानूनी लाभ प्राप्त करता है, जो धोखे का कार्य होता है। झूठा दावा एक तथ्य होना चाहिए, न कि केवल एक व्यक्ति की राय। यदि हानि न हो तो धोखाधड़ी हो ही नहीं सकती। किसी पक्ष को यह दावा करने के लिए कुछ वास्तविक नुकसान उठाना होगा कि उनके खिलाफ धोखाधड़ी की गई है।

कॉर्पोरेट धोखाधड़ी के मुद्दों से निपटने वाला नियामक ढांचा 2013 का कंपनी अधिनियम है, जिसके तहत धारा 447 के तहत धोखाधड़ी को परिभाषित किया गया है। जैसे-जैसे तकनीक विकसित हुई है, ऑनलाइन धोखाधड़ी में वृद्धि हुई है, और हाल के दिनों में, कानून ने धोखाधड़ी को एक गंभीर अपराध बना दिया है।

धोखाधड़ी का कार्य एक व्यक्ति, एक से अधिक व्यक्तियों, व्यक्तियों के समूह या संपूर्ण निगम द्वारा किए जा सकते हैं। अर्थव्यवस्था को हर साल अरबों की धोखाधड़ी के परिणामों का सामना करना पड़ता है और इसमें शामिल लोगों को दोषी पाए जाने पर जुर्माना से मुआवजा देना और यहां तक ​​​​कि कारावास भी हो सकता है। भारतीय अनुबंध अधिनियम धोखाधड़ी की गंभीरता को पहचानता है और उन पीड़ितों को कानूनी उपचार प्रदान करता है जिन्हें धोखाधड़ी प्रथाओं के कारण नुकसान हुआ है। यह संविदात्मक संबंधों में ईमानदारी, पारदर्शिता और निष्पक्ष व्यवहार के महत्व पर प्रकाश डालता है और धोखाधड़ी वाले आचरण को संबोधित करने और रोकने के लिए एक कानूनी ढांचा निर्धारित करता है।

उदाहरण: A ने अपनी कार B को यह कहते हुए बेच दी कि यह अच्छी स्थिति में है जबकि वह जानता था कि यह अच्छी स्थिति में नहीं है। किसी भी तरह से अपनी कार को बेचने के इरादे से, वह इस मामले में अपने खरीदार के खिलाफ धोखाधड़ी का दोषी है।

धोखाधड़ी के घटक

  • पहले यह सुनिश्चित किए बिना तथ्य बताना कि वे सत्य हैं या नहीं:

गलत जानकारी देना और उस पर कार्रवाई करने के लिए किसी व्यक्ति पर दबाव डालना धोखाधड़ी है।

  • तथ्यों को सक्रिय रूप से छुपाया जाना चाहिए:

सक्रिय छिपाव तब होता है जब कानूनी दायित्व वाला एक पक्ष दूसरे से आवश्यक संविदात्मक विवरण छुपाता है।

  • ऐसा कोई वादा किया जाना चाहिए जिसे पूरा करने की मंशा न हो:

किसी ऐसी बात को कहना या कुछ करना धोखाधड़ी माना जाता है, जिसे पूरा करने की कोई योजना नहीं है।

  • लापरवाह और अस्पष्ट बयान:

यदि वास्तविक और ईमानदार विश्वास का कोई सबूत नहीं है, तो यह धोखाधड़ी की श्रेणी में आता है, भले ही दावा कितनी भी लापरवाही से या जानबूझकर किया गया हो।

मौन रहने का तत्व

भारतीय अनुबंध अधिनियम 1872 के प्रावधानों के अनुसार, केवल मौन रहना धोखाधड़ी के रूप में योग्य नहीं है। हालाँकि, भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 17 की व्याख्या उन शर्तों को बताती है जिनके तहत मौन रहने को धोखाधड़ी के रूप में समझा जा सकता है। ऐसे अपवाद जब मौन रहने को धोखाधड़ी माना जा सकता है:

