स्टेट ज्यूडिशरी इन इंडिया (भारत में राज्य न्यायपालिका )

0
631
State Judiciary in India
Image Source-,https://rb.gy/fger2c

यह लेख जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल में पढ़ने वाले द्वितीय वर्ष के छात्र Millia Dasgupta ने लिखा है। यह लेख भारत के हाई कोर्ट्स पर चर्चा करता है। इस लेख का अनुवाद Sonia Balhara द्वारा किया गया है।

Table of Contents

परिचय (इंट्रोडक्शन)

भारत के हाई कोर्ट मूल अधिकार क्षेत्र (ज्यूरिस्डिक्शन) के प्रमुख दीवानी (सिविल) न्यायालय हैं। जो की ज्यादातर राज्यों में मौजूद हैं। छोटे राज्यों के मामले में 2 से 3 राज्यों के लिए एक हाई कोर्ट मौजूद है। उनका क्षेत्र विलय (मर्ज्ड) हो गया है और एक हाई कोर्ट के अधिकार क्षेत्र में है। यही कारण है कि हमारे पास 29 राज्य हैं लेकिन हमारे पास केवल 25 हाई कोर्ट हैं।

महत्वपूर्ण बिंदु (इम्पोर्टेन्ट पॉइंट)

पहला हाई कोर्ट कलकत्ता का था। बॉम्बे और मद्रास हाई कोर्ट की स्थापना वर्ष 1862 में हुई थी। जबकि यहां 24 हाई कोर्ट थे, 2019 में संख्या बढ़कर 25 हो गई। यह अमरावती में बने हाई कोर्ट के कारण है। दिल्ली एकमात्र केंद्र शासित प्रदेश है जिसका एक अलग हाई कोर्ट है।

रचना (कम्पोज़िशन)

हाई कोर्ट का प्रमुख (हेड) हाई कोर्ट का चीफ जस्टिस होता है। हाई कोर्ट में एक चीफ जस्टिस होता है। न्यायाधीशों की संख्या भारत के संविधान द्वारा निर्धारित नहीं है और इसे राष्ट्रपति के विवेक (डिस्क्रेशन) पर छोड़ दिया जाता है।

हाई कोर्ट के न्यायाधीश बनने के लिए योग्यता (क्वालिफिकेशन टू बिकम ए हाई कोर्ट जज)

हाई कोर्ट के एक न्यायाधीश को होना चाहिए:

  • भारत का नागरिक,
  • भारत के किसी क्षेत्र में कम से कम 10 वर्षों तक न्यायिक पद धारण करना,
  • लगातार कम से कम 10 वर्षों के लिए हाई कोर्ट का एक वकील रहा हो।

न्यायाधीशों की नियुक्ति (अपॉइंटमेंट ऑफ जजेस)

हाई कोर्ट्स के न्यायाधीशों और चीफ जस्टिस की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा आधिकारिक रूप (ऑफिशियली) से की जाती है।

भारत के चीफ जस्टिस और राज्य के राज्यपाल (गवर्नर) के परामर्श (कंसल्टेशन) के साथ चीफ जस्टिस की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है, जो हाई कोर्ट्स के अधिकार क्षेत्र में आता है।

हाई कोर्ट के अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति,भारत के चीफ जस्टिस, उस राज्य के राज्यपाल, और हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस की सलाह पर राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता है।

कार्यालय की शपथ (ओथ ऑफ ऑफिस)

हाई कोर्ट्स के चीफ जस्टिस और हाई कोर्ट के न्यायाधीश राज्य के राज्यपाल या उनके द्वारा नियुक्त किसी व्यक्ति के सामने शपथ लेते हैं।

जबकि उनकी नियुक्ति और निष्कासन (रिमूवल) राष्ट्रपति द्वारा की जाती है, वे राज्यपाल के सामने शपथ लेते हैं।

कार्यालय की अवधि (टर्म ऑफ ऑफिस)

