भारतीय अनुबंध अधिनियम और अंग्रेजी अनुबंध कानून के तहत अनुबंध के उल्लंघन के लिए हर्जाना

0
1088
Indian Contract Act

यह लेख Sahiba Chopra के द्वारा लिखा गया है, जो लॉसीखो से एडवांस्ड कॉन्ट्रैक्ट ड्राफ्टिंग, नेगोशिएशन और डिस्प्यूट रेजोल्यूशन में डिप्लोमा कर रही हैं। इस लेख में वह भारतीय और अंग्रेजी अनुबंध कानूनों के तहत, अनुबंध के उल्लंघन के लिए हर्जाने पर चर्चा करती हैं। इस लेख का अनुवाद Nisha के द्वारा किया गया है।

परिचय

कॉमन कॉज बनाम यूनियन ऑफ इंडिया (1999) के मामले में “हर्जाना” शब्द की व्याख्या सर्वोच्च न्यायालय द्वारा, वादी के उल्लंघन, हानि या चोट के कारण देय मुआवजे के रूप में की गई थी। सर्वोच्च न्यायालय के द्वारा, मैकग्रेगोर और लॉर्ड हेल्शम द्वाराहर्जाने शब्द की परिभाषा पर विचार करने के बाद यह सरल व्याख्या दी गई थी। इस मामले में अदालत ने हर्जाने को आर्थिक और गैर-आर्थिक हर्जाने के रूप में विभाजित किया था। हालांकि आर्थिक हर्जाने को अंकगणितीय (आरिथमेटिक) रूप से निर्धारित किया जा सकता है, लेकिन गैर आर्थिक हर्जाने में गणना के तत्व का अभाव है। हर्जाना न केवल संविदात्मक उल्लंघनों के मामलों में दिया जाता है, बल्कि उपभोक्ता कानून, बौद्धिक संपदा (इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी) अधिकार, टॉर्ट से संबंधित कानून, माल विक्रय (सेल ऑफ़ गुड) अधिनियम,1930 और मध्यस्थता (आर्बिट्रेशन) की कार्यवाही से संबंधित मामलों में भी दिया जाता है। इस प्रकार, एक उपाय के रूप में हर्जाने का दायरा काफी विस्तृत है। यह अध्ययन, भारतीय और अंग्रेजी अनुबंध कानून में अनुबंध के उल्लंघन के उपाय के रूप में हर्जाने पर केंद्रित है। चूंकि भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 अंग्रेजी सामान्य कानून के सिद्धांतों पर आधारित है, इसलिए, भारतीय और यू.के. कानून के तहत हर्ज़ाने की अवधारणा बहुत अलग नहीं है और कई बार इन दोनो कानूनों में स्पष्ट समानताएं निःसंदेह उद्धृत (साइट) की जा सकती हैं, जबकि कुछ ख़ासियतें हैं जिनमें दो कानून बिलकुल अलग खड़े है।

भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 के तहत हर्जाना 

 भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 की धारा 73 और 74 के तहत दो प्रकार के हर्जाने अर्थात्, अपरिनिर्धारित  (अनलिक्विडेटेड) हर्जाना  और परिनिर्धरित (लिक्विडेटेड) हर्जाना के रूप में शामिल किए गए हैं। धारा 73 के तहत कहा गया है कि एक अनुबंध समाप्त होने की स्थिति में, पीड़ित पक्ष उस पक्ष , जिसने गलत कार्य किया है, से उसको हुए कोई भी हर्ज़ाना या क्षति के लिए मुआवजे का दावा करने का हकदार है। यह धारा  दो पूर्वापेक्षित (प्रीरेकिजीट ) शर्तों के साथ आती है।

  • सबसे पहले, क्षति या चोट सामान्य परिस्थितियों में उत्पन्न हुई होगी।
  • दूसरा, हर्ज़ाना इस तरह का होना चाहिए कि अनुबंध के पक्षों के द्वारा ने इसका अनुमान लगाया गया हो।