  • बोलना कर्तव्य है: जब अनुबंध में एक पक्ष दूसरे पर विश्वास रखता है, तो संवाद करने का कर्तव्य उत्पन्न होता है।
  • परिवर्तनों के बारे में सूचित करना कर्तव्य है: कभी-कभी, किसी के द्वारा दिया गया कथन सत्य हो सकता है, लेकिन जब दूसरा व्यक्ति उस पर अमल करता है, तो परिस्थितियों में बदलाव के कारण वह गलत साबित हो सकता है। इन स्थितियों में, प्रतिनिधि को परिस्थितियों में बदलाव के बारे में दूसरे पक्ष को सूचित करना चाहिए।
  • जहां मौन रहना भ्रामक हो सकता है: जहां मौन रहना धोखाधड़ी के बराबर होता है और दूसरे पक्ष को उचित जांच के माध्यम से इसके बारे में जानने का अवसर मिलता है।
  • आधा सच है: किसी व्यक्ति को उन स्थितियों में धोखाधड़ी का दोषी पाया जा सकता है जहां उन्हें जानकारी देने की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन अपनी स्वतंत्र इच्छा से, वह कुछ प्रकट करते हैं और फिर बीच में ही रुक जाते हैं।

सबूत का बोझ

कथित धोखाधड़ी का आरोप लगने की स्थिति में, वादी सबूत का भार वहन करता है। वादी को धोखाधड़ी का गठन करने वाली परिस्थितियों का दावा करने के लिए मामले का विवरण प्रस्तुत करना होगा। धोखाधड़ी को स्थापित करने के लिए मनःस्थिति का प्रमाण लेना आवश्यक है। जब पक्ष एक ही स्तर पर नहीं होते हैं तो कानून धोखाधड़ी की स्वीकार्य संभावना पैदा करता है। दूसरी ओर, कोई भी पक्ष उस लेनदेन से बढ़त हासिल नहीं कर सकता जिसमें दोनों पक्ष समान स्थिति में हों।

कानूनी परिणाम या उपाय

जब भी किसी समझौते में जबरदस्ती, धोखाधड़ी, गलत बयानी या अनुचित प्रभाव शामिल होता है, तो यह भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 19 के तहत उस पक्ष के विवेक पर शून्यकरणीय हो जाता है जिसकी सहमति इस तरह से प्राप्त की गई थी।

यदि धोखाधड़ी या गलत बयानी का कोई कार्य हुआ है जिसके परिणामस्वरूप अनुबंध पर दूसरे पक्ष की सहमति हुई है, तो वह पक्ष, यदि उचित हो, तो मांग कर सकता है कि उसे उसी स्थिति में रखा जाए जिसमें वह खुद को पाता यदि दावे सटीक होते।

धोखाधड़ी या धोखा भी एक टॉर्ट की श्रेणी में आता है जिससे क्षति के रूप में मुआवजा मिल सकता है। यह उस पक्ष के एकमात्र विकल्प पर अनुबंध को शून्यकरणीय बनाने के अलावा धोखे से होने वाले नुकसान के दावे को जन्म देता है जिसकी सहमति सामान्य कानून के संदर्भ के अनुसार इस तरीके से प्राप्त की जाती है।

अंग्रेजी कानून के तहत धोखाधड़ी

यूके के कानून में धोखाधड़ी को किसी के लाभ के लिए गलत धारणा बनाना या किसी और को नुकसान पहुंचाने या जब कोई बाध्य हो तो भौतिक जानकारी देने से गलत तरीके से बचना के रूप में परिभाषित किया गया है। इसे अपने पद का दुरुपयोग करने के रूप में भी परिभाषित किया जा सकता है यदि किसी पर अन्य व्यक्तियों के वित्तीय हितों की रक्षा करने की जिम्मेदारी है और वह किसी अन्य पक्ष की कीमत पर स्वयं को लाभ पहुंचाने के लिए ऐसा करने में विफल रहता है, जिससे उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है।

इन्हें कानून और सामान्य कानून स्रोतों की एक श्रृंखला में परिभाषित किया गया है, जिसमें 1968 के चोरी अधिनियम और 2006 के धोखाधड़ी अधिनियम के प्रावधान शामिल हैं। अभियोजन पक्ष को यह प्रदर्शित करना होगा कि प्रतिवादी ने उन पर अपराध का आरोप लगाने के लिए गलत चित्रण या प्रतिनिधित्व किया है। 

अनुबंधों में ग़लतबयानी

ग़लतबयानी की अवधारणा

गलतबयानी को 1872 के भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 18 में संबोधित किया गया है। भारतीय अनुबंध अधिनियम के अनुसार, गलतबयानी किसी झूठी बात की सकारात्मक घोषणा है लेकिन वक्ता इसे सच मानता है, जो आम तौर पर उसके ज्ञान से समर्थित नहीं होता है। इसमें कर्तव्य के उल्लंघन का एक कार्य जहां व्यक्ति किसी पूर्वकल्पित (प्रीकंसीव्ड) झूठे विश्वास पर विश्वास करके किसी अन्य व्यक्ति को गुमराह करके, धोखा देने का इरादा किए बिना धोखे से लाभ उठाता है। भले ही गलती किसी निर्दोष इरादे से की गई हो, किसी समझौते में एक पक्ष बनाने से उस चीज़ की प्रकृति के बारे में ऐसी गलती हो जाती है जो उस समझौते की सामग्री है।