हाई कोर्ट का एक न्यायाधीश 62 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक अपने पद पर रहता है। यदि वह इस्तीफा देना चाहता है, तो वह राष्ट्रपति को लिखकर इस्तीफा दे सकता है। उन्हें संसद की सिफारिश पर राष्ट्रपति द्वारा हटाया भी जा सकता है। एक हाई कोर्ट का न्यायाधीश सेवानिवृत्ति (रिटायरमेंट) के बाद सर्वोच्च या हाई कोर्ट में अभ्यास कर सकता है जिसमें उसने सेवा नहीं की है।

न्यायाधीशों को हटाने की प्रक्रिया (प्रोसेस ऑफ रिमूवल ऑफ जजेस)

किसी न्यायाधीश को साबित असमर्थता या दुर्व्यवहार के आधार पर संसद की सिफारिश पर राष्ट्रपति द्वारा हटाया जा सकता है।

हाई कोर्ट के न्यायाधीश को हटाने का प्रस्ताव संसद के किसी भी सदन में पेश किया जा सकता है। इसे लोकसभा में कम से कम 100 सदस्यों या राज्य सभा में 50 सदस्यों द्वारा पेश किया जाना चाहिए, जब भी इसे पेश किया जाता है।

अध्यक्ष या सभापति (स्पीकर) इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर सकते हैं या चिंताओं की जांच के लिए 3 सदस्यीय समिति (मेंबर कमिटी) का गठन (सेट अप) कर सकते हैं।

जब समिति उसे दोषी मानती है, तो प्रस्ताव को दोनों सदनों द्वारा विशेष बहुमत से पास करना होता है। फिर, राष्ट्रपति अपनी सहमति देते हैं और हाई कोर्ट के न्यायाधीश को हटा दिया जाता है।

इतिहास (हिस्ट्री)

जबकि कलकत्ता वह स्थान हो सकता है जहाँ पहला हाई कोर्ट बनाया गया था, यह बॉम्बे था जहाँ ईस्ट इंडियन कंपनी ने अपना पहला कानून रखा था। इससे बॉम्बे में ‘मेयर कोर्ट’ की स्थापना हुई और बाद में वे कलकत्ता और मद्रास में स्थापित हुए। उन्होंने एक समान अधिकार क्षेत्र की स्थापना की लेकिन भारतीयों में अशांति के कारण, भारतीयों को अदालतों के अधिकार क्षेत्र में शामिल नहीं किया गया।

प्लासी की लड़ाई के बाद, अंग्रेजों को बंगाल राज्य में कानून-व्यवस्था लानी पड़ी। वारेन हेस्टिंग ने सुझाव दिया कि वे नागरिक अधिकार क्षेत्र वाले सभी जिलों में प्रांतीय (प्रोविंशियल) अदालतें स्थापित करें। उन्हें मुफ़स्सिल दीवानी अदालत कहा जाता था। ऐसी ही अदालतों की तरह फौजदारी अदालतों को स्थापित किया गया जिनके पास आपराधिक क्षेत्राधिकार होता था। ये अदालतें सदर निजामत अदालतों में अपील कर सकती थीं, जो कंपनी के कर्मचारियों द्वारा चलाई जाती थीं।

अगला कदम 1733 का रेगुलेटिंग एक्ट था, जिसने न केवल बंगाल की विधायिका (लेजिस्लेचर) में महत्वपूर्ण बदलाव किए बल्कि यह भी अधिकृत किया कि राजा द्वारा नियुक्त तीन न्यायाधीशों की एक बेंच के साथ कलकत्ता में एक सुप्रीम कोर्ट की स्थापना की जाए। हालाँकि यह अदालत ब्रिटिश नागरिकों तक ही सीमित थी। बाद में इस प्रकार के न्यायालय मद्रास और बॉम्बे में स्थापित किए गए।

लेकिन यह एक्ट बहुत अस्पष्ट था और इसने ईस्ट इंडियन कंपनी पर अपनी शक्तियों और इसके प्रभावों की सीमा को स्थापित नहीं किया था। प्रसिद्ध नंदकुमार मामले में, यह कहा गया था कि इन सुप्रीम कोर्ट्स को रेवेन्यू से संबंधित मामलों पर अधिकार नहीं था। इसका अधिकार क्षेत्र स्पष्ट रूप से मैप किया गया था और साथ ही कंपनियों और ‘सदर निजामत अदालत’ अदालतों के क्षेत्राधिकार को भी स्पष्ट किया गया था।