इसके विपरीत अन्य धारा 74 है, जिसमें कहा गया है की, पक्ष  किसी भी संविदात्मक उल्लंघन की स्थिति में चूक करने वाले व्यक्ति  द्वारा पीड़ित पक्ष को भुगतान की जाने वाली राशि पर पूर्व-बिचवई (प्री-मीडिएट) करती हैं। यह धारा ऐसी राशि को दंड या मुआवजे के रूप में संदर्भित करता है। धारा 74 के तहत वास्तविक हर्ज़ाना का प्रमाण आवश्यक नहीं है। इस धारा से जुड़ा एक स्पष्टीकरण (एक्सप्लेनेशन) यह भी प्रदान करता है की, पीड़ित पक्ष को, चूक करने वाले पक्ष के द्वारा जुर्माने के रूप में देय हर्जाने के साथ साथ अनुबंध के उल्लंघन की तारीख से देय ब्याज भी दिया जा सकता है। इसलिए, हालांकि धारा 73 अपरिनिर्धरित हर्जाने  (जिसे अनुबंध में निर्धारित नहीं किया गया है) के लिए प्रावधान करती है, वहीं दूसरी तरफ धारा 74 निर्धारित हर्ज़ाने  (जिसे अनुबंध में पहले से निर्धारित किया गया है) से संबंधित है।

धारा 73 और हैडली बनाम बैक्सेंडेल (1845): एक विश्लेषण

भारतीय अनुबंध कानून की धारा 73, के मामले में निर्धारित हर्जाने के अंग्रेजी आम कानून पर आधारित है। इस मामले में, अदालत के द्वारा हर्जाने को ‘सामान्य हर्जाना’ और ‘विशेष हर्जाना’ के रूप में विभाजित किया गया था। यह स्पष्ट रूप से कहा गया था कि अनुबंध के उल्लंघन की स्थिति में, उल्लंघन करने बाला पक्ष , उल्लंघन न करने वाले पक्ष/पीड़ित पक्ष को हुए नुकसान के लिए हर्जाने की भरपाई करेगा, जो सामान्य या साधारण परिस्थितियों में उत्पन्न हुआ था और वह ऐसे हर्ज़ाना या चोट के लिए भरपाई नहीं करेगा जिस पर दोनो में से किसी भी पक्ष द्वारा विचार नहीं किया जा सकता था। इन दो प्रकार के हर्ज़ाने  के बीच अंतर के प्रमुख बिंदुओं को निम्न तालिका (टेबल) के माध्यम से दर्शाया जा सकता है:

अंतर का आधार   सामान्य हर्जाना विशेष हर्जाना
1. अर्थ और व्याख्या ये हर्ज़ाना स्वाभाविक रूप से चीजों के सामान्य क्रम में उल्लंघन के कार्य से उत्पन्न होते हैं। यह एक ऐसे प्रकार का हर्जाना हैं जिस पर अनुबंध करते समय अनुबंध के पक्षों द्वारा विचार किया जा सकता है। यह हर्जाना विशेष परिस्थितियों पर आधारित होता हैं जो अनुबंध में प्रवेश करते समय पक्षों द्वारा प्रत्याशित (एंटीसीपीटेड)  या विचार करने के लिए बहुत दूरस्थ हैं।
2. तर्कशीलता (रीजनेबलनेस) की परीक्षा इस प्रकार के हर्जाने को निर्धारित करने के लिए एक उचित व्यक्ति की दूरदर्शिता का उपयोग किया जाता है। यदि हर्ज़ाना एक उचित व्यक्ति की दूरदर्शिता के दायरे में आता है, तो हर्जाने को सामान्य हर्जाने के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। यदि कोई क्षति ऐसी है कि एक विवेकशील व्यक्ति भी किसी भी परिस्थिति में उसका अनुमान नहीं लगा सकता है, तो यह एक विशेष हर्जाने की श्रेणी में आता है।
3. वसूल करने योग्य है या नहीं इस प्रकार के हर्जाने को भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 की धारा 73 के तहत वसूली योग्य बनाया गया है क्योंकि अनुबंध के निष्पादन (परफॉर्मेंस) से पहले पक्षों द्वारा स्पष्ट रूप से इसे पूर्व-बिचवई द्वारा निर्धारित किया जाता है। भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 के तहत इस तरह के हर्जाने की वसूली पर रोक है, जब तक कि वादी विशेष परिस्थितियों को प्रतिवादी को नहीं बताता है जो इस तरह के हर्ज़ाना का कारण बन सकता है।
4. अनुमान एक बार जब वादी यह साबित कर देता है कि उसे हर्ज़ाना हुआ है, तो उन नुकसानों को अदालत द्वारा सामान्य हर्ज़ाना माना जाता है। इस मामले में, वादी को यह साबित करना होता है कि उसने प्रतिवादी को ऐसी प्रत्याशित क्षति की सूचना दी थी। साथ ही, वादी को यह भी साबित करना होता है कि उसने हर्ज़ाना को कम करने के लिए उचित कदम उठाए थे।