सामान्य शब्दों में, एक पक्ष द्वारा बताए गए आवश्यक तथ्य का गलत बयान जो कानूनी रूप से बाध्यकारी समझौते या अनुबंध पर हस्ताक्षर करने के दूसरे पक्ष के निर्णय को प्रभावित करता है, उसे गलत बयानी माना जाता है। अनुबंध से संबंधित किसी तथ्य के संबंध में भ्रामक बयान देना गलत बयानी कहलाता है। यह अनुबंध की पूर्ति से पहले कहा गया एक बयान है। केवल तथ्यात्मक बयानों को गलत बयानी माना जाता है, विचारों या भविष्यवाणियों को नहीं। कोई व्यक्ति उस अनुबंध को रद्द करने का विकल्प चुन सकता है जिसकी सहमति इस तरह के धोखे के माध्यम से प्राप्त की गई थी।

उदाहरण: A ने कार को गलत धारणा के तहत B को बेच दिया कि यह अच्छी स्थिति में थी, यह पूरी तरह से उसके विश्वास और इस तथ्य की अज्ञानता पर आधारित था कि कार ठीक से काम नहीं कर रही थी। वह इस मामले में अपने खरीदार को गलत बयानी देने का दोषी है।

ग़लतबयानी के घटक

  • एक अनधिकृत दावा है: जब कोई किसी बात को सच होने का दावा करता है जबकि वह वास्तव में झूठ होती है, तो इसे गलत बयानी कहा जाता है।
  • कर्तव्य का उल्लंघन: इस प्रकार की गलतबयानी से जुड़ी स्थितियों के कारण, भले ही प्रतिनिधित्व करने वाले व्यक्ति का धोखा देने का कोई इरादा न हो, फिर भी वे उस पक्ष के प्रति उत्तरदायी होते हैं जिसे उन्होंने यह विश्वास दिलाकर धोखा दिया है कि धोखाधड़ी हुई है।
  • विषय वस्तु के बारे में गलती करने का प्रयास किया गया है: यदि किसी पक्ष को अनुबंध की प्रकृति या विषय वस्तु के बारे में गलत या भ्रामक जानकारी प्रदान की जाती है और पक्ष को उस जानकारी पर विश्वास करने के लिए प्रेरित किया जाता है, तो इसे गलत बयानी माना जाएगा।

सबूत का बोझ

आरोप लगाने वाला पक्ष अनुबंध के कानून के अनुसार गलतबयानी को साबित करने के लिए सबूत का भार वहन करता है। इस बोझ से छुटकारा पाना अक्सर चुनौतीपूर्ण होता है, क्योंकि आरोप लगाने वाले को झूठे बयानों, चूक, या भौतिक तथ्यों की विकृतियों का ठोस सबूत पेश करना होगा जिसने उन्हें अनुबंध में प्रवेश करने के लिए प्रेरित किया।

कानूनी परिणाम या उपाय

संविदात्मक विवाद के इस रूप में, प्रतिवादी पर गलत बयानी का आरोप लगाया जा रहा होता है और वादी वह होता है जो आरोप लगा रहा होता है।

यदि जिस पक्ष की मंजूरी प्राप्त की गई थी, उसके पास उचित प्रयास के साथ सच्चाई का पता लगाने का साधन था, तो अनुबंध शून्यकरणीय नहीं हो जाता, भले ही सहमति अनुबंध अधिनियम की धारा 17 के दायरे में गलत बयानी या कपटपूर्ण मौन रहने का उपयोग करके प्राप्त की गई हो।

भारत में, भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 19 उस पक्ष को उपचार प्रदान करती है जो धोखाधड़ी और गलत बयानी दोनों मामलों में निर्दोष है। अनुबंध के उल्लंघन के मामले में प्रभावित पक्ष समाप्ति और क्षति सहित कानूनी उपचार का हकदार है।