अफसोस की बात है कि यह दोहरा (ड्युअल) प्रशासन अधिक समय तक नहीं चला क्योंकि सुप्रीम कोर्ट और सदर अदालत के बीच झड़पें हुईं। इस प्रकार, 1861 का इंडियन हाई कोर्ट एक्ट पारित किया गया। इसने पुराने सुप्रीम कोर्ट और सदर निज़ामत अदालत को समाप्त कर दिया जिसने कलकत्ता, मद्रास और बॉम्बे में हाई कोर्ट्स की स्थापना की। ये अदालतें उन भारतीय वकीलों के लिए खुली थीं जिनके पास कोई ब्रिटिश योग्यता नहीं थी जो अदालतों के प्रशासन में भाग ले सकते थे। वे मूल क्षेत्राधिकार (पुराने सुप्रीम कोर्ट) और अपीलीय (अपीलेट) क्षेत्राधिकार (सदर निजामत अदालत) का एक मेल मिलावट थे। जज बेंच जिसमें एक चीफ जस्टिस और कम से कम 15 न्यायाधीश होते हैं। वे या तो 5 साल के अनुभव वाले बैरिस्टर या 10 साल के अनुभव वाले सिविल सेवक हो सकते थे

गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट 1935 ने हाई कोर्ट्स के उस नियम को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि एक तिहाई न्यायाधीश बैरिस्टर होने चाहिए और एक तिहाई भारतीय सिविल सेवा के सदस्य होने चाहिए।

भारतीय संविधान के आर्टिकल 225 ने रेवेनुए से संबंधित मामलों की समीक्षा पर उनके प्रतिबंध को हटा दिया। उनके अधिकार क्षेत्र का विस्तार रिट पिटीशनस के माध्यम से मौलिक अधिकारों (फंडामेंटल राइट्स) को लागू करने के लिए भी किया गया था।

उच्च न्यायालय का अधिकार क्षेत्र (ज्यूरिस्डिक्शन ऑफ द हाई कोर्ट)

मूल न्यायाधिकार (ओरिजिनल ज्यूरिस्डिक्शन)

आर्टिकल 226 हाई कोर्ट की शक्तियों को परिभाषित (डिफाइन) करता है। यह हाई कोर्ट को रिट जारी करने की शक्ति देता है। उनके पास मौलिक अधिकारों को लागू करने के लिए उनके अधिकार क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले किसी भी व्यक्ति, प्राधिकरण (अथॉरिटी) या सरकार को आदेश या रिट जारी करने की शक्ति है।

ये रिट हैं-

हेबियस कॉर्पस  

यह एक रिट है जिसमें किसी व्यक्ति को अवैध हिरासत (इल्लीगल डिटेंशन) में रखने के लिए न्यायाधीश या अदालत के सामने लाया जाना आवश्यक है। यह विशेष रूप से यह सुनिश्चित करने के लिए है कि व्यक्ति को रिहा कर दिया जाए यदि हिरासत के लिए वैध आधार साबित नहीं किया जा सकता है।

हाल ही के एक मामले में, बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा कि हेबियस कॉर्पस की एक रिट बनाए रखने योग्य नहीं होगी, भले ही रिमांड आदेश अवैध था, अगर पीड़ित के लिए जमानत आवेदन जैसे अन्य उपाय उपलब्ध हैं। मध्यप्रदेश हाई कोर्ट ने यह भी कहा कि अगर विटनेस प्रोटेक्शन स्कीम 2018 के तहत पीड़ित को हिरासत में लिया गया है तो हेबियस कॉर्पस का एक रिट बनाए रखने योग्य नहीं है।

मैंडेमस

एक निचली (इन्फीरियर) अदालत को आदेश के रूप में जारी एक रिट या किसी व्यक्ति को अपना काम या सार्वजनिक (पब्लिक) या वैधानिक (स्टेच्यूटरी) कर्तव्य करने का आदेश देना।