दृष्टांत (एक्सेम्प्लिफिकेशन)

कंपनी Y के द्वारा, कंपनी X को अपने कर्मचारियों और ग्राहकों द्वारा बैठने और आराम से काम करने के लिए उपयोग की जाने वाली कार्यालय कुर्सियों और मेजों को अपने कार्यालय में वितरित करने का ऑर्डर दिया गया था। कंपनी X ने कुर्सियाँ और मेज देने के बजाय, कंपनी Y को शू रैक और सोफे दिए। कंपनी Y ने फ़र्नीचर बदलने पर ज़ोर दिया, लेकिन कंपनी X ऐसा करने में विफल रही, जिसके कारण कंपनी Y को नया फ़र्नीचर आने तक आवश्यक फ़र्नीचर किराए पर देना पड़ा। चूंकि, सही फर्नीचर की सुपुर्दगी (डिलीवरी) अनुबंध का सार था, इसलिए यह अनुबंध का वास्तविक उल्लंघन था। ऐसे मामले में यदि कंपनी Y कंपनी X पर मुकदमा करती है, तो अदालत निम्नलिखित सामान्य हर्जाने का आदेश दे सकती है:

  • ऑर्डर देते समय किए गए किसी भी पूर्व भुगतान के लिए कंपनी X के द्वारा कंपनी Y को किया जाने वाला धनवापसी, साथ में,
  • किसी भी खर्च की प्रतिपूर्ति (रीइंबर्समेंट) कंपनी Y  कंपनीX  को फर्नीचर वापस भेजने पर हुई।

दिए गए परिदृश्य में, यदि कंपनी X को कंपनी Y द्वारा पहले ही बता दिया गया था कि उसे किसी विशेष दिन नए फर्नीचर की आवश्यकता है, क्योंकि उसके पुराने फर्नीचर को छोड़ दिया जा रहा है, तो उपरोक्त सूचीबद्ध सामान्य नुकसानों के अलावा अनुबंध के उल्लंघन के हर्ज़ाने में भुगतान भी शामिल होगा विशेष हर्जाने के रूप में, सही फर्नीचर आने तक, कंपनी Y के फर्नीचर किराए पर लेने पर किए गए व्यय के लिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि कंपनी X को पहले से पता था कि कंपनी Y अपने कर्मचारियों और ग्राहकों के लिए बैठने की व्यवस्था नहीं करेगी, अगर फर्नीचर की समय पर सुपुर्दगी (डिलीवरी) नहीं की जाती है। यहां, चूंकि इस तरह की विशेष परिस्थिति (पुराने फर्नीचर को पिछले दिन त्याग दिया जाना) की सूचना विधिवत कंपनी X को दी जाती है, इसलिए विशेष हर्ज़ाना का दावा किया जा सकता है। इसके अलावा, हर्ज़ाने को कम करने के लिए, कंपनी Y ने अस्थायी फर्नीचर किराए पर लिया था। इसलिए, उपरोक्त तालिका में ‘विशेष हर्जाने’ के शीर्षक के तहत ‘अनुमान’ शीर्षक के तहत उल्लिखित दोनों शर्तें पूरी होती हैं, जिससे कंपनी Y विशेष हर्ज़ाने का दावा करने में सक्षम हो जाती है।

