हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम 1956 का विश्लेषण

0
1580
Hindu Adoption and Maintenance Act

यह लेख  Aprajit Jain द्वारा लिखा गया है, जिन्होंने लॉसिखो से एडवांस्ड कॉन्ट्रैक्ट ड्राफ्टिंग, निगोशीएशन  एंड  डिस्प्यूट रेज़लूशन में डिप्लोमा किया है, और इसे Shashwat Kaushik द्वारा संपादित किया गया है। यह लेख हिन्दू व्यक्तिगत कानून के तहत दत्तक (एडॉप्शन) और भरण पोषण नियमों पर चर्चा करता है। इस लेख का अनुवाद Shubham Choube द्वारा किया गया है।

परिचय

अब मैं हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 का विश्लेषण करूंगा और आपको इस अधिनियम के तहत दत्तक ग्रहण की कानूनी प्रक्रिया, वैधता और परिणामों के बारे में बताऊंगा। एक हिंदू वयस्क द्वारा बच्चे को दत्तक ग्रहण में शामिल प्रक्रियाएं, साथ ही भरण-पोषण से संबंधित प्रावधानों का विश्लेषण है। इस कानून से कौन-सी समस्याएँ और मुद्दे उठते हैं या उत्पन्न होते हैं, और उन मुद्दों के समाधान के लिए कौन से सुझावात्मक कदम उठाए जा सकते हैं? संपूर्ण विश्लेषण को दो भागों में विभाजित किया जाएगा: दत्तक ग्रहण और भरण पोषण।

हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 से पहले की स्थिति

इस अधिनियम के लागू होने से पहले, दत्तक ग्रहण से संबंधित प्रावधान हिंदू कानून द्वारा शासित होते थे, जिसे संहिताबद्ध (कोडिफाइड) और मानकीकृत (स्टैन्डर्डाइज़्ड) नहीं किया गया था। पुराने प्रावधानों के अनुसार, केवल पुत्रों को ही गोद लिया जा सकता था, नाजायज़ पुत्रों और अनाथों को गोद नहीं लिया जा सकता था; महिलाओं को दत्तक ग्रहण की अनुमति नहीं थी। इसलिए, इस अधिनियम के लागू होने से, इन सभी मुद्दों को संबोधित किया गया, और एक हिंदू वयस्क द्वारा दत्तक ग्रहण की कानूनी प्रक्रिया और परिवार के विभिन्न सदस्यों के भरण-पोषण से संबंधित दायित्व को सुव्यवस्थित किया गया।

हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 की प्रासंगिकता

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि यह अधिनियम केवल हिंदुओं, सिखों, जैनियों और बौद्धों पर लागू होता है, ईसाई, मुस्लिम, यहूदी या पारसी जैसे किसी और पर नहीं। यदि कोई गैर-हिन्दू बच्चे को गोद लेना चाहता है, तो वह संरक्षक और वार्ड अधिनियम,1890 के तहत आवेदन करके ऐसा कर सकता है। हालांकि माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने  मैसर्स शबनम हाशमी बनाम भारत संघ 2014 के ऐतिहासिक फैसले में माना गया कि किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2000 एक धर्मनिरपेक्ष कानून है और कोई भी व्यक्ति अपने धर्म की परवाह किए बिना इसके प्रावधानों के अनुसार गोद ले सकता है।

दत्तक ग्रहण की अवधारणा हिंदू कानून में प्रचलित है, जैसा कि महान हिंदू गुरु मनु ने वर्णित किया है। हिंदू धर्म में वंश परंपरा को कायम रखने के लिए पुत्र का होना बहुत जरूरी है। हिंदू यह भी मानते हैं कि किसी व्यक्ति की आत्मा स्वर्ग तभी पहुंच सकती है जब वह मृतक की चिता जलाए और मृत्यु से संबंधित विभिन्न संस्कार करे। इसलिए, बेटे के अस्तित्व को सुनिश्चित करने के लिए, वे एक अलग परिवार से एक लड़के को गोद लेते हैं और उसे असली बेटे का दर्जा देते हैं। यह प्रथा दत्तक ग्रहण को धार्मिक के साथ-साथ सामाजिक स्वीकृति भी देती है। इस परंपरा के अनुसार, जिन लोगों के बच्चे नहीं थे या केवल बेटियाँ थीं, वे बेटों को दत्तक ग्रहण में रुचि रखते थे, जिससे हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 को जन्म मिला।