1963 के विशिष्ट राहत अधिनियम के अनुसार, एक स्वीकार्य अवधि के भीतर, एक पक्ष अनुबंध को अस्वीकार करने या रद्द करने का विकल्प चुन सकता है, बशर्ते यह दिखाया जा सके कि दूसरे पक्ष ने अनुबंध के निष्पादन से पहले गलत बयानी की है। किसी अनुबंध को रद्द करना विशिष्ट राहत अधिनियम की धारा 2730 के अंतर्गत आता है।

अंग्रेजी कानून के तहत गलत बयानी

कानून से संबंधित अंग्रेजी शब्दकोशों के अनुसार, गलतबयानी तब होती है जब एक पक्ष दूसरे पक्ष को समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए राजी करने के लिए अनुबंध की बातचीत के दौरान गलत तथ्यात्मक दावा देता है। इसलिए, गलत बयानी शब्द उस स्थिति का वर्णन करता है जहां अनुबंध के पक्ष को झूठे दावे का उपयोग करके किसी अन्य पक्ष द्वारा हस्ताक्षर करने के लिए धोखा दिया गया था।

तथ्य यह है कि गलत बयानी का कानून अनुबंध के कानून और टॉर्ट के कानून के साथ-साथ अन्यायपूर्ण संवर्धन (एनरीचमेंट) के किनारे पर स्थित है, जिससे यह काफी जटिल प्रतीत होता है। टॉर्ट कानून द्वारा शासित क्षेत्र में गलतबयानी अधिक सहजता से फिट बैठती है; यह निर्धारित करना कि गलतबयानी लापरवाही से की गई थी या किसी कपटपूर्ण कार्य के माध्यम से, उन मुद्दों पर निर्भर करता है जो टॉर्ट कानून में अधिक बार उठते हैं यदि कोई क्षतिपूर्ति दी जानी चाहिए।

इंग्लैंड के मामले में, 1967 का गलतबयानी अधिनियम लापरवाही के साथ-साथ निर्दोष गलतबयानी को नियंत्रित करता है, जबकि सामान्य अंग्रेजी कानून धोखाधड़ीपूर्ण गलतबयानी को नियंत्रित करता है और छल के अपराध में क्षतिपूर्ति की पेशकश करता है।

धोखाधड़ी और गलतबयानी के बीच अंतर

धोखाधड़ी गलतबयानी
जब धोखाधड़ी होती है, तो धोखा देने वाला जानबूझकर गलत बयान देकर दूसरे पक्ष को धोखा देता है। गलत बयानी के मामलों में, व्यक्ति झूठा दावा करता है और ईमानदारी से उसे वास्तविक मानता है।
धोखाधड़ी उस पक्ष के एकमात्र विकल्प पर अनुबंध को शून्यकरणीय करने के अलावा धोखे से होने वाले नुकसान के दावे को जन्म देती है जिसकी सहमति सामान्य कानून के संदर्भ के अनुसार इस तरीके से प्राप्त की जाती है। गलत बयानी के नतीजे मुख्य रूप से अनुबंध के तहत उपचार तक ही सीमित हैं, जिसमें या तो नुकसान या अनुबंध को रद्द करना शामिल है और यह अनिवार्य रूप से एक ऐसा मामला है जो सिविल कानून के अंतर्गत आता है।
उदाहरण: यदि कोई विक्रेता संभावित खरीदार को सूचित करता है कि उसका अपार्टमेंट 2000 वर्ग फुट का है, जबकि वास्तव में, विक्रेता अच्छी तरह से जानता है कि यह वास्तव में 1000 वर्ग फुट का है, तो यह धोखाधड़ी के बराबर है। उदाहरण: यदि विक्रेता संभावित खरीदार को बताता है कि फ्लैट 2000 वर्ग फुट का है, जबकि उसे लगता है कि यह 2000 वर्ग फुट है, तो यह गलत बयानी होगी।

अनुबंधों में क्षतिपूर्ति खंड का प्रावधान

वाणिज्यिक (कमर्शियल) प्रकृति के अनुबंधों में आमतौर पर क्षतिपूर्ति खंड होते हैं। ज्यादातर मामलों में, क्षतिपूर्ति खंड में प्रत्यक्ष क्षति के अलावा सभी प्रकार के क्षति शामिल होती हैं।

भारतीय अनुबंध अधिनियम 1872 की धारा 124 भारत में क्षतिपूर्ति से संबंधित प्रावधानों के लिए कानूनी ढांचा स्थापित करती है। यह खंड क्षतिपूर्ति को एक अनुबंध के रूप में परिभाषित करता है जिसमें एक पक्ष दूसरे पक्ष को वचनदाता या तीसरे पक्ष के आचरण से होने वाले क्षति से बचाने के लिए सहमत होता है।

भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 73 के प्रावधानों के तहत, क्षतिपूर्ति केवल उन स्थितियों में लागू होती है जहां अनुबंध के उल्लंघन के परिणामस्वरूप क्षति की उम्मीद की गई थी।

न्यायिक व्याख्याएँ

द्रौपदी पोइरा बनाम भागवत चंद्र पोइरा (2023)

इस हालिया मामले में, कलकत्ता उच्च न्यायालय, जिसमें न्यायमूर्ति राजशेखर मंथा और न्यायमूर्ति सुप्रतिम भट्टाचार्य शामिल थे, ने इस बात पर जोर दिया कि अपीलकर्ताओं/वादी पर सबूत का बोझ था, और चूंकि वे अपने दावों को साबित करने में असमर्थ थे, इसलिए सबूत के उस बोझ को स्थानांतरित करने के मुद्दे का तो प्रश्न ही नहीं उठता है।

एविटेल पोस्ट स्टूडियोज़ लिमिटेड और अन्य बनाम एचएसबीसी पीआई होल्डिंग्स (मॉरीशस) लिमिटेड और अन्य (2020)

इस मामले में, न्यायालय ने निर्णय लिया कि यदि दो आवश्यकताओं में से केवल एक को पूरा किया जाता है, तो यह धोखाधड़ी के गंभीर आरोपों के समान होगा जिसके परिणामस्वरूप समझौते की गैर-मध्यस्थता (नॉन-आर्बिट्रेबल) होगी अन्यथा इसे मनमाना माना जाएगा। ये हैं:

  • यदि अदालत यह निर्धारित करती है कि धोखाधड़ी के कार्य के कारण मध्यस्थता समझौता मौजूद नहीं हो सकता है।
  • जब राज्य या उसकी एजेंसियों के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण या कपटपूर्ण आचरण के आरोप लगाए जाते हैं, तो वे पक्षों को बाध्य करने वाली संविदात्मक व्यवस्थाओं तक सीमित होने के बजाय जनता को नियंत्रित करने वाले कानून के मुद्दे उठाते हैं।

नूरुद्दीन और अन्य बनाम उमैरथु बीवी और अन्य (1998)

इस मामले में, न्यायालय ने माना कि यह धोखाधड़ी और गलत बयानी का मामला था, जहां प्रतिवादी ने वादी को यह धोखा देकर कि यह एक बंधक विलेख (हाइपोथिकेशन डीड) थी, वादी की संपत्ति का बिक्री विलेख निष्पादित किया। वादी, एक अंधे व्यक्ति, को उसके बेटे द्वारा गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया था, जिसने अपर्याप्त प्रतिफल के लिए संपत्ति बेचने की कोशिश की और निष्पादित विलेख को अमान्य माना गया और रद्द कर दिया गया। न्यायालय ने कई प्रमुख कारकों पर प्रकाश डाला जो धोखाधड़ी की खोज का समर्थन करते थे। सबसे पहले, यह नोट किया गया कि वादी अपनी दृष्टिबाधितता के कारण एक असुरक्षित व्यक्ति था, जिसने उसे शोषण और हेरफेर के प्रति संवेदनशील बना दिया। दूसरे, अदालत ने बताया कि प्रतिवादी, वादी का बेटा होने के नाते, विश्वास की स्थिति रखता था, जिसे उसने अपने पिता को धोखा देकर भंग कर दिया।

मामले का गलत बयानी पहलू प्रतिवादी द्वारा किए गए झूठे प्रतिनिधित्व के आसपास केंद्रित था कि निष्पादित किया जा रहा दस्तावेज़ एक हाइपोथेकेशन विलेख था, जो एक प्रकार का बंधक है जहां संपत्ति को ऋण के लिए प्रतिभूति के रूप में बंधक रखा जाता है। हालाँकि, वादी द्वारा हस्ताक्षरित वास्तविक दस्तावेज़ एक बिक्री विलेख था, जिसने संपत्ति का स्वामित्व प्रतिवादी को हस्तांतरित कर दिया। न्यायालय ने माना कि यह गलत बयानी वास्तविक थी और वादी को दस्तावेज़ निष्पादित करने के लिए प्रेरित किया, जिसके परिणामस्वरूप उसकी संपत्ति का नुकसान हुआ।