भारतीय और यू.के. के कानूनों के तहत हर्ज़ाने का उद्देश्य

भारतीय अनुबंध कानून और अंग्रेजी अनुबंध कानून दोनों के तहत, हर्जाना प्रतिपूरक (कॉम्पन्सेटरी) प्रकृति का होता है। उनका उद्देश्य प्रतिवादी को उल्लंघन के लिए दंडित करना नहीं है, बल्कि उस पक्ष, जिसके अधिकारों का उल्लंघन किया गया है, को एक ऐसी स्थिति में रखना है, जैसे कि अनुबंध का विधिवत पालन किया गया हो। इस प्रकार, भारत और यू.के. दोनों में हर्जाना देने का मुख्य उद्देश्य प्रतिवादी को दंडात्मक रूप से आरोपित करने के बजाय वादी द्वारा उठाए गए नुकसान  और क्षति को ठीक करना है। लेकिन इस सामान्य नियम के कुछ वैधानिक अपवाद भी हैं। ऐसे अपवादों पर नीचे चर्चा की गई है:

मानसिक पीड़ा और कष्ट के लिए हर्जाना 

एक सामान्य नियम के रूप में, मानसिक दर्द और पीड़ा के लिए हर्जाना नहीं दिया जाता है, लेकिन जैसा कि जार्विस बनाम स्वान टूर्स लिमिटेड (1972) के मामले में आयोजित किया गया था, कुछ विशेष मामलों में मानसिक पीड़ा के लिए भी हर्जाना वसूल किया जा सकता है। ये विशेष मामले वे हैं जिनमें एक पक्ष द्वारा आनंद, बहलाव और मनोरंजन के उद्देश्य से अनुबंध किया जाता है, लेकिन मनोरंजन प्राप्त करने के बजाय, वह पक्ष मानसिक पीड़ा, संकट, कष्ट और निराशा से गुजरता है। ऐसे मामलों में जहां अनुबंध का उद्देश्य दूसरे पक्ष द्वारा पूरा नहीं किया जाता है जिसके परिणामस्वरूप दूसरे पक्ष को परेशानी होती है, तो मानसिक पीड़ा और कष्ट के लिए हर्जाना दिया जा सकता है।

भारतीय अदालतें भी अब मानसिक पीड़ा और कष्ट के लिए हर्जाना देती हैं। ऐसा ही एक मामला 2022 में सामने आया था जिसमें गुरुग्राम जिला उपभोक्ता फोरम ने एक निवासी को कुत्ते के काटने की घटना के कारण गेटेड हाउसिंग सोसाइटी के प्रबंधन और उसकी सुरक्षा एजेंसी पर लगभग 4 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था। इस मामले में, न केवल याचिकाकर्ता के कानूनी खर्चों को प्रतिवादियों द्वारा वहन करने का आदेश दिया गया था, बल्कि अदालत में मामला दर्ज होने की तारीख से 9 प्रतिशत ब्याज का भुगतान करने का आदेश भी दिया गया था। चूंकि, याचिकाकर्ता ने किराए के समझौते के अनुसार भरण-पोषण का भुगतान किया था, इसलिए किराए के समझौते का उद्देश्य विफल हो गया था, जिससे याचिकाकर्ता को आघात और मानसिक पीड़ा हुई, इसलिए अदालत के द्वारा शारीरिक क्षति के अलावा मानसिक पीड़ा और कष्ट के लिए हर्जाना दिया गया था।

नाममात्र का हर्जाना

ये हर्जाना अदालत द्वारा दिया जाता है जहां वादी को कोई नुकसान नहीं हुआ है, लेकिन यह बताना आवश्यक है कि वादी के अधिकार को विधिवत मान्यता दी गई है। इस हर्जाने में गलत करने वाले पर लगाई गई एक अल्प राशि शामिल होती है और भारतीय और यू.के., दोनों अदालतों द्वारा उन मामलों में सम्मानित किया जाता है जिनमें कानूनी अधिकार का उल्लंघन होता है लेकिन वादी द्वारा कोई वित्तीय नुकसान नहीं उठाया जाता है।