सुप्रीम कोर्ट ने माना कि कानून बनाने या कानून में संशोधन (अमेंड) करने के लिए मैंडेमस का रिट जारी नहीं किया जा सकता है।

प्रोहिबिशन

यह रिट किसी निचली अदालत या ट्रिब्यूनल को अपने अधिकार क्षेत्र से अधिक होने से रोकने के लिए एक आदेश के रूप में जारी किया जाता है।

क्यू वारंटो 

यह रिट किसी व्यक्ति या सार्वजनिक कार्यालय के दावे की वैधता की जांच करने के लिए है। यह लोगों को एक ऐसा पद धारण करने से रोकता है जिसके वे हकदार नहीं हैं। यह रिट केवल सार्वजनिक कार्यालयों पर लागू होती है न कि निजी कार्यालयों पर।

सुप्रीम कोर्ट ने माना कि जब तक यह निर्विवाद तथ्यों पर आधारित नहीं है, तब तक हाई कोर्ट क्यू वारंटो जारी नहीं कर सकता है।

सर्टियोरारी

यह रिट एक निचली अदालत द्वारा पास आदेश को रद्द करने के लिए पास की गई है।

अपीलेट ज्यूरिस्डिक्शन

दीवानी मामलों में जिला अदालत के फैसले के खिलाफ अपील की जा सकती है। यदि विवाद का मूल्य 5000 रुपये से अधिक है, या यदि कानून का कोई महत्वपूर्ण प्रश्न है, तो वे सीधे अधीनस्थ (सबोर्डिनेट) न्यायालय से भी अपील कर सकते हैं।

आपराधिक (क्रिमिनल) मामलों के लिए, सत्र (सेशन) और अतिरिक्त (एडिशनल) सत्र न्यायालयों के खिलाफ अपील की जा सकती है। यह तब होता है जब सत्र न्यायाधीश ने 7 साल या उससे अधिक की कैद दी हो, या मौत की सजा दी हो।

राज्य और केंद्र के कानून से संबंधित मामलों पर भी उनका अधिकार क्षेत्र है। संवैधानिक मामलों के संबंध में, हाई कोर्ट द्वारा विचार किए जाने के लिए मामले में कानून का एक महत्वपूर्ण प्रश्न होना चाहिए।

सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय के बीच संबंध (द रिलेशनशिप बिटवीन द सुप्रीम कोर्ट एंड हाई कोर्ट)

सुप्रीम कोर्ट हाई कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट शीर्ष (अपेक्स) अदालत है। हाई कोर्ट उस राज्य का उच्चतम (हाईएस्ट) न्यायालय है जिसके अधिकार क्षेत्र में यह आता है।
भारत के चीफ जस्टिस इसका नेतृत्व करते हैं। हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस इसका नेतृत्व करते हैं।
भारत के सभी न्यायालयों पर सुप्रीम कोर्ट की सर्वोच्च शक्ति है। हाई कोर्ट के पास अपने राज्य में केवल ट्रिब्यूनल और अन्य अधीनस्थ न्यायालयों पर सर्वोच्च शक्ति है।
भारत के चीफ जस्टिस की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा की जाती है और सुप्रीम कोर्ट के अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा चीफ जस्टिस की सिफारिश पर की जाती है। भारत के चीफ जस्टिस की नियुक्ति राष्ट्रपति द्वारा भारत के चीफ जस्टिस और राज्य के राज्यपाल की सिफारिश पर की जाती है। हाई कोर्ट के न्यायाधीशों की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति द्वारा भारत के चीफ जस्टिस, उस राज्य के राज्यपाल और हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस से परामर्श करने के बाद की जाती है।
सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश 65 वर्ष की आयु में सेवानिवृत्त होते हैं। हाई कोर्ट के न्यायाधीश 62 वर्ष की आयु में सेवानिवृत्त होते हैं।
सुप्रीम कोर्ट वकालत के लिए सर्वोच्चय अदालत है और इसके ऊपर कोई अन्य न्यायालय नहीं है। हाई कोर्ट के न्यायाधीश सुप्रीम कोर्ट में वकालत कर सकते हैं।
भारत में एक सुप्रीम कोर्ट है। भारत में कुल 25 हाई कोर्ट हैं।