इस मामले में न्यायालय के फैसले ने निष्पक्षता और न्याय के सिद्धांतों को बरकरार रखा, यह सुनिश्चित करते हुए कि कमजोर व्यक्तियों को धोखाधड़ी और गलत बयानी के बेईमान कार्यों से बचाया जाए। इसने संपत्ति लेनदेन में पारदर्शिता और सूचित सहमति के महत्व पर जोर दिया और व्यक्तिगत लाभ के लिए कमजोर व्यक्तियों का शोषण करने के किसी भी प्रयास के प्रति आगाह किया। यह निर्णय संपत्ति लेनदेन में शामिल सभी पक्षों को दूसरों के अधिकारों और हितों का सम्मान करते हुए ईमानदारी और निष्ठा के साथ कार्य करने की याद दिलाता है।

श्री कृष्णन बनाम कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरूक्षेत्र (1975)

धोखाधड़ी की अवधारणा में व्यक्तिगत लाभ के लिए किसी अन्य व्यक्ति को जानबूझकर धोखा देना शामिल है। धोखाधड़ी को साबित करने के लिए, कई तत्वों को स्थापित किया जाना चाहिए, जिसमें एक भौतिक तथ्य का गलत प्रतिनिधित्व, प्रतिनिधित्व की मिथ्याता का ज्ञान, धोखा देने का इरादा, प्रतिनिधित्व पर निर्भरता और निर्भरता के परिणामस्वरूप होने वाली क्षति शामिल है।

इस विशेष मामले में, अदालत ने निर्धारित किया कि कथित धोखाधड़ी का शिकार व्यक्ति उचित परिश्रम के माध्यम से सच्चाई का पता लगा सकता था। इसका मतलब यह है कि पीड़ित के पास मामले की जांच करने और धोखे को उजागर करने का अवसर और साधन थे। अदालत ने इस तथ्य पर विचार किया कि संस्था प्रपत्रों की सावधानीपूर्वक जांच करने के लिए जिम्मेदार थी और निष्कर्ष निकाला कि पीड़ित को किए गए प्रतिनिधित्व को आँख बंद करके स्वीकार करने के बजाय संस्था की समीक्षा प्रक्रिया पर भरोसा करना चाहिए था।

इसके अलावा, अदालत ने पाया कि इस मामले में न तो सजेस्टियो फाल्सी और न ही सप्रेसियो वेरी मौजूद थे। सजेस्टियो फाल्सी का तात्पर्य गलत बयान देना है, जबकि सप्रेसियो वेरी का तात्पर्य किसी भौतिक तथ्य को छिपाना या छोड़ना है। अदालत ने निष्कर्ष निकाला कि यह सुझाव देने के लिए कोई सबूत नहीं है कि संस्था ने कोई गलत बयान दिया या जानबूझकर कोई प्रासंगिक जानकारी छिपाई।

इस मामले में निर्णय धोखाधड़ी को रोकने में उचित परिश्रम के महत्व पर प्रकाश डालता है। व्यक्तियों और संगठनों को दूसरों के अभ्यावेदन पर भरोसा करते समय उचित सावधानी और सावधानी बरतनी चाहिए, खासकर वित्तीय लेनदेन या कानूनी समझौतों से जुड़े मामलों में। पूरी तरह से उचित परिश्रम करके, धोखाधड़ी के संभावित पीड़ित खुद को धोखा देने और वित्तीय या कानूनी परिणाम भुगतने से बचा सकते हैं।

निष्कर्ष

यह आवश्यक है कि व्यक्ति स्वेच्छा से और बिना किसी दबाव के अनुबंध में प्रवेश करे। भारतीय अनुबंध अधिनियम धोखाधड़ी को परिभाषित करता है जब कोई वादा करता है तो उसका उसे निभाने का कोई इरादा नहीं होता है या वह उस तथ्य को छिपाता है जिसके बारे में वह जानता है या सच मानता है। आकार की परवाह किए बिना, सभी प्रकार के लेनदेन में गलत बयानी अनुबंध के उल्लंघन की नींव के रूप में कार्य करती है। यह तथ्यात्मक बयानों तक ही सीमित है, विचारों या भविष्यवाणियों तक नहीं। इनका उद्देश्य, अनुबंध अधिनियम के अन्य प्रावधानों के साथ, अनुबंध में प्रवेश करने वाले पक्षों के सर्वोत्तम हितों की रक्षा करना है।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here