अनुकरणीय (एक्सेम्पलरी)  हर्जाना

हर्जाना प्रतिवादी (डिफ़ेन्डन्ट ) को दंडित करने के लिए है, न कि केवल वादी की मदद करने के लिए।। ये प्रकृति में दंडात्मक होते हैं। यू.के. और भारत दोनों में न्यायालय, संविदात्मक उल्लंघन के मामलों में दंडात्मक या अनुकरणीय हर्जाना देने से पहले सख्त मानदंड (पैरामीटर) लागू करते हैं। दंडात्मक हर्जाने का ऐतिहासिक मामला रूक्स बनाम बरनार्ड (1964) है जिसमें तीन मामले निर्धारित किए गए थे जिनमें दंडात्मक हर्जाना प्रदान किया जा सकता है। ये इस प्रकार है –

  • सरकार के किसी सेवक द्वारा दमनकारी (ओप्प्रेसिव), मनमाना या असंवैधानिक कार्य होना।
  • प्रतिवादी द्वारा गलत आचरण, जिसकी गणना उसके द्वारा स्वयं के लिए की गई है, जो दावेदार को देय मुआवजे से काफी अधिक हो सकता है; और
  • कोई भी मामला जहां कानून द्वारा अनुकरणीय हर्ज़ाना के लिए प्रदान किया जाता है।

अनुकरणीय नुकसान के इन सिद्धांतों की पुष्टि, हालांकि, भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा की गई है, लेकिन सार्वजनिक प्राधिकरणों (अथॉरिटी) द्वारा संवैधानिक अधिकारों के उल्लंघन के मामलों में बड़े पैमाने पर दी जाती है और भारतीय अदालतें आमतौर पर इस तरह का हर्जाना देने से बचती हैं। इस संदर्भ में, दिल्ली उच्च न्यायालय के द्वारा यह कहा गया था कि दंडात्मक हर्ज़ाना सामान्य हर्ज़ाने के बाद होना चाहिए और ये हर्ज़ाना केवल तभी प्रदान किया जा सकता है जब अदालत संतुष्ट हो कि अनुकरणीय तत्व को वादी के लिए गणना की अवार्ड  नहीं किया जा सकता है और हमेशा सामान्य हर्जाने के ऊपर प्रदान किया जाता है।

हर्जाने का उपाय और ब्याज सहित हर्जाना देना

हर्जाने की गणना के संबंध में, एक नियम जमाल बनाम मुल्ला दाऊद संस एंड कंपनी (1915) के मामले में निर्धारित किया गया था, जिसमें यह माना गया था कि अनुबंध के उल्लंघन की तिथि पर मौजूद अनुबंध मूल्य और बाजार मूल्य के बीच का अंतर,हर्जाने का उचित उपाय राशि होगी  । हर्ज़ाना देने के साथ-साथ ब्याज देना, समझौते की शर्तों, भुगतान से संबंधित प्रथा और प्रासंगिक वैधानिक प्रावधानों जैसे कई कारकों पर निर्भर करता है। ब्याज की राशि का निर्धारण सिविल प्रक्रिया संहिता, 1908 की धारा 34 के अनुसार किया जाता है, जिसके तहत न्यायालयों को हर्जाने के साथ ब्याज देने का विवेकाधीन अधिकार है। लगाए जाने वाले ब्याज दर पर 6% की एक अवरोध (बार) है।

भारतीय कानून और अंग्रेजी कानून: संविदात्मक उल्लंघनों के लिए हर्जाने पर एक विरोध

हर्जाने के संबंध में, भारतीय अनुबंध कानून और अंग्रेजी अनुबंध कानून के बीच दो अंतर मौजूद हैं। पहला ‘देयता की सीमा’ से संबंधित है और दूसरा अंतर अभिव्यक्ति ‘परिनिर्धारित हर्जाना और दंड’ का विभेदक (डिफरेंशियल) उपचार है। इन पर इस प्रकार चर्चा की जा सकती है।