उच्च न्यायालय के सामने आने वाली समस्याएं (प्रॉब्लम्स फेसड बाय द हाई कोर्ट)

हाई कोर्ट की मुख्य समस्याओं में से एक लंबित (पेंडिंग) मामलों का मुद्दा है। सही जागरूक दुनिया में, लोग कई और याचिकाएँ दाखिल कर रहे हैं जिनकी समीक्षा और विश्लेषण भारत के हाई कोर्ट द्वारा किया जाना चाहिए। सरकार अत्यधिक मुकदमेबाजी में भी योगदान देती है और भारत में सबसे बड़ी वादी है। जबकि इनमें से कई मामले महत्वपूर्ण हैं, उनके ज्यादातर मामले आमतौर पर एक विभाग विवादों के कारण दूसरे विभाग पर मुकदमा करते है और निर्णय लेने के लिए अदालतों को छोड़ देते है।

मुकदमों में वृद्धि के बावजूद, वर्तमान न्यायाधीशों की हर 10 दस लाख (मिलियन) आबादी पर सिर्फ दस ही है और यह सीटों की कमी के कारण नहीं है। आधी से ज्यादा सीटें खाली रहती हैं इसलिए की जब जजों की नियुक्ति की बात आती है तो एक्सेक्यूटिव और ज्यूडिशरी के बीच सहमति नहीं होती हैI

लंबित मामले न्याय की राह में एक बड़ी बाधा हैं। जब देरी से न्याय होता है, तो आम आदमी का न्याय प्रणाली (ज्यूडिशियल सिस्टम) पर से विश्वास उठ जाता है। न्यायिक प्रणाली सभी मामलों के बोझ तले दब जाती है और अधिक अक्षम हो जाती है।

समाधान (सॉल्यूशन)

यह स्पष्ट है कि हाई कोर्ट मामलों के बोझ तले दबे हैं। इस समस्या के हल के लिए कुछ समानांतर (पैरेलल) अदालतें स्थापित होनी चाहिए जो जमीनी स्तर पर मामलों को सुलझाने में मदद कर सकते हैं। इनमें से कुछ अदालतें हैं-

फास्ट ट्रैक कोर्ट

11वें वित्त आयोग की सिफारिशों से इन अदालतों को पुराने लंबित मामलों के निपटारे की मंजूरी दी गई थी। इसने 19 लाख मामलों में से 10 लाख से अधिक मामलों को निपटाने में मदद की है।

मोबाइल कोर्ट

ये अदालतें ग्रामीण भारत में घर-घर जाकर उन क्षेत्रों में मामलों के बैकलॉग में मदद करती हैं। वे न केवल ग्रामीण लोगों को उनके अधिकारों और जिम्मेदारियों के बारे में शिक्षित करते हैं, बल्कि वे न्यायपालिका और समुदाय के बीच एक बंधन भी बनाते हैं।

लोक अदालत

1987 के लीगल सर्विसस एक्ट ने समाज के कमजोर वर्गों को उनके न्याय को सुनिश्चित करने के लिए मुफ्त और सक्षम कानूनी सेवाएं प्राप्त करने में सक्षम बनाया। इस प्रकार लोक अदालतें स्थापित की गईं और ये वैकल्पिक विवाद निवारण तंत्र हैं। लोक अदालतों की कोई अदालती फीस नहीं होती है और इसकी अध्यक्षता लोक अदालत के सदस्य करते हैं। पार्टियों को एक समझौते पर राजी करना उनका काम है।

निष्कर्ष (कंक्लूज़न)

इस लेख में, हमने न केवल हाई कोर्ट के इतिहास और कार्यकारी ढांचे पर चर्चा की है, बल्कि हमने इसकी समस्याओं को जानने की भी कोशिश की है और यह भी बताया है कि सरकार ने उन्हें हल करने के लिए क्या उपाय किए हैं।

संदर्भ (रेफरेन्सेस) 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here