जहां तक भरण-पोषण का सवाल है, इसे अधिनियम में समावेशी (इन्क्लूसिव) तरीके से स्पष्ट रूप से परिभाषित किया गया है। यह एक ऐसी चीज़ है जिसका भुगतान पति द्वारा अपनी पत्नी को किया जाता है यदि वह शादी के दौरान या तलाक या अलगाव के दौरान अपना भरण-पोषण करने में असमर्थ होती है। भरण-पोषण के प्रावधान कई भारतीय कानूनों द्वारा प्रदान किए जाते हैं। साथ ही, पक्षों  के रिश्ते के कारण भरण-पोषण प्रदान करना एक व्यक्तिगत कर्तव्य है। ऐसे रिश्तों में पत्नियाँ, बच्चे और बूढ़े माता-पिता शामिल हैं। यह मूल रूप से इस अधिनियम द्वारा प्रदान किया गया एक सामाजिक सुरक्षा उपाय है। यह कुल मिलाकर हमारे समाज में इस कानून की प्रासंगिकता और महत्व को प्रदान करता है।

भारतीय कानून में दत्तक ग्रहण

पूरे कानून में, ‘दत्तक ग्रहण’ शब्द को परिभाषित नहीं किया गया है, और इसका अर्थ इस अधिनियम के प्रावधानों और प्रासंगिक न्यायिक घोषणाओं के सार की व्याख्या से प्राप्त होता है। ऐसा ही एक उल्लेखनीय मामला बसवराजप्पा बनाम गुरुबासम्मा और अन्य, 2005 था, जहां माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने माना था कि दत्तक ग्रहण का अर्थ है जिस व्यक्ति का दत्तक ग्रहण किया गया है, उसे दत्तक ग्रहण वाले परिवार में जन्मजात बेटे के समान अधिकारों के साथ प्रत्यारोपित (ट्रांसप्लांट) किया जाता है।

भारत में दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया

भारत में दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया बहुत लंबी और जटिल है क्योंकि इसके लिए नियमों और विनियमों के साथ-साथ दो अधिनियमों, हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 और किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 के अनुपालन की आवश्यकता होती है। अब इन दोनों कानूनों को अपनाने की अलग-अलग प्रक्रियाएं हैं। जेजे अधिनियम के अनुसार प्रक्रिया इस प्रकार है:

  • महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के तहत केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन (रिसोर्स) प्राधिकरण (सीएआरए), दत्तक ग्रहण किये गए बच्चों का डेटाबेस बनाए रखता है।
  • भावी दत्तक माता-पिता को खुद को ऑनलाइन पंजीकृत करना और सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करना आवश्यक है। उसके बाद, एक विशेष दत्तक ग्रहण एजेंसी के कार्यकर्ता द्वारा घर का दौरा किया जाएगा।
  • दत्तक माता-पिता को कानूनी रूप से मुक्त बच्चों की प्रोफ़ाइल वाला कहा जाता है, और उन्हें 48 घंटों के भीतर बच्चे को आरक्षित करना आवश्यक होता है।
  • अब बच्चे का दत्तक ग्रहण वाले माता-पिता से मिलान 20 दिनों के भीतर किया जाता है।
  • दत्तक माता-पिता द्वारा बच्चे को दत्तक ग्रहण के 10 दिनों के भीतर, विशेष दत्तक ग्रहण एजेंसियों द्वारा एक नामित अदालत में सह-याचिकाकर्ता के रूप में दत्तक माता-पिता के साथ एक याचिका दायर की जाती है।
  • अदालत बंद कमरे में सुनवाई के बाद 60 दिनों के भीतर मामले का निपटारा करेगी। दत्तक ग्रहण के लिए माता-पिता की इच्छा निर्धारित करने के लिए, जैसा कि कानून में कहा गया है, अदालती कार्यवाही की आवश्यकता होती है।
  • अदालत के आदेश के बाद दत्तक ग्रहण की मंजूरी मिल जाएगी और यह माता-पिता पर बाध्यकारी होगा।

हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम 1956 में दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया सरल है क्योंकि इसमें दत्तक ग्रहण के लिए एक समारोह, एक दत्तक ग्रहण का विलेख (डीड), या एक अदालती आदेश की आवश्यकता होती है, जो दत्तक ग्रहण में अधिकार प्राप्त करने के लिए पर्याप्त है।

दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया में शामिल मुद्दे

  • सीएआरए में पंजीकृत बच्चों की संख्या (2200) उन माता-पिता (28000) की संख्या की तुलना में बहुत कम है जो दत्तक ग्रहण के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। दत्तक ग्रहण वाले माता-पिता के लिए यह भावनात्मक रूप से थका देने वाली प्रक्रिया है, जिसके कारण वे दत्तक ग्रहण की उम्मीद खो देते हैं।
  • विभिन्न एजेंसियों के बीच समन्वय (कोऑर्डिनेशन) की कमी है, क्योंकि दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया को नियंत्रित करने वाली राज्य-स्तरीय एजेंसियां भी हैं। अनाथ और परित्यक्त (अबैन्डन्ड) बच्चों के संबंध में कोई सर्वेक्षण नहीं होता है, जिससे उन्हें अनाथालयों में रहने के लिए मजबूर होना पड़ता है।
  • जेजे अधिनियम में बदलाव को लेकर जागरूकता की कमी।
  • हाल ही में सरकार द्वारा पारित एक आदेश में कहा गया है कि दत्तक ग्रहण के संबंध में अदालत के समक्ष लंबित सभी मामले अब जिला मजिस्ट्रेटों को स्थानांतरित (ट्रांसफर) कर दिए जाएंगे। जिससे डीएम को दत्तक ग्रहण से संबंधित आदेश जारी करने के लिए अधिकृत (ऑथराइज़) किया गया है। अधिकारी इस तथ्य से अनभिज्ञ हैं कि डीएम पहले से ही जिले से संबंधित मुद्दों से भरे हुए हैं। इसके अलावा, दत्तक ग्रहण वाले माता-पिता अब इस प्रक्रिया से अनभिज्ञ हैं और अब यह कैसे आगे बढ़ेगा कि सभी मामलों को अदालतों से जिला मजिस्ट्रेटों को स्थानांतरित करने की आवश्यकता है।
  • दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया में वित्तीय चुनौती एक और चिंता का विषय है। यदि आप किसी निजी एजेंसी के माध्यम से बच्चे को दत्तक ग्रहण कर रहे हैं, तो अत्यधिक राशि का भुगतान करने के लिए तैयार रहें, जो उन दत्तक ग्रहण वाले माता-पिता के लिए फिर से एक चुनौती है, जिन्हें वास्तव में एक बच्चे की ज़रूरत है जिसकी वे देखभाल कर सकें और अपना प्यार बरसा सकें।

कानून में अंतराल और खामी

चूँकि यह कानून केवल हिंदुओं पर लागू होता है, इसलिए जो कोई बच्चे का दत्तक ग्रहण चाहता है उसे एक अलग प्रक्रिया का पालन करना पड़ता है। इसलिए, यह अधिनियम उन गैर-हिंदुओं के प्रति पक्षपातपूर्ण है जो दत्तक बच्चा चाहते हैं। यह प्रावधान न्यायालय की विवेचना के लिए छोड़ा गया है, जो न्यायालय ने एक मामले में किया था। जोस सोलोमन और अन्य बनाम केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण और अन्य (2021) के मामले में, दिल्ली उच्च न्यायालय ने माना कि यदि दत्तक किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाता है जो गैर-हिन्दू है, लेकिन माता-पिता ने बच्चे का उचित और जिम्मेदारीपूर्ण तरीके से पालन किया हो, तो दत्तक को वैध माना जाएगा।