हर्ज़ाने की सीमा

हर्जाने के अधिनिर्णय पर एक महत्वपूर्ण सीमा, नुकसान को कम करने का कर्तव्य है। उल्लंघन न करने वाला पक्ष उचित सीमा तक नुकसान की मात्रा को कम करने के लिए बाध्य है। किसी ऐसे नुकसान के लिए हर्जाने की भरपाई नहीं की जा सकती है, जिसे उल्लंघन के बाद यथोचित रूप से टाला जा सकता था या काफी हद तक सुधारा जा सकता था। नुकसान को कम करने में उचित परिश्रम का उपयोग करने में उल्लंघन न करने वाले पक्ष की विफलता का मतलब है कि नुकसान के किसी भी पुरस्कार को उस राशि से कम कर दिया जाएगा जिसे यथोचित रूप से टाला जा सकता था

अंग्रेजी अनुबंध कानून के तहत, हर्ज़ाना का दायरा काफी व्यापक है, इसके दायरे में न केवल सामान्य हर्ज़ाना बल्कि वादी द्वारा किए गए परिणामी हर्ज़ाने भी शामिल हैं। इस तरह के हर्ज़ाने की मान्यता ब्रिटिश शुगर के मामले में दी गई थी। अंग्रेजी अनुबंध कानून हर्ज़ाना के विभिन्न पहलुओं जैसे अपेक्षा हित, निर्भरता का हित और बहाली (रेस्टीटूशन) का हित के बारे में बात करता है। इन हितों को इस प्रकार समझाया जा सकता है।

अपेक्षा हित  निर्भरता का हित  बहाली का हित 
।इसका मतलब यह है कि अगर प्रतिवादी ने वह किया होता जो उसे करना चाहिए था, तो वादी के पास वह संपत्ति होती जो वह अब दावा कर रहा है। ऐसे हित को निष्पादन (परफॉर्मेंस) हित भी कहा जाता है और इसका उद्देश्य वचनग्रहीता (प्रॉमिसी) की अपेक्षाओं को पूरा करना होता है। निर्भरता के हित को यथास्थिति (स्टेटस कुओ) की अवधारणा के आधार पर समझा जा सकता है, जिसका उद्देश्य अनुबंध में प्रवेश करने से पहले वादी की प्रारंभिक स्थिति को बहाल करना है। चूंकि वादी ने उल्लंघन करने वाले पक्ष पर भरोसा किया और अपनी स्थिति बदल दी, तो अदालत ने वादी की प्रारंभिक स्थिति को फिर से वैसा ही कर दिया। बहाली के हित का उद्देश्य, अनुबंध का उल्लंघन करने वाले पक्ष को उल्लंघन ना करने वाले पक्ष के हर्ज़ाने और खर्च पर किसी भी प्रकार का लाभ या मुनाफा अर्जित करने से रोकना है। बहाली के हित का मतलब उल्लंघन करने वाले पक्ष को उल्लंघन ना करने वाले पक्ष के द्वारा प्राप्त किसी भी राशि को वापस करने के लिए मजबूर करना है।

इन हितों को बेहतर ढंग से समझने के लिए, यहां एक उदाहरण का उपयोग किया जा सकता है- ‘A’ एक प्रतिष्ठित बेकरी का मालिक है। वह उच्च गुणवत्ता वाली चॉकलेट की डिलीवरी के लिए एक मिस्टर ‘B’ के साथ अनुबंध करता है। A और B सहमत होते हैं कि A’ 30000 रूपये का भुगतान करेगा एक बार उनदोनो के बीच अनुबंध हो जाने के बाद, A  ने 40,000 रुपये में बहुत ही दुर्लभ कॉफी बीन्स खरीदीं और कन्फेक्शनरी आइटम बनाने के लिए उन्हें चॉकलेट के साथ मिलाने का फैसला किया।है, लेकिन अगले दिन वह चॉकलेट देने में विफल रहता है, अगर  ‘B’ के द्वारा चॉकलेट को समय पर वितरित किया जाता, तो ‘A’ को 2,00,000 रुपये की कुल आय होने की उम्मीद होती है।

यहां, अपेक्षित हित 2,00,000 रुपए (यदि ‘B’ ने अपना वादा पूरा किया होता तो ‘A’ द्वारा अर्जित की जाने वाली आय) का है।