धारा 11 के प्रावधान इस अर्थ में मनमाने हैं कि वे कहते हैं कि यदि दत्तक ग्रहण पुत्र का है, तो दत्तक पिता या माता, जिनके द्वारा दत्तक ग्रहण किया गया है, का कोई हिंदू पुत्र, पोता या परपोता नहीं होना चाहिए। इसका मतलब यह है कि अगर बेटा अपना धर्म किसी ऐसे धर्म में परिवर्तित करता है जिस पर यह अधिनियम लागू नहीं होता है, जैसे मुस्लिम, यहूदी, पारसी या ईसाई धर्म, तो ऐसे दत्तक माता-पिता बेटे को दत्तक कर सकते हैं, भले ही उनके पास ऐसा एक बच्चा हो जो उस परिवर्तन के कारण गैर-हिन्दू हो गया हो। इस अधिनियम का सार, जो कहता है कि यह हिंदुओं पर लागू होता है, यहां गैर-हिंदू के प्रवेश के साथ कुछ हद तक कमजोर हो गया है। इस प्रावधान का दुरुपयोग किया जा सकता है, क्योंकि बच्चे को दत्तक ग्रहण के लिए कोई व्यक्ति अपने बेटे को अपने धर्म में परिवर्तन के लिए प्रभावित कर सकता है।

धारा 11 के प्रावधानों को हिंदू विवाह अधिनियम के प्रावधानों के संदर्भ में पढ़ा जाना चाहिए, जहां कहा गया है कि यदि कोई बच्चा शून्यकरणीय (वॉयडेबल) विवाह से पैदा होता है, तो वह एक वैध बच्चा होगा। इसलिए, हिंदू विवाह अधिनियम की वैधता निर्धारित करने के लिए इसका संदर्भ लेना होगा। इससे कानून का दोहराव और कई व्याख्याएं होती हैं।

धारा 11 कहती है कि अगर दत्तक माता-पिता के पास एक वैध पुत्र या पहले से ही दत्तक बच्चा होता है, तो वे एक और बच्चे को दत्तक नहीं कर सकते। यह केवल वैधता या अवैधता पर केंद्रित है, जिसे इस अधिनियम में परिभाषित नहीं किया गया है। यह दोष ऐसी स्थिति की ओर ले जाता है जहां दत्तक माता-पिता का एक सौतेला बेटा होता है जो वैध बच्चा हो भी सकता है और नहीं भी, लेकिन चूंकि अधिनियम इस बिंदु पर चुप है, ऐसी स्थिति में वे बच्चे को दत्तक कर सकते हैं क्योंकि प्रावधान केवल वैध बच्चे पर केंद्रित है।

दत्तक ग्रहण के मुद्दों से संबंधित सुझाव

हमारे देश में बड़ी संख्या में बच्चे अनाथालयों और बाल देखभाल संस्थानों में रह रहे हैं, जिन्हें सीएआरए की रजिस्ट्री में जोड़ा जा सकता है और दत्तक ग्रहण के इच्छुक बच्चों और माता-पिता की संख्या में अंतर को भरा जा सकता है।

  • विभिन्न राज्य स्तरीय एजेंसियों के साथ-साथ केंद्रीय स्तर के अधिकारियों के बीच समन्वय स्थापित किया जाना चाहिए।
  • कानून की खामियों को दूर किया जाए और मनमाने प्रावधानों को निरस्त किया जाए।
  • जहां कुछ प्रावधानों को अन्य अधिनियमों, जैसे हिंदू विवाह अधिनियम 1955 और किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 के संदर्भ में व्याख्या की आवश्यकता होती है, उन प्रावधानों को मिला दिया जाना चाहिए।
  • दत्तक ग्रहण और वैध या नाजायज जैसी कुछ शर्तों की परिभाषाएँ स्पष्ट रूप से परिभाषित की जानी चाहिए।
  • विकलांग बच्चों को पीछे छोड़ दिया जाता है और उन्हें दत्तक नहीं किया जाता है। ऐसे बच्चों के दत्तक ग्रहण की संख्या सामान्य बच्चों की तुलना में काफी कम है। इस मुद्दे को वर्तमान परिदृश्य में संबोधित करने की आवश्यकता है, जहां सरकार ऐसी विकलांगता वाले बच्चों पर ध्यान केंद्रित कर रही है और उन्हें हमारे समाज में सम्मान की भावना प्रदान कर रही है।
  • जिसे दत्तक के रूप में दिया जाता है  उस बच्चे के पालन-पोषण के लिए कोई प्रक्रियाएं नहीं हैं, यह देखने के लिए कि उसकी उचित देखभाल की जा रही है या नहीं। यद्यपि विनियमन (रेग्युलेशन) में अनुवर्ती कार्रवाई (फालो-अप) के लिए 2 वर्ष की अवधि प्रदान की गई है, लेकिन दत्तक ग्रहण में दिए गए बच्चे की उम्र के आधार पर इसे विस्तारित करने की आवश्यकता है।
  • दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया से संबंधित संपूर्ण दृष्टिकोण को माता-पिता-केंद्रित से बदलकर बाल-केंद्रित किया जाना चाहिए। इसके लिए, दत्तक ग्रहण से संबंधित कई कानूनों का एकीकरण महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।
  • बाहरी एजेंसियों और विशेषज्ञों को शामिल करें और उनकी राय पूछें।

हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 के तहत भरण-पोषण की अवधारणा

भरण-पोषण की अवधारणा हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम के अध्याय III, धारा 18 से 28, साथ ही 1955 के हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 24 और 25 में शामिल है। हालांकि भरण-पोषण को हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम 1956 में परिभाषित किया गया है। इसमें कहा गया है कि भरण पोषण में जीवन की सभी बुनियादी ज़रूरतें शामिल हैं, जैसे भोजन, कपड़े, आश्रय, शिक्षा और चिकित्सा देखभाल और उपचार। अविवाहित महिला के मामले में, इसमें उसके विवाह से संबंधित सभी योग्य खर्च शामिल होते हैं। शादी होने तक गुजारा भत्ता देना होगा।

भरण-पोषण का प्राप्तकर्ता

अब सवाल यह उठता है कि भरण-पोषण किसको दिया जाए?

इसलिए, अधिनियम विशेष रूप से पत्नी, विधवा बहू, बच्चों और बुजुर्ग माता-पिता के भरण-पोषण के बारे में बात करता है। अधिनियम की धारा 18 विवाह के निर्वाह के दौरान केवल पत्नी को भरण-पोषण प्रदान करने की बात करती है। जबकि हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 24 और 25 उक्त अधिनियम की धारा 9 से 13 से संबंधित अदालती कार्यवाही के लंबित रहने के दौरान भरण-पोषण के बारे में बात करती हैं, जहां पुनर्स्थापन, न्यायिक पृथक्करण (जुडिशियल सेपरेशन), या तलाक से संबंधित कार्यवाही चल रही है और विवाह या तो शून्य घोषित कर दिया गया है या समाप्त हो गया है और दोनों पक्षों में से किसी के पास आय का कोई स्वतंत्र स्रोत नहीं है, कार्यवाही समाप्त होने के बाद क्रमशः अंतिम गुजारा भत्ता और भरण पोषण प्रदान किया जाना है।

हिंदू विवाह अधिनियम के तहत, ऐसा भरण-पोषण पति या पत्नी में से किसी एक को प्रदान किया जा सकता है क्योंकि यह विवाद में कमजोर पक्ष को भरण-पोषण प्रदान करने पर केंद्रित है।

हिंदू कानून के तहत भरण-पोषण की अवधारणा के कारण

हम सभी जानते हैं कि लंबे समय से हमारा समाज पितृसत्तात्मक (पैट्रीआर्कल) समाज रहा है, जो कि हिंदू कानून के कई प्रावधानों से स्पष्ट है जो पितृसत्तात्मक समाज की मानसिकता का समर्थन करते हैं। हिंदू कानून को लंबे समय से कई शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं (रीसर्चर) की आलोचना का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि इसमें कोई संदेह नहीं है कि हमारे समाज का परिदृश्य काफी हद तक बदल गया है, जिसके लिए कानून के अनावश्यक प्रावधानों में समावेश और आवश्यक बदलाव की आवश्यकता है।

पितृसत्तात्मक समाज का अस्तित्व महिलाओं को सामाजिक जीवन और विवाह, पारिवारिक निर्णय लेने आदि जैसी घटनाओं में समान दर्जा और स्थिति प्रदान नहीं करता है। महिलाओं को जीवन के सामाजिक पहलुओं से संबंधित निर्णयों में समान अधिकार नहीं है चाहे विवाह संस्था में हो या अन्यथा। इसलिए, व्यक्तिगत हिंदू कानून में निहित लिंगवाद को संबोधित करने के लिए, भरण पोषण की अवधारणा उत्पन्न हुई है और हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण पोषण अधिनियम, 1956 के प्रावधानों में अंतर्निहित है।