निर्भरता का हित 40,000 रुपए का है (जिस राशि के लिए कॉफी बीन्स को चॉकलेट की डिलीवरी के आधार पर खरीदा गया था)।

बहाली का हित 30,000 रुपए का है (A के द्वारा B को अग्रिम भुगतान)।

जबकि इस तरह के हितों की एक विस्तृत श्रृंखला को अंग्रेजी अनुबंध के कानून के तहत क्षति के रूप में मान्यता दी गई है, लेकिन भारतीय अनुबंध कानून में इस विषय पर तुलनात्मक रूप से बहुत संकीर्ण (नेरो) दृष्टिकोण अपनाया गया है। भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 73 में चीजों के सामान्य क्रम से होने वाले हर्ज़ाने और पक्षों  द्वारा अनुबंध के लिए पहले से ही प्रत्याशित हर्ज़ाना शामिल हैं। अप्रत्यक्ष या परिणामी हर्ज़ाने को अंग्रेजी कानून के तहत स्पष्ट रूप से पहचाना जाता हैं, लेकिन कुछ अपवादों के अलावा भारतीय अदालतें दूरस्थ क्षति को मान्यता नहीं देती हैं।

परिनिर्धारित (लिक्विडेटेड) हर्जाना और जुर्माने के बीच अंतर

अंग्रेजी अनुबंध कानून की तहत परिनिर्धारित हर्जाने और जुर्माने के बीच अंतर किया गया है जबकि भारतीय अनुबंध अधिनियम की धारा 74 के तहत परिनिर्धारित हर्जाने और जुर्माने के बीच कोई ठोस अंतर नहीं प्रदान किया गया है। यदि पक्षों के बीच सहमत राशि संभावित हर्ज़ाने का एक वास्तविक पूर्व अनुमान है, तो हम इसे परिनिर्धारित हर्ज़ाने के रूप में कहते हैं, जबकि यदि राशि संभावित हर्ज़ाना से अत्यधिक अनुपातहीन (डिस्प्रोपोरशनेट) है, तो इसे जुर्माना कहा जाता है। हालांकि परिनिर्धारित हर्जाने का उद्देश्य पीड़ित पक्ष को मुआवजा प्रदान करने का है, लेकिन जुर्माने का उद्देश्य अनुबंध का उल्लंघन करने वाले पक्ष पर दंड लगाना है। परिनिर्धारित हर्ज़ाने और जुर्माने के बीच के अंतर को स्पष्ट करने वाला एक सरल उदाहरण बिजली बिल है। जब हम बिजली के उपयोग के बिल के भुगतान में गलती करते हैं, तो बिल की राशि का परिनिर्धारित हर्जाना होता है, जबकि वास्तविक बिल राशि से अधिक होने पर उपभोक्ताओं को देर से बिल भुगतान करने से रोकने के लिए जुर्माना लगाया जाता है।

अंग्रेजी कानून

इंग्लैंड में, कई बार परिनिर्धारित हर्जाने के प्रावधान के मसौदे (ड्राफ्ट) पर विशेष ध्यान दिया गया है, क्योंकि यदि इस तरह के प्रावधान में हर्जाने की अत्यधिक राशि निर्धारित की जाती है, तो इस तरह के हर्ज़ाना को जुर्माने का खंड होने के आधार पर समाप्त कर दिया जाएगा। दूसरे शब्दों में कहें तो, अंग्रेजी अनुबंध के कानून के तहत, अनुबंध में उल्लिखित राशि को या तो परिनिर्धारित हर्ज़ाने या जुर्माने के रूप में माना जा सकता है। यदि राशि संभावित हर्ज़ाने का एक उचित और वास्तविक अनुमान है, तो यह वसूली योग्य होता है और अदालतों द्वारा इसे बरकरार रखा जाया है। हालांकि, यदि अनुबंध में उल्लिखित राशि किसी अन्य पक्ष को अनुबंध का उल्लंघन करने से रोकने के उद्देश्य से जोड़ी जाती है और राशि अनुमानित हर्ज़ाने के लिए अत्यधिक अनुपातहीन होती है, तो इस तरह के खंड को अदालतों द्वारा खारिज कर दिया जाता है। इस प्रकार, अंग्रेजी अदालतों के द्वारा पक्षों को परिनिर्धारित हर्जाने के रूप में अनुबंधों में जुर्माने का एक खंड जोड़ने से मना किया गया है।

भारतीय कानून

भारतीय अदालतों के द्वारा परिनिर्धारित हर्जाने और जुर्माने के संबंध में कोई अंतर नहीं किया गया हैं। भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 की धारा 74 के तहत परिनिर्धारित हर्जाने और जुर्माने, दोनों अभिव्यक्तियों का उपयोग इस तरह से किया गया है ताकि दोनों के बीच कोई स्पष्ट अंतर न हो। जहां हर्ज़ाने की राशि के संबंध में अनुबंध के तहत कुछ नही कहा गया है, वहीं अदालतें प्रत्येक मामले के तथ्यों और परिस्थितियों पर विचार करने के बाद हर्ज़ाने का निर्धारण करती हैं। अदालतें अनुबंध के तहत लिखी हुई राशि से अधिक मुआवजा नहीं दे सकती हैं, लेकिन वे हर्जाने के रूप में कम राशि दे सकती हैं।

अगर किसी मामले में प्रतिवादी के द्वारा यह साबित किया जाता है कि वादी को कोई नुकसान नहीं हुआ है, तो कोई हर्जाना, भले ही उनका परिनिर्धारण हो गया हो, का दावा नहीं किया जा सकता है। हालांकि संविदात्मक दायित्वों का उल्लंघन हो सकता है, अगर इस तरह के उल्लंघन के कारण कोई वास्तविक नुकसान नहीं होता है, तो इसका परिणाम वादी को परिनिर्धारित हर्जाना या जुर्माना नहीं हो सकता है। इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन बनाम मेसर्स लॉयड्स स्टील इंडस्ट्रीज लिमिटेड (2007) के मामले में भी यही आयोजित किया गया था, जहां अदालत ने यह स्पष्ट कर दिया था कि केवल इस आधार पर परिनिर्धारित हर्ज़ाने का दावा नहीं किया जा सकता है कि वे अनुबंध में उल्लेखित हैं। वास्तविक नुकसान के संबंध में एक घटना होनी चाहिए।

निष्कर्ष

हालांकि अनुबंध के उल्लंघन से पीड़ित पक्ष के लिए अन्य उपाय उपलब्ध होते हैं जैसे अनुबंध का निस्तारण (रिसीशन), विशिष्ट प्रदर्शन के लिए मुकदमा, निषेधाज्ञा (इंजंक्शन) और क्वांटम मेरिट, हर्ज़ाने विशेष रूप से परिनिर्धारित हर्जाने को, लोगों को उनकी गणना की आसान प्रकृति के कारण सूचीबद्ध उपायों की तुलना में कहीं बेहतर विकल्प माना जाता है जिससे मुकदमेबाजी की रोकथाम या कम से कम मुकदमेबाजी का तेजी से परिणाम हो। हर्ज़ाना का दावा करने के लिए दायित्व के निर्धारण के लिए, कार्य-कारण की स्थापना की जानी चाहिए, अर्थात, हुई हानि या बलगाई गई चोट और किए गए उल्लंघन के बीच एक  कारणात्मक (कैसुअल ) संबंध स्थापित किया जाना चाहिए। यदि नुकसान या चोट अनुबंध के उल्लंघन के लिए बहुत दूरस्थ है, तो कार्य-कारण की स्थापना केवल एक प्रतिवादी को उत्तरदायी नहीं बना सकती है। ऐसे मामलों में जहां वादी की ओर से अंशदायी (कंट्रीब्यूटरी) लापरवाही होती है, तो अदालत उसे हर्ज़ाना का दावा करने से रोक सकती है। इस प्रकार, “उसने जो अन्याय किया है इस कारण से उसके पास समानता नहीं होनी चाहिए” की कहावत अदालतों द्वारा लागू की जा सकती है।

सन्दर्भ 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here