एक महिला विवाह में जो भूमिकाएं और जिम्मेदारियां निभाती है और अपने परिवार और बच्चों का भरण-पोषण करने के लिए अपने करियर में जो बलिदान देती है, उसका सम्मान किया जाना चाहिए, और उसकी पहचान का सम्मान करने के लिए उसे आर्थिक व्यक्तित्व और स्वतंत्रता प्रदान की जानी आवश्यक है। ये सभी तर्क अधिनियम के तहत भरण-पोषण की अवधारणा को आवश्यक बनाते हैं।

कानून के तहत भरण-पोषण के प्रावधानों में शामिल मुद्दे

  • ऐसे कई कानून हैं जो हिंदू पत्नी, बेटों, बेटियों और वृद्ध माता-पिता के भरण-पोषण का प्रावधान करते हैं, जैसे 1954 का विशेष विवाह अधिनियम, 1955 का हिंदू विवाह अधिनियम, 1869 का तलाक अधिनियम और कई अन्य। ये अनेक कानून अलग-अलग स्थितियाँ, अनेक व्याख्याएँ और अनेक स्थितियाँ प्रदान करते हैं जिन पर ध्यान देने की आवश्यकता है।
  • दूसरे, हिंदू दत्तक ग्रहण और भरण-पोषण अधिनियम, 1956 की धारा 22 के अनुसार, जो अधिनियम के तहत भरण-पोषण की राशि का प्रावधान करती है, भरण-पोषण की राशि निर्धारित करने वाली शर्तें निर्दिष्ट हैं। यह प्रावधान निर्णय लेने के लिए पूरी तरह से अदालत के विवेक पर छोड़ दिया गया है, और यह प्रकृति में अत्यधिक व्यक्तिपरक (सब्जेक्टिव) है।
  • जो बच्चा हिंदू नहीं रह जाता, उसके भरण-पोषण का कोई प्रावधान नहीं है। जैसे ही कोई बच्चा दूसरे धर्म में परिवर्तित हो जाता है, वह इस अधिनियम के तहत भरण-पोषण के अपने सभी अधिकार खो देता है।
  • अधिनियम की धारा 19 के अनुसार, एक विधवा बहू अपने ससुर से भरण-पोषण की हकदार है, लेकिन इस अधिनियम में या 1973 की दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 125 में उस स्थिति में भरण-पोषण का प्रावधान है जहां पति जीवित है, लेकिन लापता है, फरार है, या  उसे छोड़ दिया हो। हालाँकि वह तलाक के लिए आवेदन कर सकती है, लेकिन वह अपने ससुराल वालों से भरण-पोषण का दावा नहीं कर सकती।
  • विधवा बहू अपनी सास से भरण-पोषण का दावा नहीं कर सकती, भले ही उसके पास भरण-पोषण के लिए पर्याप्त साधन हों क्योंकि कानून विशेष रूप से ससुर को भरण-पोषण प्रदान करने की जिम्मेदारी देता है जो भरण पोषण देने के लिए जीवित नहीं हो। हालाँकि अदालत ने इस मुद्दे को जानकी बनाम नंद राम (1888) के मामले में निपटाया है, जहां भरण-पोषण प्रदान करने का दायित्व उन लोगों को दिया गया है जिन्हें ससुर की संपत्ति विरासत में मिली है।

भरण पोषण के मुद्दों से संबंधित सुझाव

  • अधिनियम में इस तथ्य के आलोक में संशोधन किया जाना चाहिए कि जब बच्चा अधिनियम के तहत भरण-पोषण के उद्देश्य से हिंदू नहीं रह जाता है तो उसकी धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा की जानी चाहिए।
  • इन कानूनों में अंतर्निहित प्रावधानों के भ्रम और दोहरेपन को दूर करने के लिए भारत के संविधान के अनुच्छेद 44 द्वारा परिकल्पित (एन्विज़िज्ड) बहुप्रतीक्षित (मच अवेटेड) समान नागरिक संहिता को जल्द से जल्द लागू किया जाना चाहिए।
  • संसद को संशोधनों के माध्यम से कानून में आवश्यक बदलाव लाने चाहिए और इन मुद्दों का समाधान करना चाहिए ताकि किसी को अदालत का दरवाजा खटखटाना न पड़े और लंबी कानूनी प्रक्रिया का पालन न करना पड़े।
  • एक नया प्रावधान डाला जाना चाहिए जो कानून के तहत पति के कानूनी और नैतिक दायित्वों को स्पष्ट रूप से निर्दिष्ट करे, जिससे इसे कानूनी मान्यता मिल सके।
  • समाधान के वैकल्पिक तरीकों जैसे मध्यस्थता (आर्बिट्रेशन), बिचवई (मिडिएशन), और सुलह (कॉन्सिलिएशन) पर जोर दिया जाना चाहिए ताकि अदालत का कीमती समय बचाया जा सके और अंतर्निहित मुद्दे को सौहार्दपूर्ण ढंग से हल किया जा सके।

निष्कर्ष

इस तथ्य में कोई संदेह नहीं है कि कानून समय के साथ विकसित होते हैं; वे समाज में रहने वाले लोगों के विचारों, विश्वासों, कार्यों और धारणाओं का प्रतिबिंब हैं। हिंदू दत्तक ग्रहण एवं भरण-पोषण अधिनियम भी इसका अपवाद नहीं है। अधिनियम के प्रावधानों का अध्ययन करते समय, मुझे कुछ ऐसे प्रावधान मिले जो मुझे अनावश्यक लगे, जैसा कि लेख में बताया गया है। हालाँकि मैं समझता हूँ कि कुछ ऐसे प्राधिकरण हैं जो हमारे द्वारा की गई कुछ अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं के कारण अधिनियम के तहत बनाए गए हैं, जैसे कि सीएआरए, जो अंतर्देशीय दत्तक ग्रहण पर हेग कन्वेंशन से बनाया गया है। लेकिन चूंकि यह एक व्यक्तिगत कानून है जिसका किसी व्यक्ति के सामाजिक जीवन पर सीधा प्रभाव पड़ता है, इसलिए इससे जुड़ी प्रक्रियाओं को कम करने का प्रयास किया जाना चाहिए, जैसा कि भारत में दत्तक ग्रहण की प्रक्रिया के मामले में बताया गया है।  ऐसा इसलिए है क्योंकि इसका सीधा प्रभाव व्यक्ति के जीवन पर पड़ता है, जिसका प्रभाव उसके परिवार, उसकी सामाजिक स्थिति, उसके भावनात्मक व्यक्तित्व और अन्य सामाजिक कार्यों पर पड़ता है। हमारी छवि एक प्रक्रिया-उन्मुख (ओरिएंटेड) प्रणाली की है जहां एक व्यक्ति को अपना काम पूरा करने के लिए कई प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है। यह तत्व कानून निर्माताओं के प्रति नकारात्मक और निंदक रवैये को जन्म देता है, जिसके परिणामस्वरूप सरकार में विश्वास की हानि होती है।

ये कानून लंबे समय से लागू किए गए हैं, और यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे सार्थक हों और भारत के वर्तमान सामाजिक भूगोल में प्रासंगिक बने रहें, उनकी लगातार समीक्षा और संशोधन करने की आवश्यकता है। हमारी सामाजिक संरचना बदल रही है। हम अपने समाज में एक संक्रमणकालीन (ट्रैन्ज़िशनल) दौर से गुजर रहे हैं, संयुक्त परिवार से एकल परिवार तक। लोगों की अब पहले से कहीं अधिक आकांक्षाएं हैं। लैंगिक समानता एक अन्य क्षेत्र है जिसे व्यक्तिगत कानूनों में संशोधन करते समय ध्यान में रखा जाना चाहिए। कुल मिलाकर, मैं यह निष्कर्ष निकाल सकता हूं कि कानून समाज को प्रभावित नहीं कर सकता; बल्कि, जहां तक इन पारस्परिक मुद्दों का संबंध है, इसे समाज में हो रहे परिवर्तनों से प्रभावित होना होगा।

संदर्भ

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here